Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: POEMS  (Read 62988 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline tana

  • Member
  • Posts: 7074
  • Blessings 139
  • ~सांई~~ੴ~~सांई~
    • Sai Baba
Re: POEMS
« Reply #75 on: January 25, 2008, 07:56:58 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    चांद का कुर्ता ~~~
    रामधारी सिंह "दिनकर"
       
                 
    हठ कर बैठा चांद एक दिन, माता से यह बोला
    सिलवा दो मा मुझे ऊन का मोटा एक झिंगोला
    सन सन चलती हवा रात भर जाड़े से मरता हूँ
    ठिठुर ठिठुर कर किसी तरह यात्रा पूरी करता हूँ
    आसमान का सफर और यह मौसम है जाड़े का
    न हो अगर तो ला दो कुर्ता ही को भाड़े का
    बच्चे की सुन बात, कहा माता ने 'अरे सलोने`
    कुशल करे भगवान, लगे मत तुझको जादू टोने
    जाड़े की तो बात ठीक है, पर मैं तो डरती हूँ
    एक नाप में कभी नहीं तुझको देखा करती हूँ
    कभी एक अंगुल भर चौड़ा, कभी एक फुट मोटा
    बड़ा किसी दिन हो जाता है, और किसी दिन छोटा
    घटता-बढ़ता रोज, किसी दिन ऐसा भी करता है
    नहीं किसी की भी आँखों को दिखलाई पड़ता है
    अब तू ही ये बता, नाप तेरी किस रोज लिवायें
    सी दे एक झिंगोला जो हर रोज बदन में आये~~~

    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: POEMS
    « Reply #76 on: January 28, 2008, 05:16:07 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    साल शुरू हो, साल खत्म हो !
    भवानीप्रसाद मिश्र


    साल शुरू हो दूध दही से
    साल खत्म हो शक्कर घी से
    पिपरमैंट, बिस्कुट मिसरी से
    रहें लबालव दोनों खीसे
    मस्त रहें सड़कों पर खेलें
    ऊधम करें मचाएँ हल्ला
    रहें सुखी भीतर से जी से।
    सांझ, रात, दोपहर, सवेरा
    सबमें हो मस्ती का डेरा
    कातें सूत बनाएँ कपड़े
    दुनिया में क्यों डरें किसी से
    पंछी गीत सुनाये हमको
    बादल बिजली भाये हमको
    करें दोस्ती पेड़ फूल से
    लहर लहर से नदी नदी से
    आगे पीछे ऊपर नीचे
    रहें हंसी की रेखा खींचे
    पास पड़ौस गाँव घर बस्ती
    प्यार ढेर भर करें सभी से~~~

    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline Sai ka Tej

    • Member
    • Posts: 244
    • Blessings 66
    • ஜ♥ஜஜ♥♥♥♥Sai Ram♥♥♥♥ஜஜ♥ஜ
    Re: POEMS
    « Reply #77 on: February 05, 2008, 07:24:32 AM »
  • Publish
  • JAI SAI RAM  :-* :-* :-*


    Teacher,Teacher,you tell us nice things,  :D
    Teacher,Teacher,you tell us stories of kings,  :D
    Teacher,Teacher,you are the light of success,  :D
    Teacher,Teacher,you don't like a mess,  :D
    Teacher,Teacher,you are briht,  :D
    Teacher,Teacher,you never cried,  :D
    Teacher,Teacher,you gave us a bright touch,  :D
    Teacher,Teacher,we love you so much!  :D

    SAI RAM   :-* :-*:-*
    ஜஜ♥ஜ♥♀♥♀♥ ♥♥♥♥Sai Ram♥♥♥♥  ♥♀♥♀♥ஜஜ♥ஜ

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: POEMS
    « Reply #78 on: February 22, 2008, 04:49:43 AM »
  • Publish
  • ॐ साईं राम~~~

    बच्चे कुछ बर्बाद करेंगे~~~

    बच्चे कुछ बर्बाद करेंगे,
    फिर उसको आबाद करेंगे।
    भागेंगे तितली के पीछे,
    चिङिया से संवाद करेंगे।
    उअनको पाकर चहक उठेंगे,
    जो उअनको आज़ाद करेंगे।
    पत्थर से वे टकराएंगे,
    खूलों से फरियाद करेंगे।
    सपनों में जो साथ रहेंगा,
    उनको हरदम याद करेंगे~~~


    जय साईं राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: POEMS
    « Reply #79 on: February 22, 2008, 05:45:03 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    कोई अज्ञात भय
    जो सदा रहता है घेरे चारो ओर
    उसी से बचनें की आशा में
    हम बस भागते रहते हैं।
    नही जानते कहाँ जाना है,
    कहाँ जा रहे हैं?
    इन दिशाविहीन रास्तों पर,
    जो कभी हमें कहीं पहुँचाते भी नही,
    इन पर चलते हुए ऐसा महसूस होता है-
    हम एक ही जगह खड़े-खड़े,
    कदमताल करते रह जाते हैं।
    जहाँ से चले थे
    वहीं अपनें को पाते हैं।

    लेकिन सब प्रयास करनें पर भी,
    भय नही मिटता!
    हमारे सारे प्रयास
    इसी भय से मुक्त होनें की खातिर
    हमें और भी भटकाते हैं,
    हमारा भय को और भी बढाते हैं।

    आओ! सब मिलकर
    इस अज्ञात भय में कूद जाएं।
    मिलकर एक नया
    आनंद उत्सव मनाएं।


    अपना साई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।

    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Sai ka Tej

    • Member
    • Posts: 244
    • Blessings 66
    • ஜ♥ஜஜ♥♥♥♥Sai Ram♥♥♥♥ஜஜ♥ஜ
    Re: POEMS
    « Reply #80 on: March 16, 2008, 05:27:21 AM »
  • Publish
  • JAI SAI RAM

     Be Thankful....               

    Be thankful that you don't already have everything you desire.

    If you did, what would there be to look forward to?


    Be thankful when you don't know something,

    for it gives you the opportunity to learn.


    Be thankful for the difficult times.

    During those times you grow.


    Be thankful for your limitations,

    because they give you opportunities for improvement.


    Be thankful for each new challenge,

    because it will build your strength and character.


    Be thankful for your mistakes.

    They will teach you valuable lessons.


    Be thankful when you're tired and weary,

    because it means you've made a effort.


    It's easy to be thankful for the good things.

    A life of rich fulfillment comes to those

    who are also thankful for the setbacks.

    Gratitude can turn a negative into a positive.

    Find a way to be thankful for your troubles,

    and they can become your blessings....

    SAI RAM
    ஜஜ♥ஜ♥♀♥♀♥ ♥♥♥♥Sai Ram♥♥♥♥  ♥♀♥♀♥ஜஜ♥ஜ

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: POEMS
    « Reply #81 on: March 17, 2008, 09:28:56 PM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    पढ़ाई~~~

    पढ़ाई पढ़ाई पढ़ाई।
    हाय! यह कैसी बला जो
    हमारी समझ में न आयी।
    तब हमारे माता पिता ने ही
    इसकी महत्ता बताई
    वे कहते है
    अगर तुम न करोगे पढ़ाई,
    तो तुम नहीं कर सकोगे कमाई,
    पढ़ाई ही तुम्हारा मान है,
    इसने बढ़ाई कई लोगों की शान है।
    पढ़ाई के बिना नहीं चलते कारखाने,
    इसके बिना नहीं हो सकते बङे-बङे कारनामे।
    पढ़ाई के बिना तुम्हारा जीवन है अधूरा,
    इसलिए तुम्हें उस उद्देश्य को करना है पूरा~~~

    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: POEMS
    « Reply #82 on: March 31, 2008, 09:13:18 PM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    उफ् ये पढ़ाई !!!

    उफ् ये पढ़ाई,किसने बनाई,
    कहाँ से ये जन्मी,कहाँ से आई ??
    पापा कहते पढ़ो केमेस्ट्री,
    याद करो इक्वेशन ।
    मम्मी कहती पढ़्प् हिस्ट्री,
    रटो सिविलाईज़ेशन ।
    भैया कहते पढ़ो मैथ्स,
    शीखो कैलक्युलेशन ।
    आ रहे है एग्ज़ामिनेशन,
    खत्म हो इम्तिहान का मौसम,
    और करूं सैलिब्रेशन ।

    बाबा तुम हमको शक्ति देना,
    डर को मन से तुम हर लेना,
    हमारी मेहनत सफल कर देना,
    हन को पास ज़रूर कर देना~~~


    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: POEMS
    « Reply #83 on: April 03, 2008, 12:43:45 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    दुआ~~~

    लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी~
    ज़िन्दगी शमअ की सूरत हो खुदाया मेरी~~

    दूर दुनिया का मेरे दम से अँधेरा हो जाए~
    हर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाए~~

    हो मेरे दम से युँही मेरे वतन की ज़ीनत~
    जिस तरह फूल से होती है चमन की ज़ीनत~~

    ज़िन्दगी हो मेरी परवाने की सूरत यारब~
    इल्म की शमअ से हो मुझको मोहब्बत यारब~~

    हो मेरा काम ग़रीबों की हिमायत करना~
    दर्द मंदों से ज़ईफ़ों से मोहब्बत करना~~

    मेरे अल्लाह बुराई से बचाना मुझको~
    नेक जो राह हो उस राह पे लाना मुझको~~ 

    जय सांई राम~~~
     
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline Sai ka Tej

    • Member
    • Posts: 244
    • Blessings 66
    • ஜ♥ஜஜ♥♥♥♥Sai Ram♥♥♥♥ஜஜ♥ஜ
    Re: POEMS
    « Reply #84 on: April 04, 2008, 06:50:49 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    उफ् ये पढ़ाई !!!

    उफ् ये पढ़ाई,किसने बनाई,
    कहाँ से ये जन्मी,कहाँ से आई ??
    पापा कहते पढ़ो केमेस्ट्री,
    याद करो इक्वेशन ।
    मम्मी कहती पढ़्प् हिस्ट्री,
    रटो सिविलाईज़ेशन ।
    भैया कहते पढ़ो मैथ्स,
    शीखो कैलक्युलेशन ।
    आ रहे है एग्ज़ामिनेशन,
    खत्म हो इम्तिहान का मौसम,
    और करूं सैलिब्रेशन ।

    बाबा तुम हमको शक्ति देना,
    डर को मन से तुम हर लेना,
    हमारी मेहनत सफल कर देना,
    हन को पास ज़रूर कर देना~~~


    जय सांई राम~~~


    JAI SAI RAM

    VERY GOOD MAA
     :-* :-* :-*बाबा तुम हमको शक्ति देना,
    डर को मन से तुम हर लेना,

    SAI RAM


    ஜஜ♥ஜ♥♀♥♀♥ ♥♥♥♥Sai Ram♥♥♥♥  ♥♀♥♀♥ஜஜ♥ஜ

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: POEMS
    « Reply #85 on: May 03, 2008, 01:20:13 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    क्या भूलूं, क्या याद करूं मैं?

    अगणित उन्मादों के क्षण हैं,
    अगणित अवसादों के क्षण हैं,
    रजनी की सूनी की घडियों को किन-किन से आबाद करूं मैं!
    क्या भूलूं, क्या याद करूं मैं!

    याद सुखों की आसूं लाती,
    दुख की, दिल भारी कर जाती,
    दोष किसे दूं जब अपने से, अपने दिन बर्बाद करूं मैं!
    क्या भूलूं, क्या याद करूं मैं!

    दोनो करके पछताता हूं,
    सोच नहीं, पर मैं पाता हूं,
    सुधियों के बंधन से कैसे अपने को आबाद करूं मैं!
    क्या भूलूं, क्या याद करूं मैं!

    ~~हरिवंशराय बच्चन

    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: POEMS
    « Reply #86 on: June 29, 2008, 08:08:42 AM »
  • Publish
  • Om Sai Ram~~~

    Sweet poem on BABIES~~~

    A is for angel, sent from above,
    B is for baby, smothered with love,
    C is for cute as cute can be
    D is for diapers and changing them for me
    E is for everything baby and more
    F is for father walking the floor
    G is for glad you are finally here
    H is for hiccups that are funny and dear
    I is for icky sticky messing
    J is for Jesus and His blessing
    K is for kisses and kindness and keep
    L is for Love, so wide and deep
    M is for Mommy and her loving arms
    N is for Never coming to harm
    O is for oat cereal and later Cheerios
    P is for precious little fingers and toes
    Q is for quiet, baby is sleeping
    R is for relatives, always come peeping
    S is for sleep, but not for your folks
    T is for tub and all those long soaks
    U is for unconditional as in love from your parents
    V is for very active as you will soon merit
    W is for wakeful, watchful and wise
    X is for the Xtra special light you brought to our eyes
    Y is for you - who is as bright as the sun
    Z is for zest of living that you gave us, little one.



    Jai Sai Ram~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: POEMS
    « Reply #87 on: July 27, 2008, 04:16:37 AM »
  • Publish
  • ॐ साईं राम~~~

    लहर~~~

    वे कुछ दिन कितने सुंदर थे ?
    जब सावन घन सघन बरसते
    इन आँखों की छाया भर थे~

    सुरधनु रंजित नवजलधर से-
    भरे क्षितिज व्यापी अंबर से
    मिले चूमते जब सरिता के
    हरित कूल युग मधुर अधर थे~

    प्राण पपीहे के स्वर वाली
    बरस रही थी जब हरियाली
    रस जलकन मालती मुकुल से
    जो मदमाते गंध विधुर थे~

    चित्र खींचती थी जब चपला
    नील मेघ पट पर वह विरला
    मेरी जीवन स्मृति के जिसमें
    खिल उठते वे रूप मधुर थे~
    ~~जयशंकर प्रसाद


    जय साईं राम~~~

    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: POEMS
    « Reply #88 on: July 30, 2008, 05:04:09 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    कठपुतली~~ भवानीप्रसाद मिश्र~~~
               
    कठपुतली
    गुस्से से उबली
    बोली - ये धागे
    क्यों हैं मेरे पीछे आगे ?


    तब तक दूसरी कठपुतलियां
    बोलीं कि हां हां हां
    क्यों हैं ये धागे
    हमारे पीछे-आगे ?
    हमें अपने पांवों पर छोड दो,
    इन सारे धागों को तोड दो !


    बेचारा बाज़ीगर
    हक्का-बक्का रह गया सुन कर
    फिर सोचा अगर डर गया
    तो ये भी मर गयीं मैं भी मर गया
    और उसने बिना कुछ परवाह किए
    जोर जोर धागे खींचे
    उन्हें नचाया !


    कठपुतलियों की भी समझ में आया
    कि हम तो कोरे काठ की हैं
    जब तक धागे हैं,बाजीगर है
    तब तक ठाट की हैं
    और हमें ठाट में रहना है
    याने कोरे काठ की रहना है~~


    जय सांई राम~~~

    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline Sai ka Tej

    • Member
    • Posts: 244
    • Blessings 66
    • ஜ♥ஜஜ♥♥♥♥Sai Ram♥♥♥♥ஜஜ♥ஜ
    Re: POEMS
    « Reply #89 on: August 22, 2008, 06:30:16 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    उफ् ये पढ़ाई !!!

    उफ् ये पढ़ाई,किसने बनाई,
    कहाँ से ये जन्मी,कहाँ से आई ??
    पापा कहते पढ़ो केमेस्ट्री,
    याद करो इक्वेशन ।
    मम्मी कहती पढ़्प् हिस्ट्री,
    रटो सिविलाईज़ेशन ।
    भैया कहते पढ़ो मैथ्स,
    शीखो कैलक्युलेशन ।
    आ रहे है एग्ज़ामिनेशन,
    खत्म हो इम्तिहान का मौसम,
    और करूं सैलिब्रेशन ।

    बाबा तुम हमको शक्ति देना,
    डर को मन से तुम हर लेना,
    हमारी मेहनत सफल कर देना,
    हन को पास ज़रूर कर देना~~~


    जय सांई राम~~~

    ஜஜ♥ஜ♥♀♥♀♥ ♥♥♥♥Sai Ram♥♥♥♥  ♥♀♥♀♥ஜஜ♥ஜ

     


    Facebook Comments