Join Sai Baba Announcement List

DOWNLOAD SAMARPAN - APRIL 2016




Author Topic: RAMADHAN(RAMZAN) EID  (Read 7357 times)

0 Members and 2 Guests are viewing this topic.

Offline rajiv uppal

  • Member
  • Posts: 892
  • Blessings 37
  • ~*साईं चरणों में मेरा नमन*~
    • Sai-Ka-Aangan
RAMADHAN(RAMZAN) EID
« on: September 17, 2007, 04:40:29 AM »
  • Publish
  • Ramzan or Ed-ul-Fitr is celebrated on the 1st of 'Shawaal', tenth lunar month of the Islamic calendar immediately after the month of Ramadan. Ramzan means the 'festival of breaking the fast'.

    The tradition is that everyone bathe early morning, wears new or clean clothes, applies perfume, and eats dates or some other sweet before walking to the mosque for Eid prayers. Men wear white clothes because white symbolises purity and austerity.

    Community prayer, generally held in an open space is the most important part in Ramzan Eid celebrations. Every Muslim is commanded by Koran to offer Eid prayer with his breathern in full faith. As the congregation becomes too unwieldy to be accommodated in a mosque spacious grounds are selected for Community Prayers.

    It is required that every Muslim gives alms to the poor and dresses in clean clothes before attending the public prayer.The Fitr or alms must be a minimum of two kilos and a half of wheat or any other grain, dates or grapes. Thus every member of a Muslim household is under religious obligation to give this Fitr or alms before proceeding to the ground where Eid Prayer or Community Ibadat is arranged. They believe that those who do not give alms on this day will not go to heaven after death.

    After the distribution of alms the congregation proceeds to the house of the Kazi who is a Muslim religious official or some other learned and pious man who is detailed to lead the Ibadat and then the Kazi is conducted to the place of worship.

    After the Ibadat or prayer is over, a sermon is delivered for an hour or so. The preacher then offers extempore supplementary prayers which are known as `Munajat' to the Almighty Allah for the welfare of the Muslim

    faith, remission of sins for all Muslims, for the safety of pilgrims and travellers, for the recovery of the sick, for timely rain, preservation from misfortune and freedom from indebtedness. He then comes down from the pulpit, kneels on a prayer carpet to do "NAMAZ" supplication on behalf of the people. The congregation at the end of each prayer , rises up and ejaculates "Faith"- Din.

    After the ritual prayers, the assembled people conduct the Kazi back to his house and the people who had accompanied him to house take leave of him.

    People spend the rest of the day in feasting, visiting friends and relatives and going to the fairs which are held in open spaces for the sale of toys and trinkets. Children also enjoy themselves to their hearts content in these fairs.

    Ramzan Eid is an occasion for a general expression of goodwill and friendship. Even those who are dead are not excluded from the benefit of this Eid. So it is a prevalent custom in certain parts of India for the living wife of a Muslim to offer new clothes and finery to a former dead wife in a small ceremony which is known by the name -"SAUKAN MAURA" - which literally means first wife's crown.

    Greeting cards printed with "Eid Mubarak" which is also the greetings for this Eid festival are sent to friends and relatives also when friends meet they greet each other saying "Id Mubarak".

    The special sweet which is a "must" and is prepared in every Muslim house is Sheerkurma.
    « Last Edit: September 18, 2007, 10:54:11 AM by rajiv uppal »
    ..तन है तेरा मन है तेरा प्राण हैं तेरे जीवन तेरा,सब हैं तेरे सब है तेरा मैं हूं तेरा तू है मेरा..

    Offline my_sai

    • Member
    • Posts: 1899
    • Blessings 9
    Re: RAMADHAN(RAMZAN) EID
    « Reply #1 on: September 18, 2007, 03:17:34 AM »
  • Publish
  • sai ram sai ram sai ram
    sai ram sai ram sai ram
    sai ram sai ram sai ram
    श्री सद्रगुरु साईनाथ.
    मेरा मन-मधुप आपके चरण कमल और भजनों में ही लगा रहे । आपके अतिरिक्त भी अन्य कोई ईश्वर है, इसका मुझे ज्ञान नहीं । मुझ पर आप सदा दया और स्नेह करें और अपने चरणों के दीन दास की रक्षा कर उसका कल्याण करें । आपके भवभयनाशक चरणों का स्मरण करते हुये मेरा जीवन आनन्द से व्यतीत हो जाये, ऐसी मेरी आपसे विनम्र प्रार्थना है ।
     श्री सद्रगुरु साईनाथार्पणमस्तु

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: RAMADHAN(RAMZAN) EID
    « Reply #2 on: September 20, 2007, 05:38:37 AM »
  • Publish
  • Om Sai Ram~~~

    What is Ramzan?

    Ramzan is the ninth month in the Muslim calendar. According to legend, the Holy Koran was revealed in this month. Ramzan is thus regarded as highly auspicious and this month is marked by fasting and prayers. Muslims keep a fast every day during Ramzan. The rituals associated with Id and Ramzan have remained unchanged for centuries.

    Often, after the afternoon prayer at the mosque, religious lectures are held here. Prayer services are also held here each night during the month of Ramzan. A small portion of the Koran is read during each service, so that the entire book is complete by the end of the month.

    Ramzan is similar to Lent, in the sense that it is a period of abstinence and self restraint. It also entails fasting from dawn to dusk, and every Muslim, except those who are unwell, too old, or unable to fast due to other health or circumstantial reasons such as travel, pregnancy or nursing, keeps the fast. So does that mean no eating for a month? No. It does however mean no food, drink or tobacco from dawn to dusk during this period. Children who have not yet attained puberty are not expected to fast, but many parents like to make older children around the age of eight fast for a few hours a day during this period, just so they get accustomed to the rituals of self-restraint and build up their will power, so it is easier for them to fast later on.


    What is the reason for fasting during this time?

    The Prophet Mohammed left Mecca and undertook the journey to Medina in 622 AD, to join the other Muslims who had migrated to Medina to escape persecution in Mecca. During this period, he fasted for three days. Many years later, He was to receive a revelation from God, which stated that all followers of the Islam faith fasted for a certain number of days. "Ramadan is the month of Ramadan should spend it fasting..." (Chapter 2, Verse 183 and 185). Fasting also purports to reduce the barriers between the rich and the poor, by creating an understanding of the sufferings the poor undergo.


    What is the connection between Id and Ramzan?

    Id Ul Fitr is a festival that marks the end of the Ramzan period, and usually falls on a new moon night, in the month of April or May. On this day, Muslims gather in large groups at mosques, and offer their prayers or namaz. Id is one of the most important festivals in the Muslim religion. On this day, Muslims from around the world dress up in new clothes to celebrate Id with great enthusiasm. Id celebrates the breaking of the Ramzan fast, which is why the word Fitr, which means 'to break'. People greet each other with the words "Id Mubarak", and embrace three times. Women prepare delicious sweetmeats at home, and vermicelli kheer (sweetened milk) is a popular dish. Muslims also pay tribute to their ancestors during this time.

    Jai Sai Ram~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: RAMADHAN(RAMZAN) EID
    « Reply #3 on: October 05, 2007, 11:01:54 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    रमज़ान में निहित है 'वसुधैव कुटुम्बकम्' की भावना

    रमज़ान के महीने में रोज़े रखने के साथ और भी कई बातें होती हैं, जिन पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है, जैसे .फतरा और ज़कात। .फतरा एक तरह का दान है जो हर मुसलमान अपनी और अपने आश्रितों की ओर से ईद की नमाज से पहले गरीबों के लिए अदा करता है। इसीलिए ईद को ईद-उल-.फतर भी कहते हैं, यानी ऐसा त्योहार जिसमें दूसरों को देकर खुशी हासिल हो।

    ज़कात दान की जाने वाली वह रकम है, जिसे अपनी दौलत से निकाला जाता है। ज़कात हर पैसे वाले और अमीर पर वाजिब है। ज़कात का औसत रुपये में ढाई पैसे होता है, यानी अगर आप एक रुपया कमाते हैं तो उसमें ढाई पैसा दान के लिए जरूर निकालें।

    फतरा और ज़कात अनाथ, मालूम और गरीबों के लिए होती है, जिससे वे लोग भी अपनी खुशियों का आनन्द ले सकें तथा अपना जीवन सुखी बना सकें। .फतरे और ज़कात की अदायगी के बगैर रमज़ान अधूरा माना जाता है। ये शासन की ओर से लगाए जाने वाले करों में शामिल नहीं माने जाते, इन्हें अपने व्यक्तिगत पैसों में से अलग से अदा किया जाता है।

    अगर आपने अपनी तनख्वाह में से दो परसेंट का सेस गरीब बच्चों की पढ़ाई के लिए या सुनामी पीड़ितों के लिए दिया है, तो उसे ज़कात या .फतरा नहीं माना जाता। सबसे बड़ी और खूबसूरत बात यह है कि इस्लाम में ज़कात देने में मजहब कभी आड़े नहीं आता, ज़कात मुस्लिम अथवा गैर मुस्लिम किसी भी जरूरतमंद को दिया जा सकता है।

    इस्लाम में कहा गया है कि सबसे पहले अपने पड़ोस में देखो कि कौन जरूरतमंद है, फिर मोहल्ले में, फिर रिश्तेदारों में, फिर अपने शहर में, उसके बाद किसी और की जरूरतों को पूरा करने की कोशिश करो।

    इस्लाम में पांच फर्ज बताए गए हैं, इनमें से एक फर्ज रमज़ान भी है। रमज़ान हर बालिग पर फर्ज है और जितनी खू़बियां इस महीने में बताई गई हैं उतनी किसी और दिन अथवा महीने की नहीं, इसलिए रमजान को बरकत और मग.फरत का महीना कहा जाता है।

    रमज़ान दिलों को मिलाने का काम करता है। यह दूसरों के दुखों और जरूरतों को समझने में मदद करता है, साथ ही उन्हें दूर करने के उपाय भी बताता है। रमज़ान दिलों में गुंजाइश पैदा करता है और यह समझाता है कि हम सिर्फ खुद के लिए ही नहीं, बल्कि दूसरों के लिए भी जीना सीखें अर्थात पूरे विश्व को अपना समझें। रमज़ान 'वसुधैव कुटुम्बकम' का एक बहुत ही बढ़िया उदाहरण प्रस्तुत करता है।

    रमज़ान में रोज़े रखने के भी कुछ नियम तय हैं। सहर यानी सूर्योदय से लेकर म़गरिब यानी सूर्यास्त तक व्रत का पालन किया जाता है जिसमें प्रतिदिन की नमाज़ों के साथ- साथ तरावियों का भी पढ़ना जरूरी माना जाता है। रात की नमाज के बाद की जाने वाली विशेष इबादत के रूप में तरावियों का पढ़ना माहे रमज़ान की इबादत का एक महत्वपूर्ण अंग है।

    इस्लाम में कहा गया है कि रमजान का महीना बड़ा बरकत वाला है। इस महीने अल्लाह अपने बंदों पर से सख्तियां उठा लेता है साथ ही रिज्क में भी बढ़ोतरी कर देता है। अल्लाह कहता है कि रोज़े रखो और जानो कि भूख- प्यास क्या होती है, इससे तुम्हें उन लोगों की तकलीफ का भी अहसास होगा जो गरीबी और मजबूरी में भूख- प्यास झेल रहे हैं। भूखे- प्यासे लोगों के लिए अपने हिस्से में से खाना पानी निकालो और उन तक पहुंचाओ।

    माहे रमजान की एक विशेषता यह भी बताई जाती है कि इस महीने किए जाने वाले नेक कामों का पुण्य बढ़ जाता है। रमजान में की जाने वाली एक नेकी सत्तर नेकियों के बराबर मानी जाती है इसलिए मुसलमान इस महीने अधिक से अधिक पुण्य कमाने की कोशिश करते हैं। इसीलिए भी दान- दक्षिणा का काम पूरे जोर- शोर से किया जाता है। सभी अपनी- अपनी हैसियत के अनुसार भलाई, नेकी और समाज सेवा में जुटते हैं। रमजान नेकी और भलाई की राह दिखाने वाला महीना है। साथ ही अपने गुनाहों से तौबा करने का भी महीना है। यह अपने जीवन की तमाम बुराइयों और कमियों तथा नफस (इन्द्रियों) पर विजय पाने का भी महीना है।

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline rajiv uppal

    • Member
    • Posts: 892
    • Blessings 37
    • ~*साईं चरणों में मेरा नमन*~
      • Sai-Ka-Aangan
    Re: RAMADHAN(RAMZAN) EID
    « Reply #4 on: September 08, 2008, 03:42:11 AM »
  • Publish
  • पवित्र रमजान माह शबाब पर हैं। बाजारों में चहल-पहल शुरू हो गई है। इस माह की खास नमाज 'तरावीह' के लिए मस्जिदों में तैयारी की गई है। घड़ी की सुइयाँ जैसे ही तड़के 3.45 बजे के वक्त को छूती हैं शहर में अस्सलाम अलैकुम... गूँज उठता है। नींद के आगोश में डूबे रोजदारों को इसी तरह सलाम करके मस्जिद के खिदमतगार सहरी के लिए जगाते हैं।

    माइक से हर दस से पंद्रह मिनट के बीच ऐलान किया जाता है... अस्सलाम अलैकुम ... मोहतरम उठ जाइए... सहरी का वक्त हो चुका है। सहरी के लिए 15 मिनट बचे हैं। वक्त खत्म होते ही फजर की अजान होती है और रोजदार घरों से निकल पड़ते हैं मस्जिदों की तरफ और शुरू हो जाता है रमजान के नए दिन की इबादत का सिलसिला।

    रमजान के पाक महीने में सुबह सहरी से शुरू होने वाली इबादत का सिलसिला देर रात तरावीह की नमाज तक जारी रहता है। मौजूदा हाल ये हैं कि मुस्लिम बहुल इलाकों में क्या बच्चे, क्या औरतें और क्या बुजुर्ग तकरीबन सभी इबादत में डूबे हैं। मस्जिद में पाँच वक्त की नमाज अदा करने वालों की तादाद में पाँच गुना तक इजाफा होना इस बात की गवाही दे रहा है।

    मस्जिदों के ताले आम दिनों में सुबह फजर की नमाज के वक्त से कुछ पहले (सुबह करीब 5 बजे) ही खुलते हैं, लेकिन इन दिनों हर हाल में सुबह 3.30 बजे ताले खुल जाते हैं। मस्जिद की साफ-सफाई, जा-नमाज बिछाने और सहरी के लिए ऐलान किया जाता है।

    धीरे-धीरे लोग भी आने लगते हैं और मस्जिदों में मेला-सा लग जाता है।

    रोजे का मकसद भूखा रहना नहीं बल्कि बुराइयों से बचना व नेकियों पर चलना है। यह एक माह की ट्रेनिंग है कि बाकी जिंदगी भी ऐसे ही नेकियों पर चलते हुए गुजारी जाए।
    « Last Edit: September 08, 2008, 03:44:31 AM by rajiv uppal »
    ..तन है तेरा मन है तेरा प्राण हैं तेरे जीवन तेरा,सब हैं तेरे सब है तेरा मैं हूं तेरा तू है मेरा..

    Offline Dipika

    • Member
    • Posts: 13574
    • Blessings 9
    Re: RAMADHAN(RAMZAN) EID
    « Reply #5 on: November 26, 2009, 11:00:16 PM »
  • Publish
  • Ramzan or Ed-ul-Fitr is celebrated on the 1st of 'Shawaal', tenth lunar month of the Islamic calendar immediately after the month of Ramadan. Ramzan means the 'festival of breaking the fast'.

    The tradition is that everyone bathe early morning, wears new or clean clothes, applies perfume, and eats dates or some other sweet before walking to the mosque for Eid prayers. Men wear white clothes because white symbolises purity and austerity.

    Community prayer, generally held in an open space is the most important part in Ramzan Eid celebrations. Every Muslim is commanded by Koran to offer Eid prayer with his breathern in full faith. As the congregation becomes too unwieldy to be accommodated in a mosque spacious grounds are selected for Community Prayers.

    It is required that every Muslim gives alms to the poor and dresses in clean clothes before attending the public prayer.The Fitr or alms must be a minimum of two kilos and a half of wheat or any other grain, dates or grapes. Thus every member of a Muslim household is under religious obligation to give this Fitr or alms before proceeding to the ground where Eid Prayer or Community Ibadat is arranged. They believe that those who do not give alms on this day will not go to heaven after death.

    After the distribution of alms the congregation proceeds to the house of the Kazi who is a Muslim religious official or some other learned and pious man who is detailed to lead the Ibadat and then the Kazi is conducted to the place of worship.

    After the Ibadat or prayer is over, a sermon is delivered for an hour or so. The preacher then offers extempore supplementary prayers which are known as `Munajat' to the Almighty Allah for the welfare of the Muslim

    faith, remission of sins for all Muslims, for the safety of pilgrims and travellers, for the recovery of the sick, for timely rain, preservation from misfortune and freedom from indebtedness. He then comes down from the pulpit, kneels on a prayer carpet to do "NAMAZ" supplication on behalf of the people. The congregation at the end of each prayer , rises up and ejaculates "Faith"- Din.

    After the ritual prayers, the assembled people conduct the Kazi back to his house and the people who had accompanied him to house take leave of him.

    People spend the rest of the day in feasting, visiting friends and relatives and going to the fairs which are held in open spaces for the sale of toys and trinkets. Children also enjoy themselves to their hearts content in these fairs.

    Ramzan Eid is an occasion for a general expression of goodwill and friendship. Even those who are dead are not excluded from the benefit of this Eid. So it is a prevalent custom in certain parts of India for the living wife of a Muslim to offer new clothes and finery to a former dead wife in a small ceremony which is known by the name -"SAUKAN MAURA" - which literally means first wife's crown.

    Greeting cards printed with "Eid Mubarak" which is also the greetings for this Eid festival are sent to friends and relatives also when friends meet they greet each other saying "Id Mubarak".

    The special sweet which is a "must" and is prepared in every Muslim house is Sheerkurma.

    साईं बाबा अपने पवित्र चरणकमल ही हमारी एकमात्र शरण रहने दो.ॐ साईं राम


    Dipika Duggal

    Offline Dipika

    • Member
    • Posts: 13574
    • Blessings 9
    Re: RAMADHAN(RAMZAN) EID
    « Reply #6 on: November 26, 2009, 11:00:44 PM »
  • Publish
  • पवित्र रमजान माह शबाब पर हैं। बाजारों में चहल-पहल शुरू हो गई है। इस माह की खास नमाज 'तरावीह' के लिए मस्जिदों में तैयारी की गई है। घड़ी की सुइयाँ जैसे ही तड़के 3.45 बजे के वक्त को छूती हैं शहर में अस्सलाम अलैकुम... गूँज उठता है। नींद के आगोश में डूबे रोजदारों को इसी तरह सलाम करके मस्जिद के खिदमतगार सहरी के लिए जगाते हैं।

    माइक से हर दस से पंद्रह मिनट के बीच ऐलान किया जाता है... अस्सलाम अलैकुम ... मोहतरम उठ जाइए... सहरी का वक्त हो चुका है। सहरी के लिए 15 मिनट बचे हैं। वक्त खत्म होते ही फजर की अजान होती है और रोजदार घरों से निकल पड़ते हैं मस्जिदों की तरफ और शुरू हो जाता है रमजान के नए दिन की इबादत का सिलसिला।

    रमजान के पाक महीने में सुबह सहरी से शुरू होने वाली इबादत का सिलसिला देर रात तरावीह की नमाज तक जारी रहता है। मौजूदा हाल ये हैं कि मुस्लिम बहुल इलाकों में क्या बच्चे, क्या औरतें और क्या बुजुर्ग तकरीबन सभी इबादत में डूबे हैं। मस्जिद में पाँच वक्त की नमाज अदा करने वालों की तादाद में पाँच गुना तक इजाफा होना इस बात की गवाही दे रहा है।

    मस्जिदों के ताले आम दिनों में सुबह फजर की नमाज के वक्त से कुछ पहले (सुबह करीब 5 बजे) ही खुलते हैं, लेकिन इन दिनों हर हाल में सुबह 3.30 बजे ताले खुल जाते हैं। मस्जिद की साफ-सफाई, जा-नमाज बिछाने और सहरी के लिए ऐलान किया जाता है।

    धीरे-धीरे लोग भी आने लगते हैं और मस्जिदों में मेला-सा लग जाता है।

    रोजे का मकसद भूखा रहना नहीं बल्कि बुराइयों से बचना व नेकियों पर चलना है। यह एक माह की ट्रेनिंग है कि बाकी जिंदगी भी ऐसे ही नेकियों पर चलते हुए गुजारी जाए।

    साईं बाबा अपने पवित्र चरणकमल ही हमारी एकमात्र शरण रहने दो.ॐ साईं राम


    Dipika Duggal

     


    Facebook Comments