Join Sai Baba Announcement List

DOWNLOAD SAMARPAN - APRIL 2016




Author Topic: हे ज्ञानी का करो बड़ाई । हमते नाहिं एछूटजिव जाई ।।  (Read 1493 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline JR

  • Member
  • Posts: 4611
  • Blessings 35
  • सांई की मीरा
    • Sai Baba
ऊँ सांई राम

हे ज्ञानी का करो बड़ाई ।  हमते नाहिं एछूटजिव जाई ।।
इतने युग भये का तुम देखा ।  ज्ञानी हंस ने ऐको पेखा ।।
का तुम करो का शब्द तुम्हारा ।  तीन लोक परलय कर डारा ।।
साधु सन्त हम देखी रीति ।  परलय पर सकल जग जीती ।।
करम रेख बांधै सब साधा ।  सुर नर मुनि सकलो जग बांधा ।।

अर्थ - इतने युग हो गये, क्या एक भी जीव को सतलोक आते देखा ।  बड़ी ताकत से जीव को मैंने बांधा हुआ है ।  छूटने नहीं दूंगा ।  तुम और तुम्हारा शब्द क्या कर लेगा ।  मैं तीन लोक का नाश कर देता तहूँ ।  निरंजन ने कई बार सृष्टि का प्रलय भी किया है ।  यह सब काम साहिब के नहीं है, परम पुरुष के नहीं है ।  इस पर साहिब ने कहा भी है जो रक्षक तहं चीन्हत नाहीं, जो भक्षक तहं ध्यान लगाई ।  इस पर भी कर्मों में जीव को बांधे हुए हूं ।  आम आदमी की क्या बात है ।  सुर, नर, मुनि सारे संसार को बांधे हुए हूं ।  एक भी जीव को जाने नहीं दूंगा ।  निरंजन ने साहिब से यह कहा ।

जय सांई राम
सबका मालिक एक - Sabka Malik Ek

Sai Baba | प्यारे से सांई बाबा कि सुन्दर सी वेबसाईट : http://www.shirdi-sai-baba.com
Spiritual India | आध्य़ात्मिक भारत : http://www.spiritualindia.org
Send Sai Baba eCard and Photos: http://gallery.spiritualindia.org
Listen Sai Baba Bhajan: http://gallery.spiritualindia.org/audio/
Spirituality: http://www.spiritualindia.org/wiki

 


Facebook Comments