Join Sai Baba Announcement List

DOWNLOAD SAMARPAN - APRIL 2016




Author Topic: मन का अंग~~~  (Read 3631 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline tana

  • Member
  • Posts: 7074
  • Blessings 139
  • ~सांई~~ੴ~~सांई~
    • Sai Baba
मन का अंग~~~
« on: May 02, 2008, 01:18:01 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    मन का अंग~~~

    `कबीर' मारूँ मन कूं, टूक-टूक ह्वै जाइ ।
    बिष की क्यारी बोइ करि, लुणत कहा पछिताइ ॥1॥

    भावार्थ - इस मन को मैं ऐसा मारूँगा कि वह टूक-टूक हो जाय । मन की ही करतूत है यह, जो जीवन की क्यारी में विष के बीज मैंने बो दिये , उन फलों को तब लेना ही होगा, चाहे कितना ही पछताया जाय ।

    आसा का ईंधण करूँ, मनसा करूँ बिभूति ।
    जोगी फेरि फिल करूँ, यौं बिनना वो सूति ॥2॥

    भावार्थ - आशा को जला देता हूँ ईंधन की तरह, और उस राख को तन पर रमाकर जोगी बन जाता हूँ । फिर जहाँ-जहाँ फेरी लगाता फिरूँगा, जो सूत इक्ट्ठा कर लिया है उसे इसी तरह बुनूँगा । [मतलब यह कि आशाएँ सारी जलाकर खाक कर दूँगा और निस्पृह होकर जीवन का क्रम इसी ताने-बाने पर चलाऊँगा ।]

    पाणी ही तै पातला, धुवां ही तै झीण ।
    पवनां बेगि उतावला, सो दोसत `कबीर' कीन्ह ॥3॥

    भावार्थ - कबीर कहते हैं कि ऐसे के साथ दोस्ती करली है मैंने जो पानी से भी पतला है और धुएं से भी ज्यादा झीना है । पर वेग और चंचलता उसकी पवन से भी कहीं अधिक है । [पूरी तरह काबू में किया हुआ मन ही ऐसा दोस्त है ।]

    `कबीर' तुरी पलाणियां, चाबक लीया हाथि ।
    दिवस थकां सांई मिलौं, पीछै पड़िहै राति ॥4॥

    भावार्थ - कबीर कहते हैं -ऐसे घोड़े पर जीन कस ली है मैंने, और हाथ में ले लिया है चाबुक, कि सांझ पड़ने से पहले ही अपने स्वामी से जा मिलूँ । बाद में तो रात हो जायगी , और मंजिल तक नहीं पहुँच सकूँगा ।

    मैमन्ता मन मारि रे, घट ही माहैं घेरि ।
    जबहिं चालै पीठि दे, अंकुस दै-दै फेरि ॥5॥

    भावार्थ - मद-मत्त हाथी को, जो कि मन है, घर में ही घेरकर कुचल दो ।अगर यह पीछे को पैर उठाये, तो अंकुश दे-देकर इसे मोड़ लो ।

    कागद केरी नाव री, पाणी केरी गंग ।
    कहै कबीर कैसे तिरूँ, पंच कुसंगी संग ॥6॥

    भावार्थ - कबीर कहते हैं --नाव यह कागज की है, और गंगा में पानी-ही-पानी भरा है । फिर साथ पाँच कुसंगियों का है, कैसे पार जा सकूँगा ? [ पाँच कुसंगियों से तात्पर्य है पाँच चंचल इन्द्रियों से ।]

    मनह मनोरथ छाँड़ि दे, तेरा किया न होइ ।
    पाणी में घीव नीकसै, तो रूखा खाइ न कोइ ॥7॥

    भावार्थ - अरे मन ! अपने मनोरथों को तू छोड़ दे, तेरा किया कुछ होने-जाने का नहीं । यदि पानी में से ही घी निकलने लगे, तो कौन रूखी रोटी खायगा ? [मतलब यह कि मन तो पानी की तरह है, और घी से तात्पर्य है आत्म-दर्शन ।]

    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

     


    Facebook Comments