Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: श्रधांजलि दिवंगत देश की बेटी (बहन) की आत्मा को  (Read 1247 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline Pratap Nr.Mishra

  • Member
  • Posts: 965
  • Blessings 4
  • राम भी तू रहीम भी तू तू ही ईशु नानक भी तू



श्रधांजलि दिवंगत देश की बेटी (बहन)दामिनी  की आत्मा को   :( :( :( :( :( :(

श्रधांजलि सामाजिक कुरता के शिकार दामिनी को जिसने जघन्य घावों की असहनिये पीड़ा को लगातार  सहते हुए आज आपने प्राण त्याग दिए | उसकी मौत एक गुमनामी मौत नहीं है बल्की  इस विकसित देश ,समाज,धर्म  एवंग वर्ग के समक्ष एक ऐसा कलंक का दाग और कई प्रश्नों को छोड़ कर गई है |

हम नारी के रूप में सभी देवियों को माँ कहते हैं और उनकी पूजा अर्चना करते हैं | सदैव कुछ न कुछ पाने की इच्छा रखते हैं और माँ हमारी इच्छाओं को पूर्ण भी करती हैं | पर उसी नारी स्वरुप को हमलोग मौका मिलने पर दाग-दाग करने,अत्याचार करने,शोषण करने और अपनी हवस का शिकार बनाने  में कोई कसर नहीं छोड़ते | इसके उपरांत भी हमलोग  स्वयं को सभ्य और सभ्य समाज का अंग कहने पर शर्मिंदगी भी नहीं महसूस करते |

क्या यही हमारा सांस्कृतिक सोच  है ? क्या यही सामाजिक सोच है ? क्या यही हमारी अध्यात्मिक सोच है ? क्या वर्षों से जो लिंग भेद की हमारी रुढ़िवादी सोच है  उसमे एक नये परिवर्तन की अव्सकता है ?  

अध्यात्म और समाज एक दुसरे का प्रतिबिम्ब होता है | स्वार्थ अध्यात्मिक सोच ही स्वार्थ समाज को जन्म देने में सहायक होती रहती है |

इस निन्दनिये ,शर्मनाक एवंग हैवानियत की घटना ने हम सभी को अन्दर से झकझोर के रख दिया है और हमें इस समाज से ,खुद से भी कई प्रश्नों के उत्तर ढूंढने को कह रहा है |

मै रुर्दन ह्रदय से दामिनी की आत्मा को भावभीनी श्रधांजलि अर्पित करता हूँ  एवंग मेरे साईनाथ से यही प्राथना करता हूँ कि दामिनी की आत्मा को शांति प्रदान करें और फिर कोई नारी इस तरह की यातना का शिकार न होने पाये |


ॐ  साईं नाथाय नमः ॐ साईं नाथाय नमः ॐ साईं नाथाय नमः










« Last Edit: December 29, 2012, 05:14:28 AM by Pratap Nr.Mishra »

Offline saib

  • Member
  • Posts: 10401
  • Blessings 166
प्रताप जी,

यह सत्य है की इस घटना से न मात्र भौतिक जगत अपितु अध्यात्मिक जगत भी स्तब्द है ! जिस दरिंदगी के साथ एक नारी की अस्मिता और जीवन को नष्ट किया गया है, वोह अत्यंत निन्दनिये और शोकनीय है ! आपने सत्य कहा की एक और तो जो जगत नारी को माता के रूप मे पूजता है वही इस प्रकार का व्यव्हार किस प्रकार कर सकता है ?

यह घटना तो मात्र एक आइना है समाज के लिए ! वोह समाज जो नारी को एक मनुष्य नहीं बल्कि एक वस्तु और उत्पाद के रूप मे देखता है ! यदि यह घटना न हुई होती तो शायद 31 दिसम्बर को कई जानी  मानी शक्शियते भारी रकम के बदले अपने रूप का प्रदर्शन कर रहीं होती ! समस्त विज्ञापन नारी के इसी रूप को प्रचलित करते है !

यह एक साधारण घटना नहीं है, यह तो समाज को एक चेतावनी है ! उस मानसिकता के लिए जो उसे मनुष्यता से दूर कर रही है !

बाबा कहते है - जगत मे  कोई भी घटना अकारण नहीं घटती, या तो पुरानी घटनाओं का परिणाम होती है या आने वाली घटनाओं का आरम्भ ! यह भी एक संकेत है - मनुष्यों को, अब भी संभल जाओ अन्यथा यह जगत असीमित ब्रह्माण्ड मे एक धूल के कण से अधिक कुछ भी नहीं !

इश्वर उस बच्ची की आत्मा को शांति दे और संसार को वास्तविक ज्ञान पाने का मार्गदर्शन करे !


ॐ श्री साईं राम !
om sai ram!
Anant Koti Brahmand Nayak Raja Dhi Raj Yogi Raj, Para Brahma Shri Sachidanand Satguru Sri Sai Nath Maharaj !
Budhihin Tanu Janike, Sumiro Pavan Kumar, Bal Budhi Vidhya Dehu Mohe, Harahu Kalesa Vikar !
........................  बाकी सब तो सपने है, बस साईं ही तेरे अपने है, साईं ही तेरे अपने है, साईं ही तेरे अपने है !!

Offline gurubhagini

  • Member
  • Posts: 129
  • Blessings 2
Omsairam,

This has brought us once again o the world map in line with those nations we have been condemning for centuries for treating women not more than a scum bag. A woman is neither safe inside a womb nor outside. Shame to the Incredible India. May Sai help her soul to be in rest. I am so painful to even think and at times still scared and astonished at those peoples inhuman act. Coz even they are Indians too.

O Sai please help us and all the mothers out there have even more responsibilities to atleast teach their son right to respect women atleast to begin with.


 


Facebook Comments