Join Sai Baba Announcement List

DOWNLOAD SAMARPAN - APRIL 2016




Author Topic: Meena kii Gudiya  (Read 3242 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline JR

  • Member
  • Posts: 4611
  • Blessings 35
  • सांई की मीरा
    • Sai Baba
Meena kii Gudiya
« on: April 06, 2007, 03:49:44 AM »
  • Publish
  • मीना की गुडिया

    मीना चित्रपुर में रहती थी ।  वह चतुर, अच्छे स्वभाव की और एक मधुर लडकी थी ।  उसे उसके माता-पिता बहुत प्यार करते थे ।  आज वह बहुत उत्तेजित थी, क्योंकि उसका भाई उसके जन्मदिन पर उसके साथ रहने के लिये अमेरिका से आ रहा था ।  वह उसके लिये एक सुन्दर अमरीकी गुड़िया लेकर आ रहा था ।

    मीना अपने भाई को लाने के लिये अपने माता-पिता के साथ हवाई अड्डे पर गई ।  विमान दो घन्टे लेट था ।

    मीना का भाई जब इन सबसे मिला तो वह खुशी से उछलने लगी ।  घर लौटते समय मार्ग में उसके भाई ने अपने काँलेज तता अमरीकी विश्वविघालय में जीवन के बारे में बताया ।  मीना ने पहले ही इंजीनियर बनने का तथा ऊँची पढ़ाई के लिये विदेश जाने का संकल्प कर लिया था ।

    जब वह सो गई तब अपने भावी काँलेज के बारे में सपना देख रही थी ।  वह एक मेघावी छात्रा थी और हमेशा अच्छे अंक लाती थी ।

    अगले दिन उसका जन्म दिन था ।  उसे अनेक सुन्दर उपहार मिले, किन्तु सर्वश्रेष्ठ भेंट थी सुन्दर अमरीकी गुड़िया जो उसके भाई ने दी थी ।  उस मनोहर गुड़िया के बाल सुनहरे थे और परिधान हरा ।  जब मीना उसे ऊपर-नीचे करती तो गुड़िया अपनी आँखें बन्द कर लेती और खोल देती ।  यह एक अनोखी, सबसे अलग और अन्य गुड़ियों से कहीं श्रेष्ठ थी ।  यह स्वाभाविक था कि मीना उस गुड़िया को अपनी सहेलियों को भी दिखाना चाहती थी ।

    इसलिये उसने गुड़िया को अपने स्कूल बैग में डाल लिया ।  कक्षा में अध्यापिका क्या पढ़ा रही है, उस पर वह ध्यान केन्द्रित नहीं कर सकी ।  उसका मन पूरी तरह गुड़िया पर था जो उसके बैग में सो रही थी ।  इतिहास की अध्यापिका ने देखा कि मीना का ध्यान कक्षा में नहीं है और वह दिवा-स्वप्न देख रही है ।  इसलिये उसने उसे डाँटा ।  मीना घबरा गई और धीरे से उसने गुड़िया को स्पर्श किया ।  उसे महसूस हुआ कि उसने कोई बटन दबा दिया है ।

    तभी घन्टी बज गई ।  अगला पिरियड मराठी का था ।  अध्यापिका ने कक्षा में प्रवेश किया ।  वह भूकम्प की कटिंग्स तथा पिक्चर्स लायी थी ।  वह बच्चों को भूकम्प के बारे में पढ़ाने लगी ।

    लेकिन मीना सिर्फ अपनी गुड़िया के बारे में सोच रही थी ।  और बीच-बीच में छिपकर उसे देख रही थी ।  उसकी अध्यापिका को यह देखकर आर्श्चय हुआ कि चुलबुली, उत्सुक और उत्साही मीना आज इतनी शान्त क्यों है ।  उसने एक भी प्रश्न नहीं किया ।

     तीसरा पीरियड आरम्भ होने से थोड़ा पहले दीवार धीरे-धीरे काँपने लगी ।  पहले किसी ने ध्यान नहीं दिया, तब पूरी बिल्डिंग में बहुत तेजी से कम्पन हुआ और दीवार गिर गी ।  बच्चे बाहर नहीं जा सके ।


    मीना बहुत भयभीत थी ।  उसने अपनी गुड़िया को बहुत पास कर लिया और गुड़िया ऊँची आवाज में बोलने लगी, यदि भूकम्प आ जाये तब पहले बाहर जाने की कोशिश करो ।  यदि वह सम्भव न हो तब मेज, डेस्क या चारपाई के नीचे घुस जाओ और हातों को गर्दन पर रख लो ।  मीना ने तुरन्त समझ लिया कि अध्यापिका के शब्द गुड़िया में रिकार्ड हो गये है ।  इसलिये अपनी मशीन में किये गये रिकार्ड को गुड़िया ने दुहरा दिया ।  मीना ने बटन को फिर दबाया और गुड़िया चिल्ला पड़ी, भूकम्प, भूकम्प ।

    गुडिया की ऊँची आवाज लोगों और बचाव-कर्मियों तक पहुँच गई ।  उन्हें पता चल गया कि बच्चे मलवे के नीचे फँस गये है ।  वे सहायता के लिये पहुँच गये ।  और मीना की कक्षा के सभी बच्चों को बचा लिया गया ।

    मीना की सहपाठियों ने उसे उनकी जानें बचाने कि लिये धन्यवाद दिया ।  किन्तु मीना ने कहा कि यह श्रेय उसकी गुड़िया को मिलना चाहिये ।  उसके भाई ने उसे बधाई दी और कहा, यदि तुमने गुड़िया को भूकम्प-भूकम्प दुहराने के लिये नहीं कहा होता तो तुम सब को खोज पाना सम्भव नहीं होता ।

    मीना बहुत प्रसन्न थी ।  उसने अपने भाई को गुड़िया के लिये एक बार फिर धन्यवाद दिया, जिसने उनकी सारी सहेलियों की रक्षा की ।  उसके भाई ने उसे कहा कि यदि वह ध्यान से अध्ययन करेगी तो उसके अगले जन्मदिन पर वह उसे एक कम्प्यूटर का उपहार देगा ।  यह सुनकर मीना खुशी से नाचने लगी ।
    [/color]
    सबका मालिक एक - Sabka Malik Ek

    Sai Baba | प्यारे से सांई बाबा कि सुन्दर सी वेबसाईट : http://www.shirdi-sai-baba.com
    Spiritual India | आध्य़ात्मिक भारत : http://www.spiritualindia.org
    Send Sai Baba eCard and Photos: http://gallery.spiritualindia.org
    Listen Sai Baba Bhajan: http://gallery.spiritualindia.org/audio/
    Spirituality: http://www.spiritualindia.org/wiki

     


    Facebook Comments