Join Sai Baba Announcement List

DOWNLOAD SAMARPAN - APRIL 2016




Author Topic: प्यार बांटते साई  (Read 498390 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline Admin

  • Administrator
  • Member
  • *****
  • Posts: 7513
  • Blessings 54
  • साई राम اوم ساي رام ਓਮ ਸਾਈ ਰਾਮ OM SAI RAM
    • Sai Baba
प्यार बांटते साई
« on: February 10, 2007, 05:59:56 PM »
  • Publish
  • प्यार बांटते साई

    प्राणिमात्र की पीड़ा हरने वाले साई हरदम कहते, 'मैं मानवता की सेवा के लिए ही पैदा हुआ हूं। मेरा उद्देश्य शिरडी को ऐसा स्थल बनाना है, जहां न कोई गरीब होगा, न अमीर, न धनी और न ही निर्धन..।' कोई खाई, कैसी भी दीवार..बाबा की कृपा पाने में बाधा नहीं बनती। बाबा कहते, 'मैं शिरडी में रहता हूं, लेकिन हर श्रद्धालु के दिल में मुझे ढूंढ सकते हो। एक के और सबके। जो श्रद्धा रखता है, वह मुझे अपने पास पाता है।'


    साई ने कोई भारी-भरकम बात नहीं कही। वे भी वही बोले, जो हर संत ने कहा है, 'सबको प्यार करो, क्योंकि मैं सब में हूं। अगर तुम पशुओं और सभी मनुष्यों को प्रेम करोगे, तो मुझे पाने में कभी असफल नहीं होगे।' यहां 'मैं' का मतलब साई की स्थूल उपस्थिति से नहीं है। साई तो प्रभु के ही अवतार थे और गुरु भी, जो अंधकार से मुक्ति प्रदान करता है। ईश के प्रति भक्ति और साई गुरु के चरणों में श्रद्धा..यहीं से तो बनता है, इष्ट से सामीप्य का संयोग।

    दैन्यता का नाश करने वाले साई ने स्पष्ट कहा था, 'एक बार शिरडी की धरती छू लो, हर कष्ट छूट जाएगा।' बाबा के चमत्कारों की चर्चा बहुत होती है, लेकिन स्वयं साई नश्वर संसार और देह को महत्व नहीं देते थे। भक्तों को उन्होंने सांत्वना दी थी, 'पार्थिव देह न होगी, तब भी तुम मुझे अपने पास पाओगे।'

    अहंकार से मुक्ति और संपूर्ण समर्पण के बिना साई नहीं मिलते। कृपापुंज बाबा कहते हैं, 'पहले मेरे पास आओ, खुद को समर्पित करो, फिर देखो..।' वैसे भी, जब तक 'मैं' का व्यर्थ भाव नष्ट नहीं होता, प्रभु की कृपा कहां प्राप्त होती है। साई ने भी चेतावनी दी थी, 'एक बार मेरी ओर देखो, निश्चित-मैं तुम्हारी तरफ देखूंगा।'
    1854 में बाबा शिरडी आए और 1918 में देह त्याग दी। चंद दशक में वे सांस्कृतिक-धार्मिक मूल्यों को नई पहचान दे गए। मुस्लिम शासकों के पतन और बर्तानिया हुकूमत की शुरुआत का यह समय सभ्यता के विचलन की वजह बन सकता था, लेकिन साई सांस्कृतिक दूत बनकर सामने आए। जन-जन की पीड़ा हरी और उन्हें जगाया, प्रेरित किया युद्ध के लिए। युद्ध किसी शासन से नहीं, कुरीतियों से, अंधकार से और हर तरह की गुलामी से भी! यह सब कुछ मानवमात्र में असीमित साहस का संचार करने के उपक्रम की तरह था। हिंदू, पारसी, मुस्लिम, ईसाई और सिख..हर धर्म और पंथ के लोगों ने साई को आदर्श बनाया और बेशक-उनकी राह पर चले।

    दरअसल, साई प्रकाश पुंज थे, जिन्होंने धर्म व जाति की खाई में गिरने से लोगों को बचाया और एक छत तले इकट्ठा किया। घोर रूढि़वादी समय में अलग-अलग जातियों और वर्गो को सामूहिक प्रार्थना करने और साथ बैठकर 'चिलम' पीने के लिए प्रेरित कर साई ने सामाजिक जागरूकता का भी काम किया। वे दक्षिणा में नकद धनराशि मांगते, ताकि भक्त लोभमुक्त हो सकें। उन्हें चमत्कृत करते, जिससे लोगों की प्रभु के प्रति आस्था दृढ़ हो। आज साई की नश्वर देह भले न हो, लेकिन प्यार बांटने का उनका संदेश असंख्य भक्तों की शिराओं में अब तक दौड़ रहा है।

    चण्डीदत्त शुक्ल

    Offline Admin

    • Administrator
    • Member
    • *****
    • Posts: 7513
    • Blessings 54
    • साई राम اوم ساي رام ਓਮ ਸਾਈ ਰਾਮ OM SAI RAM
      • Sai Baba
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #1 on: January 18, 2009, 04:13:30 AM »
  • Publish
  • Please do not spam with "Naam Jaap". Use words to appriciate.

    Sai Ram

    OM SAI RAM
    OM SAI RAM
    OM SAI RAM
    OM SAI RAM
    OM SAI RAM
    OM SAI RAM
    OM SAI RAM
    OM SAI RAM

    SREENIVAS

    Offline Manorama verma

    • Member
    • Posts: 538
    • Blessings 3
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #2 on: July 03, 2009, 03:35:59 AM »
  • Publish
  • he sai nath mujh per raham kijiye meri galtiyon ko chama kijiye

    om sai ram

    Offline gunj

    • Member
    • Posts: 433
    • Blessings 7
    • OM SAI RAM
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #3 on: July 03, 2009, 03:44:41 AM »
  • Publish
  • OM SAI RAM RAVIJI

    BAHOT ACHA LEKH HAI SHUKRIYA ISSE SHARE KARNE K LIYE,SAI NE SARE JAATI ,BEDH BHAAV SE HUMEIN MUKHT KIA HAI.UNHONE KAHA HAI SABKA MALIK EK HAI FIR BHI AAJ BHI INSAAN BHAGWAAN KO BAATH RAHA HAI .

    OM SAI RAM

    Offline dhaval patel

    • Member
    • Posts: 1
    • Blessings 0
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #4 on: October 09, 2009, 05:08:07 AM »
  • Publish
  • he sai baba mere man me jo hey aap voto jan te hi ho plz meri itni murade puri kar dena mere baba meri itni murade puri kar dena

    Offline krishnakumar

    • Member
    • Posts: 1
    • Blessings 0
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #5 on: October 09, 2009, 10:27:30 PM »
  • Publish
  • mere lie sai baba sab kuchh hai. sai ke nam lie bina koe kam nahi kar sakta hoon.na khana kha sakta ,na baith sakta,na uth sakta ,mai apne shareer sai baba ke nam  arpit kar dia hoon.

    Offline saisishya venkat jagadish

    • Member
    • Posts: 1
    • Blessings 0
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #6 on: January 27, 2010, 10:41:45 PM »
  • Publish
  • my aathmaguru sai bless and take care of "MY GURU SOCIAL SERVICE ORGANISATION" FOUNDED WITH YOUR KRIPA

    Offline mauryasuraj007

    • Member
    • Posts: 1
    • Blessings 0
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #7 on: May 29, 2010, 07:50:22 AM »
  • Publish
  • BABA MADAD KARNA,,,
    ][ftp][/ftp]

    Offline jyotsana srivastava

    • Member
    • Posts: 6
    • Blessings 0
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #8 on: September 15, 2011, 03:40:40 AM »
  • Publish
  • he sai baba mujhe hamesha sahi rasta dikhana.


    om jai sai nath.

    Offline jyoti attree

    • Member
    • Posts: 8
    • Blessings 0
    • om sai ram
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #9 on: February 29, 2012, 03:09:54 AM »
  • Publish
  • om jai sai ram...

    ravi ji apne bhut acha likha h...

    sai baba meri aapse vinti h ki aap humhe sada shi rasta dikhana , humhe shi glat ki pehchan krwana, aisa aashirwad dena ki hum sabko khush rakh sake or sab logo ki help kar sake.... bs baba hum sab par , apne sabhi bacho par apni kripa drishti banaye rakhna.... bs baba apke charankamalo mai humra jeevan beet jaye......

    loka samasta sukhino bhavantu
    om shantiH shantiH shantiH............
    With best Regards:

    sai ki beti....
    Jyoti Attree....

    Offline spiritualworld

    • Member
    • Posts: 117
    • Blessings 0
      • Indian Spiritual & Religious Website
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #10 on: February 29, 2012, 10:39:49 PM »
  • Publish
  • Om Sai Ram Ji
    Love one another and help others to rise to the higher levels, simply by pouring out love. Love is infectious and the greatest healing energy. -- Shri Sai Baba Ji

    Offline sandeep yaduvanshi

    • Member
    • Posts: 2
    • Blessings 0
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #11 on: April 23, 2012, 11:53:55 PM »
  • Publish
  • ALLAH-MALIK


    accha likha hai RAVI JI apne .baba ki raham najar se kaas ye baat duniya ke har ek kone me ja sakti. :)





    SAI KA BANDA
    SANDEEP YADUVANSHI

    Offline marioban29

    • Member
    • Posts: 8003
    • Blessings 6
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #12 on: July 27, 2012, 06:22:19 PM »
  • Publish
  • om shri sai nathay namah

    Offline marioban29

    • Member
    • Posts: 8003
    • Blessings 6
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #13 on: July 27, 2012, 06:22:52 PM »
  • Publish
  • om shri sai nathay namah

    Offline RINKU1980

    • Member
    • Posts: 6
    • Blessings 0
    • Rinku
    Re: प्यार बांटते साई
    « Reply #14 on: October 15, 2013, 08:28:01 AM »
  • Publish
  • om shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri saiom shri sai

     


    Facebook Comments