Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: और विष उतर गया (Real Story Shri Sai Baba Ji with youtube video)  (Read 1745 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline spiritualworld

  • Member
  • Posts: 117
  • Blessings 0
    • Indian Spiritual & Religious Website
[youtube=480,360]http://www.youtube.com/watch?v=xSYmakGoCco&feature=plcp&context=C30db00eUDOEgsToPDskK4KZihUadjoFZq8LFWHyD0[/youtube]


बाबा को द्वारिकामाई मस्जिद में आए अभी दूसरा ही दिन था कि अचानक मस्जिद के दूसरे छोर पर शोर मच गया - "काट लिया! काट लिया! काले नाग ने काट लिया|"

"क्या हुआ?" साईं बाबा एकदम से चौंककर खड़े हो गए और शोर मचाने वाले से पूछा|

"दामोदर को नाग ने काट लिया साईं बाबा!" एक व्यक्ति ने सहारा देकर दामोदर को उठाते हुए कहा| दामोदर की हालत एकदम से खराब होती जा रही थी| उसका सारा शरीर नीला पड़ता जा रहा था, मुंह से झाग आने लगी थी|

"मत चढ़...मत चढ़...!" साईं बाबा बोले|

"कहां गया नाग?"

"इस बिल में घुस गया है|" एक व्यक्ति ने मस्जिद के एक कोने में एक बिल की ओर हाथ से इशारा करते हुए कहा| उस बिल को देखकर साईं बाबा बड़े जोर से हँसकर बोले - "वाह रे लीलाधर! बड़ी विचित्र है तेरी लीला| यह तो नेवले का बिल है| नेवला अभी इस नाग के टुकड़े-टुकड़े करके रख देगा|" सभी व्यक्ति साईं बाबा की ओर हैरानी से देखने लगे|

फिर साईं बाबा दामोदर के पास आये और उसके पास बैठकर, उसके पैर पर ऊपर से नीचे की ओर हाथ फेरते हुए कहने लगे - "उतर जा... उतर जा...|"

बाबा के ऐसा कहते ही दामोदर के अंगूठे से नीले-नीले रंग की बूंदें तेजी से गिरने लगीं| वहां उपस्थित लोगों को यह समझते देर न लगी कि यह बूंदें उसी नाग के जहर की हैं|

यह देखकर सबको बहुत आश्चर्य हो रहा था कि नाग का जहर तो तेजी से ऊपर की ओर चढ़ता जाता है|

उन्होंने सांप काटने की अनेक घटनाएं देखी थीं| पर, ऐसा पहली बार देखा था कि जहर शरीर में फैलने की बजाय बूंद-बूंद का जख्म से ही टपकने लगा हो|

बाबा दामोदर के डंसे हुए पैर पर हाथ फेरते रहे और जहर बूंद-बूंद करके नीचे की ओर टपकता गया| थोड़ी देर बाद बूंदों का नीला रंग धीरे-धीरे लाली में बदल गया|

कुछ देर बाद बाबा ने कहा - "दामोदर के शरीर से अब सारा जहर निकल गया है| अब चिन्ता करने की कोई बात नहीं है| यह अब ठीक है|"

फिर उन्होंने दामोदर से पूछा - "अब कैसा लग रहा है, दामोदर?"

"अब मेरी तबीयत ठीक है बाबा|" दामोदर ने कहा और साईं बाबा के पैरों से लिपटकर फूट-फूटकर रोने लगा| बोला -"आपने मुझे बचा लिया साईं बाबा! आपकी कृपा से ही आज मेरी जान बच पायी है|"

यह घटना सबके लिए महान् आश्चर्य का विषय थी| सभी ने यह चमत्कार अपनी आँखों के सामने होते देखा था|

साईं बाबा के होठों पर मुस्कराहट थिरक रही थी|

उनके इस चमत्कार की चर्चा सारे गांव में हो रही थी|

अब लोगों को विश्वास होने लगा कि साईं बाबा वास्तव में ही कोई अवतारी पुरुष हैं|

सभी धर्मों के लोग दूर-दूर से उनके पास आने लगे|



Source: http://spiritualworld.co.in/an-introduction-to-shirdi-wale-shri-sai-baba-ji-shri-sai-baba-ji-ka-jeevan/shri-sai-baba-ji-ki-lilaye/1560-sai-baba-ji-real-story-aur-vish-utar-gaya.html
« Last Edit: May 28, 2012, 06:51:57 AM by spiritualworld »
Love one another and help others to rise to the higher levels, simply by pouring out love. Love is infectious and the greatest healing energy. -- Shri Sai Baba Ji

 


Facebook Comments