Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: गनगौर व्रत 21 march  (Read 2818 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline JR

  • Member
  • Posts: 4611
  • Blessings 35
  • सांई की मीरा
    • Sai Baba
गनगौर व्रत 21 march
« on: March 20, 2007, 12:12:07 AM »
  • Publish
  • गनगौर व्रत


    यह चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाया जाता है ।  इस दिन सौभाग्यवती स्त्रियाँ व्रत रखती है ।  कहावत है कि इस दिन पार्वती ने भगवान शंकर से सौभाग्यवती रहने का वरदान प्राप्त किया था तथा पार्वती ने अन्य स्त्रियों के सौभाग्यवती रहने का वरदान दिया था ।

    पूजन के समय रेणुकी की गौर बनाकर उस र महावर और सिन्दूर चढ़ाने का विशेष प्रावधान है ।  चन्दन, अक्षते, धूपबत्ती, दीप, नैवेघ से पूजन करके भोग लगाया जाता है ।  विवाहित स्त्रियों को गौर पर चढ़ाये सिन्दूर को अपनी माँग में लगाना चाहिये ।

    कथा ः  एक बार भगवान शंकर पार्वती जी एवं नारद जी के साथ भ्रमण हेतु चल दिये ।  वे चलते-चलते चैत्र शुक्ल तृतीया को एक गाँव में पहुँचे ।  उनका आना सुनकर ग्राम की निर्धन स्त्रियाँ उनके स्वागत के लिये थालियों में हल्दी अक्षत लेकर पूजन हेतु तुरन्त पहुँच गई ।  पार्वती जी ने उनके पूजा भाव को समझकर सारा सुहाग रस उन पर छिड़क दिया ।  वे अटल सुहाग प्राप्त कर लौंटी ।

    धनी वर्ग की स्त्रियाँ थोड़ी देर बाद अनेक प्रकार के पकवान, सोने-चाँदी के थालों में सजाकर पहुँची ।  इन स्त्रियों को देखकर भगवान शंकर ने पार्वती से कहा – तुमने सारा सुहाग रस तो निर्धन वर्ग की स्त्रियों को ही दे दिया ।  अब इन्हें क्या दोगी ।

    पार्वती जी बोली – प्राणनाथ ।  उन स्त्रियों को ऊपरी पदार्थों से बना रस दिया गया है ।  इसलिये उनका रस धोती से रहेगा ।  परन्तु मैं इन धनी वर्ग की स्त्रियों को अपनी अंगुली चीरकर रक्त का सुहाग रस दूंगी जो मेरे समान सौभाग्यवती हो जायेंगी ।  जब इन स्त्रियों ने पूजन समाप्त कर लिया तब पार्वती जी ने अपनी अंगुली चीरकर उस रक्त को उनके ऊपर छिड़क दिया ।  जिस पर जैसे छीटें पड़े उसने वैसा ही सुहाग पा लिया ।

    इसके बाद पार्वती जी अपने पति भगवान शंकर से आज्ञा लेकर नदी में स्नान करने चली गई ।  स्नान करने के पश्चात् बालू की शिवजी की मूर्ति बनाकर पूजन किया ।  भोग लगाया तथा प्रदक्षिणा करके दो कणों का प्रसाद खाकर मस्तक पर टीका लगाया ।  उसी समय उस पार्थिव लिंग से शिवजी प्रकट हुए तथा पार्वती को वरदान दिया – आज के दिन जो स्त्री मेरा पूजन और तुम्हारा व्रत करेगी उसका पति चिरंजीवी रहेगा ।  तथा मोक्ष को प्राप्त होगा ।  भगवान शिव यह वरदान देकर अन्तर्धान हो गये ।

    इतना सब करते-करते पार्वती जी को काफी समय लग गया ।  पार्वती जी नदी के तट से चलकर उस स्थाने पर आईं जहाँ पर भगवान शंकर व नारदजी को छोड़कर गई थी ।  शिवजी ने विलम्ब से आने का कारण पूछा तो इस पर पार्वती जो बोली, मेरे भाई-भावज नदी किनारे मिल गए थे ।  उन्होंने मुझसे दूध-भात खाने तथा ठहरने का आग्रह किया ।  इसी कारण से आने में देर हो गई ।  ऐसा जानकर अन्तर्यामी भगवान शंकर भी दूध-भात खाने के लालच में नदी तट की ओर चल दिये ।  पार्वती जी ने मौन भाव से भगवान शिवजी का ही ध्यान करके प्रार्थना की, भगवान आप अपनी इस अनन्य दासी की लाज रखिये ।  प्रार्थना करती हुई पार्वती जी उनके पीछे-पीछे चलने लगी ।  उन्हें दूर नदी तट पर माया का महल दिखाई दिया ।  वहाँ महल के अन्दर शिवजी के साले तथा सहलज ने शिव-पार्वती का स्वागत किया ।

    वे दो दिन वहाँ रहे ।  तीसर दिन पार्वती जी ने शिवजी से चलने के लिये कहा तो भगवान शिव चलने को तैयार न हुए ।  तब पार्वती जी रुठकर अकेली ही चल दी ।  ऐसी परिस्थिति में भगवान शिव को भी पार्वती के साथ चलना पड़ा ।  नारदजी भी साथ चल दिये ।  चलते-चलते भगवान शंकर बोले, मैं तुम्हारे मायके में अपनी माला भूल आया हूँ ।  माला लाने के लये पार्वती जी तैयार हुई तो भगवान ने पार्वती जी को न भेजकर नारदजी को भेजा ।  पर वहाँ पहुँचने पर नारदजी को कोई महल नजर नहीं आया ।  वहाँ दूर-दूर तक जंगल-ही-जंगल था ।  सहसा बिजली कौंधी ।  नारदजी को शिवजी की माला एक पेड़ पर टंगी दिखाई दी ।  नारदजी ने माला उतारी और शिवजी के पास पहुँच कर यात्रा कर कष्ट बताने लगे ।  शिवजी हँसकर कहने लगे – यह सब पार्वती की ही लीला है ।

    इस पर पार्वती जी बोलीं – मैं किस योग्य हूँ ।  यह सब तो आपकी ही कृपा है ।  ऐसा जानकर महर्ष नारदजी ने माला पार्वती तथा उनके पतिव्रत प्रभाव से उत्पन्न घटना की मुक्त कंठ से प्रशंसा की ।  जहाँ तक उनके द्घारा पूजन की बात को छिपाने का प्रश्न है वह भी उचित ही जान पड़ता है क्योंकि पूजा छिपाकर ही करनी चाहिये ।  चूँकि पार्वती जी ने इस व्रत को छिपाकर किया था, उसी परम्परा के अनुसार आज भी पूजन के अवसर पर पुरुष उपस्थित नहीं रहते ।

    सबका मालिक एक - Sabka Malik Ek

    Sai Baba | प्यारे से सांई बाबा कि सुन्दर सी वेबसाईट : http://www.shirdi-sai-baba.com
    Spiritual India | आध्य़ात्मिक भारत : http://www.spiritualindia.org
    Send Sai Baba eCard and Photos: http://gallery.spiritualindia.org
    Listen Sai Baba Bhajan: http://gallery.spiritualindia.org/audio/
    Spirituality: http://www.spiritualindia.org/wiki

     


    Facebook Comments