Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: Gaj Raja  (Read 2981 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline JR

  • Member
  • Posts: 4611
  • Blessings 35
  • सांई की मीरा
    • Sai Baba
Gaj Raja
« on: April 03, 2007, 08:37:29 AM »
  • Publish
  • अरुणा नदी के तट पर कृष्ण चैतन्य का गुरुकुल था ।  शिक्षा की समप्ति के बाद जब पांच विघार्थी स्वस्थल लौटनेवाले थे, तब उन्हें संबोधित करते हुए कृष्ण चैतन्य ने कहा, जब आप लोगों ने गुरुकुल में प्रवेश किया था, तब बिलकुल ही अशिक्षित थे ।  अब अमरकोश सहित कितने ही ग्रंथों का अध्ययन तुम पाँचों ने बड़ी ही खूबी के साथ किया ।  यह कैसे संभव हो पाया ।  यह संभव हो पाया, निरंतर अभ्यास और विकसित बुद्वि बल के कारण ।  अब तुम लोग बाहृ विश्व में कदम रखने जा रहे हो ।  जीवन पुष्पों से बिछी पगडंडी नहीं है ।  यह मत भूलना कि यह एक अविराम संघर्ष है ।  मनुष्य के लिये आवश्यक है, आत्मविश्वास और निरंतर प्रयत्न ।  इनके होने पर ही भविष्य उज्जवल बन सकता है ।  गजराज में अपार बल होता है, पर वह अगर यह समझ नहीं पाये तो उसे कोई लाभ नहीं पहुंचेगा ।  उदाहरणस्वरुप मैं एक कहानी सुनाऊँगा ।  ध्यानपूर्वक सुनो ।  फिर वे कहानी यों सुनाने लगे –

    वीरेश, जंतुओं और पक्षियों से अनेक करतबें करवाता था और उस आमदनी से अपना पेट भरता था ।  एक दिन जब वह जंगल से गुजर रहा था, तब उसने एक हाथी के बच्चे को गढढे में गिरा हुआ देखा ।  उसने उसे ऊपर उठाया और अपने साथ शहर ले गया ।  उसने एक रस्सी से खंभे के साथ उसे बाँध दिया और चारा खिलाने लगा ।

    हाथी के बच्चे को अपने माता-पिता की याद आयी ।  जंगल में चले जाने की उसकी इच्छा हुई ।  उसने रस्सी को तोड़ने की भरसक कोशिश की ।  पर, वह सफल हो नहीं पाया ।  वह कुछ दिनों तक इसी कोशिश में लगा रहा ।  पर, कोई फायदा नहीं हुआ ।  बेचारा वह कोशिश करते करते थक गया ।  उसने समझ लिया कि रस्सी को तोड़ना उसके बस की बात नहीं है, इसलिये उसने माता-पिता को देखने की आशा छोड़ दी और वीरेश के कहे अनुसार चलने लगा ।  वीरेश उस हाथी के बच्चे से तरह तरह के ककरतबों का प्रदर्शन कराने लगा ।  यों कुछ साल बीत गये ।  अब हाथी जवान हो गया और बड़ा बलशाली दीखने लगा ।

    इस बीच, वीरेश जंगल से एक रीछ को पकड़ ले आया ।  मजबूर रस्सी से उसने उसे एक खंभे से बाँध दिया ।  उसने अपने को छुड़ाने की भरसक कोशिश की ।  परन्तु वह भी असफल हुआ ।  वीरेश ने उसे कितने ही करतब सिखलाये ।  जब कभी वह उसके कहे मुताबिक नहीं करता तब वह उसे चाबुक से मारता था ।  अगर वह उसका कहा मान लेगा तो उसे खूब खिलाता भी था ।

    एक दिन वीरेश ने उस रीछ को चाबुक से खूब पीटा ।  वह रात भर दर्द के मारे कराहता रहा ।  उसकी दुस्थिति देखकर हाथी को दया आयी ।  उसने पूछा, दोस्त, क्यों बेकार मार खाते हो ।  मालिक जो कहता है, चुपचाप करते जाओ ।  तुम उसकी बात मान जाओगे तो भरपेट खाना भी मिलेगा ।  आराम से जिन्दगी काट सकोगे ।

    गजराज, तुम भी मालिक का समर्थन करने लगे ।  खाने को जो वह देता है, उससे मेरा पेट नहीं भरता ।  जंगल में आराम से रह रहा था, बड़े आनन्द से घूम-फिर रहा था, वह मुझे बंदी बनाकर यहाँ जबरदस्ती ले आया ।  कमाने के लिये मुझ वह तरह-तरह से सता रहा है ।  जब तक मुझे उससे छुटकार नहीं मिलता, तब तक मैं सुखी नहीं रह पाऊँगा ।  रीछ ने दीन और आक्रोश भरे स्वर में कहा ।

    यह तुमसे नहीं हो पायेगा ।  मैंने भी कभी तुम्हारी तह कोशिश की ।  पूरा बल लगाने के बाद भी मैं यह रस्सी नहीं तोड़ पाया ।  हाथी ने अपनी लाचारी व्यक्त करते हुए कहा ।

    उसकी बातों पर रीछ जोर-जोर से हँसने लगा ।  क्यों हँसते हो । मेरी कहानी तुम्हे क्या मजाक लगती है ।  हाथी ने नाराज होते हुए कहा ।

    गजराज, तुम अपने बल से अपरिचित हो ।  तुम चाहो तो इस रस्सी को आसानी से तोड़ सकते हो, खंभे को उजाड़ सकते हो, खेमे को उड़ा सकते हो ।  ये सब तुम्हारे बल के सामने तिनके के बराबर हे, रीछ ने कहा ।

    मैं तुमसे बता चुका हूँ कि मेरे सारे प्रयत्न बेकार हो गये है ।  हाथी ने कहा ।

    तुमने कोशिश कब की थी ।  जब तुम बच्चे थे ।  तब तुममे बल नहीं था ।  अब पहाड़ो को भी चूर्ण कर सकते हो ।  एक बार कोशिश करके देखो तो सही, तो तुम्हें मालूम हो जायेगा कि तुम कितने बलशाली हो ।  रीछ ने उसे प्रोत्साहन देते हुए कहा ।

    रीछ की बातों से हाथी में उत्साह भर आया ।  उसने रस्सी तोड़ डाली ।  साथ ही रीछ की रस्सी भी तोड़े दी ।  दोनों जंगल की ओर भागे ।  जंगल में प्रवेश करने के बाद हाथी ने कहा, दोस्त मैं बहुत ही नादान था ।  तुम नहीं बताते तो अपना बल जान ही नहीं सकता था ।

    सिर्फ तुम्हारे लिये ही नहीं ।  बहुतों के लिये यह बात सच है कि डर के मारे कोशिश ही नहीं करते ।  जो कोशिश नहीं करते, भला उन्हें विजय कैसे प्राप्त होगी ।  रीछ ने कहा ।

    इसके बाद दोनों अपने-अपने लोगों से मिले और स्वतन्त्रतापूर्वक जिन्दगी काटने लगे ।

    कृष्ण चैतन्य ने कहानी सुनाने के बाद कहा, तुम लोगों को भी अपनी शक्ति-सामर्थ्य को भुलाना नहीं चाहिये ।  निरंतर प्रयत्न करते रहना चाहिये ।  इससे तुम लोग सुखी जीवन बिता सकोगे और दूसरों को भी सुखी रख पाओगे,  कहते हुए उन्होंने शिष्यों को आर्शीवाद दिया ।

    पाँचों ने भक्तिपूर्वक उन्हें प्रणाम किया और वे वहाँ से स्वस्थल के लिये निकल पड़े । 
    सबका मालिक एक - Sabka Malik Ek

    Sai Baba | प्यारे से सांई बाबा कि सुन्दर सी वेबसाईट : http://www.shirdi-sai-baba.com
    Spiritual India | आध्य़ात्मिक भारत : http://www.spiritualindia.org
    Send Sai Baba eCard and Photos: http://gallery.spiritualindia.org
    Listen Sai Baba Bhajan: http://gallery.spiritualindia.org/audio/
    Spirituality: http://www.spiritualindia.org/wiki

    Offline JR

    • Member
    • Posts: 4611
    • Blessings 35
    • सांई की मीरा
      • Sai Baba
    Re: Padhi Likhi Lakdi
    « Reply #1 on: April 03, 2007, 09:28:59 AM »
  • Publish
  • पढ़ी-लिखी लड़की

    -सनातन कुमार वाजपेयी 'सनातन'

    सोमेश की मंझली पुत्री अलका प्रथम श्रेणी से एम.एससी. उत्तीर्ण थी। जिस पर उसे बड़ा गर्व था। गेहुँआ रंग, नाटा कद, नाक नक्शा सामान्य, घर गृहस्थी के कामों में उदासीन, भारतीय संस्कृति और परंपराओं के प्रति नफरत का भाव। उच्च पद पर पदस्थ होने का स्वप्न था। किंतु समय की मार। सो कहीं शिक्षक बन गई।

    सोमेश को वह रूढ़िवादी मानती और अपमानित करती असंस्कारित और सामान्य-सी शिक्षित माँ को वह देवी का स्वरूप मानकर उन्हीं का अनुसरण करती। उसके व्यवहारों से सोमेश मन ही मन उद्विग्न और मौन रहते।

    सोमेश ने अनेक शिक्षित और संभ्रांत परिवार में उसके अनुरूप वर हेतु रिश्ते की चर्चा चलाई। उसकी माँ की दृष्टि में मिडिल या मैट्रिक पास लड़के यदि शासकीय सेवा में थे तो अधिक श्रेष्ठ थे। सो माँ और बेटी दोनों सोमेश द्वारा चलाई गई बात को नकार देती।

    माँ ने ऐसे अनेक लड़कों के घरों में चर्चा चलाई किंतु कही भी बात न बन सकी। ले-देकर एक मैट्रिक पास लड़के के माता-पिता तैयार हुए। उन्होंने लड़की देखकर निर्णय लेने हेतु अपने उसी पुत्र को भेजा। लड़का स्वस्थ और ऊँची कद-काठी का था।

    लड़के ने परिचय के दौरान अलका से उसकी शिक्षा के संबंध में प्रश्न किया। अलका ने ऐंठकर कहा, 'मैं प्रथम श्रेणी में एम.एससी. उत्तीर्ण हूँ। क्या आप एम.एससी. का अर्थ जानते है।'

    लड़के ने विनम्रता से उत्तर दिया 'जी भूल हो गई। क्षमा करें। असल में पिताजी ने आपसे परिचय प्राप्त कर रिश्ते का निर्णय करने के लिए भेजा था। एम.एससी. का अर्थ बताने के लिए नहीं। आप तो काफी पढ़ी-लिखी और शासकीय सेवा में भी है। मेरी इच्छा तो यहाँ ही संबंध करने की थी किंतु ईश्वर ने हमारी और आपकी शारीरिक अनुकूलता नहीं बनाई। इसके लिए मैं प्रार्थना करूँगा कि अगले जन्म में वह मुझे आपके अनुकूल बना दें। तब तक आप प्रतीक्षा करें।' ऐसा कहकर वह चला गया।

    अब अलका चालीस की आयु को पार कर चुकी है और अपने होने वाले जीवनसाथी के अगले जन्म की प्रतीक्षा करती रहती है।
     
    सबका मालिक एक - Sabka Malik Ek

    Sai Baba | प्यारे से सांई बाबा कि सुन्दर सी वेबसाईट : http://www.shirdi-sai-baba.com
    Spiritual India | आध्य़ात्मिक भारत : http://www.spiritualindia.org
    Send Sai Baba eCard and Photos: http://gallery.spiritualindia.org
    Listen Sai Baba Bhajan: http://gallery.spiritualindia.org/audio/
    Spirituality: http://www.spiritualindia.org/wiki

     


    Facebook Comments