DwarkaMai - Sai Baba Forum

Main Section => Little Flowers of DwarkaMai => Topic started by: Kavitaparna on March 21, 2007, 11:19:33 AM

Title: SMALL STORIES
Post by: Kavitaparna on March 21, 2007, 11:19:33 AM
OM SRI SAI RAM

Dear little Darlings, Sai Ram !

I have brought  one nice story told by Ramesh Uncle.

Once, the Devas and Demons were fighting as to who is superior among them.

Then, the creator Brahma arrived there and asked them what the matter was.

Devas and Demons explained the cause of their fight. Then Brahma said he would keep a test for them and whoever wins in that would be the winner. OK!

All the Devas and Demons were seated around a huge banquet table. The finest foods were piled high on the table. “What a feast! ” all of them thought.

But, Brahma did a Magic. So they were all starving! You see, each diner (both Devas and the Demons) had been given chopsticks which were three feet long! There was no way they could carry the food to their mouths with these long chopsticks. No one could eat a bite.

Sitting so close to a banquet and yet be unable to taste even a bite.

Then, suddenly, the Devas started using their yard long chopsticks to feed each other while the Demons remained in shock watching the Devas.

Then, Demons automatically agreed that they can never be superior to the Devas.

What made the Devas superior to the Demons ?

It is their Unity and the innate helping nature that is within them made them superior to Demons. 

Moral :United we win and divided we suffer.

JAI SAI RAM
Title: SAI WITH CHILDREN:
Post by: SS91 on March 21, 2007, 11:33:50 AM


FRIEND TURNS ENEMY:


Ganga Dutt was the king of Frogs, their kingdom being the huge stone well in the forest. He had grown old with time and got all his children married off within the community.

As he grew older, his son-in-laws held a meeting and decided to overthrow him. They even challenged him to fight them one by one.

For Ganga Dutt it was a matter of honor and he took up the challenge. But he had grown weak with age and all his years of experience were useless. They beat him up until he had to leave the well-his kingdom, and run a way.

As he rested after going some distance, his body ached with pain but his mind was as sharp as ever. He remembered the lesson his father had taught him," To beat a strong enemy make friends with a strong one". So he looked around for someone who would assist him in his fight.

Suddenly he saw a huge old black snake sunning himself near his hole. He hit upon the idea of seeking his help and approached him with folded hands. "O mighty Cobra!" He pleaded, " I have come to be your friend."

 Now the cobra was also very old and experienced. He peered at the strange creature before him and decided, 'He belongs to another species and seeks friendship for selfish reasons'. Loudly he asked,  "Who are you? Why have you come to be my friend?"

The Frog said, " Dear friend, I am a frog King and I have been run out of my kingdom by my enemies as I have grown old and weak. The life of my son and wife are in danger and I seek your help."

"How can I help you Frog King?" asked the snake.

"Please come with me and eat all the frogs I point out. Thus my enemies will be finished and I can reign in peace" said Ganga Dutt.

The snake considered this offer. He had also grown old and could not catch bigger prey and it would be a comfort not be hungry for a few days.

He said, " I accept your friendship, O king! Lead the way to your kingdom."

Ganga Dutt was very happy. He romped and skipped on his way to the well. As soon as the snake reached the well, the frogs were frightened and tried to run away. But Ganga Dutt pointed out the leaders and before they could escape, the snake had gobbled them up.

Now, the snake found the frog's easy prey also liked the taste. He started catching them at random and gobbled them up.

Ganga Dutt cried in vain and tried to stop him but he was hit hard by one lash of the snake's tail and lay dead.

LESSON:

"Be careful of friendship with one of unknown character. It may end with your own doom."

 ;D ;D ;D

Title: How Lord Vithoba came to Pandharpur
Post by: SS91 on March 21, 2007, 12:22:36 PM
How Lord Vithoba came to Pandharpur
[/color]


It is said that the devotee Pundalik founded Pandharpur. His father Janudeva and mother Satyavati lived in a thick forest called Dandirvan. Pundalik was a devoted son but soon after his marriage he began to ill-treat his parents. To escape from their misery, the parents decided to go on a pilgrimage to Kashi. When Pundalik's wife learnt about this, she also decided to go. She and her husband joined the same group of pilgrims on horseback. While the son and his wife rode on horseback, the old couple walked. Every evening when the party camped for the night, the son forced his parents to groom the horses and do other jobs. The poor parents cursed the day they decided to go on a pilgrimage.

Soon the party reached the ashrama of the great sage Kukkutswami. There they decided to spend a couple of nights. They were all tired and soon fell asleep-except Pundalik who could not sleep. Just before daybreak he saw a group of beautiful, young women, dressed in dirty clothes, enter the ashrama, clean the floor, fetch water and wash the swami's clothes. Then they entered the inner room of the ashrama, and came out in beautifully clean clothes and passing near Pundalik, vanished. Next night he saw the same sight again. Pundalik threw himself at their feet and begged them to tell who they were. They said they were Ganga, Yamuna and other holy rivers of India in which the Pilgrims bathed and washed their sins. Their clothes were dirtied by the sins of the bathing pilgrims. "And because of your ill-treatment of your parents," they said, "You are the greatest sinner."

This brought about a complete change in him and he became the most devoted of sons. Now the parents' rode the horses while the son and his wife walked by their side. By their love and affection, the son and his wife urged the parents to give up the pilgrimage and return to Dandirvan. One day it so happened that Lord Krishna, the King of Dwarka, while feeling lonely, was reminded of his early days in Mathura. He particularly remembered his sports with the milkmaids, the cowherd boys, and his love, Radha. Though she was dead, he longed to see her again. By his divine powers he brought her back to life and seated her by his side. Just then his queen, Rukmini, entered the room. When Radha did not rise to pay her respect, Rukmini left Dwarka in anger and hid herself in Dandirvan forest. After some days, Lord Krishna set off in search of Rukmini. He first went to Mathura, then to Gokul. He played with cows, the milkmaids and cowherd boys. They too joined in the search. They went to Mount Govardhan also in her search. At last they reached the banks of the river Bhima in the Deccan. Krishna left his companions at Goplapura, and he himself entered Dandirvan forest alone in search of her.

 

At last he found her and managed to calm her. Krishna and Rukmini came to Pundalik's ashrama. But at that time Pundalik was busy attending to his parents. Though he knew Lord Krishna had come to see him, he refused to pay his respect to the god before his duty towards his parents was done. He, however, threw a brick outside for lord Krishna to stand upon. Impressed by Pundalik's devotion to his parents, Lord Krishna did not mind the delay. Standing on the brick he waited for Pundalik.

When Pundalik came out and begged God's pardon, Lord Krishna replied that far from being displeased, he was pleased with his love for his parents. Lord Krishna then ordered His worship on Vithoba, or God who stood upon a brick. An imposing temple was built at the place where Krishna and Pundalik had met. Inside the temple stands Krishna's image on a brick. By his side stands the image of Rukmini.

Jaisairam. ;D ;D ;D
Title: Sai With children
Post by: SS91 on March 21, 2007, 12:24:43 PM
Story of Prahalada


Hiranyakasipu was the king of Daityas. He performed tapas and got a boon from Brahma: he could not be slain by man or beast. He became arrogant with the boon. He thought he was so powerful that he could terrorize all the three worlds. He also thought that there was no need for an Almighty God to rule this universe. He hated all believers in God and treated them as his enemies. His tyranny was such that he asked his subjects to worship him as God and to give up all their current religious practices. All the temples in his kingdom were destroyed and the ancient scriptures were burnt. He decreed that religion was forbidden at home and at school.

Any citizen could utter the name of God to his or her children only on pain of execution. All officers of his kingdom were asked to propagate the message that there was no one higher than Hiranyakasipu in the entire universe. Prahlada was Hiranyakasipu's son. He got his education in a gurukulam for some years and learnt all the arts befitting a prince. Prahlada visited Hiranyakasipu together with his teacher during Prahlada's stay in the gurukulam. Hiranyakasipu asked Prahlada, "What have you learnt so far, my son?" "Dear father, let me tell you the essence of all that I have learnt so far. I adore Him who is without beginning, middle or end; He is the imperishable Lord of the Universe and the First Cause." These words pierced Hiranyakasipu's heart like arrows and provoked the king in utter rage. Hiranyakasipu's eyes became red with anger and he was trembling with emotion. He turned towards the teacher and asked him what type of teaching he had been imparting to Prahlada. "O King!," replied the teacher politely, "I did not teach Prahlada what he has just told you. I am myself surprised by Prahlada's conviction and at what he said."

Hiranyakasipu now turned towards Prahlada, "Who has taught you these vile lessons about the imperishable Lord? Your teacher denies it." "O father! The God of gods is the Supreme instructor of the entire universe. Can you not see His teaching on all material and natural objects of the world-on rocks and trees, in the sky and oceans and most importantly, in the face of man?" "Who is the God of gods you are talking about? I am the only sovereign of the three worlds!" Hiranyakasipu exclaimed. "Human beings are too frail to describe the glory of God. God is only to be meditated upon in utter devotion. All things emanate from the Supreme God and all things abide in Him." "You fool, my son! Do you want to die? How can you call someone else supreme while I am around?" "The Supreme God is the creator, protector and destroyer of everything in the universe. He is also your Lord, my father. Why do you feel offended by this truth?" "Evil spirits have entered your heart. Only a possessed person can utter such words." Hiranyakasipu tried hard to fathom the mind of his son. "Not only in my heart, God has entered into all hearts. God is all pervasive. We, you and I, live and move only because of Him." Hiranyakasipu had had enough of the wretched words, "Take this fool of Prahlada away to his teacher's house. I will speak to the teacher later."

After some months, Prahlada was beckoned into the presence of Hiranyakasipu, "Now tell me, if you have learnt any good verses." "May He grace us! May He, who moves everything May He, who is the cause of creation, animate and inanimate May He, the God of gods bless us!" Hiranyakasipu was livid with anger, "Kill this wretched boy! He deserves to die. He is a disgrace to the clan of Hiranyakasipu." "God is present in the weapons of your soldiers and also in my body, so they cannot hurt me," said Prahlada exuding confidence. Hiranyakasipu drew his sword and struck at Prahlada. Prahlada felt no pain. The king's sword did not even leave a scratch. Hiranyakasipu struck repeatedly but with no impact. Hiranyakasipu got exasperated, "Chain up Prahlada and lodge him in the dungeon." Hiranyakasipu tried all types of tortures: throwing Prahlada among poisonous snakes, trampling by furious elephants, tricks of sorcery, and scorching with flames, but to no avail. None of these tortures could hurt Prahlada a bit. In one instance, Prahlada prayed to God to show mercy on the sorcerers and brought them back to life even though they had been consumed in the flames they tried to throw at Prahlada.

As the magicians came back to life, they bowed to Prahlada and thanked him for his generosity. Hiranyakasipu was wondering how Prahlada was able to counter the magical arts of the sorcerers, "Wherefrom did you attain these magical powers?" "Father," replied Prahlada, "If we think of no evil to others, we have nothing to fear. I see the same God in all beings as in my own soul. One whose heart is filled with the Supreme Being sees the same Lord everywhere. Father, the power I possess is possessed by all whose hearts recognize the God of gods abiding in them." Hiranyakasipu was shaking with fury as he listened to the words of his son, Prahlada. He ordered his palace servants to throw the boy down from the palace tower so that his body will be smashed to pieces on the ground. The goddess earth received Prahlada gently in her lap as the guards of the palace hurled Prahlada down. Hiranyakasipu ordered that the boy be bound and thrown into the ocean. The Daityas who carried our the orders reported failure: "O King, the boy started floating in the waters. The ocean was in fury and threatened to submerge the earth with its waves." Hiranyakasipu ordered that rocks be tied on with Prahlada so that he and the rocks will sink to the bottom of the ocean.

Prahlada started praying: "Glory to thee, O Supreme Being". You as Brahma created this world; as Vishnu, You preserve this world; and as Rudra, You destroy it. Thou art everything, all things are only Your forms. Thou art everywhere, here at the bottom of the ocean as also in the sky high above. I am everlasting, imperishable and unchangeable because I am one with Thee." Thus meditating, Prahlada was lost in prayer and became one with the object of his meditations. At once, the bonds which bound him were burst asunder, the piles of rock crumbled into sand and he came up floating on the waves. As he floated on the tossing waves, Prahlada praised the Lord's glory: "Thou art perceptible and imperceptible; divisible and indivisible; definable and indefinable; mutable and immutable; Thou are both one and many. You are the First Cause of the Universe." The Supreme Being now appeared before Prahlada, "Child, your trials are over now. I am pleased with your faithful devotion to me. What boon do you demand?" Prahlada replied prayerfully, "In all my births, my faith in Thee should not decay!" "I know your devotion will be unwavering. Now choose another boon." "O Supreme Being! Pardon my father for punishing me just because I was praising Thee. Free him from ignorance and sin." "I grant the boon you desire.

Now choose another boon for yourself." "All my desires are fulfilled by the boon you granted me that my devotion in You will not decay. I need no other boon." "Those shall live in me for ever." So saying, the Supreme Being vanished from Prahlada's sight. The king Hiranyakasipu was now a changed man. He embraced Prahlada, "Are you alive, my dear child? I repent for my cruelty. I now believe in the Supreme Being." NOTES: This is the ending in story line of the Vishnu Purana. The Bhagavata Purana relates that Hiranyakasipu demanded his son Prahlada to prove that God existed everywhere and asked if He was in the pillar of the hall in the palace. Hiranyakasipu struck the pillar with his fist and God came out in the form of a man with a lion's head and tore the tyrant king into pieces. He was Narasimha who had to adopt this hybrid man-animal form because Hiranyakasipu had obtained a boon that he would be killed neither by man nor animal. The boon did not bar the king being killed by a hybrid form .

Jaisairam. ;D ;D ;D
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Kavitaparna on March 22, 2007, 01:00:19 AM
OM SRI SAI RAM

Dear Children, Sai Ram!

Now, another story told by Ramesh Uncle is here for U.

SPARROW AND THE ELEPHANT

There used to live a pair of sparrows in a forest. They had their nest on a big tree. After some days the mother sparrow laid eggs.

One day, an elephant came under the shade of that tree to take rest. The elephant playfully broke that particular branch on which the nest, the sparrows rested. The eggs fell down and smashed.

The mother sparrow wept a lot to see the eggs destroyed. Right then a woodpecker by the name of Sudansunak arrived there and said-

"It is said there is no use crying over the things which have been destroyed, a person who has died and the time which has passed".

The mother sparrow said-

"But my sorrow will remain as long as the wicked elephant is alive. If you can help me in killing that mean elephant only then my sorrows will be eliminated".

The woodpecker agreed to help the sparrows. He than went to call his friend Vinarwa, the fly. He narrated the whole story to her. The fly readily agreed to help the sparrows. Then she along with the woodpecker went to Meghanand- the frog, which was the friend of that fly.

When the frog heard the whole story he became very angry with that wicked elephant. He said -

"What is this mean elephant before our collective strength".

Then the frog devised a plan according to which, the fly was to make a buzzing sound in the ears of the elephant, which would close his eyes in joy anticipating more. Right then the woodpecker would blind him by his pointed beak. In the afternoon the blind elephant would be thirsty. Then the elephant would search for the water. Meghanand would then croak near a ravine. The elephant would follow his voice and come towards the ravine and fall into it and die.

The plan worked successfully and the elephant died after falling into the ravine.

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Kavitaparna on March 22, 2007, 01:05:55 AM
OM SRI SAI RAM

Things Aren't Always As They Seem

Dear kids, Sai Ram!

Two traveling angels stopped to spend the night in the home of a wealthy family.  But, the family was rude and refused to let the angels stay in the mansion's guest room and were given a small space in the cold basement.  

As they made their bed on the hard floor, the older angel saw a hole in the wall and repaired it.

When the younger angel asked why, the older angel replied, "Things aren't always what they seem."  

The next night the pair came to rest at the house of a very poor, but very hospitable farmer and his wife. After sharing what little food they had the couple let the angels sleep in their bed where they could have a good night's rest.  

When the sun came up the next morning the angels found the farmer and his wife in tears. Their only cow, whose milk had been their sole income, lay dead in the field.

The younger angel was infuriated and asked the older angel how could you have let this happen? The first man had everything, yet you helped him, she accused. The second family had little but was willing to share everything, and you let the cow die.  

"Things aren't always what they seem," the older angel replied.

"When we stayed in the basement of the mansion, I noticed there was gold stored in that hole in the wall. Since the owner was so obsessed with greed and unwilling to share his good fortune, I sealed the wall so he wouldn't find it."

"Then last night as we slept in the farmers bed, the angel of death came for his wife. I gave him the cow instead. Things aren't always what they seem."
 

Sometimes that is exactly what happens when things don't turn out the way they should. If you have faith, you just need to trust that every outcome is always to your advantage. You might not know it until some time later...

JAI SAI RAM
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on March 22, 2007, 02:01:49 AM
OM SAI RAM !!!

               
               MICKEY MOUSE


Mickey Mouse - the one mouse anyone would love to have scurrying about their house, is undoubtedly the most popular cartoon character to date. Did you know that the creation of Mickey Mouse is what made Walt Disney so successful?

When Walt was 26 years old, he was returning home by train with his wife. Walt was a sad man, because his cartoons were not selling, and he was not making any money. He was returning to his little studio, and wanted to come back with something for his staff. As he was wondering what to draw, he came upon the idea of a mouse. Even though most people were scared of mice, they still look so vulnerable and sympathetic, that it's easy to grow fond of them. So Mr. and Mrs. Disney started picturing what their mouse would look  like: Big ears, red velvet pants - and a smart little fellow. And what should they name him? "Mortimer!" declared Walt. But just when the train pulled into the station, Mrs. Disney pulled her husband's sleeve and said, "Mortimer? No. I'd say Mickey. Mickey Mouse." 
 
At first Walt had a tough time convincing selling his cartoon. He went from studio to studio, director to director, but all his scripts were rejected. Then finally, one manager at a small theatre, took a liking to Walt and his determination, and agreed to screen the film. The cartoon did phenomenally well. It smashed all records and created a sensation in the filming world. Disney was suddenly much in demand, and everyone wanted more of Mickey. So Mickey's friends were born: Minne Mouse, Donald Duck, Goofy, Pluto. And the rest, as they say, is history.   

And so kids, remember the words of Walt Disney himself if you ever visit one of the fantastic Disneyworld parks. "All this was started by a mouse."


JAI SAI RAM!!!
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 22, 2007, 07:48:42 AM
जय सांई राम।।।

तेजल मै तुम्हे तेजल दीदी बोलूं तो तुम्हे कैसा लगेगा? अच्छा चलो तुम शायद नही जानती कि मुझे छोटे बच्चों से बहुत प्यार है। पता है क्यों?  क्योंकि मेरे बाबा सांई को बच्चे बहुत पसंद है, और जो मेरे बाबा को पसन्द होता है उसको मैं भी पसन्द करता हूँ।  और एक बात मेरे बाबा बच्चों की बात को कभी नही टालते।  और खास करके उन बच्चों की जो अपने मम्मी पापा का और अपने बड़ो का सम्मान करते है।

चलो एक छोटी सी मधुर कहानी तुम्हे सुनाता हूँ।
 
रामदास रामायण लिखते जाते और शिष्यों को सुनाते जाते थे। हनुमान जी भी उसे गुप्त रुप से सुनने के लिये आकर बैठते थे। समर्थरामदास ने लिखा, “हनुमान अशोक वन में गये, वहाँ उन्होंनें सफेद फूल देखे।”

यह सुनते ही हनुमान जी झट से प्रकट हो गये और बोले, “मैंने सफेद फूल नहीं देखे थे| तुमने गलत लिखा है, उसे सुधार दो।”

समर्थ ने कहा, “मैंने ठीक ही लिखा है| तुमने सफेद फूल ही देखे थे।”

हनुमान ने कहा, “कैसी बात करते हो! मैं स्वयं वहाँ गया और मैं ही झूठा!”

अन्त में झगडा श्री रामचंद्र्जी के पास पहुँचा| उन्होंने कहा की, “फूल तो सफेद ही थे, परन्तु हनुमान की आँखें क्रोध से लाल हो रही थीं, इसलिए वे उन्हें लाल दिखाई दिये।”

इस मधुर कथा का आशय यही है कि संसार की ओर देखने की जैसी हमारी द्रष्टी होगी, संसार हमें वैसा ही दिखाई देगा।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on March 22, 2007, 07:23:13 PM
OM SAI RAM !!!


                            THE TWO LIZARDS


Once Sai Baba was sitting in the masjid. A devotee sat in front of him, when a lizard tick-ticked. Out of curiosity the devotee asked Baba, whether this tick-ticking of the lizard signified anything good or was it a bad omen? Baba said that the lizard was overjoyed as her sister from Aurangabad was coming to see her. The devotee sat silent not making out the meaning of Baba's  words.

Immediately a gentleman from Aurangabad came on horse-back to see Baba. He wanted to proceed further, but his horse would not go as it was hungry and wanted grams. He took out a bag of grams from his shoulders to bring grams and dashed it on the ground to remove dirt. A lizard came out there from and in the presence of all, climbed  up the wall. Baba asked the questioner devotee to mark her well. She at once, went strutting to her sister. Both sisters met each other after a long time, whirled round and danced with love!

Where is shirdi and where is Aurangabad for the lizard? How should the man on horse back come there from Aurangabad with the lizard? And how should Baba make Prophecy of the meeting of the two sisters? All this is really very wonderful and proves the omniscience - the all-knowing nature of Baba.



JAI SAI RAM !!!
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 22, 2007, 10:51:18 PM
जय सांई राम।।।

एक जमींदार के लिए उसके कुछ किसान एक भुना हुआ मुर्गा और एक बोतल फल का रस ले आए. जमींदार ने अपने नौकर को बुलाकर चीजें उनके घर ले जाने को कहा. नौकर एक चालाक, शरीर लड़का था. यह जानते हुए जमींदार ने उससे कहा, "देखो, उस कपड़े में जिंदा चिड़िया है और बोतल में जहर है. खबरदार, जो रास्ते में उस कपड़े को हटाया, क्योंकि अगर उसने ऐसा किया तो चिड़िया उड़ जाएगी. और बोतल सूंघ भी ली तो तुम मर जाओगे. समझे?"

नौकर भी अपने मालिक को खूब पहचानता था. उसने एक आरामदेह कोना ढूंढा और बैठकर भुना मुर्गा खा गया. उसने बोतल में जो रस था वह भी सारा पी डाला. एक बूंद भी नहीं छोड़ा.

उधर जमींदार भोजन के समय घर पहुँचा और पत्नी से भोजन परोसने को कहा. उसकी पत्नी ने कहा, "जरा देर ठहरो. खाना अभी तैयार नहीं है." जमींदार ने कहा, "मैंने जो मुर्गा और रस की बोतल नौकर के हाथ वही दे दो. वही काफी है."

उसके गुस्से की सीमा न रही जब उसकी पत्नी ने बताया कि नौकर तो सुबह का गया अभी तक लौटा ही नहीं.

बिना कुछ बोले गुस्से से भरा जमींदार अपने काम की जगह वापस गया तो देखा नौकर तान कर सो रहा है. उसने उसे लात मारकर जगाया और किसान द्वारा लाई गई भेंट के बारे में पूछा.

लड़के ने कहा, "मालिक, मैं घर जा रहा था तो इतने जोर की हवा चली कि मुर्गे के ऊपर ढका कपड़ा उड़ गया और जैसा आपने कहा था, वह भी उड़ गया. मुझको बहुत डर लगा कि आप सज़ा देंगें और मैंने बचने के लिए बोतल में जो जहर था वह पी लिया. और अब यहाँ लेटा-लेटा मौत के आने का इंतजार कर रहा था."

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 23, 2007, 09:22:00 AM
जय सांई राम।।।

एक राजा थे। वह बड़े ही उदार थे। दानी तो इतने कि खाने-पीने की जो भी चीज होती, अक्सर भूखों को बांट देते और स्वयं पानी पीकर रह जाते।

एक बार ऐसा संयोग हुआ कि उन्हें कई दिनों तक भोजन न मिला। उसके बाद मिला तो थाल भरकर मिला। उसमें से भूखों को बांटकर जो बचा, उसे खाने बैठे कि एक ब्राह्मण आ गया। वह बोला, “महाराज! मुझे कुछ दीजिये।”

राजा ने थाल में से थोड़ी-थोड़ी चीजें उठाकर उसे दे दीं। फिर जैसे ही खाने को हुए कि एक शूद्र आ गया। राजा ने खुशी-खुशी उसे भी कुछ दे दिया। उसके जाते ही एक चाण्डाल आ गया। राजा ने बचा-बचाया सब उसे दे दिया। मन-ही-मन सोचा, कितना अच्छा हुआ, जो इतनों का काम चला! मेरा क्या है, पानी पीकर मजे में अपनी गुजर कर लूंगा।

इतना कहकर वह जैसे ही पानी पीने लगे कि हांफता हुआ एक कुत्ता वहॉँ आ गया। गर्मी से वह बेहाल हो रहा था। राजा ने झट पानी का बर्तन उठाकर उसके सामने रख दिया। कुत्ता सारा पानी पी गया।

राजा को न खाना मिला, न पानी, पर उसे जो मिला उसका मूल्य कौन आंक सकता है!

अपना सांई सबका सांई सबसे प्यारा अपना सांई.....न्यारा सांई।


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on March 24, 2007, 12:17:31 AM
OM SAI RAM !!!

                                 TURNING WATER INTO OIL

Every night, Sai Baba used to light earthen lamps in the Dwarkamai. For this, he asked the grocers to give him oil. In the beginning, people looked upon Baba as a mad fakir and so the grocers gave him oil just for the fun of it. But soon they got fed up with this daily practice and one day they all refused to give him oil. With the empty oil-tin dangling from his hand, Baba came back to Dwarkamai.

He put a little water in the oil tin and drank it, as if to please the God within. Then he took more water, poured it in the lamps and kindled them one by one

The ‘water-lamps’ burnt throughout the night. Those who had come to scoff remained to praise.
This incident established the supernatural powers of Baba beyond a shred of doubt.
 
JAI SAI RAM !!!
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 24, 2007, 06:20:18 AM
जय सांई राम।।।

स्वास्थ्य का रहस्य    

महाराज शीलभद तीर्थयात्रा पर निकले थे। दिन में उनका काफिला चलता रहता और किसी मंदिर के पास आने पर राजा उसमें पूजा-अर्चना करते, फिर रात्रि में विश्राम करते। एक बार रात में वह एक आश्रम के निकट रुके। वहां उनकी तबीयत बिगड़ गई। तत्काल वैद्य बुलाए गए। कुशल वैद्यों ने उन्हें अपने उपचार से स्वस्थ कर दिया। राजा ने आश्रमवासियों के अलग-थलग जीवन को देखकर एक वैद्य स्थायी रूप से उनकी चिकित्सा के लिए रख दिया।

वैद्य को वहां रहते हुए काफी समय बीत गया, किंतु कोई मरीज उनके पास नहीं आया। वैद्यराज ने एक दिन उकताकर आश्रम के आचार्य से इसका कारण पूछा। आचार्य ने कहा, 'वैद्यराज, भविष्य में भी शायद ही कोई आपके पास चिकित्सा के लिए आएगा। प्रत्येक आश्रमवासी को सुबह से शाम तक श्रम करना पड़ता है। सब अल्पभोजी हैं। इस प्राकृतिक और स्वच्छ वातावरण में सभी को पवित्र वायु और प्रकाश मिलता है। यहां जीवन का प्रकाश चारों तरफ है। इसलिए कोई भी यहां बीमार नहीं पड़ता। प्राकृतिक जीवन और श्रम ही स्वास्थ्य की रक्षा का मूलाधार है।'

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 24, 2007, 09:52:28 PM
जय सांई राम।।।

पिता का आशीर्वाद  

एक बार एक युवक अपनी कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने वाला था।  उसकी बहुत दिनों से एक शोरूम में रखी स्पोर्टस कार लेने की इच्छा थी।  उसने अपने पिता से कॉलेज की पढ़ाई पूरी होने पर उपहार स्वरूप वह कार लेने की बात कही क्योंकि वह जानता था कि उसके पिता उसकी इच्छा पूरी करने में समर्थ हैं।  कॉलेज के आखिरी दिन उसके पिता ने उसे अपने कमरे में बुलाया और कहा कि वे उसे बहुत प्यार करते हैं तथा उन्हें उस पर गर्व है।  फिर उन्होंने उसे एक सुंदर कागज़ में लिपटा उपहार दिया ।  उत्सुकतापूर्वक जब युवक ने उस कागज़ को खोला तो उसे उसमें एक आकर्षक लाल जिल्द वाली ‘सांई सतचरित्र'  मिली जिसपर उसका नाम भी सुनहरे अक्षरों में लिखा था।  यह देखकर वह युवक आगबबूला हो उठा और अपने पिता से बोला कि इतना पैसा होने पर भी उन्होंने उसे केवल एक ‘‘सांई सतचरित्र'  दी।  यह कहकर वह गुस्से से ‘सांई सतचरित्र'  वहीं पटककर घर छोड़कर निकल गया।

बहुत वर्ष बीत गए और वह युवक एक सफल व्यवसायी बन गया।  उसके पास बहुत धन-दौलत और भरापूरा परिवार था।  एक दिन उसने सोचा कि उसके पिता तो अब काफी वृद्ध हो गए होंगे।  उसने अपने पिता से मिलने जाने का निश्चय किया क्योंकि उस दिन के बाद से वह उनसे मिलने कभी नहीं गया था।  अभी वह अपने पिता से मिलने जाने की तैयारी कर ही रहा था कि अचानक उसे एक तार मिला जिसमें लिखा था कि उसके पिता की मृत्यु हो गई है और वे अपनी सारी संपत्ति उसके नाम कर गए हैं।  उसे तुरंत वहाँ बुलाया गया था जिससे वह सारी संपत्ति संभाल सके।

वह उदासी और पश्चाताप की भावना से भरकर अपने पिता के घर पहुँचा।  उसे अपने पिता की महत्वपूर्ण फाइलों में वह ‘सांई सतचरित्र'  भी मिली जिसे वह वर्षों पहले छोड़कर गया था।  उसने भरी आँखों से उसके पन्ने पलटने शुरू किए।  तभी उसमें से एक कार की चाबी नीचे गिरी जिसके साथ एक बिल भी था।  उस बिल पर उसी शोरूम का नाम लिखा था जिसमें उसने वह स्पोर्टस कार पसंद की थी तथा उस पर उसके घर छोड़कर जाने से पिछले दिन की तिथि भी लिखी थी।  उस बिल में लिखा था कि पूरा भुगतान कर दिया गया है। 

कई बार हम बाबा सांई की आशीषों और अपनी प्रार्थनाओं के उत्तरों को अनदेखा कर जाते हैं क्योंकि वे उस रूप में हमें प्राप्त नहीं होते जिस रूप में हम उनकी आशा करते हैं।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 25, 2007, 05:11:35 AM
जय सांई राम।।।

पैरों के निशान  

एक रात एक आदमी ने एक सपना देखा ।  उसने सपने में देखा कि वह और बाबा सांई समुद्र तट पर साथ-साथ टहल रहे हैं ।  आकाश में उसकी बीती जिंद़गी के दृश्य चलचित्र की तरह चल रहे थे ।  उसने देखा कि उसकी जिंद़गी के हर पल में रेत में दो जोड़ी पैरों के निशान थे, एक उसके पैरों के और दूसरे बाबा सांई के पैरों के ।  जब उसकी जिंद़गी का आखिरी दृश्य उसके सामने आया तो उसने पीछे मुड़कर रेत में पैरों के निशानों को देखा।  उसने पाया कि उसकी जिंद़गी के कई पलों में रेत में केवल एक जोड़ी पैरों के निशान थे।  उसने महसूस किया कि ये उसकी जिंद़गी के सबसे बुरे और दुख-भरे पल थे ।  इस बात से वह बहुत परेशान हुआ और उसने बाबा से पूछा कि “बाबा आपने तो कहा था कि जब मैंने एक बार आपका अनुसरण करने का निश्चय कर लिया तो उसके बाद आप जिंद़गी की राह पर मेरा साथ नहीं छोड़ेंगे ।  पर मैंने पाया है कि मेरी जिंद़गी के सबसे मुश्किल पलों में रेत में केवल एक जोड़ी पैरों के निशान हैं ।  मैं समझ नहीं पा रहा कि जब मुझे आपकी सबसे ज्यादा ज़रुरत थी तब आपने मुझे अकेला क्यों छोड़ दिया ?” बाबा ने उत्तर दिया कि “मेरे बच्चे, मैंने तुम्हें कभी अकेला नहीं छोड़ा ।  तुम्हारे बुरे और मुश्किल पलों में तुम केवल एक जोड़ी पैरों के निशान इसलिए देख रहे हो क्योंकि उस समय मैंने तुम्हें गोद में उठाया हुआ था

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 31, 2007, 10:52:35 PM
जय सांई राम।।।

मोह और साधना  
 
पुराने जमाने की बात है। किसी गांव में एक संत रहते थे। वह सारा समय आत्मचिंतन और प्रभु के ध्यान में लगाते थे। उनकी पत्नी भी उनसे प्रभावित थी। वह भी अध्ययन और चिंतन-मनन में लगी रहती थी। हालांकि संत के मन में कहीं न कहीं संदेह था कि उनकी पत्नी त्यागमय जीवन की उस अवस्था तक नहीं पहुंच पाई है, जहां तक वह पहुंच चुके हैं।

एक बार दोनों एक जंगल में चले जा रहे थे। चलते-चलते दोनों के बीच कुछ फासला बढ़ गया। संत थोड़ा आगे बढ़ गए, पत्नी पीछे रह गई। तभी संत ने देखा कि मार्ग पर एक कीमती चमकदार हीरा पड़ा हुआ है। उन्होंने सोचा कि अब तक उन्होंने जीवन में हीरा-मोती, सोना-चांदी को तुच्छ और प्रभु भक्ति के रास्ते से हटाने वाला ही समझा है। कहीं ऐसा न हो कि उनकी पत्नी का मन यह पत्थर देखकर डोल जाए। यह सोचकर वह उस कीमती पत्थर पर मिट्टी डालने लगे।

तब तक उनकी पत्नी भी वहां पहुंच चुकी थी। उसने संत को उस चमकते पत्थर पर मिट्टी डालते देखा तो उसे हंसी आ गई। वह बोली, 'महात्मन्, आप व्यर्थ की मेहनत कर रहे हैं। मिट्टी पर मिट्टी डालने से क्या लाभ। चलिए आगे बढ़ें।' संत ने सोचा कि धन-कांचन, लोभ-मोह पर विजय की साधना में यह उनसे भी कहीं आगे है। उनका अभिमान जाता रहा।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 01, 2007, 01:48:57 AM
जय सांई राम।।।

रस्सी  

यह कहानी एक ऐसे पर्वतारोही की है जो सबसे ऊँचे पर्वत पर विजय पाना चाहता था। कई सालों की कड़ी मेहनत के बाद उसने अपना साहसिक अभियान शुरु किया। पर वह यह उपलब्धि किसी के साथ साझा नहीं करना चाहता था, अत: उसने अकेले ही चढ़ाई करने का निश्चय किया। उसने पर्वत पर चढ़ना आरंभ किया, जल्दी ही शाम ढलने लगी। पर वह विश्राम के लिए तम्बू में ठहरने की जगह अंधेरा होने तक चढ़ाई करता रहा। घने अंधकार के कारण वह कुछ भी देख नहीं पा रहा था। हाथ को हाथ भी सुझाई नहीं दे रहा था। चंद्रमा और तारे सब बादलों की चादर से ढके हुए थे। वह निरंतर चढ़ता हुआ पर्वत की चोटी से कुछ ही फुट के फासले पर था कि तभी अचानक उसका पैर फिसला और वह तेजी से नीचे की तरफ गिरने लगा। गिरते हुए उसे अपने जीवन के सभी अच्छे और बुरे दौर चलचित्र की तरह दिखाई देने लगे। उसे अपनी मृत्यु बहुत नजदीक लग रही थी, तभी उसकी कमर से बंधी रस्सी ने झटके से उसे रोक दिया। उसका शरीर केवल उस रस्सी के सहारे हवा में झूल रहा था। उसी क्षण वह जोर से चिल्लाया:
‘बाबा सांई मेरी मदद करो!’ तभी अचानक एक गहरी आवाज आकाश में गूँजी:

- तुम मुझ से क्या चाहते हो ?

पर्वतारोही बोला - बाबा मेरी रक्षा कीजिए!

- क्या तुम्हें सच में विश्वास है कि मैं तुम्हारी रक्षा कर सकता हूँ ?

वह बोला - हाँ, बाबा मुझे आप पर पूरा विश्वास है ।

- ठीक है, अगर तुम्हें मुझ पर विश्वास है तो अपनी कमर से बंधी रस्सी काट दो.....

कुछ क्षण के लिए वहाँ एक चुप्पी सी छा गई और उस पर्वतारोही ने अपनी पूरी शक्ति से रस्सी को पकड़े रहने का निश्चय कर लिया।

अगले दिन बचाव दल को एक रस्सी के सहारे लटका हुआ एक पर्वतारोही का ठंड से जमा हुआ शव मिला । उसके हाथ रस्सी को मजबूती से थामे थे... और वह धरती से केवल दस फुट की ऊँचाई पर था।

और आप? आप अपनी रस्सी से कितने जुड़े हुए हैं । क्या आप अपनी रस्सी को छोड़ेंगे? बाबा सांई पर विश्वास रखिए। कभी भी यह नहीं सोचिए कि वह आपको भूल गया है या उसने आपका साथ छोड़ दिया है । याद रखिए कि वह हमेशा आपको अपने हाथों में थामे हुए है।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 02, 2007, 02:17:29 AM
जय सांई राम।।।

भिखारी कौन  
 
वैशेषिक दर्शन के सूत्रधार ऋषि कणाद जंगल में रहते थे। वह कंद-मूल खाते या फिर अन्नकण चुनकर लाते और उससे अपनी क्षुधा शांत करते। अन्नकणों से जीवन निर्वाह करने के कारण ही उनका नाम कणाद पड़ गया था। एक बार किसी ने राजा से कहा, 'आपके राज्य में ऐसा भी एक भिखारी है जो खेतों से अन्न बीनकर अपनी उदरपूर्ति करता है।' यह सुनकर राजा चौंका। राजा ने तत्काल मंत्री को आदेश दिया,' भोजन लेकर जाओ और भरपेट खिलाकर उसे तृप्त करो।'

मंत्री ऋषि कणाद के पास पहुंचा। उसने कणाद से भोजन करने का आग्रह किया, पर वह निष्फल गया। जब राजा को पता चला तो वह दुविधा में पड़ गया कि आखिर यह कैसा भिखारी है, जो अत्यंत आग्रह करने पर भी कुछ स्वीकार नहीं करता। रानी के कानों में भी यह बात पहुंची। किसी ने उन्हें बताया कि कणाद अलौकिक प्रभाव के सिद्ध पुरुष हैं और सोना बनाने की कला भी जानते हैं।

स्वर्ण सिद्धि के प्रसंग ने राजा को व्याकुल बना दिया। वह उनके पास पहुंचा। कणाद को प्रणाम कर राजा ने कहा, 'ऋषिवर! मैंने मंत्री को आपकी सेवा में भेजा था। आपने भोजन अस्वीकार क्यों किया? कितना अच्छा होता, आप अपने इस दास पर अनुग्रह करते।' ऋषि कणाद मुस्कराते हुए खड़े रहे। कुछ क्षणों बाद राजा ने पुन: कहा, 'ऋषिवर! मैंने सुना है आपके पास स्वर्ण विद्या है। कितना अच्छा हो उसे प्रदान कर आप मुझे अनुग्रहीत करें। स्वर्ण की तो राज्य संचालन के लिए आवश्यकता होती है। फकीरों का उससे क्या प्रयोजन।'

इस पर ऋषि कणाद बोले, 'राजन! बताओ हम दोनों में भिखारी कौन है? भीख मांगने मैं आपके पास गया या आप भीख मांगने मेरे पास आए। राजा यह सुनकर मौन हो गया। ऋषि कणाद ने फिर कहा, 'जिसके पास किसी चीज का अभाव होता है वह भिखारी नहीं होता। भिखारी वह होता है जो सब कुछ होने के बावजूद असंतुष्ट रहता है। इसलिए संतोष धारण करो। धन से आज तक किसी की तृप्ति नहीं हुई। धन सुख का नहीं, पापों और अनर्थों का मूल है।'

राजा को अपनी भूल का अहसास हुआ। उसने ऋषि से क्षमा मांगी। 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 02, 2007, 08:41:16 AM
जय सांई राम़।।।

रेत और पत्थर  

एक बार दो दोस्त रेगिस्तान में से होकर कहीं जा रहे थे । रास्ते में उनमें किसी बात पर बहस हो गई और एक दोस्त ने दूसरे दोस्त को थप्पड़ मार दिया । जिस दोस्त को थप्पड़ मारा गया था वह बहुत दुखी हुआ पर उसने बिना कुछ बोले रेत पर लिखा, “आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने मुझे थप्पड़ मारा” । थोड़ा और आगे चलने पर उन्हें एक झील दिखाई दी और उन दोनों ने पानी में नहाने का विचार बनाया । पहला दोस्त जिसे थप्पड़ लगा था, दलदल में फँस गया और डूबने लगा । तब दूसरे दोस्त ने उसकी जान बचाई । डूबने से बचने पर उसने एक पत्थर पर लिखा, “आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने मेरी जान बचाई” । इस पर दूसरे दोस्त ने पूछा कि जब मैनें तुम्हें थप्पड़ मारा तब तुमने रेत पर लिखा पर जब मैंने तुम्हारी जान बचाई तब तुमने पत्थर पर लिखा, ऐसा तुमने क्यों किया ? इस पर पहले दोस्त ने उत्तर दिया, “जब कोई तुम्हें दुख पहुँचाता है तो उसे रेत पर लिखना चाहिए जिससे क्षमा की आँधी उसे मिटा सके। पर जब कोई तुम्हारे साथ भलाई करता है तो उसे पत्थर पर लिखना चाहिए जिससे समय की हवा भी उसे मिटा न सके।”

अपने साथ किए गए बुरे बर्ताव को रेत पर और भलाई को पत्थर पर लिखना सीखिए।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 02, 2007, 09:04:03 PM
जय सांई राम।।।

गुरु की शिक्षा  

पुराने जमाने की बात है। एक राजा ने अपने राजकुमार को शिक्षा पाने के लिए गुरु के आश्रम में भेजा। राजकुमार ने आश्रम के नियम और कायदे का पालने करते हुए मेहनत से शिक्षा पूरी की। शिक्षा पूरी होने के बाद जब राजकुमार के घर जाने का समय आया, तो राजा अपने बेटे को लेने आश्रम पहुंचे। गुरु ने राजा का पूरा सम्मान किया और राजकुमार की खूब प्रशंसा की। आश्रम के सभी शिष्य उस समय वहां उपस्थित थे। राजकुमार ने गुरु के चरणों में प्रणाम करके विदा मांगी। गुरु बोले, 'बेटा, जाने से पहले मेरी छड़ी लाकर दे दो।'

राजकुमार ने गुरु की छड़ी लाकर उन्हें दी। गुरु छड़ी लेकर खड़े हुए फिर सबके सामने उन्होंने राजकुमार को दो छड़ी कस कर जमाईं। गुरु के इस व्यवहार से आश्रम के सभी शिष्य आश्चर्य में पड़ गए, क्योंकि आज तक गुरु ने किसी शिष्य को छड़ी से मारने की बात तो दूर, किसी को डांटा तक नहीं था। वह सभी शिष्यों को बेटे की तरह मानते थे। मार खाकर भी राजकुमार निविर्कार भाव से खड़ा था, जैसे कुछ हुआ ही न हो, लेकिन राजा को क्रोध आ गया। वह बोले, 'आचार्यवर, आपने मेरे बेटे को किस अपराध के लिए दंडित किया है। मुझे तो कुछ दिखाई नहीं पड़ा।'

गुरु मुस्करा कर बोले, 'राजन, आप इसे नहीं समझेंगे। राजकुमार सभी शिष्यों में सर्वोत्तम है। बहुत विनम्र है, आज्ञाकारी है, लेकिन उसकी शिक्षा का अंतिम पाठ अभी पूरा नहीं हुआ था। अब पूरा हो गया है। अब वह घर जा सकता है।'

' मैं कुछ समझा नहीं आचार्यवर।' राजा ने कहा। आचार्य बोले, 'महाराज, आप राज्य के शासक हैं। अपनी प्रजा को आप कठोर दंड देने में जरा भी संकोच नहीं करते। कल को आप का बेटा आपका उत्तराधिकारी होगा। आप की तरह इसे भी दूसरों को दंड देना पड़ेगा। उस समय इसको इतना अनुभव तो होना ही चाहिए कि किसी को दंड देते समय उसके मन की दशा क्या होती है। राजन, सफल शासक वही होता है जो दूसरों की वेदना की अनुभूति करने में सक्षम हो। मैंने राजकुमार को उसी का अनुभव कराया है।'

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 03, 2007, 08:08:21 AM
जय सांई राम।।।

ताबूत  

एक बार एक किसान बहुत बूढ़ा होने के कारण खेतों में काम नहीं कर सकता था।  वह सारा दिन खेत के किनारे पेड़ की छाँव में बैठा रहता था।  उसका बेटा खेत में काम करता रहता और रह-रह के सोचता कि  उसके पिता का जीवन व्यर्थ है क्योंकि वह अब कोई काम करने लायक नहीं रहा।  यह सोच-सोच कर उसका बेटा एक दिन इतना दुखी हो गया कि उसने लकड़ी का एक ताबूत बनाया और उसे घसीट कर पेड़ के पास ले गया।  उसने अपने पिता को उस ताबूत में लेटने के लिए कहा।  किसान एक शब्द भी बोले बिना उस ताबूत में लेट गया।  ताबूत का ढक्कन बंद करके बेटा ताबूत को घसीटता हुआ खेत के किनारे ले गया जहाँ एक गहरी खाई थी।  जैसे ही बेटा ताबूत को खाई में फैंकने लगा, ताबूत के अंदर से पिता ने उसे पुकारा।  बेटे ने ताबूत खोला तो अंदर लेटे उसके पिता ने शांत भाव से कहा कि मैं जानता हूँ कि तुम मुझे खाई में फैंकने वाले हो पर उससे पहले मैं तुम्हें कुछ कहना चाहता हूँ।  बेटे ने पूछा कि अब क्या है?  तब उसके पिता ने कहा कि तुम चाहो तो बेशक मुझे खाई में फैंक दो पर इस बढ़िया ताबूत को नहीं फैंको।  भविष्य में तुम्हारे बूढ़े होने पर तुम्हारे बच्चों को इसकी जरुरत पड़ेगी।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: OmSaiRamNowOn on April 03, 2007, 11:54:22 AM
Thank you Baba. Thank you all. I am enjoying all the topics under section for kids. Sai bless you all.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on April 04, 2007, 12:10:08 AM
om sai ram....

LITTLE GIRL...

Little girl and her father were crossing a bridge. The father was kind
of scared so he asked his little daughter, "Sweetheart, please hold my
hand so that you don't fall into the river."

The little girl said, "No, Dad. You hold my hand."

"What's the difference?" Asked the puzzled father.

"There's a big difference," replied the little girl. "If I hold your hand
and something happens to me, chances are that I may let your hand go.
But if you hold my hand, I know for sure that no matter what happens, you
will never let my hand go."

In any relationship, the essence of trust is not in its bind, but in its
bond. So hold the hand of the person whom you love rather than
expecting them to hold yours...


This post is too short..........but carries a lot of feeling ...isn't it !

jai sai ram...
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 04, 2007, 01:00:29 AM

जय सांई राम।।।

चार सवाल  
 
एक बार एक राजा ने अपने मंत्री से कहा, 'मुझे इन चार प्रश्नों के जवाब दो। जो यहां हो वहां नहीं, दूसरा- वहां हो यहां नहीं, तीसरा- जो यहां भी नहीं हो और वहां भी न हो, चौथा- जो यहां भी हो और वहां भी।'

मंत्री ने उत्तर देने के लिए दो दिन का समय मांगा। दो दिनों के बाद वह चार व्यक्तियों को लेकर राज दरबार में हाजिर हुआ और बोला, 'राजन! हमारे धर्मग्रंथों में अच्छे-बुरे कर्मों और उनके फलों के अनुसार स्वर्ग और नरक की अवधारणा प्रस्तुत की गई है। यह पहला व्यक्ति भ्रष्टाचारी है, यह गलत कार्य करके यद्यपि यहां तो सुखी और संपन्न दिखाई देता है, पर इसकी जगह वहां यानी स्वर्ग में नहीं होगी। दूसरा व्यक्ति सद्गृहस्थ है। यह यहां ईमानदारी से रहते हुए कष्ट जरूर भोग रहा है, पर इसकी जगह वहां जरूर होगी। तीसरा व्यक्ति भिखारी है, यह पराश्रित है। यह न तो यहां सुखी है और न वहां सुखी रहेगा। यह चौथा व्यक्ति एक दानवीर सेठ है, जो अपने धन का सदुपयोग करते हुए दूसरों की भलाई भी कर रहा है और सुखी संपन्न है। अपने उदार व्यवहार के कारण यह यहां भी सुखी है और अच्छे कर्म करने से इसका स्थान वहां भी सुरक्षित है।' 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on April 04, 2007, 07:08:31 AM
om sai ram...

WHITE HAIRS...

One day, a little girl was sitting and watching her mother do the dishes at the kitchen sink.

She suddenly notices that her mother has several strands of white hair sticking out in contrast on her brunette head.

She looked at her mother and inquisitively asked, "Why are some of your hairs white, Mom?"

Her mother replied, "Well, every time that you do something wrong and make me cry or unhappy, one of my hairs turns white."

The little girl thought about this revelation for a while, and then said,

"Mom, how come all of grandma's hairs are white?"

:)  :D  ;D  :)  :D  ;D



jai sai ram...
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: OmSaiRamNowOn on April 04, 2007, 07:52:39 AM
Jai Sai Ram. Very nice humorous short story dear Tana ji. keep it going. We need such smiles/laughs.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Sai ka Tej on April 04, 2007, 08:06:37 AM
जय सांई राम़।।।

रेत और पत्थर  

एक बार दो दोस्त रेगिस्तान में से होकर कहीं जा रहे थे । रास्ते में उनमें किसी बात पर बहस हो गई और एक दोस्त ने दूसरे दोस्त को थप्पड़ मार दिया । जिस दोस्त को थप्पड़ मारा गया था वह बहुत दुखी हुआ पर उसने बिना कुछ बोले रेत पर लिखा, “आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने मुझे थप्पड़ मारा” । थोड़ा और आगे चलने पर उन्हें एक झील दिखाई दी और उन दोनों ने पानी में नहाने का विचार बनाया । पहला दोस्त जिसे थप्पड़ लगा था, दलदल में फँस गया और डूबने लगा । तब दूसरे दोस्त ने उसकी जान बचाई । डूबने से बचने पर उसने एक पत्थर पर लिखा, “आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने मेरी जान बचाई” । इस पर दूसरे दोस्त ने पूछा कि जब मैनें तुम्हें थप्पड़ मारा तब तुमने रेत पर लिखा पर जब मैंने तुम्हारी जान बचाई तब तुमने पत्थर पर लिखा, ऐसा तुमने क्यों किया ? इस पर पहले दोस्त ने उत्तर दिया, “जब कोई तुम्हें दुख पहुँचाता है तो उसे रेत पर लिखना चाहिए जिससे क्षमा की आँधी उसे मिटा सके। पर जब कोई तुम्हारे साथ भलाई करता है तो उसे पत्थर पर लिखना चाहिए जिससे समय की हवा भी उसे मिटा न सके।”

अपने साथ किए गए बुरे बर्ताव को रेत पर और भलाई को पत्थर पर लिखना सीखिए।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।


JAI SAI RAM

ramesh uncle

ret pe likha hua mit jata hai par stone par likha hua kabhi nahi mitta :) :)

sai ram
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Kavitaparna on April 04, 2007, 10:12:19 AM
om sri sai ram

Dear Kids, This is another small story told by Ramesh uncle.

The Story of a Donkey

A washer man had 10 donkeys he used to take to the river with him to haul clothes on. While he was working or sleeping, he would tie them up so they wouldn't stray off. One day when he went to tie them up, he found he only had 9 ropes. He tied 9 donkeys and was holding the 10th by the ear wondering what he should do.

A saint was passing by and asked him what he was doing. The washer man explained his dilemma and asked him for advice. The saint told him he only had to pretend he had a rope in his hands and perform the motions of tying the donkey up and that he would stay. So the washer man followed his advice and to his surprise, the donkey stayed all night while the washer man slept. In the morning when he was ready to leave the river, the washer man untied the donkeys and began his journey home. But the one donkey who had not really been tied refused to move.
 
The washer man was puzzled by this and was tugging on the donkeys ear to move him along. The donkey that had been tied with only an imaginary rope would not move. The saint reappeared again and the washer man sought his advice.  The saint asked him if he had untied the donkey and the washer man said no and asked why he would need to since it was just an imaginary rope. The saint replied that donkeys are a lot like people in that they get caught up in an imaginary life and are under the illusion of bondage. So the washer man followed his directions and pretended to untie the donkey. The donkey then moved on along his way to the village with the others.

We create bondages for ourselves with our imagination.
The truth is that we are free. Untie yourself from
the maya  and free yourself from your mind.

JAI SAI RAM  
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Kavitaparna on April 04, 2007, 10:16:01 AM
om sri sai ram

Dear Kids, Sai Ram! and yet another short story for U from Subha Aunty ji.

Precious Gift

A wise woman who was traveling in the mountains found a precious stone in a stream.

The next day she met another traveler who was hungry, and the wise woman opened her bag to share her food. The hungry traveler saw the precious stone and asked the woman to give it to him.

She did so without hesitation.

The traveler left rejoicing in his good fortune. He knew the stone was worth enough to give him security for a lifetime. But, a few days later, he came back to return the stone to the wise woman.

"I've been thinking," he said.

"I know how valuable this stone is, but I give it back in the hope that you can give me something even more precious. Give me what you have within you that enabled you to give me this stone."

Sometimes it's not the wealth you have but what's inside you that others need.

subhasrini
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Kavitaparna on April 04, 2007, 10:42:03 AM
OM SRI SAI RAM

Dear Kids, Sai Ram!

Now, I will tell U one small story that I read in Chandamama - children magazine when I was 7 or 8 year old.

In one village, one person named Totaram used to irritate all the others by betting on idiotic questions thinking that he is very knowledgeable and the villagers had a tough time facing him.

So they started to either avoid him or run away from his sight altogether or just be a victim to his actions.

One day, Ramu, a 3rd standard student was walking on the way and found everyone running away or hiding in houses seeing  Totaram coming that way. Ramu thought of teaching him a lesson.

As Ramu neared, Totaram asked him that he would pay him Rs.10 if he answered his question and if he could not, then he has to pay Rs.10 to Totaram. Then Ramu said "Ok uncle. But, I will also ask you one question. But, you have to pay me Rs.20 if you can not answer since I am younger than you".

Totaram thought " How innocent this boy is, I can get Rs.30 since I am knowledgeable and can answer any stupid question while, my idiotic question can not be answered by this boy" and said Ok to Ramu.

Totaram Asked Ramu "How long the beak of a green crow would be ?"

This is definitely something no one can answer. Because, first of all, there will be no green crow. Then how to tell about the length of its beak ?

Ramu gave Rs.10 to Totaram and by then a crowd gathered there. Now it was the turn of Ramu to ask. Now, he asked Totaram "How long the beak of a green crow would be". Now, Totaram could not answer and had to pay him Rs.20.

From that day onwards, he did not bother anyone in the village.

Thus, Ramu gave a Tit for Tat to Totaram.

Jai Sai Ram

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 04, 2007, 11:42:14 PM
जय सांई राम।।।

एक राजा साधु बन जंगल चले गए। वहां उन्हें एक शुभचिंतक मिला, जिसने कहा, 'हे राजन! आप गृहस्थाश्रम को त्याग कर संन्यास आश्रम की इच्छा कर रहे हैं। यह आप जैसे वीर क्षत्रियों के योग्य नहीं है। आप घर में भी रहकर व्रत, उपवास और धर्मानुष्ठान कर सकते हैं।' राजा ने जवाब दिया, जिसमें साधु धर्म स्वीकार करने की शक्ति न हो, वह गृहस्थाश्रम में रहता हुआ वानप्रस्थ धर्म का पालन कर सकता है, पर साधु धर्म के लिए गृहस्थाश्रम का त्याग आवश्यक है।'

वह व्यक्ति बोला, 'आपको पहले सोना, चांदी, हाथी, घोड़े, रथ आदि का भंडार इकट्ठा कर लेना चाहिए था तब आप साधु बनते।' इस पर राजा ने कहा, 'यदि व्यक्ति के पास कैलाश पर्वत के समान सोने-चांदी के असंख्य पर्वत हों, फिर भी लोभी मनुष्य को उनसे संतोष नहीं होता। इच्छा आकाश के समान अनंत है जबकि धन सीमित है। केवल संतोष धारण करने से ही इच्छा की निवृत्ति हो सकती है।'

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 07, 2007, 12:38:13 AM
जय सांई राम।।।

दानवीर विक्रमादित्य।

एक दिन राजा विक्रमादित्य दरबार को सम्बोधित कर रहे थे तभी किसी ने सूचना दी कि एक ब्राह्मण उनसे मिलना चाहता है। विक्रमादित्य ने कहा कि ब्राह्मण को अन्दर लाया जाए। जब ब्राह्मण उनसे मिला तो विक्रम ने उसके आने का प्रयोजन पूछा। ब्राह्मण ने कहा कि वह किसी दान की इच्छा से नहीं आया है, बल्कि उन्हें कुछ बतलाने आया है। उसने बतलाया कि मानसरोवर में सूर्योदय होते ही एक खम्भा प्रकट होता है जो सूर्य का प्रकाश ज्यों-ज्यों फैलता है ऊपर उठता चला जाता है और जब सूर्य की गर्मी अपनी पराकाष्ठा पर होती है तो सूर्य को स्पर्श करता है। ज्यों-ज्यों सूर्य की गर्मी घटती है छोटा होता जाता है तथा सूर्यास्त होते ही जल में विलीन हो जाता है। विक्रम के मन में जिज्ञासा हुई कि ब्राह्मण का इससे अभिप्राय क्या है। ब्राह्मण उनकी जिज्ञासा को भाँप गया और उसने बतलाया कि भगवान इन्द्र का दूत बनकर वह आया है ताकि उनके आत्मविश्वास की रक्षा विक्रम कर सकें। उसने कहा कि सूर्य देवता को घमण्ड है कि समुद्र देवता को छोड़कर पूरे ब्रह्माण्ड में कोई भी उनकी गर्मी को सहन नहीं कर सकता। 

देवराज इन्द्र उनकी इस बात से सहमत नहीं हैं। उनका मानना हे कि उनकी अनुकम्पा प्राप्त मृत्युलोक का एक राजा सूर्य की गर्मी की परवाह न करके उनके निकट जा सकता है। वह राजा आप हैं। राजा विक्रमादित्य को अब सारी बात समझ में आ गई। उन्होंने सोच लिया कि प्राणोत्सर्ग करके भी सूर्य भगवान को समीप से जाकर नमस्कार करेंगे तथा देवराज के आत्मविश्वास की रक्षा करेंगे। उन्होंने ब्राह्मण को समुचित दान-दक्षिणा देकर विदा किया तथा अपनी योजना को कार्य-रुप देने का उपाय सोचने लगे। उन्हें इस बात की खुशी थी कि देवतागण भी उन्हें योग्य समझते हैं। भोर होने पर दूसरे दिन वे अपना राज्य छोड़कर चल पड़े। एकान्त में उन्होंने माँ काली द्वारा प्रदत्त दोनों बेतालों का स्मरण किया। दोनों बेताल तत्क्षण उपस्थित हो गए। 

विक्रम को उन्होंने बताया कि उन्हें उस खम्भे के बारे में सब कुछ पता है। दोनों बेताल उन्हें मानसरोवर के तट पर लाए। रात उन्होंने हरियाली से भरी जगह पर काटी और भोर होते ही उस जगह पर नज़र टिका दी जहाँ से खम्भा प्रकट होता। सूर्य की किरणों ने ज्योंहि मानसरोवर के जल को छुआ कि एक खम्भा प्रकट हुआ। विक्रम तुरन्त तैरकर उस खम्भे तक पहुँचे। खम्भे पर ज्योंहि विक्रम चढ़े जल में हलचल हुई और लहरें उठकर विक्रम के पाँव छूने लगीं। ज्यों-ज्यों सूर्य की गर्मी बढी, खम्भा बढ़ता रहा। दोपहर आते-आते खम्भा सूर्य के बिल्कुल करीब आ गया। तब तक विक्रम का शरीर जलकर बिल्कुल राख हो गया था। सूर्य भगवान ने जब खम्भे पर एक मानव को जला हुआ पाया तो उन्हें समझते देर नहीं लगी कि विक्रम को छोड़कर कोई दूसरा नहीं होगा। उन्होंने भगवान इन्द्र के दावे को बिल्कुल सच पाया। 

उन्होंने अमृत की बून्दों से विक्रम को जीवित किया तथा अपने स्वर्ण कुण्डल उतारकर उन्हें भेंट कर दिए। उन कुण्डलों की विशेषता थी कि कोई भी इच्छित वस्तु वे कभी भी प्रदान कर देते। सूर्य देव ने अपना रथ अस्ताचल की दिशा में बढ़ाया तो खम्भा घटने लगा। सूर्यास्त होते ही खम्भा पूरी तरह घट गया और विक्रम जल पर तैरने लगे। तैरकर सरोवर के किनारे आए और दोनों बेतालों का स्मरण किया। बेताल उन्हें फिर उसी जगह लाए जहाँ से उन्हें सरोवर ले गए थे। विक्रम पैदल अपने महल की दिशा में चल पड़े। कुछ ही दूर पर एक ब्राह्मण मिला जिसने उनसे वे कुण्डल मांग लिए। विक्रम ने बेहिचक उसे दोनों कुण्डल दे दिए। उन्हें बिल्कुल मलाल नहीं हुआ।

ऐसे थे दानवीर विक्रमादित्य।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई  


ॐ सांई राम।।  
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: adwaita on April 07, 2007, 12:16:15 PM
Dear ramesh bhai,

I always look forward for the story of the day. this is my favourite section. but there is one request from me,  i would be glad if the post is in english. i hope you wond mind. its is my humble request. please forgive me if i am wrong. om sai ram.


Gayatri.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 09, 2007, 09:12:45 AM
जय सांई राम

एक गाँव में एक बनिया रहता था। वो बनिया बहुत कन्जूस था। खाना खाने के समय अक्सर वो सैर पर निकलता था और रास्ते में जिस घर में उसे कोई खाना खाता हुआ दिखता बस उसी के घर घुस जाता और खाना खाने बैठ जाता। गाँव वाले उसकी इस आदत से बहुत परेशान थे पर कुछ कर नहीं पाते थे क्योंकि वो उसकी दुकान से उधार सामान लेते थे। इस सब से बनिया बडा खुश था दुकान भी चल रही थी और खाने के पैसे भी बच रहे थे।

एक बार उस बनिये के घर उसका कोई दूर का रिश्तेदार तोताराम आया। अब गाँव वाले मन ही मन बडे खुश थे कि आज बनिया बुरा फंसा। लेकिन बनिया था बडा तेज। कुछ देर तोताराम से यहाँ-वहाँ की बातें करने के बाद बनिया बोला, चलो तोताराम हम तुम्हें अपने गाँव के मिठे मिठे अमरूद खिलाएं। “अमरूद अरे वाह”, तोताराम बोला। अब दोनों सुक्खन माली के बाग की तरफ चल पडे।

सुक्खन चाचा अरे ओ सुक्खन चाचा बनिये ने दुर से ही आवाज़ दी। देखो हमारे यहाँ मेहमान आए हैं इन्हें कुछ ताज़े और मीठे अमरूद खिलाओ। माली बोला हाँ हाँ क्यों नहीं ये लो एकदम ताज़े और मीठे हैं। मीठे क्या हैं पेड‌‌़े हैं पेड़े!! बनिया बोला, “क्या कहा पेड़े हैं”?  तो इसका मतलब क्या पेड़े अमरूद से भी बढिया होते हैं। हाँ जी होते तो हैं माली ने कहा। तो फिर हम इन्हें पेड़े ही खिलाएंगे। सुनकर तोताराम के मुहँ में पानी आ गया।

अब बनिया चल दिया मोटेराम हलवाई की दुकान पर और बोला मोटेराम जी, ये हमारे मेहमान हैं इन्हें ताज़े पेड़े खिलाओ। हाँ जी ये लो एकदम ताज़े पेड़े हैं। अजी, पेड़े क्या हैं मक्खन हैं मक्खन! यह सुनते ही बनिया फिर बोला, “क्या कहा मक्खन”? तो इसका मतलब क्या मक्खन पेड़ों से भी बढिया होते हैं। हाँ जी मक्खन होता तो बढिया है। तो फिर हम इन्हें मक्खन खिलाएंगे। सुनकर तोताराम के मुहँ एक बार फिर उतर गया।

अब बनिया चला हरिया ग्वाले के घर। इधर तोताराम का भूख के मारे बुरा हाल हो रहा था और उधर बनिया मन ही मन बहुत खुश हो रहा था। उसके पैसे जो बच रहे थे।

हरिया अरे ओ हरिया, जरा हमारे तोताराम जी को मक्खन खिलाओ। और हाँ देखो मक्खन जरा ताज़ा लाना, बाहर से ही बनिया चिल्लाया। “अभी लाया हुज़ूर”, हरिया ने हुक्म बजाया। ये लिजिए, ये रहा मक्खन। मक्खन ताज़ा है न हरिया - बनिया मुस्कुराते हुए बोला। अजी साहब बिल्कुल ताज़ा है मेरा मेक्खन्, एकदम पानी की तरह। सुनते ही बनिया बोला - क्या कहा? पानी है! हाँ जी एकदम पानी है, हरिया ने घबराते हुए जवाब दिया। तो फिर हम तोताराम को पानी ही पिलायेंगे। और अब तो तोताराम की शक्ल देखनेवाली थी। खैर अब बनिया चला बाबा गुदना की प्याउ पर।

प्याऊ पर पहुँच कर बनिया बोला -  बाबा ओ बाबा - जरा हमारे मेहमान को थोडा पानी पिला दो। और हाँ पानी ताज़ा पिलाना। हाँ-हाँ बेटा मेरा पानी एकदम ताज़ा है ताज़ा। और बेटा पानी क्या है हवा है हवा। क्या कहा - बनिया बोला, तुम्हारा पानी हवा है। हाँ साहब मेरा पानी हवा है जितना भी पियो पेट ही नहीं भरता। तब तो हम अपने मेहमान को हवा ही खिलाएंगे। चलो तोताराम हम तुम्हें हवा खिलाएंगे।

बस-बस बहुत हुआ, अब मुझे कुछ नहीं खाना, भूख के मारे मेरा दम निकला जा रहा है। ये कहता हुआ तोताराम वहाँ से खिसक लिया। और बनिया मन ही मन बहुत खुश हुआ।

बेटा तेजल तुम कभी ऐसा तो नही करोगी जब फोरम के आंटी-अंकल कभी तुम्हारे घर चन्दीगढ़ आये? पता चले सिर्फ चन्दीगढ़ की हवा खाके ही बन के बुद्धु वापस घर को लौटना पड़े। हाहाहाहाहाहाहाहा

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 10, 2007, 03:06:13 AM
जय सांई राम।।।

सच्ची इबादत
 
एक बार एक बादशाह कुछ साथियों के साथ अपने मुल्क के सरहदी इलाकों का मुआयना करने जा रहा था। चलते-चलते नमाज का वक्त हो गया। अगल-बगल कोई साफ-सुथरी और समतल जमीन नहीं दिखी तो साथियों ने बादशाह के लिए वहीं रास्ते में ही मुसल्ला बिछा दिया। बादशाह ने अभी नमाज पढ़ना शुरू ही किया था कि एक युवती दौड़ती हुई आई और उसके मुसल्ले पर पैर रखती हुई आगे निकल गई। बादशाह को बड़ा क्रोध आया, लेकिन उस समय उसके मंत्री-संतरी वगैरह भी नमाज पढ़ रहे थे, सो वह कुछ नहीं बोला।

पर जब वह युवती उधर से लौटी, तो बादशाह ने डपट कर कहा, मूर्ख स्त्री! इधर से जाते समय तुझे दिखाई नहीं दिया कि मैं नमाज अता कर रहा हूं। तू जाए-नमाज पर पैर रख कर चली गई। युवती बोली, जहांपनाह! गुस्ताखी माफ हो। मेरा चित्त अपने स्वामी पर लगा हुआ था। बादशाह ने उसी तरह सख्ती से दरियाफ्त किया, ऐसा क्या हो गया है तुम्हारे स्वामी को?

युवती नम्रता से बोली, मेरे स्वामी काफी दिनों से परदेस गए हुए हैं। मुझे किसी ने बताया कि वे परदेस से आ रहे हैं, बस उन्हीं को देखने गई थी। लेकिन, वह सूचना झूठी निकली। वहां कोई और आया था। बादशाह डांट कर बोला, स्वामी के लिए जा रही थी तो क्या रास्ता और जाए-नमाज नहीं दिखाई दे रहा था? युवती बोली, उस समय मुझे अपने स्वामी के अलावा कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था। न आप दिखे और न ही आप का जाए-नमाज दिखाई पड़ा। लेकिन जहांपनाह, आप तो सर्वशक्तिमान और एकमात्र स्वामी अल्लाह में अपना चित्त लगाए हुए थे, फिर आप ने मुझे इधर से जाते हुए कैसे देख लिया?

बादशाह को अपनी गलती का एहसास हुआ और वह बोला, तुम ठीक कहती हो। खुदा की इबादत करना और खुदा में चित्त लगाना दो अलग-अलग बातें हैं। जिसका चित्त खुदा में लग जाएगा उसे इस नश्वर दुनिया की बाकी चीजों के लिए कहां होश रह जाएगा। 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।

Title: Re: The Hart and the Hunter We often despise what is most useful to us.
Post by: JR on April 10, 2007, 08:57:28 PM
The Hart and the Hunter

We often despise what is most useful to us.

 
The Hart was once drinking from a pool and admiring the noble figure he made there. "Ah," said he, "where can you see such noble horns as these, with such antlers! I wish I had legs more worthy to bear such a noble crown; it is a pity they are so slim and slight." At that moment a Hunter approached and sent an arrow whistling after him. Away bounded the Hart, and soon, by the aid of his nimble legs, was nearly out of sight of the Hunter; but not noticing where he was going, he passed under some trees with branches growing low down in which his antlers were caught, so that the Hunter had time to come up. "Alas! alas!" cried the Hart: We often despise what is most useful to us.

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 11, 2007, 12:29:37 AM
जय सांई राम।।।

नगर पिता   
 
महामाहन को वैशाली नगर में अपने सद्रुणों और वरिष्ठता के कारण नगर पिता की उपाधि मिली हुई थी। वह इसे एक उत्तरदायित्व समझकर भली-भांति निभा रहे थे। एक दिन उस नगर पर शत्रु राज्य ने चढ़ाई कर दी। शत्रु की सेना बालकों, स्त्रियों और वृद्धों को भी सताने लगी। अत्यंत वृद्ध और अशक्त होते हुए भी महामाहन दुश्मनों के बीच आए और ललकार कर बोले, 'तुम्हें कुटिल नीति के कारण भले ही सफलता मिल गई है, पर अपने को विजेता समझने की भूल न करो। नगर की एक भी स्त्री, बालक या वृद्ध का बाल तक बांका नहीं होना चाहिए।'

शत्रु राजा ने बूढ़े महामाहन की यह मांग अनसुनी कर दी। संयोग से वह महामाहन का दूर का संबंधी था, इसलिए उसके प्रति उदारता दिखाते हुए उसने कहा, 'मैं आपकी और आपके परिवार की रक्षा का वचन दे सकता हूं। इसके अलावा मुझे किसी और से कुछ लेना-देना नहीं है।' महामाहन केवल अपनी सलामती नहीं चाहते थे। वह नगर पिता की हैसियत से अपना कर्त्तव्य निभाना चाहते थे। जब नगर के हजारों स्त्री-पुरुष कष्ट में हों, तब अकेले अपने कुटुंब को बचाने का उनके लिए कोई अर्थ नहीं था। उन्हें अपने प्राणों की चिंता नहीं थी। उनका नगर धर्म उन्हें पुकार रहा था। आक्रमणकारी राजा को उन्होंने खूब समझाया, खूब प्रार्थना की। अंत में राजा थोड़ा पिघला और बोला, 'महामाहन, आप इतना कह रहे हैं तो आपकी बात मान लेता हूं। लेकिन मेरी एक शर्त है। आप नदी में डुबकी मारें। आपके ऊपर आने से पहले जितने नागरिक जितनी सम्पत्ति लेकर भाग जाना चाहें भाग सकते हैं। देखता हूं आप कब तक नदी में रहते हैं।'

राजा की यह कठोर शर्त महामाहन मान गए। उन्होंने नदी में डुबकी लगाई और तली में पहुंच कर एक पेड़ की जड़ से चिपट गए। घंटों बीत जाने पर भी महामाहन ऊपर न आए। अंत में खोज करने पर महामाहन का शरीर वृक्ष की जड़ के साथ जकड़ा पाया गया। उन्होंने नगर की रक्षा के लिए अपना शरीर त्याग दिया था। इस तरह नगर पिता की उपाधि को उन्होंने सार्थक किया।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Sai ka Tej on April 11, 2007, 04:13:28 AM
JAI SAI RAM


ramesh uncle
sai ram

your story is really nice and yes whenever you come to chandigarh main kanjoos nahi banoongi in this story it means hamain kanjoos nahi bannana chaheey

                             :) :D ;D                      

sai ram
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 12, 2007, 02:20:25 AM
जय सांई राम।।।

चंदन बनो  
 
एक महात्मा ने अपने शिष्यों को एक ऐसे व्यक्ति को सुधारने का कार्य सौंपा जो जरूरत से ज्यादा नशा करता था। इससे वह स्वयं तो बर्बाद हो ही रहा था, उसका पूरा परिवार भी तबाह हो रहा था। शिष्य उसके पास गए और कुछ ही दिनों में वापस आकर महात्मा से बोले, 'गुरु जी, हमने पूरा प्रयास कर लिया, मगर वह सुधरने वाला नहीं है।' महात्मा ने शिष्यों से कहा, 'मैंने तुम्हें चंदन बनने की शिक्षा दी है। जो कुल्हाड़ी चंदन को काटती है, वह भी सुगंधित हो जाती है। चंदन अपना स्वभाव कभी नहीं छोड़ता। जब वह व्यक्ति भी बुराई का मार्ग नहीं छोड़ रहा तो तुम भलाई का मार्ग बीच में ही छोड़कर वापस कैसे आ गए? स्वभाव के मामले में तो वह व्यक्ति तुम से भी अच्छा निकला। लगता है मेरी शिक्षा में कुछ कमी रह गई।'

शिष्यों को गुरु की बातों से अपनी गलती का अहसास हुआ और वे दोबारा उस व्यक्ति को सुधारने चल दिए। इस बार उन्होंने जी जान से प्रयास किया, जिससे वह व्यक्ति सुधर गया और उसका पूरा जीवन ही बदल गया।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 13, 2007, 02:37:37 AM
जय सांई राम।।।

जीवन का उपयोग  

महर्षि रमण के आश्रम के पास एक गांव में एक अध्यापक रहता था। रोज-रोज के पारिवारिक तनाव और कलह से ऊबकर उसने आत्महत्या करने का निर्णय किया। यह निर्णय करना उसके लिए आसान नहीं था, क्योंकि परिवार के भविष्य की भी उसे चिंता थी। ऊहापोह की इस स्थिति में वह महर्षि रमण के आश्रम में पहुंचा और उन्हें सारी बात बताकर उनकी राय पूछी। महर्षि उस समय आश्रवासियों के भोजन के लिए पत्तलें बना रहे थे। वे चुपचाप उसकी बात सुनते रहे। पत्तल बनाने में महर्षि के परिश्रम और तल्लीनता को देखकर अध्यापक को आश्चर्य हुआ। उसने पूछा, 'आप इतने परिश्रम से ये पत्तल बना रहे हैं, जबकि भोजन के उपरांत ये कूड़े में फेंक दी जाएंगी।' महर्षि मुस्कराते हुए बोले, 'आप ठीक कहते हैं, लेकिन किसी वस्तु का पूरा उपयोग हो जाने के बाद उसे फेंकना बुरा नहीं है। बुरा तो तब कहा जाएगा जब उसका उपयोग किए बिना अच्छी अवस्था में ही कोई फेंक दे। मेरे कहने का आशय तो आप समझ ही गए होंगे।'

अध्यापक की समस्या का समाधान हो गया और वह दुखों से भागने की बजाय उनसे जूझने और संघर्ष करने का संकल्प लेकर वहां से रवाना हुआ। 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Sai ka Tej on April 13, 2007, 05:42:27 AM
jai sai ram

                          LITTLE ANJU TAKES CHARGE
"anju, your mother and i are going out. nanu & nani MA are resting. do answer  the phone call, please,"  said her father.

"today  you are INCHARGE," mummy said before leaving.

Anju locked up the door. just then the telephone rang. anju, the little minder, picked it up. it was urgent. her fathers friend was coming over the day after. he wanted to be met at the station

              ANJU noted down:

HIS NAME
DATE OF ARRIVAL
NAME OF THE TRAIN
TIME OF ARRIVAL
COACH AND SEAT NO.

HER PARENTS WERE HAPPY WITH THEIR LITTLE MINDER.

SAI RAM
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 16, 2007, 12:55:14 AM
जय सांई राम।।।

नकली नौकर  
 
एक साहूकार था। उसका एक नौकर था। साहूकार उससे बहुत ज्यादा काम लेता था। एक दिन नौकर घर से भाग गया। साहूकार उसे खोजने निकला। काफी दौड़ भाग के बाद वह मिल गया। साहूकार ने उसे दो-चार चांटे लगाए और घर ले आया। अब वह उससे पहले से ज्यादा काम लेने लगा। नौकर भी खुशी-खुशी काम कर रहा था।

कुछ महीने बाद एक दिन साहूकार के दरवाजे पर एक लड़का आया और उसके पैर पकड़ कर बोला, 'मालिक मुझे माफ कर दो। मुझसे बहुत बड़ी गलती हो गई जो आप को बिना बताए यहां से चला गया। मुझे फिर से नौकरी पर रख लीजिए।' साहूकार चक्कर में पड़ गया, क्योंकि दोनों की शक्ल-सूरत काफी मिलती-जुलती थी। उसकी समझ में नहीं आ रहा था कि उसका असली नौकर कौन है, वह जिसे वह पकड़ कर लाया था या वह जो सामने खड़ा था। गौर से देखने के बाद साहूकार समझ गया कि जिस आदमी को वह पकड़ कर लाया था, वह उसका असली नौकर नहीं था। उसने नकली नौकर से पूछा, 'मेरा नौकर तो यह है, तुम कौन हो।' वह बोला, 'आप का नौकर'। साहूकार गुस्से में बोला, 'सच बताओ तुम कौन हो'। वह फिर बोला, 'आप का नौकर हूं और मेरा नाम लुकमान है।'

साहूकार समझ गया कि ये हकीम लुकमान हैं। उसने उनके पैर पकड़ कर कहा, 'मुझे माफ कर दो। मैंने आपको पहचाना नहीं।' लुकमान ने कहा, 'माफ तो मैं कर दूंगा, लेकिन मेरी एक शर्त है। आज से तुम किसी नौकर को सताओगे नहीं।'

' ठीक है, लेकिन आप यह तो बताइए कि आप इतने दिन तक यहां इतने कष्ट क्यों सहते रहे। चांटा खाने के बाद भी आप ने अपना नाम नहीं बताया।' हकीम लुकमान बोले, 'सेठ, इसमें मेरा नफा था। मुझे यहां रह कर तजुर्बा हुआ कि नौकर के साथ कैसा व्यवहार करना चाहिए। मेरे घर में भी एक नौकर है। मैं उससे कई तरह के बेढब काम लेता रहता हूं। मुझे पता ही नहीं चलता कि उसे कौन सा काम अच्छा लगता है और कौन सा बुरा। अब इसकी समझ हो गई है।'

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on April 18, 2007, 01:59:25 AM
ॐ सांई राम!~!

न देने वाला मन


एक भिखारी सुबह-सुबह भीख मांगने निकला। चलते समय उसने अपनी झोली में जौ के मुट्ठी भर दाने डाल लिए। टोटके या अंधविश्वास के कारण भिक्षाटन के लिए निकलते समय भिखारी अपनी झोली खाली नहीं रखते। थैली देख कर दूसरों को लगता है कि इसे पहले से किसी ने दे रखा है। पूर्णिमा का दिन था, भिखारी सोच रहा था कि आज ईश्वर की कृपा होगी तो मेरी यह झोली शाम से पहले ही भर जाएगी।

अचानक सामने से राजपथ पर उसी देश के राजा की सवारी आती दिखाई दी। भिखारी खुश हो गया। उसने सोचा, राजा के दर्शन और उनसे मिलने वाले दान से सारे दरिद्र दूर हो जाएंगे, जीवन संवर जाएगा। जैसे-जैसे राजा की सवारी निकट आती गई, भिखारी की कल्पना और उत्तेजना भी बढ़ती गई। जैसे ही राजा का रथ भिखारी के निकट आया, राजा ने अपना रथ रुकवाया, उतर कर उसके निकट पहुंचे। भिखारी की तो मानो सांसें ही रुकने लगीं। लेकिन राजा ने उसे कुछ देने के बदले उलटे अपनी बहुमूल्य चादर उसके सामने फैला दी और भीख की याचना करने लगे। भिखारी को समझ नहीं आ रहा था कि क्या करे। अभी वह सोच ही रहा था कि राजा ने पुन: याचना की। भिखारी ने अपनी झोली में हाथ डाला, मगर हमेशा दूसरों से लेने वाला मन देने को राजी नहीं हो रहा था। जैसे-तैसे कर उसने दो दाने जौ के निकाले और उन्हें राजा की चादर पर डाल दिया। उस दिन भिखारी को रोज से अधिक भीख मिली, मगर वे दो दाने देने का मलाल उसे सारे दिन रहा। शाम को जब उसने झोली पलटी तो उसके आश्चर्य की सीमा न रही। जो जौ वह ले गया था, उसके दो दाने सोने के हो गए थे। उसे समझ में आया कि यह दान की ही महिमा के कारण हुआ है। वह पछताया कि काश! उस समय राजा को और अधिक जौ दी होती, लेकिन नहीं दे सका, क्योंकि देने की आदत जो नहीं थी।


जय सांई राम!~!


Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 19, 2007, 01:56:36 AM
जय सांई राम

खोटे सिक्के  
 
किसी राजा के पास एक महात्मा बैठे हुए थे। उसी समय महात्मा जी का एक शिष्य वहां आया और कहने लगा, 'यहां के दुकानदार बहुत ही खराब हैं। जब मैं एक सिक्का लेकर सामान खरीदने गया तो उन्होंने कहा कि यह खोटा है, इसलिए तुम्हें सामान नहीं मिल सकता। तुम महात्मा जी के शिष्य हो, इसलिए छोड़ देते हैं अन्यथा तुम्हें दंड दिलाते।' राजा भी यह सब सुन रहा था। उसने सिक्का लेकर देखा और पूछा, 'यह आपको किसने दिया है? क्या आपको मेरे कानून का पता नहीं है। यह खोटा है और खोटा सिक्का चलाने वाले को मैं सख्त दंड देता हूं। मैं जानता हूं कि आपने यह नहीं बनाया होगा, पर आपको यह सिक्का दिया किसने?' इस पर महात्मा ने कहा, 'यह खोटा है तो क्या हुआ, इस पर राजा की छाप तो है ही।' राजा ने कहा, 'मेरा सिक्का सच्चा होना चाहिए। मेरी छाप होने पर भी खोटा सिक्का बनाना और चलाना अपराध है।'  इस पर महात्मा बोले, 'राजन, आपका शासन अन्याय से पूरी तरह मुक्त नहीं है। आप निरपराध को सजा देते हैं। युद्ध के नाम पर रक्तपात करते हैं। ऐसा करना क्या खोटा सिक्का चलाने के समान अपराध नहीं है?' राजा समझ गया। उसने पूछा, 'तब क्या करना चाहिए।' महात्मा बोले, 'सुशासन करना चाहिए। बेकसूर व्यक्ति को दंड न मिले इसका ध्यान रखना चाहिए। '

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 20, 2007, 09:52:14 AM
जय सांई राम।।।

सहयोग की भावना  
 
देवताओं और असुरों में संघर्ष चलता रहता था। पहले दानव हावी होते, पर अंतत: देवता ही जीतते। एक बार दानवों ने ब्रह्मण से निवेदन किया, 'हमें समझ में नहीं आता कि हमारे साथ यह पक्षपातपूर्ण व्यवहार क्यों हो रहा है। हम दोनों आपकी संतान हैं। पिता पुत्रों पर सदा समभाव रखता है। पर आप तो पिता होकर भी हमारे प्रति सद्भाव नहीं रखते। आप सदा देवों का ही पक्ष लेते हैं।'

ब्रह्मण ने एक शब्द भी नहीं कहा। उन्होंने दानवों को समझाने के लिए एक विराट भोज का आयोजन किया। उसमें देव और दानव दोनों ही आमंत्रित थे। भोज में स्वादिष्ट व्यंजन परोसे गए। ब्रह्मण के आदेश से देवों और दानवों के हाथों में खपच्चियां बंधवा दी गईं जिससे कि उनके हाथ मुड़ न सकें। देवों और दानवों के बैठने की व्यवस्था इस प्रकार की गई कि वे एक दूसरे को देख न सकें। स्वादिष्ट भोज्य पदार्थों को देखकर दानवों का मन ललचाने लगा, पर खपच्चियां बंधी होने के कारण वे खा नहीं सके, क्योंकि हाथ मुड़ते ही नहीं थे। बिना हाथ मोड़े वे मुंह में निवाले कैसे रख सकते थे। वे मन ही मन ब्रह्मण को कोस रहे थे।

दूसरी तरफ देवताओं ने जब हाथ से खाने में खुद को असमर्थ पाया तो वे आमने-सामने बैठ गए और एक दूसरे के मुंह में भोजन डालते गए। इनका यह प्रयोग पूर्णरूपेण सफल रहा। सभी ने छककर खाया। असुर भूखे उठ खड़े हुए। क्रोध से भरे जब वे देवताओं की ओर आए तो उन्हें खाते देखकर हैरान रह गए।

ब्रह्मण ने असुरों से कहा, 'तुम सभी भूखे रह गए और देवताओं ने अच्छी तरह भोजन कर लिया। देवताओं और तुम में यही अंतर है। देवता एक दूसरे को सहयोग करते हैं। उन्हें केवल अपने पेट की नहीं, दूसरों के पेट की भी चिंता है, इसलिए वे सदा तुम लोगों से जीतते रहे हैं। तुम में देवताओं से अधिक शक्ति है, मगर सहयोग की भावना न रहने से तुम्हारी पराजय होती है। यदि तुम भी जीतना चाहते हो तो एक दूसरे का सहयोग करना सीखो। तुम्हारी विजय होगी।'

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 22, 2007, 12:27:45 AM
जय सांई राम

दूसरे महायुद्ध की बात है। एक जापानी सैनिक गंभीर रूप से घायल हो गया था, काफी रक्त बह चुका था, ऐसा लग रहा था, वह कुछ ही क्षणों का मेहमान है। एक भारतीय सैनिक की मानवता जागी, शत्रु है तो क्या? मरते हुये को पानी देना, मानवता के नाते धर्म है। म्रत्यु के आखिरी क्षणों में शत्रुता कैसी? उसने अपनी बोतल से पानी निकाला, घायल सैनिक के मुँह से लगाया बोला-मित्र बुद्ध के देश में इस सैनिक के हाथों की वीरता, युद्ध भूमि में देख चुके हो। अब स्नेह भी देखो, जल पीओ।

किन्तु उस दुष्ट ने दया का बदला यह दिया कि अपने चाकू से भारतीय सैनिक को घायल कर दिया। रक्त की धार बह चली, घायल हो भारतीय सैनिक गिर पडा। दोनों ही सैनिकों को भारतीय अस्पताल पहुँचाया गया। दोनों ही की मरहम पट्टी की गई। धीरे-धीरे दोनों ही ठीक हो गये।

ठीक होने पर फिर भारतीय सैनिक, जापानी सैनिक से मिलने चला गया। उसकी कुशलक्षेम पूछी और फिर चाय का प्याला दिया, गरम-गरम चाय पिलाई। जापानी सैनिक का मन पश्चाताप से भर उठा, उसे अपने किये पर आत्मग्लानी हो रही थी। उसने भारतीय सैनिक से कहा दोस्त अब मैं समझा कि बुद्ध का जन्म तुम्हारे देश में क्यों हुआ था।
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 23, 2007, 11:17:01 PM
जय सांई राम।।।

वास्तविक अपराधी

राजा भोज के राज्य में एक गरीब ब्राह्मण रहता था। उसके परिवार में उसके अलावा उसकी पत्नी और मां थी। आजीविका का साधन बेहद सीमित था। वह कहीं से कुछ मांगकर लाता तो सबको भोजन मिलता। एक दिन वह खाली हाथ घर लौटा और पत्नी से बोला, 'आज मुझे कहीं से कुछ नहीं मिला। इधर-उधर भटकने के कारण मैं काफी थक गया हूं और मुझे भूख भी लगी है। जल्दी कुछ खाने को लाओ।'

यह सुनते ही पत्नी आगबबूला हो गई और बोली, 'मेरे पास है ही क्या जो आपको दूं।' इस पर ब्राह्मण ने कहा, 'मैं नित्य जो लाता हूं वह तुम्हें देता हूं। एक कुशल गृहिणी का कर्त्तव्य है कि वह घर में आई वस्तु में से कुछ बचाकर रखे, ताकि कभी भूखा न रहना पड़े।' इस पर ब्राह्मणी ने जवाब दिया, 'क्या कभी आप इतना अन्न लाए जो बचाया जा सके। आज तक आप जो लाए उससे कभी हमारा पेट भरा क्या? समझ में नहीं आता कि जो लोग अपनी पत्नी को भर पेट खिला नहीं सकते वे विवाह ही क्यों करते हैं।' इस पर दोनों में बहस छिड़ गई और बात बढ़ती गई। क्रोधित होकर ब्राह्मण ने अपनी पत्नी को पीट डाला। मामला राजा भोज के पास पहुंचा।

राजा ने ब्राह्मण से पूछा, 'क्या तुमने अपनी पत्नी को पीटा। अगर हां तो क्यों?'

इस पर ब्राह्मण ने कहा, 'हां महाराज, पीटा। इसके लिए मैं बेहद लज्जित हूं। इसका मुझे बहुत पश्चाताप है। क्या करूं। मैं अपने परिवार के लोगों को संतुष्ट नहीं रख पाता। आप जो चाहें मुझे दंड दीजिए।'

राजा ने कुछ सोचकर अपना निर्णय सुनाया, 'इस ब्राह्मण को एक हजार स्वर्णमुद्राएं दी जाएं।' वहां उपस्थित लोग आश्चर्य में पड़ गए। राजा ने फिर कहा, 'दंड उसी को देना चाहिए जिसका अपराध हो। इस व्यक्ति को जिस अपराध के लिए यहां उपस्थित किया गया है वह है दरिद्रता। दंड दरिद्रता को दिया जाना चाहिए न कि इस व्यक्ति को। मैंने दरिद्रता को ही समाप्त कर दिया। हां, अगर इसकी जगह कोई संपन्न व्यक्ति ऐसा करता तो मैं उसे कठोर दंड देता।'

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई  


ॐ सांई राम।।  
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 26, 2007, 12:12:45 AM
जय सांई राम।।।

साधक की कसौटी  

एक युवक ने एक महात्मा से कहा, 'मुझे आत्म साक्षात्कार का मार्ग बताइए।' महात्मा ने कहा, आत्म साक्षात्कार का मार्ग बड़ा कठिन है। उस पर चलने के लिए साधक को कई कठिनाइयों से होकर गुजरना पड़ता है।' युवक बोला, 'मैं तैयार हूं। आप बताइए।' महात्मा ने कहा, 'एकांत स्थान में बैठकर एक वर्ष तक गायत्री मंत्र का जाप करो। इस दौरान न किसी से बात करना और न ही कोई मतलब रखना। एक साल पूरा होने पर मुझसे मिलने आना।' एक साल बीतने पर महात्मा ने अपनी सफाई करने वाली से कहा, 'आज मेरा शिष्य आने वाला है। तुम उसके ऊपर झाड़ू से खूब धूल उड़ाना।' उसने ऐसा ही किया। वह युवक गुस्से से सफाई करने वाली को मारने दौड़ा पर वह भाग गई। जब युवक नहा-धोकर महात्मा की सेवा में उपस्थित हुआ तो महात्मा ने कहा, 'तुम तो सांप की तरह काटते हो। जाओ एक साल और साधना करो।' युवक बहुत क्रोधित हुआ, मगर उसके पास और कोई रास्ता न था, वह चला गया।

साल बीतने पर महात्मा ने अपनी सफाई वाली से कहा कि उसके आते ही वह उसके शरीर से अपना झाड़ू सटा दे। उसने ऐसा ही किया। इस बार युवक ने उसे जमकर गालियां दीं। स्नान करके जब वह महात्मा के पास पहुंचा तो उन्होंने कहा, 'अब तुम सांप की तरह काटते तो नहीं, पर फुफकारते जरूर हो। जाओ एक वर्ष और साधना करो।' युवक चल दिया। इस तरह तीसरा वर्ष बीत गया। महात्मा ने सफाई करने वाली से कहा कि वह युवक के आते ही कूड़े से भरी अपनी टोकरी उसके सिर पर डाल दे। उसने ऐसा ही किया, लेकिन इस बार युवक को क्रोध नहीं आया। उसने हाथ जोड़कर कहा, 'माता तुम महान हो। तीन वर्षों से मेरे दुर्गुणों को निकालने का प्रयत्न कर रही हो। मैं तुम्हारे उपकार को कभी भूल नहीं सकता। इसी तरह तुम मेरे उद्धार का प्रयास करती रहना।' यह कहकर वह नहाने चल पड़ा। जब वह नहाकर महात्मा के पास आया तो उन्होंने मुस्कराते हुए कहा, अब तुम आत्म साक्षात्कार के योग्य हो गए हो।' 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 27, 2007, 08:24:00 AM
जय सांई राम।।।

भारतीय नर्क  

एक बार एक भारतीय व्यक्ति मरकर नर्क में पहुँचा, तो वहाँ उसने देखा कि प्रत्येक व्यक्ति को किसी भी देश के नर्क में जाने की छूट है । उसने सोचा, चलो अमेरिकावासियों के नर्क में जाकर देखें, जब वह वहाँ पहुँचा तो द्वार पर पहरेदार से उसने पूछा - क्यों भाई अमेरिकी नर्क में क्या-क्या होता है ? पहरेदार बोला - कुछ खास नहीं, सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे बरसायेगा... बस ! यह सुनकर वह व्यक्ति बहुत घबराया और उसने रूस के नर्क की ओर रुख किया, और वहाँ के पहरेदार से भी वही पूछा, रूस के पहरेदार ने भी लगभग वही वाकया सुनाया जो वह अमेरिका के नर्क में सुनकर आया था । फ़िर वह व्यक्ति एक-एक करके सभी देशों के नर्कों के दरवाजे जाकर आया, सभी जगह उसे एक से बढकर एक भयानक किस्से सुनने को मिले । अन्त में थक-हार कर जब वह एक जगह पहुँचा, देखा तो दरवाजे पर लिखा था "भारतीय नर्क" और उस दरवाजे के बाहर उस नर्क में जाने के लिये लम्बी लाईन लगी थी, लोग भारतीय नर्क में जाने को उतावले हो रहे थे, उसने सोचा कि जरूर यहाँ सजा कम मिलती होगी... तत्काल उसने पहरेदार से पूछा कि यहाँ के नर्क में सजा की क्या व्यवस्था है ? पहरेदार ने कहा - कुछ खास नहीं...सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे बरसायेगा... बस ! चकराये हुए व्यक्ति ने उससे पूछा - यही सब तो बाकी देशों के नर्क में भी हो रहा है, फ़िर यहाँ इतनी भीड क्यों है ? पहरेदार बोला - इलेक्ट्रिक चेयर तो वही है, लेकिन बिजली नहीं है, कीलों वाले बिस्तर में से कीलें कोई निकाल ले गया है, और कोडे़ मारने वाला दैत्य सरकारी कर्मचारी है, आता है, दस्तखत करता है और चाय-नाश्ता करने चला जाता है...और कभी गलती से जल्दी वापस आ भी गया तो एक-दो कोडे़ मारता है और पचास लिख देता है...चलो आ जाओ अन्दर !!!

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 28, 2007, 12:20:16 AM
जय सांई राम।।।

सत्य और धर्म   

पुराने जमाने की बात है। किसी राज्य में सत्यवर्ती नामक राजा राज करता था। उसने एक बार घोषणा की कि उसके राज्य में कोई भी व्यापारी, शिल्पी और कलाकार अपनी कोई भी चीज बेचने ला सकता है। बाजार में लाई हुई कोई चीज अगर नहीं बिकी तो राजा उन्हें खरीद लेगा। उसे उसकी वस्तु का उचित मूल्य दिया जाएगा। इस तरह उसकी हानि नहीं होने दी जाएगी।

इस घोषणा के बाद एक कलाकार शनि देवता की मूर्ती बनाकर लाया जो अत्यंत आकर्षक थी। ग्राहक उस मूर्ती के गुण व लाभ पूछते तो वह कहता कि यह अनूठी और अनुपम है, लेकिन जब लोगों को पता चलता कि यह शनि देवता हैं, तो वे उसे खरीदने से इनकार कर देते क्योंकि ऐसी मान्यता है कि जहां शनि होगा, वहां से लक्ष्मी चली जाएगी। ऐसा कौन होता जो मूर्ती रखकर अपने यहां से लक्ष्मी की विदाई करता, सो उसकी मूर्ति नहीं बिकी। बात राजा के पास पहुंची। राजा ने उसे बुलाया और कहा,' मैं अपने वचन पर दृढ़ हूं। मैं इस मूर्ति को अवश्य खरीदूंगा।' मंत्री ने राजा को समझाया कि वह ऐसा अनर्थ न करें, मगर राजा सत्यवर्ती अपने निर्णय से टस से मस नहीं हुए। उन्होंने सवा लाख मुद्राएं देकर मूर्ति खरीद ली।

रात में राजा के सपने में लक्ष्मी प्रकट हुईं और बोलीं, 'मैं जा रही हूं।'

' क्यों?' राजा ने पूछा। 'तुमने मेरे निवास स्थान पर शनि देव को प्रतिष्ठित कर दिया। मैं यहां नहीं रह सकती।' इस पर राजा हंसे। बोले 'मुझे पता है आप यहां से नहीं जाएंगी।'

' क्यों, तुम्हें ऐसा क्यों लगता है।'

' मैं तो यही जानता हूं कि लक्ष्मी वहां निवास करती है जहां धर्म रहता है। और धर्म वहां रहता है जहां सत्य रहता है। मैंने वचन दिया था कि जो भी चीजें नहीं बिकेंगी मैं उन्हें खरीदूंगा, इसलिए मैंने वह मूर्ति खरीदी। मैंने अपने सत्य की रक्षा की। अगर इसके लिए मुझे आपको खोना भी पड़े तो मैं तैयार हूं।'

' तुम मेरी परीक्षा में सफल हुए। मैं यहां से कहीं नहीं जाऊंगी।' लक्ष्मी ने जवाब दिया।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Kavitaparna on April 29, 2007, 12:05:54 PM
OM SRI SAI RAM

SRI NARASIMHA JAYANTHI -  01.05.2007


The fourth and the greatest incarnation of Lord Vishnu amongst his ten prime avataras is Lord Narasimha who emerged out of a pillar as Man-Lion, i.e.,Lion's head on Man's trunk. He devoured Demon-Lord Hiranyakashyapu who was Master Prahalada's father. When Prahalada was in the womb of his mother, Queen Kayaadu, he had the fortune of listening to Devarishi Naradha regarding Lord Vishnu's compassion towards his devotees. Hence right from his birth Prahalada was dedicated to the name of Lord Vishnu.

Hiranyakashyapu who was an arch rival of Lord Vishnu and a symbol of torture to noble souls, could not bear with his son and started torturing young Prahalada in many ways after trying through his henchmen to advice Prahalada that Hiranyakashyapu himself was the prime god and Lord Vishnu stood null in front of Hiranyakashyapu. Young Prahalada denounced such thoughts and stuck to his wisdom that Lord Vishnu was "Purushothama", the supreme. One day, Hiranyakashyapu screamed at Prahalada and questioned him as to where his Lord Vishnu was present and whether he could save Prahalada from death at his own hands.

To this, Prahalada replied that Lord Vishnu is omnipresent. Hiranyakashyapu pointed out at a pillar in his palace and asked Prahalada whether Vishnu was present in it. Prahalada's reply was affirmative.The Demon using his Gadha(Mace) broke open the pillar and there emerged Lord Narasimha who slained the demon using his sharp paws and blessed Prahalad as his topmost devotee on earth.To mark the above incidence and to pay our respect to the Lord, Narasimha Jayanthi is celebrated at several temples.

Lakshmi Nrisimha Mama Dehi Karavalambam!!

JAI SRI SAI RAM

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Radha on April 29, 2007, 08:38:36 PM
जय सांई राम।।।

भारतीय नर्क  

एक बार एक भारतीय व्यक्ति मरकर नर्क में पहुँचा, तो वहाँ उसने देखा कि प्रत्येक व्यक्ति को किसी भी देश के नर्क में जाने की छूट है । उसने सोचा, चलो अमेरिकावासियों के नर्क में जाकर देखें, जब वह वहाँ पहुँचा तो द्वार पर पहरेदार से उसने पूछा - क्यों भाई अमेरिकी नर्क में क्या-क्या होता है ? पहरेदार बोला - कुछ खास नहीं, सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे बरसायेगा... बस ! यह सुनकर वह व्यक्ति बहुत घबराया और उसने रूस के नर्क की ओर रुख किया, और वहाँ के पहरेदार से भी वही पूछा, रूस के पहरेदार ने भी लगभग वही वाकया सुनाया जो वह अमेरिका के नर्क में सुनकर आया था । फ़िर वह व्यक्ति एक-एक करके सभी देशों के नर्कों के दरवाजे जाकर आया, सभी जगह उसे एक से बढकर एक भयानक किस्से सुनने को मिले । अन्त में थक-हार कर जब वह एक जगह पहुँचा, देखा तो दरवाजे पर लिखा था "भारतीय नर्क" और उस दरवाजे के बाहर उस नर्क में जाने के लिये लम्बी लाईन लगी थी, लोग भारतीय नर्क में जाने को उतावले हो रहे थे, उसने सोचा कि जरूर यहाँ सजा कम मिलती होगी... तत्काल उसने पहरेदार से पूछा कि यहाँ के नर्क में सजा की क्या व्यवस्था है ? पहरेदार ने कहा - कुछ खास नहीं...सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे बरसायेगा... बस ! चकराये हुए व्यक्ति ने उससे पूछा - यही सब तो बाकी देशों के नर्क में भी हो रहा है, फ़िर यहाँ इतनी भीड क्यों है ? पहरेदार बोला - इलेक्ट्रिक चेयर तो वही है, लेकिन बिजली नहीं है, कीलों वाले बिस्तर में से कीलें कोई निकाल ले गया है, और कोडे़ मारने वाला दैत्य सरकारी कर्मचारी है, आता है, दस्तखत करता है और चाय-नाश्ता करने चला जाता है...और कभी गलती से जल्दी वापस आ भी गया तो एक-दो कोडे़ मारता है और पचास लिख देता है...चलो आ जाओ अन्दर !!!

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

ॐ सांई राम।।।

Jai Sai Ram!!!
Ramesh bhai.....mazaa aa gaya!!! I hope ki kaheen bharatiya swarg ke bhi aise haal na ho....
Om Sai Ram!!!
Radha.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on April 29, 2007, 09:50:38 PM
जय सांई राम।।।

भारतीय नर्क  

एक बार एक भारतीय व्यक्ति मरकर नर्क में पहुँचा, तो वहाँ उसने देखा कि प्रत्येक व्यक्ति को किसी भी देश के नर्क में जाने की छूट है । उसने सोचा, चलो अमेरिकावासियों के नर्क में जाकर देखें, जब वह वहाँ पहुँचा तो द्वार पर पहरेदार से उसने पूछा - क्यों भाई अमेरिकी नर्क में क्या-क्या होता है ? पहरेदार बोला - कुछ खास नहीं, सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे बरसायेगा... बस ! यह सुनकर वह व्यक्ति बहुत घबराया और उसने रूस के नर्क की ओर रुख किया, और वहाँ के पहरेदार से भी वही पूछा, रूस के पहरेदार ने भी लगभग वही वाकया सुनाया जो वह अमेरिका के नर्क में सुनकर आया था । फ़िर वह व्यक्ति एक-एक करके सभी देशों के नर्कों के दरवाजे जाकर आया, सभी जगह उसे एक से बढकर एक भयानक किस्से सुनने को मिले । अन्त में थक-हार कर जब वह एक जगह पहुँचा, देखा तो दरवाजे पर लिखा था "भारतीय नर्क" और उस दरवाजे के बाहर उस नर्क में जाने के लिये लम्बी लाईन लगी थी, लोग भारतीय नर्क में जाने को उतावले हो रहे थे, उसने सोचा कि जरूर यहाँ सजा कम मिलती होगी... तत्काल उसने पहरेदार से पूछा कि यहाँ के नर्क में सजा की क्या व्यवस्था है ? पहरेदार ने कहा - कुछ खास नहीं...सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे बरसायेगा... बस ! चकराये हुए व्यक्ति ने उससे पूछा - यही सब तो बाकी देशों के नर्क में भी हो रहा है, फ़िर यहाँ इतनी भीड क्यों है ? पहरेदार बोला - इलेक्ट्रिक चेयर तो वही है, लेकिन बिजली नहीं है, कीलों वाले बिस्तर में से कीलें कोई निकाल ले गया है, और कोडे़ मारने वाला दैत्य सरकारी कर्मचारी है, आता है, दस्तखत करता है और चाय-नाश्ता करने चला जाता है...और कभी गलती से जल्दी वापस आ भी गया तो एक-दो कोडे़ मारता है और पचास लिख देता है...चलो आ जाओ अन्दर !!!

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

ॐ सांई राम।।।

Jai Sai Ram!!!
Ramesh bhai.....mazaa aa gaya!!! I hope ki kaheen bharatiya swarg ke bhi aise haal na ho....
Om Sai Ram!!!
Radha.

om sai ram....

sach main hamare desh ka kya haal hai....kab ho ga sab theek...narak tak toh theek hai ...par........
yha k toh hospitals, ralway  station , bas stands, goverment offices, aur................list bahut lambi hai ka bhi yhe haal hai...
JEETE JAGTE HE NARAK K DARSHAN HAI.....

jai sai ram...
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 30, 2007, 03:05:10 AM
जय सांई राम

महात्मा की अग्नि  

सूत्र एक महान संत थे। उनके बारे में प्रसिद्ध है कि जन्म के समय ही उनके मुंह में पूरे दांत थे। इसे देखकर पंडितों ने कहा कि यह बालक माता-पिता के लिए अमंगलकारी होगा। यह सुनकर सूत्र के मां-बाप ने उन्हें घर से निकाल दिया। सूत्र घर से निकल कर ईश्वर की साधना में लग गए। उनकी कीर्ति फैलने लगी। सभी धर्मों और समुदायों के लोग उनके अनुयायी बनने लगे। एक बार सूत्र से मिलने एक महात्मा आए। उनके साथ कई शिष्य भी थे। वे महात्मा सूत्र के प्रति ईर्ष्या का भाव रखते थे। इसे सूत्र ने भांप लिया था। महात्मा से थोड़ी देर बातचीत के बाद सूत्र ने कहा, 'मुझे धुएं की गंध आ रही है। कृपया मुझे अग्नि दीजिए।' महात्मा ने कहा, 'मेरे पास अग्नि नहीं है।' सूत्र ने फिर कहा, 'अपनी अग्नि दे दीजिए।'

महात्मा ने दोहराया कि उनके पास अग्नि नहीं है। इस पर बहस बढ़ने लगी। महात्मा आगबबूला हो गए। अचानक उन्होंने चिल्ला कर कहा, 'मेरे सामने से हट जाओ, वरना जान से मार दूंगा।' सूत्र ने हंसते हुए कहा, 'अरे, कितनी प्रचंड अग्नि है आपके पास और आप इसे देने से इनकार कर रहे हैं।' महात्मा को अपनी भूल का अहसास हो गया। उन्होंने सूत्र से क्षमा मांगी।
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 01, 2007, 11:08:45 AM
जय सांई राम।।।

जनक की सीख
 
शुकदेव राजा जनक के यहां ज्ञान प्राप्त करने के लिए आए। जनक को ऊंचे सिंहासन पर बैठे देख सोचने लगे कि माया में लिप्त यह राजा उन्हें क्या ज्ञान देगा? तभी खबर आई कि महल में आग लग गई है। राजा जनक यह सुनकर किंचित भी नहीं घबराए। वह उसी तरह प्रसन्न बैठे रहे, पर शुकदेव चिंतित हो गए। जनक ने पूछा, 'महल में आग लगने से आपको चिंता क्यों हो गई है?' शुकदेव जी ने उत्तर दिया, 'मेरा दंड और कमंडल द्वार पर ही रखा है। कहीं वे जल न जाएं।'

इस पर राजा ने कहा, 'मुझे महल के जलने की भी चिंता नहीं है और आपको दंड और कमंडल की चिंता हो गई। इसका कारण समझे? यही कि मैं राज्य करता हुआ और महल में रहता हुआ भी इनसे तटस्थ रहता हूं। मैं इनको अपना नहीं मानता और आप दंड-कमंडल को अपना मानते हैं। मेरा ज्ञान और शिक्षा यही है कि जिस प्रकार मैं निर्लिप्त रहता हूं, उसी प्रकार आप भी तटस्थ रहें। संसार के किसी भी पदार्थ को अपना मत समझें, न किसी पदार्थ से अपना स्थायी संबंध मानें, बल्कि यह समझें कि आत्मा अजर, अमर, अविनाशी है और संसार के समस्त पदार्थ नाशवान हैं।' 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई।


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 02, 2007, 09:10:23 AM
जय सांई राम

आस्था और विश्वास  
 
एक बार एक राज्य में काफी समय तक वर्षा नहीं हुई। नदी-तालाब सूखने लगे, धीरे-धीरे सारी फसलें सूख गईं। लोगों के लिए खाने का संकट पैदा हुआ। मवेशियों के लिए भी चारा नहीं रह गया। चारों ओर त्राहि-त्राहि मचने लगी। परेशान लोग बारिश के उपाय सोचने लगे। अंत में सभी ने मिलकर निर्णय किया कि राजा इंद्र को प्रसन्न करने के लिए एक विशाल यज्ञ किया जाए। लोग तत्काल तैयारियों में जुट गए। यज्ञ के लिए घी और दूसरी हवन सामग्री लेकर लोग यज्ञ स्थल पर जुटने लगे। राज्य के कोने-कोने से लोग आए। देखते ही देखते वहां मेले जैसा माहौल हो गया। इतने लोगों का जमावड़ा देखकर एक नन्हे बच्चे ने अपनी मां से पूछा, 'मां, यह सब क्या हो रहा है। इतने सारे लोग क्यों आ रहे हैं। 'मां ने बेटे को समझाया, 'बेटा,  लंबे समय से वर्षा न होने से फसलें सूख गई हैं, जिससे आदमी और जानवर भूखे-प्यासे हैं, भारी कष्ट में हैं। इसलिए वर्षा के देवता इंद्र को प्रसन्न करने के लिए यज्ञ का आयोजन किया जा रहा है।'

बच्चे ने कहा,  'मां जब हर आदमी इसमें भाग ले रहा है तो क्यों न हम भी इसमें शामिल हों। 'मां बोली, 'हां, हां क्यों नहीं, जरूर शामिल होना चाहिए। 'बस अगले ही दिन वह बच्चा यज्ञ स्थल पर पहुंच गया। वहां उपस्थित सारे लोग उसे देखकर हंस रहे थे, क्योंकि वह अपने सिर पर छाता ताने हुए था। बच्चे ने उन सबसे पूछा कि आखिर वे क्यों हंस रहे हैं? सब चुप हो गए। तभी एक महात्मा ने उस बच्चे से कहा, 'सुनो बेटे। मैं बताता हूं,  दरअसल ये सभी अपनी नादानी पर ही हंस रहे हैं। इतने बड़े यज्ञ का आयोजन करने के बाद भी इन सब को अपनी मेहनत के परिणाम पर भरोसा नहीं है। जबकि तुम यह पूरा विश्वास करके यहां आए हो कि जब इतने लोग एक साथ मिलकर कोई कार्य कर रहे हैं तो उसका फल अवश्य मिलेगा, यानी पानी जरूर बरसेगा। हमें अपनी मेहनत की सफलता पर भी विश्वास करना चाहिए। उसके परिणाम पर आस्था रखनी चाहिए।'

इसी तरह हम सबको अपने बाबा सांई पर पूर्ण आस्था और विश्वास रखना चाहिये कि जो भी वो हमारे लिये कर रहे है उससे बेहतर कुछ और हो नही सकता। 
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Dnarang on May 05, 2007, 04:14:55 AM
OM SAI RAM

DONKEY AND THE FARMER

One day a farmer's donkey fell down into a well. The animal cried piteously for hours as the farmer tried to figure out what to do. Finally he decided the animal was old and the well needed to be covered up anyway; it just wasn't worth it to retrieve the donkey. He invited all his neighbors to come over and help him. They all grabbed a shovel and began to shovel dirt into the well. At first, the donkey realized what was happening and cried horribly. Then, to everyone's amazement, he quieted down.

A few shovel loads later, the farmer finally looked down the well and was astonished at what he saw. With every shovel of dirt that hit his back, the donkey was doing something amazing. He would shake it off and take a step up. As the farmer's neighbors continued to shovel dirt on top of the animal, he would shake it off and take a step up. Pretty soon, everyone was amazed as the donkey stepped up over the edge of the well and trotted off!

Life is going to shovel dirt on you, all kinds of dirt. The trick to getting out of the well is to shake it off and take a step up. Each of our troubles is a stepping stone. We can get out of the deepest wells just by not stopping, never giving up! Shake it off and take a step up!
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 05, 2007, 07:14:10 AM
जय सांई राम

आत्मनिर्भरता की भावना  

उन दिनों स्वामी विवेकानंद पैरिस में थे। एक दिन वह बग्घी में सैर के लिए निकले। ज्यों ही बग्घी एक गली में पहुंची, एक नौकरानी दो छोटे खूबसूरत बच्चों के साथ आती दिखी। उन्हें देखते ही कोचवान ने बग्घी रोक दी। उसने उतरकर उन बच्चों को प्यार किया, फिर अपनी सीट पर आकर बैठ गया। वे बच्चे पहनावे से ऊंचे घराने के दिखते थे। उनके साथ कोचवान की इतनी घनिष्ठता देखकर विवेकानंद प्रसन्न हुए। उन्होंने पूछा, 'कौन हैं ये?'

' ये मेरे बच्चे हैं।' कोचवान ने मुस्कारते हुए कहा और बग्घी आगे बढ़ा दी। कुछ दूर चलने के बाद उसने स्वामी जी को अपने बारे में बताना शुरू किया, 'मैं पैरिस बैंक का मालिक था। आजकल उसकी हालत खस्ता हो गई है। मैंने महसूस कर लिया कि मुझे अपनी लेनदारियां वसूलने और देनदारियां चुकाने में वक्त लगेगा। लेकिन मैं दूसरों पर बोझ नहीं बनना चाहता। मैंने गांव में एक छोटा सा मकान किराए पर ले रखा है। मेरे और मेरी पत्नी के पास जो कुछ था उससे यह बग्घी खरीद ली है। मेरी पत्नी भी उपार्जन कर लेती है। दोनों की आय से बच्चों का खर्च चल जाता है। जब कर्ज चुका दूंगा और लेनदारी वसूल कर लूंगा, बैंक चालू कर दूंगा।'

स्वामी जी आनंदित होकर बोले, ' मैं तुम्हें सच्चा वेदांती मानता हूं। तुम हैसियत से गिर कर भी परिस्थितियों से नहीं हारे। यह है आत्मनिर्भरता की सच्ची भावना।' 
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 12, 2007, 02:09:47 AM

जय सांई राम।।।

श्रेष्ठ कौन  
 
एक राजा अपने राज्य में आने वाले हर ज्ञानी व्यक्ति से पूछता था कि संन्यास श्रेष्ठ है या गृहस्थाश्रम। एक बार उसके राज्य में दूर से एक संत आए। राजा ने उनसे भी यही प्रश्न किया। संत ने कहा, 'अपनी-अपनी जगह दोनों श्रेष्ठ हैं।' राजा ने कहा, 'क्या आप इसे सिद्ध कर सकते हैं?' संत ने कहा, 'इसके लिए तुम्हें मेरे साथ कुछ दिन रहना होगा।' राजा संत के साथ चलकर किसी दूसरे राज्य में पहुंच गया। वहां की राजकुमारी एकत्रित जन समुदाय में से अपने लिए वर चुनने जा रही थी। वह इकलौती संतान थी और उसके पति को ही उस राज्य का शासक बनना था। संत राजा को साथ लेकर समारोह स्थल पर पहुंच गए। नियत समय पर राजकुमारी आई और उसने वहां उपस्थित एक युवा संन्यासी के गले में वरमाला डाल दी।

संन्यासी ने गले से वरमाला निकालकर फेंकते हुए कहा, 'मैं संन्यासी हूं। मेरे लिए विवाह का कोई अर्थ नहीं है।' वह वहां से निकल कर जंगल की ओर चला गया। उसे अपना पति मान चुकी राजकुमारी भी रोती हुई उसके पीछे भागी। राजा और संत भी उसका पीछा करते हुए चले। संन्यासी जंगल में खो गया। राजकुमारी, संत और राजा एक वटवृक्ष की छाया में रुक गए। उन्होंने तय किया कि अगले दिन रास्ता खोजकर बाहर निकलेंगे। वृक्ष के ऊपर एक पक्षी परिवार रहता था। सदीर् और भूख से पीडि़त तीन अतिथियों को देख पक्षियों ने इधर-उधर से तिनके लाकर आग का प्रबंध किया और उनके भोजन के लिए स्वयं को आग के हवाले कर दिया। तीनों अतिथियों को समझते देर न लगी कि पक्षियों ने अपना बलिदान उनके लिए ही किया है। वे पक्षियों के इस आतिथ्य को स्वीकार न कर सके। सवेरा होते ही संत और राजा ने राजकुमारी को महल का रास्ता दिखाया। तब संत ने राजा से कहा, 'अगर गृहस्थ बनकर रहना है तो इन पक्षियों की तरह रहो जिन्होंने दूसरों के लिए अपनी जान दे दी और अगर संन्यासी होना है तो उस युवा संन्यासी की तरह रहो, जिसके लिए सुन्दर राजकुमारी और राज्य भी तुच्छ था।' 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 15, 2007, 04:10:04 AM
जय सांई राम

जीत और हार
 
विश्वामित्र एक वीर राजा, महाज्ञानी, मगर क्रोधी, अभिमानी और प्रभु के परम भक्त थे। एक बार वह अपनी सेना सहित महर्षि वशिष्ठ के आश्रम में पहुंचे। दोपहर का समय था। मुनि वशिष्ठ ने राजा का स्वागत किया। थोड़ी ही देर में भोजन तैयार हो गया। विश्वामित्र ने भोजन किया और प्रसन्न होते हुए कहा, हे मुनिश्रेष्ठ! इतना स्वादिष्ट भोजन इतनी जल्दी कैसे तैयार हो गया? वशिष्ठ बोले, राजन, यह सब तो नंदिनी की कृपा है।

तो फिर नंदिनी को आप हमें दे दो मुनिवर! विश्वामित्र ने कहा। नहीं राजन, ऐसा नहीं हो सकता, वशिष्ठ ने कहा। विश्वामित्र को क्रोध आ गया, गुस्से में बोले, नहीं दोगे तो हम छीन कर ले जाएंगे। उन्होंने अपने सैनिकों से कहा कि नंदिनी को जबरन हांक कर ले चलो।

जैसे ही विश्वामित्र के सैनिक आगे बढ़े, आश्रम के शिष्य उनके विरोध में खड़े हो गए। दोनों तरफ से संघर्ष शुरू हो गया। इस लड़ाई में विश्वामित्र के सैनिकों को पीछे हटना पड़ा। हार से कुपित होकर विश्वामित्र तप पर बैठ गए। उनके तप से प्रसन्न होकर एक दिन भगवान शंकर प्रकट हुए और बोले, राजन! वर मांगो। विश्वामित्र ने कहा, प्रभु! मुझे शत्रु विजय का वरदान दीजिए।

तथास्तु कह कर प्रभु लोप हो गए। विश्वामित्र ने बदले की भावना से एक बार फिर वशिष्ठ के आश्रम पर धावा बोल दिया। लेकिन इस बार भी उन्हें सफलता नहीं मिली। विश्वामित्र फिर से तपस्या पर बैठे। इस बार उनकी तपस्या खत्म ही नहीं हो रही थी। आखिर में ब्रह्मादेव विश्वामित्र के पास गए और कहा, मुनिश्रेष्ठ! आपकी आराधना पूरी हो गई। विश्वामित्र ने कहा, प्रभु मेरी इच्छा है कि मुझे सारे वेदों का पूर्ण ज्ञान प्राप्त हो और मुनि वशिष्ठ मुझे ब्रह्मर्षि कहें। तभी वशिष्ठ वहाँ उपस्थित हो गए और बोले, हे मुनिश्रेष्ठ! ब्रह्मर्षि तो आप हैं ही, आप जैसा महान ज्ञानी इस संसार में कोई दूसरा नहीं है। हार तो आप के अंदर बैठे राजदंभ, क्रोध, अहंकार, अन्याय और बदले की भावना की हुई थी। 
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 15, 2007, 09:05:52 PM
जय सांई राम

परमात्मा का भरोसा    

रामलाल एक मंदिर के पुजारी थे। उनको परमात्मा पर पूरा भरोसा था। हर रोज मंदिर में दिन भर जो भी चढ़ावा आता, उसमें से अपनी जरूरत लायक सामग्री निकाल कर बाकी सब वह बांट देते थे। रात पूरा परिवार संग्रह मुक्त बन कर सोता था। दूसरे दिन फिर नए सिरे से दान-दक्षिणा प्राप्त हो जाती थी। सालों साल ऐसे ही चलता रहा। रामलाल को कभी किसी चीज की कमी नहीं हुई। ईश्वर पर उन्हें पूरा भरोसा था। लेकिन सब दिन एक से नहीं होते। एक दिन रामलाल बीमार हो गए। उस दिन भी जो कुछ प्राप्ति हुई उसे उनकी पत्नी ने नियमानुसार बांट दिया। लेकिन पति की चिंता थी। सोचा रात-बिरात अगर रामलाल को दवा की जरूरत पड़ी तो किसके पास मांगने जाएंगे। सो पांच रुपये बचा कर रख लिए।

रात गहराने के साथ-साथ रामलाल की बेचैनी भी बढ़ने लगी। आखिर उन्होंने अपनी पत्नी को बुला कर पूछ ही लिया। कहीं तुमने कुछ बचाकर रख तो नहीं लिया है? मेरी सांस अटक रही है। मेरे और परमात्मा के बीच कुछ बाधा मालूम पड़ रही है। पत्नी पहले से ही बहुत घबराई हुई थी, उसने तुरंत बता दिया। कहा, मुझे क्षमा करना, मैंने पाँच रुपये बचा लिए हैं। रामलाल ने कहा, जीवन भर मेरे साथ रहकर भी यह नहीं समझ पाई कि जो भरी दोपहरी में देता है, वह आधी रात में क्यों नहीं दे सकता? उसके लिए क्या कठिनाई है? बाहर जाकर देखो, एक भिखारी द्वार पर खड़ा है। रामलाल की पत्नी ने देखा, सचमुच आधी रात के समय द्वार पर एक भिखारी खड़ा था। उसने कहा, मैं रास्ता भटक गया हूँ। रास्ते में डाकुओं ने मेरा सामान भी छीन लिया। अगर मुझे पाँच रुपये मिल जाएँ तो मैं अपने गाँव तक पहुँच जाऊं। रामलाल की पत्नी ने बचा कर रखे हुए पांच रुपये उसे दे दिए। रामलाल ने चादर ओढ़ी और सांस छोड़ दी, मानो परमात्मा और उनके बीच अब कोई बाधा न रही हो।
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 17, 2007, 05:00:21 AM
जय सांई राम

अपनी-अपनी सोच  
 
एक आश्रम में दो भाई विद्या प्राप्त करने के लिए रहते थे। उनमें से छोटा भाई औसत से कम बुद्धि वाला था। उसकी एक आंख नहीं थी। उसका स्वभाव भी गुस्सैल था। खासकर जब कोई उसकी आंख के बारे में उसे ताना देता या मजाक उड़ाता तो वह तैश खाकर उसे मारने दौड़ता। एक बार गुरु की अनुपस्थिति में बाहर से कोई दूसरा जेन भिक्षु आया और उन्हें वाद-विवाद के लिए ललकारा। दोनों भाई तभी आश्रम में लौटे थे। बड़ा भाई थका था। वह वाद-विवाद के लिए तैयार नहीं था। उसने छोटे भाई को भिक्षु से मिलने भेज दिया। कुछ समय बाद वह भिक्षु हांफता हुआ बड़े भाई के पास आया। उसने कहा, तुम्हारा भाई तो बड़ा विद्वान है। बुद्ध एक है, इसका संकेत देने के लिए जब मैंने एक उंगली दिखाई तो उसने मुझे दो उंगलियां दिखा कर याद दिलाया कि बुद्ध तो एक है, लेकिन उनके बताए तत्व भी तो हैं। मैं मान गया। फिर जब मैंने तीन उंगलियां दिखाकर उससे कहा कि इस तरह तो बुद्ध, उनकी दी हुई सीख और संघ तीनों को गिनना पड़ेगा, जानते हैं तब उसने क्या कहा? उसने बड़े आवेश के साथ मुट्ठी भींचकर दिखाई, जिसका मतलब था तीनों एक में ही समाहित हैं, जिसे आत्मबोध कहते हैं। आपका भाई बड़ा विद्वान है, मैं अपनी हार मानता हूं।

भिक्षु के जाने के थोड़ी ही देर बाद छोटा भाई वहाँ पहुँचा। उसने बड़े भाई से उसकी शिकायत करते हुए कहा, भिक्षु ने मेरा अपमान किया है। छोडूंगा नहीं मैं उसे। बड़े भाई के पूछने पर उसने बताया कि पहले तो उसने मेरी एक आंख का मजाक उड़ाने के लिए एक उंगली दिखाई। फिर जब मैंने मजाक को नजरअंदाज करते हुए- दो उंगलियाँ दिखाकर उसे यह संकेत दिया कि दो आंखें पा कर वह कितना भाग्यशाली है, तो वह तीन उंगलियाँ दिखाकर इशारे से यह बताने लगा कि हम दोनों की मिलाकर कुल तीन आंखें होती हैं। छोड़ूंगा नहीं मैं उसे। 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 18, 2007, 04:21:48 AM
जय सांई राम

महर्षि का त्याग   

वृत्रासुर के अत्याचारों से तीनों लोक कांपने लगे थे। चारों तरफ त्राहि-त्राहि मच गई। उसने देवताओं की हत्या कर असुरों का राज्य स्थापित करने की योजना बनाई। उसके अत्याचारों से घबरा कर ऋषि-मुनि और साधु-संत जंगलों-पहाड़ों में जाकर छुपने लगे। उसके अत्याचारों से भयभीत होकर देवराज इन्द्र अपने गणों को लेकर भगवान शिव के पास गए और कहा, हे तीनों लोकों के स्वामी! आपकी शक्ति पाकर वृत्रासुर का अत्याचार बढ़ता जा रहा है। वह ऋषियों-मुनियों की हत्या कर रहा है। उसे रोकिए, नहीं तो पूरी धरती ज्ञानियों-ध्यानियों और संतों से खाली हो जाएगी। भगवान शिव ने कहा, देवराज इन्द्र, मैं अपने हर भक्त को कष्ट में अथवा संकट में देख कर अपने हृदय में कष्ट महसूस करता हूं। लेकिन वृत्रासुर के अत्याचारों को मैं भी नहीं रोक सकता। उसकी मृत्यु किसी ऐसे ऋषि की हड्डियों से बने धनुष से ही हो सकती है, जो ब्रह्मशास्त्र का ज्ञाता हो। यह शस्त्र महामुनि दधीचि की हड्डियों से बन सकता है। इसलिए आप लोग दधीचि के पास ही जाकर उनसे प्रार्थना करें कि वह अपना शरीर दान कर दें। लेकिन प्रभु, कोई अपना शरीर कैसे त्याग सकता है? यह तो बहुत कठिन काम है, देवराज इन्द्र ने कहा। भगवान शिव बोले, और कोई उपाय नहीं है देवराज!

देवराज अपने गणों को लेकर दधीचि के पास गए और कहा, मुनिवर! हमारी रक्षा कीजिए। महर्षि बोले, नि:संकोच कहें देवराज! मेरे लिए क्या आदेश है? देवराज इन्द्र ने बताया, हे मुनिवर! वृत्रासुर के अत्याचारों से तीनों लोकों में त्राहि-त्राहि मची हुई है। भगवान शिव ने बताया कि उसकी मौत आपकी हड्डियों से बने शस्त्र से ही हो सकती है। यदि आप अपने प्राण त्याग कर अपना शरीर हमें दे दें, तो उन हड्डियों से विश्वकर्मा से वज्र तैयार करवा कर उस पापी असुर का संहार किया जा सकता है।

इस पर महर्षि दधीचि ने कहा, हे देवराज! यदि मेरे शरीर से आप सबों की रक्षा और किसी राक्षस का अंत हो सकता है, तो मैं अपना शरीर सहर्ष त्यागने को तैयार हूं। और जन कल्याण के लिए उन्होंने अपना शरीर त्याग दिया। 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 19, 2007, 02:57:22 AM
जय सांई राम

भाग्य का फैसला   

युद्ध के दौरान एक जनरल को दुश्मनों की एक ऐसी टुकड़ी पर हमला करने का निर्णय लेना पड़ा, जिसमें उसकी टुकड़ी से कहीं ज्यादा जवान थे। कुछ रणनीतिक कारणों से जनरल को पूरा यकीन था कि जीत आखिर उसी की फौज की होनी है, लेकिन उसकी टुकड़ी के जवानों को यह उसका कोरा आशावाद लग रहा था। जनरल हर किसी को समझा तो नहीं सकता था सो उसने आगे बढ़ने का हुक्म भर दिया। आगे बढ़ने वाली सेना में उत्साह बिल्कुल नहीं था। हर जवान मानो सूली पर लटकने के लिए आगे बढ़ रहा था। जनरल ने महसूस किया कि जवानों की इस मानसिकता के साथ जीत को खींच कर अपने पाले में ले आना मुश्किल था। क्या करें, इसी सोच में जनरल पड़ा था कि रास्ते में एक मंदिर दिखा।

जनरल ने सैनिकों को कुछ समय के लिए विश्राम करने का आदेश दिया। इस दौरान जवानों ने भगवान के आगे मत्था टेका। जब वे आगे बढ़ने के लिए तैयार हुए तब जनरल ने सब सैनिकों को सम्बोधित करते हुए कहा, हमारी जीत पक्की है इसका मुझे पूरा विश्वास हो गया है, क्योंकि अब हमें भगवान का भी आशीर्वाद प्राप्त है। यदि उसकी इच्छा नहीं होती तो रास्ते में अचानक यह मंदिर नहीं मिलता। फिर भी भविष्य में क्या लिखा है, यह जानने का मेरे पास एक उपाय है। हम भगवान का नाम लेकर यह सिक्का उछालेंगे। अगर चित आया तो जीत हमारी होगी और अगर पट आया तो शायद वह हमारी हार का संकेत हो। जनरल ने सिक्का हवा में उछाला, वह आकर चित गिरा। सैनिकों को अब अपनी जीत का यकीन सा होने लगा और वे अदम्य उत्साह के साथ आगे बढ़े। बड़ी दिलेरी से हर जवान लड़ा और आखिर उन्हीं की जीत हुई। जीत का जश्न मनाते हुए सैनिकों में से एक लेफ्टिनेंट ने आकर जनरल से कहा, आखिर भाग्य को कोई नहीं बदल सकता। जनरल हंसा और उसने जेब से वही सिक्का निकालकर दिखाया जो उसने हार-जीत पक्की करने के लिए उछाला था। सिक्के के दोनों तरफ चित का ही चिन्ह था। 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 20, 2007, 07:40:18 AM
जय सांई राम

आलस बुरी बला!    

पुराने समय में चंपापुरी नाम का एक बहुत बड़ा राज्य था। वहां के राजा का नाम लक्ष्मण सिंह था। राजा रोज सुबह राजभवन में सभा बुलाकर अनेक लोगों की समस्याएं सुनकर उनका निदान किया करते थे। एक दिन सभा में एक ऐसा व्यक्ति आया, जिसने बहुत पुराने व फटे हुए वस्त्र पहने हुए थे। उसकी हालत देखते ही राज भवन में बैठे सभी लोगों को दया आ गई। राजा ने उससे पूछा कि तुम्हें क्या परेशानी है! उस व्यक्ति ने राजा से हाथ जोड़कर बोला कि मैं बहुत गरीब हूं। मुझे सोने के कुछ सिक्के चाहिए और केवल आप ही मेरी मदद कर सकते हैं।

राजा ने सारी बात सुनने के बाद उससे पूछा कि तुम कुछ काम क्यों नहीं करते! उस व्यक्ति ने उत्तर में कहा कि मैं कुछ भी काम करने में असमर्थ हूं, क्योंकि सब कहते हैं कि मैं बहुत आलसी हूं और यह कहकर वह चुप हो गया। यह सुनकर राजा ने उससे कहा कि लेकिन सब तुम्हें आलसी क्यों कहते हैं! व्यक्ति बोला कि मैं नहीं जानता कि लोग ऐसा क्यों कहते हैं, लेकिन मुझसे कोई काम नहीं किया जाता, इसीलिए कृपया आप मुझे कुछ सोने के सिक्के दे दें। सारी बात सुनकर राजा समझ गया कि यह एक आलसी व्यक्ति है। राजा ने उससे कहा कि ठीक है, तुम मेरे मंत्री से थोड़े सोने के सिक्के ले सकते हो, लेकिन यह ध्यान रहे कि तुम्हें सिक्के केवल शाम तक ही मिलेंगे, यदि तुम्हें मंत्री के पास पहुंचने में रात हो गई, तो वह तुम्हें सिक्के नहीं देगा। ऐसा सुनकर वह व्यक्ति बहुत खुश हुआ और यह खुशखबरी अपनी पत्नी को बताने के लिए अपने गांव की ओर चल दिया। सिक्के मिलने की बात सुनकर पत्नी बहुत खुश हुई।

अगले दिन सुबह नाश्ता करते ही वह मंत्री के घर की तरफ चल दिया। थोड़ी दूर चलने के बाद उसे आम का एक घना पेड़ दिखाई दिया। कुछ समय आराम करने के लिए वह पेड़ के नीचे बैठ गया, लेकिन बैठते ही उसे नींद आ गई और वह सो गया। नींद के बाद जब वह उठा, तब दोपहर हो चुकी थी। वह सोचने लगा कि नींद में मैंने बहुत समय नष्ट कर दिया, लेकिन अब भी मैं समय पर मंत्री के घर पहुंच सकता हूं और उसने दोबारा यात्रा प्रारम्भ कर दी। रास्ते में कुछ आगे चलकर उसे मेला दिखाई दिया। उसने सोचा कि अभी तो समय बाकी है, मैं कुछ समय मेला देखकर मंत्री के घर पहुंच जाऊंगा। वह मेले में बहुत देर तक आनंद लेता रहा। मेले के दौरान वह भूल गया कि उसे सिक्के लेने मंत्री के पास भी जाना है। शाम के समय जब सूरज अस्त होने लगा, तब उसे मंत्री के पास जाने की बात याद आई। वह तुरंत मंत्री के घर की तरफ दौड़ा, लेकिन जब तक वह मंत्री के घर पहुंचा, तब तक सूरज छिप चुका था और वह राजा द्वारा बताए समय से बहुत लेट था। जैसे ही वह मंत्री के घर पहुंचा, तो उसे सिपाहियों ने रोक लिया। उन्होंने कहा कि तुमने समय पर न आकर सोने के सिक्के पाने का अवसर खो दिया है। अब, तुम्हें कुछ भी नहीं मिलेगा।

गरीब व्यक्ति यह सुनकर बहुत दुखी हुआ। वह दुखी मन से अपने घर लौट गया। उसने सारी घटना अपनी पत्नी को बताई, सब कुछ सुनने के बाद पत्नी ने भी उसे बहुत भला-बुरा कहा। उस दिन उसने कसम खाई कि आगे से वह कभी भी आलस नहीं करेगा और समय की कीमत को समझेगा। ऐसा निर्णय करने के बाद कुछ ही समय में परेशानियां उससे दूर हो गई और वह खुशी-खुशी रहने लगा। इस घटना से वह समझ गया था कि आलस के कारण ही उसके जीवन में कष्ट थे और आलस से ही उसका जीवन निरर्थक-सा हो गया था।               
       
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 21, 2007, 03:56:32 AM
जय सांई राम

वफादारी का फल   
 
एक अरसा पहले की बात है। ऊंची पहाड़ी पर एक छोटा-सा गांव बसा हुआ था। एक दिन उस गांव के लोगों ने सोचा कि क्यों न हम सब मिलकर अपने राजा को उपहार में कुछ दें, जिससे राजा हमारे गांव के लोगों से खुश हो जाएं। गांव के चार होशियार लोग राजा के लिए गिफ्ट लेकर महल की तरफ चल दिए। उन्होंने गिफ्ट रखने के लिए एक पालकी का भी चुनाव किया। पालकी बहुत ही सुंदर व आकर्षक थी। वे चारों पालकी लेकर राजा के महल की ओर चल दिए।

राजा के लिए उपहार व पालकी ले जाने के कारण वे चारों बहुत खुश थे और यही वजह थी कि वे सफर के दौरान गिफ्ट के बारे में ही बात कर रहे थे। कुछ दिन लगातार चलने के बाद वे चारों राजा के महल पहुंच गए, लेकिन महल के गेट पर खड़े गार्ड ने उन चारों को रोक लिया। गार्ड ने चारों से पूछा, 'तुम लोग अंदर क्यों जा रहे हो'! उन चारों ने गार्ड को बताया कि हम लोग बहुत दूर गांव से आए हैं और यह पालकी राजा को उपहार में देना चाहते हैं। सारी बातें सुनकर गार्ड ने उन्हें अंदर जाने की अनुमति दे दी। राजा ने चारों से महल में आने का कारण पूछा। उनमें से एक ने राजा को बताया कि हम लोग आपको 'गिफ्ट' देना चाहते हैं। यह कहने के बाद गांव वालों ने पालकी से पर्दा हटाया, लेकिन उसमें कुछ भी नहीं था। राजा यह देखकर बहुत गुस्से में आ गए और कहा कि तुमने मेरे साथ मजाक किया है, इसलिए तुम्हें इसकी सजा मिलेगी। यह सुनकर गांव वाले डर गए और राजा से कहने लगे कि हमने कोई मजाक नहीं किया। जब हम गांव से चले थे, तब हमने पालकी में एक गोल चमकदार-सी चीज रखी थी, लेकिन अब वह कहां गई, हम नहीं जानते..। चारों ने राजा से कहा, 'आप हमारा विश्वास कीजिए।' राजा ने पूछा, 'लेकिन वह चमकदार चीज क्या थी!' तत्काल एक ने उत्तर दिया कि उसकी आकृति गोल थी और उस पर किसी आदमी के सिर की तस्वीर बनी हुई थी। सारी बातें सुनने के बाद राजा ने कहा, 'मुझे साफ-साफ बताओ कि वह गिफ्ट तुमने कहां से खरीदा था।' गांव वालों ने राजा को सब कुछ सच-सच बता दिया। उन लोगों ने कहा कि एक बार हमारे गांव में एक सेठ आया। वह हमारी सेवा से बहुत खुश हुआ। उसने हमें गांव से जाते समय एक गिफ्ट दिया। शास्त्र में लिखा है कि राज्य की हर चीज पर पहला हक राजा का होता है, इसीलिए हमने वह गिफ्ट आपको देने का फैसला किया। राजा धीरे से मुस्कुराया और अपनी जेब से चांदी का सिक्का निकालकर गांव वालों से पूछा कि क्या वह गिफ्ट इसी प्रकार का था! गांव वाले उसे देखते ही बोले कि हां, वह गिफ्ट यही था। क्या आपने इसे खुद ही खोज लिया? राजा ने कहा, 'हां, मैंने गिफ्ट स्वयं ही खोज लिया।' राजा उनकी वफादारी से बहुत खुश हुए और उन्हें पुरस्कार भी दिए। वे चारों खुशी-खुशी अपने गांव लौट आए। वे जान गए थे कि वफादारी का फल हमेशा मीठा होता है और नि:स्वार्थ किए गए कार्य का हमेशा सुखद अंत होता है।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 22, 2007, 02:39:41 AM
जय सांई राम

चोर का बलिदान    
 
बहुत पुरानी बात है। तीन दोस्त थे, जिनकी आपस में गहरी मित्रता थी। इनमें से एक राजा का छोटा लड़का था, दूसरा राजा के मंत्री का बेटा था और तीसरा था-किसी अमीर सेठ का बेटा। तीनों ही कोई काम नहीं करते और हमेशा व्यर्थ की बातों में समय बिताते। उन तीनों के माता-पिता इन बच्चों से बहुत परेशान थे, इसीलिए उन्होंने तीनों को कई बार समझाया, लेकिन वे नहीं माने और अंत में उनके माता-पिता ने उन्हें घर से निकालने का निर्णय लिया। इस निर्णय को सुनकर तीनों दोस्त परेशान हो गए और सोचने लगे कि अब क्या होगा! उनमें से एक ने कहा कि हमें किसी दूसरे शहर में जाकर व्यापार करना चाहिए, लेकिन व्यापार के लिए पैसा तीनों में से किसी के पास नहीं था। दूसरे दोस्त ने कहा कि थोड़ी दूर जो पहाड़ है, उसकी सबसे ऊंची चोटी से महंगे पत्थर लाकर बेचते हैं, तभी तीसरा दोस्त चीखकर बोला कि हमें डरने की कोई जरूरत नहीं है। हम पहाड़ से महंगे पत्थर लाऐंगे, जिन्हें बेचकर हमें पैसा मिलेगा और उन्होंने अपनी यात्रा शुरू कर दी।

यात्रा लंबी और कठिन जरूर थी, लेकिन वे तीनों घने जंगल और नदी को पार करते हुए पहाड़ की सबसे ऊंची चोटी पर पहुंच गए। भाग्य उनके साथ था। उन्होंने कुछ महंगे पत्थर खोजे और वापस लौटने लगे, लेकिन वापस आने में रात हो गई और तीनों सोचने लगे कि कोई चोर उनसे पत्थर छीन सकता है। इसीलिए तीनों ने पत्थर छुपाने का निर्णय लिया। उन्होंने पत्थरों को अपने भोजन के साथ अपने-अपने पेट में छुपा लिया और फिर जंगल के रास्ते वापस जाने लगे। एक चोर तीनों दोस्तों का पीछा कर रहा था, क्योंकि उसे कीमती पत्थर के बारे में पता लग गया था। चोर ने तीनों को मारकर पत्थर छीनने का प्लान बनाया। जब तीनों दोस्त जंगल के रास्ते से होकर आगे की ओर बढ़ने लगे, तो चोर ने पीछे से आवाज लगाते हुए कहा, 'मुझे अकेले जंगल पार करने में डर लगेगा, यदि आप बुरा न मानें, तो मैं आपके साथ जंगल पार कर लूं।' तीनों दोस्तों ने हामी भरी, तो वह चोर उनके साथ चलने लगा।

जंगल के बीच में एक गांव था, जिसके मुखिया के पास एक ऐसा तोता था, जो हमेशा सच बोलता था। मुखिया उस तोते की हर बात समझता था। जैसे ही वे चारों मुखिया के घर से आगे निकले, तोता चिल्लाने लगा कि इन लोगों के पास कीमती पत्थर है। मुखिया ने तुरंत तीनों दोस्तों और चोर को पकड़ लिया और फिर उनके पास से पत्थर खोजने लगा, लेकिन उसे कुछ नहीं मिला। मुखिया ने सोचा कि तोते से कोई गलती हुई है और इसीलिए उसने उन चारों को छोड़ दिया।

उन चारों ने अपनी यात्रा दोबारा शुरू कर दी। उनके वहां से निकलते ही तोता फिर बोलने लगा कि उनके पास स्टोन है। अब मुखिया ने सोचा कि तोता कभी झूठ नहीं बोलता, इसीलिए उसने चारों को दोबारा बुलवा लिया, लेकिन अथक प्रयास के बाद भी पत्थर नहीं मिला। मुखिया बोला, अगर मुझे कल तक पत्थर नहीं मिला, तो मैं तुम चारों के पेट फाड़कर स्टोन निकाल लूंगा। मुखिया ने चारों को एक कमरे में बंद कर दिया। चोर सोचने लगा कि यदि मुखिया सबसे पहले मेरा पेट काटे, तो उसे कुछ भी नहीं मिलेगा और ये तीनों बच जाएंगे, लेकिन यदि पहले इनमें से किसी एक का पेट चीरा गया, तो हम सब एक के बाद एक मारे जाएंगे, क्योंकि इनके पेट से स्टोन मिलेंगे। मुझे तो हर तरह से मरना ही है, तो क्यों न मैं इन तीनों की जान बचा लूं।

अगले दिन जब मुखिया ने चारों को बुलाया, तो चोर ने मुखिया से कहा कि आप सबसे पहले मुझे मार दो, क्योंकि मैं अपने दोस्तों को मरते हुए नहीं देख सकता। मुखिया इस बात के लिए तैयार हो गया और उसने सबसे पहले चोर का ही पेट काटा, लेकिन उसे कुछ भी नहीं मिला। मुखिया को बहुत दुख हुआ, उसने सोचा कि मैंने एक आदमी को व्यर्थ में ही मार डाला, इसीलिए उसने बाकी तीनों को छोड़ दिया। तीनों दोस्त घर लौट गए और उन स्टोन को बेचकर वे बहुत अमीर बन गए, लेकिन तीनों दोस्त चोर के बलिदान को कभी नहीं भूले। इस घटना से तीनों दोस्त जान गए कि छोटा व्यक्ति भी बड़ा काम कर सकता है। सच ही है, कोई भी व्यक्ति अपने कर्म से बड़ा बनता है न कि अपनी पारिवारिक प्रतिष्ठा या धन की बहुतायत से।
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 23, 2007, 03:10:30 AM
जय सांई राम

भूल का अहसास    
 
एक बार एक राजा को किसी विदेशी राज्य से उपहार में कांच की तीन सुंदर मूर्तियां प्राप्त हुईं। ये मूर्तियां अपने आप में नायाब थीं। राजा ने उनकी देखभाल के लिए एक नौकर नियुक्त कर दिया। नौकर रोज उसकी सफाई करता और उन्हें चमका कर रखता। राजा का स्पष्ट आदेश था कि मूर्तियां की देखभाल में कोई कोताही न बरती जाए, इसमें जरा भी लापरवाही हुई तो कठोर दंड दिया जाएगा। लेकिन होनी को कौन टाल सकता है। एक दिन सफाई के दौरान नौकर के हाथ से एक मूर्ति गिरकर टूट गई। राजा के क्रोध का ठिकाना न रहा। उसने तत्काल नौकर को मृत्युदंड देने की घोषणा की।

नौकर को पकड़ कर जेल में डाल दिया गया। अगले दिन उसे फांसी होनी थी। नौकर बुद्धिमान था। वह बचने के उपाय ढूंढ रहा था। आखिरकार उसने रास्ता खोज ही लिया। उसने राजा से प्रार्थना की कि मरने से पहले उसकी अंतिम इच्छा पूरी की जाए। राजा ने पूछा, 'बताओ तुम्हारी आखिरी इच्छा क्या है।' उसने कहा, 'मरने से पहले मैं उन दो मूर्तियां को हाथ में लेकर जी भर कर देखना चाहता हूं।' राजा ने इसकी अनुमति दे दी। उसे उन मूर्तियां के पास ले जाया गया। उसने मूर्तियां हाथ में लीं और उन्हें फर्श पर जोर से पटक डाला। मूर्तियां चूर-चूर हो गईं। राजा ने जब यह सुना तो आपे से बाहर हो गया। उसने नौकर को बुलाकर उसकी इस हरकत के बारे में पूछा। नौकर ने बड़ी विनम्रता के साथ जवाब दिया, 'महाराज, इसके पीछे कोई दुर्भावना नहीं है। मैंने तो ऐसा करके दो लोगों की जान बचाने का काम किया है। आप किसी न किसी को इनकी देखभाल के लिए रखते और देखभाल के क्रम में उससे भी मूर्ति टूट सकती है। आप फिर उसे मृत्युदंड दे देंगे। लेकिन अब मूर्तियां ही नहीं रहीं इसलिए दो लोगों की जान बच गई। मैंने जीवन के अंतिम क्षणों में एक पुण्य कार्य करने की कोशिश की है।'

नौकर की इन बातों से राजा को अपनी भूल का अहसास हो गया। उसने नौकर को क्षमा कर दिया। 
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 24, 2007, 03:50:19 AM
जय सांई राम।।।

किसान का बड़प्पन    

एक बार पेशवा बाजीराव ने मालवा पर हमला किया। जीत तो हासिल हो गई, पर सैनिकों का भोजन समाप्त हो गया। पेशवा ने अपने एक सरदार को पास के गांव से अनाज लाने का हुक्म दिया। सरदार कुछ सैनिक लेकर चल पड़ा, लेकिन काफी देर तक उन्हें अनाज नहीं मिला, क्योंकि युद्ध के कारण आसपास के खेत भी नष्ट हो गए थे। तभी सरदार को एक किसान मिला। सरदार ने उससे कहा, 'हम बाजीराव के सैनिक हैं, हमें अनाज चाहिए। चलो, कोई अच्छा सा खेत दिखाओ।'

किसान उन सैनिकों को लेकर चला। थोड़ी दूर जाने पर ही सैनिकों को एक अच्छी फसल वाला खेत मिला। सरदार ने कहा, 'हम इस खेत से फसल काट लेते हैं।' तभी किसान बोला, 'आप मेरे साथ चलिए, इससे भी अच्छा खेत आगे है। थोड़ी दूर जाने पर किसान ने सैनिकों से कहा, 'इस खेत से चाहे जितनी फसल काट लो।' इसमें पहले खेत से कुछ कम फसलें थीं। सैनिक किसान पर भड़के, 'हमें धोखा देता है। हमें यहां क्यों लाया है?' इस पर किसान ने कहा, 'यह खेत मेरा है। वह खेत दूसरे का था। दूसरे के खेत से फसल कटवाने का मुझे कोई अधिकार नहीं है। आप मेरे खेत से चाहे जितनी फसल काट लें।' सैनिक किसान के समक्ष नतमस्तक हो गए।
 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।। 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 28, 2007, 03:17:16 AM
जय सांई राम।।।

श्रद्धा और विश्वास    

एक बार स्वामी विवेकानंद विदेश यात्रा पर गए हुए थे। भ्रमण के दौरान उनकी मुलाकात एक संत से हुई जो अपने इलाके में काफी प्रसिद्ध थे। संत का बहुत बड़ा आश्रम था। उस आश्रम में कई शिष्य थे और संत के कमरे के बाहर उनकी बड़ी फोटो लगी हुई थी। संत के साथ विवेकानंद कई मुद्दों पर चर्चा करने लगे। बातचीत के दौरान विदेशी संत ने कहा, 'स्वामी जी आपके देश में कितना आडंबर है कि वहां के लोग पत्थर की मूर्ति की पूजा करते हैं। जब भगवान कण-कण में हैं तो फिर पत्थर की मूर्ति की पूजा क्यों? इसे ढकोसला ही तो कहा जाएगा।'

स्वामी विवेकानंद कुछ देर तक कुछ सोचते रहे। उनके अगल-बगल बैठकर संत के शिष्य दोनों की बातें सुन रहे थे। अचानक स्वामी जी ने एक शिष्य से कहा, 'क्या तमाशा बना रखा है। आपके गुरु आपके सामने बैठे हैं फिर भी उनकी फोटो यहां रखी हुई है। इसे फेंको यहां से।' और जैसे ही स्वामी जी ने फोटो फेंकने के लिए उस पर हाथ लगाया, उनके बगल में खड़ा एक शिष्य उनका हाथ पकड़कर बोला, 'आपने हमारे गुरु का अपमान किया है। क्या आपके देश में संतों का इसी तरह अपमान किया जाता है?'

विवेकानंद जी मुस्करा कर बोले, 'नहीं, हमारे देश में संतों की उपासना की जाती है। उनके चरण रज को लोग अमृत समझकर पीते हैं। मैं तो आपके गुरु के प्रश्न का जवाब दे रहा था।' फिर वह संत से बोले, 'देख लिया आपने, आपके शिष्य आपकी फोटो का अनादर होते देखना नहीं चाहते क्योंकि आपकी फोटो में इन लोगों की श्रद्धा है जबकि सच यह है कि यह फोटो आपकी आकृति है। लेकिन इसमें आप दिखाई पड़ते हैं। उसी तरह भगवान कण-कण में विराजमान हैं लेकिन जो लोग मूर्ति पूजा करते हैं, उन्हें भगवान उसी में दिखाई पड़ते हैं। यह श्रद्धा और विश्वास है कि हमारे यहां के लोग भगवान को कहीं भी खोज लेते हैं पत्थर की मूर्ति में और पीपल के पेड़ में भी।'

इस पर संत और उनके शिष्य निरुत्तर हो गए।
 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।। 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 30, 2007, 03:28:44 AM
जय सांई राम

लोभ पर जीत    

कपिल नामक गरीब ब्राह्मण अपनी पत्नी से बहुत प्रेम करता था। वह उसकी हर इच्छा पूरी करना चाहता था लेकिन निर्धनता के कारण ऐसा नहीं कर पाता था। एक बार त्योहार के मौके पर पत्नी ने आभूषण पहनने की इच्छा जताई तो वह परेशान हो उठा। उसने सुना था कि राजा बहुत दानवीर है। जो ब्राह्मण सुबह-सुबह सबसे पहले उसके द्वार पर जाता है उसे वह 2 तोला सेना देता है। कपिल राजा के यहां सबसे पहले पहुंचने के लिए आधी रात को ही घर से चल पड़ा। सिपाहियों ने उसे चोर समझकर पकड़ लिया और सुबह होने पर राजा के सामने पेश कर दिया।

राजा के पूछने पर कपिल ने पूरी बात सच-सच बता दी। राजा ने उसकी सरलता से प्रभावित होकर मनचाही वस्तु मांगने के लिए कहा। कपिल सोचने लगा कि 2 तोला सोना क्या मांगूं, 200 अशर्फी मांग लेता हूं, फिर अचानक खयाल आया कि 2 हजार मोहरें मांग लेता हूं ताकि रोज- रोज मांगने से छुटकारा मिले। आखिर में उसकी सोच लाखों-करोड़ों तक पहुंच गई। अंत में वह आधा राज्य ही मांगने जा रहा था कि उसे कुछ बोध हुआ और अपने लोभ से उसे घृणा हो गई। राजा ने फिर पूछा तो उसने कहा, 'महाराज मुझे जो चाहिए था वह मिल गया। '

राजा ने आश्चर्य से पूछा, ' लेकिन आपको तो मैंने कुछ दिया ही नहीं।'

' महाराज आज मैंने लोभ पर जीत हासिल कर ली। इससे बड़ी चीज और क्या होगी।'
 
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on June 01, 2007, 12:49:45 AM
जय सांई राम

वाणी की मधुरता    

पुराने जमाने की बात है। एक व्यक्ति गृह क्लेश से परेशान रहता था। उसका अक्सर अपनी पत्नी से झगड़ा हो जाता था, फिर दोनों में कई दिनों तक बात नहीं होती थी। वह समझ नहीं पा रहा था कि यह स्थिति कब खत्म होगी। एक बार वह संत अव्वैयार का प्रवचन सुनने पहुंचा। जब प्रवचन खत्म हो गया तो उस व्यक्ति ने संत से अपने घर चलने का आग्रह किया। संत अव्वैयार ने उसका आतिथ्य स्वीकार कर लिया। उसने संत को बाहर के कमरे में बिठा दिया और अपनी पत्नी को यह समाचार सुनाने अंदर आया। इस पर पत्नी आगबबूला हो गई। उसने कहा कि उससे पूछे बगैर वह संत को क्यों घर ले आया। दोनों के झगड़े की आवाज संत तक भी पहुंची। वह दोनों के बीच के तनाव को कम करने की ईश्वर से प्रार्थना करके जाने लगे। यह देख वह व्यक्ति बेहद शर्मिंदा हुआ। वह उनके पैरों पर गिरकर अपनी पत्नी की ओर से क्षमा मांगने लगा। इसके साथ ही वह अपनी पत्नी को कोस भी रहा था कि उसने एक संत का अपमान किया है, एक घर आए मेहमान को उलटे पांव लौटने को विवश किया है।

इस पर संत अव्वैयार ने उसे समझाते हुए कहा, 'तुम खेद क्यों प्रकट करते हो। इसमें तुम्हारी कोई गलती नहीं है। हां, तुम कर्कश वाणी का प्रयोग कभी मत करो। लोहे का एक तीक्ष्ण बाण एक विशालकाय हाथी का तो शिकार कर सकता है मगर एक चींटी का नहीं। किसी लोहे की मजबूत छड़ से चट्टान को फाड़ा नहीं जा सकता लेकिन एक नव अंकुर अपनी कोमल छुवन से बड़ी-बड़ी चट्टानें फाड़ सकता है। इसलिए मधुर वाणी से तुम पत्नी को सुधार सकते हो। प्रयास करते रहो।' उस आदमी की पत्नी ये बातें सुन रही थी। उसे अपनी भूल का अहसास हो गया। उसने संत अव्वैयार से क्षमा मांगी और फिर से बिठा लिया। उसके बाद पूर्ण आतिथ्य करने के बाद ही उन दोनों ने सम्मानपूर्वक संत को विदा किया। पति-पत्नी ने उन्हें वचन दिया कि वे फिर कभी नहीं झगड़ेंगे। 
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on June 01, 2007, 11:43:29 PM
जय सांई राम

वाणी की मधुरता  
 
पुराने जमाने की बात है। एक व्यक्ति गृह क्लेश से परेशान रहता था। उसका अक्सर अपनी पत्नी से झगड़ा हो जाता था, फिर दोनों में कई दिनों तक बात नहीं होती थी। वह समझ नहीं पा रहा था कि यह स्थिति कब खत्म होगी। एक बार वह संत अव्वैयार का प्रवचन सुनने पहुंचा। जब प्रवचन खत्म हो गया तो उस व्यक्ति ने संत से अपने घर चलने का आग्रह किया। संत अव्वैयार ने उसका आतिथ्य स्वीकार कर लिया। उसने संत को बाहर के कमरे में बिठा दिया और अपनी पत्नी को यह समाचार सुनाने अंदर आया। इस पर पत्नी आगबबूला हो गई। उसने कहा कि उससे पूछे बगैर वह संत को क्यों घर ले आया। दोनों के झगड़े की आवाज संत तक भी पहुंची। वह दोनों के बीच के तनाव को कम करने की ईश्वर से प्रार्थना करके जाने लगे। यह देख वह व्यक्ति बेहद शर्मिंदा हुआ। वह उनके पैरों पर गिरकर अपनी पत्नी की ओर से क्षमा मांगने लगा। इसके साथ ही वह अपनी पत्नी को कोस भी रहा था कि उसने एक संत का अपमान किया है, एक घर आए मेहमान को उलटे पांव लौटने को विवश किया है।

इस पर संत अव्वैयार ने उसे समझाते हुए कहा, 'तुम खेद क्यों प्रकट करते हो। इसमें तुम्हारी कोई गलती नहीं है। हां, तुम कर्कश वाणी का प्रयोग कभी मत करो। लोहे का एक तीक्ष्ण बाण एक विशालकाय हाथी का तो शिकार कर सकता है मगर एक चींटी का नहीं। किसी लोहे की मजबूत छड़ से चट्टान को फाड़ा नहीं जा सकता लेकिन एक नव अंकुर अपनी कोमल छुवन से बड़ी-बड़ी चट्टानें फाड़ सकता है। इसलिए मधुर वाणी से तुम पत्नी को सुधार सकते हो। प्रयास करते रहो।' उस आदमी की पत्नी ये बातें सुन रही थी। उसे अपनी भूल का अहसास हो गया। उसने संत अव्वैयार से क्षमा मांगी और फिर से बिठा लिया। उसके बाद पूर्ण आतिथ्य करने के बाद ही उन दोनों ने सम्मानपूर्वक संत को विदा किया। पति-पत्नी ने उन्हें वचन दिया कि वे फिर कभी नहीं झगड़ेंगे।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on June 05, 2007, 01:15:29 AM
जय सांई राम

क्रोध पर विजय    
 
पुराने जमाने की बात है। किसी राज्य के राजा के पास एक संन्यासी आया। राजा ने उसका खूब स्वागत-सत्कार किया और कुछ दिन ठहरने को कहा। संन्यासी मान गया। अपने राजकाज से समय निकालकर राजा रोज संन्यासी से धर्म संबंधी चर्चा किया करता था। उसने अपनी सभी जिज्ञासाएं उस संन्यासी के समक्ष रखीं। संन्यासी ने सबका यथोचित उत्तर दिया। कुछ दिनों के बाद जब वह जाने लगा तो राजा बोला, 'महाराज, जाते-जाते आप कोई ऐसा संदेश देते जाइए जो मेरे लिए काफी उपयोगी साबित हो।' संन्यासी ने आशीर्वाद देते हुए कहा, 'एक बात का अभ्यास करना कि किसी भी स्थिति में क्रोध न आए। और अगर आ भी जाए तो वह काम मत करना जो उस अवस्था में मन कहे।' राजा ने सोचा कि यह कोई महत्वपूर्ण संदेश नहीं है, यह तो साधारण सी बात है। फिर भी उसने इस शिक्षा को गंभीरता से लिया।

राजा के कोई पुत्र नहीं था। समस्या थी कि राजगद्दी किसे सौंपी जाए। उस समय आम तौर पर पुत्रियों को सत्ता नहीं दी जाती थी। फिर भी चलन के विरुद्ध जाकर राजा ने अपनी बेटी को राजगद्दी सौंपने का निश्चय किया। साथ ही उसने यह भी तय किया कि जब उसका विवाह होगा तो उसका पति राजा बन जाएगा। राजकुमारी ने शासन कार्य संभाला। अब वह पुरुष वेश में रहने लगी।

एक बार राजा कहीं गया हुआ था। जब वह लौटा तो उसने देखा कि महारानी एक पुरुष का आलिंगन किए लेटी हुई है। देखते ही राजा तिलमिला उठा। उसने तत्काल तलवार निकाल ली। लेकिन उसी समय मुनि का उपदेश याद आ गया कि क्रोध में जो मन कहे वह काम मत करना। उसकी इच्छा हो रही थी कि दोनों का वध कर दे पर उसने मन पर काबू किया। तलवार म्यान में चली गई। राजा आगे बढ़ा। वह बिछावन के निकट आया। देखा कि पुरुष वेशधारी उसकी पुत्री अपनी मां के साथ निद्रा में लीन हैं। राजा ग्लानि से भर उठा। पर उसे इस बात का संतोष भी हुआ कि उसने क्रोध पर विजय पाने में सफलता पाई है। 
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on June 06, 2007, 11:55:40 PM
जय सांई राम

एक जैसी पीड़ा    

एक बार एक स्त्री ने अपने बेटे को काढ़ा बनाने के लिए पलाश वृक्ष की छाल लाने को कहा। बेटे ने कुल्हाड़ी उठाई और जंगल की ओर चल पड़ा। वहां उसने कुल्हाड़ी से एक पेड़ की छाल उतारनी शुरू की। छाल के उतरते ही पेड़ से कुछ बूंदे छलछला आईं। उस बच्चे को यह अच्छा नहीं लगा। उसे लगा कि छाल उतरने से जरूर वृक्ष को कष्ट हुआ होगा। वृक्ष की पीड़ा का सही-सही अंदाजा लगाने के लिए उसने कुल्हाड़ी से अपनी टांग को उसी तरह छीलकर देखा। पैर से खून बहने लगा और उसकी धोती लाल हो गई। वह छाल छीलना छोड़ घर आ गया।

उसकी मां ने जब यह देखा तो परेशान हो गई। उसने पूछा, 'तुम्हारी धोती में खून के धब्बे कैसे लगे हैं?' बालक ने जवाब दिया, 'मैंने कुल्हाड़ी से टांग की छाल खींचने की कोशिश की थी।'

मां ने उसकी धोती को अलग हटाकर देखा तो पाया कि पैर की चमड़ी और मांस छिला हुआ था। मां ने क्रोध में कहा, 'तुम तो बड़े मूर्ख हो। भला कोई ऐसा करता है। अगर यह घाव विषाक्त हो गया तो तुम्हारी टांग भी कटवानी पड़ सकती है।'

बच्चे ने भोलेपन से कहा, 'मां, तब तो वह पलाश का वृक्ष भी जख्मी हो गया होगा जिसकी छाल मैं छील रहा था। मैंने उसकी छाल छीली तो देखा कि उसमें से रस निकल रहा है। मुझे लगा कि उसे काफी कष्ट हो रहा है। इसलिए मैंने अपने पैर को भी छीलकर देखा कि मुझे कितनी पीड़ा होती है। अब मुझे लग रहा है कि उसे कितना कष्ट हुआ होगा।'

यह सुनकर मां की आखें छलछला गईं। उसने अपने पुत्र को गले लगाते हुए कहा, 'तुम्हारा सोचना एकदम सही है बेटा। पेड़ और दूसरे जीवों में भी वैसा ही चेतन तत्व होता है जैसा हम मनुष्यों में। जिस तरह हम घायल होने पर पीड़ा का अनुभव करते हैं वैसा ही वे भी महसूस करते हैं। लगता है तू बड़ा होकर कोई साधु बनेगा।' मां की भविष्यवाणी सही निकली। वह बालक आगे चलकर संत नामदेव के नाम से विख्यात हुआ। 
                     
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on June 07, 2007, 03:24:03 AM
जय सांई राम

असली कमाई    
 
काशी में एक सेठ रहते थे। वह अपने नौकरों का बहुत ध्यान रखते थे। सभी नौकरों को दिन का भोजन सेठ जी के यहां मुफ्त मिलता था। इसके लिए सेठ जी ने अपने यहां एक रसोइये को रखा हुआ था जो सेठ जी के परिवार और नौकरों का खाना एक साथ बनाता था। रसोइये का नाम था रामू। कुछ समय से रामू की पत्नी बीमार चल रही थी लेकिन उसने कभी छुट्टी नहीं मांगी।

एक दिन सेठ जी को खाते वक्त सब्जी मीठी लगी। वह समझ गए कि आज रामू ने सब्जी में नमक की जगह चीनी डाल दी है। उन्होंने रसोइये से कहा, 'लगता है तुम रात भर जगे हो। रामू बोला, 'जी हुजूर, पत्नी कुछ ज्यादा बीमार हो गई है इसलिए उसकी देखभाल के लिए रात को जगना पड़ता है।' सेठ जी ने कहा, 'तुम्हारी पत्नी जब इतनी बीमार है तो तुम्हें काम पर नहीं आना चाहिए था। तुम्हें उसकी सेवा करनी चाहिए।' और उन्होंने उसे जेब से कुछ रुपये निकाल कर देते हुए कहा, 'तुम अभी घर चले जाओ और पहले अपनी पत्नी का ठीक से इलाज कराओ। और पैसे की जरूरत पड़े तो आकर ले जाना।'

रामू खुश होकर घर चला गया। उसके जाने के बाद सेठ जी सेठानी से बोले, 'रसोइया बहुत परेशान है। उसने आज सब्जी में नमक की जगह चीनी डाल दी है। मैं उसके सामने आराम से सब्जी खाता रहा ताकि उसे इस बात का पता न चले। उसे घर भेज दिया है। है तो बहुत छोटी बात लेकिन यह सब्जी यदि हमारे नौकर खाएंगे तो उसके आने पर उसकी खिल्ली उड़ाएंगे, इससे वह बेचारा लज्जित होगा, इसलिए सारी तरकारी जानवरों को खिला दो और किसी को पता चले इससे पहले जल्दी से उन सब के लिए दूसरी सब्जी बना दो।'

सेठ की पत्नी बोली, 'आप इतना कमाते हो फिर भी रसोइये और नौकरों को लेकर इतना क्यों परेशान हो?'

इस पर सेठ जी बोले, 'मैंने पैसे कमाये हों या नहीं, रिश्ते जरूर कमाये हैं। मैं रिश्तों की कमाई खोना नहीं चाहता। असली कमाई तो वही है।'     
               
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on June 08, 2007, 08:48:27 AM
जय सांई राम

राजा का क्रोध    

श्रेणिक नामक एक राजा था। उसकी रानी थी चेलना। एक बार राजा-रानी भगवान महावीर का दर्शन कर लौट रहे थे, तभी रास्ते में रानी ने देखा कि भयंकर सर्दी के बावजूद एक मुनि तप में लीन हैं। उसने उनकी कठोर साधना के लिए उन्हें मन ही मन बार-बार प्रणाम किया। महल में लौटकर रानी सो गई। संयोग से रानी का हाथ बिस्तर से नीचे लटक गया और ठंड से अकड़ गया। जब उसकी आंखें खुलीं तो उसकी बांह में बहुत दर्द था। चूंकि सर्दी के कारण ऐसा हुआ था, इसलिए आग से उसे सेंक दिया गया। जब उसे सेंका जा रहा था तो रानी को अचानक उस तपस्वी का ध्यान हो आया जो जंगल में अविचलित भाव से बैठा तपस्या कर रहा था। रानी के मुंह से अनायास निकला, 'हाय! उस बेचारे का क्या हाल होगा?'

रानी के मुंह से ये शब्द सुन कर राजा के मन में अचानक संदेह पैदा हो गया। उसने सोचा कि हो न हो, चेलना का किसी व्यक्ति से प्रेम है। उसने क्रोध में पागल होकर मंत्री को आदेश दिया कि अंत:पुर को जला दो। लेकिन आदेश देने के बाद राजा व्यग्र हो उठा। अपने मन को शांत करने के लिए वह भगवान महावीर के पास गया और उन्हें अपनी व्यथा कह सुनाई। महावीर ने कहा, 'चेलना पतिव्रता है, पवित्र है।'

अब तो श्रेणिक का बुरा हाल हो गया। वह अपने क्रोध पर पछता रहा था। उसे अनिष्ट की आशंका सता रही थी। महल लौटते ही उसने मंत्री को बुलाकर पूछा कि क्या उसने अंत:पुर को आग लगवा दिया? मंत्री ने कहा, 'जी हां, आपकी आज्ञा का तत्काल पालन करना आवश्यक था।' सुनकर राजा के होश उड़ गए। तभी मंत्री ने फिर कहा, 'दुखी न हों, मैं जानता था कि आपने तब आप क्रोध में थे। इसलिए शुरुआत मैंने हस्तिशाला से की, अभी वही जला है, अंत:पुर सुरक्षित है।' राजा को राहत मिली। फिर उसने क्रोध में कोई निर्णय नहीं किया।
               
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on June 09, 2007, 01:23:04 AM
जय सांई राम

पत्नी की सीख    
 
पुराने जमाने की बात है। एक आटा चक्की का मालिक अपने रोजमर्रा के काम से समय निकाल कर एक दिन हरि कथा सुनने गया। उसने श्रद्धापूर्वक कथा सुनी। कथावाचक ने कई ग्रंथों के दृष्टांत दिए और कहा कि अन्नदान से बड़ा कोई दान नहीं है, इससे निश्चित ही स्वर्ग की प्राप्ति होती है। प्रवचन सुन कर आटा चक्की मालिक घर लौटा। उसने भी अन्नदान करने का फैसला किया पर वह था बड़ा कंजूस। उसने अपने गोदाम में बरसों से पड़ी हुई आटे की बोरियां निकालीं और उससे बनी हुई रोटियां रोज पांच-छह लोगों को बांटने लगा। आटा इतना खराब था कि कीड़े-मकोड़े भी वे रोटियां न खाते, मगर इस कंजूस को इससे कोई मतलब नहीं था। उसे तो बस किसी तरह अन्नदान करना था।

उसकी पत्नी काफी समझदार थी। अपने पति को गलत राह पर चलते देख एक दिन उसने कहा, 'ऐसा सड़ा अन्न लोगों को खिलाकर आपको पुण्य तो नहीं ही मिलेगा, उलटे पाप लगेगा। हमारे पास अच्छा आटा भी तो है। उससे रोटियां बनाकर क्यों नहीं बांटते?' उसके पति ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया। उसने कई बार याद दिलाया पर आटा चक्की मालिक पर उसका कोई असर नहीं हुआ।

एक दिन पत्नी ने उसी सड़े आटे की रोटियां सेंकी और पति को थाली में परोस दीं। जैसे ही पति ने रोटी का ग्रास मुंह में रखा, वह पत्नी को गालियां देने लगा। पत्नी ने कहा, 'ऐसा मैंने आपके भले के लिए ही किया है। हम अपने कर्म के अनुसार ही स्वर्ग या नरक पाते हैं। आप जो अन्नदान कर रहे हैं, वह दान है ही नहीं, वह तो महापाप है। इसके लिए आपको नरक मिलेगा और नरक में आपको ऐसा ही भोजन दिया जाएगा। आदत न हो तो आप उसे खा नहीं सकेंगे। इसलिए मैं आज से आपको ऐसा भोजन खिलाकर आपको इसकी आदत लगवा रही हूं।' पत्नी के इस कटाक्ष से पति की आंखें खुल गईं। उसकी बातों की सत्यता का अनुभव कर वह घबरा गया, उसके विचार बदल गए और उसने बढ़िया आटे की रोटियां बांटने का निश्चय किया। 
               
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on June 15, 2007, 10:51:30 AM
जय सांई राम

गड़ा हुआ धन    

एक किसान ने मरते समय अपने इकलौते बेटे को पास बुला कर कहा, 'मेरा अंतिम समय आ गया है। मेरे पास जो कुछ है, वह तुम्हारा ही है और मेरी वह सम्पत्ति इन खेतों में है।' बेटा आलसी और कामचोर था, इसलिए खेती पर ध्यान नहीं देता था। उसकी फसल चौपट होने लगी। उसने सोचा कि पिता के मरने के बाद उसके घर को ग्रहण लग गया है, इसलिए फसल ठीक से नहीं हो रही है। वह एक मंदिर के पुजारी के पास गया और बोला, 'पंडित जी, पिता जी की मौत के बाद हमें गरीबी ने घेर लिया है। कोई ऐसा उपाय बताइए कि हमारे दिन फिर ठीक हो जाएं।'

पंडित जी ने कहा, 'बेटा, तुम तो बहुत भाग्यशाली हो। तुम्हारे बाप ने चोरी के डर से अपनी जमीन में बहुत सारा धन गाड़ा हुआ है। तुम अपने खेतों की खुदाई करोगे तो तुम्हें अवश्य वह धन मिलेगा। पर यह बात किसी को बताना नहीं।' अगले दिन से वह कुदाल-फावड़ा लेकर खेतों की खुदाई में जुट गया। महीनों लगा रहा, लेकिन धन नहीं मिला। बेटा फिर पुजारी के पास गया और बोला, 'बुआई का समय आ गया है, अब क्या करूं। अभी तक तो कुछ नहीं मिला।'

पंडित जी ने कहा, 'पहले गेहूं की बुआई करो। फसल कटने के बाद मैं स्वयं आऊंगा और बताऊंगा कि धन कहां गड़ा है।' उसने गेहूं की बुआई कर दी। इस साल उसकी फसल सबसे अच्छी हुई थी। गेहूं कट कर खलिहान में आ गया। तभी पंडित जी आ गए। उन्होंने पूछा, 'क्या तुम्हें कहीं से खजाना मिला?' बेटा बोला, 'खजाना तो नहीं मिला, लेकिन ऐसी फसल इसके पहले कभी नहीं हुई थी, इसलिए बहुत खुश हूं कि साल भर का खर्च आसानी से चल जाएगा।' पंडित जी बोले, 'बेटा, तुम्हें दिखाई नहीं दे रहा है। यही तुम्हारा खजाना है। तुम्हारे पिता ने ठीक कहा था कि सारा धन इन खेतों में है। खजाना कहीं से टपकता नहीं है। परिश्रम करोगे तो अन्न के रूप में खजाना अपने आप आएगा।' बेटे को अपने पिता की बात का रहस्य मालूम हो गया। 
               
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Let others win
Post by: pramanisa on June 16, 2007, 01:39:18 AM
There was a farmer who grew superior quality and award-winning corn.
Each year he entered his corn in the state fair where it won honor and
prizes.

One year a newspaper reporter interviewed him and learnt something
interesting about how he grew it. The reporter discovered that the
farmer shared his seed corn with his neighbors.

"How can you afford to share your best seed corn with your neighbors
when they are entering corn in competition with yours each year?" the
reporter asked.

"Why sir," said the farmer, "didn't you know? The wind picks up pollen
from the ripening corn and swirls it from field to field. If my
neighbors grow inferior, sub-standard and poor quality corn,
cross-pollination will steadily degrade the quality of my corn.

If I am to grow good corn, I must help my neighbors grow good corn."

The farmer gave a superb insight into the connectedness of life. His
corn cannot improve unless his neighbor's corn also improves. So it is
in the other dimensions! Those who choose to be at harmony must help
their neighbors and colleagues to be at peace. Those who choose to live
well must help others to live well. The value of a life is measured by
the lives it touches.

Success does not happen in isolation. It is very often a participative
and collective process. So share the good quality corn.....
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on June 16, 2007, 04:00:35 AM
Om Sai Ram...

WILL POWER!!!!
 
An old man lived alone in Minnesota. He wanted to spade his potato garden, but it was very hard work.


His only son, who would have helped him, was in prison. The old man wrote a letter to his son and mentioned his situation.


  Dear Son, I am feeling pretty bad because it looks like I won't be able to plant  my potato garden this year. 


I hate to miss doing the garden, because your mother always loved planting time. I'm just getting too old to  be digging up a  garden plot.If you were here, all my troubles would be over. I know you would dig the plot  for me, if you weren't in prison.                                                                 


Love, Dad

.........

Shortly, the old man received this telegram:


" For Heaven's sake, Dad,don't dig up the garden!! That's where I buried the GUNS!"    At  4a.m.

The next morning,

A dozen FBI agents and local police officers showed up and dug up the entire garden without finding any guns.


Confused, the old man wrote another note to his son telling him what happened, and a sked him what to do next.

His son's reply was: "Go ahead and plant your  potatoes, Dad. It's the best I could do for you from here ."




~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~`


- Moral Of the Story ~~~~


NO MATTER WHERE YOU ARE IN THE WORLD,

IF YOU HAVE DECIDED TO DO SOMETHING DEEP FROM YOUR HEART, YOU CAN DO IT.


Jai Sai Ram..
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on June 18, 2007, 08:23:38 AM
जय सांई राम

चींटी से सीखो इस जीवन का दर्शन    
 
एक दिन एक व्यक्ति मुझसे मिला और कहने लगा, मैं मुंबई में जन्मा हूँ और अब न्यू यॉर्क में रहता हूँ। सवेरे 7.30 बजे काम पर निकलता हूँ तथा घर लौटने तक रात के 8.30 बज जाते हैं। मुझे अपनी संस्था के लक्ष्य भी पाने हैं तथा अपनी पत्नी एवं परिवार को भी क्वालिटी टाइम देना है। दफ्तर में उतनी देर तक काम करने के बाद मैं परिवार को वह क्वालिटी टाइम नहीं दे पाता और जब परिवार को थोड़ा समय देता हूँ तो दफ्तर का काम पिछड़ने लगता है। इसी बात से मुझे टेंशन होती है तथा मैं समझ नहीं पाता कि कैसे अपने जीवन को सुनियोजित करूं? मैं पाता हूँ कि मेरा जीवन असंतुलित सा है। कभी वह वास्तविक खुशियों से खाली लगता है और कभी वह बोझ से दबा हुआ सा लगता है।

मैंने कहा, यह सच है कि तुम व्यस्त हो, यह एक तथ्य है। तुमने एक व्यस्त नगर में रहने का निश्चय खुद ही किया है। तब एक निश्चय और करो। यह संकल्प करो कि अपनी समस्याओं और व्यस्तताओं के बीच भी मैं बिल्कुल संतुलित एवं शांत बना रहूँगा। अपने सारे संबंधों का निर्वाह सहज ढंग से करूंगा। जीवन गणित नहीं है, जीवन चित्रकला की तरह है। चित्रकार अपनी कला से अपने चित्र में अपनी सुन्दर सृष्टि की रचना करता है।

उस व्यक्ति को मेरी बात ठीक से समझ नहीं आई। उसने फिर पूछा- अपने व्यस्त कार्यक्रम के बीच शांत रहते हुए अपनी आकांक्षाएँ पूरी करने और परिवार पर समुचित समय देने का लक्ष्य मैं भला कैसे प्राप्त कर सकता हूँ, दोनों के बीच संतुलन कैसे कर सकता हूँ। एक जगह की कटौती दूसरी जगह की आमदनी है।

मैंने उससे कहा, तुमने चींटी देखी है? उसी से अपने जीवन में संतुलन लाना सीखो। चींटी के जीवन के पीछे गहन दर्शन शास्त्र छिपा है।

चींटी से सीखूं? उस व्यक्ति ने आश्चर्य से पलट कर प्रतिप्रश्न किया।

हाँ, यदि तुम ध्यानपूर्वक देखोगे तो उससे बहुत कुछ सीख पाओगे, मैंने कहा।

चींटी के सामने जो भी अड़चन आती है, वह अपना तरीका बदल कर, रास्ता बदल कर लचीलेपन से ऊपर से, नीचे से, आसपास से, किसी भी ढंग से उसे पार करती है। कार्य योजना में लचीलापन चींटी का बहुत सुंदर गुण है। दूसरी बात यह है कि चींटी कभी थक-हार कर अपना प्रयत्न बंद नहीं करती। तुम असली जिंदगी में भी देखोगे कि जीतने वाले कभी पलायन नहीं करते और पलायन करने वाले कभी जीत नहीं सकते।

वे इतनी दूरदर्शी या अग्रसोची होती हैं कि गर्मियों में ही बारिश के दिनों के लिए सारे प्रबन्ध पूरे कर लेती हैं। उनमें अच्छी योजना बनाने की भी क्षमता होती है और वे बारिश के लिए तैयारी करने का काम कभी अगले दिन के लिए स्थगित नहीं करतीं।

जब बरसात होती है तो चींटियाँ बहुत धैर्य से गर्मियों की प्रतीक्षा करती हैं। धैर्य बहुत बड़ा गुण है। एक बात और है कि किसी भी समय, चाहे जितना भी बड़ा लक्ष्य हो, चींटी के प्रयत्न में कभी कोई कमी नहीं होती। प्रयत्न सदैव सम्पूर्ण होना चाहिए।

तुमने कभी गौर किया है कि चींटियों में तालमेल कितना सुन्दर होता है। वे दल बनाकर बड़े से बड़ा कार्य बिल्कुल सुगमता से निपटा लेती हैं। सारी चीटियाँ मिलकर कितनी सुन्दर बाँबी बना लेती हैं। चींटियाँ काम करते समय अपने आगे की एवं पीछे की चींटियों से निरंतर सूचनाओं का आदान प्रदान करती रहती हैं। यह दल की टीम भावना और सबके सम्मिलित बुद्धि प्रयोग से ही सम्भव हो पाता है। परस्पर सहयोग चींटी का एक और महत्वपूर्ण गुण है। वे अपने दल के नेता का अनुसरण बेहद अनुशासित भाव से करती हैं, दंभ एवं अहंकार को परे रखकर। मनुष्य के लिए भी विनय और अनुशासन उतनी ही बड़ी शक्ति है, वह कोई कमजोरी नहीं है, जैसा कि हम अपनी नासमझी या अहंकार के कारण समझ लेते हैं।

क्या तुम भी अपना जीवन एक चींटी की भाँति सुनियोजित कर सकते हो?

चींटी के इस दर्शन से प्रेरणा लो और तब देखो जीवन कितना सुन्दर बन जाता है।
               
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 20, 2007, 10:11:43 AM


Rama, The Dutiful son

The King's mother died before she could eat the mango she had asked for and some wily courtiers convinced the king that his mother's soul would not rest in peace until a golden mango was given to each one of them. Accordingly a long line of courtiers formed outside the palace. Rama met them at the gate and told them that each man would get as many golden mangoes as burns he agreed to receive on his body with red hot irons. The courtiers gritted their teeth and suffered three of four burns each but when they went in, each man got only one golden mango. The courtiers were very angry and complained to the king. The king sent for Rama and asked for an explanation.
Said Rama: "Your Majesty, you mother died before she could eat the mango and mine died before she could be cauterised and I wished to fulfil her last wish."
The king realised that Rama was trying to show up the greedy courtiers and laughed and sent them away.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 20, 2007, 10:18:58 AM
Raman Provides Justice

Two men stood before Maryada Raman, the law-giver. One was a farmer, the other a village elder. The farmer said he had given the other man a diamond for safe-keeping and that he was now refusing to give it back.
"Well, is that true?" Maryada Raman asked the old man.
The man paused a while, deep in thought. Then, he handed his walking stick to his accuser. After another pause, he raised his eyes up to the heavens and said, "As God is my witness, I swear, I have given the diamond back to this man."
He then was at the point of taking back his stick, but Maryada Raman said, "Stop! The stick shall be awarded to the farmer."
"Take it away," he said to the farmer, "and break it when you are safely home."
The man was a little disappointed. To be awarded a stick in place of his diamond! But he followed Raman's instructions. When he reached home he broke the stick - and out tumbled the diamond!
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:03:21 AM
Peaches for Rama

The Emperor of China had sent some peaches to the king of Tondmandalam with a note stating that the fruit gave long life to anyone who ate them.
As the fruits were being shown to the ruler, Rama, giving in to temptation, picked up one of the luscious peaches and bit into it. The king was enraged.
"You've bitten into a fruit meant for me!" he thundered. "For this you must die!"
As Rama was being taken away by the royal guards he sighed dramatically and exclaimed: "What a deceitful man the Emperor of China is. He says the fruit gives long life. I took just one bite and I'm about do die. O, what a fate awaits the one who eats an entire fruit!"
The king was greatly amused by Rama's wit. He not only pardoned him but also gave him a dozen of the peaches he had risked his life for.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:04:41 AM
Tricksters Humbled

Four travellers once asked an old woman to keep a little bundle for them and told her to give it back only when all four were present.
One of them, however, returned alone and tricked her into giving him the bundle.
Later the other three came to collect the bundle. She explained she had given it to the man who had come earlier. They were very angry and took her to court. Maryada Raman, the judge listened to their complaint.
"So, you see, Sir, she has to pay us compensation now!" the three cried. "But she will give you the bundle itself," said Maryada Raman, and pausing a little, he added, "provided all four of you are present."
There was laughter in the court and the three men realised that they had lost the case.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:11:06 AM
Honest Opinion

A poet visited Tenali Raman hoping to impress him with some poems he had written. Raman asked him to leave the poems with him and promised to read them later. The man, however, insisted on reading out the poems to him.
As the poet droned on Raman fell asleep. When he woke up, the poet asked: “Sir, shall I read the poems again?”
“Why? I’ve already given you my opinion, haven’t I?”
“No, Sir,” said the man. “You fell asleep.”
“That’s right,” replied Raman. “When I fell asleep I gave my opinion.”
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:14:56 AM
The Key to Heaven

The villagers were delighted. A sadhu who performed miracles, had come to their village. Every morning and evening they would gather at the temple with specially prepared delicacies as offerings to the sadhu.
When Tenali Raman heard of this, he smelt a rat. He went to the temple and sat near the holy man. The sadhu began reciting shlokas. To Raman’s surprise, he went on repeating the same shloka over and over again.
Raman realised that he was a fraud. Suddenly, he leaned forward and plucked a strand of hair from the sadhu’s beard.
“I have the key to Heaven!” he shouted triumphantly. The villagers looked startled.
“This sadhu is so great that if I keep the hair from his beard with me, I will be blessed forever!” said Raman.
Immediately there was a scramble as the villagers rushed to get hold of a hair from the sadhu’s beard. The frightened sadhu ran for his life and was never heard of again.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:17:34 AM
The Fool of the Year

The 'Fool of the Year' contest was open to all the courtiers of king Krishnadeva Raya and all of them looked forward to the event as the winner stood to gain a handsome prize of 5000 gold coins.
The trouble was, Raman always won the contest.
One year the other courtiers decided that he must be kept out of it and bribed his servant to lock him in his room to prevent him from reaching the palace in time for the event. Consequently Raman reached the palace after the contest was over and just as the name of the winner was about to be announced. Seeing Raman come in, the king asked him why he was so late. Raman told him he was in need of a hundred gold coins and had been engaged in trying to raise the amount.
"If you had participated in the contest you might have won the prize money and your problem would have been solved,," said the king. "You've behaved very foolishly."
"I am a fool," said Raman.
"You're the greatest fool I've ever seen!" said the king.
"That means I have won the contest!" said Raman. The king realised that he had made a slip but he was too proud to acknowledge it and to the chagrin of the other courtiers declared Raman the winner of the 'Fool of the Year' contest!
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:19:22 AM
Raman's List of Fools

One day a horse trader, a foreigner, came to the court of Krishnadeva Raya and told him he had some fine horses for sale. The emperor offered to buy them. The man took an advance of 5000 gold coins and promising to return with the horses in two days, went away. That evening Krishnadeva Raya saw Raman writing on a sheet of paper.
"What are you writing?" he asked.
"I'm making a list of the greatest fools in the empire," said Raman.
The emperor was astonished to see his own name on the top of the list.
"What is the meaning of this?" he demanded. "You think I am a fool!"
"Any man who would give 5000 gold coins to a stranger and expect him to return, is a fool!" replied Raman.
"Oh, so that's what is troubling you," said the emperor. "You think the man won't return. What if he does?"
"In that case," said Raman with a twinkle in his eye, "I'll scratch out your name and put his there."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:21:09 AM
Rama Climbs Out of Trouble

Tenali Rama once incurred the displeasure of the king, and the monarch ordered him to quit his dominions.
Some days later as the king was riding through a forest, he saw a man, who on seeing the king, promptly climbed up a tree.
The king stopped under the tree and looking up, saw that it was Tenali Rama.
"You are still here!" he thundered. "Did l not tell you to leave my kingdom?"
"You did, Your Majesty," said
Rama. "Accordingly, l travelled all over the world, but wherever I went l learnt that l was still in your dominions. Now the only thing left for me to do is to go to Heaven, and as you can see l have already made a start in that direction."
The king laughed and forgave the jester.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:22:14 AM
The Irreverent Devotee

Tenali Rama prayed fervently to Goddess Kali and one day the goddess sporting a thousand faces appeared before him. Rama was awed and was about to prostrate himself when a silly thought entered his head. He looked at the goddess again and burst out laughing.
"Why are you laughing?" asked the goddess.
"Mother," replied Rama. "I have only one nose yet when I have a cold I suffer so much. I was wondering what would happen in case you caught a cold."
The goddess, pleased with his audacity and sense of humour, held out two crucibles of nectar to him.
"One is the nectar of wealth, the other is the nectar of wisdom," explained the goddess. "Dip your finger in the crucible of your choice."
Rama immediately dipped his fingers in both crucibles. The goddess hastily blessed him and disappeared.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:24:20 AM
The Scholarly Coachman

Mulla Nasruddin once took up a job as a coachman and one day had to drive his employer to a disreputable part of the town.
"Keep your eyes open," his employer advised him as he alighted from the coach at his destination. "This place is infested with thieves."
Some time later the man thought of checking on his new employee.
"Is everything all right? What are you doing now?" he shouted from a window of the house he had gone into.
"I'm sitting here wondering what happens to a man's lap when he gets up," the Mulla shouted back.
A little later the employer again shouted from the window"
"What are you doing now?!"
"I'm wondering what happens to a fist when the fingers are unclenched," shouted Nasruddin.
His employer was impressed.
"My coachman is no ordinary fellow," he boasted to his hosts. "He is a philosopher!"
Half an hour later he again poked his head out of the window and shouted!
"What are you doing now?"
"I am wondering who stole the horses," replied the Mulla.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:25:41 AM
Sweet Quarrels

One day Mulla Nasruddin quarrelled with his wife. He shouted at her till she could not bear it and fled to her neighbour's house.
The Mulla followed her there. The neighbours managed to placate the angry husband and served the couple tea and sweetmeats.

When they returned to their house some time later, they began quarrelling again. When Nasruddin began shouting at her, his wife again opened the door to run out.
"This time, go to the baker's house," he advised. "He makes delicious cakes."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:27:23 AM
Super Salesman

Nasruddin Hodja was trying to sell his house, but without success.
One day he prised out a brick from the wall of his house.
"Why did you do that?" asked his wife, appalled.
"Oh, foolish woman, what do you know?" said Nasruddin. "To sell anything, you have to show a sample. I propose to show this brick as a sample of our house."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:28:34 AM
Hodja in the Dust

Nasruddin Hodja had a buffalo whose horns were set wide apart. Hodja often felt an urge to sit on the animal's head between the horns, but never dared try it. One day the animal came and sat down very near him. Hodja threw caution to the winds and seizing the horns swung himself into the space between them.
"Now I feel like a king on his throne!" he said exultantly to his wife. The buffalo, startled by the sudden invasion of its privacy, got indignantly to its feet and jerked its head violently forward. Hodja went sailing into the air and fell head foremost into a ditch.
"It doesn't matter," he said to his wife who came running to help him. "It's not the first time a king has lost his throne."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:49:18 AM
Hodja Postpones Paying

One evening, Nasruddin Hodja's wife saw her husband walking up and down the verandah in great agitation.
"What's the matter?" she asked him.
"I borrowed a hundred dinars from our neighbour last month and I promised to return the money on the last day of this month," explained Hodja. "Tomorrow is the last day and I don't have the money. I don't know what to do."
"What is there to do!" said his wife. "Go and tell him you can't pay!"
Hodja took his wife's advice. When he returned from his neighbour's house he looked relaxed and happy.
"How did he take it?" asked his wife.
"Ah, well," said Hodja. "Now he is walking up and down his verandah.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:50:46 AM
The Mulla Pleads Poverty

MULLA Nasruddin was once brought before a judge by a man to whom he owed some money.
The creditor said to the judge: "This man owes me 500 dinars which are long overdue. I request your excellency to order him to pay me immediately, without further delay."
"I do owe him money," said the Mulla, "and I intend to pay him. I'll sell my cow and horse if necessary, but it'll take time."
"He is lying," said the other man. "He doesn't have a cow or horse or anything of value for that matter. I am told he doesn't even have food in his house!"
"When he knows I am so poor, O Judge," said the Mulla, "ask him how he expects me to pay him immediately."
The judge dismissed the case.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:52:18 AM
The Mulla in a Muddle

The Sultan’s elephant had wandered into Mulla Nasruddin Hodja’s village and was causing havoc in the fields.
The villagers finally decided to go in a delegation to the Sultan and request him to take the elephant away. As Mulla Nasruddin was known to the ruler, they asked him to lead the delegation.
When they arrived at the palace, the villagers were awed by the splendour of the surroundings and their courage deserted them. One by one they began to drop out of the group and slip away, so that when Hodja was finally in the Sultan’s presence he found to his dismay that he was alone.
"Well, what do you want, Nasruddin!" snapped the Sultan, who was in a particularly bad mood that day.
"Y-your elephant is in our v-village, your Excellency," stuttered the Mulla.
"So?" growled the Sultan.
"So…so," said the Mulla, completely unnerved by the situation, "we, I mean I, have come to tell you that it is terribly lonely… please send it a companion."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:54:30 AM
Fired by Fear

Nasruddin Hodja was trying to raise a fire by blowing at the glowing embers of coal in the fireplace. All he succeeded in doing was to produce a thick cloud of smoke that stung his eyes. He put on his wife's cap to prevent the smoke from getting into his eyes and started blowing again.
This time flames leaped up from the coal.
"Ahha!" said Hodja. "So you too are afraid of my wife."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:58:16 AM
Milk for the Mullah

One evening, a man carrying a can of milk stopped Mulla Nasruddin Hodja in the street and said he had a problem and wanted his advice.
"What's your problem?" asked Hodja.
"My problem is that though I never drink wine I feel intoxicated when I get up in the morning," explained the man.
"What do you drink last thing at night?" asked Hodja, eyeing the milkcan in his hand.
"Milk."
"Just as I thought," said Hodja. "That is the cause of your problem."
"Milk causes intoxication?" asked the man, astonished.
"It is like this," explained the Mulla. "You drink the milk and go to sleep. You toss around in your sleep. The milk gets churned. It turns into butter. Butter churned, turns into cheese. Cheese turns to fat. Fat into sugar. Sugar into alcohol. So you wake up with alcohol in your stomach. That is why you feel intoxicated in the morning."
"So what do I do?" asked the man, bewildered.
"Simple. Don't drink the milk," said Hodja. "Here, give it to me."
And taking the milkcan from the man, the Mulla walked away, leaving the man gaping .
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 03:59:12 AM
The Mind-Reader

Once at a crossroad, Mulla Nasruddin Hodja saw a portly nobleman riding towards him.
"I say, Mulla," said the man. "Which is the way to the palace?"
"How did you know I was a Mulla?" asked Hodja. The nobleman had a habit of addressing every scholarly-looking man as "Mulla," which was a title given to learned men and meant "master" but he didn’t want to tell Hodja that.
"How did I know?" he bragged. "Well, I’m a mind-reader, that’s how."
"Pleased to meet you," said Hodja. "As to your question, read my mind and proceed."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:00:23 AM
Speedy Ox

A horse race was about to be held and the contestants were being lined up.

Mulla Nasruddin Hodja came with an ox and asked that it be included in the race.

"Have you gone mad?" said the organisers. "What chance does an ox have against horses?"

"You talk that way because you do not know anything about my ox," said Hodja. "When it was a mere calf it could run almost as fast as a pony. Now that it is older it should be able to run even faster."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:01:55 AM
Hodja's Rich Dream

Hodja had a dream.
A man knocked at his door and asked if he could spend the night in his house.
He said he would pay 10 gold coins for the privilege.
Hodja agreed and showed him to his room.
The next morning, the man thanked Hodja and began taking out gold coins from his purse.
He took out nine and stopped.
"You promised to give me ten!" shouted Hodja and awoke.
He looked around for the man but there was no one there.
He quickly shut his eyes again.
"All right all right," he said. "Give me nine!"
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:03:25 AM
The Donkey's Relatives

Hodja was on his way to the market with a basketful of vegetables which he had loaded on his donkey. Halfway the donkey suddenly stopped. Hodja tried to coax it to move forward again but the animal would not budge. In anger and desperation Hodja began to belabour it with a stick.
People began to gather around them.
"Why are you beating the poor creature?" asked one man.
"Stop beating it at once!" ordered a second man.
"What a cruel man you are!" said a third.
Hodja gave his donkey an admiring look.
"If I had known you had so many relatives to defend you, I would never have hit you," he said. "I can see you come from a large and loud-mouthed family." The men who had commented, strode away indignantly and the crowd dispersed leaving Hodja to deal with his donkey as he thought fit.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:04:42 AM
Hodja’s Holy House

Hodja once lived in a rented house.
The building was old and whenever there was a strong wind, its rafters would creak and squeak.
One day when the landlord came to collect the rent, Hodja told him about the alarming noises the building was making.
“Don’t let that worry you,” said the landlord, airily. “Those noises are nothing but the praises the old building is singing to the Almighty.”
“Oh, I’m not worried about the hymns,” said Hodja. “But what if it decided to kneel down and worship him?”
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:11:02 AM
Hodja Goes to a Tailor


Nasruddin Hodja went to a tailor with a piece of cloth and asked the tailor to stitch him a shirt.
The tailor took his measurements.
“When will it be ready?” Nasruddin asked the tailor.
“God willing, it’ll be ready in a week’s time,” said the man.
Nasruddin could hardly wait for the week to pass. On the morning of the seventh day he hurried to the tailor’s shop. He was bitterly disappointed when he learnt that the shirt was not ready.
“God willing, it will be ready the day after tomorrow,” said the tailor.
Two days later, Nasruddin was again at the tailor’s shop. The shirt was still not ready.
“God willing it’ll be ready on Saturday,” said the tailor.
On Saturday it was the same story.
“God willing...,” began the tailor.
“Stop! Stop!” said Hodja, now thoroughly fed up. “Tell me, how long will it take if you leave God out of this?”
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:12:10 AM
A Question of Time

Nasruddin Hodja was tilling his patch of land when a hunter came riding up.
“Hey, you!” said the man. “Did you see a boar run past?”
“Yes,” replied Hodja.
“Which way did it go?” demanded the man.
Hodja pointed in the direction in which the boar had gone.
The man rode away without a word of thanks but he was back within minutes.
“No sign of it!” he said. “Are you sure it went that way?”
“I am certain,” replied Hodja. “It went that way. Two years ago.”
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:13:01 AM
Hodja is Relieved


One day two men came running to Hodja's house.
"What's the matter?" asked Hodja.
"A man resembling you was knocked down by a cart in the market," they said. "We thought it was you and came to inform your wife."
"Was he of my height?" asked Hodja.
"Yes," said the men.
"Did he have a beard like me?"
"Yes!"
"What was the colour of his shirt?"
"Pink."
"Pink!" shouted Hodja, in relief. "Then it was not me. I don't have a pink shirt."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:13:57 AM
Hodja and the Scholar


Nasruddin Hodja ferrying a scholar across a river said something ungrammatical to him.
"Have you never studied grammar?" asked the scholar.
"No," said Hodja.
"Then half your life has been wasted," said the scholar looking pityingly at him.
Sometime later Hodja turned to his passenger.
"Have you ever learnt to swim?" he asked.
"No," said the scholar.
"Then your whole life has been wasted," said Hodja. "We're sinking."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:15:14 AM
Hodja's Donkey

Nasruddin Hodja took his donkey to the market place and sold it for 30 dinars.
The man who bought it immediately put it up for auction.
"Look at this fine animal!" he shouted to passersby. "Have you ever seen a better specimen of a donkey? See how clean and strong it is!"
And he went on to list the many qualities of the animal. At the end of his sales talk a man said he would give 40 dinars for it.
Another man offered 50. A third offered 55.
Hodja who was watching was amazed at the interest everyone was showing in the donkey.
"What a fool I was to think it an ordinary animal," thought Hodja. "It is an incomparable beast, one in a million..." He suddenly realised that the owner had received a good offer and was about to close the bidding.
"75 dinars once..." said the man. "75 dinars twice..."
"80 dinars!" said Hodja.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:16:30 AM
Hodja Suggests a Remedy

One day Hodja met an acquaintance in the street.
The man looked worried and Hodja asked him what was troubling him.
"I have this terrible dream," said the man. "Every night I dream there's a monster hiding under the bed. When I get up and look there's no one there nut I can't sleep afterwards. I am on my way to the doctor's house now. He says he can cure me for a hundred dinars."
"A hundred dinars!" exclaimed Hodja. "I can rid you of your problem for five!"
The man immediately took out 5 dinars and gave them to Hodja.
"Now tell me what to do," said the man.
"The remedy is simple," said Hodja, pocketing the money.
"Saw off the legs of the bed."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:17:37 AM
Hodja Refuses to Write

One day Hodja's neighbour asked him to write a letter for him.
"To whom do you want to write?" asked Hodja.
"To my friend in Baghdad," said the man.
"Sorry," said Hodja. "I have no time to go to Baghdad."
"Who is asking you to go to Baghdad!" asked his neighbour. "All I want you to do is write a letter for me!"
"I know," said Hodja. "But my handwriting is so bad that no one there will be able to read my writing and finally they will send for me. And as I've told you I've no time to go to Baghdad."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:18:39 AM
Hodja, the King

Hodja, deep in thought was walking down a road near the palace when he bumped into a man.
The man got very angry and began to curse and shout at Hodja.
"Do you know who I am!" he screamed. "I am the king's Advisor!"
"That is nice," said Hodja. "As for me I am a king."
"A king?" asked the man. "Over which country do you rule?"
"I rule over myself," said Hodja. "I am master of my passions. You would never find me losing my temper as you did just now."
The man apologised and went away feeling very ashamed of himself.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 21, 2007, 04:19:52 AM
The Incomplete Coffin

A rich man showed Nasruddin Hodja the coffin he had got made for himself.
He wanted Hodja to admire the quality of the wood.
"What do you think of the carvings on the sides?" he asked Hodja. "Don't you think they are superb?"
Hodja nodded his head appreciatively.
"I insisted that the inside be lined with felt - the best felt material of course!" the man boasted.
"Of course," agreed Hodja.
"I wanted it to be perfect," the man went on. "Do you think anything is missing?"
"Yes," replied Hodja, "the occupant."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:19:04 AM
The Blind Saint


There lived a saint in an ashram in the kingdom of Emperor Akbar. He was believed to prophecy the future correctly. Once he had a visitor who had come to treat their niece. The child's parents were killed in front of the girl's eyes. Once she saw the saint, she started to scream loudly saying that that saint was the culprit. Angered by the girl's words the saint demanded the couple to get away with their child. The whole day the girl cried which made the couple to realize that the girl was not lying. Therefore, they decided to seek the help of Raja Birbal. Birbal consoled them and asked them to wait at the Emperor's assembly. Birbal had invited the saint to Akbar's court too. Then in front of all the ministers he drew a sword and neared the saint to kill him. The saint in bewilderment immediately drew another sword and began to fight. Thus by this act of the saint it was proved that he was'nt blind. Therefore
Akbar demanded to hang the culprit and rewarded the girl for her bravery for telling the truth even at the critical situation.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:20:47 AM
Birbal identifies the thief

One fine morning , a minister from Emperor Akbar's court had gathered in the assembly hall. He informed the Emperor that all his valuables had been stolen by a thief the previous night. Akbar was shocked to hear this beause the place where that minister lived was the safest place in the kingdom. He invited Birbal to solve the mystery. Akbar said "It is definitely not possible for an outsider to enter into the minister's house and steal the valuables. This blunder is definitely committed only by another minister of that court." Saying so he arranged for a donkey to be tied to a pillar . He ordered all the courtiers to lift the donkey's tail and say "I have not stolen." Birbal added "Only then we can judge the culprit." After everyone had finished, he asked the courtiers to show their palm to him. All the courtiers except Alim Khan had a black patch of paint on their palm. Birbal had actually painted the donkey's tail with a black coat of paint. In the fright, the guilty minister did not touch the donkey's tail at all. Thus Birbal once again proved his intelligence and was rewarded by the king with 1000 gold coins.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:22:37 AM
Birbal’s Painting

Once Akbar told Birbal 'Birbal, make me a painting. Use imagination in it. To which the reply was 'But hoozoor, I am a minister, how can I
possibly paint?'.The king was angry and said 'If I don’t get a good painting by one week then you shall be hanged!'. The clever Birbal had an
idea. After one week, he went to the court and with him he carried a covered frame. Akbar was happy to see that Birbal had obeyed him, until he opened the cover. The courtiers rushed to see what was wrong. What they saw made them feel very happy. At last, they would not see Birbal in court! The painting was nothing but ground and sky. There were a few specs of green on the ground. The Emperor, angrily, told Birbal 'what is this!' To which the reply was 'A cow eating grass hoozoor!'. Akbar said 'where is the cow and grass?' and Birbal told 'I used my imagination. The cow ate the grass and returned to its shed!'
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:23:57 AM
Question For Question

One day Akbar said to Birbal: "Can you tell me how many bangles your wife wears?"
Birbal said he could not.
"You cannot?" exclaimed Akbar. "You see her hands every day while she serves you food. Yet you do not know how many bangles she has on her hands? How is that?"
"Let us go down to the garden, Your Majesty," said Birbal, "and I'll tell you."
They went down the small staircase that led to the garden. Then Birbal turned to the emperor: "Your Majesty," he said, "You go up and down this staircase every day. Can you tell me how many steps there are in the staircase?"
The emperor grinned sheepishly and quickly changed the subject.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:24:59 AM
The Musical Genius

Famous musicians once gathered at Akbar's court for a competition. The one who could capture a bull's interest was to be declared the winner.
One by one, they played the most heavenly music but the bull paid no attention. Then Birbal took the stage. His music sounded like the droning of mosquitoes and the mooing of cows. But to everyone's amazement the bull suddenly became alert and began to move in a lively manner.
Akbar declared Birbal the winner.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:26:02 AM
Birbal, The Wise

Ramu and Shamu both claimed ownership of the same mango tree. One day they approached Birbal and asked him to settle the dispute. Birbal said to them: "There is only one way to settle the matter. Pluck all the fruits on the tree and divide them equally between the two of you. Then cut down the tree and divide the wood".
Ramu thought it was a fair judgement and said so. But Shamu was horrified.
"Your Honour" he said to Birbal "I've tended that tree for seven years. I'd rather let Ramu have it than see it cut down."
"Your concern for the tree has told me all I wanted to know" said Birbal, and declared Shamu the true owner of the tree.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:30:59 AM
The True King

The King of Iran had heard that Birbal was one of the wisest men in the East and desirous of meeting him sent him an invitation to visit his country.
In due course, Birbal arrived in Iran. When he entered the palace he was flabbergasted to find not one but six kings seated there. All looked alike. All were dressed in kingly robes. Who was the real king?
The very next moment he got his answer. Confidently, he approached the king and bowed to him.
"But how did you identify me?" the king asked, puzzled.
Birbal smiled and explained: "The false kings were all looking at you, while you yourself looked straight ahead. Even in regal robes, the common people will always look to their king for support."
Overjoyed, the king embraced Birbal and showered him with gifts.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:34:12 AM
Limping Horse

A nobleman’s prized racehorse began to limp for no apparent reason. Veterinarians who were called found nothing wrong with the leg - no fracture, no sprain, no soreness - and they were baffled.
The nobleman finally consulted a sage, a man known for his wisdom.
“Has anything changed for the horse in the last few months?” he asked.
“I changed his trainer a few weeks ago,” said the nobleman.
“Does the horse get on well with his new trainer?”
“Very well! In fact, he’s devoted to him.”
“Does the trainer limp?”
“Uh… yes, he does.”
“The reason for the horse’s limp is clear,” said the sage. “He’s imitating his handler. We all tend to imitate those whom we admire. The company we keep has a great influence on us.”
The nobleman put the horse in the charge of another trainer, and the horse soon stopped limping.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:37:57 AM
Birbal's Sweet Reply


One day the Emperor Akbar startled his courtiers with a strange question.
"If somebody pulled my whiskers what sort of punishment should be given him?" he asked.
"He should be flogged!" said one courtier.
"He should be hanged!" said another.
"He should be beheaded!" said a third.
"And what about you, Birbal?" asked the emperor. "What do you think would be the right thing thing to do if somebody pulled my whiskers?"
"He should be given sweets," said Birbal.
"Sweets?" gasped the other couriers.
"Yes, said Birbal. "Sweets, because the only one who would dare pull His Majesty's whiskers is his grandson."
So pleased was the emperor with the answer that he pulled off his ring and gave it to Birbal as a reward.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:39:35 AM
Birbal Is Brief

One day Akbar asked his courtiers if they could tell him the difference between truth and falsehood in three words or less.
The courtiers looked at one another in bewilderment.
"What about you, Birbal?" asked the emperor. "I'm surprised that you too are silent."
"I'm silent because I want to give others a chance to speak," said Birbal.
"Nobody else has the answer," said the emperor. "So go ahead and tell me what the difference between truth and falsehood is — in three words or less."
"Four fingers" said Birbal
"Four fingers?" asked the emperor, perplexed.
"That's the difference between truth and falsehood, your Majesty," said Birbal. "That which you see with your own eyes is the truth. That which you have only heard about might not be true. More often than not, it's likely to be false."
"That is right," said Akbar. "But what did you mean by saying the difference is four fingers?'
"The distance between one's eyes and one's ears is the width of four fingers, Your Majesty," said Birbal, grinning.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:40:57 AM
Birbal, The Child


Birbal arrived late for a function and the emperor was displeased.
"My child was crying and I had to placate him," explained the courtier.
"Does it take so long to calm down a child?" asked the emperor. "It appears you know nothing about child rearing. Now you pretend to be a child and I shall act as your father and I will show you how you should have dealt with your child. Go on, ask me for whatever he asked of you."
"I want a cow," said Birbal.
Akbar ordered a cow to be brought to the palace.
"I want its milk. I want its milk," said Birbal, imitating the voice of a small child.
"Milk the cow and give to him," said Akbar to his servants.
The cow was milked and the milk was offered to Birbal. He drank a little and then handed the bowl back to Akbar.
"Now put the rest of it back into the cow, put it back, put in back, put it back..." wailed Birbal.
The emperor was flabbergasted and quietly left the room.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:42:18 AM
Just One Question


One Day a scholar came to the court of Emperor Akbar and challenged Birbal to answer his questions and thus prove that he was as clever as people said he was. He asked Birbal: "Would you prefer to answer a hundred easy questions or just a single difficult one?"
Both the emperor and Birbal had had a difficult day and were impatient to leave.
"Ask me one difficult question," sad Birbal.
"Well, then, tell me," said the man, "which came first into the world, the chicken or the egg?"
"The chicken," replied Birbal.
"How do you know?" asked the scholar, a note of triumph in his voice.
"We had agreed you would ask only one question and you have already asked it" said Birbal and he and the emperor walked away leaving the scholar gaping.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:43:15 AM
The Emperor's Servant

One day Akbar and Birbal were riding through the countryside and they happened to pass by a cabbage patch.
"Cabbages are such delightful vegetables!" said Akbar. "I just love cabbage."
"The cabbage is king of vegetables!" said Birbal.
A few weeks later they were riding past the cabbage patch again. This time however, the emperor made a face when he saw the vegetables. "I used to love cabbage but now I have no taste for it." said Akbar.
"The cabbage is a tasteless vegetable" agreed Birbal.
The emperor was astonished.
"But the last time you said it was the king of vegetables!" he said.
"I did," admitted Birbal. "But I am your servant Your Majesty, not the cabbage's."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:50:15 AM
The Loyal Gardener

One day the Emperor Akbar stumbled on a rock in his garden. He was in a foul mood that day and the accident made him so angry that he ordered the gardener’s arrest and execution.

The next day when the gardener was asked what his last wish was before he was hanged, he requested an audience with the emperor. This wish was granted, but when the man neared the throne he loudly cleared his throat and spat at the emperor’s feet. The emperor was taken aback and demanded to know why he had done such a thing. The gardener had acted on Birbal’s advice and now Birbal stepped forward in the man’s defence.

"Your Majesty," he said, "there could be no person more loyal to you than this unfortunate man. Fearing that people would say you hanged him for a trifle, he has gone out of his way to give you a genuine reason for hanging him."

The emperor, realising that he had been about to do a great injustice, set the man free.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:52:56 AM
Birbal Identifies a Guest


Birbal had been invited to lunch by a rich man. Birbal went to the man's house and found him in a hall full of people. His host greeted him warmly.
"I did not know there would be so many guests," said Birbal who hated large gatherings.
"They are not guests," said the man. "They are my employees, all except one man. He is the only other guest here beside you."
Then a crafty look came on the man's face.
"Can you tell me which of them is the guest?" he asked.
"Maybe I could," said Birbal. "Talk to them as I observe them. Tell them a joke or something."
The man told a joke that Birbal thought was perhaps the worst he had heard in a long time. When he finished everyone laughed uproariously.
"Well," said the rich man. "I've told my joke. Now tell me who my other guest is."
Birbal pointed out the man to him.
"How did you know?" asked his host, amazed.
"Employees tend to laugh at any joke told by their employers," explained Birbal. "When I saw that this man was the only one not laughing at your joke, and in fact, looked positively bored, I at once knew he was your other guest."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:54:48 AM
Birbal Betrays Himself

Birbal was missing. He and the emperor had a quarrel and Birbal had stormed out of the palace vowing never to return. Now Akbar missed him and wanted him back but no one knew where he was.
Then the emperor had a brainwave. He offered a reward of 1000 gold coins to any man who could come to the palace observing the following condition. The man had to walk in the sun without an umbrella but he had to be in the shade at the same time.
"Impossible," said the people.
Then a villager came carrying a string cot over his head and claimed the prize.
"I've walked in the sun but at the same time I was in the shade of the strings of the cot," he said. It was a brilliant solution. On interrogation the villager confessed that the idea had been suggested to him by a man living with him.
"It could only be Birbal!" said the emperor, delighted. Sure enough it was Birbal and he and the emperor had a joyous reunion.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:55:55 AM
Noble Beggar

Emperor Akbar asked Birbal if it was possible for a man to be the 'lowest' and the 'noblest' at the same time.
"It is possible," said Birbal.
"Then bring me such a person," said the emperor.
Birbal went out and returned with a beggar.
"He is the lowest among your subjects," he said, presenting him to Akbar.
"That might be true," said Akbar. "But I don't see how he can be the 'noblest'."
"He has been given the honour of an audience with the emperor," said Birbal. "That makes him the noblest among beggars."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:57:29 AM
Birbal's Choice

One day Emperor Akbar asked Birbal what he would choose if he were given a choice between justice and a gold coin.
“The gold coin,” said Birbal.
Akbar was taken aback.
“You would prefer a gold coin to justice?” he asked, incredulously.
“Yes,” said Birbal.
The other courtiers were amazed by Birbal’s display of idiocy.
For years they had been trying to discredit Birbal in the emperor’s eyes but without success and now the man had gone and done it himself!
They could not believe their good fortune.
“I would have been dismayed if even the lowliest of my servants had said this,” continued the emperor. “But coming from you it’s. . . it’s shocking - and sad. I did not know you were so debased!”
“One asks for what one does not have, Your Majesty!” said Birbal, quietly. “You have seen to it that in our country justice is available to everybody. So as justice is already available to me and as I’m always short of money I said I would choose the gold coin.”
The emperor was so pleased with Birbal’s reply that he gave him not one but a thousand gold coins.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 01:59:40 AM
Birbal Turns the Tables

Emperor Akbar was narrating a dream. The dream began with Akbar and Birbal walking towards each other on a moonless night. It was so dark that they could not see each other - and they collided, and fell.
"Fortunately for me," said the Emperor. "I fell into a pool of payasam. But guess what Birbal fell into?"
"What, your Majesty?" asked the courtiers.
"A gutter!"
The court resounded with laughter. The emperor was thrilled that for once he had been able to score over Birbal. But Birbal was unperturbed.
"Your Majesty," he said when the laughter had died down. "Strangely, I too had the same dream. But unlike you I slept on till the end. When you climbed out of that pool of delicious payasam and I, out of that stinking gutter we found that there was no water with which to clean ourselves and so guess what we did?
"What?" asked the emperor, warily.
"We licked each other clean!"
The emperor became red with embarrassment and resolved never to try to get the better of Birbal again.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 02:01:35 AM
Birbal Returns Home


Birbal was in Persia at the invitation of the king of that country. Parties were given in his honour and rich presents were heaped on him. On the eve of his departure for home, a nobleman asked him how he would compare the king of Persia to his own king.
“Your king is a full moon,” said Birbal. “Whereas mine could be likened to the quarter moon.”
The Persians were very happy. But when Birbal got home he found that Emperor Akbar was furious with him.
“How could you belittle your own king!” demanded Akbar. “You are a traitor!”
“No, Your Majesty,” said Birbal. “I did not belittle you. The full moon diminishes and disappears whereas the quarter moon grows from strength to strength. What I, in fact, proclaimed to the world is that your power is growing from day to day whereas that of the king of Persia is about to go into decline.”
Akbar grunted in satisfaction and welcomed Birbal back with a warm embrace.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 02:02:55 AM
Birbal Denies a Rumour

One day a man stopped Birbal in the street and began narrating his woes to him.
"I've walked twenty miles to see you," he told Birbal finally, "and all along the way people kept saying you were the most generous man in the country."
Birbal knew the man was going to ask him for money.
"Are you going back the same way?" he asked.
"Yes," said the man.
"Will you do me a favour?"
"Certainly," said the man. "What do you want me to do?"
"Please deny the rumour of my generosity," said Birbal, walking away.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 02:04:42 AM
The Sharpest Shield and Sword

A man who made spears and shields once came to Akbar's court.
"Your Majesty, nobody can make shields and spears to equal mine," he said. "My shields are so strong that nothing can pierce them and my spears are so sharp that there's nothing they cannot pierce."
"I can prove you wrong on one count certainly," said Birbal suddenly.
"Impossible!" declared the man.
"Hold up one of your shields and I will pierce it with one of your spears," said Birbal with a smile.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 02:05:52 AM
Birbal Outwits a Cheat


A farmer and his neighbour once went to Emperor Akbar's court with a complaint.
"Your Majesty, I bought a well from him," said the farmer pointing to his neighbour," and now he wants me to pay for the water."
"That's right, your Majesty," said the neighbour. "I sold him the well but not the water!"
The Emperor asked Birbal to settle the dispute.
"Didn't you say that you sold your well to this farmer?" Birbal asked the neighbour. "So, the well belongs to him now, but you have kept your water in his well. Is that right? Well, in that case you will have to pay him a rent or take your water out at once."
The neighbour realised that he was outwitted. He quickly apologised and gave up his claim.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 22, 2007, 02:08:04 AM
Birbal Shortens a Road

The emperor Akbar was travelling to a distant place along with some of his courtiers. It was a hot day and the emperor was tiring of the journey.
“Can’t anybody shorten this road for me?” he asked, querulously.
“I can,” said Birbal.
The other courtiers looked at one another, perplexed. All of them knew there was no other path through the hilly terrain. The road they were travelling on was the only one that could take them to their destination.
“You can shorten the road?” said the emperor. “Well, do it.”
“I will,” said Birbal. “Listen first to this story I have to tell.”
And riding beside the emperor’s palanquin, he launched upon a long and intriguing tale that held Akbar and all those listening, spellbound. Before they knew it they had reached the end of their journey.
“We’ve reached?” exclaimed Akbar. “So soon!”
“Well,” grinned Birbal, “you did say you wanted the road to be shortened.”
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 01:42:56 AM
The Power of a rumour
 
A hare resting under a banyan tree had a premonition of doom.
“What would happen to me if the earth were to break up?” he wondered. Suddenly, there was a ‘thud’ followed by a rumbling sound.
“It’s happened,” thought the hare, “the earth’s breaking up!”
He jumped up and ran.
“Why are you running?” asked a hare who crossed his path.
“The earth’s breaking up!” shouted the hare. “You’d better run too.”
The second hare ran so fast he overtook the first.
“The earth’s breaking up, the earth’s breaking up!” he shouted to other hares he passed. Soon thousands of hares were scampering through the forest.
Other animals got caught up in the panic. The word spread from mouth to mouth, and soon everyone knew: the earth was breaking up.
It was not long before the whole jungle was on the move. Reptiles, insects, birds and four-footed animals fled in wild disorder, and their cries of terror filled the air.
A lion standing on a hillock, saw the animals coming and wondered what was going on. He hastened down and positioning himself in front of the horde called for it to stop.
His commanding presence stemmed the rising tide of panic among the animals.
“The earth is breaking up!” shrieked a parrot, alighting on a rock near him.
“Who says so?”
“I heard it from the monkeys."
The monkeys said they had heard it from the tigers, who said their informants were the elephants, who gave the buffaloes as their source.When the hares were finally implicated they pointed one to another until the one who had started it all was identified.
“What makes you think the earth is breaking up?” the lion asked him.
“I heard it cracking with my own ears, sire,” squeaked the hare, trembling in fear.
The lion investigated the sound the hare had heard and found that it had been caused by a large coconut falling from a tree. It had landed on a pile of rocks, causing a minor landslide.
“Go back to your homes,” said the lion to the animals who had been running away, and who were now looking very foolish. “The earth’s safe. Next time, check a rumour before acting on it.”

—Adapted from the Jatakas
 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 01:46:59 AM
Interdependence
 
In a clearing, deep in the forest, the trees were having a pre-dawn discussion.
“Animals come and rest in our shade but they leave a mess behind,” said the Jamun. “The smell on some days is unbearable!”
“They show no concern for us because we’re silent,” said the Sal. “But I’ve had enough! I’ve made up my mind to drive away any animal that comes here!”
“That may not be a wise thing to do,” said the Peepul, the oldest and biggest tree there. “The animals are a nuisance, I agree, but they serve a useful purpose. We are all inter-dependent—trees, animals, men . . .”
“I’m sorry,” interrupted the Sal. “I’ve great respect for your views but in this matter I will not listen to anyone. I won’t allow animals here any more!”
True to his word when a leopard came to rest in the shade later that day, the Sal began to shake violently from side to side. The leopard, frightened out of his wits, jumped up and ran. The Sal drove away all the animals that came to the clearing that day and in the days that followed. In course of time animals stopped coming to that part of the forest.
The Sal became a great hero to the younger trees in the neighbourhood and even some of the older ones began bowing to him when the Peepul was not looking.
Then one day two woodcutters came to the clearing.
“Men!” gasped the Sal. “Why have they come here? They’ve never come here before.”
“If they’ve never come here before it was because they were afraid of the animals,” said the Peepul. “Now the absence of the leopard and the tiger has made them bold.”
The Sal began to tremble with fear and with good reason. It was the first tree the woodcutters chopped down.
 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 01:51:24 AM
The Physician's Revenge
 
This story is adapted from the Jatakas and shows how important it is to evaluate advice before acting on it.

A girl threw a firebrand at a goat that was eating her corn and the goat’s coat caught fire. Maddened with fear, it ran to a haystack and started rubbing against it . The haystack was soon ablaze. The fire spread to the barn and then to the stables in which the royal elephants were housed. Some of the elephants were badly burnt before the fire was finally put out.
The men looking after the elephants could not heal their wounds. So the king sent for his own physician.
On the way to the palace the physician lay down under a tree for a nap. Hardly had he closed his eyes than he felt something warm running down his face. He got up with a start and found that a crow that was sitting on a branch directly above him, had spattered him with its droppings.The physician cursed the crow and wiping his face, continued on his way, but in a foul mood. When he reached the palace and the king asked him for a remedy for the elephants’ wounds he replied: "Rub the wounds with crow's fat, lots of crow’s fat!"
And so began a great slaughter of crows. Thousands were shot and it looked as if the slaughter would continue till all the crows in the kingdom were dead. One day, a crow flew into the palace and settled down in front of the king. Soldiers rushed forward to catch it, but the king waved them back.
"Let it be,’ he said. "Perhaps it has come to tell me something."
"I have," said the bird. "I am the king of crows and I have come to tell you that you are doing us a great wrong. You are being led astray by a man bent on revenge against my brethren."
"You are making a serious accusation," said the king." Have you any proof?"
"I have," said the crow. "The proof lies in the fact that crows have no fat, otherwise you would have got bucketfuls of it from the thousands you have already slaughtered."
The king felt ashamed of what he had done and immediately stopped the slaughter of the birds.
 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 01:56:10 AM
Plane Truth
 
Two travellers, seeking respite from the searing heat of the midday sun, took shelter under a leafy tree.
They soon felt cool and refreshed.
“What sort of tree is this? Does it produce edible fruits?” asked one of the men to the other.
“It’s a plane tree,” said his companion. “Don’t waste your time looking for fruits. It produces neither edible fruits nor good wood. It’s one of the most useless trees around.”
“How can you say that when you’re enjoying my shade at this very moment?” snapped the tree.

Moral: Often, a person’s worst critics are those who have benefited the most from him.


 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 01:57:31 AM
The Sea pleads helplessness
 
A shipwrecked man, struggled mightily against the waves and was finally cast ashore, more dead than alive. When finally he regained consciousness, he saw that the sea was as calm as a pond.
"How deceitful you are!" he shouted to the sea. "You draw men unto you showing your peaceful side but when they are in your power you wreak fury against them!"
The sea took the form of a woman to defend herself.
"Blame me not!" said the woman. "I'm always peaceful. It is the wind that creates waves and turns me into a monster."

Moral: Beware of people who are controlled by others.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:00:12 AM
The Foolish Dog
 
There was once a dog that used to run up quietly behind people and bite their heels. Fed up of the numerous complaints, the owner tied a bell around the dog’s neck so that the sound of the bell would alert people whenever the animal came near them.
The dog felt the bell was a reward of some sort and became extremely conceited, turning up his nose whenever he met other dogs on the street. One day a hound brought him down to earth with some plain speaking and when the dog learnt why the bell had been put around his neck he slunk away in shame.

Moral: Sometimes what appears to be a clap on the back is actually a slap on the face.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:01:26 AM
The Unseen Enemy
 
A gnat, annoyed with a lion, for disturbing its sleep with its roaring, stung the beast on its snout. The lion tried to crush it with its paws but without success. The insect dodged the great cat’s claws and stung it again on its face.
Elated by its victory over the king of beasts, the gnat turned to gloat. Unfortunately, there was a web in its path. It got caught in the web, and was devoured by the spider.

An insignificant foe is sometimes more dangerous than a mighty adversary because we’re not on guard against it.

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:05:41 AM
Last Boast 
 
A fir tree said boastingly to the bramble bush growing in its shade: “You are useless. Nobody wants you. I am everywhere used for roofs and houses. Men can’t do without me.”
“You’re so right,” said the bramble. “Here’s a man coming to you with an axe, right now. Farewell.”

Moral: Pride comes before a fall.
 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:07:59 AM
Running with the Herd
 
A young deer said to his mother, “I’m larger than a dog and swifter and I have horns to defend myself with. Yet when a dog appears I run away with the others. I have decided not to run from dogs, in future.”
Just then they heard the bark of a dog. The young deer was filled with fear and forgetting his resolve, took to his heels along with his mother and the rest of the herd.

Moral: Fear drives away Reason.

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:09:28 AM
Defeated by Pride
 
Two roosters fought for supremacy in the farmyard. Finally one was vanquished and he went and hid himself in a corner of the hen-house. The victor flew up to the roof of the barn and begin to crow, “I’ve won, I’ve won!”
 An eagle swooped down and carried him away and the rooster that had been defeated suddenly found himself unchallenged master of the farmyard.

Moral: The enemy is often defeated by his own pride.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:10:54 AM
The oil-lamp humbled
 
An oil-lamp, observing how well it was lighting up the area around it, was filled with pride.
"Even the sun could not do better!" he boasted.
Just then the wind started to blow and the lamp went out.
"Next time you think of comparing yourself to the sun," said its owner, re-lighting it, "remember the sun doesn't have to be re-lit."

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:12:44 AM
Timidity
 
Rabbits are among the most timid of animals.
The rabbits of a colony, once had a meeting to discuss this trait of theirs. They came to the conclusion that as their timidity would never leave them, they were doomed to a miserable existence and it would be better to drown themselves and end their misery once and for all.
Accordingly, they began to move towards a large lake.
When the frogs in the lake saw the large number of rabbits approaching, they were filled with fear and made for the deepest part of the lake.
Seeing this, the leader of the rabbits stopped and said to his fellow-creatures:
"It is true we are timid, but here are animals more timid than ourselves. There is hope for us yet. Let us go back to our homes."
And that is what they did.

Moral: Just as we are afraid of others, others are afraid of us.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:23:25 AM
The Ailing Deer
 
A sick stag was lying in a corner, helpless and weak. He was glad he had collected enough grass to last him through his period of illness. But suddenly, to his dismay, he saw that some friends who had come to see him were helping themselves to the food.
"Please go away," he said. "My illness will not kill me but your greed certainly could."

Moral : Thoughtless friends are more harmful than enemies.

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:25:04 AM
Boar with Foresight
 
A wild boar was rubbing his tusks against a tree. A fox passing by asked him what he was doing.
"My tusks are my weapons," said the boar. "I'm sharpening them."
"Why waste time sharpening your weapons when there's no danger in sight?" said the fox. "You're being foolish."
Just then a hunter appeared on the scene. Frightened by the boar's sharpened tusks, he turned on the fox instead and shot him dead.

Moral : Be prepared.
 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:27:35 AM
The Foolish Donkey
 
An idol-maker had to deliver an idol to a customer. He placed it on his donkey's back and they started on their journey.
Now the idol-maker was extremely skilled at his job and this particular idol was one of the best he had ever made. Whoever saw it, stopped to bow down and pray.
The donkey thought they were bowing to him.
He was enormously pleased and flattered and not wishing to go away from a place where he was held in such high esteem, came to an abrupt stop.
Nothing his master did would induce him to start walking again, and finally his master lifted the idol on to own head and resumed his journey.
The donkey stood where he was, head held high, and braying sonorously until he suddenly became aware that there was no one watching him. The people were now following his master and bowing to the idol.
The donkey realised that his pride had clouded his judgement and feeling ashamed of himself, ran to rejoin his master.
 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:29:09 AM
The Clever Sheep
 
One day a wolf cornered a sheep.
"You can't escape, " said the wolf, baring his teeth.
"I know," said the sheep, softly.
"Please grant me a last wish. Sing a song so that I may dance one last time.'
"Certainly,' said the wolf and throwing back his head began to howl.
Hearing him howl the farmer's dogs rushed to the spot and drove him away.

Moral: Don't attempt anything that is beyond your ability

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:29:59 AM
Monkey Business
 
A monkey climbed the roof of a house and entertained the people who had gathered below to watch it, with its antics.
After it had gone, an ass who craved popularity climbed the roof and tried to perform the same tricks.
In the process, it dislodged and broke several tiles.
The owner of the house was furious. His servants went up, drove the ass down, and beat it black and blue.

Moral: Actions that suit others may not suit you. Be yourself.

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:31:33 AM
Hanging Together
 
The cranes were eating grain from his field, so the farmer set a trap and caught several of them.
Among them was a stork.
“You can see I don’t belong here,” said the stork. “ I’m a law- abiding bird. Please let me go.”
“ You may well be what you claim to be,” said the farmer. “ But I caught you along with these robbers, so you will have to hang with them.”

Moral: You are judged by the company you keep.
 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:34:22 AM
A Cartload of Almonds
 
A squirrel joined the service of the King of the Forest, the lion.
He did whatever work was given him, quickly and well. The lion became fond of him and promised to give him a cartload of almonds as pension when he retired.
The squirrel envied the other squirrels in the forest because of their carefree life. He longed to run up and down trees and leap from branch to branch like them but he could not leave the king's side and even if he could he had to move with courtly dignity. He consoled himself with the thought that at the end of his career, he would receive a cartload of almonds, a food that few squirrels got to taste in their lifetime.
"They will envy me then," he would tell himself.
The years passed. The squirrel became old and then it was time for him to retire. The king gave a grand banquet in his honour and at the end of it, presented him with a cartload of almonds as he had promised.
The squirrel had waited so long for this day but when he saw the almonds, he was seized with sadness. He realised they were of no use to him now. He had lost all his teeth.

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:36:48 AM
Fox in the Cart
 
A fox observing a fish cart coming, lay down and pretended to be dead.
The cart man, tempted by the idea of making some money by selling the fox's fur, picked up the animal by its tail and flung it into the back of the cart among the fish.
Then he resumed his journey. The fox ate his fill of the fish and jumped out of the cart. A wolf saw him jumping out and asked him what he had been doing in it. The fox told him and also how he had got into it in the first place.
The wolf ran ahead of the cart and lay down in its path, pretending to be dead. The cart man was delighted to find another animal to sell, but he found the animal too heavy to lift. So he pushed it into a sack, tied the sack to his cart and dragged it away.

Moral: What works for one may not work for another.
 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:37:56 AM
Foxy Rooster
 
A fox sneaked into a farm and grabbed a prize rooster.
The farmer saw him and raised the alarm and he and his dogs started chasing the thief. The fox, though he was holding the rooster in his mouth, was running very fast.
"Get him! Get him!" shouted the farmer to his dogs.
"No!" suddenly screamed the rooster. "Don't come near me!"
"My master was very cruel to me," explained the rooster to the fox. "Tell him to stay away from me."
The fox was delighted. "He wants you to stay away from him!" he shouted at the farmer, in the process releasing his hold on the rooster. The rooster flew up into a tree and stayed there till he was rescued by his master.


Moral: Think twice before you open your mouth to speak
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:41:25 AM
Right Move
 
The great Zen teacher, Benzei had many pupils. One day, one of them was caught stealing by his fellow-students and they reported him to Benzei. But he took no action against the boy.
A few days later the same boy was again caught stealing. And again Benzei did nothing. This angered the other students who drew up a petition asking for the dismissal of the thief. They threatened to leave en masse if the boy was allowed to stay.
The teacher called a meeting of the students. When they had assembled he said to them: “You are good boys who know what is right and what is wrong. If you leave you will have no trouble in joining some other school. But what about your brother who does not even know the difference between right and wrong? Who will teach him if I don’t? No, I cannot ask him to go even if it means losing all of you.”
Tears coursed down the cheeks of the boy who had stolen. He never stole again and in later life became renowned for his integrity.

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:42:14 AM
Making a Difference
 
Ryokan was a Zen teacher of repute. One day a fisherman saw him walking on the beach soon after a storm. The storm had washed up thousands of starfish on the shore, and they were beginning to dry up. Soon all of them would be dead. Ryokan was picking up starfish and throwing them into the sea.
The fisherman caught up with the teacher and said, “Surely, you cannot hope to throw all these starfish back into the sea? They will die in their thousands here. I’ve seen it happen before. Your effort will make no difference.”
“It will to this one,” said Ryokan, throwing back another starfish into the sea.

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:43:38 AM
Overcoming Anger
 
A Zen student said to his teacher, “ Master, I have an ungovernable temper. Help me get rid of it.”
“ You have something very strange,” said the teacher.
“Show it to me.”
“ Right now I cannot show it to you.”
“Why not?"
“ It arises suddenly.”
“ Then it cannot be your own true nature,” said the teacher, “if it were, you would be able to show it to me at any time. Why are you allowing something that is not yours to trouble your life?”
Thereafter whenever the student felt his temper rising he remembered his teacher’s words and
checked his anger. In time, he developed a calm and placid temperament.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:46:21 AM
Sleepy Teacher
 
A schoolteacher used to take a short nap every afternoon. When his pupils asked him why he did so, he said that he went to dreamland to meet ancient sages.
One extremely hot day some of the pupils fell asleep in the afternoon. When the school-teacher chided them, they said:
"We went to meet the sages in dreamland."
"What did they say?" demanded the teacher.
"We asked them if a school- teacher came there every afternoon, but they said they had seen no such person."

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:47:50 AM
The End
 
A young student of Zen happened to break a precious vase belonging to his teacher. When he heard his teacher's footsteps, he quickly held the broken vase behind him. As the teacher walked up to him, he asked, "Why does one die, master?"

"It's natural," said the teacher. "Everything has a beginning and an end. Everything has just so long to live and then has to die."

The student held out the pieces of the broken vase and said, "The time for your vase to die had come."

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:51:18 AM
When Truth Dawned
 
Ryokan, the Zen teacher, was requested by his sister-in-law to come to her house and talk to her son.
“He does no work, squanders his father’s money in wild parties and is neglecting the estate,” she complained. “If he does not reform, we will be ruined.”
Ryokan went to his brother’s house and met his nephew who was genuinely pleased to see him. The two of them had spent many happy hours together before Ryokan had turned to Zen and entered the monastery. The young man knew why his uncle had come and braced himself for the scolding he was sure he would receive. But Ryokan said not a word in rebuke, the whole day. The next morning when it was time for him to go, he put on his garments and then said to his nephew: “Will you help me tie the thongs of my sandals? My hands shake and I cannot do it.”
His nephew helped him willingly.
“Thank you,” said Ryokan. “A man becomes older and feebler day by day. You remember how strong and robust I used to be?”
“ I do,” said his nephew, thoughtfully. “ I do indeed remember how you used to be.”
It was the moment of truth for him. He suddenly realized that his mother and all those who had looked after him had become old and that it was now his turn to look after them and to take on the responsibilities of the household and the community.
He gave up his dissolute life forever.
 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 24, 2007, 02:53:06 AM
A Handful of Answers
 
A young student of Zen was going to the market to buy vegetables for the monastery where he was studying. On the way he met a student from another monastery.
“Where are you going?” asked the first student.
“Wherever my legs take me,” replied the other.
The first student pondered over the answer as he was sure it had some deep significance. When he returned to the monastery, he reported the conversation to his teacher, who said: “You should have asked him what he would do if he had no legs.”
The next day the student was thrilled to see the same boy coming towards him.
“Where are you going?” he asked and without waiting for a reply continued, “Wherever your legs take you, I suppose. Well, let me ask you . . .”
“You’re mistaken,” interrupted the other boy. “Today I’m going wherever the wind blows.”
This answer so confused the first boy that he could not think of anything to say.
When he reported the matter to his teacher, the old man said: “You should have asked him what he would do if there were no wind.”
Some days later the student saw the boy in the market again and rushed to confront him, confident that this time he would have the last word.
“Where are you going?” he asked. “Wherever your legs take you or wherever the wind blows? Well, let me ask you . . . . ”
“No, no,” interrupted the boy. “Today I’m going to buy vegetables.”
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 08:44:41 AM
The Best Artist
 
A despotic sultan who was blind in one eye invited three artists to paint his picture.
“If you do a bad portrait, I will punish you,” he warned, “ but if you do a good one I will reward you. Now start!”
The first artist produced a picture that showed the sultan as he was: blind in one eye.
The sultan had him executed for showing disrespect to his monarch.
The second artist showed him with both eyes intact.
The sultan had him flogged for trying to flatter him.
The third artist drew him in profile, showing only his good eye.
The sultan, pleased, rewarded him with gold and honours.

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 08:46:44 AM
Sleepless Night  

There was an old Iranian who was intensely proud of two things – his long, white beard that reached down to his chest, and his ability to sleep the moment his head touched the pillow.
One day, his 3-year-old grandson asked him how he arranged his beard when he slept: did it go under the blanket or did it remain above it?
The old man had never paid attention to this detail, and he confessed he didn’t remember whether his beard remained above or went under the blanket. He promised to find out.
It was very cold that night. The old man got into bed and pulled the blanket over himself. Then he suddenly remembered his grandson’s question.
He became acutely conscious that his beard was under the blanket. He lifted it from under the blanket, and placed it above it. This made him feel that something was not quite right. So he tucked the beard under the blanket again. But he soon felt it would be better if it were out. In and out went the beard; first under the blanket, then above it, then under once again. The old man spent a sleepless night.
The next morning the first thing he did was cut his beard to chin level, to the great joy of his daughter who, for several months, had been urging him to do just that.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 08:50:12 AM
The Sultan's Robe
 
In the last century, there lived a sultan who waged war tirelessly and finally made himself master of a largish desert.
"Surely I'm the greatest monarch in the world," he said to his vizier, one day. "What do the people say about me?"
"They're all praise for you, Your Excellency," said the vizier, "all except one man, Ali, a camel-driver by profession. He's always running you down."
"How dare he!" roared the Sultan. "Bring him here at once. I'll cut out his tongue!!"
When Ali was brought to the palace, he threw himself at the Sultan's feet.
"At last my dearest wish to see you has come true," he said, obsequiously. "I used to say nasty things about you so that I might be brought into your august presence."
"Why?" boomed the Sultan.
"So that I might recite the poem I have written in your honour, O Merciful One."
"Recite!"
Ali began to recite a poem his grandfather had taught him in his childhood. It proclaimed the greatness of Alexander, the Great but Ali deftly substituted the Sultan's name for Alexander's whenever the need arose.
The Sultan was flattered.
"Good poem," he said, when Ali had finished. "Describes me exactly. You deserve a reward. Choose from one of these magnificent saddles," and he indicated a pile of saddles, lying nearby.
Ali chose a donkey's saddle, and thanking the Sultan, bowed himself out of the palace.
The people from his village who were sure he would be executed, and were waiting for news about it, outside the gate, were astounded to see him.
"The Sultan let you go?" they asked, bemused.
"And why not?" he asked. "I recited a poem in his honour and he rewarded me with one of his best robes."
"The sultan gave you his robe!" They gasped. "Where is it?"
He showed them the donkey's saddle.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 08:52:05 AM
Change of Mind

There was a sickly young girl who always seemed to be at death’s door. Her neighbour was a widow, bent with age. Whenever she caught sight of the girl she would shake her head sadly and say: “Oh God, why do you torment that poor child...if you want a life take this old woman!”
One evening a bull in the village, put its head into a large black pot to get at some grain at the bottom, and then couldn’t get its head out. Frightened and confused, it ran hither and thither, unable to see where it was going because its eyes were covered by the pot.
Meanwhile, the old woman we mentioned, was visiting her neighbour. She came out and as usual began shaking her head and saying that if God wanted a life he should take hers. Suddenly she became aware that a powerfully-built beast, apparently headless, was rushing at her.
“Yama has come for me!” she thought and was filled with terror.
“Mercy, my Lord, mercy!” she screeched, falling to her knees in front of the advancing bull. “Spare me. There’s a sickly girl next door. Take her instead!”
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 08:52:27 AM
The Gift
 
Gopal Bhand was once taken to court by a man who claimed that he owned the land on which Gopal's house stood.
Gopal had the documents to prove that he owned the land but he knew that the judge who was to try the case was corrupt and could be bought. Gopal decided to take a gift for the judge.
At the hearing, the complainant stated his case and then taking out a fat wallet from one pocket transferred it to another in a slow and deliberate manner. The judge understood. He looked at Gopal as if to ask him if he could match the offer.
In answer, Gopal patted his own pocket. The judge was pleased to see that it was bulging. He could make out the outlines of two large objects in it and he felt sure they were gold ornaments.
He gave a verdict in Gopal's favour and called him to his chambers. Gopal went round to the judge's chambers and began to thank him for deciding the case in his favour. But the judge cut him short with an impatient gesture of his hand.
"The gift," he snapped. "Give me whatever you have brought for me!"
Gopal took out two large stones from his pocket and gave them to him.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 08:54:25 AM
Treble Trouble
 
Speaking without thinking can treble your troubles as this ancient story demonstrates.
A man was caught stealing a bag of onions and taken before a judge.
The judge gave him a choice of three punishments: eat the onions he had stolen at one sitting; submit to a hundred lashes of the whip or pay a fine.
The man said he would eat the onions. He began confidently enough but after eating a few, his eyes began to burn, his nose started running and his mouth felt as if it were on fire.
“I can’t eat the onions,” he said. “Give me the lashes instead.”
But after he had received a few strokes he began to turn and twist to avoid the whip.
“I can’t bear it!” he screamed, finally. “I’ll pay the fine.”
So he paid the fine and was let off, but he became the laughing-stock of the city for having taken three punishments for the same crime.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 08:56:15 AM
War of Words
 
A king sent a message to the ruler of a neighbouring country. The message read: "Send me a blue diamond as large as a pigeon's egg or else..."
The king on getting the message wrote back:
"We don't have such a diamond and if we had..."
The first king got very angry and declared war on his neighbour. The fighting went on for several months till a third king arranged a meeting between the two warring rulers. So they met and the first king said to the other: "What did you mean when you said, 'Send me a blue diamond as large as a pigeon's egg or else...'?"
"Why," he replied, "I meant a blue diamond as large as a pigeon's egg or else... some other diamond. I love diamonds. But what did you mean when you said, 'We don't have such a diamond and if we had-'?"
"It is easy to guess my meaning," said the other man. "What I wanted to say was, if we had such a diamond we would have gladly sent it to you."
The Kings pledged to write more clearly in future communications and embraced and made peace.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 08:57:11 AM
The Fear of God
 
There were two brothers who were always up to some mischief. If
somebody had been locked up in his house or if somebody's dog had been painted green, one always knew who the culprits were — the brothers.
One day the boys' mother asked a priest to talk to her sons and put the fear of God in them so that they would mend their ways. The priest asked her to send her sons to him one at a time.
When the younger boy, a lad of thirteen, came, he made him sit and asked him:
"Where is God?"
The boy did not answer.
The priest asked again, in a louder voice: "Where is God?"
The boy remained silent. But when the priest asked the same question a third time, the boy jumped up and ran away.
He went straight to his brother.
"We are in big trouble!" he gasped.
"What's wrong?" asked the older boy, warily, wondering which of their sins had caught up with them.
"God is missing," said the youngster, "and they think we have something to do with it!"
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 08:58:41 AM
Five Men in a Cart 
 
Guru Gampar had told his four disciples that they were never to do anything without his permission.
One day while they were on their way to a distant town, Guru Gampar fell asleep in the bullock cart they were travelling in. His head rolled from side to side and suddenly his turban slipped from his head and fell on to the road. But as their guru had told them never to do anything without his permission, none of the disciples made a move to get down and pick it up. When the guru woke up and was told about the loss of his turban he was furious.
"Next time anything falls off pick it up at once!" he thundered. Some time later the bullock dropped its dung and the four foolish disciples leaped down and picked it up. Guru Gampar was horrified. He made a list of the things that could fall off from a moving cart. "Pick up any of these things if they fall," he told them, handing them the list. "Don't pick up anything that is not mentioned here."
Just then the cart lurched violently and Guru Gampar was thrown headlong into a ditch.
Guru Gampar yelled to his disciples to pull him out.
"We can't, guruji," said his disciples, sadly. "Your name is not on the list you gave us." Guru Gampar pleaded with them to pull him out, but in vain.
"We know you are testing us, guruji," they told him. "But you can rest assured that we will never disobey you. You told us not pick up anything that was not mentioned in your list and we will not do so."
"Give me the list!" yelled Guru Gampar. They threw him the list and the pen and the guru hastily scrawled his name on it. Then and then only did the obedient disciples pull their beloved guru out of the ditch and put him back into the cart!
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 08:59:51 AM
Madho, the Milkman
 
We've all heard of milkmen adding water to milk. Madho was one such man. His customers knew but were helpless. There was no other milkman in the locality.
One day as Madho was about to start on his rounds in the morning, there was a flash of light and a godly being stood before him.
Madho cowered in fright.
"Why do you add water to milk, Madho?" asked the god.
"I...I..." stammered Madho.
"Speak up!" said the god.
"I-I do it to increase the quantity of milk so that I can make more money, Lord," said Madho.
The god waved his hand and a can of milk identical to the one Madho was carrying appeared before him.
"Behold!" said the deity, "I have given you another can of milk. You now have double the quantity of milk you got from your cows, this morning."
Madho thanked the god profusely and picking up the can, started walking. He took a few steps and stopped.
"Yes?" asked the god. "Is there anything more you want?"
"I was wondering," said Madho, "If you could..."
"Yes! You want another can of milk?" asked the god, kindly.
"No...No!" protested Madho. "I'm not that greedy... just give me another can of water.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 09:00:36 AM
An Old Joke
 
An elderly man went to a doctor with multiple complaints.
"I see spots before my eyes," he said.
"It's due to old age," said the doctor.
"No food agrees with me," said the man.
"That too is due to old age," said the doctor. "The digestive system becomes weaker as we grow older."
"My back is giving trouble," persisted the man. "Sometimes the pain becomes unbearable."
"Old age," said the doctor.
This was too much for the man.
"Why do you go on saying 'old age, old age'," he screamed. "If you cannot cure me, say so. I'll go elsewhere."
"See how easily you lost you temper," said the doctor. "That is another characteristic of old age."
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 09:01:36 AM
Master of the Game
 
An old man who lived in a small side street in the city of Mumbai had to put up with the nuisance of having boys play cricket outside his house, at night.
One evening when the boys were particularly noisy he went out to talk to them.
He explained that he was a pensioner who was happiest when he could see or hear boys playing his favourite game, cricket. He said he would give them 25 rupees each week to play in the street at night.
The boys were thrilled.
They were being paid to do something they enjoyed!
At the end of the first week they knocked at the old man's house and asked to be paid.
He did so.
The second week when they asked for payment he said he had run out of money and sent them away with only 15 rupees.
The third week the man said he had not yet received his pension and gave them only 10 rupees.
The boys were very disappointed but there was not much they could do about it.
The fourth week the man said he could not afford to pay them 25 rupees as he had promised, but would give them 5 rupees each week without fail.
This was too much for the boys.
"You expect us to play seven days a week for a measly 5 rupees!" they yelled. "Go to blazes."
They stormed away and never played on the street again.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: pramanisa on June 26, 2007, 09:03:07 AM
The Servant's Ruse
 
A man was expecting a visit from an acquaintance. He gave two ripe mangoes to his servant and asked him to slice them and serve the fruit when the man came.
The servant gave in to temptation and ate a slice. It was so sweet he could not resist eating another one. Then the madness of gluttony seized him and he devoured all the remaining pieces.
Suddenly he saw the man his master was expecting coming towards the house. He thought fast. He grabbed a rusty knife and rushing to his master told him he couldn't cut the mangoes as the knife was blunt.
"I'll sharpen it," said his master and going to a stone in the garden began to rub the cutting edge of the knife against it.
Leaving him to the task the servant ran out to meet the man who was coming.
"Beware! Beware!" he said when he reached him. "Don't come to our house. My master has gone mad. He's planning to cut both your ears."
"Cut my ears!" exclaimed the man, turning pale. "Why?!"
"There he is sharpening the knife," said the servant. The man saw that his host did indeed have a knife in his hands and was sharpening it with what looked to him like a maniacal fury. He did not wait to find out why his host wanted his ears. He turned around and started walking away as fast as he could.
The servant rushed back to his master and told him that the man he had invited was running away with the mangoes.
"What!" said his master. "The greedy fellow! Has he taken both the mangoes?!"
"Yes," said the servant.
The man ran after the acquaintance shouting:
"Give me one! Give me one at least!"
The other man thought he was asking for one of his ears and ran for his life!
Title: Naaman The Leper
Post by: pramanisa on July 01, 2007, 07:37:11 AM


Naaman was the captain of the host of King of Syria.  He was a great and honourable man but he had a disease called Leprosy.  The little maid that served Naaman's wife told her if her master, Naaman, was with the prophet in Samaria, he would be healed.  So the King of Syria sent Naaman, along with a letter to the King of Israel.  When the King of Israel received the letter, he tore his clothes.  The King was upset because he knew that he could not heal Naaman.  When Elisha(a man of God) heard that the King of Israel was so upset, he told him to let Naaman come to him.

So Naaman went to Elisha's door, and Elisha sent out a messenger to tell Naaman to go and dip in the Jordan River seven times, and he would be healed.  Naaman was very angry because Elisha did not come out himself and heal him right there.  Naaman wanted to dip in some of the other rivers that were cleaner then the Jordan River.  Therefore, he went away
very mad.  His servants told him that if he had been asked to do some great thing, would he not have done it?  So he wnet and dipped in the Jordan River according to what the man of God had told him, and he was healed.


                                                *****The Lesson behind this story*****
It had nothing to do with the water that healed Naaman, but the obedience to God that made him well.
Title: David and the Giant
Post by: pramanisa on July 01, 2007, 07:41:50 AM


There was a young boy many, many years ago that the Bible tells us about, his name was David.  Now David was a very special boy in God's eye's.  Do you know why?

David believe in God with all his heart and know no matter what happen in his life he knew he would be all right as long as God was there.

One day David's dad Jesse wanted David to go an check on his three older brother's who were fighting a war to make sure they were okay and bring them some food. The name of the people that David's brothers were fighting with where a group of people called the "Philistines".  These people were very bad people and they did not believe in God.

The Philistines were on one mountain and the people called Israel were on another mountain.(At one time long ago God's children were only the people who were called "Israel". David was one of these. Today all people are God's if we obey and do the things that he wants us to do. (Like believing that Jesus is his son.)  God's children or people today are called Christian's.

Now when David got to his brother's a "Giant" man named Goliath
who was nine feet and ten inches tall who was in the Phlistines army,  was yelling for someone to come and fight him. Just to look at Goliath would scare most people, for he had a "GREAT" sword and a very "BIG" spear and a "STRONG" shield.

All the army of Israel was afraid of him, but not David. The King of the people Israel offer great wealth to anyone who would kill the Giant. Goliath made fun of David when he step up to fight him because he was just a boy. All that David had to fight the Giant with was a staff made of wood that he used to take care of his father's sheep( this was his chore in his family), five smooth stone he got out of a stream or creek and which he put in his pouch and his sling shot, which made the Giant laugh even harder.

David had a secert weapon that the Giant didn't know about and that was God and with God all things are possible. Do you believe that he could kill the Giant?

David told the Giant today the Lord/God will help me kill you.  The Giant ran toward David, he took a stone out of his pouch, put it in his sling shot and shot it at the Giant head. The Giant fell to the ground and his was dead.

Just like David if you love God and obey him and believe in God then all things no matter how hard or how big they seem are possible with God on your side.

When David got older he became the King of the people Israel.
Title: CROOKED JACKAL
Post by: pramanisa on July 01, 2007, 07:43:41 AM
Long ago, there lived a crooked jackal named 'Sam' in a forest. He had no friends as he behaved like a crooked animal. Even animal of his gene like fox, dog, wolf did not mingle with him. They all avoided the jackal.

During the night, he terrorized other animals in the forest by howling loudly. In the calm, serene atmosphere the howling of 'Sam' became a nuisance. The little animals used to carve into their burrows as soon as the jackal produces the ugly sound. It was pure sadism, which followed the wicked animal. 'No, other animal in this jungle can howl louder than me, my mere voice will horrify all other animals', he added.

The harassment of the jackal continued un-abated. Unfortunately, none of the animals in the forest dared to ask 'Sam' to stop this menace. The pressure tactics of the jackal, to bewilder the animals, took a quiver turn one day. He got a mask of the giant animal dinosaur, left out by a group of tourists. After adorning the mask, the jackal shouted at other animals, 'Look, now onwards I am a dinosaur, with the strength and courage, I can sabotage the entire universe'. I will walk always wearing this mask, he announced.

The little animals shivered and frightened. They could not withstand the extent of damage to be caused by a dinosaur. The 'Sam' ruled the jungle like a king adorning the mask of a dinosaur. Days passed, One day the jackal in an inebriated condition traveled to the remote corner of the forest. He was alone. He could not howl, suddenly a huge rock like creature came in front of him. The jackal could not believe his eyes. It was a dinosaur. He was not at all a match for the real dinosaur. He had heard about these giant animals, which lived on the earth, centuries ago. Sam tried to howl loudly for help, but was in vain. The real dinosaur crushed the jackal under his feet and walked away.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on July 02, 2007, 05:17:49 AM
Om Sai Ram...

A young man was getting ready to graduate college. For
     many months he had admired a beautiful sports car in a dealer's      showroom, and knowing his father could well afford it, he told him that was all he wanted.

     As Graduation Day approached, the young man awaited
     signs that his father had purchased the car. Finally, on the
morning  of his graduation his father called him into his private
  study. His father told him how proud he was to have such a fine
son, and  told him how much he loved him. He handed his son
a beautiful   wrapped gift box.

     Curious, but somewhat disappointed the young man
     opened the box and found a lovely, leather-bound Bible. Angrily, he raised his voice at his father and said, "With all your money you give  me  a Bible?" and stormed out of the house, leaving the holy book.

     Many years passed and the young man was very successful in business.
     He had a beautiful home and wonderful family, but realized his      father was very old, and thought perhaps he should go to him. He had   not seen him since that graduation day. Before he could make      arrangements, he received a telegram telling him his father had     passed away, and willed all of his possessions to his son. Heneeded   to come home immediately and take care things. When he arrived at  his father's house, sudden sadness and regret filled his heart.

     He began to search his father's important papers and
     saw the still new Bible, just as he had left it years ago. With
tears,  he opened the Bible and began to turn the pages. As he
read those   words, a car key dropped from an envelope
taped behind the Bible.
It  had a tag with the dealer's name, the same dealer who had the
sports  car he had desired. On the tag was the date of his graduation,
     and the words...PAID IN FULL.

     How many times do we miss God's blessings because they are not
     packaged as we expected?

Jai Sai Ram...
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on July 10, 2007, 12:33:26 AM
Om Sai Ram....

The Duck and the Devil
 
There was a little boy visiting his grandparents on their farm.

He was given a slingshot to play with out in the woods.
 
 
He Practiced in the woods, but he could never hit the target.

Getting A little discouraged, he headed back for dinner. As he was Walking back he saw Grandma's pet duck.


Just out of impulse, he let the slingshot fly, hit the duck Square in the head, and killed it. He was shocked and grieved.




In a panic, he hid the dead duck in the wood pile, only to see His sister watching! Sally had seen it all, but she said nothing.


After lunch the next day Grandma said, "Sally, let's wash the Dishes." But Sally said, "Grandma, Johnny told me he wanted to help in The kitchen." Then she whispered to him, " Remember the duck?" So Johnny did the dishes.


Later that day, Grandpa asked if the children wanted to go Fishing and Grandma said, "I'm sorry but I need Sally to help make Supper."   


Sally just smiled and said," Well that's all right because Johnny told Me he wanted to help." She whispered again, "Remember the duck? " So Sally Went fishing and Johnny stayed to help. 


After several days of Johnny doing both his chores and Sally's, He finally couldn't stand it any longer.  He came to Grandma and confessed that he had killed the duck.   


Grandma knelt down, gave him a hug, and said, "Sweetheart, I know.  You see, I was standing at the window and I saw the whole thing, but because I love you, I forgave you. I was just wondering how long You would let Sally make a slave of you. "


Thought for the day and every day thereafter?

Whatever is in your past, whatever you have done... And the devil Keeps throwing it up in your face (lying, cheating, debt, fear, bad Habits, hatred, anger, bitterness, etc.) ....whatever it is....You need to know that God was standing at the window and He saw the whole thing..... He has seen your whole life.

He wants you to know that He loves you and that you are forgiven.


He's just wondering how long you will let the devil make a slave Of you .


The great thing about God is that when you ask for forgiveness, He Not only forgives you, but He forgets . It is by God's grace and Mercy that we are saved.


Go ahead and make the difference in someone's life today. Share This with a friend and always remember : God is at the window


Jai Sai Ram...
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on July 23, 2007, 10:04:24 PM
Om Sai Ram...

Never Lose Your Value  

A well known speaker started off his seminar by holding up a $20 bill. In the room of 200, he asked, "Who would like this $20 bill?" Hands started going up.

He said, "I am going to give this $20 to one of you but first, let me do this."

He proceeded to crumple the dollar bill up. He then asked, "Who still wants it?" Still the hands were up in the air.

"Well," he replied, "What if I do this?" And he dropped it on the ground and started to grind it into the floor with his shoe. He picked it up, now all crumpled and dirty.

"Now who still wants it?" Still the hands went into the air.

"My friends, you have all learned a very valuable lesson. No matter what I did to the money, you still wanted it because it did not decrease in value. It was still worth $20.

Many times in our lives, we are dropped, crumpled, and ground into the dirt by the decisions we make and the circumstances that come our way. We feel as though we are worthless. But no matter what has happened or what will happen, you will never lose your value. You are special - Don't ever forget it .

Jai Sai Ram...
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on July 23, 2007, 10:13:47 PM
Om Sai Ram...

BUTTERFLY  

A man found a cocoon of a butterfly. One day a small opening appeared.
He sat and watched the butterfly for several hours as it struggled to
force its body through that little hole. Then it seemed to
stop making any progress. It appeared as if it had gotten as far as
it could, and it could go no further.

So the man decided to help the butterfly. He took a pair of
scissors and snipped off the remaining bit of the cocoon.

The butterfly then emerged easily. But it had a swollen body
and small, shriveled wings.

The man continued to watch the butterfly because he expected
that, at any moment, the wings would enlarge and expand to be able
to support the body, which would contract in time.

Neither happened! In fact, the butterfly spent the rest of its
life crawling around with a swollen body and shriveled wings.
It never was able to fly.

What the man, in his kindness and haste, did not understand was
that the restricting cocoon and the struggle required for
the butterfly to get through the tiny opening were Nature's way
of forcing fluid from the body of the butterfly into its wings
so that it would be ready for flight once it achieved its freedom
from the cocoon.

Sometimes struggles are exactly what we need in our lives.
If Nature(or God)allowed us to go through our lives without
any obstacles, it would cripple us.

We would not be as strong as what we could have been.
We could never fly!

I asked for Strength.........
And Nature(God) gave me Difficulties to make me strong.

I asked for Wisdom.........
And God gave me Problems to solve.

I asked for Prosperity.........
And God gave me Brain and Brawn to work.

I asked for Courage.........
And God gave me Danger to overcome.

I asked for Love.........
And God gave me Friends.

I asked for Favors.........
And God gave me Opportunities.

I received nothing I wanted ........
I received everything I needed!
 

Trust in Nature ( or God) . Always !
 

Jai Sai Ram...
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Sai ka Tej on August 03, 2007, 06:41:11 AM
JAI SAI RAM

The Corn Story

There was a farmer who grew superior quality and award-winning CORN. Each year he entered his CORN in the state fair where it won honour and prizes.

Once a newspaper reporter interviewed him and learnt something interesting about how he grew it. The reporter discovered that the farmer shared his seed corn with his neighbours'.
"How can you afford to share your best seed corn with your neighbours when they are entering corn in competition with yours each year?" the reporter asked.

"Why sir, "said the farmer, "didn't you know? The wind picks up pollen from the ripening corn and swirls it from field to field. If my neighbours grow inferior, sub-standard and poor quality corn, cross-pollination will steadily degrade the quality of my corn. If I am to grow good corn, I must help my neighbours grow good corn."

The farmer gave a superb insight into the connectedness of life. His corn cannot improve unless his neighbour's corn also improves. So it is in the other dimensions! Those who choose to be at harmony must help their neighbours and colleagues to be at peace. Those who choose to live well must help others to live well.

Success does not happen in isolation. It is very often a participative and collective process. 

SAI RAM
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: keerthisai on August 03, 2007, 06:46:47 AM
TEJAL BETI

SIMPLY SUPERB. OM SAI RAM

JAI SAI RAM
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on August 10, 2007, 11:06:45 PM
Om Sai Ram...

Put the glass down  
 
 
A professor began his class by holding up a glass with some water in it.
 

He held it up for all to see; asked the students,' How much do you think this glass weighs?'
 

'50gms!' .... '100gms!' ......'125gms' ......the students answered.


'I really don't know unless I weigh it,' said the professor,'but, my question is: What would happen if I held it up like this for a few minutes?'


'Nothing' the students said.

'Ok what would happen if I held it up like this for an hour? ' the professor asked.
 

'Your arm would begin to ache' said one of the students.


'You're right, now what would happen if I held it for a day?'
 

'Your arm could go numb, you might have severe muscle stress; paralysis;
 

Have to go to hospital for sure!'ventured another student; all the students laughed.


'Very good.  But during all this, did the weight of the glass change? ' asked
 

The professor. 'No' the students said.
 

Then what caused the arm ache & the muscle stress?'


The students were puzzled.
 

'Put the glass down!' said one of the students.
 

'Exactly!' said the professor.' Life's problems are something like this.
 

Hold it for a few minutes in your head; they seem OK.
 

Think of them for a long time & they begin to ache. Hold it even longer & they begin to paralyze you. You will not be able to do anything.
 

It's important to think of the challenges (problems) in your life, but
 

EVEN MORE IMPORTANT to 'put them down' at the end of every day before you go to sleep.
 

That way, you are not stressed, you wake up every day fresh & strong & can handle any issue, any challenge that comes your way!'

 
Remember to 'PUT THE GLASS DOWN TODAY!



Jai Sai Ram...
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on August 11, 2007, 11:57:56 PM
Om Sai Ram...

A young boy enters a barber shop, and the barber whispers to his Customer,
"This is the dumbest kid in the world. Watch while I prove it to you."

The barber puts a five dollar coin in one hand and two one dollar coins(1+1=2) in the other,
then calls the boy over and asks,
"Which do you want, son?"

The boy takes the two one dollar coins and leaves.
"What did I tell you?" said the barber. "That kid never learns!"

Later, when the customer leaves, he sees the same young boy coming out of
the ice cream store. "Hey, son! May I ask you a question?
Why did you take two one dollar coins instead of five dollar coin?"

The boy licked his cone and replied,
"Because THE DAY I TAKE THE FIVE DOLLAR COIN, THE GAME IS OVER
............
............
............
............
............
............
............
............
............
............
............

Moral: When you think the other person is dumb, you are making a fool of yourself~~~


Jai Sai Ram...
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 13, 2007, 09:07:05 PM
जय सांई राम।।।

भक्त की परिभाषा    

काशी से थोड़ी दूर रामनगर में एक साधु रहता था। उसे विश्वास था कि वह जो कुछ भी करेगा, प्रभु उसे अपना भक्त समझ कर माफ कर देंगे। एक दिन प्रात:काल वह गंगा में स्नान करके एक धोबी के कपड़े धोने वाले पत्थर पर बैठ कर पूजा करने लगा। थोड़ी देर में धोबी कपड़े धोने के लिए आ गया। साधु को पूजा करते देख वह उसके उठने की प्रतीक्षा करने लगा, लेकिन जब काफी देर हो गई तो पास जाकर बोला, 'महाराज, आप हमारे पत्थर से उठ कर दूसरी जगह पूजा करें, ताकि हम कपड़ा धो सकें। मुझे देर हो रही है।' साधु ने धोबी की बातों पर कोई ध्यान नहीं दिया। धोबी ने फिर अनुरोध किया लेकिन साधु उठने की बजाय गुस्से में बोला,' मैं नहीं उठता, तू कहीं और जाकर कपड़ा धो ले।' धोबी ने कहा, 'मैं कहां जाऊंगा। आप कहें तो मैं पूजा के लिए आसन बना दूं।' लेकिन साधु ने धोबी की बात को अनसुना कर दिया। लाचार धोबी ने साधु का हाथ पकड़ कर पत्थर से उठा दिया। साधु को गुस्सा आ गया। उसने क्रोध में कहा, 'तुम नहीं जानते मैं भगवान का भक्त हूं। अभी तुम्हें इसका मजा चखाता हूं।' और उसने धोबी को एक पत्थर उठा कर मार दिया। चोट लगने पर धोबी को भी गुस्सा आ गया और उसने साधु को पटक दिया। इसके बाद साधु और धोबी गुत्थमगुत्था हो गए। तभी साधु को भगवान की याद आई और वह बोला, 'प्रभु, मैं इतनी श्रद्धा-भक्ति से आपकी आराधना करता हूं फिर भी आप मेरी मदद करने को नहीं आ रहे हैं।' तभी साधु के कान में आवाज सुनाई पड़ी, 'तुम्हारी बात तो ठीक है। हम तो अपने भक्तों की मदद के लिए हमेशा उनके साथ रहते हैं लेकिन इस समय हम यह नहीं समझ पा रहे हैं कि तुम दोनों में मेरा भक्त कौन है, क्योंकि मेरा भक्त कभी क्रोध नहीं करता।' यह सुनते ही साधु का अभिमान चकनाचूर हो गया और वह धोबी से क्षमायाचना करते हुए वहां से चला गया।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 14, 2007, 10:49:27 PM
जय सांई राम।।।

न्याय का तरीका    

एक सम्राट की नींद किसी युवती की सिसकी से उचट गई। उसने सेवक से पता लगाने को कहा। सेवक ने आकर बताया कि एक युवती अपनी ससुराल जा रही है, यह उसी के रुदन का स्वर था। 'कौन ले जा रहा है उसे ससुराल?' सम्राट ने पूछा। 'दामाद आया था। वही ले जा रहा है।' सेवक ने उत्तर दिया।

'तब तो दामाद नाम का प्राणी बहुत निर्दयी होता है। ऐसे प्राणियों को फांसी दे दी जाए।' सम्राट ने हुक्म सुनाया। मंत्री ने सुना तो सोचने लगा कि जरूर सम्राट ने यह सब उनींदे में कह दिया होगा। आज्ञा पालन तो जरूरी है, पर अन्याय भी नहीं होना चाहिए। मंत्री ने लोहे, चांदी और सोने की जंजीरें बनाने का हुक्म दे दिया। दूसरे दिन शाम को वह सम्राट के पास पहुंचा और बोला, 'दामादों को फांसी देने की तैयारी हो चुकी है। आप चलें और देख लें।' सम्राट मंत्री के साथ एक विशाल मैदान में पहुंचा। फांसी की जंजीरों को देख सम्राट ने पूछा, 'इतने तरह की जंजीरें क्यों लगाई हैं। सब एक जैसी क्यों नहीं हैं?'

मंत्री ने कहा, 'फांसी देते समय व्यक्ति की गरिमा और उसके पद का ख्याल तो रखना ही पड़ेगा। आप भी तो किसी के दामाद हैं। जब आपको फांसी देने की बारी आएगी तो सोने की जंजीर का प्रयोग किया जाएगा।' सम्राट स्तब्ध रह गया। बोला, 'तो क्या मुझे भी फांसी लगेगी?'

'क्यों नहीं लगेगी। आप का आदेश है कि दामादों को फांसी दे दी जाए। आप भी तो किसी के दामाद हैं। लेकिन आपको सोने की जंजीर से फांसी दी जाएगी।' आश्चर्य में डूबे सम्राट ने कहा, 'जंजीर सोने की हो या लोहे की, क्या फर्क पड़ता है। कार्य तो दोनों का एक ही है- व्यक्ति के प्राण लेना।'  मंत्री बोला, 'यह तो आप सोचें। हमें तो आदेश का पालन करना है।'

सम्राट ने अपना आदेश वापस लेते हुए कहा, 'न्याय करते हुए अपने विवेक का प्रयोग करना जरूरी है। मैं यही नहीं कर सका था।'

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 15, 2007, 09:05:07 PM
जय सांई राम।।।

सुधार का रास्ता    

अयोध्या में सरयू के किनारे एक बड़े मंदिर में एक संत और उनके कुछ शिष्य रहते थे। मंदिर के पास कई बीघा जमीन थी। संत और उनके शिष्य उसमें खेती करते थे। नवंबर का महीना था। सर्दी पड़ रही थी। धान की फसल तैयार हो गई थी। संत ने अपने शिष्यों से कहा कि कल सुबह फसल काटी जाएगी। लेकिन उसी रात एक घटना घट गई। कुछ लोग आए और फसल काटकर उसकी गड्डियां बना कर जाने लगे। लेकिन कोहरे के कारण उन्हें रास्ता दिखाई नहीं दिया। लगता था वे अंधे हो गए है। अंतत: वे खेत में ही भटककर रह गए।

सुबह होने पर संत ने अपने एक शिष्य से कहा, 'रात में धान कट गए हैं। काटने वाले रात से भूखे हैं। तुम उन्हें कुछ खाने को दे आओ।'  शिष्य खेत पर पहुंचा तो उसने फसल काटने वालों की खूब प्रशंसा की क्योंकि रात के अंधेरे में भी धान की कटाई ठीक से हुई थी। शिष्य ने उन्हें खाने को दिया। कुछ देर बाद संत अपने शिष्यों के साथ आए और बोले, 'कटाई करने वालों को मजदूरी दे दो।' शिष्य ने एक-एक बंडल धान काटने वालों को दे दिया। तब मजदूरी फसल के रूप में ही दी जाती थी। धान काटने वालों ने संत के पैर पकड़ कर कहा, 'बाबा हमें मजदूरी नहीं चाहिए। आप ने हमें जो रास्ता दिखाया है वह जिंदगी भर की कमाई से भी ज्यादा है।' और वे लोग बिना मजदूरी लिए चले गए।

एक शिष्य बोला, 'बाबा मजदूरों ने मजदूरी क्यों नहीं ली?' बाबा ने बताया, 'धान काटने वाले कोई मजदूर नहीं थे। वे सभी चोर थे। मैंने उन्हें रात में ही धान काटते देख लिया था।' एक शिष्य बोला, 'बाबा, आपने उन चोरों को जाने क्यों दिया। उन्हें सजा मिलनी चाहिए थी।' बाबा बोले, 'वत्स कोई जन्म से चोरी सीख कर नहीं आता। तुमने देखा कि क्षमा करने से उनमें अपनी गलती का अहसास हुआ है और अपनी गलती का अहसास ही किसी व्यक्ति के सुधरने का रास्ता है।' 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 18, 2007, 12:02:44 AM
जय सांई राम।।।

अहिंसा का पाठ    

जयपुर के महाराज के दीवान अमर चन्द जैन की गिनती अत्यंत कुशल प्रशासकों और कर्त्तव्यपरायण राजनीतिज्ञों में होती थी। वे अहिंसा के घोर समर्थक और मानवता के पुजारी थे। उन्हें राजपरिवार का विशेष स्नेह प्राप्त था, जिस कारण दूसरे दरबारी उनसे ईर्ष्या करते थे। वे समय-समय पर उनके खिलाफ महाराज के कान भरते रहते थे। एक बार महाराज शिकार खेलने के लिए जाने लगे तो उन्होंने दीवान जी को भी साथ ले लिया। दीवान जी को थोड़ा अजीब लगा, लेकिन महाराज का आदेश वह टाल नहीं सकते थे।

दोनों जंगल में बड़ी दूर निकल गए। जब महाराज ने हिरनों का झुण्ड देखा तो अपना घोड़ा उनके पीछे दौड़ा दिया। आगे-आगे भयभीत हिरन थे, उनके पीछे महाराज का घोड़ा और उनके पीछे दीवान अमर चन्द का घोड़ा दौड़ रहा था। दीवान जी सोच रहे थे- क्या बिगाड़ा है इन निरीह, मूक पशुओं ने मनुष्य का? आखिर क्यों इंसान इन्हें अब तक मारता फिरता है और कैसा अविवेकी है यह मनुष्य जो इन निर्बल पशुओं को मारकर अपनी वीरता पर घमंड करता है। ये बेचारे भागकर कहां जाएंगे। जब राजा ही इनके प्राण लेने को आतुर है तो ये अपनी जान कैसे बचाएंगे।

तभी दीवान जी को एक युक्ति सूझी। उन्होंने जोर से पुकार कर कहा, 'हिरनो, मैं कहता हूं जहां हो वहीं रुक जाओ। जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो बचकर कहां जाओगे।' असल में दीवान जी ने यह बात महाराज की आंखें खोलने के लिए कही थी, पर संयोगवश हिरन अपने आप रुक गए। इस पर दीवान जी ने कहा, 'महाराज ये खडे़ हैं आपके सामने, जितने चाहिए ले लो।' महाराज कभी दीवान जी को देखते, तो कभी हिरनों को। वह जो कुछ देख रहे थे वैसा जीवन में कभी नहीं देखा था। अद्भुत और अपूर्व दृश्य था यह। महाराज के हृदय में एक हिलोर सी उठी। वह बोले, 'दीवान जी आपने मेरी आंखें खोल दीं। मैं आज से शिकार का त्याग करता हूं। मैं अब हर तरह की हिंसा पर रोक लगाने की कोशिश करूंगा।' 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 18, 2007, 11:51:17 PM
जय सांई राम।।।

सभी बच्चों को पता है कि खरगोश और कछुवे के बीच जो दौड़ हुई थी उसमें खरगोश हार गया था। हारने के बाद भी खरगोश नें कछुवे को चिढ़ाना नहीं छोडा। जब भी वह कछुवे को देखता तो उसपर हँसने लगता। भगवान में नें तुम्हारी पीठ की जगह पेट लगा दिया है, खरगोश, कछुवे को देखते ही कहता। कछुवा इससे बहुत दुखी हुआ और उसने खरगोश से बात करना भी छोड़ दिया।

एक दिन खरगोश एक किसान के खेत में चुपके से घुस गया। उसने खेत से एक लाल- लाल गाजर तोड़ा और कचर-कचर खाने लगा। किसान का बेटा पास ही पेड़ के नीचे सो रहा था। खरगोश की आहट से उसकी नींद खुल गयी। वह चुपके से उठा और खरगोश को चोरी-चोरी गाजर खाते देख, उसे बहुत गुस्सा आया। उसने अपनी गुलेल से खरगोश पर निशाना साधा। लेकिन खरगोश नें किसान के बेटे को गुलेल उठाते देख लिया था। खरगोश “सर पर पाँव” रख कर सरपट भागा। बच्चों हँसों मत! खरगोश नें कोई सचमुच सर पर पाँव थोडे ही रखे थे। सर पर पाँव रखना एक “मुहावरा” है जिसका मतलब होता है बहुत तेज भागना। वादा करो मुहावरा किसे कहते है आज अपनी टीचर से तुम जरूर पूछोगे।

भागते हुए, खरगोश खेत से किसी तरह बाहर निकला लेकिन पास कीचड़ भरे तालाब में गिर पड़ा। खरगोश जब दलदल में धसने लगा तो वह बहुत ड़र गया और जोर जोर से रोने लगा। उसकी आवाज सुन कर बहुत से जानवार इकट्ठे हो गये। किसी की हिम्मत नहीं हो रही थी कि वह खरगोश को बचाये क्योंकि दलदल बहुत खतरनाक था और बहुत से जानवर उसमें फँस कर मारे गये थे। तभी कछुवा वहाँ आया। खरगोश को इस हाल में देख कर उसे बहुत दुख हुआ, आखिर खरगोश से उसकी पुरानी दोस्ती थी। लेकिन उसने खरगोश को सबक सिखाने के लिये जोर जोर से हँसना शुरु कर दिया। खरगोश और भी जोर से रोने लगा। बोला मैं यहाँ मुसीबत में हूँ और तुम मुझ पर हँस रहे हो। लेकिन तुरंत उसे अपनी गलती का अहसास हो गया। उसने कछुवे से माफी माँगी और कहा कि मुझे समझ में आ गया है कि किसी पर हँसना अच्छी बात नहीं है। कछुवा इस पर बहुत खुश हुआ और उसने खरगोश को माफ कर दिया। फिर कछुवे नें तालाब के किनारे उगे सरकंडे उखाडे और खरगोश की ओर बढाये जिन्हें खरगोश ने जोर से पकड लिया। कछुवे नें जोर लगा कर खींचा और तब खरगोश दलदल से बाहर निकल आया। खरगोश और कछुवा अब पक्के दोस्त हो गये थे।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 20, 2007, 12:02:36 AM
जय सांई राम।।।

खोटे सिक्के
 
काशी में एक पंडित जी रहते थे। उनकी धार्मिक पुस्तकों की एक छोटी सी दुकान थी। उसी की कमाई से परिवार का खर्च चलता था। जिस जगह पंडित जी रहते थे, वहां एक ऐसा व्यक्ति था जो पंडित जी से सबसे ज्यादा पुस्तकें खरीदता था। वह उधार भी नहीं करता था। किताबों का मूल्य वह उसी समय चुका देता था। एक बार पंडित जी किसी काम से बाहर गए हुए थे। उस दिन दुकान पर उनका नौकर था। उस व्यक्ति ने हमेशा की तरह उस दिन भी कुछ किताबें खरीदीं और जब कीमत देने लगा तो उसमें कुछ सिक्के खोटे थे। नौकर ने उस आदमी को भला-बुरा कहते हुए खोटे सिक्कों को वापस कर दिया।

दूसरे दिन पंडित जी जब वापस लौटे तो नौकर ने उन्हें खोटे सिक्कों की बात बताई और कहा कि उसने उस व्यक्ति को वे सिक्के वापस कर दिए हैं। पंडित जी बोले, 'तुमने ठीक नहीं किया। तुम्हें उन सिक्कों को वापस नहीं करना चाहिए था।' नौकर बोला, 'मालिक, आप क्या कह रहे हैं। मैंने तो आपके भले के लिए ही नकली सिक्कों को वापस किया था। यदि मैंने रख लिया होता तो आप मुझ पर नाराज होते।' पंडित जी मुस्करा कर बोले, 'बेटा, तुम्हारी वफादारी पर मुझे कोई शक नहीं है। लेकिन तुम नहीं जानते कि वह आदमी मुझे हमेशा ही कुछ खोटे सिक्के देता रहता है। मैं उन्हें लेकर जमीन में गाड़ देता हूं।'

नौकर ने आश्चर्य से पूछा, 'लेकिन आप ऐसा क्यों करते हैं?' पंडित जी बोले, 'यह उसका स्वभाव है। अपनी आदत से वह बाज तो आएगा नहीं। यदि मैं उन खोटे सिक्कों को नहीं लूंगा तो वह कहीं दूसरी जगह देगा। जमीन में इसलिए गाड़ देता हूं ताकि किसी अन्य के हाथ लग कर वे सिक्के फिर उसी प्रकार चलन में न आ जाएं।' नौकर बोला, 'मालिक आपके अकेले ऐसा करने से क्या खोटे सिक्कों का चलन बंद हो जाएगा?'

' बंद हो या न हो। पर किसी भी गलत चीज के खिलाफ कोशिश हर समय जारी रहनी चाहिए।' पंडित जी ने जवाब दिया।
 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 21, 2007, 08:44:06 AM
जय सांई राम।।।

इंसानियत की चिंता
 
बहुत पुरानी बात है। अरब में नावेर नामक एक व्यक्ति रहता था, जिसके पास उत्तम नस्ल का एक घोड़ा था। नावेर उस पर जान छिड़कता था। उसका अधिकतर समय घोड़े के साथ बीतता था। उसके घोड़े पर बहुतों की नजर थी। कुछ लोग तो घोड़े के कारण ही नावेर से ईर्ष्या करने लगे थे। उनमें से एक दाहर भी था। दाहर ने कई ऊंट देकर बदले में घोड़ा लेना चाहा, पर नावेर ने मना कर दिया। लेकिन दाहर घोड़े के लिए लालायित था। वह किसी भी कीमत पर उसे हासिल करना चाहता था। उसने घोड़ा हथियाने की एक तरकीब सोची। वह बीमार फकीर का भेस बनाकर नावेर के रास्ते में बैठ गया। जब नावेर अपने घोड़े पर सवार होकर वहां से गुजरा तो उसे उस फकीर की हालत पर दया आ गई। उसने अगले गांव तक ले जाने के लिए उसे घोड़े पर बिठा लिया और खुद पैदल चलने लगा। दाहर तो इसी फिराक में था। घोड़े पर सवार होते ही उसने चाबुक मारकर घोड़े को दौड़ा लिया और नावेर से बोला 'तुमने खुशी से घोड़ा नहीं दिया तो मैंने चालाकी से इसे ले लिया। तुम हार गए।'

नावेर ने उसे पुकार कर कहा 'तुमने मेरा घोड़ा इस तरह ले लिया कोई बात नहीं। खुशी से ले जाओ। लेकिन मेरा इतना कहना मान लो कि इस घोड़े की खूब अच्छी तरह देखभाल करना। इसे कोई तकलीफ न हो। यह मेरे लिए मेरी जान से भी प्यारा है। और हां, एक बात और ध्यान रखना। घोड़े को धोखेबाजी से लेने की बात किसी से न कहना नहीं तो लोग जरूरतमंदों की मदद करना छोड़ देंगे। इससे बहुत से दीन-दुखियों को सहायता नहीं मिल पाएगी। सोचो, फिर इंसानियत का क्या होगा।'

नावेर की यह बात दाहर के दिल को छू गई। उसका मन बदल गया। वह बहुत शर्मिन्दा हुआ। उसने तत्काल घोड़ा नावेर को थमा दिया और उससे अपने व्यवहार के लिए माफी मांगी। नावेर ने दाहर को गले से लगा लिया और सदा के लिए उससे दोस्ती कर ली।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 22, 2007, 07:40:49 AM
जय सांई राम।।।

स्वप्न का रहस्य
 
राजा जनक ने एक रात विचित्र स्वप्न देखा। उन्होंने देखा कि मिथिला को लूट लिया गया है और वह भिखारी बने भूख-प्यास से बेहाल जंगल में भटक रहे हैं। वे भटकते हुए एक ऐसे नगर में पहुंचे, जहां भूखों को खिचड़ी बांटी जा रही थी। जनक भी कतार में खड़े हो गए। लेकिन जब उनकी बारी आई तो खिचड़ी समाप्त हो गई। बांटने वाले ने कहा, 'पतीले के पेंदे में लगा हुआ खुरचन है। कहो तो वह दे दूं।' जनक के पास कोई चारा नहीं था। वह खुरचन लेने के लिए तैयार हो गए। बांटने वाले ने जनक को पत्तल पर खुरचन दे दी। तभी कहीं से उड़ती हुई एक चील आ पहुंची। उसने पत्तल पर झपट्टा मारा तो खुरचन जमीन पर गिर गई। तभी जनक की आंखें खुल गईं। सपने से वह काफी भयभीत हुए। सोचने लगे- मैं तो खा-पीकर सोया था। मुझे तो जरा भी भूख नहीं है। मैं सोने के पलंग पर सोया हूं। मिथिला का राजा हूं। फिर सपने में लुटा-पिटा भिखारी क्यों बना? मुझे भूख ने व्याकुल क्यों किया? इन दोनों में सच क्या है? मेरा भिखारी होना या राजा होना? आखिर इस स्वप्न का रहस्य क्या है, इसका संकेत क्या है?

वह अपनी जिज्ञासा लेकर ऋषि अष्टावक्र के पास पहुंचे। अष्टावक्र ने इसका रहस्य समझाते हुए कहा, 'राजन, दोनों में एक भी सत्य नहीं है। बस तुम ही सत्य हो। स्वप्न में तुम भिखारी थे, मगर जागने पर तुम्हारा भिखारी होना नहीं रहा। स्वप्न में तुम्हारा राजा होना नहीं रहा, लेकिन भिखारी होने में भी तुम थे और राजा होने में भी तुम ही थे। जो मिथ्या है, वह रहता नहीं और जो सत्य है वह कभी मिटता नहीं। सत्य तीनों काल में रहता है। स्वप्न और संसार एक ही है। स्वप्न में संसार रहता है और संसार भी स्वप्न है। इसलिए न वह सच था और न यह सच है। सबसे बड़ा सत्य है कि तुम हो। तुम्हारा होना सबसे बड़ा सच है। बाकी तुम्हारे दूसरे रूपों का कोई मतलब नहीं है।' 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: saikrupakaro on August 23, 2007, 02:22:16 AM
:-* :-* :-* :-* :-*Dear Sai Bhagat, :-* :-* :-* :-* :-* :-*

when you see this Messge " Close your eyes and see SAI BABA  , breath inhale saying BABA BE WITH ME ALWAYS " open your eyes.

Thanks baba is happy with you.

 :-* :-* :-* :-* :-* :-*Bolo shri Sat Guru Sainath maharaj ki JAI :-* :-* :-* :-* :-* :-*

Sai Anamika :-* :-* :-* :-* :-* :-* :-*
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 23, 2007, 09:21:17 PM
जय सांई राम।।।

जीवन सारी ऋतुओं के लिए है
 
एक व्यक्ति के चार बेटे थे। उसकी इच्छा थी कि उसके पुत्र जीवन में कोई भी निर्णय जल्दबाजी में लेने की गलती न करें। किसी भी परिस्थिति में वे खूब सोच-समझकर ही कोई नतीजा निकालें। इसके लिए उस व्यक्ति ने चारों बेटों को एक सबक देने की ठानी।

उस व्यक्ति ने अपने बेटों को बुलाया और कहा कि वे दूसरे राज्य में स्थित उसके नाशपाती के बाग को देखने जाएं। लेकिन साथ ही यह निर्देश भी दिया कि वे अलग-अलग ऋतुओं में वहां जाएं और फिर वापस लौटकर अपने अनुभव बताएं। पहला बेटा शीत ऋतु में, दूसरा बसंत ऋतु में, तीसरा ग्रीष्म और चौथा शरद ऋतु में पतझड़ के दौरान नाशपाती का बाग देखने रवाना हुआ। अलग-अलग वक्त पर जब वे लौट कर आए, तो पिता ने उनसे पूछा कि उन्होंने क्या-क्या देखा? शीत ऋतु में बाग देखने गए पुत्र ने कहा- नाशपाती के पेड़ बहुत भद्दे, टेढ़े-मेढ़े दिख रहे थे। उनमें फल तो क्या पत्ते तक नहीं थे। ऐसे बाग का क्या लाभ?

बसंत ऋतु में बाग देखने पहुंचे पुत्र ने अपना अनुभव बताया। उसने कहा- नाशपाती के वृक्षों पर अच्छे फल लगने के आसार नजर आ रहे थे। उन पर कलियां और फूल दिखाई दे रहे थे। ग्रीष्म ऋतु में बाग देखने गया पुत्र अपने भाइयों से पूरी तरह सहमति नहीं था। उसने कहा, पेड़ तो बहुत ही सुंदर, खुशबूदार और फलों से लदे थे। शरद ऋतु में बाग पहुंचे पुत्र ने कहा कि उसने नाशपाती के ऐसे सुन्दर वृक्ष कभी नहीं देखे थे। नाशपाती के पेड़ पर पके हुए फलों की भरमार थी और चारों तरफ माधुर्य और मादकता दृष्टिगोचर हो रही थी।

चारों पुत्रों के अनुभव सुनकर पिता ने कहा कि वे सभी अपनी-अपनी जगह ठीक हैं। उनके अनुभवों में अंतर इसलिए है, क्योंकि सबने नाशपाती के जीवन काल का केवल एक मौसम देखा है। नाशपाती के पेड़ के जीवन की एक ऋतु को देखकर बाकी ऋतुओं में पेड़ कैसा था, इसका अन्दाजा नहीं लगा सकते। इसी प्रकार किसी व्यक्ति से सिर्फ एक बार मिल कर उसके पूरे जीवन और व्यवहार के बारे में नहीं जाना जा सकता। पेड़ के जीवनकाल की पूरी जानकारी चारों ऋतुओं को मिलाकर जुटाई जा सकती है। इसी प्रकार किसी व्यक्ति से एक मुलाकात उसके बारे में सब कुछ नहीं बताती। और फिर पेड़ के जीवन काल की सारी ऋतुएं प्रति वर्ष खुद को दोहराती हैं, इसलिए उसकी जानकारी करना थोड़ा आसान है। लेकिन किसी व्यक्ति विशेष के बारे में पूरी जानकारी तभी मिल सकती है, जब हम उस व्यक्ति के ज्ञान, दर्शन, विचार, उसका दूसरों के प्रति आचरण, व्यवहार कैसा है- यह सब जानें। एक व्यक्ति के जीवन के बारे में कोई नतीजा सुख-दुख, प्रसन्नता, प्रेम आदि विभिन्न अवस्थाओं में उसके व्यवहार आदि का आकलन करके ही निकाला जा सकता है।

पर यह भी ध्यान रखें कि हर ऋतु का हमारे जीवन में अपना महत्व है। अगर शीत ऋतु को देखकर कहें कि यह ऋतु कष्टदायक है, तो बसंत ऋतु से मिलने वाले सुख को खो बैठेंगे। एक ऋतु से मिलने वाले कष्ट को आधार मानकर, दूसरी ऋतुओं से मिलने वाले आनन्द को क्यों नष्ट करें, उससे क्यों वंचित हो जाएं। अगर किसी मौसम में शरीर को कुछ कष्ट होता है, तो इस पीड़ा को हम किसी व्याधि का सूचक मान सकते हैं। अपने आप को बचाने के लिए पीड़ा एक जरूरी यन्त्र है। पीड़ा से हमें यह ज्ञान होता है कि कहीं हमारे शरीर में कुछ गड़बड़ है और तब हम कुछ चिकित्सा आदि करते हैं। अगर हमारे शरीर में पीड़ा न होती, तो हमें यह भी न पता चल पाता कि कब हमारी चमड़ी जल गई या कब हमारा हाथ छिल-कट गया। इससे हमें हर परिवर्तन या घटना में सुसंबद्धता का भी पता चलता है। कहने का अभिप्राय यह है कि बेशक ऋतुएं अलग-अलग हैं, पर एक ऋतु के आगमन पर ही दूसरी ऋतु का भविष्य टिका हुआ है। अगर गर्मी न हो, तो बरसात भी नहीं होगी। वर्षा नहीं होगी, तो शीत में वह बात कहां रह जाएगी। 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 25, 2007, 04:26:32 AM
जय सांई राम।।।

क्रोध का त्याग
 
किसी गांव में एक फकीर पहुंचा। उसके हाथ में एक डफली थी, जिसे बजाता हुआ वह गा रहा था। उसकी आवाज जो भी सुनता मंत्रमुग्ध हो जाता। इसी गांव में अत्यंत क्रोधी स्वभाव का एक व्यक्ति रहता था। लोगों ने उसका नाम ही गुस्सैल रख दिया था। फकीर को भजन गाते सुन किसी ने कहा, 'महाराज, आप कृपा करके यहां भजन मत गाइए। अगर उस गुस्सैल ने सुन लिया और उसे अच्छा नहीं लगा तो वह आप पर ही अपना क्रोध उतार बैठेगा।'

इस पर फकीर ने कहा, 'थोड़ा सा गुड़ लाकर मेरी पीठ पर लगा दो, मगर इतना ध्यान रखना कि वह दिखे नहीं।' फकीर की बात सुन कर उस व्यक्ति को आश्चर्य तो हुआ पर उसने वैसा ही किया। पीठ पर गुड़ लगवाने के बाद फकीर गुस्सैल के घर पर पहुंचा। उसने देखा कि एक व्यक्ति द्वार के पास चारपाई पर बैठा मूंछें ऐंठ रहा है। फकीर ने विनम्रतापूर्वक पूछा 'श्रीमान्, क्या आप ही गृह स्वामी हैं?' गुस्सैल ने रौब से कहा, 'नहीं तो क्या आप हैं?' फकीर ने प्यार से कहा, 'मैं तो एक फकीर हूं और आपसे सहायता मांगने आया हूं।' गुस्सैल बोला, 'बोलो क्या चाहिए?' फकीर ने कहा, 'मेरी पीठ पर कुछ मक्खियां बैठ रही हैं, वे मेरे भजन-कीर्तन में बाधा डाल रही हैं। आप इनसे मेरा पीछा छुड़ा दें।'  गुस्सैल पहले तो हंसा, फिर फकीर की पीठ की ओर जाकर मक्खियां उड़ाने की कोशिश करने लगा। जब बार-बार उड़ाने के बाद भी मक्खियां फकीर की पीठ पर बैठती ही रहीं तो उसे गुस्सा आ गया और उसने फकीर को डांटकर कहा- 'यह क्या मजाक है?'

फकीर ने कहा, 'भैया आप मुझ पर क्रोध क्यों करते हैं? आपसे जब एक मक्खी भयभीत नहीं होती तो फिर और कौन डरेगा।' गुस्सैल को फकीर की बात समझ में आ गई। वह अपने किए पर शर्मिंदा हो फकीर से माफी मांगने लगा। तब फकीर ने समझाया, 'क्रोध में आदमी अंधा हो जाता है। क्रोधवश व्यक्ति कोई पाप भी कर सकता है, इसलिए क्रोध का त्याग करो।' 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 29, 2007, 09:25:28 AM
जय सांई राम।।।

भूल का ज्ञान
 
एक सेठ ने एक संन्यासी से निवेदन किया, 'स्वामी जी, आप कृपया मेरे घर भोजन के लिए पधारें। आप आएंगे तो कुछ धर्म चर्चा भी होगी। मेरे ज्ञान में थोड़ी वृद्धि होगी।' संन्यासी ने सोचा अगर इसे कुछ लाभ हो जाए तो उनका जाना ही उचित है। वह भोजन के लिए सेठ के घर पहुंचे।

सेठ ने संन्यासी के सामने स्वादिष्ट व्यंजन परोसे और फिर अपनी उपलब्धियों की चर्चा करने लगा। उसने कहा, 'मेरे पास सैंकड़ों एकड़ जमीन है। मेरा कारोबार देश भर में फैला है। मैंने धर्म के प्रचार के लिए क्या-क्या नहीं किए हैं। मैंने एक नहीं सैंकड़ों धर्मशालाएं बनवाई हैं। मैने शहर में कई जगहों पर ऐसी व्यवस्था की है कि वहां पहुंचने वाले हर भिखारी को एक-एक किलो खिचड़ी अवश्य मिले। मेरे लड़के भी मेरी ही तरह योग्य हैं। उनका भी व्यापार चारों तरफ फैला है। ' संन्यासी ने देखा कि सेठ का चेहरा घमंड से फूला हुआ है। वह अपनी हर बात पर गदगद हो रहा था। संन्यासी ने उसका ध्यान दीवार पर टंगे एक नक्शे की ओर आकृष्ट करते हुए कहा, 'यह विश्व का नक्शा है। इसमें पूरा संसार समाहित है। अब बताओ इसमें हमारा देश कहां है?'

सेठ ने तुरत उंगली रखकर भारत को दर्शाया। संन्यासी ने कहा, 'अब अपना राज्य और गांव ढूंढकर दिखाओ।' सेठ ने राज्य तो खोज लिया पर गांव न खोज सका। संन्यासी ने कहा, 'जब तेरे गांव का पता नहीं है तो तेरी उस जमीन का पता कैसे लगेगा जिस पर तू इतना घमंड कर रहा है। संसार में तेरे से अधिक धनवान हैं और उनसे भी अधिक धनवान हैं। उनके सामने तेरा वैभव कुछ भी नहीं है। फिर इतना अभिमान क्यों? जिस समृद्धि पर तू इतना फूल रहा है वह स्थायी नहीं है। नश्वर वैभव की चकाचौंध में तू आत्मा को भूल गया है। तूने मुझे बुलाया था धर्म चर्चा के लिए पर तू तो केवल अपनी चर्चा में लगा रहा। संभल जा। अपने को पहचान।'

सेठ को अपनी भूल का अहसास हो गया। उसने संन्यासी से क्षमा मांगी। 
 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on September 10, 2007, 03:33:47 AM
जय सांई राम।।।

जादू और हकीकत
 
एक बार किसी जादूगर से एक युवक ने कहा, 'मैं आपको अपना गुरु बनाना चाहता हूं।' जादूगर ने पूछा, 'किसलिए?' युवक ने कहा 'मैं आपसे जादू सीखना चाहता हूं।' जादूगर ने फिर पूछा, 'तुम जादू क्यों सीखना चाहते हो?' युवक ने उत्तर दिया, 'मैं अपनी इच्छित वस्तुएं पाना चाहता हूं।' जादूगर ने समझाया, 'तुम अपनी इच्छित वस्तुओं के लिए आवश्यकतानुसार कर्म करो, वे तुम्हें प्राप्त हो जाएंगी।' युवक ने कहा, 'नहीं, मैं जादू से इच्छित वस्तुएं पाकर लोगों को आश्चर्यचकित करना चाहता हूं।'

जादूगर बोला, 'ठीक है, मैं तुम्हें एक मंत्र लिखकर देता हूं। तुम्हें इसे याद करना होगा। लेकिन तुम यह मंत्र उस समय मेरे पास बैठकर याद करोगे जब मैं खेल दिखाता रहूंगा।'

युवक मंत्र याद करने के लिए तैयार हो गया। जादूगर ने एक कागज पर मंत्र लिखकर युवक को दे दिया और जादू दिखाने लगा। उसका जादू इतना आकर्षक था कि लोग बार-बार तालियां बजा-बजाकर उसका उत्साहवर्धन कर रहे थे। लगभग पंद्रह मिनट में उसने खेल समाप्त किया और युवक के हाथ से पर्चा वापस लेकर उससे मंत्र सुनाने को कहा। युवक मंत्र सुनाने में असमर्थ रहा। जादूगर ने पूछा, 'तुम्हें मंत्र याद क्यों नहीं हुआ?' युवक ने कहा, 'क्षमा करें बहुत प्रयास करने पर भी मेरा मन आपके आकर्षक जादू की ओर खिंचा जा रहा था। मैं चाहकर भी मंत्र याद नहीं कर पाया। यदि आप आज्ञा दें तो मैं एकांत में जाकर इस मंत्र को याद कर लेता हूं।' जादूगर ने कहा 'नहीं जादू की सिद्धि कोई हंसी खेल नहीं है, उसमें तो इससे भी अधिक बाधाएं आती हैं। जब तुम अपने मन को ही वश में नहीं कर सकते तो दूसरी वस्तुओं को अपने वश में कैसे करोगे? सच तो यह है कि मैं जादू जानने के बाद भी कोई वस्तु अपनी इच्छा से नहीं पा सकता, बल्कि जादू दिखाकर रोटी के लिए एक-एक पैसा इकट्ठा करता फिरता हूं। जिंदगी को जादू या सपनों से मत जोड़ो। परिश्रम करो, क्योंकि जादू और हकीकत में फर्क होता है।'   

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on September 15, 2007, 11:06:30 PM
जय सांई राम।।।

आत्म कल्याण की एक साधना है दान
 
यक्ष ने धर्मराज युधिष्ठिर से प्रश्न किया- मृत्यु के समय सब यहीं छूट जाता है, सगे-संबंधी, मित्र कोई साथ नहीं दे पाते, तब उसका साथी कौन होता है, कौन उसका साथ देता है? युधिष्ठिर ने कहा- मृत्यु प्राप्त करने वाले का मित्र दान है, वही उसका साथ दे पाता है। यक्ष का अगला प्रश्न था- श्रेष्ठ दान क्या है? उत्तर था-जो श्रेष्ठ मित्र की भूमिका निभा सके। फिर प्रश्न था-दान किसे दिया जाए? उत्तर था- दान सुपात्र या सही व्यक्ति को दिया जाए। जो प्राप्त दान को श्रेष्ठ कार्य में लगा सके, उसी को दिया गया दान श्रेष्ठ होता है। वही पुण्य फल देने में समर्थ होता है।

दान को धर्म में एक जरूरी और उत्तम कार्य बताया गया है। अथर्ववेद में स्पष्ट कहा गया है कि सैकड़ों हाथों से कमाओ और हजारों हाथों से बांट दो। शास्त्रकारों ने कहा है कि जो सम्पन्न व्यक्ति अपनी सम्पत्ति का भोग बिना दान के करता है, वह अच्छे लोगों की श्रेणी में नहीं माना जा सकता। वह निंदनीय है।

कबीर ने कहा है कि अर्थ की शुद्धि के लिए दान आवश्यक है। जिस प्रकार बहता हुआ पानी शुद्ध रहता है उसी तरह धन भी गतिशील रहने से शुद्ध होता है। धन कमाना और उसे शुभ कामों में लगा देना अर्थ शुद्धि के लिए आवश्यक है। यदि धन का केवल संग्रह होता रहे तो संभव है एक दिन वह उसी नाव की तरह मनुष्य को डुबो देगा, जिसमें पानी भर जाता है। नाव का पानी उलीचा न जाए तो निश्चय ही वह डूब जाएगी। पानी की टंकी से जब तक पानी निकलता रहता है तभी तक टंकी में ताजा जल आने की गुंजाइश रहती है। धन के संग्रह से अनेक व्यक्तिगत और सामाजिक बुराइयां भी पैदा हो जाती हैं जिससे बोझिल होकर मनुष्य कल्याण पथ से भटक जाता है, जीवन की राह से फिसल जाता है। इसीलिए कमाने के साथ-साथ धन को दान के माध्यम से परमार्थ में लगाना चाहिए ताकि दुनिया के अभावग्रस्त लोगों का भला हो सके।

स्वामी रामतीर्थ ने कहा था, 'दान देना ही आमदनी का एकमात्र द्वार है। जहां दिया नहीं जाता, खर्च नहीं किया जाता, वहां धीरे-धीरे आमदनी की संभावना भी कम हो जाती है। आय का स्त्रोत उन्मुक्त भाव से उन्हीं के लिए खुला रहता है जो दान करते हैं, उसे समाज के लिए खर्च करते हैं।'

दान व्यावहारिक जीवन में एक ऐसी साधना पद्धति है जिसके माध्यम से हम अपने भीतर अनेक आध्यात्मिक, मानसिक तथा चारित्रिक गुण और विशेषताएं विकसित कर सकते हैं। विक्टर ह्यूगो ने कहा था, 'ज्यों-ज्यों धन की थैली दान में खाली होती जाती है, त्यों-त्यों दिल भरता जाता है।' दान से मिलने वाले संतोष और प्रसन्नता का महत्व कम नहीं है। जीवन में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका है।

स्वामी विवेकानंद अमेरिका में थे। एक दिन वह ज्यों ही अपना भोजन बनाकर खाने के लिए बैठे कि बच्चों की एक टोली हंसते-खेलते वहां आ पहुंची। स्वामी जी से नहीं रहा गया। उन्होंने बच्चों को पास बैठा कर बड़े प्यार से सारा भोजन खिला दिया। एक अन्य सज्जन जो यह सब देख रहे थे बोले, ' स्वामी जी आप तो अब भूखे ही रह जाएंगे।' स्वामी जी ने कहा, 'इन बच्चों को भोजन करा कर जो तृप्ति और संतोष मुझे हुआ है, वह उस भोजन से नहीं हो सकता था।'

दूसरों को देकर आत्मसंतोष, प्रसन्नता और आंतरिक सुख प्राप्त होता है। दान एक बहुत बड़े सामाजिक कर्त्तव्य की पूर्ति भी है। किसी भी समाज में सभी तो कमाने की स्थिति में नहीं होते पर दान समाज के दुर्बल अंग को जीवन देता है। यदि संसार में चल रही दान व्यवस्थाएं बंद कर दी जाएं तो मानव समान के एक बड़े हिस्से के नष्ट हो जाने की आशंका बढ़ जाएगी।   

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on September 17, 2007, 11:29:50 PM
जय सांई राम।।।

सुख का मार्ग
 
बचपन में मुनि कपिल बहुत शैतानी करते थे। उनकी शरारत से परेशान होकर उनके पिता मुनि कर्दम और माता देवहुति ने उन्हें गुरुकुल भेज दिया। एक दिन गुरुकुल के गुरुजी मुनि कर्दम के पास आकर बोले, 'मुनिवर, क्षमा करें, मैं आपके पुत्र को शिक्षा नहीं दे सकता।' मुनि कर्दम ने सोचा कि कपिल वहां भी शरारत करते होंगे। उन्होंने पूछा, 'क्या कपिल ने वहां भी कोई शरारत की है?'

' नहीं मुनिवर, ऐसी कोई बात नहीं है। आपके पुत्र को किसी तरह की शिक्षा की जरूरत नहीं है। वह हमसे ज्यादा बुद्धिमान और तेजस्वी है। वेद-पुराण, उपनिषद तक उसे याद हैं। मैं उसे क्या शिक्षा दे पाऊंगा?'

बेटे की प्रशंसा सुन कर मुनि कर्दम बहुत खुश हुए। उन्होंने सोचा कि अब कपिल अपनी माता के साथ आश्रम को ठीक से चला लेगा, इसलिए उन्होंने संन्यास धारण कर लिया और हिमालय चले गए। बाद में देवहुति का मन भी इस संसार से उचाट होने लगा। एक दिन उन्होंने कपिल को बुला कर कहा, 'बेटा, अब तुम आश्रम ठीक से चला रहे हो, इसलिए मैं सांसारिक बंधनों से मुक्त होना चाहती हूं, लेकिन पुत्र मोह मुझे छोड़ नहीं रहा है। सोचती हूं मेरे जाने पर तुम्हारा क्या होगा।'

कपिल ने कहा, 'मेरी मृत्यु के डर से अपने सुखी जीवन को नरक मत बनाओ। इस संसार में न तो कुछ मेरा है, न तेरा। जो कुछ है प्रभु का है। न कोई अपनी इच्छा से जीवित रह सकता है और न ही मर सकता है। फिर पुत्र मोह क्यों? मेरी चिंता छोड़ कर सांसारिक बंधनों से मुक्त होना ही आपके लिए एकमात्र सुख का मार्ग है। '

उसके बाद देवहुति ने भी संन्यास धारण कर लिया। मां के जाने के बाद एक शिष्य ने कपिल से पूछा, 'क्या आपको मां का मोह नहीं लगा जो उन्हें जाने दिया?' कपिल ने कहा 'मां का मोह किसे नहीं होगा। लेकिन अपने सुख के लिए मैं मां का सुख नहीं छीनना चाहता।' मुनि कपिल ने अपनी मां को जो ज्ञान दिया वही बाद में सांख्य योग के नाम से प्रसिद्ध हुआ। 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on September 23, 2007, 11:52:58 PM
Om Sai Ram~~~

 
Worth~~~

Horror gripped the heart of a World War-I soldier, as he saw his lifelong friend fall in battle. The soldier asked his Lieutenant if he could go out to bring his fallen comrade back.


"You can go," said the Lieutenant," but don't think it will be worth it.


Your friend is probably dead and you may throw your life away."


"The Lieutenant's words didn't matter, and the soldier went anyway.


Miraculously, he managed to reach his friend, hoisted him onto his shoulder and brought him back to their company's trench. The officer checked the wounded soldier, then looked kindly at his friend.


"I told you it wouldn't be worth it," he said. "Your friend is dead and you are mortally wounded."


"It was worth it, Sir," said the soldier.


"What do you mean by worth it?" responded the Lieutenant. "Your friend is dead."


"Yes Sir," the soldier answered,


"but it was worth it because when I got to him, he was still alive and I had the satisfaction of hearing him say....


" Jim...I knew you'd come."



~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


Many times in life, whether a thing is worth doing or not, really depends on how u look at it.


Take up all your courage and do something your heart tells you to do so that you may not  regret not doing it later in your life........


Jai Sai Ram~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on September 26, 2007, 10:11:17 PM
Om Sai Ram~~~

MIND YOUR OWN BUSINESS~~~

A crow was sitting on a tree, doing nothing all day.

A small rabbit saw the crow, and asked him, "Can I also sit like you and do nothing all day long?"

The crow answered: "Sure, why not."

So, the rabbit sat on the ground below the crow, and rested. All of a sudden, a fox appeared,

jumped on the rabbit and ate it.

Moral~~~
To be sitting and doing nothing, you must be sitting very, very high up.


Jai Sai Ram~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on September 29, 2007, 02:08:31 AM
Om Sai Ram~~~

Sense of Humor ~~~

Interviewer said, "I shall either ask you ten easy questions or one really difficult question. Think well before you make up your mind!"


Interviewer said, " I shall either ask you ten easy questions or one really difficult question. Think well before you make up your mind!"


The candidate thought for a while and said, " My choice is one really difficult question."


" Well, good luck to you, you have made your own choice!" said the interviewer.


Here is your question: " What comes first, Day or Night?"


The boy was jolted into reality as his admission depended on the correctness of the answer to that one question. He thought for a while and said, " It's DAY sir!"


" How?" the interviewer asked.


" Sorry sir, you promised me that you will not ask me a SECOND difficult question!"


Moral : Technical Skill is the mastery of complexity, while Creativity is the mastery of simplicity

 
Jai Sai Ram~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on October 03, 2007, 11:02:05 PM

जय सांई राम।।।

1. सुकर्म करने वाले लोग कभी भी, भोग, योग और पत्र (रुपया-पैसा) का संचय नहीं करते वो लोग महान कहलाते हैं। इसी कारण उनका सुयश सर्वत्र फैलता है वो चाहे विक्रमादित्य हों या भगवान श्री कृष्ण सब अपने अपने सकर्मों के लिए प्रसिद्ध हैं पर इनमें से किसी ने भी भोग, योग और धन को केवल अपने पास ही तक सीमित नहीं रखा। अपने सत्कर्मों से अर्जित फल को पूरे समाज में बाँटा। मधु मक्खियों को देखो कितने परिश्रम से वह मधु को एकत्रित करती हैं यह जानते हुए भी कि इसे कोई तोड़ कर ले जायेगा। इस प्रकार से परोपकार के कारण ही लोगों का सुयश बना रहता है।

2.सुयश के लिए सुकर्म आवश्यक है। बिना सुकर्म के सुयश नहीं मिलता। सुकर्म रूपी दुग्ध से ही सुयश रूपी नवनीत निकलती है। सुकर्म ही सुकर्म का जन्मदाता है।

3.जो पाखंडी होता है वह दूसरों के काम बिगाड़ता है, धनी द्वेष करने वाला ऊपर से मणि पर भीतर से क्रूर होती है वह मार्जर कहलाता है। बिल्ली में भी लगभग इसी प्रकार के स्वभाव होते हैं।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on October 05, 2007, 12:33:53 AM
Om Sai Ram~~~

JUST BELIEVE~~~

One night my brother and I sat in our basement discussing our problems, one in particular, our father. Our father had just recently turned himself in for stealing.

He had stolen from us, (his own sons, which totaled to be quite a large sum), other family members and who knows who else. You see my father has a compulsive gambling problem, which has lead him to lose everything in his life including his family.

But that night as my brother and I talked, I mentioned to him that although our father has done so many terrible things, I still loved him greatly. My brother said he felt the same but this greatly confused me and made me feel lost.

As we talked, I brought up the Bible, God, and Jesus Christ. I told him there was a passage I wanted to read to him. So I went and retrieved my Bible from my bedroom. I couldn't remember exactly where the passage was but as I was searching, I came across a passage that has forever changed me. It was "Corinthians 1:13."

As I read the passage I realized why God can forgive and love us even after we have committed such harsh sins. I don't believe I had stumbled onto this passage by accident. God shows his meanings to all of us, we just have to believe~~~
 
Jai Sai Ram~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on October 27, 2007, 07:35:58 AM
Jai Sai Ram~~~

FATHER & SON  

One day, the father of a very wealthy family took his son on a trip to the country with the express purpose of showing him how poor people live.
They spent a couple of days and nights on the farm of what would be
considered a very poor family.
On their return from their trip, the father asked his son, "How was the trip?"
"It was great, Dad."
"Did you see how poor people live?" the father asked.
"Oh yeah," said the son.
"So, tell me, what did you learn from the trip?" asked the father.
The son answered:
"I saw that we have one dog and they had four.
We have a pool that reaches to the middle of our garden and they have a creek that has no end.
We have imported lanterns in our garden and they have the stars at night.
Our patio reaches to the front yard and they have the whole horizon.
We have a small piece of land to live on and they have fields that go
beyond our sight.
We have servants who serve us, but they serve others.
We buy our food, but they grow theirs.
We have walls around our property to protect us, they have friends to
protect them."
The boy's father was speechless.
Then his son added, "Thanks Dad for showing me how poor we are."
Isn't perspective a wonderful thing? Makes you wonder what would happen if..


we all gave thanks for everything we have, instead of worrying about whatwe don't have...
Appreciate every single thing you have, especially your friends!!!


Jai Sai Ram~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on November 09, 2007, 07:03:58 AM
जय सांई राम।।।

धन को पूजना आध्यात्मिकता है या उसे छोड़ना
 
दीवाली के त्योहार से बहुत सी पुराण कथाएं जुड़ी हैं जो मूलत: हिंदू पुराणों से ली गई हैं। हम बरसों से यह त्योहार मना रहे हैं। इसके इतने अभ्यस्त हो गए हैं कि वे कहानियाँ हमारे अवचेतन का हिस्सा बन गई हैं- हम यंत्रवत उन्हें जीये चले जा रहे हैं- कभी देखते भी नहीं कि वे कहानियां इस त्योहार से क्यों जोड़ी गई हैं। हालांकि इन सभी कथाओं का मूल स्वर यही है कि शुभ की अशुभ पर विजय। इन कहानियों के चरित्र और उनके साथ घटी घटनाओं का आपस में कोई मेल नहीं है- यह एक शोध का विषय होगा कि उन सभी कहानियों को एक माला में पिरोकर दीवाली के पांच दिनों से कैसे जोड़ा गया।

अब देखिए, पहले दिन चतुर्दशी को कृष्ण के द्वारा नरकासुर का वध, उसके बाद राम का जंगल से अपने राज्य में वापस लौटना- क्या वास्तव में एक दिन नरकासुर का वध हुआ और दूसरे दिन राम अयोध्या वापस लौटे? फिर अमावस के दिन लक्ष्मी का पूजन और प्रतिपदा के दिन विष्णु का वामन के रूप में बलि को पाताल में दबाना- और फिर उसके अगले दिन भाई दूज कहां से आ गया? इसके साथ कोई पुराण कथा नहीं है, यह तो भाइयों को उनकी पारिवारिक जिम्मेदारी का अहसास कराने के लिए एक अवेयरनेस एक्सरसाइज करवा ली- ये सभी घटनाएं ऐसा कतई नहीं हो सकता कि एक के बाद एक घटी हों- इनका आपस में भी कोई सामंजस्य नहीं है।

आज की वैज्ञानिक दुनिया में कहां का बलि और कौन नरकासुर! क्या हमारी जिंदगी से इनका कोई मेल है? या इनकी कोई संगति है? हम क्यों इन कथाओं को इस उत्सव के साथ जोड़ रहे हैं?

ऐसे दीवाली को दीयों का उत्सव कहा जाता है, पर है यह धन की पूजा करने का उत्सव- भारत की धन पर बहुत गहरी पकड़ है- अन्य किसी देश में धन को सामने रखकर उसे पूजा नहीं जाता सिवाय इस देश के।

यदि हम वेदों में देखें तो इस त्योहार का कोई उल्लेख नहीं है- हो भी नहीं सकता, क्योंकि तब भारत एक संपन्न देश था- यहां के सभी देवता ऐश्वर्यवान चित्रित किए गए हैं- ऐश्वर्य का प्रदर्शन बुरा नहीं माना जाता था, क्योंकि सभी लोग खुशहाल थे।

एक तरफ हम धन को पूजते हैं और दूसरी तरफ जिन्होंने धन का त्याग किया, ऐसे संतों का आदर करते हैं- यदि धन को छोड़ना आदरणीय है तो हम धन की पूजा क्यों करते हैं? इस विरोधाभास का हमें अहसास नहीं है? एक और सवाल है- भारत आध्यात्मिक देश है या भौतिकवादी देश? धन को पूजना आध्यात्मिकता है या उसे छोड़ना?

ओशो इस तरह के बेचैन करने वाले कई सवाल उठाते हैं- और आज के ग्लोबलाइजेशन के दौर में तो हर भारतीय को यह सवाल उठाना चाहिए- यदि विश्व नागरिक बनना है तो इस तरह के दोहरे मापदंड लेकर हम कैसे जी पाएंगे भाई! भारतीय चिंतन में कहीं गहरे जो दोमुँहापन पैठ गया है, उसका इलाज करने का वक्त आ गया है।

ओशो ने कहा कि 'पश्चिम में भौतिक समृद्धि है- लोगों के पास अच्छे मकान हैं, बड़ी कारें हैं, ज्यादा पैसा है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि वे भौतिकवादी हैं। पूरब में लोग गरीब हैं, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि लोग आध्यात्मिक हैं- गरीबी का आध्यात्मिकता से कोई लेना देना नहीं है- सच तो यह है कि जब बहुत पैसा हो तभी आपको पता चलता है कि उसमें कोई खास बात नहीं है- जिंदगी की जो उच्चतम चीजें हैं, जैसे- शांति, प्रेम, आनंद, ध्यान इत्यादि- वे खरीदी नहीं जा सकतीं।

इसलिए धन के नहीं, स्वयं के मालिक बनिए- आप कितनी ही चीजें खरीद लें मन की दरिद्रता नहीं मिट सकती- इसका अहसास होते ही व्यक्ति भीतर मुड़ने लगता है- पहली बार भीतर का खालीपन दिखाई देता है, जो एक ही बात से भर सकता है- अपने आपसे- आप अगर अपने भीतर रहने लगें।  

तो ध्यान का एक छोटा-सा दीया जला लें और भीतर प्रविष्ट हो जाएं- असली दीवाली यही है!
 


अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on November 16, 2007, 09:03:27 AM
जय सांई राम।।।

अकबर-बीरबल की पहली मुलाकात
 
अकबर को शिकार का बहुत शौक था. वे किसी भी तरह शिकार के लिए समय निकल ही लेते थे. बाद में वे अपने समय के बहुत ही अच्छे घुड़सवार और शिकरी भी कहलाये. एक बार राजा अकबर शिकार के लिए निकले, घोडे पर सरपट दौड़ते हुए उन्हें पता ही नहीं चला और केवल कुछ सिपाहियों को छोड़ कर बाकी सेना पीछे रह गई. शाम घिर आई थी, सभी भूखे और प्यासे थे, और समझ गए थे की वो रास्ता भटक गए हैं. राजा को समझ नहीं आ रहा था की वह किस तरफ़ जाएं.

कुछ दूर जाने पर उन्हें एक तिराहा नज़र आया. राजा बहुत खुश हुए चलो अब तो किसी तरह वे अपनी राजधानी पहुँच ही जायेंगे. लेकिन जाएं तो जायें किस तरफ़. राजा उलझन में थे. वे सभी सोच में थे किंतु कोई युक्ति नहीं सूझ रही थी. तभी उन्होंने देखा कि एक लड़का उन्हें सड़क के किनारे खड़ा-खडा घूर रहा है. सैनिकों ने यह देखा तो उसे पकड़ कर राजा के सामने पेश किया. राजा ने कड़कती आवाज़ में पूछा, “ऐ लड़के, आगरा के लिए कौन सी सड़क जाती है”? लड़का मुस्कुराया और कहा, “जनाब, ये सड़क चल नहीं सकती तो ये आगरा कैसे जायेगी”. महाराज जाना तो आपको ही पड़ेगा और यह कहकर वह खिलखिलाकर हंस पड़ा.

सभी सैनिक मौन खड़े थे, वे राजा के गुस्से से वाकिफ थे. लड़का फ़िर बोला,” जनाब, लोग चलते हैं, रास्ते नहीं”. यह सुनकर इस बार राजा मुस्कुराया और कहा,” नहीं, तुम ठीक कह रहे हो. तुम्हारा नाम क्या है, अकबर ने पूछा. मेरा नाम महेश दास है महाराज, लड़के ने उत्तर दिया, और आप कौन हैं? अकबर ने अपनी अंगूठी निकाल कर महेश दास को देते हुए कहा, “तुम महाराजा अकबर - हिंदुस्तान के सम्राट से बात कर रहे हो”. मुझे निडर लोग पसंद हैं. तुम मेरे दरबार में आना और मुझे ये अंगूठी दिखाना. ये अंगूठी देख कर मैं तुम्हें पहचान लूंगा. अब तुम मुझे बताओ कि मैं किस रास्ते पर चलूँ ताकि मैं आगरा पहुँच जाऊं.

महेश दास ने सिर झुका कर आगरा का रास्ता बताया और जाते हुए हिंदुस्तान के सम्राट को देखता रहा.

और इस तरह अकबर भविष्य के बीरबल से मिला.

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Sai ka Tej on December 06, 2007, 05:42:08 AM
JAI SAI RAM

FROGS

A number of frogs were traveling through the woods. Two of them fell into a deep pit. All the other frogs gathered around the pit. When they saw how deep the pit was, they told the two frogs that they were as good as dead.

The two frogs ignored the comments and tried to jump up out of the pit with all of their might. The other frogs kept telling them to stop, that they were as good as dead.

Finally, one of the frogs took heed to what the other frogs were saying and gave up. He fell down and died.

The other frog continued to jump as hard as he could. Once again, the crowd of frogs yelled at him to stop the pain and just die. He jumped even harder and finally made it out.

When he got out, the other frogs said, "Did you not hear us?" The frog explained to them that he was deaf. He thought they were encouraging him the entire time.

This story teaches two lessons:



There is the power of life and death in the tongue. An encouraging word to someone who is down can lift them up and help them make it through the day.


A destructive word to someone who is down can be the push over the edge. Be careful of what you say. Speak life to those who cross your path. Anyone can speak words that can rob another of the spirit to push forward in difficult times.
Special is the individual who will take the time to encourage another.
Be kind to others. 

SAI RAM
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on December 06, 2007, 11:08:31 PM
जय सांई राम।।।

सेवा का तरीका

पुरानी लोककथा है । गंगा के किनारे हरे-भरे वृक्षों के बीच गुरु अभेन्द का विख्यात आश्रम था। दूर-दूर के नगरों से लोग उनके आश्रम में शिक्षा ग्रहण करने आते थे। एक बार भयंकर अकाल पड़ा। चारों ओर त्राहि-त्राहि मच गई। अभेन्द्र ने अपने तीन वरिष्ठ शिष्यों को बुलाया और कहा, 'संकट की घड़ी में हमें अकाल पीड़ितों की सहायता करनी चाहिए। मेरी इच्छा है कि तुम लोग अलग-अलग इलाकों में जाओ और भूखों को भोजन कराओ।' उनकी बात सुनकर शिष्य बोले, 'गुरुदेव, हम इतने सारे लोगों को भोजन किस प्रकार कराएंगे? न तो हमारे पास अन्न का भंडार है और न ही अनाज खरीदने के लिए धन।'

यह सुनकर अभेन्द्र ने शिष्यों को एक-एक थाली देते हुए कहा, 'यह साधारण थाली नहीं है। तुम जितना भोजन मांगोगे, यह थाली उतना भोजन प्रदान करेगी।' तीनों शिष्य थाली लेकर निकल पड़े। दो शिष्यों ने तो अपने लिए एक जगह चुन ली और वहीं बैठ गए। उधर से जो गुजरता उसे वे भरपेट भोजन कराते। लेकिन तीसरा शिष्य गोपाल बैठा नहीं बल्कि घूम-घूमकर लोगों को खाना बांटता रहा। कुछ दिनों के बाद तीनों आश्रम में लौट आए। अभेन्द ने उन सब से उनके अनुभव के बारे में पूछा। सबने बताया कि किस तरह उन्होंने लोगों की सेवा की। लेकिन अभेन्द्र ने सिर्फ गोपाल की प्रशंसा की। कई दिनों तक वह गोपाल की भूमिका की सराहना करते रहे। यह बाकी दो शिष्यों को अटपटा लगा। उन्हें अहसास हुआ कि अभेन्द्र पक्षपात कर रहे हैं। आखिर एक दिन उन्होंने अपनी शंका रख ही दी और कहा, 'गुरुदेव हमने भी तो पीड़ितों की सेवा की। पर गोपाल अधिक प्रशंसा का पात्र क्यों बना?' इस पर अभेन्द्र बोले, 'तुमने एक निश्चित स्थान पर बैठकर लोगों की सहायता की। तुम्हारे ऐसा करने से वे लोग तुम्हारी मदद से वंचित रह गए जो चलकर तुम्हारे पास नहीं आ सकते थे। जबकि गोपाल ने घूम-घूमकर लोगों को भोजन कराया। उसकी सहायता से कोई भी वंचित नहीं रहा। उसका प्रयास ज्यादा महत्वपूर्ण है।'
 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Sai ka Tej on December 07, 2007, 01:22:49 AM
JAI SAI RAM

Birbal's Khichri

On a cold winter day Akbar and Birbal took a walk along the lake. A thought came to Birbal that a man would do anything for money. He expressed his feelings to Akbar. Akbar then put his finger into the lake and immediately removed it because he shivered with cold.

Akbar said "I don't think a man would spend an entire night in the cold water of this lake for money."

Birbal replied "I am sure I can find such a person."

Akbar then challenged Birbal into finding such a person and said that he would reward the person with a thousand gold coins. 

Birbal searched far and wide until he found a poor man who was desperate enough to accept the challenge. The poor man entered the lake and Akbar had guards posted near him to make sure that he really did as promised.

The next morning the guards took the poor man to Akbar. Akbar asked the poor man if he had indeed spent the night in the lake. The poor man replied that he had. Akbar then asked the poor man how he managed to spend the night in the lake. The poor man replied that there was a street lamp near by and he kept his attention affixed on the lamp and away from the cold. Akbar then said that there would be no reward as the poor man had survived the night in the lake by the warmth of the street lamp. The poor man went to Birbal for help.

The next day, Birbal did not go to court. The king wondering where he was sent a messenger to his home. The messenger came back saying that Birbal would come once his Khichri was cooked. The king waited hours but Birbal did not come. Finally the king decided to go to Birbal's house and see what he was upto.

He found Birbal sitting on the floor near some burning twigs and a bowl filled with Khichri hanging five feet above the fire. The king and his attendants couldn't help but laugh.

Akbar then said to Birbal "How can the Khichri be cooked if it so far away from the fire?"

Birbal answered "The same way the poor man received heat from a street lamp that was more than a furlong away."

The King understood his mistake and gave the poor man his reward.

SAI RAM
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on December 11, 2007, 11:25:07 PM
जय सांई राम।।।

संयम की सीख  

गौतम बुद्ध भ्रमण करते हुए एक गांव में पहुंचे। उस गांव का प्रमुख बुद्ध को पसंद नहीं करता था। वह नहीं चाहता था कि लोग बुद्ध की बातें सुनें। उसे जैसे ही पता चला कि बुद्ध अपने शिष्यों के साथ गांव में आ रहे हैं, उसने लोगों को आदेश दिया कि वे अपने दरवाजे बंद रखें और बुद्ध को भिक्षा न दें। वह स्वयं दरवाजे बंद कर घर के चबूतरे पर बैठ गया। बुद्ध इस बात से अवगत थे। वह मुस्कराते हुए ग्राम प्रमुख के घर के सामने खड़े हो गए और उन्होंने भिक्षा की मांग की।

ग्राम प्रमुख आगबबूला होता हुआ उठा और बोला, 'अरे मुस्टंडे संन्यासी, भागो यहां से। काम धंधा कुछ करते नहीं और भीख मांग कर पेट भरते हो। क्यों अपना और नौजवान शिष्यों का जीवन नष्ट कर रहे हो। कुछ कष्ट उठाओ काम करो और पेट भरो। भागो यहां से।' बुद्ध स्थिर खड़े सब कुछ सुनते रहे, फिर बोले, 'महोदय, मेरी एक शंका है। क्या उसका निवारण करेंगे?'

' क्या शंका है?' ग्राम प्रमुख ने तेज स्वर में पूछा। बुद्ध बोले, 'महोदय, आपके घर में आकर कोई कुछ मांगता है। आप उस पर दया करके कुछ पदार्थ थाली में रखकर लाते हैं और वह उसे स्वीकार किए बिना ही चला जाता है, तो बताइए कि आप उस थाली और उसमें रखे पदार्थ का क्या करेंगे?' उसने कहा, 'मैं उसे वापस अपने घर में रख लूंगा, कोई नष्ट थोड़े ही करूंगा।' बुद्ध मुस्कराते हुए बोले, 'महोदय, उस दशा में आपका सामान आपके पास ही रहा न।' वह बुद्ध की बात समझ नहीं पाया, इसलिए उसने उनसे अपनी बात को स्पष्ट करने के लिए कहा। बुद्ध ने समझाते हुआ कहा, 'आपके घर आकर मैंने भिक्षा मांगी और आपने उसके उतर में हमें गालियां दीं और भला बुरा कहा। आपने हमें भिक्षा में अपशब्द दिए जो हमें स्वीकार्य नहीं। इसलिए यह आपके पास ही रह गया, जैसा कि आप स्वयं स्वीकार कर चुके हैं।' ग्राम प्रमुख को अपनी गलती का अहसास हो गया। उसने उनसे क्षमा याचना की।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on December 12, 2007, 05:29:53 AM
Om Sai Ram~~~

Depressed ??

One day a child saw a young pupa struggling to come out of its cocoon. With a thought of helping the poor thing , he broke open the and the young butterfly came out fluttering her wings. But within minutes of coming out , she was dead. She was not able to fly.
Can you guess WHY ?
The process of struggling out of the cocoon gave her wings the strength to survive.

So the moral of the story is that the obstacles of our life give us strength to live our life. We all are born with some hidden energy; they serve as clarion calls to arouse what is lantern inside .
Initially we may get disheartened by the obstacles and failures but REMEMBER , these obstacles are going to catapult us towards our goals.

 

Jai Sai Ram~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on December 13, 2007, 01:59:56 AM
जय सांई राम।।।

परमात्मा की प्राप्ति

एक दिन एक सेठ ने सूफी संत फरीद से कहा, 'मैं घंटों पूजा-पाठ करता हूं, लाखों रुपये दान-पुण्य में खर्च करता हूं। गरीबों को खाना खिलाता हूं, फिर भी मुझे भगवान के दर्शन नहीं होते। आप मार्गदर्शन कीजिए।'

फरीद ने कहा, 'यह तो बहुत आसान है। आओ मेरे साथ। मौका मिला तो आज ही भगवान के दर्शन करा दूंगा।' फरीद सेठ को नदी तट पर ले गए, फिर उन्होंने सेठ को डुबकी लगाने को कहा। जैसे ही सेठ ने डुबकी मारी, फरीद सेठ के ऊपर सवार हो गए। संत फरीद काफी तंदुरुस्त थे। उनका वजन सेठ संभाल नहीं पा रहा था। वह बाहर निकलने की कोशिश करता लेकिन और दब जाता था। सेठ तड़पने लगा। उसने सोचा, अब जान नहीं बचेगी। चले थे भगवान के दर्शन करने, अब यह जिंदगी भी गई। सेठ था तो कमजोर, लेकिन मौत नजदीक देख कर उसने गजब का जोर लगाया और एक झटके में ऊपर आ गया। उसने फरीद से कहा, 'तू फकीर नहीं कसाई है। तू मुझे भगवान के दर्शन कराने लाया था या मारने?'

फरीद ने पूछा, 'यह बताओ कि जब मैं तुम्हें पानी में दबा रहा था तो क्या हुआ?' सेठ बोला, 'होना क्या था। जान निकलने लगी थी। पहले बहुत विचार उठे मन में कि हे, भगवान कैसे बचूं, कैसे निकलूं बाहर। जब प्रयत्न सफल नहीं हुए तो धीरे-धीरे विचार भी खो गए। फिर तो एक ही सवाल आया था कि किसी तरह बाहर निकल जाऊं। फिर विचार भी खो गए, बस भाव रह गया बाहर निकलने का।'

फरीद ने कहा, 'परमात्मा तक पहुंचने का यह अंतिम मार्ग ही सबसे सरल है। जिस दिन केवल परमात्मा को पाने का भाव बचा रह जाएगा और विचार तथा प्रयास खत्म हो जाएंगे, उसी दिन ईश्वर तुम्हें दर्शन दे देंगे। आदमी केवल सोचता है, विचार करता है, सवाल करता है लेकिन उसके भीतर भाव उत्पन्न नहीं होता, इसलिए उसे संपूर्ण सफलता नहीं मिलती।' सेठ ने फरीद का भाव अच्छी तरह समझ लिया। 
 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: rajiv uppal on December 19, 2007, 04:14:45 AM
एकता में ही ताकत है



बच्चों ,आज आपको एक सच्ची धटना बताते हैं-बैंगलोर में एक पार्क में एक पेड़ पर तोते का एक छोटा सा घोंसला था। तोता और तोती बडे प्यार से उसमें रहते थे। उनका एक छोटा सा बच्चा भी था, जिसके नाजुक कोमल से शरीर पर अभी पंख नहीं आये थे।

तोता और तोती बारी-बारी से उसके लिये खाना लाते और बडे प्यार से उसे खिलाते। तोता खाना लेने गया हुआ था तभी तोती ने सोचा क्यों ना वो भी चली जायें और थोडी बहुत खाने की चीज़ वो भी ले आये फिर वो तीनों मिलकर साथ खाना खायेंगें। लेकिन तोता और तोती को आने में थोडी देर हो गयी।
मौका देख कर एक सांप घोंसले की और बढ चला मन ही मन वो बहुत खुश था । सोच रहा था कितने दिनों के बाद वो नरम-नरम स्वादिष्ट भोजन करेगा। कल्पना कर-कर के सांप की ज़ुबान पर पानी आ रहा था। बस पक पल की दूरी है अगले ही क्षण वो बच्चा मेरे मुहँ में होगा लेकीन तभी तोता और तोती खाना लेकर आ गये । इस तरह एकाएक दुश्मन को अपने घोंसले के करीब पा कर दोंनो के होश उड गये।तोती तो घबरा कर रोने लगी पर तोते ने हिम्मत नहीं हारी ।उसने तोती को समझाया -ये समय रोने का नहीं है । हमें मिलकर -डटकर उसका मुकाबला करना है और बिना एक पल गंवायें तोते ने सांप पर अपनी चोंच से प्रहार किया सांप निश्चिंत था वो एकाएक हुये हमले की वजह से अपना संतुलन खो बैठा और पेड से नीचे गिर पडा।

तोती को ये सब देखकर हिम्मत बंधी और वो भी तोते के साथ मिलकर सांप पर आक्रमण करने लगी। दूसरी तरफ सांप इस तरह मुहं में आये निवाले को जाता देख कर गुस्से से आग बबूला था । अब वो दुगनी तेजी से घोंसले की तरफ बडा पर तोते और तोती ने "एक और एक ग्यारह होते हैं" वाली कहावत को सच करते हुये हिम्मत से उसका सामना किया। सांप को उन दोंनो ने अपनी चोंच से हमला कर- कर के अधमरा कर दिया कि आखिर में सांप को मैदान छोड कर सिर पर पांव रख कर अपनी जान बचानी पडी।

बच्चे जानते हो तोता और तोती अपने बच्चे की जान बचाने में क्यों सफल हुये? क्योंकि उनमें एकता और हिम्मत थी ।दोंनो ने मिलकर बिना डरे शत्रु का सामना किया और अपने नन्हे से बच्चे की जान बचायी।

शत्रु कितना भी बलवान या चतुर क्यों ना हो यदि हम उसका सामना निडर हो कर करते हैं तो निश्चय ही जीत हमारी होगी ।यदि सांप को देख कर तोता और तोती हिम्मत हार जाते और सोचते की वो उनसे ज्यादा ताकतवर है तो क्या वो अपने बच्चे की जान बचा पाते ? नहीं ना। इसलिये तुम भी ध्यान रखना कभी भी हिम्मत
मत हारना।

एकता में ही ताकत है ये भी जान लो।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on December 22, 2007, 01:49:28 AM
जय सांई राम।।।

वट वृक्ष के नीचे एक दार्शनिक अपने एक शिष्य के साथ बैठा था। शिष्य ने कहा, 'यह वृक्ष कितना पक्षपाती है। देखिए, नीचे की टहनियां मोटी हैं और ऊपर की पतली। इसका अर्थ यह है कि वृक्ष पोषक तत्वों का वितरण समान रूप से नहीं करता।' दार्शनिक ने जवाब दिया, 'वत्स, तुम्हारा विचार सही नहीं है। यह सत्य है कि जड़ें पोषक तत्वों को एकत्रित करती हैं और अन्य जितनी भी शाखाएं हैं वे उनसे पोषक तत्व ग्रहण करती हैं। जो मोटी शाखाएं हैं वे पोषक तत्व अधिक मात्रा में ग्रहण करती हैं पर वे शाखाएं अधिक ऊंचा स्थान प्राप्त नहीं कर पातीं। ऊंचा स्थान उन्हीं को प्राप्त होता है जो कम से कम में संतुष्ट होना जानता है।'  पेड़ के बहाने शिष्य को जीवन के एक महत्वपूर्ण रहस्य का ज्ञान मिल गया।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on December 23, 2007, 05:49:36 AM
जय सांई राम।।।

कुँए का पानी
 
एक बार एक आदमी ने अपना कुँआ एक किसान को बेच दिया. अगले दिन जब किसान ने कुँए से पानी खिंचना शुरू किया तो उस व्यक्ति ने किसान से पानी लेने के लिये मना किया. वह बोला, “मैने तुम्हें केवल कुँआ बेचा है ना कि कुँए का पानी”.

किसान बहुत दुखी हुआ और उसने अकबर के दरबार में गुहार लगाई. उसने दरबार में सबकुछ बताया और अकबर से इंसाफ माँगा.

अकबर ने यह समस्या बीरबल को हल करने के लिये दी. बीरबल ने उस व्यक्ति को बुलाया जिसने कुँआ किसान को बेचा था. बीरबल ने पूछा, “तुम किसान को कुँए से पानी क्यों नहीं लेने देते? आखिर तुमने कुँआ किसान को बेचा है.” उस व्यक्ति ने जवाब दिया, “बीरबल, मैंने किसान को कुँआ बेचा है ना कि कुँए का पानी. किसान का पानी पर कोई अधिकार नहीं है”.

बीरबल मुस्कुराया और बोला,”बहुत खूब, लेकिन देखो, क्योंकि तुमने कुँआ किसान को बेच दिया है, और तुम कहते हो कि पानी तुम्हारा है, तो तुम्हे अपना पानी किसान के कुँए में रखने का कोई अधिकार नहीं है. अब या तो अपना पानी किसान के कुँए से निकाल लो या फिर किसान को किराय दो.”

वह आदमी समझ गया, कि बीरबल के सामने उसकी दाल नहीं गलने वाली और वह माफी माँग कर खिसक लिया.

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on December 25, 2007, 01:35:58 AM
जय सांई राम।।।

आत्मा की ज्योति
 
एक दिन राजा जनक ने महर्षि याज्ञवल्क्य से पूछा, ‘महात्मन्! बताइए कि एक व्यक्ति किस ज्योति से देखता है और काम लेता है?’ याज्ञवल्क्य ने कहा, ‘यह तो बिल्कुल बच्चों जैसी बात पूछी आपने महाराज। यह तो हर व्यक्ति जानता है कि मनुष्य सूर्य के प्रकाश में देखता है और उससे अपना काम चलता है।’ इस पर जनक बोले, ‘और जब सूर्य न हो तब?’

याज्ञवल्क्य बोले, ‘तब वह चंद्रमा की ज्योति से काम चलाता है।’ तभी जनक ने टोका, ‘और जब चन्द्रमा भी न हो तब।’ याज्ञवल्क्य ने जवाब दिया, ‘तब वह अग्नि के प्रकाश में देखता है।’ जनक ने फिर कहा, ‘और जब अग्नि भी न हो तब।’ याज्ञवल्क्य ने मुस्कराते हुए कहा, ‘तब वह वाणी के प्रकाश में देखता है।’ जनक ने गंभीरतापूर्वक उसी तरह पूछा, ‘महात्मन् यदि वाणी भी धोखा दे जाए तब।’ याज्ञवल्क्य ने उत्तर दिया, ‘राजन् तब मनुष्य का मार्ग प्रशस्त करने वाली एक ही वस्तु है-आत्मा। सूर्य, चंद्रमा, अग्नि और वाणी चाहे अपनी आग खो दें पर आत्मा तब भी व्यक्ति के मार्ग को प्रशस्त करती है।’ इस बार जनक संतुष्ट हो गए।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on December 26, 2007, 04:36:08 AM
JAI SAI RAM!!!

This is the story of Robby. He was a young boy who lived with his elderly mother. His mother wanted him to learn how to play the piano because she longed to hear her son play for her. She sent her son to a piano teacher who took Robby in under her guidance. However, there was one small problem because Robby was not musically inclined and therefore was very slow in learning. The teacher did not have much faith in the boy because of his weakness. The mother was very enthusiastic and every week she would send Robby to the teacher.

One day Robby stopped attending the piano lessons. The teacher thought that he had given up and in fact she was quite pleased since she did not give  much hope to Robby. Not long after, the piano teacher was given the task to organize a piano concert in town. She sent out circulars to invite the students and public to attend the event. Suddenly, she received a call from Robby who offered to take part in the concert. The teacher told Robby that he was not good enough and that he was no longer a student since he had stopped coming for lessons. Robby begged her to give him a chance and promised that he would not let her down.

Finally, she gave in and she put him to play last, hoping that he will change his mind at the last minute. When the big day came, the hall was packed and the children gave their best performance. Finally, it was Robby's turn to play and as his name was announced, he walked in. He was not in proper attire and his hair was not properly groomed. The teacher was really nervous since Robby's performance could spoil the whole evening's brilliant performance. As Robby started playing the crowd became silent and was amazed
at the skill of this little boy. In fact, he gave the best performance of the evening. At the end of his presentation the crowd and the piano teacher gave him a standing ovation. The crowd asked Robby how he managed to play so brilliantly. With a microphone in front of him, he said, "I was not able to
attend the weekly piano lessons as there was no one to send me because my mother was sick with cancer. She just passed away this morning and I wanted her to hear me play. You see, this is the first time she is able to hear me play because when she was alive she was deaf and now I know she is listening
to me. I have to play my best for her!"

This is indeed a touching story of love and excellence. When you have a passion and a reason to do Something, you will surely excel. You may not be talented or gifted but if you have a strong enough reason to do something, you will be able to tap into your inner God given potential.

OM SAI RAM!!!
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on January 07, 2008, 03:03:36 AM
ॐ सांई राम~~~

कछुए की बहिन~~KUCHHAWE KI BAHIN~~~

कछुआ तालाब से निकला और धीरे–धीरे सरक कर खेत की मेंड़ पर आकर बैठ गया । उसे तालाब से बाहर का संसार बहुत ही प्यारा लगा । स्कृल से लौटते खिलखिलाते बच्चों को देखकर उसका मन मचल उठा । उसने सोचा– मैं भी बच्चों की तरह खिलखिलाता । कन्धे पर बस्ता लटकाकर स्कूल जाता । उसने अपना सिर निकाल कर बच्चों की तरफ देखा । दो शैतान बच्चों ने उसको देख लिया । फिर क्या था –दोनों उसे बारी–बारी से ढेले मारने लगे । कछुए ने अपने हाथ , पैर, सिर सब एकदम समेट लिये । खोंपड़ी पर लगातार ढेलों की मार से उसे लगा कि वह मर जाएगा । लड़कों के साथ एक छोटी लड़की भी थी । वह चिल्लाई–‘‘ क्यों मार रहे हो ? इसने तुम्हारा कया बिगाड़ा है ?’’ ‘‘ तुम्हें बहुत दु:ख हो रहा है । यह तुम्हारा भाई है क्या ?’’ एक शैतान लड़के ने कहा । ‘‘ इसे राखी बॉंध देना ’’ – दूसरा लड़का कछुए को ढेला मारकर बोला । लड़की की आँखों में आँसू आ गए –‘‘ यह मेरा भाई हो या न हो , पर यह दुश्मन भी नही है ।’’ ‘‘अरे, ओ कछुए की बहिन ! अपने घर चली जा ’’ –दूसरा बोला । सभी–बच्चे ‘कछुए की बहिन , कछुए की बहिन ! कछुए की बहिन!’ कहकर जोर–जोर से हॅंसने लगे । उन दोनों शैतान लड़कों ने कछुए को उल्टा करके ढेलों की बीच में रख दिया । लड़की चुपचाप अपने घर चली गई । घर पहुँचने पर उसका मन बहुत उदास हो गया । वह सोचने लगी– बेचारा कछुआ ! कब तक उल्टा पड़ा रहेगा ? उसे लगा – जैसे वह सचमुच उसका भाई ही हो । वह चुपचाप घर से निकली और तालाब के किनारे जा पहुँची । कछुआ उल्टा पड़ा हुआ था । वह सीधा होने के लिए छटपटा रहा था । लड़की ने चारों तरफ देखा । आसपास कोई नहीं था । वह उसे उठाकर तालाब की तरफ दौड़ी । उसने कछुए को तालाब के पानी में छोड़ दिया । कछुए ने अपनी लम्बी गर्दन निकाली । चमकती छोटी–छोटी आँखों से लड़की की तरफ प्यार से देखा और फिर गहरे पानी में उतर गया । लड़की खुश होकर घर की तरफ दौड़ी । अब उसे कोई ‘ कछुए की बहिन’ कहे तो वह नहीं चिढ़ेगी । कछुए ने भी फिर कभी तालाब से निकल कर घूमने की हिम्मत नहीं की ।

जय सांई राम~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on January 10, 2008, 08:53:10 AM
जय सांई राम़।।।

एक बार नारदजी एक पर्वत से गुजर रहे थे। अचानक उन्होंने देखा कि एक विशाल वटवृक्ष के नीचे एक तपस्वी तप कर रहा है। उनके दिव्य प्रभाव से वह जाग गया और उसने उन्हें प्रणाम करके पूछा कि उसे प्रभु के दर्शन कब होंगे। नारदजी ने पहले तो कुछ कहने से इनकार किया, फिर बार-बार आग्रह करने पर बताया कि इस वटवृक्ष पर जितनी छोटी-बड़ी टहनियां हैं उतने ही वर्ष उसे और लगेंगे। नारदजी की बात सुनकर तपस्वी बेहद निराश हुआ। उसने सोचा कि इतने वर्ष उसने घर-गृहस्थी में रहकर भक्ति की होती और पुण्य कमाए होते तो उसे ज्यादा फल मिलते। वह बोला, ‘मैं बेकार ही तप करने आ गया।’ नारदजी उसे हैरान-परेशान देखकर वहां से चले गए।

आगे जाकर संयोग से वह एक ऐसे जंगल में पहुंचे, जहां एक और तपस्वी तप कर रहा था। वह एक प्राचीन और अनंत पत्तों से भरे हुए पीपल के वृक्ष के नीचे बैठा हुआ था। नारदजी को देखते ही वह उठ खड़ा हुआ और उसने भी प्रभु दर्शन में लगने वाले समय के बारे में पूछा। नारदजी ने उसे भी टालना चाहा, मगर उसने बार-बार अनुरोध किया। इस पर नारदजी ने कहा कि इस वृक्ष पर जितने पत्ते हैं उतने ही वर्ष अभी और लगेंगे। हाथ जोड़कर खड़े उस तपस्वी ने जैसे ही यह सुना, वह खुशी से झूम उठा और बार-बार यह कहकर नृत्य करने लगा कि प्रभु उसे दर्शन देंगे। उसके रोम-रोम से हर्ष की तरंगें उठ रही थीं।

नारदजी मन ही मन सोच रहे थे कि इन दोनों तपस्वियों में कितना अंतर है। एक को अपने तप पर ही संदेह है। वह मोह से अभी तक उबर नहीं सका और दूसरे को ईश्वर पर इतना विश्वास है कि वह वर्षों प्रतीक्षा के लिए तैयार है। तभी वहां अचानक अलौकिक प्रकाश फैल गया और प्रभु प्रकट होकर बोले, ‘वत्स! नारद ने जो कुछ बताया वह सही था पर तुम्हारी श्रद्धा और विश्वास में इतनी गहराई है कि मुझे अभी और यहीं प्रकट होना पड़ा।’
 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।। 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on January 17, 2008, 01:52:38 AM
जय सांई राम़।।।

विचारों की पवित्रता  

एक राजा और नगर सेठ में गहरी मित्रता थी। वे रोज एक दूसरे से मिले बिना नहीं रह पाते थे। नगर सेठ चंदन की लकड़ी का व्यापार करता था। एक दिन उसके मुनीम ने बताया कि लकड़ी की बिक्री कम हो गई है। तत्काल सेठ के मन में यह विचार कौंधा कि अगर राजा की मृत्यु हो जाए, तो मंत्रिगण चंदन की लकडि़यां उसी से खरीदेंगे। उसे कुछ तो मुनाफा होगा। शाम को सेठ हमेशा की तरह राजा से मिलने गया। उसे देख राजा ने सोचा कि इस नगर सेठ ने उससे दोस्ती करके न जाने कितनी दौलत जमा कर ली है, ऐसा कोई नियम बनाना होगा जिससे इसका सारा धन राज खजाने में जमा हो जाए।

दोनों इसी तरह मिलते रहे, लेकिन पहले वाली गर्मजोशी नहीं रही। एक दिन नगर सेठ ने पूछ ही लिया, ‘पिछले कुछ दिनों से हमारे रिश्तों में एक ठंडापन आ गया है। ऐसा क्यों?’ राजा ने कहा, ‘मुझे भी ऐसा लग रहा है। चलो, नगर के बाहर जो महात्मा रहते हैं, उनसे इसका हल पूछा जाए।’ उन्होंने महात्मा को सब कुछ बताया। महात्मा ने कहा, ‘सीधी सी बात है। आप दोनों पहले शुद्ध भाव से मिलते रहे होंगे, पर अब संभवत: एक दूसरे के प्रति आप लोगों के मन में कुछ बुरे विचार आ गए हैं इसलिए मित्रता में पहले जैसा सुख नहीं रह गया।’

नगर सेठ और राजा ने अपने-अपने मन की बातें कह सुनाईं। महात्मा ने सेठ से कहा,’ तुमने ऐसा क्यों नहीं सोचा कि राजा के मन में चंदन की लकड़ी का आलीशान महल बनवाने की बात आ जाए? इससे तुम्हारा चंदन भी बिक जाता। विचार की पवित्रता से ही संबंधों में मिठास आती है। तुमने राजा के लिए गलत सोचा इसलिए राजा के मन में भी तुम्हारे लिए अनुचित विचार आया। गलत सोच ने दोनों के बीच दूरी बढ़ा दी। अब तुम दोनों प्रायश्चित करके अपना मन शुद्ध कर लो, तो पहले जैसा सुख फिर से मिलने लगेगा।’
 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।। 
Title: Good Luck Bad Luck!!!
Post by: fatima on January 23, 2008, 01:28:20 AM
There is a Chinese story of a farmer who used an old horse to till his fields. One day, the horse escaped into the hills and when the farmer's neighbors sympathized with the old man over his bad luck, the farmer replied, "Bad luck? Good luck? Who knows?" A week later, the horse returned with a herd of horses from the hills and this time the neighbors congratulated the farmer on his good luck. His reply was, "Good luck? Bad luck? Who knows?"

Then, when the farmer's son was attempting to tame one of the wild horses, he fell off its back and broke his leg. Everyone thought this very bad luck. Not the farmer, whose only reaction was, "Bad luck? Good luck? Who knows?"

Some weeks later, the army marched into the village and conscripted every able-bodied youth they found there. When they saw the farmer's son with his broken leg, they let him off. Now was that good luck or bad luck?

Who knows?

Everything that seems on the surface to be an evil may be a good in disguise. And everything that seems good on the surface may really be an evil. So we are wise when we leave it to God to decide what is good fortune and what misfortune, and thank him that all things turn out for good with those who love him.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on January 25, 2008, 04:52:42 AM
जय सांई राम।।।

चरवाहे की सीख  

पुराने जमाने की बात है। एक राजा था। वह यूं तो जनता की भलाई में लगा रहता था पर उसकी सबसे बड़ी कमी यह थी कि वह बहुत जल्दी किसी की बातों पर भरोसा कर लेता था, चाहे वह अच्छी बात हो या बुरी। एक बार एक व्यक्ति ने उसके सामने एक चरवाहे की खूब प्रशंसा की। बस फिर क्या था, राजा ने तत्काल चरवाहे को राज्य का खजांची बनाने की घोषणा कर दी। चरवाहे ने काम तो संभाल लिया पर उसे पता चल गया कि राजा कान का कच्चा है इसलिए वह बेहद सावधान रहता था। उसे इस बात का अंदेशा रहता था कि कभी भी उसे काम से हटाया जा सकता है। वह हमेशा अपना सामान तैयार रखता था। उसने अपने रहने के लिए एक कोठरी पर्याप्त समझी। वह उसी में रहता और दिन भर ताला बंद रखता।

चुगलखोरों ने राजा के कान भरे कि इसने बहुत दौलत बटोर ली है और अपनी सारी संपत्ति कोठरी में जमा कर रखी है। राजा ने इस बात की जांच कराए बगैर इसे सच मान लिया और चरवाहे को खजांची के पद से हटा दिया गया। फिर उसने सैनिकों से कहा कि वे उसके कमरे की तलाशी लें। तलाशी ली गई। कोठरी में केवल उसके वे कपड़े और जूते मिले, जिन्हें वह घर से लेकर आया था। सिपाहियों ने पूछा कि आखिर उसने ये चीजें क्यों जमा कर रखी हुई हैं? चरवाहे ने कहा, 'मैं जानता था कि महाराज कान के कच्चे हैं। ऐसे स्वभाव वाले व्यक्ति के घर किसी का ज्यादा दिनों तक टिकना संभव नहीं, सो मैं जिस हैसियत में आया, उसी में घर लौट जाने के लिए हमेशा तैयार रहा।'

यह बात राजा तक पहुंचाई गई। राजा को अपनी भूल का अहसास हुआ। उसने चरवाहे को बुला लाने का आदेश दिया लेकिन तब तक चरवाहा जा चुका था। उसने जाते-जाते राजा को एक बड़ी सीख दी थी। राजा ने तय किया कि वह किसी बात को जांच-परख कर ही उस पर विश्वास करेगा। 

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on February 02, 2008, 08:47:07 AM
जय सांई राम़।।।

न देने वाला मन

एक भिखारी सुबह-सुबह भीख मांगने निकला। चलते समय उसने अपनी झोली में जौ के मुट्ठी भर दाने डाल लिए। टोटके या अंधविश्वास के कारण भिक्षाटन के लिए निकलते समय भिखारी अपनी झोली खाली नहीं रखते। थैली देख कर दूसरों को लगता है कि इसे पहले से किसी ने दे रखा है। पूर्णिमा का दिन था, भिखारी सोच रहा था कि आज ईश्वर की कृपा होगी तो मेरी यह झोली शाम से पहले ही भर जाएगी।

अचानक सामने से राजपथ पर उसी देश के राजा की सवारी आती दिखाई दी। भिखारी खुश हो गया। उसने सोचा, राजा के दर्शन और उनसे मिलने वाले दान से सारे दरिद्र दूर हो जाएंगे, जीवन संवर जाएगा। जैसे-जैसे राजा की सवारी निकट आती गई, भिखारी की कल्पना और उत्तेजना भी बढ़ती गई। जैसे ही राजा का रथ भिखारी के निकट आया, राजा ने अपना रथ रुकवाया, उतर कर उसके निकट पहुंचे। भिखारी की तो मानो सांसें ही रुकने लगीं। लेकिन राजा ने उसे कुछ देने के बदले उलटे अपनी बहुमूल्य चादर उसके सामने फैला दी और भीख की याचना करने लगे। भिखारी को समझ नहीं आ रहा था कि क्या करे। अभी वह सोच ही रहा था कि राजा ने पुन: याचना की। भिखारी ने अपनी झोली में हाथ डाला, मगर हमेशा दूसरों से लेने वाला मन देने को राजी नहीं हो रहा था। जैसे-तैसे कर उसने दो दाने जौ के निकाले और उन्हें राजा की चादर पर डाल दिया। उस दिन भिखारी को रोज से अधिक भीख मिली, मगर वे दो दाने देने का मलाल उसे सारे दिन रहा। शाम को जब उसने झोली पलटी तो उसके आश्चर्य की सीमा न रही। जो जौ वह ले गया था, उसके दो दाने सोने के हो गए थे। उसे समझ में आया कि यह दान की ही महिमा के कारण हुआ है। वह पछताया कि काश! उस समय राजा को और अधिक जौ दी होती, लेकिन नहीं दे सका, क्योंकि देने की आदत जो नहीं थी।
 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।। 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on February 08, 2008, 08:40:51 AM
जय सांई राम़।।।

मन की आवाज  

एक बुढ़िया बड़ी सी गठरी लिए चली जा रही थी। चलते-चलते वह थक गई थी। तभी उसने देखा कि एक घुड़सवार चला आ रहा है। उसे देख बुढ़िया ने आवाज दी, ‘अरे बेटा, एक बात तो सुन।’ घुड़सवार रुक गया। उसने पूछा, ‘क्या बात है माई?’ बुढ़िया ने कहा, ‘बेटा, मुझे उस सामने वाले गांव में जाना है। बहुत थक गई हूं। यह गठरी उठाई नहीं जाती। तू भी शायद उधर ही जा रहा है। यह गठरी घोड़े पर रख ले। मुझे चलने में आसानी हो जाएगी।’ उस व्यक्ति ने कहा, ‘माई तू पैदल है। मैं घोड़े पर हूं। गांव अभी बहुत दूर है। पता नहीं तू कब तक वहां पहुंचेगी। मैं तो थोड़ी ही देर में पहुंच जाऊंगा। वहां पहुंचकर क्या तेरी प्रतीक्षा करता रहूंगा?’ यह कहकर वह चल पड़ा। कुछ ही दूर जाने के बाद उसने अपने आप से कहा, ‘तू भी कितना मूर्ख है। वह वृद्धा है, ठीक से चल भी नहीं सकती। क्या पता उसे ठीक से दिखाई भी देता हो या नहीं। तुझे गठरी दे रही थी। संभव है उस गठरी में कोई कीमती सामान हो। तू उसे लेकर भाग जाता तो कौन पूछता। चल वापस, गठरी ले ले। ‘

वह घूमकर वापस आ गया और बुढ़िया से बोला, ‘माई, ला अपनी गठरी। मैं ले चलता हूं। गांव में रुककर तेरी राह देखूंगा।’ बुढ़िया ने कहा, ‘न बेटा, अब तू जा, मुझे गठरी नहीं देनी।’ घुड़सवार ने कहा, ‘अभी तो तू कह रही थी कि ले चल। अब ले चलने को तैयार हुआ तो गठरी दे नहीं रही। ऐसा क्यों? यह उलटी बात तुझे किसने समझाई है?’

बुढ़िया मुस्कराकर बोली, ‘उसी ने समझाई है जिसने तुझे यह समझाया कि माई की गठरी ले ले। जो तेरे भीतर बैठा है वही मेरे भीतर भी बैठा है। तुझे उसने कहा कि गठरी ले और भाग जा। मुझे उसने समझाया कि गठरी न दे, नहीं तो वह भाग जाएगा। तूने भी अपने मन की आवाज सुनी और मैंने भी सुनी।’

 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।। 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on February 17, 2008, 10:36:51 PM
जय सांई राम़।।।

विचारों की पवित्रता  

एक बूढ़ा बगीचे में काम कर रहा था। तभी उधर से गुजरता हुआ एक नौजवान वहां आया। उसने बूढ़े से पूछा, 'आप क्या कर रहे हैं?' बूढ़े ने जवाब दिया, 'आम लगा रहा हूं।' इस पर नौजवान को हंसी आ गई। उसने कहा, 'ये पेड़ आपके किस काम आएंगे? कौन खाएगा इनके फल। आप फालतू मेहनत कर रहे हैं।' इस पर बूढ़े ने कहा, 'बेटे! यही बात मेरे बड़े-बूढ़े सोचते तो भला मैं आज कैसे आम खाता? यह बगीचा जो इतने फलों से लदा है, हमारे पूर्वजों के श्रम की कहानी कहता है।' यह सुनकर नौजवान का सिर शर्म से झुक गया। उसने बूढ़े से क्षमा मांगी और उसके काम में हाथ बंटाने लगा।...
 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।। 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on February 17, 2008, 11:01:42 PM
ॐ सांई राम~~~

सच-झूठ का अंतर~~~
 
एक बार भरा हुआ था अकबर का दरबार, बीरबल भी थे अन्य दरबारियों के साथ। अकबर ने पूछा एक सवाल, जिससे दरबारियों का हो गया बुरा हाल। अकबर ने पूछा-'सच और झूठ में होता है कितना अंतर, दो तीन या चार शब्दों में बताओ उत्तर।

सवाल सुनकर सभी दरबारियों की हो गई बोलती बंद, यूँ तो सभी बनते थे बड़े अक्लमंद। अकबर ने देखा फिर बीरबल की ओर, बीरबल प्रश्न के बारे में ही कर रहे थे गौर। अकबर ने कहा-'बीरबल तुम बताओ, मेरे प्रश्न का जवाब सुझाओ।'

बीरबल ने कहा-'महाराज! आपके प्रश्न का है उत्तर, सच और झूठ में होता है चार उँगलियों का अंतर।'     

अकबर और दरबारियों को बात समझ में नहीं आई, अकबर ने कहा-'बीरबल जरा खुलकर समझाओगे कि नहीं।' बीरबल ने दिया उत्तर,-'श्रीमान आँखें कान से चार उँगलियाँ तो होती हैं दूर। कान से सुनी बात होती है झूठ और आँखों देखी बात होती है सच।'

अकबर बीरबल की बात सुनकर हो गए बाग-बाग, उन्होंने खुलकर दी बीरबल की अक्ल की दाद। 

जय सांई राम~~~
 
 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: fatima on February 23, 2008, 02:47:01 AM
Life is like baking a cake!


A little boy is telling his Grandma how "everything" is going wrong. School, family problems, health problems, problems with friends, etc.

Meanwhile, Grandma is baking a cake. She asks her grandson if he would like a snack, which, of course, he does.

"Here, have some cooking oil." *"Yuck" says the boy.
"How about a couple raw eggs? " "Gross, Grandma!"
"Would you like some flour then? Or maybe baking soda?"

"Grandma, those are all yucky!"

To which Grandma replies: "Yes, all those things seem bad all by themselves. But when they are put together in the right way, they make a wonderfully delicious cake!

God works the same way. Many times we wonder why he would let us go through such bad and difficult times.

But Allah(God) knows that when He puts these things all in His order, they always work for good! We just have to trust Him and, eventually, they will all make something wonderful!"  
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on February 26, 2008, 02:00:40 AM
जय सांई राम़।।।

राजा कृष्णदेव राय के राज्य में एक कंजूस सेठ रहता था। उसके पास धन की कोई कमी न थी, पर एक पैसा भी जेब से निकालते समय उसकी नानी मर जाती थी। एक बार उसके कुछ मित्रों ने हँसी-हँसी में एक कलाकार से अपना चित्र बनवाने के लिए उसे राजी कर लिया, उसके सामने वह मान तो गया, पर जब चित्रकार उसका चित्र बनाकर लाया, तो सेठ की हिम्मत न पड़ी कि चित्र के मूल्य के रूप में चित्रकार को सौ स्वर्णमुद्राएँ दे दे।

यों वह सेठ भी एक तरह का कलाकार ही था। चित्रकार को आया देखकर सेठ अंदर गया और कुछ ही क्षणों में अपना चेहरा बदलकर बाहर आया। उसने चित्रकार से कहा, ‘तुम्हारा चित्र जरा भी ठीक नहीं बन पड़ा। तुम्हीं बताओ, क्या यह चेहरा मेरे चेहरे से जरा भी मिलता है?’ चित्रकार ने देखा, सचमुच चित्र सेठ के चेहरे से जरा भी नहीं मिलता था।

तभी सेठ बोला, ‘जब तुम ऐसा चित्र बनाकर लाओगे, जो ठीक मेरी शक्ल से मिलेगा, तभी मैं उसे खरीदूँगा।’ दूसरे दिन चित्रकार एक और चित्र बनाकर लाया, जो हूबहू सेठ के उस चेहरे से मिलता था, जो सेठ ने पहले दिन बना रखा था। इस बार फिर सेठ ने अपना चेहरा बदल लिया और चित्रकार के चित्र में कमी निकालने लगा। चित्रकार बड़ा लज्जित हुआ। उसकी समझ में नहीं आ रहा था कि इस तरह की गलती उसके चित्र में क्यों होती है?

अगले दिन वह फिर एक नया चित्र बनाकर ले गया, पर उसके साथ फिर वही हुआ। अब तक उसकी समझ में सेठ की चाल आ चुकी थी। वह जानता था कि यह मक्खीचूस सेठ असल में पैसे नहीं देना चाहता, पर चित्रकार अपनी कई दिनों की मेहनत भी बेकार नहीं जाने देना चाहता था। बहुत सोच-विचारकर चित्रकार तेनालीराम के पास पहुँचा और अपनी समस्या उनसे कह सुनाई। कुछ समय सोचने के बाद तेनालीराम ने कहा-‘कल तुम उसके पास एक शीशा लेकर जाओ और कहो कि आपकी बिलकुल असली तस्वीर लेकर आया हूँ। अच्छी तरह मिलाकर देख लीजिए। कहीं कोई अंतर आपको नहीं मिलेगा। बस, फिर अपना काम हुआ ही समझो।’ अगले दिन चित्रकार ने ऐसा ही किया।

वह शीशा लेकर सेठ के यहाँ पहुँचा और उसके सामने रख दिया। ‘लीजिए, सेठ जी, आपका बिलकुल सही चित्र। गलती की इसमें जरा भी गुंजाइश नहीं है।’ चित्रकार ने अपनी मुस्कराहट पर काबू पाते हुए कहा। ‘लेकिन यह तो शीशा है।’सेठ ने झुँझलाते हुए कहा। ‘आपकी असली सूरत शीशे के अलावा बना भी कौन सकता है? जल्दी से मेरे चित्रों का मूल्य एक हजार स्वर्णमुद्राएँ निकालिए।’ चित्रकार बोला। सेठ समझ गया कि यह सब तेनालीराम की सूझबूझ का परिणाम है। उसने तुरंत एक हजार स्वर्णमुद्राएँ चित्रकार को दे दीं। तेनालीराम ने जब यह घटना महाराज कृष्णदेव राय को बताई तो वह खूब हँसे।
 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।। 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: fatima on February 26, 2008, 02:20:48 AM
Is there a God?

Once upon a time there was a king and he was a wise man too. In his kingdom used to live many other wise men. Now some of these would not agree to believe that God did exist, while others not only agreed but argued to the satisfaction of the King that there was 'God'. The King, being a wise man, arranged for a discussion.

The date and time for discussion was fixed. The king held his court at the appointed time on the appointed date. The non-believers assembled in his presence but the believing wise man did not come at the appointed time

The people waited and waited till they lost their patience and uttered the words: "He has no arguments to advance in support of his conviction, so he will not come. He has lost, we have won."

At last, the wise man arrived and there was an uproar in the court of the king. The people cried: "Why are you late? You have lost".

The king asked him to explain the cause of his delay. The believing wise man explained, saying: "I started from my home in time, but when I came by the side of the river which I had to cross before reaching here, I did not find a single boat, by which I could cross and reach the opposite bank".

Upto this point the disbelieving men heard him patiently and did not say a single word. The believing man then continued:


"I waited and waited till at last I saw some planks of wood coming out of the river".

And the unbelieving men began to shout "O, It is a lie. It is unbelievable. It is unthinkable".

Continued the believing wise man: "Plank by plank came out of the river and then I saw the planks were cut to proper size and shape and joined to each other with nails by themselves until they formed a boat. And then I took my seat in it and came over to the other bank. I am late because of the delay in the availability of the boat".

Amid a roar of the non-believing men, the believing wise man tried to convince them of the cause of the delay; but the opponents would not believe him. Then he said:

"You do not believe what I say. It appears the story of the boat forming by itself is something impossible for you to believe. Now in the name of justice, I ask you. Do you see the earth, the sun, the moon, the stars and the skies? Every thing is set according to a plan. But you say it came into existence without a Creator. In other words you deny the existence of God. How far is your statement reasonable and justified?

This silenced them all and there was no answer to this. So the non-believers lost and the believer won.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: fatima on February 27, 2008, 04:00:06 AM

All the time in the world!!!


While at the park one day, a woman sat down next to a man on a bench near a playground. "That's my son over there," she said, pointing to a little boy in a red sweater who was gliding down the slide.

"He's a fine looking boy," the man said. "That's my son on the swing in the blue sweater." Then, looking at his watch, he called to his son. "What do you say we go, Todd?"

Todd pleaded, "Just five more minutes, Dad. Please? Just five more minutes." The man nodded and Todd continued to swing to his heart's content.

Minutes passed and the father stood and called again to his son. "Time to go now?"

Again Todd pleaded, "Five more minutes, Dad. Just five more minutes." The man smiled and said, "Okay."

"My, you certainly are a patient father," the woman responded.

The man smiled and then said, "My older son Tommy was killed by a drunk driver last year while he was riding his bike near here. I never spent much time with Tommy and now I'd give anything for just five more minutes with him. I've vowed not to make the same mistake with Todd.

"He thinks he has five more minutes to swing. The truth is ...

I get five more minutes to watch him play." 
 


 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: fatima on February 29, 2008, 04:08:09 AM
The Tale of the Sands

A stream, from its source in far-off mountains, passing through every kind and description of countryside, at last reached the sands of the desert. Just as it had crossed every other barrier, the stream tried to cross this one, but it found that as fast as it ran into the sand, its waters disappeared.

It was convinced, however, that its destiny was to cross this desert, and yet there was no way. Now a hidden voice, coming from the desert itself, whispered: "The Wind crosses the desert, and so can the stream."

The stream objected that it was dashing itself against the sand, and only getting absorbed: that the wind could fly, and this was why it could cross a desert.

"By hurtling in your own accustomed way you cannot get across. You will either disappear or become a marsh. You must allow the wind to carry you over, to your destination."

"But how could this happen?"

"By allowing yourself to be absorbed in the wind."

This idea was not acceptable to the stream. After all, it had never been absorbed before. It did not want to lose its individuality. And, once having lost it, how was one to know that it could ever be regained?

"The wind," said the sand, "performs this function. It takes up water, carries it over the desert, and then lets it fall again. Falling as rain, the water again becomes a river."

"How can I know that this is true?"

"It is so, and if you do not believe it, you cannot become more than a quagmire, and even that could take many, many years; and it certainly is not the same as a stream."

"But can I not remain the same stream that I am today?"

"You cannot in either case remain so," the whisper said. "Your essential part is carried away and forms a stream again. You are called what you are even today because you do not know which part of you is the essential one."  
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on February 29, 2008, 09:04:49 AM
जय सांई राम़।।।

एक राजा ने किसी सामान्यत: स्वस्थ और संतुलित व्यक्ति को कैद कर लिया था- एकाकीपन का मनुष्य पर क्या प्रभाव होता है, इस अध्ययन के लिए। वह व्यक्ति कुछ समय तक चीखता रहा चिल्लाता रहा। बाहर जाने के लिए रोता था, सिर पटकता था- उसकी सारी सत्ता जो बाहर थी। सारा जीवन तो 'पर' से अन्य बंधा था। अपने में तो वह कुछ भी नहीं था। अकेला होना न होने के ही बराबर था।
वह धीरे-धीरे टूटने लगा। उसके भीतर कुछ विलीन होने लगा, चुप्पी आ गई। रुदन भी चला गया। आंसू भी सूख गये और आंखें ऐसे देखने लगीं, जैसे पत्थर हों। वह देखता हुआ भी लगता जैसे नहीं देख रहा है।

दिन बीते, वर्ष बीत गया। उसकी सुख सुविधा की सब व्यवस्था थी। जो उसे बाहर उपलब्ध नहीं था, वह सब कैद में उपलब्ध था। शाही आतिथ्य जो था! लेकिन वर्ष पूरे होने पर विशेषज्ञों ने कहा, 'वह पागल हो गया है।'

ऊपर से वह वैसा ही था। शायद ज्यादा ही स्वस्थ था, लेकिन भीतर?

भीतर एक अर्थ में वह मर ही गया था।

मैं पूछता हूं : क्या एकाकीपन किसी को पागल कर सकता है? एकाकीपन कैसे पागल करेगा? वस्तुत: पागलपन तो पूर्व से ही है। बाह्य संबंध उसे छिपाये थे। एकाकीपन उसे अनावृत कर देते हैं।

मनुष्य को भीड़ में खोने की अकुलाहट उससे बचने के लिए ही है।

प्रत्येक व्यक्ति इसलिए ही स्वयं से पलायन किये हुए है। पर यह पलायन स्वस्थ नहीं कहा जा सकता है। तथ्य को न देखना, उससे मुक्त होना नहीं है। जो नितांत एकाकीपन में स्वस्थ और संतुलित नहीं है, वह धोखे में है। यह आत्मवंचन कभी न कभी खंडित होगी ही और वह जो भीतर है, उसे उसकी परिपूर्ण नग्नता में जानना होगा। यह अपने आप अनायास हो जाए, तो व्यक्तित्व छिन्न-भिन्न और विक्षिप्त हो जाता है। जो दमित है, वह कभी न कभी विस्फोट को भी उपलब्ध होगा।

धर्म इस एकाकीपन में स्वयं उतरने का विज्ञान है। क्रमश: एक-एक परत उघाड़ने पर अद्भुत सत्य का साक्षात होता है। धीरे-धीरे ज्ञात होता है कि वस्तुत: हम अकेले ही हैं। गहराई में, आंतरिकता के केंद्र पर प्रत्येक एकाकी है। परिचित होते ही भय की जगह अभय और आनंद ले लेता है। एकाकीपन के घेरे में स्वयं सच्चिदानंद विराजमान है।

अपने में उतरकर स्वयं प्रभु को पा लिया जाता है। इसलिये कहता हूं - अकेलेपन से, अपने से भागो मत, वरन अपने में डूबो। सागर में डूब कर ही मोती पाये जाते हैं।
 
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।। 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on February 29, 2008, 01:06:41 PM
ॐ सांई राम~~~

सुनो सबकी करो मन की ~~~


एक मर्तबा बहुत से मेंढक जंगल से जा रहे थे। वे सभी आपसी बातचीत में कुछ ज्यादा ही व्यस्त थे। तभी उनमें से दो मेंढक एक जगह एक गड्ढे में गिर पड़े। बाकी मेंढकों ने देखा कि उनके दो साथी बहुत गहरे गड्ढे में गिर गए हैं।

गड्ढा गहरा था और इसलिए बाकी साथियों को लगा कि अब उन दोनों का गड्ढे से बाहर निकल पाना मुश्किल है।

साथियों ने गड्ढे में गिरे उन दो मेंढकों को आवाज लगाकर कहा कि अब तुम खुद को मरा हुआ मानो। इतने गहरे गड्ढे से बाहर निकल पाना असंभव है।

दोनों मेंढकों ने बात को अनसुना कर दिया और बाहर निकलने के लिए कूदने लगे। बाहर झुंड में खड़े मेंढक उनसे चीखकर कहने लगे कि बाहर निकलने की कोशिश करना बेकार है। अब तुम बाहर नहीं आ पाओगे। थोड़ी देर तक कूदाफाँदी करने के बाद भी जब गड्ढे से बाहर नहीं निकल पाए तो एक मेंढक ने आस छोड़ दी और गड्ढे में और नीचे की तरफ लुढ़क गया। नीचे लुढ़कते ही वह मर गया।

दूसरे मेंढक ने कोशिश जारी रखी और अंततः पूरा जोर लगाकर एक छलाँग लगाने के बाद वह गड्ढे से बाहर आ गया। जैसे ही दूसरा मेंढकगड्ढे से बाहर आया तो बाकी मेंढक साथियों ने उससे पूछा- जब हम तुम्हें कह रहे थे कि गड्ढे से बाहर आना संभव नहीं है तो भी तुम छलाँग मारते रहे, क्यों?

इस पर उस मेंढक ने जवाब दिया- दरअसल मैं थोड़ा-सा ऊँचा सुनता हूँ और जब मैं छलाँग लगा रहा था तो मुझे लगा कि आप मेरा हौसला बढ़ा रहे हैं और इसलिए मैंने कोशिश जारी रखी और देखिए मैं बाहर आ गया।

यह छोटी कहानी कई बातें कहती है। पहली यह कि हमें हमेशा दूसरों का हौसला बढ़ाने वाली बात ही कहनी चाहिए। दूसरी यह कि जब हमें अपने आप पर भरोसा हो तो दूसरे क्या कह रहे हैं इसकी कोई परवाह नहीं करनी चाहिए। 

जय सांई राम~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 01, 2008, 01:51:59 AM
जय सांई राम।।।

अकबर बीरबल और तीन सवाल  

महाराजा अकबर, बीरबल की हाज़िरजवाबी के बडे कायल थे. उनकी इस बात से दरबार के अन्य मंत्री मन ही मन बहुत जलते थे. उनमें से एक मंत्री, जो महामंत्री का पद पाने का लोभी था, ने मन ही मन एक योजना बनायी. उसे मालूम था कि जब तक बीरबल दरबार में मुख्य सलाहकार के रूप में है उसकी यह इच्छा कभी पूरी नहीं हो सकती.

एक दिन दरबार में अकबर ने बीरबल की हाज़िरजवाबी की बहुत प्रशंसा की. यह सब सुनकर उस मंत्री को बहुत गुस्सा आया. उसने महाराज से कहा कि यदि बीरबल मेरे तीन सवालों का उत्तर सही-सही दे देता है तो मैं उसकी बुद्धिमता को स्वीकार कर लुंगा और यदि नहीं तो इससे यह सिद्ध होता है की वह महाराज का चापलूस है. अकबर को मालूम था कि बीरबल उसके सवालों का जवाब जरूर दे देगा इसलिये उन्होंने उस मंत्री की बात स्वीकार कर ली.

उस मंत्री के तीन सवाल थे -

१. आकाश में कितने तारे हैं.
२. धरती का केन्द्र कहाँ है.
३. सारे संसार में कितने स्त्री और कितने पुरूष हैं.

अकबर ने फौरन बीरबल से इन सवालों के जवाब देने के लिये कहा. और शर्त रखी कि यदि वह इनका उत्तर नहीं जानता है तो मुख्य सलाहकार का पद छोडने के लिये तैयार रहे.

बीरबल ने कहा, “तो सुनिये महाराज”.

पहला सवाल - बीरबल ने एक भेड मँगवायी. और कहा जितने बाल इस भेड के शरीर पर हैं आकाश में उतने ही तारे हैं. मेरे दोस्त, गिनकर तस्सली कर लो, बीरबल ने मंत्री की तरफ मुस्कुराते हुए कहा.

दूसरा सवाल - बीरबल ने ज़मीन पर कुछ लकीरें खिंची और कुछ हिसाब लगाया. फिर एक लोहे की छड मँगवायी गयी और उसे एक जगह गाड दिया और बीरबल ने महाराज से कहा, “महाराज बिल्कुल इसी जगह धरती का केन्द्र है, चाहे तो आप स्व्यं जाँच लें”. महाराज बोले ठीक है अब तीसरे सवाल के बारे में कहो.

अब महाराज तीसरे सवाल का जवाब बडा मुश्किल है. क्योंकि इस दुनीया में कुछ लोग ऐसे हैं जो ना तो स्त्री की श्रेणी में आते हैं और ना ही पुरूषों की श्रेणी. उनमें से कुछ लोग तो हमारे दरबार में भी उपस्थित हैं जैसे कि ये मंत्री जी. महाराज यदि आप इनको मौत के घाट उतरवा दें तो मैं स्त्री-पुरूष की सही सही संख्या बता सकता हूँ. अब मंत्री जी सवालों का जवाब छोडकर थर-थर काँपने लगे और महाराज से बोले,”महाराज बस-बस मुझे मेरे सवालों का जवाब मिल गया. मैं बीरबल की बुद्धिमानी को मान गया हूँ”.

महाराज हमेशा की तरह बीरबल की तरफ पीठ करके हँसने लगे और इसी बीच वह मंत्री दरबार से खिसक लिया.

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: fatima on March 01, 2008, 02:20:31 AM
Lizards Have Done It

 In Japan, a man breaks open the wall to renovate his house. Japanese houses normally have a hollow space between the wooden walls, and when when tearing down the walls, he found that there was a lizard stuck there because a nail from outside had been hammered into one of its feet. The man sees this, feels pity, and at the same time is curious because upon checking the nail he realized it had been there since the house was built ten years ago.

What happened?

The lizard had survived in that position for ten years! In a dark wall partition for 10 years without moving, the man found this to be impossible and mind boggling. Then he wondered how this lizard survived for ten years without moving a single step--since its foot was nailed!

So the man stopped his work and observed the lizard, what it had been doing, and what and how it has been eating. Later, not knowing from where it came, appeared another lizard... with food in its mouth.   
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: fatima on March 03, 2008, 05:28:13 AM
The Trouble Tree  


The carpenter I hired to help me restore an old farmhouse had just finished a rough first day on the job. A flat tire made him lose an hour of work, his electric saw quit, and now his ancient pickup truck refused to start. While I drove him home, he sat in stony silence.

On arriving, he invited me in to meet his family. As we walked toward the front door, he paused briefly at a small tree, touching the tips of the branches with both hands. When opening the door he underwent an amazing transformation. His tanned face was wreathed in smiles and he hugged his two small children and gave his wife a kiss.

Afterward he walked me to the car. We passed the tree and my curiosity got the better of me. I asked him about what I had seen him do earlier.

"Oh, that's my trouble tree," he replied." I know I can't help having troubles on the job, but one thing's for sure, troubles don't belong in the house with my wife and the children. So I just hang them on the tree every night when I come home. Then in the morning I pick them up again."

He paused. "Funny thing is," he smiled, "when I come out in the morning to pick 'em up, there ain't nearly as many as I remember hanging up the night before."   
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: fatima on March 05, 2008, 03:25:33 AM
Three Hairs  

There once was a woman who woke up one morning, looked in the mirror, and noticed she had only three hairs on her head. "Well," she said, "I think I'll braid my hair today." So she did and she had a wonderful day.

The next day she woke up, looked in the mirror and saw that she had only two hairs on her head. "H-M-M, " she said, "I think I'll part my hair down the middle today." So she did and she had a grand day.

The next day she woke up, looked in the mirror and noticed that she had only one hair on her head. "Well," she said, "Today I'm going to wear my hair in a pony tail." So she did and she had a fun, fun day.

The next day she woke up, looked in the mirror and noticed that there wasn't a single hair on her head....

"YEAH!" she exclaimed, "I don't have to fix my hair today!"  
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on March 05, 2008, 04:29:40 AM
ॐ सांई राम~~~

सच बोलता आईना~~~

ऐश नाम की एक छोटी सी लड़की थी। जो बात-बात पर गुस्सा हो जाया करती थी। उसकी माँ उसे समझाती रहती कि इतना गुस्सा करना अच्छी बात नहीं है, लेकिन फिर भी उसके स्वभाव में कोई बदलाव नहीं आया।

एक बार ऐश अपना होमवर्क करने में व्यस्त थी। उसकी टेबल पर प्यारा-सा फ्लावर पॉट रखा था। तभी उसके छोटे भाई का हाथ उस फ्लावर पॉट पर चला गया। और उसके कई टुकड़े हो गए।

ऐश गुस्से से बौखला उठी। तभी उसकी माँ ने एक आईनालाकर उसके सामने रख दिया। गुस्से में जब ऐश ने अपनी शक्ल आईने में देखी, जो गुस्से में बहुत ही बुरी लग रही थी। अपना बिगड़ा चेहरा देख्रते ही ऐश का गुस्सा छू-मंतर हो गया।

तब उसकी माँ ने कहा कि देखा ऐश ! तुम्हारी शक्ल आईने में कितनी बुरी लगती है, क्योंकि आईना कभी झूठ नहीं बोलता।

ऐश को पता चल गया था कि गुस्सा करना कितना बुरा होता है। उस दिन से ऐश ने गुस्सा करना छोड़ दिया।

जय सांई राम~~~
 
 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 05, 2008, 11:39:45 PM
जय सांई राम।।।

इस संसार में हर कोई उपयोगी है?  

एक राजा था। उसने आज्ञा दी कि संसार में इस बात की खोज की जाय कि कौन से जीव-जंतु निरुपयोगी हैं। बहुत दिनों तक खोज बीन करने के बाद उसे जानकारी मिली कि संसार में दो जीव जंगली मक्खी और मकड़ी बिल्कुल बेकार हैं। राजा ने सोचा, क्यों न जंगली मक्खियों और मकड़ियों को ख़त्म कर दिया जाए।

इसी बीच उस राजा पर एक अन्य शक्तिशाली राजा ने आक्रमण कर दिया, जिसमें राजा हार गया और जान बचाने के लिए राजपाट छोड़ कर जंगल में चला गया। शत्रु के सैनिक उसका पीछा करने लगे। काफ़ी दौड़-भाग के बाद राजा ने अपनी जान बचाई और थक कर एक पेड़ के नीचे सो गया। तभी एक जंगली मक्खी ने उसकी नाक पर डंक मारा जिससे राजा की नींद खुल गई। उसे ख़याल आया कि खुले में ऐसे सोना सुरक्षित नहीं और वह एक गुफ़ा में जा छिपा। राजा के गुफ़ा में जाने के बाद मकड़ियों ने गुफ़ा के द्वार पर जाला बुन दिया।

शत्रु के सैनिक उसे ढूँढ ही रहे थे। जब वे गुफ़ा के पास पहुँचे तो द्वार पर घना जाला देख कर आपस में कहने लगे, "अरे! चलो आगे। इस गुफ़ा में वह आया होता तो द्वार पर बना यह जाला क्या नष्ट न हो जाता।"

गुफ़ा में छिपा बैठा राजा ये बातें सुन रहा था। शत्रु के सैनिक आगे निकल गए। उस समय राजा की समझ में यह बात आई कि संसार में कोई भी प्राणी या चीज़ बेकार नहीं। अगर जंगली मक्खी और मकड़ी न होतीं तो उसकी जान न बच पाती। इस संसार में कोई भी चीज़ या प्राणी बेकार नहीं। हर एक की कहीं न कहीं उपयोगिता है।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 15, 2008, 05:35:26 AM
जय सांई राम।।।

चिड़िया की शिक्षा  

राजा भानुप्रताप के विशाल महल में एक सुंदर वाटिका थी, जिसमें अंगूरों की एक बेल लगी थी। वहां रोज एक चिड़िया आती और मीठे अंगूर चुन-चुनकर खा जाती मगर अधपके और खट्टे अंगूरों को नीचे गिरा देती। माली ने चिड़िया को पकड़ने की बहुत कोशिश की पर वह हाथ नहीं आई। हताश होकर एक दिन माली ने राजा को यह बात बताई। यह सुनकर भानुप्रताप को आश्चर्य हुआ। उसने चिड़िया को सबक सिखाने की ठान ली।

एक दिन वह वाटिका में छिपकर बैठ गया। जब चिड़िया अंगूर खाने आई तो राजा ने फुर्ती से उसे पकड़ लिया। जब राजा चिड़िया को मारने लगा, तो चिड़िया ने कहा, 'हे राजन, मुझे मत मारो। मैं आपको ज्ञान की 4 महत्वपूर्ण बातें बताऊंगी।' राजा ने कहा, 'जल्दी बता।' चिड़िया बोली, 'हे राजन, सबसे पहले तो हाथ में आए शत्रु को कभी मत छोड़ो।' राजा ने कहा, 'दूसरी बात बता।' चिड़िया ने कहा, 'असंभव बात पर भूलकर भी विश्वास मत करो और तीसरी बात यह है कि बीती बातों पर कभी पश्चाताप मत करो।' राजा ने कहा, 'अब चौथी बात भी जल्दी बता दो।' इस पर चिड़िया बोली, 'चौथी बात बड़ी गूढ़ और रहस्यमयी है। मुझे जरा ढीला छोड़ दें क्योंकि मेरा दम घुट रहा है। कुछ सांस लेकर ही बता सकूंगी।' चिड़िया की बात सुन जैसे ही राजा ने अपना हाथ ढीला किया, चिड़िया उड़कर एक डाल पर बैठ गई और बोली, 'मेरे पेट में दो हीरे हैं।'

यह सुनकर राजा पश्चाताप में डूब गया। राजा की हालत देख चिड़िया बोली, 'हे राजन, ज्ञान की बात सुनने और पढ़ने से कुछ लाभ नहीं होता, उस पर अमल करने से होता है। आपने मेरी बात नहीं मानी। मैं आपकी शत्रु थी, फिर भी आपने पकड़कर मुझे छोड़ दिया। मैंने यह असंभव बात कही कि मेरे पेट में दो हीरे हैं फिर भी आपने उस पर भरोसा कर लिया। आपके हाथ में वे काल्पनिक हीरे नहीं आए तो आप पछताने लगे। उपदेशों को जीवन में उतारे बगैर उनका कोई मोल नहीं।'

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: fatima on March 17, 2008, 05:53:39 AM
THE YOGI AND THE TWO QUEENS

Thousands of years ago there lived in Rajasthan a yogi called Sivapremaraja, who was the chosen disciple of Sankartapasmuni. One day two queens visited the yogi. Queen Ayesha of Persia thought only of the yogi’s material comforts and gave him much money. Queen Ratna of Nepal wanted to learn the yogi’s spiritual knowledge, and so she stayed with him day and night. The yogi asked both queens who they thought he was. Queen Ayesha said that he was a poor holy man and that with her support, some ashrams could be built. The yogi agreed, but asked Queen Ayesha to think where God’s temple is. On the other hand, Queen Ratna said that only through meditation in the yogi’s presence would his identity be revealed. The yogi looked at each equally. He knew that he was only a humble devotee of Sankartapasmuni, whose spiritual powers flowed through him. Suddenly, to test the faith of both queens, the yogi took on all their karma at once and appeared to have died. Queen Ayesha lost her faith in her guru at once and had his body cremated. Queen Ratna loved her guru beyond the body and sent word to Sankartapasmuni about his disciple’s death. The old yogi replied that no disciple of his would ever fall to death prematurely and that the power of tapas would bring Sivapremaraja back to life. Queen Ayesha returned to Persia having learnt nothing. Queen Ratna sat silently chanting her guru mantra over his burnt ashes. Two months passed and nothing happened. Just then, in a dark cave, Sankartapasmuni started chanting Aum Namah Sivaya. By the power of his tapas, the old yogi called on the god to release his beloved devotee Sivapremaraja. Suddenly, in front of the meditating Queen Ratna, an explosion thundered, a trisula rose from the earth, and then a stone linga emerged. The linga split in two and by the grace of his old guru and the faith of his disciple Queen Ratna, there appeared the resurrected body of Sivapremaraja. Then Sivapremaraja told his disciple Queen Ratna that the real yogi lives by God’s power and is free from body and money attachments.

Queen Ayesha returned to Persia and found her kingdom suffering from a famine and a plague. She wondered why her people were being punished so cruelly. Then a blind beggar told her that for the sin of burning the Hindu holy man while in communion with God, her kingdom would have to perish. Queen Ayesha got angry and ordered the blind beggar to be jailed, but he immediately vanished from her sight. At the same time, the blind beggar came in a dream to the mountain bandit chieftain named Pelgaz Kasim. In his dream the blind man told Pelgaz Kasim that because of Queen Ayesha’s sin toward the Hindu holy man, her kingdom would collapse as soon as he attacked it. So at midnight, Pelgaz Kasim led his mountain tribes in the invasion of Queen Ayesha’s kingdom. Although heavily outnumbered, fate made Pelgaz Kasim victorious. With her army annihilated, Queen Ayesha was taken prisoner. Pelgaz Kasim told her that her crime was very great, and that she would have to choose between death or total exile from Persia. Queen Ayesha chose exile. Wherever she wandered the people cursed her and said she was the evil murderer of a holy man. After months of lonely wandering in the desert, her clothes were in rags and her beauty had vanished. Yet fate was blindly leading her to cross the Indian border into Rajasthan. Queen Ayesha was in mental agony, but she now knew that all her sufferings stemmed from her premature cremation of Sivapremaraja. The desert sun was too much for her. She collapsed totally unconscious. Then she had a dream that a flame stood burning in midair and a voice thundered saying: "I am the flame and guide of your soul and can never die." While she was still unconscious, a lady on a horse rode toward her. It was Sivapremaraja’s devotee, Queen Ratna. Queen Ayesha was put on the horse and swiftly taken to Sivapremaraja’s ashram. Her bad karma caused by ignorance was soon to end.

Queen Ayesha awoke and looked into the eyes of the blind beggar that came to her court at Persia. Suddenly the blind beggar changed his body into that of Sivapremaraja. Queen Ayesha started crying. "Oh Guru Maharaj, you have taught me a bitter lesson by taking everything away from me so that at last you would possess only my soul to direct," she moaned. The guru replied: "Ayesha, once you realize that only your soul is real, then you can know God. The guru’s love is undying in spite of the disciple’s unfaithfulness. I forgive you, but in order for your karma to be purified, you must die tomorrow." She answered: "now I have complete faith in you and will prepare to meet death." As expected, Queen Ayesha died early next morning of a heart attack. Sivapremaraja ordered that there should be no cremation of her dead body. The guru was in control of this little game of maya. He then left his body and went into samadhi. In the realm of death, Queen Ayesha passed through many fires where people had to suffer to wipe out their evil karma. Yet she did not suffer because she now had faith in her guru’s protection. Suddenly she came face to face with Lord Siva. The god told her that by her newly acquired faith in her guru, she would be transported to experience the soul’s liberation on the heavenly plane. Queen Ayesha now experienced herself as a body made up of luminous points of light. She saw a pink lotus descend on top of a mountain. The petals unfolded and there sat her guru, Sivapremaraja. The guru said: "now I will show you the secret of divine existence." Flames shot out of his eyes and Queen Ayesha felt an electric explosion within her being. Now she was everywhere at once. Her eyes saw the world pervaded by light, her heart felt an unending warm bliss, and her mind experienced thoughtless peace. She looked at her guru Sivapremaraja and saw unending galaxies revolving in his body. "This is enough for now," said her guru as he touched her forehead. Queen Ayesha awoke back to life and remembered all that had happened. She had lost her worldly kingdom, but by her faith in her guru, she had attained entrance into the kingdom of God.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 20, 2008, 09:03:04 AM
जय सांई राम।।।

पुराने जमाने की बात है। एक नवयुवक ने किसी संत से ईश्वर प्राप्ति का मार्ग पूछा। संत ने पहले उसे गौर से देखा, फिर कहा, 'तुम जाओ और पहले प्रेम करना सीखकर आओ, तब मैं तुमसे बात करूंगा।' नवयुवक प्रेम की तलाश में देश भर में घूमने लगा। एक दिन वह किसी नगर से गुजर रहा था कि उसे राजमहल के झरोखे में एक अत्यंत सुंदर युवती दिखाई पड़ी। वह उस राज्य की राजकुमारी थी, जो अपने सौंदर्य के लिए दूर-दूर तक विख्यात थी। उस पर नजर पड़ते ही नवयुवक उसके प्रेम में पड़ गया। वह झरोखे की ओर देखते हुए तीन दिन तक वहीं खड़ा रहा। उसकी इस हालत की चर्चा शहर भर में होने लगी। लोग यह समझ गए कि उसकी यह हालत राजकुमारी के प्रति उसके प्रेम के कारण हुई है।

बात राजा तक पहुंची। उसने नवयुवक को दरबार में बुलाया। लोगों को लगा कि शायद राजा उस नवयुवक को मृत्युदंड दें। लेकिन राजा ने ऐसा नहीं किया। उसने नवयुवक के सामने यह शर्त रखी कि अगर वह राजकुमारी से सच्चा प्रेम करता है तो परकोटे से कूदकर दिखाए। यदि वह ऐसा करने में सफल रहता है तो उसकी शादी राजकुमारी से करवा दी जाएगी। नवयुवक प्रेम में डूबा हुआ था, सो कूदने के लिए तैयार हो गया। उसने परकोटे की ओर भागकर छलांग लगा दी।

नीचे संत ने कपड़ों से भरी एक झोली लगा रखी थी। नौजवान उसमें ही गिरा और उसकी जान बच गई। सब लोग नीचे उतरे तो राजा ने उसे राजकुमारी से विवाह करने को कहा। पर नवयुवक ने इससे इनकार कर दिया। राजा के साथ सभी लोग हैरत में पड़ गए। वे समझ नहीं पा रहे थे कि विवाह के लिए ही जब इसने इतना कुछ किया तो अब यह इनकार क्यों कर रहा है। नवयुवक ने संत की ओर देखकर कहा, 'मैं तो बस प्रेम सीखने के लिए आया था और वह मुझे आ गया।' यह कहकर वह संत के साथ चला गया।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।। 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 23, 2008, 05:53:42 AM
जय सांई राम।।।

यह कहानी के रुप मे मैनें कभी पढा था, कि जो व्यक्ति अपनी इच्छा के विपरित जाता है और अधिक से अधिक पाना चाहता है, उस का क्या हाल होता है।,

लालची

एक बार एक भिखमंगा, सड़क पर भीख मांग रहा था,  और हर आने जाने वाले के बारे मे सोचता, देखो इस के पास कितना है फ़िर भी इस का पेट नही भरता.. वगेरा वगेरा.  तभी उसे लक्ष्मी जी के दर्शन हुये,  लक्ष्मी जी ने उस भिखारी से कहा मांगो क्या मांगते हॊ,  लेकिन सोच कर मांगना,  तुम्हारी एक ही इच्छा पूरी होगी, भिखारी ने कहां मेरी झोली सोने से भर दो मां,  लक्ष्मी देवी ने कहा ठीक है,  लेकिन एक भी सोने की ईट जमींन पर नही गिरनी चहिये, अगर एक भी सोने की ईट जमींन पर गिरी तो सब मिट्टी बन जायेगा,  खोलो झोली अब भिखारी बाबा की झोली तो पहले ही फ़टी हुई थी,  सो बाबा ने एक कोने को झोली का रुप दिया ओर झोली फ़ेला दी,  अब सोने की कुछ ईटे झोली मे गिरी, मां ने कहा बेटा बस करो,  नही तो ईटे नीचे गिर जायेगी,  भिखारी बाबा को भी हम सब की तरह लालच आ गया, बोला मां थोडी ओर फ़िर से सोना बरसने लगा,  मां ने फ़िर कहा बेटा बस करो, न ही तो तुम्हारी झोली फ़ट जायेगी, लेकिन बाबा का लालाच तो ओर भी बढ गया, बोला मां ओर दो, फ़िर से ईटो का आना शुरु हो गया झोली तो पहले ही फ़टी हुई थी,  ओर छोटी थी,  तभी १,२ ईटे जमींन पर गिरी,  और बाबा की झोली में मिट्टी ही मिट्टी भरी थी, बाबा बोले हे मां एक बार फ़िर से थोडी सी ईटे दे दो बस. लेकिन लक्ष्मी मां तो कब की जा चुकी थी,

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 27, 2008, 09:51:45 AM
जय सांई राम।।।

अहंकार  

यह एक पौराणिक कथा है। कुबेर तीनों लोकों में सबसे धनी थे। एक दिन उन्होंने सोचा कि हमारे पास इतनी संपत्ति है, लेकिन कम ही लोगों को इसकी जानकारी है। इसलिए उन्होंने अपनी संपत्ति का प्रदर्शन करने के लिए एक भव्य भोज का आयोजन करने की बात सोची। उस में तीनों लोकों के सभी देवताओं को आमंत्रित किया गया।

भगवान शिव उनके इष्ट देवता थे, इसलिए उनका आशीर्वाद लेने वह कैलाश पहुंचे और कहा, प्रभो! आज मैं तीनों लोकों में सबसे धनवान हूं, यह सब आप की कृपा का फल है। अपने निवास पर एक भोज का आयोजन करने जा रहा हूँ, कृपया आप परिवार सहित भोज में पधारने की कृपा करे।

भगवान शिव कुबेर के मन का अहंकार ताड़ गए, बोले, वत्स! मैं बूढ़ा हो चला हूँ, कहीं बाहर नहीं जाता। कुबेर गिड़गिड़ाने लगे, भगवन! आपके बगैर तो मेरा सारा आयोजन बेकार चला जाएगा। तब शिव जी ने कहा, एक उपाय है। मैं अपने छोटे बेटे गणपति को तुम्हारे भोज में जाने को कह दूंगा। कुबेर संतुष्ट होकर लौट आए। नियत समय पर कुबेर ने भव्य भोज का आयोजन किया।

तीनों लोकों के देवता पहुंच चुके थे। अंत में गणपति आए और आते ही कहा, मुझको बहुत तेज भूख लगी है। भोजन कहां है। कुबेर उन्हें ले गए भोजन से सजे कमरे में। सोने की थाली में भोजन परोसा गया। क्षण भर में ही परोसा गया सारा भोजन खत्म हो गया। दोबारा खाना परोसा गया, उसे भी खा गए। बार-बार खाना परोसा जाता और क्षण भर में गणेश जी उसे चट कर जाते।

थोड़ी ही देर में हजारों लोगों के लिए बना भोजन खत्म हो गया, लेकिन गणपति का पेट नहीं भरा। वे रसोईघर में पहुंचे और वहां रखा सारा कच्चा सामान भी खा गए, तब भी भूख नहीं मिटी। जब सब कुछ खत्म हो गया तो गणपति ने कुबेर से कहा, जब तुम्हारे पास मुझे खिलाने के लिए कुछ था ही नहीं तो तुमने मुझे न्योता क्यों दिया था? कुबेर का अहंकार चूर-चूर हो गया।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on March 31, 2008, 07:58:23 AM
जय सांई राम।।।

तीन मजदूर....  

एक बार एक राहगीर सड़क के किनारे से गुजर रहा था तों उसने वहाँ कुछ मजदूरों को काम करते देखा। वहाँ पर काम कर रहे एक मजदूर से उसने पूछा कि  'भाई!  तुम क्या कर रहे हो?   यह क्या हो रहा है?  'उसके यह पूछते ही उसने बहुत गुस्से भरे आवाज में चिल्लाकर बोला'   दिखाई नही देता कि मैं पत्थर तोड़ रहा हूँ' ।

वह राहगीर फिर कुछ आगे बढ़ा और वही काम करते हुए दूसरे मजदूर से पूछा 'भाई!  तुम क्या कर रहे हो?  यह क्या हो रहा है? 'उस मजदूर ने बडा उदासीन होकर जबाब दिया,  'बस रोजी-रोटी कमा रहा हूँ।'

वह राहगीर फिर कुछ आगे बढा और तीसरे मजदूर से पूछा 'भाई!  तुम क्या कर रहे हो?  यह सुनते ही उसके चेहरे पर मानो चमक सी आ गयी वो मजदूर बहुत प्रसन्न होकर बोला ' भाई मैं तों यहाँ भगवान् का मंदिर बना रहा हूँ ।
तीनो मजदूर एक ही काम को कर रहे थे पर तीनो का जबाब अलग-अलग था। पहला गुस्से में पत्थर तोड़ रहा था,दूसरा रोजी-रोटी कमा रहा था,  तीसरा भगवान का मंदिर बना रहा था ।

गौरतलब :  ठीक जिन्दगी के प्रति भी कुछ लोगो का नज़रिया ऐसा ही होता है.. कुछ लोग हमेशा गुस्से में भरे रहते है, कुछ लोग हर समय बिना वजह भविष्य की चिन्ताओ को लेकर उदास रह्ते है,  और कुछ लोग उस तीसरे मजदूर कि तरह होते है जो हर परस्थिति में जिन्दगी को जिन्दादिली से जीते है।

आप कौन से मज़दूर है? मनन कीजिये।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 02, 2008, 07:25:51 AM
जय सांई राम।।।

दो बीज...  

दो बीज वसंत के मौसम में उपजाऊ मिट्टी मे पास-पास पड़े थे।

पहले बीज ने कहा,  'में उगना चाहता हूँ! में अपनी जड़े जमींन की गहराई में भेजना चाहता हूँ और अपने अंकुरों को जमींन के परत के ऊपर धकेलना चाहता हूँ...वसंत के आगमन की घोषणा करने के लिए मैं अपनी कोमल कलियों को झंडो की तरह लहराऊंगा.. अपने चेहरे पर सूरज की गर्मी और अपनी पंखुडियों पर सुबह की ओस महसूस करना चाहता हूँ'

इसलिए वह बीज उग गया ।

दूसरे बीज ने कहा,

'मुझे डर लग रहा है,  अगर मैंने अपनी जड़े जमींन के नीचे भेजी, तों क्या पता अंधेरे में वहां क्या मिलेगा?  अगर मैंने अपने ऊपर की कठोर जमीं में अपने अंकुर गड़ाये तो हो सकता है की मेरे नाजुक अंकुरों को नुकसान हो जाए ... अगर मैंने कलियाँ खोली,  और कही घोंघे ने उन्हें खाने की कोशिश की,  तो क्या होगा?  अगर मैंने अपनी फूल की पंखुडिया खोली तो कोई भी छोटा बच्चा मुझे उखाड़ सकता है। नही, अच्छा यही रहेगा की मैं सब कुछ सुरक्षित होने तक यही इंतजार करूं।

इसलिए वह बीज इन्तजार करता रहा
 
एक दिन एक मुर्गी मैदान में खाना खोज रही थी, तभी उसे वह बीज दिखायी दे गया और उसने झट से उसे खा लिया।

गौरतलब :  डरना किसी चीज का हल नही है। आप अन्धेरें में जाने से डरेंगे तो हो सकता है की बिजली की कड़क भी आपको भरी रौशनी में नष्ट करने को तैयार मिले।
अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 06, 2008, 12:11:17 AM
जय सांई राम।।।

इस दुनिया में किसकी संख्या अधिक है, जो देख सकते हैं या जो अंधे हैं?...  

एक दिन अकबर ने बीरबल से पूछा, बीरबल ज़रा बताओ कि इस दुनिया में किसकी संख्या अधिक है, जो देख सकते हैं या जो अंधे हैं ?

बीरबल बोले, इस समय तुरंत तो आपके इस सवाल का जबाब देना मेरे लिए सम्भव नहीं है लेकिन मेरा विश्वास है की अंधों की संख्या अधिक होगी वजाय देख सकने वालों के।

बादशाह ने कहा की तुम्हे अपनी बात सिद्ध करके दिखानी होगी, बीरबल ने बादशाह की चुनौती स्वीकार कर ली

अगले दिन बीरबल बीच बाज़ार में एक बिना बुनी हुई चारपाई लेकर बैठ गए और उसे बुनना शुरू कर दिया, उसके अगल-बगल दो आदमी कागज़-कलम लेकर बैठे हुए थे।

थोडी ही देर मे वहाँ भीड़ इक्कठी हो गई यह देखने के लिए कि क्या हो रहा है, वहाँ मौजूद हर व्यक्ति ने बीरबल से एक ही सवाल पूछा "बीरबल तुम क्या कर रहे हो? "

बीरबल के अगल-बगल बैठे दोनों आदमी ऐसा सवाल करने वालों का नाम पूछ पूछ कर लिखते जा रहे थे, जब बादशाह के कानो तक ये बात पहुँची कि बीच बाज़ार बीरबल चारपाई बुन रहे हैं तो वो भी वहाँ जा पहुंचे और वही सवाल किया "यह तुम क्या कर रहे हो?"

कोई जबाब दिए बिना बीरबल ने अपने बगल मे बैठे एक आदमी से बादशाह अकबर का भी नाम लिख लेने को कहा
तभी बादशाह ने आदमी के हाथ मे थमा कागज़ का पुलिंदा ले लिया उस पर लिखा था "अंधे लोगों की सूची"
बादशाह ने बीरबल से पूछा इसमे मेरा नाम क्यों लिखा है? बीरबल ने कहा "जहाँपनाह, आपने देखा भी कि मैं चारपाई बुन रहा हूँ, फ़िर भी आपने सवाल पूछा कि मैं क्या कर रहा हूँ"

बादशाह ने देखा उन लोगों की सूची मे एक भी नाम नहीं था जो देख सकते थे, लेकिन अंधे लोगों की सूची का पुलिंदा बेहद भारी था !

बीरबल ने कहा "हुजुर, अब तो आप मेरी बात से सहमत होगें कि दुनिया मे अंधों की तादाद ज्यादा है" बीरबल की इस चतुराई पर बादशाह मंद मंद मुस्करा दिए

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 18, 2008, 12:59:49 AM
जय सांई राम।।।

कछुआ हारा, खरगोश जीता  

प्यारे बच्चों! आज मैं तुम्हें कछुआ और खरगोश की एक नई कहानी सुनाता हूँ। इस कहानी में दौड़ में कछुआ नहीं बल्कि खरगोश ने मारी बाजी। वह कैसे?  तो सुनो :-

नदी के किनारे के जंगल में एक कछुआ और एक खरगोश साथ-साथ रहते थे। वे साथ-साथ नदी में डुबकी लगाते और एक साथ बैठकर पढ़ाई भी करते।

एक दिन कछुए ने खरगोश से कहा,  "तुम्हें याद है;  एकबार मेरे दादा ने तुम्हारे दादा को दौड़ में हराया था?" खरगोश ने कहा, "ये भी कोई भूलनेवाली बात है, मित्र। ऐसी ही घटनाओं से हम जीवन में बहुत सारी अच्छी बातें सीख जाते हैं।" कछुए ने कहा, "क्या तुम मेरे साथ दौड़ लगाओगे?" खरगोश ने हामी भर दी।

दूसरे दिन नियत समय पर एक कौवे की देख-रेख में दौड़-प्रतियोगिता शुरु हुई। कछुआ अपनी धीमी गति से चला जबकि खरगोश तेज दौड़ा और तबतक दौड़ता रहा जबतक दौड़-प्रतियोगिता में निर्धारित मंजिल तक नहीं पहुँचा। कछुआ धीरे-धीरे पर लगातार चलता रहा और जब मंजिल पर पहुँचा तो क्या देखता है कि खरगोश तो मंजिल पर पहुँचकर आराम फरमा रहा है। कछुए ने कहा, "मित्र खरगोश! इसबार तुम जीत गए लेकिन एक बात मेरी समझ में नहीं आई।" "कौन-सी बात मित्र", खरगोश ने पूछा। कछुए ने कहा, "तुम अपने दादा की तरह बीच में पेड़ की छाँव में आराम क्यों नहीं किए?" खरगोश हँसा और बोला, "मित्र! मेरे दादा हमेशा मुझसे कहते रहते हैं कि 'आराम हराम है'; गाँधीजी ने भी गाया है कि 'जो सोवत है सो खोवत है' और आज का युग भी पहले जैसा नहीं रहा। आज के युग में लक्ष्य-प्राप्ति के लिए तत्परता, निरंतरता के साथ ही साथ शीघ्रता भी अति आवश्यक है। इसलिए मैंने मंजिल पर पहुँचकर ही आराम करना उचित समझा।"

प्यारे बच्चों! क्या आप हमें बताओगे कि इस कहानी से आपने क्या सीखा?

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on April 19, 2008, 06:53:05 AM
Om Sai Ram~~~

Clap and Cheer~~~

(positive attitude, taking pride in whatever you do)

A small boy was auditioning with his classmates for a school play. His mother knew that he'd set his heart on being in the play - just like all the other children hoped too - and she feared how he would react if he was not chosen. On the day the parts were awarded, the little boy's mother went to the school gates to collect her son. The little lad rushed up to her, eyes shining with pride and excitement. "Guess what Mum," he shouted, and then said the words that provide a lesson to us all, "I've been chosen to clap and cheer."

Jai Sai Ram~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 19, 2008, 07:20:49 AM
जय सांई राम।।।

मकड़ी और मख्खी...  

एक राजा था। उसने आज्ञा दी कि संसार में इस बात की खोज की जाय कि कौन से जीव-जंतु निरुपयोगी हैं। बहुत दिनों तक खोज बीन करने के बाद उसे जानकारी मिली कि संसार में दो जीव 'जंगली मक्खी' और 'मकड़ी' बिल्कुल बेकार हैं। राजा ने सोचा, क्यों न जंगली मक्खियों और मकड़ियों को ख़त्म कर दिया जाए।

इसी बीच उस राजा पर एक अन्य शक्तिशाली राजा ने आक्रमण कर दिया, जिसमें राजा हार गया और जान बचाने के लिए राजपाट छोड़ कर जंगल में चला गया। शत्रु के सैनिक उसका पीछा करने लगे। काफ़ी दौड़-भाग के बाद राजा ने अपनी जान बचाई और थक कर एक पेड़ के नीचे सो गया। तभी एक जंगली मक्खी ने उसकी नाक पर डंक मारा जिससे राजा की नींद खुल गई। उसे ख़याल आया कि खुले में ऐसे सोना सुरक्षित नहीं और वह एक गुफ़ा में जा छिपा। राजा के गुफ़ा में जाने के बाद मकड़ियों ने गुफ़ा के द्वार पर जाला बुन दिया।

शत्रु के सैनिक उसे ढूँढ ही रहे थे। जब वे गुफ़ा के पास पहुँचे तो द्वार पर घना जाला देख कर आपस में कहने लगे, "अरे! चलो आगे। इस गुफ़ा में वह आया होता तो द्वार पर बना यह जाला क्या नष्ट न हो जाता।"

गुफ़ा में छिपा बैठा राजा ये बातें सुन रहा था। शत्रु के सैनिक आगे निकल गए। उस समय राजा की समझ में यह बात आई कि संसार में कोई भी प्राणी या चीज़ बेकार नहीं। अगर जंगली मक्खी और मकड़ी न होतीं तो उसकी जान न बच पाती।

गौरतलब: इस संसार में कोई भी चीज़ या प्राणी बेकार नहीं।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 21, 2008, 08:23:27 AM
जय सांई राम।।।

कौआ और कबूतर  

एक कबूतर एक था कौआ
रहते थे उपवन में भैया
पास-पास थे दोनों के घर
बातें करते दोनों अकसर
दोनों ही की अलग थी जाति
पर सुख-दुख के अच्छे साथी
कबूतर बड़ा ही सुस्त था भैया
बैठा रहता पेड़ की छैया
पर उतना ही चतुर था कौआ
न देखे वह धूप न छैया
कौआ सुबह-सुबह ही जाता
जो भी मिलता घर ले आता
दोनों मिलकर खाना खाते
गाना गाते और सो जाते
कभी-कभी कहता था कौआ
तुम भी चलो साथ मेरे भैया
बड़ा आलसी था वो कबूतर
बोलता मैं बैठूँगा घर पर
एक बार गर्मी का मौसम
सूख गया था सारा उपवन
ख़त्म हो गया पानी वहाँ पर
रहते थे वे दोनों जहाँ पर
गला सूखता था हर पल ही
पर कबूतर तो था आलसी
प्यास से वह बेहाल हो गया
और देखते ही निढाल हो गया
कौए ने जब देखा उसको
नहीं रहा था होश भी उसको
उड़ गया कौआ पानी लाने
लग गया उसकी जान बचाने
दूर गाँव वह उड़ कर आया
चोंच में भर कर पानी लाया
पानी जो कबूतर को पिलाया
तो वह थोड़ा होश में आया
कौए की मेहनत रंग लाई
और कबूतर को सोझी आई
वह भी अगर आलस न करता
तो इतनी तकलीफ़ न जरता
आज अगर कौआ न होता
तो वह बस प्यासा ही मरता
ठान लिया अब तो कबूतर ने
नहीं बैठेगा वो भी घर में
वह भी कौए संग जाएगा
अपना खाना खुद लाएगा
अब वो दोनों मिलकर जाते
जो भी मिलता घर ले आते
दोनों ही मिलजुल कर खाते
गाना गाते और सो जाते
...............................................
बच्चो तुमने सुनी कहानी
तुम न करना यह नादानी
कभी भी तुम न करना आलस
बढ़ते रहना आगे हरदम

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 24, 2008, 11:41:15 PM
जय सांई राम।।।

निराशावादी मेढक...  

दो मेढक थे। वे जंगल में तालाब के किनारे एक पेड क़े नीचे रहते थे। एक दिन उन दोनों ने सोचा ''हमने तो बाहर की दुनिया देखी ही नहीं ज़ंगल के बाहर भी तो कुछ होगा। चलो जरा इनसानों की दुनियां में घूम कर आते है।''खाने पीने का थोडा सा सामान लेकर वे दोनो निकल पडे। उन्होंने बहुत कुछ देखा- बडी बडी ऊंची इमारतें प्रदूषण फैलाते हुए वाहन रोटी कमाने की दौड में भागते हुए लोग ख़ेल कूद और पढाई में मस्त नन्हें नन्हें बच्चे शोर शोर और बहुत शोर। उन्हें अपने घर की याद आने लगी। वे बहुत थक भी गए थे। उनका दिल कर रहा था कि उन्हें पानी मिल जाये और वे एक गीली जगह पर थोडा आराम कर लें। खोजते-खोजते वे एक दूध वाले की दुकान में घुस गए।

वहां एक बाल्टी रखी थी। उन्हें लगा कि इस बाल्टी में पानी होना चाहिये फिर क्या था झट से दोनों ने एक ऊंची छलांग लगाई और पहुंच गए उस बाल्टी के अन्दर।पर यह क्या? बालटी में तो पानी नहीं था वह तो मलाई से भरी हुई थी।बेचारे दोनो मेढक उस मलाई में डूबने लगे उनका दम घुटने लगा सांस फूलने लगी आखें पलट कर बाहर आने लगीं।एक मेढक ने सोचा'' मेरा तो अंतिम समय आ गया है हाय रे मेरी किस्मत! शहर आकर इन अनजान लोगों के बीच ही मरना था।'' उसने अपने ईश्वर को याद किया और मौत का इन्तजार करने लगा.

दूसरा मेढक हार मानने को तैयार नहीं था। वह कोशिश करने लगा कि किसी तरह उस मलाई भरी बाल्टी में से वह बाहर निकल आये। वह अपने पैर जोर से चलाने लगा।बहुत कोशिश करने पर भी वह बार्रबार फिसल जाता। फिर भी उसने अपना दिल छोटा नहीं किया हिम्मत का दामन नहीं छोडा वह लगातार कोशिश करता रहा और अपने पैर चलाता रहा।अरे यह क्या! अचानक उसने देखा कि वह ऊपर उठने लगा। उसके लगातार ज़ोर से पैर चलाने से मलाई भी लगातार हिल रही थी और वह मक्खन बनने लगी। मेढक में उम्मीद की लहर दौड ग़ई। वह बहुत थक चुका था पर फिर भी पैर चलाता रहा।फिर क्या था! मक्खन बनता गया और आखिर में उस मक्खन के ढेर पर सवार वह साहसी मेढक ऊपर उठने लगा। जब मक्खन छाछ के ऊपर तैरने लगा तब उस साहसी मेढक ने बाल्टी से बाहर छलांग लगा दी। अपनी हिम्मत लगन मेहनत और जीने की उमंग के कारण वह बच गया परन्तु निराशावादी मेढक उसी मलाई की बाल्टी में डूब कर मर गया।

गौरतलब: मुश्किलें सब के रास्ते में आती हैं पर ईश्वर ने हमें उनका मुकाबला करने की शक्ति भी दी है। अंत मे जीत उसी की होती है जो कभी हार नही मानता।अधिक बुध्दि या बल ही केवल काम नहीं आते हैं।हिम्मत वाले जीवन का संग्राम जीत जाते हैं।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Sai ka Tej on April 25, 2008, 12:31:35 AM
JAI SAI RAM

Don't Give UP

Two young frogs fell into a bucket of milk. Both tried to jump to freedom, but the sides of the bucket were steep and no foundation was to be had on the surface of the liquid.


Seeing little chance of escape, the first frog soon despaired and stopped jumping. After a short while he sunk to the bottom of the bucket and drowned.


The second frog also saw no likelihood of success, but he never stopped trying. Even though each jump seemed to reach the same inadequate height, he kept on struggling. Eventually, his persistent efforts churned some milk into butter. From the now hardened surface of the milk, he managed to leap out of the bucket.


Those who don't give up and persevere
may be in for a pleasant surprise!


SAI RAM
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on April 28, 2008, 12:34:04 AM
ॐ सांई राम~~~

ऊँट की गर्दन क्यों मुडी है~~~

अकबर बीरबल की हाज़िर जवाबी के बडे कायल थे. एक दिन दरबार में खुश होकर उन्होंने बीरबल को कुछ पुरस्कार देने की घोषणा की. लेकिन बहुत दिन गुजरने के बाद भी बीरबल को धनराशि (पुरस्कार) प्राप्त नहीं हुई. बीरबल बडी ही उलझन में थे कि महारज को याद दिलायें तो कैसे?

एक दिन महारजा अकबर यमुना नदी के किनारे शाम की सैर पर निकले. बीरबल उनके साथ था. अकबर ने वहाँ एक ऊँट को घुमते देखा. अकबर ने बीरबल से पूछा, “बीरबल बताओ, ऊँट की गर्दन मुडी क्यों होती है”?

बीरबल ने सोचा महाराज को उनका वादा याद दिलाने का यह सही समय है. उन्होंने जवाब दिया - महाराज यह ऊँट किसी से वादा करके भूल गया है, जिसके कारण ऊँट की गर्दन मुड गयी है. महाराज, कहते हैं कि जो भी अपना वादा भूल जाता है तो भगवान उनकी गर्दन ऊँट की तरह मोड देता है. यह एक तरह की सजा है.

तभी अकबर को ध्यान आता है कि वो भी तो बीरबल से किया अपना एक वादा भूल गये हैं. उन्होंने बीरबल से जल्दी से महल में चलने के लिये कहा. और महल में पहुँचते ही सबसे पहले बीरबल को पुरस्कार की धनराशी उसे सौंप दी, और बोले मेरी गर्दन तो ऊँट की तरह नहीं मुडेगी बीरबल. और यह कहकर अकबर अपनी हँसी नहीं रोक पाए.

और इस तरह बीरबल ने अपनी चतुराई से बिना माँगे अपना पुरस्कार राजा से प्राप्त किया|

जय सांई राम~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on April 28, 2008, 12:49:44 AM
जय सांई राम।।।

दर्पण की सीख  

पुराने जमाने की बात है। एक गुरुकुल के आचार्य अपने शिष्य की सेवा भावना से बहुत प्रभावित हुए। विद्या पूरी होने के बाद शिष्य को विदा करते समय उन्होंने आशीर्वाद के रूप में उसे एक ऐसा दिव्य दर्पण भेंट किया, जिसमें व्यक्ति के मन के भाव को दर्शाने की क्षमता थी। शिष्य उस दिव्य दर्पण को पाकर प्रसन्न हो उठा। उसने परीक्षा लेने की जल्दबाजी में दर्पण का मुंह सबसे पहले गुरुजी के सामने कर दिया। वह यह देखकर आश्चर्यचकित हो गया कि गुरुजी के हृदय में मोह, अहंकार, क्रोध आदि दुर्गुण परिलक्षित हो रहे थे। इससे उसे बड़ा दुख हुआ। वह तो अपने गुरुजी को समस्त दुर्गुणों से रहित सत्पुरुष समझता था।

दर्पण लेकर वह गुरुकूल से रवाना हो गया। उसने अपने कई मित्रों तथा अन्य परिचितों के सामने दर्पण रखकर परीक्षा ली। सब के हृदय में कोई न कोई दुर्गुण अवश्य दिखाई दिया। और तो और अपने माता व पिता की भी वह दर्पण से परीक्षा करने से नहीं चूका। उनके हृदय में भी कोई न कोई दुर्गुण देखा, तो वह हतप्रभ हो उठा। एक दिन वह दर्पण लेकर फिर गुरुकुल पहुंचा। उसने गुरुजी से विनम्रतापूर्वक कहा, ‘गुरुदेव, मैंने आपके दिए दर्पण की मदद से देखा कि सबके दिलों में नाना प्रकार के दोष हैं।’ तब गुरु जी ने दर्पण का रुख शिष्य की ओर कर दिया।

शिष्य दंग रह गया. क्योंकि उसके मन के प्रत्येक कोने में राग,द्वेष, अहंकार, क्रोध जैसे दुर्गुण विद्यमान थे। गुरुजी बोले, ‘वत्स यह दर्पण मैंने तुम्हें अपने दुर्गुण देखकर जीवन में सुधार लाने के लिए दिया था दूसरों के दुर्गुण देखने के लिए नहीं। जितना समय तुमने दूसरों के दुर्गुण देखने में लगाया उतना समय यदि तुमने स्वयं को सुधारने में लगाया होता तो अब तक तुम्हारा व्यक्तित्व बदल चुका होता। मनुष्य की सबसे बड़ी कमजोरी यही है कि वह दूसरों के दुर्गुण जानने में ज्यादा रुचि रखता है। वह स्वयं को सुधारने के बारे में नहीं सोचता। इस दर्पण की यही सीख है जो तुम नहीं समझ सके।’

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 02, 2008, 03:59:09 AM
जय सांई राम।।।

मूर्तिकार की सीख  

एक विख्यात मूर्तिकार ने अपने बेटे को भी मूर्तिकला सिखाई। उसका पुत्र इस कला में जल्दी ही पारंगत हो गया, क्योंकि वह भी अपने पिता के समान ही परिश्रमी और कल्पनाशील था। जल्दी ही वह सुंदर मूर्तियां बनाने लगा। फिर भी मूर्तिकार अपने पुत्र द्वारा बनाई गई मूर्तियों में कोई न कोई नुक्स जरूर निकाला करता था। वह कभी खुलकर उसकी प्रशंसा नहीं करता, बल्कि कई बार तो झिड़क भी देता था। कई सालों तक यही सिलसिला चला।

मूर्तिकार का बेटा अपने पिता जैसी ही मूर्तियां बनाने लगा। सब उसकी सराहना करते, उसकी मूर्तियों की मांग बढ़ने लगी, फिर भी उसके पिता के रवैये में कोई तब्दीली नहीं आई। इससे उसका पुत्र चिंतित रहता था, हालांकि उसकी लगन में कोई कमी नहीं आई। एक दिन उसे एक युक्ति सूझी। उसने एक आकर्षक मूर्ति बनाई और अपने एक मित्र के जरिए उसे अपने पिता के पास भिजवाया। उसके पिता ने सोचा कि यह उसी मित्र की बनाई हुई है। उसने उसकी भूरि-भूरि प्रशंसा की। तभी वहां छिपकर बैठा उसका पुत्र निकल आया और गर्व से बोला, 'यह मूर्ति असल में मैंने बनाई है। आखिरकार मैंने वैसी मूर्ति बना ही दी, जिसमें आप कोई खोट नहीं निकाल सके।'

मूर्तिकार ने कहा, 'बेटा एक बात गांठ बांध लो। अभिमान व्यक्ति की उन्नति के सारे रास्ते बंद कर देता है। आज तक मैंने तुम्हारी प्रशंसा नहीं की, हर वक्त तुम्हारी मूर्तियों में कमियां निकालता रहा, इसीलिए तुम इतनी अच्छी मूर्तियां बनाते रहे। अगर मैं तुम्हें कह देता कि तुमने बहुत अच्छी मूर्ति बनाई है तो शायद तुम अगली मूर्ति बनाने में पहले से ज्यादा सचेत नहीं रहते, क्योंकि तुम्हें लगता कि तुम पूर्णता को प्राप्त कर चुके हो, जबकि कला के क्षेत्र में पूर्णता की कोई स्थिति ही नहीं होती है। मैं स्वयं अपने को पूर्ण नहीं मानता। लेकिन आज जो तुमने नाटक किया उससे तुम्हारा ही नुकसान होगा।' यह सुनते ही पुत्र लज्जित हो गया। उसने पिता से क्षमा मांगी।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 06, 2008, 09:37:48 AM
जय सांई राम।।।

शिकागो धर्म सम्‍मेलन में स्वामी विवेकानंद ने जब सबको अपने-अपने धर्म को बड़ा सिद्ध करने हेतु लड़ते देखा तो उन्होने एक कहानी कही।

एक बार समुन्‍द्र से एक मेंढक कुंए में आता है। कुंए का मेंढक उससे एक छलाँग लगाकर पूछता है-भाई ''क्या तेरा समुन्दर इतना बड़ा है''? समुन्दर का मेंढक कहने लगा-'समुन्दर इससे बहुत बड़ा है।

कुंए का मेंढक उससे बड़ी छलाँग लगाकर पूछता है-भाई ''क्या तेरा समुन्दर इतना बड़ा है''?

समुन्दर का मेंढक कहने लगा-समुन्दर तो इससे भी विशाल है। तब कुंए का मेंढक कुंए के एक सिरे से दूसरे सिरे तक जाकर पूछता है-क्या समुन्दर कुंए जितना बड़ा है?

समुन्दर का मेंढक बोला - अरे! समुन्दर तो इस कुंए से लाखों-करोड़ो गुणा विशाल है। तब कुंए का मेंढक जो कुंए से अधिक विशाल कुछ नहीं समझता था'' कहने लगा- कोई बाहर निकालो इस पागल को ये समुन्दर को कुंए से अधिक विशाल बताता है, अरे कुंए से अधिक विशाल कुछ नहीं होता।"

स्वामी जी ने कहा यही हाल तुम लोगों का हिन्दू अपने कुंए में, ईसाई अपने कुंए में, मुस्लिम-पारसी अपने-अपने कुओं में कैद हैं और अपने-अपने कुओं को बड़ा सिद्ध करने हेतु लड़ते रहतें हैं।फिर हिन्दू -धर्म तो बड़ा कुंआ है, इसके अन्‍दर सैंकड़ो और भी छोटे-छोटे कुंए हैं। सभी अपने कुंए को बड़ा सिद्ध करने में उलझें रहतें हैं। अध्‍यात्मिक-उन्नति का कार्य अधूरा ही रहता है। मार्गदर्शक साधक को इस तरह जकड़ लेते है कि साधक की गति ही थम जाती है। रथ के पहिये की धुरी से पकड़ तो आवश्‍यक है परन्‍तु अगर रथ के साथ पहिये को जकड़ दिया जाए तो पहिये की गति ही रूक जाएगी।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 07, 2008, 11:31:53 PM
जय सांई राम।।।

मीठे बोल...  

एक राजा जंगल की सैर पर निकले , उनके साथ सैनिकों का दल भी था। घूमते-घूमते राजा को प्यास लगी।  यह जानकर सैनिक पानी की तलाश में निकल पड़े।  उन्होंने देखा कि एक कुआँ है जहाँ एक अंधा व्यक्ति राहगीरों को पानी पिला रहा है। सैनिकों ने उसे निर्देश के स्वर में कहा- “अंधे!  एक बड़े लोटे में पानी भर कर दो।”

अंधे को सैनिकों का यह व्यवहार अच्छा नहीं लगा।  उसने कहा -  “मैं आप लोगों को पानी नहीं दे सकता।” राजा के सिपाही गुस्से में वापस आ गये। पानी नहीं ला पाने की कहानी जब सेनापति ने सुना तो वह भी कुएँ की ओर चल पड़ा। अंधा लोगों को पानी पिला ही रहा था । सेनापति ने उससे कहा- “अंधे भाई, जरा मुझे एक लोटा पानी तो देना, प्यास से हाल बेहाल है! ”अंधे को लगा कि यह सैनिक का सरदार है जरूर पर मन से कपटी है और ऊपर से मीठा-मीठा बोलता है।  उसने सेनापति को भी साफ कह दिया कि पानी नहीं मिल सकेगा।

जब यह घटना राजा के कानों तक पहुँची तो वे चुपचाप कुँए की ओर चल पड़े। उन्होंने अभिवादन कर बोला, “बाबा जी, प्यासा हूँ, थोड़ा पानी पिलाने की कृपा कर देंगें क्या ?” इस पर अंधे को बहुत प्रसन्नता हुई। उसने कहा, “जी राजा साहब, अभी पानी पिलाता हूँ,  आप यहाँ विराजें।”

अपनी प्यास बुझाने के बाद उन्होंने अंधे व्यक्ति से पूछा,  “बाबा, आप देख नहीं पाते फिर भी कैसे जान पाये कि एक सिपाही, एक सेनापति और मैं राजा हूँ ?”

अंधे व्यक्ति से बड़ी सहजता से कहा, “महाराज, आपकी वाणी ने ही आपका परिचय कराया। "

गौरतलब :  व्यक्ति की वाणी ही उसके व्यक्तित्व का ज्ञान कराती है कि वह कितना शिष्ट और सभ्य है।”

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on May 07, 2008, 11:40:23 PM
Om Sai Ram~~~

Two friends were walking through the desert. During Some point of the journey they had an argument, and one friend slapped the other one in the face.

The one who got slapped was hurt, but without saying anything, wrote in the sand:

TODAY MY FRIEND SLAPPED ME ON THE FACE~~

They kept on walking until they found an oasis, where they decided to take a
bath. While bathing all of a sudden the one who had been slapped got stuck in and started drowning, but his friend saved him he didn't let him drown in...

After he recovered from the near drowning he wrote on a stone:

TODAY MY FRIEND SAVED MY LIFE~~

The friend who had slapped and saved his friend asked him,
"After I hurt you, you wrote in the sand and now, you write on a stone, why?"

The other friend replied..

"When someone hurts us we should write it down in sand where winds of forgiveness can erase it away.
But, when someone does something good for us, we must engrave it in stone where no wind can ever erase it."

LEARN TO WRITE YOUR HURTS IN THE SAND AND TO CARVE YOUR GAINS IN STONE.

Jai Sai Ram~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 08, 2008, 03:54:06 AM
जय सांई राम।।।

Happy BABA's day to you all.   On this Guruwaar May BABA SAI shower you with love, and fill your home with love, happiness and joy.
 
Baba's love is a downpour of nectar.  His love for us cannot be compared with anything or anybody.  It is selfless, unconditional love, aching for the betterment and success of HIS devotees.  All HE wants us in life is to cast our burden on HIM and for us to march ahead to fulfil our spiritual goal.  He is there to ward of every danger, peril, disappointment and hurdle in our life.  All He wants us is to trust HIM and give HIM our burdens, HE is there to carry them for us all our life. Here is the message of the week from baba......
 
"This is our Dwarakamayi, where you are sitting. She wards off all dangers and anxieties of the children, who sit on her lap. This Masjidmayi is very merciful, she is the mother of the simple devotees, whom she will save in calamities. Once a person sits on her lap, all his troubles are over. He, who rests in her shade, gets Bliss".

MAY BABA SAI BLESS YOU ALL......

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 10, 2008, 10:22:52 AM
जय सांई राम।।।

एक बार भगवान बुद्ध को प्यास लगी। उन्होंने अपने शिष्य आनंद को पास के तालाबसे पानी लेने भेजा। उस तालाब में थोड़ी देर पहले कुछ पशु नहाये थे, जिनसे उस तालाब का पानी गंदा हो गया था। शिष्य बिना पानी लिये वापस आ गया और बुद्ध को हाल सुनाकर बोला – मैं किसी और नदी से पानी ले आता हूँ।

किंतु बुद्ध ने उसी तालाबसे पानी लाने को पुनः कहा। पानी तो अब भी गंदा था। तीन बार ऐसा करने के बाद जब चौंथी बार आनंद पानी लेने गया तो पानी तब तक साफ हो चुका था क्योंकि सारी गंदगी निचे बैठ चुकी थी। तब स्वच्छ जल लेकर बुद्ध के पास आ गये।

पानी पीते हुये भगवान बुद्ध ने कहा – आनंद, हमारे जीवन का जल भी कुविचार रूपी पशु लौटने से गंदा होता रहता है। हम उससे डरकर भाग खड़े होते हैं। यदि हम भागें नही, मन के शांत होने की प्रतीक्षा करें तो सब कुछ साफ हो जायेगा। बिलकुल तालाब के पानी की तरह।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 11, 2008, 05:59:14 AM
जय सांई राम।।।

एक सबक  

एक आदमी पत्थर काटने का काम करता था , लेकिन वह ख़ुद से खुश नही था । उसे लगता था की काम बहुत ही निचले दर्जे का है और वह इससे भी बेहतर कुछ कर सकता है ।उसने पत्थर काटने का काम बंद दिया और नौकरी खोजने के लिए निकल पड़ा ।

एक दिन वह नौकरी के सिलसिले में एक व्यापारी से मिलने गया । वहा उसने एक व्यापारी का घर देखा । घर देखते ही उसके मन में ख्याल आया की काश ! वह भी एक आमिर व्यापारी बन पता और उसके पास भी इतना ही आलिशान मकान होता । भगवान ने उसकी सुन ली और उसे एक व्यापारी बना दिया । दिन बीतते गए और एक दिन राजा का मंत्री राज्य के दोरे पर निकला । उसने देखा की राजा का एक मंत्री दुसरे व्यापारी के घर आ रहा हैं । डरा हुआ व्यापारी मंत्री के आगे घुटने के बल झुक गया । मंत्री कितना शक्तिशाली हैं । उसने सोचा की काश ! भगवन मुझे भी एक मंत्री बना देता और भगवान् ने एक बार फिर से उसकी सुन ली और उसे मंत्री बना दिया ।

मंत्री बनाने के बाद उसे लगातार राज्य के दौरे करने पड़ते । एक दिन भरी दोपहरी में जब सूरज अपनी पुरी गरमी के साथ चमक रहा था । मंत्री बने आदमी को लगा की सूरज ही सबसे ज्यादा शक्तिशाली हैं और उसने सूरज बनाने की इच्छा की । भगवान् ने उसे सूरज भी बना दिया । सूरज बनने के बाद उसने महसूस किया की बादल सूरज की किरण को रोक देते हैं उसे लगा की बादल बनकर वह ज्यादा खुश होगा और भगवान् ने उसे बादल बना दिया ।

तब उसने सोचा की हवा सबसे ज्यादा शक्तिशाली है ।बादलों को उड़ाकर ले जाती है और हवा मकान को भी गिरा सकती है , लेकिन चट्टान को नही हिला सकती । उसने सोंचा काश ! मैं चट्टान होता ! जो सबसे ज्यादा मजबूत है । और भगवान् ने उसे चट्टान बना दिया ।फिर एक दिन चट्टान ने देखा , हथोड़ा और छैनी लिए एक पत्थर काटने वाला चट्टान की तरफ चला आ रहा था । शायद वो उसी चट्टान को काटने आ रहा था ।

गौरतलब : कोई भी सम्पूर्ण नही होता, प्रत्येक व्यक्ति अपने आप में विशिष्ट है। अपने गुण और संसाधन पहचान कर उनका बेहतरीन उपयोग कीजिये, आप एक संतुष्ट व्यक्ति होंगे ।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 12, 2008, 04:50:42 AM
जय सांई राम।।।

चीन के प्रसिद्व दार्शनिक चेगंचुंग बहुत बीमार थें । उनके बचने की आशा नही थी । उस समय शिष्य माओत्से ने उन्हे कहा-मुझे कुछ ज्ञान देने की कृपा करे ।

चेंगचुंग ने अपना मुंह खोला और कहा - क्या मेरे दांत हैं?

नही! माओत्से ने जबाब दिया।

और जीभ ? दार्शनिक ने पूछा।

माओत्से ने जबाब दिया। हाँ!

दांत गिर गए पर जीभ मौजूद हैं क्या तुम इसका मतलब जानते हो? नही। दांत कठोर हैं, और जीभ कोमल हैं। चेंगचुंग ने इसका अर्थ समझाते हुए कहा जो आदमी अपने जीवन में कोमल और नम्र रहता हैं वह सदा सफल होता हैं।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 17, 2008, 02:52:11 AM
जय सांई राम़।।।

भक्त का अहंकार  

एक बार देवर्षि नारद ने भगवान विष्णु से पूछा, भगवान आप का सबसे बड़ा भक्त कौन है। भगवान विष्णु नारद के मन की बात समझ गए। उन्होंने कहां, अमुक गांव का अमुक किसान हमारा सबसे प्रिय भक्त है। भगवान विष्णु का उत्तर सुन कर नारद जी को निराशा हुई। वह बोले, भगवान आप का प्रिय भक्त तो मैं भी हूं फिर सबसे प्रिय क्यों नहीं। भगवान विष्णु ने कहा, तुम उस किसान के यहां जाकर उसकी दिन भर की दिनचर्या देख कर मुझे आकर बताओ फिर मैं बताऊंगा। नारद उस विष्णु भक्त किसान के घर पहुंचे। उन्होंने देखा कि किसान सुबह उठ कर कुछ देर भगवान विष्णु का स्मरण किया फिर रूखी सूखी रोटी खा कर हल बैल लेकर खेत जोतने चला गया। शाम को लौटा तो बैलों को चारा पानी दिया। उसके बाद थोड़ी देर के लिए भगवान का नाम लिया और रात को खाना खाकर सो गया। एक दिन उस किसान के घर रह कर नारद जी भगवान विष्णु के पास आए और उसकी आंखों देखी दिनचर्या के बारे में बताया। अंत में नारद ने कहा, प्रभु उसके पास तो आप का नाम लेने का समय भी नहीं है फिर वह आप का सबसे प्रिय भक्त कैसे बन गया। मैं तो दिन रात आप का नाम जपने के सिवाय कोई काम करता ही नहीं फिर भला वह किसान कैसे आप का सबसे प्रिय भक्त बन गया।

भगवान विष्णु उस बात को टालते हुए नारद को एक लबालब भरा अमृत कलश देते हुए कहा, देवर्षि तुम इस कलश को लेकर त्रैलोक्य की परिक्रमा करो। लेकिन यह ध्यान रखना कि इसकी एक बूंद भी छलकने न पाए। यदि एक बूंद भी नीचे गिरी तो तुम्हारा अब तक का किया गया सारा पुण्य खत्म हो जाएगा।

नारद अमृत कलश लेकर तीनों लोको की यात्रा पर निकल गए और यात्रा पूरी करके वह भगवान विष्णु को कलश देते हुए कहा, प्रभु कलश से एक बूंद भी अमृत नहीं छलकने पाई। भगवान विष्णु ने कहा- नारद, परिक्रमा के दौरान तुमने कितनी बार मेरा नाम स्मरण किया था। नारद ने कहा, प्रभु परिक्रमा के दौरान तो मेरा ध्यान इस कलश पर केंद्रित था इसलिए एक बार भी आप का स्मरण नहीं कर पाया। भगवान विष्णु ने हंस कर कहा, जब तुम परिक्रमा के दौरान एक बार भी अपना ध्यान कलश से हटा कर मेरा स्मरण नहीं कर सके जब कि वह किसान अपने सभी काम करते हुए भी कम से कम दो बार नियमित रूप से मेरा स्मरण करना नहीं भूलता तो वह सबसे बड़ा भक्त हुआ या आप। सबसे प्रिय भक्त हो होता है जो अपना कर्म करते हुए प्रेम से मेरा स्मरण भी करता है। नारद जी को सबसे प्रिय भक्त होने का अहंकार खत्म हो गया।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 18, 2008, 02:20:46 AM
जय सांई राम़।।।

कबीर की लालटेन  

कबीर जी रोज सत्संग किया करते थे, लोग आते और चले जाते। एक आदमी सत्संग खत्म हो गया फिर भी बैठा रहा। कबीर जी बोले क्या बात है वो इन्सान बोला मैं तो काफी दूर से आया हूँ मुझे आपसे कुछ पूछना है। क्या पूछना है? कबीर बोले।

वो कहने लगा मैं गृहस्थी हूँ मेरा घर में झगड़ा होता रहता है। उसके बारे में जानना चाहता हूँ की झगड़ा कैसे दूर हो तो कबीर जी चुप रहे थोड़ी देर में कबीर जी ने अपनी पत्नी से कहा लालटेन जला के लाओ। कबीर की पत्नी लालटेन जला कर ले आई। कबीर जी के पास रख दी वो आदमी भी वही बैठा था सोच रहा था इतनी दोपहर है और लालटेन माँगा ली। खैर! मुझे इससे क्या।

फिर कबीर जी बोले कुछ मीठा दे जाना। तों उनकी स्त्री नमकीन देकर चली गयी। उस आदमी ने फिर सोचा यह तो शायद पागलो का घर है मीठा के बदले नमकीन, दिन में लालटेन, वो आदमी बोला कबीर जी मैं चलता हूँ। मन में सोचने लगा कहाँ फँस गया।

कबीर जी समझ गए तो बोले आपको आपके झगड़े का हल मिला की नहीं। वो बोला क्या मिला? कुछ नहीं।

कबीर जी ने कहा जैसे मैंने लालटेन मंगवाई घर वाली कह सकती थी की तुम क्या सठीया गए हो इतनी दोपहर में क्या करोगे।

उसने सोचा होगा किसी काम के लिये लालटेन मंगवाई होगी ।मीठा मंगवाया तों नमकीन देकर चली गयी, हो सकता है घर में न हो पर में भी चुप रहा। इसमे तकरार क्या?

तुम भी समझो तकरार करना छोड़ो। एक-दुसरे की बात को समझो । आपसी विश्वास बनाओ। वो आदमी हैरान था यह सब इन्होंने मेरे लिये किया। उसको समझ आने लगी गृहस्थी में तालमेल आपसी विश्वास बहुत जरुरी है। आदमी से गलती हो तो औरत संभले । औरत से गलती हो तो भी क्या है उसको भी क्या है गलती तो इन्सान से हो ही जाती है।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 22, 2008, 04:43:32 AM
जय सांई राम़।।।

चन्दन का बगीचा  

एक राजा जंगल देखता-देखता बहुत दूर निकल गया । घना जंगल था भूख भी लगी थी। राजा को रास्ता सूझ नहीं रहा था, परेशान था। एक लड़का वहाँ लकडी काट रहा था। राजा ने उसे बुलाया उसने राजा की बहुत सेवा की रात भर अपने पास रख जो भी उसके पास था राजा को दिया, उसने ख़ुद कुछ नहीं लिया। सुबह हुई राजा बोला मैं राजा हूँ तुम मेरे पास आना मैं तुम्हे कुछ दूंगा। तुम क्या करते हो वो बोला मैं लकड़ी कट कर इसका कोयला बनाता हूँ और बेचता हूँ।

कुछ दिन बीत जाने पर वो राजा को मिलने गया। राजा ने उसे एक चंदन का बगीचा दे दीया जिसमें सौ पेड़ चंदन के लगे थे और कहा आज से यह बगीचा तेरा है। जैसा तुम चाहो करो वो लड़का बगीचे में रहने लग गया और अपना काम करता रहा।

बहुत दिनो के बाद एक दिन राजा को ध्यान आया वो लड़का अब अमीर बन गया होगा  क्यो न उसका पता किया जाए। वजीर बुलाया,  बोला - जाओ पता करो लड़का कैसा है। वजीर आया बोला महाराजा वो लड़का तो वैसे का वैसा ही है।

कोई बदलाव नहीं! राजा बड़ा हैरान था इतना कीमती बगीचा उसको दिया वो फिर वैसा ही है। राजा ने लड़के को बुलाया और पूछा तुझे चंदन का बाग़ दिया था उसका क्या किया। उसने कहा " उनको जलाकर कोयला बनाता गया और बेचता गया। "

रजा ने कहा, "ओ मूर्ख तुछे चंदन और दुसरी लकड़ी में फर्क नजर नहीं आया तू कैसा अभागा इन्सान है तू चंदन में रह कर भी उसकी सुगंध नहीं ले सका।"

यह चंदन जैसा शरीर परमात्मा ने दिया है जिसको इन्सान, झूठ, फरेब, मक्कारी, लालच में गुजार देता है । तुझे यह नहीं मिला मुझे वो नहीं मिला। चंदन जैसे शरीर को कोयला जैसी संसारी चीजों में लगा कर कुछ टाईम बाद इन्सान को जब होश आता है बुढापे में तों वह सोंचता है की जिन्दगी में वह कुछ भी हासिल न कर सका। जब हाथों में दम नहीं होती तो होश आती है। ज्यादातर लोग बाग़ काटकर ही समझ पाते हैं। जरुरत हैं इस चन्दन रूपी शरीर के सही उपयोग की।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: fatima on May 25, 2008, 06:57:12 AM
The Moon Cannot Be Stolen
by Unknown

 
Ryokan, a Zen master, lived the simplest kind of life in a little hut at the foot of a mountain. One evening a thief visited the hut only to discover there was nothing to steal.

Ryokan returned and caught him. "You have come a long way to visit me," he told the prowler, "and you should not return empty-handed. Please take my clothes as a gift."

The thief was bewildered. He took the clothes and slunk away.

Ryoken sat naked, watching the moon. "Poor fellow," he mused, "I wish I could have given him this beautiful moon."   
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: fatima on May 25, 2008, 07:03:14 AM

 

Flower In The Desert

by Loki

This happened many many summers ago.

There was a young flower in the desert where all was dry and sad looking...It was growing by itself...enjoying every day...and saying to the sun "When shall I be grown up"? And the sun would say "Be patient"---Each time I touch you,you grow a little"...And she was so pleased.Because she would have a chance to bring beauty to this corner of sand...And this is all she wanted to do---bring a little bit of beauty to this world.

One day the hunter came by---and stepped on her.---She was going to die---and she felt so sad.Not because she was dying ---but because she would not have a chance to bring a little bit of beauty to this corner of the desert.

The great spirit saw her, and was listening.---Indeed,he said ...She should be living...And he reached down and touched her---and gave her life.

And she grew up to be a beautiful flower...and this corner of the desert became so beautiful because of her.  
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on May 26, 2008, 01:05:55 AM
जय सांई राम।।।

सुख की परिभाषा   

पुराने जमाने की बात है। एक राजा था। उसे अपने विशाल साम्राज्य और धन-संपत्ति पर बहुत अभिमान था। एक दिन एक साधु उसके पास आया। उसने राजा को देखकर ही भांप लिया कि वह धन और सत्ता के मद में चूर है, लेकिन अंदर से खोखला है। राजा ने साधु से पूछा, 'ऐ भिखारी, बोलो तुम्हें क्या चाहिए?' साधु ने मुस्कराते हुए कहा, 'राजन्, मैं आप से कुछ लेने नहीं, आप को कुछ देने आया हूं।' इससे राजा के अहं को ठेस पहुंची।

उसने सोचा कि आखिर एक साधु उसे कुछ देने का साहस कैसे कर सकता है। राजा ने उसे डांटते हुए कहा, 'छोटा मुंह बड़ी बात मत कर। जिसके पास फूटी कौड़ी भी नहीं वह मुझ जैसे बड़े शासक को क्या दे सकता है। जो स्वयं भीख मांगकर गुजारा करता है उसके पास देने के लिए है ही क्या?'

साधु बोला, 'आप ठीक कहते हैं। आपके पास बहुत कुछ है जो मेरे पास नहीं है, लेकिन याद रखें मुझ जैसे लोगों के पास वह होता है जो आप जैसे वैभवशाली लोगों के पास नहीं होता।' राजा का क्रोध और बढ़ा। उसने चिल्लाकर कहा, 'तुम जैसे लोगों के साथ हमारी तुलना कैसे हो सकती है।' इस पर साधु ने कहा, 'महाराज, बिना त्याग के भोग बेस्वाद है। जब वैभव में त्याग जुड़ जाता है तो वैभव महक उठता है। त्याग के आते ही अहंकार मिट जाता है, आसक्ति दूर हो जाती है तथा भीतर की आंखें खुल जाती हैं। इस बात का स्मरण रखें कि धन से सब कुछ प्राप्त नहीं हो सकता। धन से औषधि खरीद सकते हैं स्वास्थ्य नहीं। पैसे से बिस्तर खरीदा जा सकता है नींद नहीं। धन से सुविधा मिल सकती है शांति नहीं। मैं आपको यही सीख दे रहा हूं, जो आपके पास नहीं है।'

साधु की इन बातों का राजा पर गहरा असर हुआ। उसने उससे क्षमा मांगी। उस दिन से उसका व्यवहार बदल गया।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES (The Gurudakshina)
Post by: fatima on May 26, 2008, 05:42:37 AM
The gurudakshina

Ekalavya, was the only son of Hiranyadhanu, the King of Nishada. The people who lived in Nishada were tribals whose main occupation was hunting.

Ekalavya had an ardent desire to learn the art of archery from Dronacharya, an expert archer. So, he left for Hastinapur to become Dronacharya's disciple and learn archery. But the great master refused to accept Ekalavya as his disciple on the grounds that he was not a Kshatriya.

Ekalavya was very disappointed but he was determined to be a great archer. He returned to the forest and made a statue of Dronacharya using clay. He treated this statue as his Guru and practiced archery everyday in front of the statue, after prostrating before it. Practising with dedication and concentration, soon Ekalavya mastered the art of archery.

One day, Dronacharya happened to take his disciples to the forest where Ekalavya lived, to teach them hunting. He noticed bow marks on the barks of trees. Just then, a hound standing near Dronacharya started barking and within seconds, the hound's mouth was covered by seven arrows. Dronacharya and Arjuna were stunned by such accuracy. They started looking out for the skilled archer and found that it was none other than Ekalavya.

Dronacharya and Arjuna introduced themselves to Ekalavya. Ekalavya's happiness knew no bounds. Dronacharya asked Ekalavya who his guru was. Ekalavya took Dronacharya to the statue and told him that his Guru was Dronacharya, an expert archer and a great warrior. He told the master that he practised archery everyday in front of the statue imagining that his Guru was physically present. It was then that Dronacharya recollected Ekalavya's request to teach him archery.

Dronacharya then asked Ekalavya to demonstrate his skill in archery .All the princes present there were astonished with Ekalavya's skill. Although Dronacharya admired Ekalavya's skill, he did not want anyone to excel Arjuna in archery.

He told Ekalavya that since he was his Guru, Ekalavya would have to give him something as Gurudakshina (a fee for the guru). Ekalavya agreed to do so. Dronacharya asked Ekalavya to cut his right thumb and offer it to him as his fee.

Ekalavya realised that Dronacharya's intention was to disable him from any further archery which would ensure that Arjuna remained the greatest archer in the world. But so great was Ekalavya's devotion to his Guru that he cut off his right thumb and offered it to Dronacharya as his Gurudakshina.

Even today, Ekalavya is considered a shining example of a dedicated and devoted student
Title: Re: SMALL STORIES *~*{ Does God Still Speak To Us? }~*~
Post by: Sai ka Tej on May 26, 2008, 07:54:30 AM
JAI SAI RAM  :)

Does God Still Speak To Us?  

A young man had been to Wednesday night Bible Study. The Pastor had shared about listening to God and obeying the Lord's voice. The young man couldn't help but wonder, "Does God still speak to people?"

After service he went out with some friends for coffee and pie and they discussed the message. Several different ones talked about how God had led them in different ways. It was about ten o'clock when the young man started driving home. Sitting in his car, he just began to pray, "God.. If you still speak to people speak to me. I will listen. I will do my best to obey." 

As he drove down the main street of his town, he had the strangest thought, stop and buy a gallon of milk. He shook his head and said out loud, "God is that you?" He didn't get a reply and started on toward home. But again, the thought, buy a gallon of milk. The young man thought about Samuel and how he didn't recognize the voice of God, and how little Samuel ran to Eli. "Okay, God, in case that is you, I will buy the milk." It didn't seem like too hard a test of obedience. He could always use the milk. 

He stopped and purchased the gallon of milk and started off toward home. As he passed Seventh street, he again felt the urge, "Turn down that street." This is crazy he thought and drove on past the intersection. 

Again, he felt that he should turn down Seventh Street. At the next intersection, he turned back and headed down Seventh. Half jokingly, he said out loud, "Okay, God, I will". He drove several blocks, when suddenly, he felt like he should stop. 

He pulled over to the curb and looked around. He was in a semi- commercial area of town. It wasn't the best but it wasn't the worst of neighborhoods either. The businesses were closed and most of the houses looked dark like the people were already in bed. 

Again, he sensed something, "Go and give the milk to the people in the house across the street." The young man looked at the house. It was dark and it looked like the people were either gone or they were already asleep. 

He started to open the door and then sat back in the car seat. "Lord, this is insane. Those people are asleep and if I wake them up, they are going to be mad and I will look stupid." 

Again, he felt like he should go and give the milk. Finally, he opened the door, "Okay God, if this is you, I will go to the door and I will give them the milk. If you want me to look like a crazy person, okay. I want to be obedient. I guess that will count for something but if they don't answer right away, I am out of here." 

He walked across the street and rang the bell. He could hear some noise inside. A man's voice yelled out, "Who is it? What do you want?" Then the door opened before the young man could get away. 

The man was standing there in his jeans and t-shirt. He looked like he just got out of bed. He had a strange look on his face and he didn't seem too happy to have some stranger standing on his doorstep. "What is it?" The young man thrust out the gallon of milk, "Here, I brought this to you." 

The man took the milk and rushed down a hallway speaking loudly in Spanish. Then from down the hall came a woman carrying the milk toward the kitchen. The man was following her holding a baby. The baby was crying. The man had tears streaming down his face. The man began speaking and half crying, "We Were just praying. We had some big bills this month and we ran out of money. We didn't have any milk for our baby. I was just praying and asking God to show me how to get some milk." 

His wife in the kitchen yelled out, "I ask him to send an Angel with some. Are you an Angel?" The young man reached into his wallet and pulled out all the money he had on him and put in the man's hand. 

He turned and walked back toward his car and the tears were streaming down his face. He knew that God still answers prayers. 

SAI RAM  :)
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on May 28, 2008, 12:20:44 AM
ॐ सांई राम~~~

तेनालीराम और उपहार~~~

विजयनगर के राजा कृष्णदेव राय के दरबार में एक दिन पड़ोसी देश का दूत आया। यह राजा कृष्णदेव राय के लिए अनेक उपहार भी लाया था। विजयनगर के राजदरबारियों ने दूत का खूब स्वागत-सत्कार किया। तीसरे दिन जब दूत अपने देश जाने लगा तो राजा कृष्णदेव राय ने भी अपने पड़ोसी देश के राजा के लिए कुछ बहुमूल्य उपहार दिए।

राजा कृष्णदेव राय उस दूत को भी उपहार देना चाहते थे, इसलिए उन्होंने दूत से कहा-‘हम तुम्हें भी कुछ उपहार देना चाहते हैं। सोना-चाँदी, हीरे,रत्न, जो भी तुम्हारी इच्छा हो, माँग लो।’ ‘महाराज, मुझे यह सब कुछ नहीं चाहिए। यदि देना चाहते हैं तो कुछ और दीजिए।’ दूत बोला। ‘महाराज, मुझे ऐसा उपहार दीजिए, जो सुख में दुख, में सदा मेरे साथ रहे और जिसे मुझसे कोई छीन न पाए।’ यह सुनकर राजा कृष्णदेव राय चकरा गए।

उन्होंने उत्सुक नजरों से दरबारियों की ओर देखा। सबके चेहरों पर परेशानी के भाव दिखाई दे रहे थे। किसी की भी समझ में नहीं आ रहा था कि ऐसा कौन-सा उपहार हो सकता है। तभी राजा कृष्णदेव राय को तेनालीराम की याद आई। वह दरबार में ही मौजूद था। राजा ने तेनालीराम को संबोधित करते हुए पूछा-‘क्या तुम ला सकते हो ऐसा उपहार जैसा दूत ने माँगा है?’ ‘अवश्य महाराज, दोपहर को जब यह महाशय यहाँ से प्रस्थान करेंगे, वह उपहार इनके साथ ही होगा।’ नियत समय पर दूत अपने देश को जाने के लिए तैयार हुआ। सारे उपहार उसके रथ में रखवा दिए गए।

जब राजा कृष्णदेव राय उसे विदा करने लगे तो दूत बोला-‘महाराज, मुझे वह उपहार तो मिला ही नहीं, जिसका आपने मुझसे वायदा किया था।’ राजा कृष्णदेव राय ने तेनालीराम की ओर देखा और बोले-‘तेनालीराम, तुम लाए नहीं वह उपहार?’ इस पर तेनालीराम हँसकर बोला, ‘महाराज, वह उपहार तो इस समय भी इनके साथ ही है। लेकिन यह उसे देख नहीं पा रहे हैं। इनसे कहिए कि जरा पीछे पलटकर देखें।’

दूत ने पीछे मुड़कर देखा, मगर उसे कुछ भी नजर न आया। वह बोला-‘कहाँ है वह उपहार? मुझे तो नहीं दिखाई दे रहा।’ तेनालीराम मुस्कुराए और बोले-‘जरा ध्यान से देखिए दूत महाशय, वह उपहार आपके पीछे ही है-आपका साया अर्थात आपकी परछाई। सुख में, दुख में, जीवन-भर यह आपके साथ रहेगा और इसे कोई भी आपसे नहीं छीन सकेगा।’ यह बात सुनते ही राजा कृष्णदेव राय की हँसी छूट गई। दूत भी मुस्कुरा पड़ा और बोला-‘महाराज, मैंने तेनालीराम की बुद्धिमता की काफी तारीफ सुनी थीं, आज प्रमाण भी मिल गया।’ तेनालीराम मुस्कराकर रह गया।

जय सांई राम~~~

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on May 28, 2008, 06:16:07 AM
Om Sai Ram~~~

A Spider's Web is Stronger Than a Brick Wall~~~

During World War II, a US marine was separated from his unit on a Pacific island. The fighting had been intense,
and in the smoke and the crossfire he had lost touch with his comrades.

Alone in the jungle, he could hear enemy soldiers coming in his
direction. Scrambling for cover, he found his way up a high ridge to several small caves in the rock. Quickly he crawled
inside one of the caves. Although safe for the moment, he realized that once the enemy soldiers looking for him swept
up the ridge, they would quickly search all the caves and he would be killed.

As he waited, he prayed, "Lord, if it be your will, please protect me. Whatever your will though, I love you and trust you. Amen."

After praying, he lay quietly listening to the enemy begin to draw
close. He thought, "Well, I guess the Lord isn't going to help me out of this one." Then he saw a spider begin to
build a web over the front of his cave.

As he watched, listening to the enemy searching for him all the while, the spider layered strand after
strand of web across the opening of the cave.

"Hah, he thought. "What I need is a brick wall and what the Lord has sent me is a spider web. God does have a sense of humor."

As the enemy drew closer he watched from the darkness of his hideout and could see them searching one cave after another.
As they came to his, he got ready to make his last stand. To his amazement, however, after glancing in the direction of his
cave, they moved on. Suddenly, he realized that with the spider web over the entrance, his cave looked as if no one had
entered for quite a while.

Lord, forgive me," prayed the young man. "I had forgotten that in you a spider's web is stronger than a brick wall."


We all face times of great trouble. When we do, it is so easy to
forget what God can work in our lives, sometimes in the most surprising ways.
And remember with God, a mere spider's web becomes a brick wall of protection


Jai Sai Ram~~~.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on June 02, 2008, 05:39:06 AM
[size=11t]ॐ सांई राम~~~

अकबर बीरबल: रेत और चीनी~~~

बादशाह अकबर के दरबार की कार्यवाही चल रही थे, तभी एक दरबारी हाथ मी शीशे का एक मर्तबान लिए वहाँ आया
बादशाह ने पूछा "क्या है इस मर्तबान मे ?"
दरबारी बोला "इसमे रेत और चीनी का मिश्रण है "
"वह किसलिए" फ़िर पूछा अकबर ने
"माफ़ी चाहता हूँ हुजुर" दरबारी बोला, "हम बीरबल की काबिलियत को परखना चाहते हैं, हम चाहते हैं की वह रेत से चीनी का दाना दाना अलग कर दे"
बादशाह अब बीरबल से मुखातिब हुए, "देख लो बीरबल, रोज ही तुम्हारे सामने एक नई समस्या रख दी जाती है, अब तुम्हे बिना पानी मे घोले इस रेत मे से चीनी को अलग करना है "
"कोई समस्या नहीं जहाँपनाह" बीरबल बोले, यह तो मेरे बाएँ हाथ का काम है, कहकर बीरबल ने मर्तबान उठाया और चल दिया दरबार से बाहर !
बीरबल बाग़ मे पहुंचकर रुका और मर्तबान मे भरा सारा मिश्रण आम के एक बड़े पेड़ के चारो और बिखेर दिया
"यह तुम क्या कर रहे हो? " एक दरबारी ने पूछा
बीरबल बोले, "यह तुम्हे कल पता चलेगा"
अगले दिन फ़िर वे सभी उस आम के पेड़ के नीचे जा पहुंचे, वहाँ अब केवल रेत पड़ी थी, चीनी के सारे दाने चीटियाँ बटोर कर अपने बिलों मे पहुंचा चुकी थीं, कुछ चीटियाँ तो अभी भी चीनी के दाने घसीट कर ले जाती दिखायी दे रही थीं !
"लेकिन सारी चीनी कहाँ चली गई ?" दरबारी ने पूछा
"रेत से अलग हो गई" बीरबल ने कहा
सभी जोर से हंस पड़े,
बादशाह ने दरबारी से कहा की अब तुम्हे चीनी चाहिये तो चीटियों के बिल मे घुसों"
सभी ने जोर का ठहाका लगाया और बीरबल की अक्ल की दाद दी~~~

जय सांई राम~~~[/size]
Title: Re: SMALL STORIES ---------The Three Little Trees
Post by: fatima on June 03, 2008, 03:14:32 AM
Once upon a mountain top, three little trees stood and dreamed of what they wanted to become when they grew up.

The first little tree looked up at the stars and said: "I want to hold treasure. I want to be covered with gold and filled with precious stones. I'll be the most beautiful treasure chest in the world!"

The second little tree looked out at the small stream trickling by on it's way to the ocean. "I want to be traveling mighty waters and carrying powerful kings. I'll be the strongest ship in the world!"

The third little tree looked down into the valley below where busy men and women worked in a busy town. "I don't want to leave the mountain top at all. I want to grow so tall that when people stop to look at me, they'll raise their eyes to heaven and think of God. I will be the tallest tree in the world."

Years passed. The rain came, the sun shone, and the little trees grew tall. One day three woodcutters climbed the mountain.

The first woodcutter looked at the first tree and said, "This tree is beautiful. It is perfect for me." With a swoop of his shining axe, the first tree fell. "Now I shall be made into a beautiful chest, I shall hold wonderful treasure!" The first tree said.

The second woodcutter looked at the second tree and said, "This tree is strong. It is perfect for me." With a swoop of his shining axe, the second tree fell. "Now I shall sail mighty waters!" thought the second tree. "I shall be a strong ship for mighty kings!"

The third tree felt her heart sink when the last woodcutter looked her way. She stood straight and tall and pointed bravely to heaven. But the woodcutter never even looked up. "Any kind of tree will do for me. "He muttered. With a swoop of his shining axe, the third tree fell.

The first tree rejoiced when the woodcutter brought her to a carpenter's shop. But the carpenter fashioned the tree into a feedbox for animals. The once beautiful tree was not covered with gold, nor with treasure. She was coated with sawdust and filled with hay for hungry farm animals.

The second tree smiled when the woodcutter took her to a shipyard, but no mighty sailing ship was made that day. Instead the once strong tree was hammered and sawed into a simple fishing boat. She was too small and too weak to sail to an ocean, or even a river; instead she was taken to a little lake.

The third tree was confused when the woodcutter cut her into strong beams and left her in a lumberyard. "What happened?" The once tall tree wondered. "All I ever wanted was to stay on the mountain top and point to God."

Many many days and night passed. The three trees nearly forgot their dreams. But one night, golden starlight poured over the first tree as a young woman placed her newborn baby in the feedbox. "I wish I could make a cradle for him," her husband whispered. The mother squeezed his hand and smiled as the starlight shone on the smooth and the sturdy wood." This manger is beautiful," she said. And suddenly the first tree knew he was holding the greatest treasure in the world.

One evening a tired traveler and his friends crowded into the old fishing boat. The traveler fell asleep as the second tree quietly sailed out into the lake. Soon a thundering and thrashing storm arose. The little tree shuddered. She knew she did not have the strength to carry so many passengers safely through with the wind and the rain. The tired man awakened. He stood up, stretched out his hand, and said, "Peace." The storm stopped as quickly as it had begun. Suddenly the second tree knew he was carrying the king of heaven and earth.

One Friday morning, the third tree was startled when her beams were yanked from the forgotten woodpile. She flinched as she was carried through an angry jeering crowd. She shuddered when soldiers nailed a man's hands to her. She felt ugly and harsh and cruel. But on Sunday morning, when the sun rose and the earth tremble with joy beneath her, the third tree knew that God's love had changed everything. It had made the third tree strong. And every time people thought of the third tree, they would think of God. That was better than being the tallest tree in the world.  

So next time you feel down because you didn't get what you want, just sit tight and be happy because God is thinking of something better to give you.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on June 05, 2008, 03:46:07 AM
जय सांई राम़।।।

परमात्मा पर विश्वास  

एक राजा था। वह अपनी प्रजा का पालन अपनी संतान के समान करता था।

एक बार संयोग से राजा की उंगली पर घाव निकल गया। पीड़ा से बेचैन होकर राजा ने मंत्री को बुलवाया। मंत्री ने दर्द से बेहाल राजा को सांत्वना देते हुए कहा," परमात्मा जो करता है, अच्छा ही करता है।"

राजा सोचने लगा, यह मंत्री कितना पत्थर दिल है। इस हालत में भी मुझ पर इसे दया नहीं आती! कुछ समय बाद रोग के बढ़ जाने पर राजा की उंगली गल गई। वह अपने जीवन के बारे में भी निराश हो गया। उसने फिर मंत्री को बुलवाया। मंत्री ने इस बार भी वही पुराना विश्वास दोहराया। क्रोध से जल-भुन कर राजा ने सोचा, यह दुष्ट मंत्री बहुत ही कृतघ्न है। स्वस्थ हो जाने पर मैं अवश्य ही इसको मौत के घाट उतार दूंगा।

कुछ दिनों बाद जब राजा स्वस्थ हो गया और एक दिन राजा और मंत्री दोनों शिकार पर गए। दोनों घोड़े से जा रहे थे। राजा को मंत्री के प्रति गुस्सा था ही। थोड़ा आगे बढ़ने के बाद सामने एक सूखे हुआ कुएं को देखकर राजा के मन में प्रतिशोध लेने का पाप समा गया। उसने तेजी से झटका देकर मंत्री को कुएं में गिरा दिया। उस समय भी मंत्री ने वही पुराने शब्द दोहराए। राजा को लगा कि मंत्री मर गया। राजा अब अकेला हो गया। सैनिक जंगल में कहीं बिछड़ गए थे और सूर्य देवता भी अपनी किरणें समेटकर अस्त हो गए। राजा को जंगल से बाहर निकलने का मार्ग नहीं सूझ रहा था। जंगली जानवर इधर-उधर नजर आ रहे थे। राजा डर के मारे एक वृक्ष पर चढ़कर जा छिपा। उसने घोड़े को वृक्ष के नीचे बांध दिया था। अब रात काफी घनी हो चुकी थी। इतने में किसी दूसरे राजा के सैनिकों का बहुत बड़ा दल उस भयानक जंगल में अपने राजा के मानव बलि के संकल्प के लिए मनुष्य की तलाश में घुस आया। घोड़े को वृक्ष के साथ बंधा देखकर उनको विश्वास हो गया कि इसका सवार भी अवश्य ही आस-पास छिपा बैठा होगा!

वे लोग मन ही मन प्रसन्न हो रहे थे कि यदि कोई मनुष्य उनके हाथ लग जाएगा, तो वे उसे प्रात: काल राजा के पास ले जाएंगे। राजा देवी को उसकी बलि चढ़ाकर अपना संकल्प पूरा कर लेगा और उनके कर्तव्य का पालन भी हो जाएगा। पल भर में उनमें से एक सैनिक कूदकर वृक्ष पर जा चढ़ा और राजा को बांधकर नीचे उतार लाया। राजा को घोड़े पर बिठाकर वे विजय के गीत गाते हुए अपने राज्य की ओर चल पड़े और हाथ लगे शिकार को अपने स्वामी की सेवा में हाजिर कर दिया।

अब बलि देने की तैयारियां शुरू हो गई। अभी जल्लाद ने तलवार उठाई ही थी कि राजा की नजर बलि जीव के कटे हुए अंग पर जा टिकी। राजा हैरान होकर चिल्ला उठा, अरे पापियों, यह क्या कर रहे हो? तुम नहीं जानते कि अंगभंग मनुष्य की बलि नहीं दी जाती! हटाओ इसे यहां से। फिर क्या था, राजा अपने प्राणों की खैर मनाता हुआ वहां से तत्काल भाग निकला।

राजधानी लौटते हुए मार्ग में राजा के विचारों ने पलटा खाया। सोचने लगा कि मंत्री का विश्वास कितना सही है। उंगली कटी होने के कारण ही मेरी जान बची है। तभी राजा सोचने लगा कि अब मैं शीघ्र ही अपने नेक दिल मंत्री के पास जाता हूं। मैने नाहक उसकी हत्या करने की कोशिश की।

कुएं के पास पहुंचकर राजा जोर से पुकारने लगा। हे धर्मात्मा बंधुवर! क्या तुम अब भी जिंदा हो? राजा के वचन सुनकर मंत्री ने उत्तर दिया, राजन्! मैं कुएं में मृत्यु तुल्य जीवन बिता रहा हूं। इच्छा हो, तो मुझे निकालिए। राजा ने मंत्री को कुएं से बाहर निकाला। बार-बार दोष स्वीकार करते हुए उससे क्षमा मांगी। मंत्री ने कहा, महाराज परमात्मा जो करता है, अच्छा ही करता है। मेरा कुएं में गिरना भी एक शुभ लक्षण था। अंगहीन होने के कारण आप तो बच गए, परंतु मुझ भले-चंगे मनुष्य का मौत से छुटकारा पाना संभव न होता।

इसलिए मानना पड़ता है कि परमात्मा जो भी करता है भलाई के लिए ही करता है।  

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES -----The Fakir Of Panshet
Post by: fatima on June 22, 2008, 04:02:37 AM

Once in the village of Panshet, there lived a fakir. He spent most of his time reading the scriptures and counting his beads. When he felt hungry, he begged for his food from door to door.

One day he decided not to go out begging for food anymore.

"If the Almighty wants me to live, He will provide for me somehow," he thought to himself. For many days after that he went hungry and thirsty, as there was no food and water. But he did not give up his resolve.

But one day he saw that someone had left two chapatis and a cup of milk at his doorstep. Hungrily he ate the food with great relish. This happened day after day for many days. The fakir now became curious to know who was doing this good deed to him. However, in trying to find out the identity of this Good Samaritan, the fakir began to neglect his prayers and religious duties and watched through a hole in his door throughout the day. He did these for many days but he could find no trace of the person.

Tired and annoyed he began to curse his God, and went back to the village to beg as before. One day as he was begging in the town, he saw an old woman chiding her miserable dog, who was whining at her feet.

"What a foolish dog you are!" she said. "If I go away for a few days to the next village you starve. Why can't you pick up some tit-bits at other people’s door?"

On hearing this, the fakir felt ashamed of himself.

"Even a dog has more faith in his mistress than I have in my God," he thought. From that day he resolved never to beg, no matter what happened, and to stop being curious as to who leaves the food outside his door.

From that day onwards, he never went hungry. For, God provided him in plenty and he could whole-heartedly devote himself to his prayers and religious duties.

Title: Re: SMALL STORIES ---The Power Of A Hug
Post by: fatima on June 28, 2008, 01:57:08 AM


A few years ago, a set of twins were born. They were kept in separate incubators as usual, but one of them was not expected to live.

One of the nurses, going against hospital policy, placed both babies in the same incubator. As soon as they were reunited, the healthier twin threw her arm over her weaker sister in an endearing embrace. What happened? The little sister's temperature rose to normal and her heart rate stabilized, and she survived!

Both babies thrived and went home together. At home they continued to share a crib and were always snuggling closely. Today they are happy pre-schoolers.

Did the hospital change its policy? You bet it did! After seeing the effects of putting the two girls together, they now put siblings together. How about that! You can never underestimate the value of a hug!

Let's not forget to embrace the ones we love. May all your days be filled with hugs!
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on July 03, 2008, 06:48:01 AM
ॐ सांई राम~~~


जो जैसा करता है, वैसा ही भरता है~~~

किसी गांव में एक लड़का रहता था वह बहुत अमीर था। उसका नाम प्रिंस था। उसे अपनी अमीरी पर बहुत घमंड था। वह मासूम जानवरों को सताया करता था। प्रतिदिन शिकार करने जंगल में चला जाया करता था। एक दिन वह अपने घोड़े पर चढ़कर शिकार करने जंगल की ओर निकला। वह दिनभर जंगल में घूमते रहा लेकिन उसे कोई शिकार नहीं मिला। उसे बहुत गुस्सा आ रहा था। वह काफी थक चुका था। उसे जोरों की प्यास लग चुकी थी। उसने नदी के किनारे जाकर पानी पिया। फिर वह एक पेड़ के नीचे जाकर लेट गया।

बड़ी सुहावनी हवा चल रही थी। वहीं उसे नींद भी आ गई। आंखें खुली तो नदी किनारे एक जानवर को पानी पीते हुए देखा। यह देखते ही वह तुरंत ही खड़ा हो गया। और धणुष पर तीर चढ़ाकर उस पर चला दिया। थोड़ी देर में जब वह लड़का नदी किनारे गया तो देखा कि जानवर की जगह एक ऋषि घायल पड़ा हुआ है। ऋषि ने उसी समय उस लड़के को श्राप दे दिया कि तुम्हरा चेहरा बंदर जैसा हो जाएगा। यह सुनते ही प्रिंस के होश उड़ गए। वह ऋषि के चरणों में गिर कर गलती के लिए माफी मांगने लगा। ऋषि को उस पर दया आ गई और हमेशा के लिए बंदर नहीं बना रहे इसके लिए एक उपाय सुझाया। उन्होंने कहा कि इस जंगल से एक लड़का गुजरेगा वह तुम्हरा हाथ काटकर दो बूंद खून चूस लेगा। तब तुम्हरा चेहरा पुन: पहले जैसा हो जाएगा। इतना कहते ही ऋषि मर गया। प्रिंस का चेहरा बन्दर जैसा हो गया था। वह इंतजार करता रहा लेकिन उस रास्ते से कोई भी लड़का नहीं गुजरा। और उसका चेहरा बंदर की तरह ही रह गया। इसीलिए कहा गया है कि जो जैसा करता है, वैसा ही भरता है।

जय सांई राम~~~
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on July 12, 2008, 08:23:42 AM
जय सांई राम।।।

'टमाटर की कहानी'  

एक बेकार आदमी ने 'ओफिस बाय' की जोब के लिए माईक्रोसोफ्ट में अरजी दी...वहाँ के एचआर मेनेजर ने उसे देखा... और उस बंदे को इंटरव्यु के लिए बुलाया..

''अच्छा 'तो तुम माईक्रोसोफ्ट में काम करना चाँहते हो... तुम्हारा ई-मेल ऎड्रस दो...ता कि में तुम्हे जवाब भेज सकु कि कब से तुम्हे काम शुरू करना है... ''

''सर मेरा कोई ई-मेल पता नही है... क्योंकि मेरे पास कम्प्युटर ही नही है..''

''तो फिर मुझे माफ करना... में तुम्हारे लिए कुछ भी नहीं कर सकता... अगर तुम्हारे पास ई-मेल पता ही नहीं है तो... तुम इस नोकरी के लायक नहीं..'I'm sorry',''

वह लड़्का बिना कुछ बोले उस आफिस से बहार निकल गया... उसकी जेब में सिर्फ 10 रुपैये थे... वह बेकार था और काम करके कुछ कमाना चाँहता था..अचानक उसके मन में एक विचार आया...वह सिधा सब्जी मार्केट गया और वहा से उसने 10 रुपैये के टमाटर खरीद लिए...

टमाटर खरीदकर वह उसी मंडी में बेठ गया.. दो घंटे में उसके सारे टमाटर बिक गए..अब उसके पास 20 रूपैये हो गए थे...

इस व्यापार में उसको बहुत मजा आया...फिर तो उसने 20 के टमाटर खरीदे और घर घर जाकर उसको बेंचने लगा...घीरे धीरे उसका व्यापार बढ़ने लगा... उसने एक दुकान खरीद ली...फिर उसने ट्रक खरीद लिया..और वह उस मंडी का सबसे बड़ा व्यापारी बन गया.. ...

पाँच साल में तो वह शहर के सबसे धनी व्यक्तिओ की सूचि में सामिल हो गया.. उसने अपने परिवार के भविष्य के लिए कुछ योजना बनाई और उसके चलते उसने अपना बीमा करने के लिए सौचा...उसने एक वीमा ऎजन्ट को बुलाया...

वात वात में ऎजन्ट ने उससे उसका ई-मेल पता पुछ डाला...व्यापारी ने हसकर कहाँ..न तो मेरा कोई ई-मेल पता है और ना ही मेरे पास कोई कम्य्युटर है...

ऎजन्ट सकते में पड़ गया... ''क्यां आपके पास ई-मेल पत्ता नही है ? शायद आप मजाक कर रहे हो...आप शहर के सबसे बड़े आदमी है... कभी आपने सोचा है कि अगर आप के पास ई-मेल पता न होता तो आज आप क्यां होते ?

'' हा.... तो शायद माईकोसोफ्ट कंपनी का ऑफिस बाय होता'' व्यापारी हसते हुए बोला..

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on July 13, 2008, 01:09:09 AM
जय सांई राम।।।

इनाम  

हिरन का मांस खाते-खाते भेड़ियों के गले में हाड़ का एक काँटा अटक गया.  बेचारे का गला सूज आया. न वह कुछ खा सकता था, न कुछ पी सकता था. तकलीफ के मारे छटपटा रहा था. भागा फिरता था-इधर से उधर, उधर से इधऱ। न चैन था, न आराम था. इतने में उसे एक सारस दिखाई पड़ा-नदी के किनारे। वह घोंघा फोड़कर निगल रहा था.

भेड़िया सारस के नजदीक आया. आँखों में आँसू भरकर और गिड़गिड़ाकर उसने कहा-‘‘भइया, बड़ी मुसीबत में फँस गया हूँ. गले में काँटा अटक गया है, लो तुम उसे निकाल दो और मेरी जान बचाओ. पीछे तुम जो भी माँगोगे, मैं जरूर दूँगा. रहम करो भाई!’’

सारस का गला लम्बा था, चोंच नुकीली और तेज थी. भेड़िये की वैसी हालत देखकर उसके दिल को बड़ी चोट लगी भेड़िये ने मुँह में अपना लम्बा गला डालकर सारस ने चट् से काँटा निकाल लिया और बोला-‘‘भाई साहब, अब आप मुझे इनाम दीजिए !’’

सारस की यह बात सुनते ही भेड़िये की आँखें लाल हो आई, नाराजी के मारे वह उठकर खड़ा हो गया. सारस की ओर मुँह बढ़ाकर भेडिया दाँत पीसने लगा और बोला-‘‘इनाम चाहिए ! जा भाग, जान बची तो लाखों पाये ! भेड़िये के मुँह में अपना सिर डालकर फिर तू उसे सही-सलामत निकाल ले सका, यह कोई मामूली इनाम नहीं है. बेटा ! टें टें मत कर ! भाग जा नहीं तो कचूमर निकाल दूँगा.’’

सारस डर के मारे थर-थर काँपने लगा. भेड़िये को अब वह क्या जवाब दे, कुछ सूझ ही नहीं रहा था. गरीब मन-ही-मन गुनगुना उठा-

रोते हों, फिर भी बदमाशों पर करना न यकीन....मीठी बातों से मत होना छलियों के अधीन....करना नहीं यकीन, खलों पर करना नहीं यकीन.

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on July 24, 2008, 04:25:24 AM
जय सांई राम।।।

एक संत ने बचपन में ही घर बार छोड़कर संन्यास ले लिया था। बाल ब्रह्मचारी रहकर उन्होंने घोर तपस्या की। गृहस्थ जीवन को वह जीवन का बंधन मानते थे। अपना अधिक समय भगवान की उपासना में व्यतीत करते और भिक्षाटन से भोजन करते।

एक दिन उन्होंने अपना शरीर त्याग दिया। उन्हें लेकर यमदूत चित्रगुप्त के पास गए। चित्रगुप्त ने उनका बहीखाता देख कर कहा, आप को दोबारा पृथ्वी पर जन्म लेना होगा। संत ने कहा, मैंने मोह, माया, घृणा, अहंकार आदि तमाम बुराइयों को तिलांजलि देकर शुद्ध मन से भगवान की आराधना की है। प्रभु की उपासना के सिवाय मैंने ज़िंदगी में कुछ नहीं किया, ताकि मुझे दोबारा पृथ्वी पर जन्म नहीं लेना पड़े। मुझे मोक्ष चाहिए। चित्रगुप्त ने कहा, यह सही है कि आपने मोह माया त्यागकर सच्चे मन से प्रभु की आराधना की है। किसी को दुख नहीं पहुंचाया, फिर भी आप को मोक्ष नहीं मिल सकता।

क्यों? संत ने पूछा। चित्रगुप्त ने कहा, इसका जवाब तो धर्मराज ही दे सकते हैं। यमदूत उन्हें लेकर धर्मराज के पास पहुंचे। धर्मराज ने भी उनका बही खाता देख कर कहा, वत्स, चित्रगुप्त का निर्णय सही है। आप को मोक्ष नहीं मिल सकता। संत ने कहा, यह हमारे साथ अन्याय है। धर्मराज ने कहा, वत्स यहां किसी के साथ अन्याय नहीं होता। सभी को उचित न्याय मिलता है। आप यही जानना चाहते हैं कि आप को मोक्ष क्यों नहीं मिल रहा है। हां, मैं जानना चाहता हूं कि मुझमें कमी कहां रह गई कि मैं मोक्ष से वंचित हो रहा हूं, संत ने कहा।

धर्मराज ने कहा, वत्स! पृथ्वी पर जितने प्राणी जन्म लेते हैं उनका कुछ न कुछ समाज के प्रति उत्तरदायित्व होता है। मनुष्य योनि में जन्म लेने वाले हर व्यक्ति का सबसे बड़ा धर्म है कि वह सबसे पहले मानवता की सेवा करे, अपने परोपकार से दूसरों के दुख-दर्द को दूर करे। आपने तो इनमें से एक भी कर्म नहीं निभाया। आप का ध्यान तो सिर्फ अपने मोक्ष पर था। इसलिए अपना कर्म पूरा करने के लिए आपको पुन: पृथ्वी पर भेजा जा रहा है।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: tana on July 26, 2008, 03:16:30 AM
ॐ सांई राम~~~

चतुराई से कठिन काम भी संभव~~~

एक जंगल में महाचतुरक नामक सियार रहता था। एक दिन जंगल में उसने एक मरा हुआ हाथी देखा। उसकी बांछे खिल गईं। उसने हाथी के मृत शरीर पर दांत गड़ाया पर चमड़ी मोटी होने की वजह से, वह हाथी को चीरने में नाकाम रहा।

वह कुछ उपाय सोच ही रहा था कि उसे सिंह आता हुआ दिखाई दिया। आगे बढ़कर उसने सिंह का स्वागत किया और हाथ जोड़कर कहा, “स्वामी आपके लिए ही मैंने इस हाथी को मारकर रखा है, आप इस हाथी का मांस खाकर मुझ पर उपकार कीजिए।” सिंह ने कहा, “मैं तो किसी के हाथों मारे गए जीव को खाता नहीं हूं, इसे तुम ही खाओ।”

सियार मन ही मन खुश तो हुआ पर उसकी हाथी की चमड़ी को चीरने की समस्या अब भी हल न हुई थी।

थोड़ी देर में उस तरफ एक बाघ आ निकला। बाघ ने मरे हाथी को देखकर अपने होंठ पर जीभ फिराई। सियार ने उसकी मंशा भांपते हुए कहा, “मामा आप इस मृत्यु के मुंह में कैसे आ गए? सिंह ने इसे मारा है और मुझे इसकी रखवाली करने को कह गया है।

एक बार किसी बाघ ने उनके शिकार को जूठा कर दिया था तब से आज तक वे बाघ जाति से नफरत करने लगे हैं। आज तो हाथी को खाने वाले बाघ को वह जरुर मार गिराएंगे।”

यह सुनते ही बाघ वहां से भाग खड़ा हुआ। पर तभी एक चीता आता हुआ दिखाई दिया। सियार ने सोचा चीते के दांत तेज होते हैं। कुछ ऐसा करूं कि यह हाथी की चमड़ी भी फाड़ दे और मांस भी न खाए।

उसने चीते से कहा, “प्रिय भांजे, इधर कैसे निकले? कुछ भूखे भी दिखाई पड़ रहे हो।” सिंह ने इसकी रखवाली मुझे सौंपी है, पर तुम इसमें से कुछ मांस खा सकते हो। मैं जैसे ही सिंह को आता हुआ देखूंगा, तुम्हें सूचना दे दूंगा, तुम सरपट भाग जाना”।

पहले तो चीते ने डर से मांस खाने से मना कर दिया, पर सियार के विश्वास दिलाने पर राजी हो गया।

चीते ने पलभर में हाथी की चमड़ी फाड़ दी। जैसे ही उसने मांस खाना शुरू किया कि दूसरी तरफ देखते हुए सियार ने घबराकर कहा, “भागो सिंह आ रहा है”। इतना सुनना था कि चीता सरपट भाग खड़ा हुआ। सियार बहुत खुश हुआ। उसने कई दिनों तक उस विशाल जानवर का मांस खाया।

सिर्फ अपनी सूझ-बूझ से छोटे से सियार ने अपनी समस्या का हल निकाल लिया। इसीलिए कहते हैं कि बुद्धि के प्रयोग से कठिन से कठिन काम भी संभव हो जाता है।


जय सांई राम~~~

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on July 29, 2008, 08:10:45 AM
जय सांई राम।।।

बालिका की वाणी  

भगवान बुद्ध श्रावस्ती में ठहरे हुए थे। वहां उन दिनों भीषण अकाल पड़ा था। यह देखकर बुद्ध ने नगर के सभी धनिकों को बुलाया और कहा, ‘नगर की हालत आप लोग देख ही रहे हैं। इस भयंकर समस्या का समाधान करने के लिए आगे आइए और मुक्त हाथों से सहायता कीजिए।’ लेकिन गोदामों में बंद अनाज को बाहर निकालना सहज नहीं था। श्रेष्ठि वर्ग की करुणा जाग्रत नहीं हुई। उन्होंने उन अकाल पीडि़त लोगों की सहायता के लिए कोई तत्परता नहीं दिखाई।

उन धन कुबेरों के बीच एक बालिका बैठी थी। भगवान बुद्ध की वाणी ने उसको झकझोर दिया। वह उठकर बुद्ध के सामने पहुंची और सिर झुका कर बोली, ‘हे प्रभु, मुझे आशीर्वाद दीजिए कि मैं लोगों के इस दुख को हल्का कर सकूं।’ उस बालिका के ये शब्द सुनकर भगवान बुद्ध चकित रह गए। उन्होंने कहा कि बेटी जब नगर के सेठ कुछ नहीं कर पा रहे तो तुम क्या करोगी? तुम्हारे पास है ही क्या? तब हाथ जोड़कर लड़की बोली, ‘भगवन, आप मुझे आशीर्वाद तो दीजिए। मैं घर-घर जाकर एक-एक मुट्ठी अनाज इकट्ठा करूंगी और उस अनाज से मैं भूखों की मदद करूंगी। भगवन, जो मर रहे हैं वे भी तो हमारे ही भाई-बहन हैं। उनकी भलाई में ही हमारी भलाई है।’ इतना कहकर वह बालिका फूट पड़ी। उसकी आंखों से आंसुओं की धारा बहने लगी।

भगवान बुद्ध अवाक रह गए। सारी सभा स्तब्ध रह गई। आंसुओं के बीच लड़की ने कहा, ‘बूंद-बूंद से घट भर जाता है। सब एक-एक मुट्ठी अनाज देंगे, तो उससे इतना अनाज इकट्ठा हो जाएगा कि कोई भूखा नहीं मरेगा। मैं शहर-शहर घूमूंगी, गांव-गांव में चक्कर लगाऊंगी और घर-घर झोली फैलाऊंगी।’ बालिका की वाणी ने धनपतियों के भीतर के सोते इंसान को जगा दिया। उन्हें बालिका की निर्मलता और सामाजिक सरोकार देखकर बड़ी प्रसन्नता हुई। फिर क्या था! अनाज के गोदामों के दरवाजे खुल गए और अकाल की समस्या जल्दी ही समाप्त हो गई।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 02, 2008, 02:14:13 AM
जय सांई राम।।।

नज़रों का फर्क  

एक गुरुकुल में दो राजकुमार पढ़ते थे। दोनों में गहरी मित्रता थी। एक दिन उनके आचार्य दोनों को घुमाने ले गए। घूमते हुए वे काफी दूर निकल गए। तीनों प्राकृतिक शोभा का आनंद ले रहे थे। तभी आचार्य की नजर आम के एक पेड़ पर पड़ी। एक बालक आया और पेड़ के तने पर डंडा मारकर फल तोड़ने लगा। आचार्य ने राजकुमारों से पूछा, ‘क्या तुम दोनों ने यह दृश्य देखा?’

‘हां गुरुदेव।’ राजकुमारों ने उत्तर दिया। गुरु ने पूछा, ‘इस दृश्य के बारे में तुम दोनों की क्या राय है?’ पहले राजकुमार ने कहा, ‘गुरुदेव मैं सोच रहा हूं कि जब वृक्ष भी बगैर डंडा खाए फल नहीं देता, तब किसी मनुष्य से कैसे काम निकाला जा सकता है। यह दृश्य एक महत्वपूर्ण सामाजिक सत्य की ओर इशारा करता है। यह दुनिया राजी-खुशी नहीं मानने वाली है। दबाव डालकर ही समाज से कोई काम निकाला जा सकता है।’

दूसरा राजकुमार बोला, ‘गुरुजी मुझे कुछ और ही लग रहा है। जिस प्रकार यह पेड़ डंडे खाकर भी मधुर आम दे रहा है उसी प्रकार व्यक्ति को भी स्वयं दुख सहकर दूसरों को सुख देना चाहिए। कोई अगर हमारा अपमान भी करे तो उसके बदले हमें उसका उपकार करना चाहिए। यही सज्जन व्यक्तियों का धर्म है।’ यह कहकर वह गुरुदेव का चेहरा देखने लगा।

गुरुदेव मुस्कराए और बोले, ‘देखो, जीवन में दृष्टि ही महत्वपूर्ण है। घटना एक है लेकिन तुम दोनों ने उसे अलग-अलग रूप में ग्रहण किया क्योंकि तुम्हारी दृष्टि में भिन्नता है। मनुष्य अपनी दृष्टि के अनुसार ही जीवन के किसी प्रसंग की व्याख्या करता है, उसी के अनुरूप कार्य करता है और उसी के मुताबिक फल भी भोगता है। दृष्टि से ही मनुष्य के स्वभाव का भी पता चलता है।’ गुरु ने पहले राजकुमार से कहा, ‘तुम सब कुछ अधिकार से हासिल करना चाहते हो जबकि तुम्हारा मित्र प्रेम से सब कुछ प्राप्त करना चाहता है।’

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on August 05, 2008, 03:23:58 AM
जय सांई राम।।।

दीपक और बाती  

पुराने जमाने की बात है। एक कठोर स्वभाव वाला आदमी था। उसकी वाणी बहुत ही कर्कश थी। छोटे-बड़े किसी का लिहाज उसके भीतर नहीं था। इसका जो परिणाम होना चाहिए था, वही हुआ। वह जिधर जाता लोग उसे देखकर मुंह फेर लेते। उसके तने हुए चेहरे से लोगों के दिलों में तिरस्कार का भाव पैदा होता था। उस आदमी को यह सब अच्छा नहीं लगता था पर बेचारा अपने स्वभाव से लाचार था।

संयोग से एक दिन एक साधु वहां आए। वह आदमी उनसे मिलने गया और बोला, 'यह दुनिया बहुत बुरी है। मुझे उसने इतना सताया है कि आपसे कुछ नहीं कह सकता।' इसके बाद उसने लोगों की उपेक्षा की बात विस्तार से बताते हुए कहा, 'मेरी समझ में नहीं आता कि क्या करूं?' साधु उस आदमी के चेहरे की कठोरता और उसकी तीखी भाषा को सुनकर समझ गए कि उसका रोग क्या है।

उन्होंने उससे कहा, 'जाओ, एक दीपक लेकर आओ और बाती के लिए रूई भी।' आदमी गया और दीपक तथा रूई ले आया। साधु ने कहा, 'दीपक में बाती डालो।' आदमी ने बाती डाल दी। साधु फिर बोले, 'अब इसमें पानी भरो।' उस आदमी ने पानी भर दिया। साधु ने अब उससे दीपक जलाने को कहा। उस आदमी को बड़ा आश्चर्य हुआ। वह समझ नहीं पा रहा था कि आखिर पानी से दीपक कैसे जलेगा। उस आदमी ने दियासलाई लेकर दीपक जलाने का प्रयत्न किया। लेकिन वह जलता कैसे। उस आदमी ने कहा, 'यह तो जलता नहीं।'

इस पर साधु ने कहा, 'अरे पगले, जब तक दीये में स्नेह अथवा तेल नहीं पड़ेगा, यह जलेगा कैसे। तुम्हारे दीये में पानी पड़ा है। उसे फेंक दो और स्नेह डालो। तभी वह जलेगा और प्रकाश देगा।' उस आदमी को साधु की बातों का अर्थ समझ में आ गया। उस दिन से उसने अपने ऊपर नियंत्रण करना शुरू किया और लोगों से मीठा बोलने लगा। धीरे-धीरे लोगों का उसके प्रति व्यवहार भी बदल गया।


अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: fatima on September 02, 2008, 05:05:59 AM
This lesson was learned by a very great early Sufi whose name was Ibrahim Adham Balkhi. He was the king of Balkh which was a kingdom in Afghanistan. At that time it was a rich, composite culture in Afghanistan which included a strong Buddhist element. I am sure you are familiar with those incredible Buddha monuments that were destroyed by the Taliban regime that were the legacy of that period. And Ibrahim Adham himself was a saint in the footsteps of the Buddha. If you study the Sufi tradition you will find the trace of Buddhism. The Sufis in their Persian poetry speak of the but 1, the idol, as a manifestation of the divine beloved. And this word but comes from Buddha.

Like Buddha, Ibrahim Adham was a great king living in opulence. Of course, each of us in this contemporary era live, by comparison to the people of former times, like kings. So in some sense, Ibrahim Adham was a person just like any one of us. But he was the king of the court of a mighty kingdom. And this king was visited by another strange mystic from the dessert. This was Khizr, the green man of the dessert. He blew in, evaded the guards, and made his way into the inner court. Instead of bowing in obeisance as was the protocol, he impudently went up to the throne. The king was deeply offended and said, “What brings you to the court of the great king?”

And Khizr replied, “Oh, I’m just passing through this caravanserai,” which means motel. You can imagine how angry the king was to hear his palace called a motel.

He said, “How dare you say that!”

And Khizr said, “Well, who sat on that throne before you?”

The king answered, “My father.”

Khizr said, “And before him?”

“His father,” said the king.

“And before him?”

“His father.”

And Khizr replied, “And you mean to tell me that this isn’t a motel with people constantly coming and going all the time?”

Suddenly a revelation came to the king. He realized that all he had invested himself in, his persona of grandeur and wealth and power, was ephemeral; it was trifling in the grand scheme of things. He was just passing through a motel. The words of Khizr went straight into his heart, like a barb. He was compelled to leave his crown and his throne and live as a wandering dervish. For many years he wandered. One time, he came upon a dervish who was complaining about his poverty and the ex-king said, “You must have bought your poverty very cheaply.”

The dervish said, “Does one buy poverty?”

Ibrahim Adham said, “I paid all the wealth in the world and still I feel I got a very good deal.”

Then he became a disciple of Fuzail bin Ayaz who was a highway robber turned Sufi. There at the khanqua, he was made to renounce his false pride. His murshid, his teacher, was very strict with him, and he made him carry out the garbage; this, for a man who was pampered all his life. But Ibrahim Adham took it in stride and carried the garbage. The other students couldn’t bear to see that great noble being subjected to humiliation so they said, “Please, take it easy on him.”

The murshid said, “Well, alright, well have a test.”

He sent someone to knock over the garbage while Ibrahim Adham was carrying it. The former king looked at him very sternly and said, “When I was king, I would have never put up with that.”

This report went back to the murshid and he said, “He’s not ready yet.”

Some months later, they did it again. This time, Ibrahim Adham just looked at the one who knocked over the garbage. When he heard this report, the murshid said, “Hes still not ready.”

Then, finally, months later when they again knocked over the garbage, Ibrahim Adham didn’t even look to see who did it. He just picked up the garbage and continued with his chore. His murshid went and embraced him and gave him a very high initiation. He became successor in that order. In fact, that is the order that we are continuing in this line. So he followed in the footsteps of the Buddha who was also a great king who renounced his worldly position to discover an eternal reality.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Vikram_Rana on September 02, 2008, 05:58:57 AM


काँच की बरनी और दो कप चाय - एक बोध कथा


जीवन में जब सब कुछ एक साथ और जल्दी-जल्दी करने की इच्छा होती है, सब कुछ तेजी से पा लेने की इच्छा होती है, और हमें लगने लगता है कि दिन के चौबीस घंटे भी कम पड़ते हैं, उस समय ये बोध कथा, "काँच की बरनी और दो कप चाय" हमें याद आती है ।दर्शनशास्त्र के एक प्रोफ़ेसर कक्षा में आये और उन्होंने छात्रों से कहा कि वे आज जीवन का एक महत्वपूर्ण पाठ पढाने वाले हैं...उन्होंने अपने साथ लाई एक काँच की बडी़ बरनी (जार) टेबल पर रखा और उसमें टेबल टेनिस की गेंदें डालने लगे और तब तक डालते रहे जब तक कि उसमें एक भी गेंद समाने की जगह नहीं बची... उन्होंने छात्रों से पूछा - क्या बरनी पूरी भर गई ? हाँ... आवाज आई...फ़िर प्रोफ़ेसर साहब ने छोटे-छोटे कंकर उसमें भरने शुरु किये, धीरे-धीरे बरनी को हिलाया तो काफ़ी सारे कंकर उसमें जहाँ जगह खाली थी, समा गये, फ़िर से प्रोफ़ेसर साहब ने पूछा, क्या अब बरनी भर गई है, छात्रों ने एक बार फ़िर हाँ.. कहा अब प्रोफ़ेसर साहब ने रेत की थैली से हौले-हौले उस बरनी में रेत डालना शुरु किया, वह रेत भी उस जार में जहाँ संभव था बैठ गई, अब छात्र अपनी नादानी पर हँसे... फ़िर प्रोफ़ेसर साहब ने पूछा, क्यों अब तो यह बरनी पूरी भर गई ना ? हाँ.. अब तो पूरी भर गई है.. सभी ने एक स्वर में कहा..सर ने टेबल के नीचे से चाय के दो कप निकालकर उसमें की चाय जार में डाली, चाय भी रेत के बीच में स्थित थोडी़ सी जगह में सोख ली गई...प्रोफ़ेसर साहब ने गंभीर आवाज में समझाना शुरु किया - इस काँच की बरनी को तुम लोग अपना जीवन समझो... टेबल टेनिस की गेंदें सबसे महत्वपूर्ण भाग अर्थात भगवान, परिवार, बच्चे, मित्र, स्वास्थ्य और शौक हैं, छोटे कंकर मतलब तुम्हारी नौकरी, कार, बडा़ मकान आदि हैं, और रेत का मतलब और भी छोटी-छोटी बेकार सी बातें, मनमुटाव, झगडे़ है..अब यदि तुमने काँच की बरनी में सबसे पहले रेत भरी होती तो टेबल टेनिस की गेंदों और कंकरों के लिये जगह ही नहीं बचती, या कंकर भर दिये होते तो गेंदें नहीं भर पाते, रेत जरूर आ सकती थी...ठीक यही बात जीवन पर लागू होती है...यदि तुम छोटी-छोटी बातों के पीछे पडे़ रहोगे और अपनी ऊर्जा उसमें नष्ट करोगे तो तुम्हारे पास मुख्य बातों के लिये अधिक समय नहीं रहेगा... मन के सुख के लिये क्या जरूरी है ये तुम्हें तय करना है । अपने बच्चों के साथ खेलो, बगीचे में पानी डालो, सुबह पत्नी के साथ घूमने निकल जाओ, घर के बेकार सामान को बाहर निकाल फ़ेंको, मेडिकल चेक-अप करवाओ..टेबल टेनिस गेंदों की फ़िक्र पहले करो, वही महत्वपूर्ण है... पहले तय करो कि क्या जरूरी है... बाकी सब तो रेत है..छात्र बडे़ ध्यान से सुन रहे थे.. अचानक एक ने पूछा, सर लेकिन आपने यह नहीं बताया कि "चाय के दो कप" क्या हैं ?प्रोफ़ेसर मुस्कुराये, बोले.. मैं सोच ही रहा था कि अभी तक ये सवाल किसी ने क्यों नहीं किया... इसका उत्तर यह है कि, जीवन हमें कितना ही परिपूर्ण और संतुष्ट लगे, लेकिन अपने खास मित्र के साथ दो कप चाय पीने की जगह हमेशा होनी चाहिये ।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on September 19, 2008, 09:20:50 AM
जय सांई राम।।।

अनन्य भक्त।  

देवता वरदान बॉंटने धरती पर आए, तो लोगों की अपार भीड़ अपनी-अपनी मनोकानाएं लेकर आ जुटी। किसी ने यष माँगा, किसी ने धन, किसी ने पद तो किसी ने कुछ और। देवता सबकी वांछित मनोकामनाएं पूरी करते चले गए। एक विद्रुप सा व्यक्ति हाथ जोड़े कोने में खड़ा था। देवता ने पास बुलाकर कहा-``तात्!  तुम्हें भी जो कुछ माँगना हो, माँग लो।

उसने कहा- "मेरी याचना तो छोटी सी है। जिन लोगों ने धन माँगा हैं, उनके पते मुझे बताने की कृपा करें। फिर मैं अपनी मनोकामना स्वयं ही पूरी कर लूँगा।"

देवता ने आश्चर्य से पूछा - "आखिर तुम हो कौन? "उस व्यक्ति ने कहा-`` व्यसन, अनावश्यक धन को विकेंद्रित करने में संलग्न आपका अनन्य भक्त।"

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Ramesh Ramnani on November 14, 2008, 07:53:52 AM
जय सांई राम।।।

भगवद्दर्शन किसे होता है  


एक समय की बात है एक सन्त की प्रसिद्धि दूर-दूर तक फैली कि उन्हें भगवान के दर्शन होते हैं। वह कहते थे कि वे भगवान से रोज साक्षात्कार करते हैं। उनकी इस प्रसिद्धि से प्रभावित होकर एक दिन दो जिज्ञासु उनके पास आए और उनसे याचना की कि उनका भी प्रभु से साक्षात्कार करवाऐं। सन्त ने उन्हें कुछ देर ठहरने को कहा। फिर अपने साथ एक छोटा सा डिब्बा लेकर, उन्हें लेकर वे चल पड़े। कुछ दूर पर एक झोंपड़ी के सामने जाकर रुके और उन जिज्ञासुओं को बाहर ही ठहरने का इशारा करके स्वयं भीतर चले गए। वहाँ एक कोढ़ी खाट पर पड़ा कराह रहा था। सन्त ने उसका हाल चाल पूछा फिर अपना डिब्बा खोलकर उसमें से कुछ ओषधियाँ का लेप निकालकर उसके घावों को साफ करके उन पर लगाया। पट्टी बाँधीं और जब कोढ़ी कुछ राहत महसूस करने लगा तब उससे कहा, चलो! अब ध्यान लगाते हैं। सन्त तथा कोढ़ी दोनों ध्यान लगाकर बैठ गए। कुछ देर ऐसे ही निश्चल बैठे रहे। दोनों जिज्ञासु वहाँ से देख रहे थे। फिर सन्त ने कोढ़ी से पूछा, 'क्या तुम्हें भगवद्दर्शन हुए?' उसने कहा, 'हाँ' हुए'। सन्त ने फिर पूछा कि भगवान कैसे दिख रहे थे? कोढ़ी ने उत्तर दिया, "बिल्कुल आप जैसे महाराज।'' फिर उसने सन्त से पूछा कि आपने भी तो भगवान के दर्शन किए होंगे। वह कैसे दिख रहे थे? सन्त ने कहा, "बिल्कुल तुम्हारे जैसे।'' बाहर खड़े जिज्ञासु अब रहस्य की बात समझ गए थे। सन्त और कोढ़ी दोनों एक दूसरे में परमात्मा को देख रहे थे। मर्म तो यही है कि सबमें परमात्मा का वास है। बस हम ही अपने अहंकार और अज्ञान में उसे देख नहीं पाते।

अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई


ॐ सांई राम।।।
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: shirsi on August 22, 2009, 05:37:06 AM
om sai ram




The Echo of Life



A son and his father were walking on the mountains. Suddenly, the son falls, hurts himself and screams, "AAAhhhhhhhhhhh!!!"



To his surprise, he hears the voice repeating, somewhere in the mountain: "AAAhhhhhhhhhhh!!!"



Curious, he yells, "Who are you?"
He receives the answer, "Who are you?"



Angered at the response, he screams, "Coward!"
He receives the answer, "Coward!"



He looks to his father and asks, "What's going on?"
The father smiles and says, "My son, pay attention."



And then he screams to the mountain, "I admire you!"
The voice answers, "I admire you!"



Again the father screams, "You are a champion!"
The voice answers, "You are a champion!"



The boy is surprised, but does not understand.Then the father explains: "People call this ECHO, but really this is LIFE.



It gives you back everything you say or do. Our life is simply a reflection of our actions.If you want more love in the world, create more love in your heart.




If you want more competence in your team, improve your competence. This relationship applies to everything, in all aspects of life; life will give you back everything you have given to it.Your life is not a coincidence. It's a reflection of you!"


Jai jai Sai Ram!!
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: saib on October 04, 2009, 01:47:05 AM
एक छोटा लड़का था , जो घोडों प्रशिक्षक का बेटा था । वह इस रैंच से उस रैंच जाकर घोडों को ट्रेन करता था । परिणामस्वरूप उस लड़के के स्कूल अक्सर बदलते रहे । जब वह सीनियर क्लास में पंहुचा तो उससे एक निबंध लिखने को कहा गया की 'वह बडा होकर क्या बनना और करना चाहता है ।

उस रात उस लड़के ने सात पेज का एक निबंध लिखा, जिसमे उसने बताया की उसका लक्ष्य घोडो के रैंच का मालिक बनना है । उसने अपने सपने को पूरे विस्तार से लिखा और २०० एकर के रैंच की एक तस्वीर भी खीची, जिसमें उसने सभी इमारतों , अस्त्बलो और ट्रैक की तस्वीर बनाई । फिर उसने ४,००० वर्ग फुट के मकान की विस्तृत योजना खीची , जिसे वह २०० एकर रैंच पर बनाना चाहता था ।

उसने उस प्रोजेक्ट में अपना दिल खोलकर रख दिया और अगले दिन टीचर को वह निबंध थमा दिया । दो दिन बाद उसे उसका निबंध वापस मिल गया । सामने वाले पेज पर एक बडा लाल ऍफ़ (फेल) लिखा मिला । उसके निचे लिखा था, 'क्लास के बाद मुझसे मिलो । ' सपने देखने वाला लड़का क्लास के बाद टीचर से मिलने गया । उसने पूछा, 'आपने मुझे फेल क्यो किया ?'टीचर ने कहा , 'यह एक काल्पनिक सपना है । घोडो के रैंच का मालिक बनने के लिए बहुत पैसो की जरुरत होती है । तुम खानाबदोश परिवार के हो, तुम्हारे पास संसाधन नही हैं , पैसे नही हैं । तुम यह काम किसी हालत में नही कर सकते । अगर तुम इस निबंध को दोबारा लिख दो और कोई वास्तविक लक्ष्य बना लो , तो मैं तुम्हारे ग्रेड पर विचार करने के लिए तैयार हूँ । '

वह लड़का घर गया और उसने इस बारे में काफी देर तक सोचा । आख़िर तक विचार करने के बाद उसने टीचर को वही निबंध ज्यों का त्यों दे दिया और कहा , ' आप अपने एफ ग्रेड को कायम रखें और मैं अपने सपने को कायम रखूंगा । '

बीस साल बाद शिक्षक को एक अंतरराष्ट्रिये घुड़दौड़ देखने का मौका मिला । दौड़ ख़त्म हुई तो एक वयक्ति ने आकर शिक्षक के पैर छुए । घुड़दौड़ की दुनिया में एक बडा नाम, यह वयक्ति वही छोटा लड़का था जिसने अपना सपना पूरा कर लिया था ।

कभी किसी को अपना सपना चुराने न दें । अपने दिल की बात सुनें , चाहे जो भी हो । खुली आंखों से जो सपने देखा करते हैं उनके सपने पूरे होते ही है।  

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: saib on October 15, 2010, 08:17:30 PM
The only survivor of a shipwreck was washed up on a small, uninhabited island.  He prayed feverishly for God to rescue him. Every day he scanned the horizon for help, but none seemed forthcoming.
Exhausted, he eventually managed to build a little hut out of driftwood to protect himself from the elements, and to store his few possessions. One day, after scavenging for food, he arrived home to find his little hut in flames, with smoke rolling up to the sky. He felt the worst had happened, and everything was lost. He was stunned with disbelief, grief, and anger. He cried out, ‘God! How could you do this to me?’
Early the next day, he was awakened by the sound of a ship approaching the island! It had come to rescue him! ‘How did you know I was here?’ asked the weary man of his rescuers. ‘We saw your smoke signal,’ they replied.

The Moral of This Story:
It’s easy to get discouraged when things are going bad, but we shouldn’t lose heart, because God is at work in our lives, even in the midst of our pain and suffering. Remember that the next time your little hut seems to be burning to the ground. It just may be a smoke signal that summons the Grace of God.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: saib on October 15, 2010, 08:24:56 PM
In 1883, a creative engineer named John Roebling was inspired by an idea to build a spectacular bridge connecting New York with the Long Island. However bridge building experts throughout the world thought that this was an impossible feat and told Roebling to forget the idea. It just could not be done. It was not practical. It had never been done before.

Roebling could not ignore the vision he had in his mind of this bridge. He thought about it all the time and he knew deep in his heart that it could be done. He just had to share the dream with someone else. After much discussion and persuasion he managed to convince his son Washington, an up and coming engineer, that the bridge in fact could be built.

Working together for the first time, the father and son developed concepts of how it could be accomplished and how the obstacles could be overcome. With great excitement and inspiration, and the headiness of a wild challenge before them, they hired their crew and began to build their dream bridge.

The project started well, but when it was only a few months underway a tragic accident on the site took the life of John Roebling. Washington was injured and left with a certain amount of brain damage, which resulted in him not being able to walk or talk or even move.
 

"We told them so."
"Crazy men and their crazy dreams."
"It`s foolish to chase wild visions."

Everyone had a negative comment to make and felt that the project should be scrapped since the Roeblings were the only ones who knew how the bridge could be built. In spite of his handicap Washington was never discouraged and still had a burning desire to complete the bridge and his mind was still as sharp as ever.

He tried to inspire and pass on his enthusiasm to some of his friends, but they were too daunted by the task. As he lay on his bed in his hospital room, with the sunlight streaming through the windows, a gentle breeze blew the flimsy white curtains apart and he was able to see the sky and the tops of the trees outside for just a moment.

It seemed that there was a message for him not to give up. Suddenly an idea hit him. All he could do was move one finger and he decided to make the best use of it. By moving this, he slowly developed a code of communication with his wife.

He touched his wife's arm with that finger, indicating to her that he wanted her to call the engineers again. Then he used the same method of tapping her arm to tell the engineers what to do. It seemed foolish but the project was under way again.

For 13 years Washington tapped out his instructions with his finger on his wife's arm, until the bridge was finally completed. Today the spectacular Brooklyn Bridge stands in all its glory as a tribute to the triumph of one man's indomitable spirit and his determination not to be defeated by circumstances. It is also a tribute to the engineers and their team work, and to their faith in a man who was considered mad by half the world. It stands too as a tangible monument to the love and devotion of his wife who for 13 long years patiently decoded the messages of her husband and told the engineers what to do.

Perhaps this is one of the best examples of a never-say-die attitude that overcomes a terrible physical handicap and achieves an impossible goal.


Often when we face obstacles in our day-to-day life, our hurdles seem very small in comparison to what many others have to face. The Brooklyn Bridge shows us that dreams that seem impossible can be realised with determination and persistence, no matter what the odds are.

Even the most distant dream can be realized with determination and persistence.

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: saib on October 17, 2010, 01:04:34 AM
Dear Brothers & Sisters,

You must have read this story, But good to read once again with a great lesson, What is to happen is to happen, But how we react is that matters and decide future course of action.

These are two Rules which I like most 80/20 and 90/10. This story is about How to use principle of 90/10.

om sai ram!


What is this 90/10 principle? 10% is made up of what happens to you in your daily life. 90% of life is decided by how you react. What does this mean? We really have no control over 10% of what happens to us. We cannot stop the car from breaking down. The plane arriving late and throwing off our schedule. A driver may cut us off in traffic. Ending in a ditch because of icy roads in winter. We have no control over this 10%. The other 90% is different. You determine the other 90%.

How? By your reaction. You cannot control a red light., but you can control your reaction. Let’s use an example.

You are eating breakfast with your family. Your daughter knocks over a cup of coffee onto your business shirt. You have no control over what just happened. What happens next will be determined by how you react. You swear. Your scream disaster! You get distressed and harshly scold your daughter for knocking the cup over. She breaks down in tears. After scolding her, you turn to your spouse and criticize her for placing the cup too close to the edge of the table. A short verbal battle follows. You storm upstairs to change your shirt. Back downstairs, you find your daughter has been too busy crying to finish breakfast and get ready for school. She misses the bus.You rush to the car and drive your daughter to school. Because you are late, you drive 50 miles an hour in a 30 mph speed limit. After a 15-minute delay and throwing $60 (traffic fine) away, you arrive at school. Your daughter runs into the building without saying goodbye. After arriving at the office 30 minutes late, you find you forgot your briefcase. Your day has started terribly. As it continues, it seems to get worse and worse. You look forward to coming home, When you arrive home, you find a small wedge in your relationship with your spouse and daughter. Why? Because of how you reacted in the morning. Why did you have a bad day?

A) Did the coffee cause it?

B) Did your daughter cause it?

C) Did the policeman cause it?

D) Did you cause it?


The answer is D. You had no control over what happened with the coffee.

How you reacted in those 5 seconds is what caused your bad day. Here is what could have and should have happened.

Coffee splashes over you. Your daughter is about to cry. You gently tell her, ”It’s ok, you just need to be more careful next time”.

Grabbing a towel you dash upstairs and change into a new shirt, grab your briefcase, and you come back downstairs in time to look through the window and see your child getting on the bus. She turns around smiling and waves. You say goodbye to your spouse before you go to work. You arrive 5 minutes early and cheerfully greet your collegues and staff. Your boss comments on how good the day you are having.

Notice the difference? Two different scenarios. Both started the same. Both ended differently. Why? Because of how you reacted. You really do not have any control over 10% of what happens. The other 90% was determined by your reaction. Here are some ways to apply the 90/10 principle.

If someone says something negative about you, don’t be a sponge. Let the comments roll like water off a duck’s back . You don’t have to let the negative comment affect you! React properly and it will not ruin your day. A wrong reaction could result in losing a friend, being fired, getting stressed out etc. How do you react if someone cuts you off in traffic? Do you lose your temper? Pound on the steering wheel?  Does your blood pressure skyrocket? Do you try and bump them? Why stress yourself out if you arrive ten seconds later at work? Why let the other bad drivers ruin your day?

You are told you lost your job. Why lose sleep, get stressed, cranky and irritated? It will work out. Use your worrying; energy and time into finding another job. The plane is late – it is going to mangle your schedule for the day. Why take out your frustration on the flight attendant? She has no control over what is going on. Why get stressed out? It will just make things worse. Now you know the 90/10 principle apply it and you will find that you have nothing to lose.

LESSON: Bad days follow bad days. Terrible things seem to be constantly happening. There is constant stress, lack of joy, and broken relationships. Worry consumes time. Anger breaks friendships and life seems dreary and is not enjoyed to the fullest. Friends are lost. Life is a trial and often seems cruel. Does this describe you? If so, do not be discouraged. You can be different! Understand and apply the 90/10 principle. It will change your life.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Rashi on October 20, 2010, 01:03:34 AM
 A small story by me to all my brothers & sisters & friends


When I was a kid, my mom liked to make breakfast food for dinner every now and then. And I remember one night in particular when she had made breakfast after a long, hard day at work. On that evening so long ago, my mom placed a plate of eggs, sausage and extremely burned biscuits in front of my dad. I remember waiting to see if anyone noticed! Yet all my dad did was reach for his biscuit, smile at my mom and ask me how my day was at school. Idon't remember what I told him that night, but I do remember watching him smear butter and jelly on that biscuit and eat every bite! When I got up from the table that evening, I remember hearing my mom apologize to my dad for burning the biscuits.  And I'll never forget what he said: "Honey, I love burnt biscuits."                       

              Later that night, I went to kiss Dad good night and I asked him if he really liked his biscuits burned. He wrapped me in his arms and said, "Your Mom put in a hard day at work today and she's real tired. And besides - a little burnt biscuit never hurt anyone!"................. Life is full of imperfect things.....and imperfect people. I'm not the best at hardly anything, and I forget birthdays and anniversaries just like everyone else.  But what I've learned over the years is that learning to accept each other’s faults - and choosing to celebrate each others differences - is one of the most important keys to creating a healthy, growing, and lasting relationship.  And that's my prayer for you today. That you will learn to take the good, the bad, and the ugly parts of your life and lay them at the feet of God.  Because in the end, He's the only One who will be able to give you a relationship where a burnt biscuit isn't a deal-breaker!  We could extend this to any relationship. In fact, understanding is the base of any relationship, be it a husband-wife or parent-child or friendship!  "Don't put the key to your happiness in someone else's pocket - keep it in your own."  God Bless You.....  Now, and Always....  So Pleas
Title: A NICE Short Stories!!!!!!!!!!!!!!!
Post by: sateesh on July 29, 2011, 06:11:23 AM
A blind boy sat on the steps of a building with a hat by his feet. He held up a sign which said: "I am blind, please help." There were only a few coins in the hat.

A man was walking by. He took a few coins from his pocket and dropped them into the hat. He then took the sign, turned it around, and wrote some words. He put the sign back so that everyone who walked by would see the new words.

Soon the hat began to fill up. A lot more people were giving money to the blind boy. That afternoon the man who had changed the sign came to see how things were. The boy recognized his footsteps and asked, "Were u the one who changed my sign this morning? What did u write?"

The man said, "I only wrote the truth. I said what u said but in a different way."
What he had written was: "Today is a beautiful day & I cannot see it."

Do u think the first sign & the second sign were saying the same thing? Of course both signs told people the boy was blind. But the first sign simply said the boy was blind. The second sign told people they were so lucky that they were not blind. Should we be surprised that the second sign was more effective?

Moral of the Story:

Be thankful for what you have.

Be creative. Be innovative. Think differently and positively.
Title: Re: A NICE Short Stories!!!!!!!!!!!!!!!
Post by: sateesh on July 29, 2011, 06:25:15 AM
Six short Stories...............with moral


A child told the mother: “Mum you are very beautiful today.”
Replied the mother : “Why?”
The child said : “ Because you did not get angry today .”
Moral of the story:
1. It is easy to possess beauty:- do not get angry.
2. Anger is temporary madness.

A man attended an interview for a job.
Along the corridor, he picked up a piece and threw it into a dustbin.
The interviewer passed by and saw it.
This man got the job.
Moral of the story:
Live with good habits, and you will be recognised.

A small boy worked as an apprentice in a bicycle shop.
A man sent a bicycle for repair.
After repairing the bicycle, this boy cleaned up the bicycle and it looked like a new one.
Other apprentices laughed at him for doing redundant work.
The second day after the owner claimed the bicycle back, this boy was pinched and offered a job.
Moral of the story :
1.Go the extra mile to be successful.
2. Doing more gains more & Doing less loses more.

The owner of a farm asked his child to work everyday at the farm.
His friend said to him : “ You do not have to make your son work so hard. The crops would grow just as good.”
Owner of the farm replied: “ I am not cultivating my crops, but my child.”
Moral of the story:
1. A simple way to groom a child is to let him experience some hardships.
2. If not cut, jade would not turn into useful ware.

A shop is always brightly lit up.
Someone asked : “What brand of bulb are you using ? It is so lasting.”
The shop owner replied : “Our bulbs blew out frequently. We replaced them once a bulb blew out.”
Moral of the story:
1. It is simple to maintain brightness , change the bulbs regularly.
2. To brightening up everyday life : Endeavour to abandon unwholesome states of mind and make an effort to encourage wholesome states to grow.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: sateesh on July 30, 2011, 05:14:26 AM
Life After Birth


Once upon a time, twin boys were conceived in the womb. Seconds, minutes, hours passed as the two embryonic lives developed. The spark of life grew and each tiny brain began to take shape and form. With the development of their brain came feeling, and with feeling, perception--a perception of surroundings, of each other, and their own lives. They discovered that life was good and they laughed and rejoiced in their hearts.

One said to the other, "We are sure lucky to have been conceived and to have this wonderful world."

The other chimed in, "Yes, blessed be our mother who gave us life and each other."

Each of the twins continued to grow and soon their arms and fingers, legs and toes began to take shape. They stretched their bodies and churned and turned in their little world. They explored it and found the life cord which gave them life from their mother's blood. They were grateful for this new discovery and sang, "How great is the love of our mother--that she shares all she has with us!"

Weeks passed into months and with the advent of each new month, they noticed a change in each other and in themselves.

"We are changing," one said. "What can it mean?"

"It means," said the other, "that we are drawing near to birth."

An unsettling chill crept over the two. They were afraid of birth, for they knew that it meant leaving their wonderful world behind.

Said the one, "Were it up to me, I would live here forever."

"But we must be born," said the other. "It has happened to all the others." Indeed, there was evidence inside the womb that the mother had carried life before theirs. "And I believe that there is life after birth, don't you?"

"How can there be life after birth?" cried the one. "Do we not shed our life cord and also the blood tissue when we are born? And have you ever talked to anyone that has been born? Has anyone ever re-entered the womb after birth to describe what birth is like? NO!" As he spoke, he fell into despair, and in his despair he moaned, "If the purpose of conception and our growth inside the womb is to end in birth, then truly our life is senseless." He clutched his precious life cord to his breast and said, "And if this is so, and life is absurd, then there really can be no mothers!"

"But there is a mother," protested the other. "Who else gave us nourishment? Who else created this world for us?"

"We get our nourishment from this cord--and our world has always been here?" said the one. "And if there is a mother--where is she? Have you ever seen her? Does she ever talk to you? No! We invented the mother when we were young because it satisfied a need in us. It made us feel secure and happy."

Thus, while the one raved and despaired, the other resign himself to birth and placed his trust in the hands of his mother. Hours turned into days, and days into weeks. And soon it was time. They both knew their birth was at hand, and they both feared what they did not know. As the one was first to be conceived, so he was the first to be born, the other following.

They cried as they were born into the light. The coughed out fluid and gasped the dry air. And when they were sure they had been born, they opened their eyes--seeing life after birth for the very first time. What they saw was the beautiful eyes of their mother, as they were cradled lovingly in her arms. They were home.

"No eye has seen, no ear had heard, no mind has conceived what God has prepared for those who love him"
Title: touching story.....
Post by: sateesh on July 30, 2011, 01:50:54 PM
I was walking around in a Big Bazar store making shopping, when I saw a Cashier talking to a boy couldn't have been more than 5 or 6 years old.. The Cashier said, 'I'm sorry, but you don't have enough money to buy this doll.... Then the little boy turned to me and asked: ''Uncle, are you sure I don't hav...e enough money?'' I counted his cash and replied: ''You know that you don't have enough money to buy the doll, my dear.'' The little boy was still holding the doll in his hand. Finally, I walked towards him and I asked him who he wished to give this doll to. 'It's the doll that my sister loved most and wanted so much . I wanted to Gift her for her BIRTHDAY. I have to give the doll to my mommy so that she can give it to my sister when she goes there.' His eyes were so sad while saying this. 'My Sister has gone to be with God.. Daddy says that Mommy is going to see God very soon too, so I thought that she could take the doll with her to give it to my sister...'' My heart nearly stopped. The little boy looked up at me and said: 'I told daddy to tell mommy not to go yet. I need her to wait until I come back from the mall.' Then he showed me a very nice photo of him where he was laughing. He then told me 'I want mommy to take my picture with her so my sister won't forget me.' 'I love my mommy and I wish she doesn't have to leave me, but daddy says that she has to go to be with my little sister.' Then he looked again at the doll with sad eyes, very quietly.. I quickly reached for my wallet and said to the boy. 'Suppose we check again, just in case you do have enough money for the doll?'' 'OK' he said, 'I hope I do have enough.' I added some of my money to his with out him seeing and we started to count it. There was enough for the doll and even some spare money. The little boy said: 'Thank you God for giving me enough money!' Then he looked at me and added, 'I asked last night before I went to sleep for God to make sure I had enough money to buy this doll, so that mommy could give It to my sister. He heard me!'' 'I also wanted to have enough money to buy a white rose for my mommy, but I didn't dare to ask God for too much. But He gave me enough to buy the doll and a white rose. My mommy loves white roses.' I finished my shopping in a totally different state from when I started. I couldn't get the little boy out of my mind. Then I remembered a local news paper article two days ago, which mentioned a drunk man in a truck, who hit a car occupied by a young woman and a little girl. The little girl died right away, and the mother was left in a critical state. The family had to decide whether to pull the plug on the life-sustaining machine, because the young woman would not be able to recover from the coma. Was this the family of the little boy? Two days after this encounter with the little boy, I read in the news paper that the young woman had passed away.. I couldn't stop myself as I bought a bunch of white roses and I went to the funeral home where the body of the young woman was exposed for people to see and make last wishes before her burial. She was there, in her coffin, holding a beautiful white rose in her hand with the photo of the little boy and the doll placed over her chest. I left the place, teary-eyed, feeling that my life had been changed for ever... The love that the little boy had for his mother and his sister is still, to this day, hard to imagine. And in a fraction of a second, a drunk driver had taken all this away from him. Please DO NOT DRINK & DRIVE. N

 I READ THIS STORY IN FACEBOOK, I LIKED IT SO THATS WHY I POSTED HERE..
Title: Re: touching story.....
Post by: ShAivI on July 30, 2011, 02:03:40 PM
OM SAI RAM! :) ;) :D ;D

Good one Sateesh. Thanks for sharing! 

Be Blessed!
Love & Light!
Om Sai Ram! :)
Title: Re: touching story.....
Post by: sateesh on July 30, 2011, 02:13:10 PM
OM SAI RAM! :) ;) :D ;D

Good one Sateesh. Thanks for sharing! 

Be Blessed!
Love & Light!
Om Sai Ram! :)

thanks shaivi

really tears rolled wen i read this..

 jai sai ram
Title: Re: touching story.....
Post by: PiyaSoni on August 01, 2011, 02:11:05 AM
OmSaiRam

Sateesh , yu make me cry can't hold my tears, realy a touching story

Vry nice thanks for sharing ...

Sai Samarth.........Shraddha Saburi
Title: Re: touching story.....Mother and Son
Post by: PiyaSoni on August 01, 2011, 02:38:28 AM
My mom only had one eye. I hated her, she was such an embarrassment. My mom ran a small shop at a flea market.She collected little weeds and such to sell, anything for the money we needed she was such an embarrassment.There was this one day during elementary school. I remember that it was field day, and my mom came. I was so embarrassed. How could she do this to me? I threw her a hateful look and ran out. The next day at school..."Your mom only has one eye?!" and they taunted me.
I wished that my mom would just disappear from this world so I said to my mom, "Mom, why don't you have the other eye?! You're only going to make me a laughingstock. Why don't you just die?" My mom did not respond. I guess I felt a little bad, but at the same time, it felt good to think that I had said what I'd wanted to say all this time.
Maybe it was because my mom hadn't punished me, but I didn't think that I had hurt her feelings very badly.
That night...I woke up, and went to the kitchen to get a glass of water. My mom was crying there, so quietly, as if she was afraid that she might wake me. I took a look at her, and then turned away. Because of the thing I had said to her earlier, there was something pinching at me in the corner of my heart. Even so, I hated my mother who was crying out of her one eye. So I told myself that I would grow up and become successful, because I hated my one-eyed mom and our desperate poverty.
Then I studied really hard. I left my mother and came to Seoul and studied, and got accepted in the Seoul University with all the confidence I had. Then, I got married. I bought a house of my own. Then I had kids, too. Now I'm living happily as a successful man. I like it here because it's a place that doesn't remind me of my mom.
This happiness was getting bigger and bigger, when someone unexpected came to see me "What?! Who's this?!"... It was my mother...Still with her one eye. It felt as if the whole sky was falling apart on me. My little girl ran away, scared of my mom's eye.
And I asked her, "Who are you? I don't know you!!!" as if I tried to make that real. I screamed at her "How dare you come to my house and scare my daughter! Get out here now!" And to this, my mother quietly answered, "oh, I'm so sorry. I may have gotten the wrong address," and she disappeared. Thank good ness... she doesn't recognize me. I was quite relieved. I told myself that I wasn't going to care, or think about this for the rest of my life.
Then a wave of relief came upon me... one day, a letter regarding a school reunion came to my house. I lied to my wife saying that I was going on a business trip. After the reunion, I went down to the old shack, that I used to call a house...just out of curiosity there, I found my mother fallen on the cold ground. But I did not shed a single tear. She had a piece of paper in her hand.... it was a letter to me.
My Son,
I think my life has been long enough now. And... I won't visit Seoul anymore... but would it be too much to ask if I wanted you to come visit me once in a while? I miss you so much. And I was so glad when I heard you were coming for the reunion. But I decided not to go to the school.... For you... I'm sorry that I only have one eye, and I was an embarrassment for you.
You see, when you were very little, you got into an accident, and lost your eye. As a mother, I couldn't stand watching you having to grow up with only one eye... so I gave you mine... I was so proud of my son that was seeing a whole new world for me, in my place, with that eye. I was never upset at you for anything you did. The couple times that you were angry with me. I thought to myself, 'it's because he loves me.' I miss the times when you were still young around me.
I miss you so much. I love you. You mean the world to me. My world shattered! Then I cried for the person who lived for me. My Mother.
 
Title: Re: touching story.....
Post by: sateesh on August 01, 2011, 02:57:22 AM
OM SAI RAM

piya this is too much since i made u cry in my last story so now  this time u made me cry with this story  :D jus kidding ...  really u thought me  what   "a relationship" can do, love, care.. no words from my side piya really neat n clean story..  touching story yaar..

JAI SAI RAM


 
Title: Re: touching story.....
Post by: PiyaSoni on August 01, 2011, 03:00:08 AM
OmSaiRam

Satessh , Thanks for yur words

Sai Samarth......Shraddha Saburi
OM SAI RAM

piya this is too much since i made u cry in my last story so now  this time u made me cry with this story  :D jus kidding ...  really u thought me  what   "a relationship" can do, love, care.. no words from my side piya really neat n clean story..  touching story yaar..

JAI SAI RAM


 
Title: Re: touching story.....
Post by: sateesh on August 01, 2011, 03:01:17 AM
OmSaiRam

Sateesh , yu make me cry can't hold my tears, realy a touching story

Vry nice thanks for sharing ...

Sai Samarth.........Shraddha Saburi

OM SAI RAM

thanks piya.. even my water tanks in both the eyes got leaked while reading this story :)

Title: Re: life story...
Post by: sateesh on August 01, 2011, 03:07:50 AM
I think u all guys read this story but once again im posting this bcoz so many of them dont realize the value of relationship

A young man was getting ready to graduate college. For
     many months he had admired a beautiful sports car in a dealer's
     showroom, and knowing his father could well afford it, he told
him that was all he wanted.

     As Graduation Day approached, the young man awaited
     signs that his father had purchased the car. Finally, on the
morning  of his graduation his father called him into his private
  study. His father told him how proud he was to have such a fine
son, and  told him how much he loved him. He handed his son
a beautiful   wrapped gift box.

     Curious, but somewhat disappointed the young man
     opened the box and found a lovely, leather-bound Bible. Angrily,
he raised his voice at his father and said, "With all your money you
give  me  a Bible?" and stormed out of the house, leaving the holy
book.

     Many years passed and the young man was very successful in
business.
     He had a beautiful home and wonderful family, but realized his
     father was very old, and thought perhaps he should go to him. He
had   not seen him since that graduation day. Before he could make
     arrangements, he received a telegram telling him his father had
     passed away, and willed all of his possessions to his son. He
needed   to come home immediately and take care things.
When he arrived at  his father's house, sudden sadness and
regret filled his heart.

     He began to search his father's important papers and
     saw the still new Bible, just as he had left it years ago. With
tears,  he opened the Bible and began to turn the pages. As he
read those   words, a car key dropped from an envelope
taped behind the Bible.
It  had a tag with the dealer's name, the same dealer who had the
sports  car he had desired. On the tag was the date of his graduation,
     and the words...PAID IN FULL.

     How many times do we miss God's blessings because they are not
     packaged as we expected?
Title: Re: The Power of Your Actions
Post by: PiyaSoni on August 01, 2011, 03:09:30 AM
One day, when I was a freshman in high school, I saw a kid from my class walking home from school. His name was Kyle. It looked like he was carrying all of his books. I thought to myself, "Why would anyone bring home all his books on a Friday? He must really be a nerd." I had quite a weekend planned (parties and a football game with my friend the following afternoon), so I shrugged my shoulders and went on.

As I was walking, I saw a bunch of kids running toward him. They ran at him, knocking all his books out of his arms and tripping him so he landed in the dirt. His glasses went flying, and I saw them land in the grass about ten feet from him. He looked up and I saw this terrible sadness in his eyes.

My heart went out to him. So, I jogged over to him, and as he crawled around looking for his glasses, I saw a tear in his eye.
I handed him his glasses and said, "Those guys are jerks. They really should get lives.
He looked at me and said, "Hey, thanks!" There was a big smile on his face. It was one of those smiles that showed real gratitude. I helped him pick up his books, and asked him where he lived. It turned out he lived near me, so I asked him why I had never seen him before. He said he had gone to private school before coming to this school.

I would have never hung out with a private school kid before. We talked all the way home, and I carried his books. He turned out to be a pretty cool kid. I asked him if he wanted to play football on Saturday with me and my friends. He said yes. We hung all weekend and the more I got to know Kyle, the more I liked him. And my friends thought the same of him. Monday morning came, and there was Kyle with the huge stack of books again. I stopped him and said, "Damn boy, you are gonna really build some serious muscles with this pile of books everyday!". He just laughed and handed me half the books. Over the next four years, Kyle and I became best friends.

When we were seniors, we began to think about college. Kyle decided on Georgetown, and I was going to Duke. I knew that we would always be friends, that the miles would never be a problem. He was going to be a doctor, and I was going for business on a football scholarship. Kyle was valedictorian of our class.

I teased him all the time about being a nerd. He had to prepare a speech for graduation. I was so glad it wasn't me having to get up there and speak.

Graduation day arrived - I saw Kyle and he looked great. He was one of those guys that really found himself during high school. He filled out and actually looked good in glasses. He had more dates than me and all the girls loved him!

Boy, sometimes I was jealous. Today was one of those days. I could see that he was nervous about his speech. So, I smacked him on the back and said, "Hey, big guy, you'll be great!"

He looked at me with one of those looks (the really grateful one) and smiled. "Thanks," he said. As he started his speech, he cleared his throat, and began. "Graduation is a time to thank those who helped you make it through those tough years. Your parents, your teachers, your siblings, maybe a coach... but mostly your friends. I am here to tell all of you that being a friend to someone is the best gift you can give them. I am going to tell you a story."

I stared at my friend in disbelief as he told the story of the first day we met. He had planned to kill himself over the weekend. He talked of how he had cleaned out his locker so his Mom wouldn't have to do it later and was carrying his stuff home. He looked hard at me and gave me a little smile. "Thankfully, I was saved. My friend saved me from doing the unspeakable."

I heard the gasp go through the crowd as this handsome, popular boy told us all about his weakest moment. I saw his Mom and dad looking at me and smiling that same grateful smile. Not until that moment did I realize its depth.

Never underestimate the power of your actions. With one small gesture you can change a person's life. For better or for worse. God puts us all in each other's lives to impact one another in some way. Look for God in others.

"Friends are angels who lift us to our feet when our wings have trouble remembering how to fly."
Title: Re: touching story.....
Post by: sateesh on August 01, 2011, 03:16:42 AM
OM SAI RAM

nice one piya liked it n im grt to see this kind of story :)

JAI SAI RAM..
Title: Re: touching story.....
Post by: PiyaSoni on August 01, 2011, 03:24:08 AM
OmSaiRam

Sateesh have posted before yur above story its realy a great one , thanks for reminding it again .... :)

Keep posting  :D

Sai Samarth..........Shraddha Saburi
Title: Re: touching story.....
Post by: ShAivI on August 01, 2011, 03:26:05 AM
OM SAI RAM Sateesh & Piya dear,

यह "Touching Story " से किसीके आँख में आंसू ना आये इसलिए तो मैंने कुछ हटकर ऐसा reply दिया. फिर भी तुमदोनो के water tank "over flow " हो रहा है. कहीं तुम दोनों के आंसू से "द्वारकामाई" में बाढ़ न आ जाए.  :) ;) :D ;D दोनों अपने आपको ज़रा संभालो.

Be Blessed!
Love & LIght!
Om Sai Ram!  :)

OM SAI RAM! :) ;) :D ;D

Good one Sateesh. Thanks for sharing!  

Be Blessed!
Love & Light!
Om Sai Ram! :)

OmSaiRam

Satessh , Thanks for yur words

Sai Samarth......Shraddha Saburi
OM SAI RAM

piya this is too much since i made u cry in my last story so now  this time u made me cry with this story  :D jus kidding ...  really u thought me  what   "a relationship" can do, love, care.. no words from my side piya really neat n clean story..  touching story yaar..

JAI SAI RAM


 

OmSaiRam

Sateesh , yu make me cry can't hold my tears, realy a touching story

Vry nice thanks for sharing ...

Sai Samarth.........Shraddha Saburi

OM SAI RAM

thanks piya.. even my water tanks in both the eyes got leaked while reading this story :)


Title: Re: touching story.....
Post by: PiyaSoni on August 01, 2011, 03:31:36 AM
OmSairam Shaivi Dear

Dn't worry itna over flow bhi nai hua :) , han Sateesh ka na ho raha ho uski aankhoo mein to water tank lage hue hai :D....

Sateesh be careful , Shaivi ji ka kehna kahi sach na ho dwarakami mein baad na aa jaye.. ;)

Sai Samarth........Shraddha Saburi
 
OM SAI RAM Sateesh & Piya dear,

यह "Touching Story " से किसीके आँख में आंसू ना आये इसलिए तो मैंने कुछ हटकर ऐसा reply दिया. फिर भी तुमदोनो के water tank "over flow " हो रहा है. कहीं तुम दोनों के आंसू से "द्वारकामाई" में बाढ़ न आ जाए.  :) ;) :D ;D दोनों अपने आपको ज़रा संभालो.

Be Blessed!
Love & LIght!
Om Sai Ram!  :)

OM SAI RAM! :) ;) :D ;D

Good one Sateesh. Thanks for sharing! 

Be Blessed!
Love & Light!
Om Sai Ram! :)

OmSaiRam

Satessh , Thanks for yur words

Sai Samarth......Shraddha Saburi
OM SAI RAM

piya this is too much since i made u cry in my last story so now  this time u made me cry with this story  :D jus kidding ...  really u thought me  what   "a relationship" can do, love, care.. no words from my side piya really neat n clean story..  touching story yaar..

JAI SAI RAM


 
Title: Re: touching story.....
Post by: sateesh on August 01, 2011, 04:16:52 AM
OM SAI RAM

haha no no i controlled myself shaivi  :D n piya ha water tank me pani katham hogaya mere  ;D  so no problem now  :)

JAI SAI RAM..
Title: Re: Can i borrow Rs 25/- ....
Post by: PiyaSoni on August 02, 2011, 06:12:50 AM
A woman came home from work late, tired and irritated, to find her 5-year old son waiting for her at the door.

SON: 'Mummy, may I ask you a question?'

MUM: 'Yeah sure, what it is?' replied the woman.

SON: 'Mummy, how much do you make an hour?'

MUM: 'That's none of your business. Why do you ask such a thing?' the woman said angrily.
SON: 'I just want to know. Please tell me, how much do you make an hour?'

MUM: 'If you must know, I make R 50 an hour.'

SON: 'Oh,' the little boy replied, with his head down.

SON: 'Mummy, may I please borrow R25?'

The mother was furious, 'If the only reason you asked that is so you can borrow some money to buy a silly toy or some other nonsense, then you march yourself straight to your room and go to bed. Think about why you are being so selfish. I don't work hard everyday for such childish frivolities.'

The little boy quietly went to his room and shut the door..

The woman sat down and started to get even angrier about the little boy's questions. How dare he ask such questions only to get some money?

After about an hour or so, the woman had calmed down , and started to think:

Maybe there was something he really needed to buy with that R25.00 and she really didn't ask for money very often.The woman went to the door of the little boy's room and opened the door.

'Are you asleep, son?' She asked.

'No Mummy, I'm awake,' replied the boy.

'I've been thinking, maybe I was too hard on you earlier' said the woman. 'It's been a long day and I took out my aggravation on you. Here's the R25 you asked for.'

The little boy sat straight up, smiling. 'Oh, thank you Mummy!' he yelled. Then, reaching under his pillow he pulled out some crumpled up bills.

The woman saw that the boy already had money, started to get angry again.

The little boy slowly counted out his money, and then looked up at his mother.

'Why do you want more money if you already have some?' the mother grumbled.

'Because I didn't have enough, but now I do,' the little boy replied.

'Mummy, I have R50 now. Can I buy an hour of your time? Please come home early tomorrow. I would like to have dinner with you.'

The mother was crushed. She put his arms around her little son, and she begged for his forgiveness.

It's just a short reminder to all of you working so hard in life. We should not let time slip through our fingers without having spent some time with those who really matter to us, those close to our hearts. Do remember to share that R50 worth of your time with someone you love.

If we die tomorrow, the company that we are working for could easily replace us in a matter of hours. But the family & friends we leave behind will feel the loss for the rest of their lives.
 
Title: Re: THE HORSE THAT WANTED MORE BEAUTY
Post by: PiyaSoni on August 02, 2011, 06:16:16 AM
A cosmic god had ahorse. The horse was beautiful and also it had many good qualities. But it wanted to be more perfect in every way. It especially wanted to become beauty unparalleled.
One day the horse said to the cosmic god, "0 Lord, you have given me beauty. You have given me other good qualities. I am so grateful to you. But how I wish you could make me more beautiful. I would be extremely, extremely grateful if you could make me more beautiful."

The cosmic god said, "I am more than ready to make you more beautiful. Tell me in what way you want to be changed."

The horse said, "It seems to me that I am not well proportioned. My neck is too short. If you can make my neck a little longer, my upper body will be infinitely more beautiful. And if you can make my legs much longer
and thinner, then I will look infinitely more beautiful in my lower body."

The cosmic god said, "Amenl" Then immediately he made a camel appear in place of the horse. The horse was so disheartened that it started to cry, "0 Lord, I wanted to become more beautiful. In what way is this kind of outer form more beautiful?"
The cosmic god said, "This is exactly what you asked for. You have become a camel."

The horse cried, "Oh no, I do not want to become a camell I wish to remain a horse. As a horse, everybody appreciated my good qualities. Nobody will appreciate me as a camel."

The cosmic god said, "Never try to achieve or receive more than I have given you. If you want to lead a desire-life, then at every moment you will want more and more. But you have no idea what the outcome will be. If you cry for a longer neck and legs, this is what will happen. Each thing in my creation has its own good qualities. The camel is not as beautiful as you are, but it carries heavy loads and has a tremendous sense of responsibility....
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: sateesh on August 02, 2011, 10:04:50 AM
A woman came home from work late, tired and irritated, to find her 5-year old son waiting for her at the door.

SON: 'Mummy, may I ask you a question?'

MUM: 'Yeah sure, what it is?' replied the woman.

SON: 'Mummy, how much do you make an hour?'

MUM: 'That's none of your business. Why do you ask such a thing?' the woman said angrily.
SON: 'I just want to know. Please tell me, how much do you make an hour?'

MUM: 'If you must know, I make R 50 an hour.'

SON: 'Oh,' the little boy replied, with his head down.

SON: 'Mummy, may I please borrow R25?'

The mother was furious, 'If the only reason you asked that is so you can borrow some money to buy a silly toy or some other nonsense, then you march yourself straight to your room and go to bed. Think about why you are being so selfish. I don't work hard everyday for such childish frivolities.'

The little boy quietly went to his room and shut the door..

The woman sat down and started to get even angrier about the little boy's questions. How dare he ask such questions only to get some money?

After about an hour or so, the woman had calmed down , and started to think:

Maybe there was something he really needed to buy with that R25.00 and she really didn't ask for money very often.The woman went to the door of the little boy's room and opened the door.

'Are you asleep, son?' She asked.

'No Mummy, I'm awake,' replied the boy.

'I've been thinking, maybe I was too hard on you earlier' said the woman. 'It's been a long day and I took out my aggravation on you. Here's the R25 you asked for.'

The little boy sat straight up, smiling. 'Oh, thank you Mummy!' he yelled. Then, reaching under his pillow he pulled out some crumpled up bills.

The woman saw that the boy already had money, started to get angry again.

The little boy slowly counted out his money, and then looked up at his mother.

'Why do you want more money if you already have some?' the mother grumbled.

'Because I didn't have enough, but now I do,' the little boy replied.

'Mummy, I have R50 now. Can I buy an hour of your time? Please come home early tomorrow. I would like to have dinner with you.'

The mother was crushed. She put his arms around her little son, and she begged for his forgiveness.

It's just a short reminder to all of you working so hard in life. We should not let time slip through our fingers without having spent some time with those who really matter to us, those close to our hearts. Do remember to share that R50 worth of your time with someone you love.

If we die tomorrow, the company that we are working for could easily replace us in a matter of hours. But the family & friends we leave behind will feel the loss for the rest of their lives.
 

OM SAI RAM

cutie nice story with lots of love !!!!!

JAI SAI RAM..
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: sateesh on September 03, 2011, 09:16:00 AM
A MOTHERS LOVE   

    A little boy came up to his mother in the kitchen one evening while she was fixing supper, and handed her a piece of paper that he had been writing on. After his Mom dried her hands on an apron, she read it, and this is what it said:

    For cutting the grass: $5.00
    For cleaning up my room this week: $1.00
    For going to the store for you: $.50
    Baby-sitting my kid brother while you went shopping: $.25
    Taking out the garbage: $1.00
    For getting a good report card: $5.00
    For cleaning up and raking the yard: $2.00
    Total owed: $14.75

     



    Well, his mother looked at him standing there, and the boy could see the memories flashing through her mind. She picked up the pen, turned over the paper he'd written on, and this is what she wrote:

    For the nine months I carried you while you were growing inside me:
    No Charge

    For all the nights that I've sat up with you, doctored and prayed for you:
    No Charge

    For all the trying times, and all the tears that you've caused through the years:
    No Charge

    For all the nights that were filled with dread, and for the worries I knew were ahead:
    No Charge

    For the toys, food, clothes, and even wiping your nose:
    No Charge

    Son, when you add it up, the cost of my love is:
    No Charge.

    When the boy finished reading what his mother had written, there were big tears in his eyes, and he looked straight at his mother and said, "Mom, I sure do love you." And then he took the pen and in great big letters he wrote: "PAID IN FULL".
     


    Lessons to be learnt: 

        You will never how much your parents worth till you become a parent

        Be a giver not an asker, especially with your parents. there is a lot to give, besides money.

        IF your mom is alive and close  to you, give her a big kiss and ask her for forgiveness. If she is far away, call her. if she passed away, pray for her.

"God bless my mother, all that I am or ever hope to be I owe to her."  Abraham Lincoln
Title: Life's Message
Post by: sateesh on September 03, 2011, 09:39:23 AM

 By Unknown
 
     First i was dying to finish my high school and start college And then i was dying to finish college and start working. Then i was dying to marry and have children. And then i was dying for my children to grow old enough so i could go back to work. But then i was dying to retire. And now i'm dying. And suddenly i realized i forgot to live.
     
          

 
          
     Please don't let this happen to you. Appreciate your current situation and enjoy each day.
Title: Good Things Will Come...
Post by: sateesh on September 03, 2011, 09:45:42 AM
     

There may be days when you get up in the morning and things aren't the way you had hoped they would be.

That's when you have to tell yourself that things will get better. There are times when people disappoint you and let you down.

But those are the times when you must remind yourself to trust your own judgments and opinions, to keep your life focused on believing in yourself.

There will be challenges to face and changes to make in your life, and it is up to you to accept them.
     
          

Constantly keep yourself headed in the right direction for you. It may not be easy at times, but in those times of struggle you will find a stronger sense of who you are.

So when the days come that are filled with frustration and unexpected responsibilities, remember to believe in yourself and all you want your life to be.

Because the challenges and changes will only help you to find the goals that you know are meant to come true for you.

Keep Believing in Yourself

JAI SAI RAM...
Title: You Are Worthy...
Post by: sateesh on September 03, 2011, 09:50:17 AM
Do not undermine your worth by comparing yourself with others.
It is because we are different that each of us is special.

Do not set your goals by what other people deem important.
Only you know what is best for you.

Do not take for granted the things closest to your heart.
Cling to them as you would your life, for without them, life is meaningless.

Do not let your life slip through your fingers by living in the past nor for the future.
By living your life one day at a time, you live all the days of your life.

Do not give up when you still have something to give.
Nothing is really over until the moment you stop trying.

 

It is a fragile thread that binds us to each other.

Do not be afraid to encounter risks.
It is by taking chances that we learn how to be brave.

Do not shut love out of your life by saying it is impossible to find.
The quickest way to receive love is to give love;
The fastest way to lose love is too hold it too tightly;
In addition, the best way to keep love is to give it wings.

Do not dismiss your dreams.
To be without dreams is to be without hope;
To be without hope is to be without purpose.

Do not run through life so fast that you forget not only where you have been, but also where you are going.

Life is not a race, but a journey to be savored each step of the way. 
Title: Twelve Good Thoughts..
Post by: sateesh on September 03, 2011, 09:56:28 AM



1. Maybe God wants us to meet a few wrong people before meeting the right one so that when we finally meet the right person, we will know how to be grateful for that gift.

2. Love is when you take away the feeling, the passion, and the romance in a relationship and find out that you still care for that person.

3. When the door of happiness closes, another opens but often times we look so long at the closed door that we don't see the one which has been opened for us.

4. The best kind of friend is the kind you can sit on a porch and swing with never say a word, and then walk away feeling like it was the best conversation you've ever had.

5. It's true that we don't know what we've got until we lose it, but it's also true that we don't know what we've been missing until it arrives.

 

6. There are things you'd love to hear that you would never hear from the person who you would like to hear from, but don't be so deaf as not to hear it from the one who says it from their heart.

7. Don't go for looks, they can deceive. Don't go for wealth, in the end it fades away. Go for someone who makes you smile because it takes only a smile to make a dark day seem bright.

8. Dream what you want to dream, go where you want to go, be what you want to be, because you have only one life and one chance to do all the things you want to do.

9. A careless word may kindle strife, a cruel word may wreck a life, a timely word may level stress, a loving word may heal and bless.

10. The happiest of people don't necessarily have the best of everything, they just make the most of everything that comes along their way.

11. Happiness lies for those who cry, those who hurt, those who have searched and those who have tried, for only they can appreciate the importance of people who have touched their lives.

12. The brightest future will always be based on a forgotten past, you can't go on well in life until you let go of your past failures and heartaches..
Title: Re: काँच की बरनी और दो कप चाय - एक बोध कथा
Post by: PiyaSoni on September 05, 2011, 04:29:48 AM
जीवन में जब सब कुछ एक साथ और जल्दी-जल्दी करने की इच्छा होती है, सब कुछ तेजी से पा लेने की इच्छा होती है, और हमें लगने लगता है कि दिन के चौबीस घंटे भी कम पड़ते हैं, उस समय ये बोध कथा, "काँच की बरनी और दो कप चाय" हमें याद आती है

दर्शनशास्त्र के एक प्रोफ़ेसर कक्षा में आये और उन्होंने छात्रों से कहा कि वे आज जीवन का एक महत्वपूर्ण पाठ पढाने वाले हैं...उन्होंने अपने साथ लाई एक काँच की बडी़ बरनी (जार) टेबल पर रखा और उसमें टेबल टेनिस की गेंदें डालने लगे और तब तक डालते रहे जब तक कि उसमें एक भी गेंद समाने की जगह नहीं बची... उन्होंने छात्रों से पूछा - क्या बरनी पूरी भर गई ? हाँ... आवाज आई...फ़िर प्रोफ़ेसर साहब ने छोटे-छोटे कंकर उसमें भरने शुरु किये, धीरे-धीरे बरनी को हिलाया तो काफ़ी सारे कंकर उसमें जहाँ जगह खाली थी, समा गये, फ़िर से प्रोफ़ेसर साहब ने पूछा, क्या अब बरनी भर गई है, छात्रों ने एक बार फ़िर हाँ.. कहा अब प्रोफ़ेसर साहब ने रेत की थैली से हौले-हौले उस बरनी में रेत डालना शुरु किया, वह रेत भी उस जार में जहाँ संभव था बैठ गई, अब छात्र अपनी नादानी पर हँसे... फ़िर प्रोफ़ेसर साहब ने पूछा, क्यों अब तो यह बरनी पूरी भर गई ना ? हाँ.. अब तो पूरी भर गई है.. सभी ने एक स्वर में कहा..सर ने टेबल के नीचे से चाय के दो कप निकालकर उसमें की चाय जार में डाली, चाय भी रेत के बीच में स्थित थोडी़ सी जगह में सोख ली गई...प्रोफ़ेसर साहब ने गंभीर आवाज में समझाना शुरु किया - इस काँच की बरनी को तुम लोग अपना जीवन समझो... टेबल टेनिस की गेंदें सबसे महत्वपूर्ण भाग अर्थात भगवान, परिवार, बच्चे, मित्र, स्वास्थ्य और शौक हैं, छोटे कंकर मतलब तुम्हारी नौकरी, कार, बडा़ मकान आदि हैं, और रेत का मतलब और भी छोटी-छोटी बेकार सी बातें, मनमुटाव, झगडे़ है..अब यदि तुमने काँच की बरनी में सबसे पहले रेत भरी होती तो टेबल टेनिस की गेंदों और कंकरों के लिये जगह ही नहीं बचती, या कंकर भर दिये होते तो गेंदें नहीं भर पाते, रेत जरूर आ सकती थी...ठीक यही बात जीवन पर लागू होती है...यदि तुम छोटी-छोटी बातों के पीछे पडे़ रहोगे और अपनी ऊर्जा उसमें नष्ट करोगे तो तुम्हारे पास मुख्य बातों के लिये अधिक समय नहीं रहेगा... मन के सुख के लिये क्या जरूरी है ये तुम्हें तय करना है । अपने बच्चों के साथ खेलो, बगीचे में पानी डालो, सुबह पत्नी के साथ घूमने निकल जाओ, घर के  बेकार सामान को बाहर निकाल फ़ेंको, मेडिकल चेक-अप करवाओ..टेबल टेनिस गेंदों की फ़िक्र पहले करो, वही महत्वपूर्ण है... पहले तय करो कि क्या जरूरी है... बाकी सब तो रेत है..छात्र बडे़ ध्यान से सुन रहे थे.. अचानक एक ने पूछा, सर लेकिन आपने यह नहीं बताया कि "चाय के दो कप" क्या हैं ?प्रोफ़ेसर मुस्कुराये, बोले.. मैं सोच ही रहा था कि अभी तक ये सवाल किसी ने क्यों नहीं किया... इसका उत्तर यह है कि, जीवन हमें कितना ही परिपूर्ण और संतुष्ट लगे, लेकिन अपने खास मित्र के साथ दो कप चाय पीने की जगह हमेशा होनी चाहिये !!
Title: Re: नानक ! दुखिया सब संसार......
Post by: Pratap Nr.Mishra on September 17, 2011, 06:35:58 AM


ॐ साईं राम

नानक ! दुखिया सब संसार......

स्रोत्र :  nge .ashram .org   


दो मित्र चार-पाँच वर्ष के बाद एक-दूसरे से मिले और परस्पर खबर पूछने लगे। एक मित्र ने दुःखी आवाज में कहाः

"मेरे पास एक सुन्दर बड़ा घर था। दस बीघा जमीन थी। दस-बारह बैल थे। गायें थीं, पाँच बछड़े भी थे परन्तु मैंने वह सब खो दिया। मेरी पत्नी और मेरे बालक भी मर गये। मेरे पास केवल ये पहने हुए कपड़े ही रह गये हैं।"

यह सुनकर उसका मित्र हँसने लगा। उसको हँसता हुआ देखकर इसको गुस्सा आया। वह बोलाः

"त मेरा जिगरी दोस्त है। मेरी इस दशा पर तुझे दुःख नहीं होता और ऊपर से मजाक करता है? तुझे तो मेरी हालत देखकर दुःखी होना चाहिए।"

मित्र ने कहाः "हाँ....'तेरी बात सच्ची है। परन्तु अब मेरी बात भी सुनः मेरे पास पैंसठ बीघा जमीन थी। लगभग तीस मकान थे। मैंने शादी की तो 21 बालक हुए। लगभग तीस बैल और गायें थीं। सिंध नेशनल बैंक में पाँच लाख रुपये थे। मैंने वह सब खो दिया। मैंने अपनी परिस्थिति का स्मरण किया तो मेरी तुलना में तेरा दुःख तो कुछ भी नहीं है। इसलिए मुझे हँसी आ गयी।"

विचार करें तो संसार और संसार के नश्वर भोग-पदार्थों में सच्चा सुख नहीं है। यह सब आज है और कल नहीं। सब परिवर्तनशील है, नाशवान है।

एक सेठ प्रतिदिन साधु संतों को भोजन कराता था। एक बार एक नवयुवक संन्यासी उसके यहाँ भिक्षा के लिए आया। सेठ का वैभव-विलास देखकर वह खूब प्रभावित हुआ और विचारने लगाः

'संत तो कहते हैं कि संसार दुःखालय है, परन्तु यहाँ इस सेठ के पास कितने सारे सोने-चाँदी के बर्तन हैं ! सुख के सभी साधन हैं ! यह बहुत सुखी लगता है।' ऐसा मानकर उसने सेठ से पूछाः

"सेठजी ! आप तो बहुत सुखी लगते हैं। मैं मानता हूँ कि आपको कोई दुःख नहीं होगा।"

सेठजी की आँखों में से टप-टप आँसू टपकने लगे। सेठ ने जवाब दियाः "मेरे पास धन-दौलत तो बहुत है परन्तु मुझे एक भी सन्तान नहीं है। इस बात का दुःख है।"

संसार में गरीब हो या अमीर, प्रत्येक को कुछ न कुछ दुःख अथवा मुसीबत होती है। किसी को पत्नी से दुःख होता है तो किसी की पत्नी नहीं है इसलिए दुःख होता है। किसी को सन्तान से दुःख होता है तो किसी की सन्तान नहीं होती है इस बात का दुःख होता है। किसी को नौकरी से दुःख होता है तो किसी को नौकरी नहीं है इस बात का दुःख होता है।

कोई कुटुम्ब से दुःखी होता है तो किसी का कुटुम्ब नहीं है इस बात का दुःख होता है। किसी को धन से दुःख होता है तो किसी को धन नहीं है इस बात का दुःख होता है। इस प्रकार किसी-न-किसी कारण से सभी दुःखी होते हैं।

नानक ! दुखिया सब संसार....

तुम्हें यदि सदा के लिए परम सुखी होना है तो तमाम सुख-दुःख के साक्षी बनो। तुम अमर आत्मा हो, आनन्दस्वरूप हो.... ऐसा चिन्तन करो। तुम शरीर नहीं हो। सुख-दुःख मन को होता है। राग-द्वेष बुद्धि को होता है। भूख-प्यास प्राणों को लगती है। प्रारब्धवश जिन्दगी में कोई दुःख आये तो ऐसा समझो कि मेरे कर्म कट रहे हैं.... मैं शुद्ध हो रहा हूँ।

एक बार लक्ष्मण ने भगवान श्री राम से कहाः "कैकेयी को मजा चखाना चाहिए।"

भगवान श्री राम ने लक्ष्मण को रोका और कहाः

"कैकेयी तो मुझे मेरी माता कौशल्या से भी ज्यादा प्रेम करती है। उस बेचारी का क्या दोष? सभी कुछ प्रारब्ध के वश में है। केकेयी माता यदि ऐसा न करती तो बनवास कौन जाता और राक्षसों को कौन मारता? याद रखो कि कोई किसी का कुछ नहीं करता।

नाच नचे संसार मति, मन के भाई सुभाई।

होवनहार न मिटे कस, तोड़े यत्न कोढ़ कमाई।।

जो समय बीत गया वह बीत गया। जो समय बाकी रहा है उसका सदुपयोग करो। दुर्लभ योनि बार-बार नहीं मिलती इसलिए आज से ही मन में दृढ़ निश्चय करो कि 'मैं सत्पुरुषों का संग करके, सत्शास्त्रों का अध्ययन करके, विवेक और वैराग्य का आश्रय लेकर, अपने कर्त्तव्यों का पालन करके इस मनुष्य जन्म में ही मोक्ष पद की प्राप्ति करूँगा.... सच्चे सुख का अनुभव करुँगा।' इस संकल्प को कभी-कभार दोहराते रहने से दृढ़ता बढ़ेगी।

ॐ साईं राम

Title: जीवन के भाव सुख और दु:ख
Post by: Pratap Nr.Mishra on September 17, 2011, 07:09:29 AM


ॐ साईं राम

जीवन के भाव सुख और दु:ख

स्रोत्र :  धर्म मार्ग

लेखक : श्रीमान सुरजीत सिंह गाँधी

नानक ने संसार को दु:खी ही देखा और उद्घोषणा कर दी, नानक दुखिया सब संसार। बुद्ध ने तो यहां तक कह दिया कि दु:ख में अब तक मनुष्य ने जितने आंसू बहाये हैं, वह महासागरों के जल से भी अधिक है क्योंकि जीवन दु:खदायीहै, क्षीणतादु:खदायीहै, रोग दु:खदायीहै, मृत्यु दु:खदायीहै, प्रिय का वियोग दु:खदायीहै, अप्रिय के साथ संयोग दु:खदायीहै और कोई आकांक्षा जिसकी पूर्ति न हो, तो वह भी दु:खदायीहै।

अध्यात्म हमें ऐसी अंतदर्ृष्टि प्रदान करता है कि हम जीवन की वास्तविकता को समझ सकें। जीवन सिर्फ तृष्णाओंकी पूर्ति हेतु शरीर के साथ ही जीना नहीं है बल्कि अपने को शरीर के धरातल से अलग रखकर जीना ही जीवन की सार्थकता है। तब हम जान पाते हैं कि यथार्थ में प्रबल तृष्णा ही दु:ख का कारण है। इंद्रियों की तृप्ति के प्रबल लालसा ही दु:ख को उत्पन्न करती है। उपनिषदों के अनुसार जो स्थायी [नित्य] है, वह आनंदमय है और जो क्षणभंगुर है [अनित्य एवं अस्थायी] है दु:खदायीहै।

श्रीमद्भगवतगीतामें श्रीकृष्ण कहते हैं जब कोई मनुष्य अपने मन में इंद्रियों के विषयों का ध्यान करने लगता है, तो उसके प्रति अनुराग पैदा हो जाता है। अनुराग से इच्छा उत्पन्न होती है और इच्छा से क्रोध उत्पन्न होता है। क्रोध से मूढताउत्पन्न होती है, मूढतासे स्मृति नष्ट हो जाती है। स्मृति के नष्ट होने से बुद्धि का नाश हो जाता है और बुद्धि के नाश से व्यक्ति नष्ट हो जाता है।

इच्छाएं ही मूल है सुख-दु:ख का। इसका तात्पर्य यह नहीं कि हम इंद्रियों से घृणा करने लगे। इच्छाएं हमें यशस्वी बना सकती हैं या फिर कलंक के गर्त में भी धकेल सकती हैं। इंद्रियों के प्रति समभाव रखना चाहिए। इंद्रियों से घृणा करना भी उतना ही गलत है, जितना उनसे प्रेम करना।

श्रीकृष्ण कहते हैं इंद्रियांरूपीघोडों को रथ में से खोलकर अलग नहीं कर देना है अपितु मनरूपीलगामों द्वारा उन्हें वश में रखना है। अनुशासित मन वाला मनुष्य जो अपनी इंद्रियों को वश में रखे हुए राग और द्वेष से मुक्त रहकर इंद्रियों के विषय में विचरण करता है, वह आत्मा की पवित्रता को प्राप्त कर लेता है।
राजा ययातिकी कथा है। ययातिसम्राट था, उसकी सौ रानियां व सौ बेटे थे। ययातिको जब भी मृत्यु लेने आती हर बार राजा ययातिअपने बदले में अपने बेटे को मृत्यु को सौंप देता। इस तरह ययातिकी उम्र जब हजार वर्ष की हो गयी तो उसने मृत्यु से कहा, अब मैं चलने को तैयार हूं इसलिए नहीं कि मेरी इच्छाएं पूरी हो गई है, इच्छाएं तो वैसी की वैसी ही अधूरी हैं, परंतु एक बात स्पष्ट हो गई है कि इच्छाएं कभी पूरी नहीं हो सकती। इच्छाओं का भिक्षापात्र कभी नहीं भरेगा। इसमें तली नहीं है, जितना भर लो यह खाली का खाली ही रहेगा।

ययातिकी कथा से इतना तो स्पष्ट होता ही है कि तृष्णा से मुक्ति ही जीवन को सुखमय और सुगंधित बना सकती है। बुद्ध, महावीर, नानक, कबीर सभी ने एक ही बात पर बल दिया कि जितने भी दोष, पाप, दु:ख पैदा होते हैं, वे सभी संसार के राग से ही पैदा होते हैं और जितना सुख, शांति मिलती है वह सब रागरहितहोने से ही मिलती है।

आज हमारा नितांत भौतिकतावादीदृष्टिकोण हमें हमारे अध्यात्म से ही दूर करता जा रहा है। मानव के अध्यात्म से दूर होने के कारण ही उसकी दु:ख सहने की क्षमताएं कम होती जा रही हैं। रोजमर्रा की भाग-दौड भरी जिंदगी में छोटी-छोटी विफलताओंपर दु:ख का बोझ अब कुछ ज्यादा ही महसूस होने लगा है। अप्राप्य वस्तु की अभिलाषा और उसे पाने के समयांतर में तनाव इतना बढ जाता है कि व्यक्ति इससे बचने हेतु अध्यात्म के बजाए मौत को चुनता है।
मनोवैज्ञानिकों का तर्क है कि दुनिया की 70प्रतिशत बीमारियों के लिए लोग स्वयं जिम्मेदार हैं। इन विषम स्थितियों में अध्यात्म ही एकमात्र सहारा है जो दु:ख के उन पलों में मरहम का कार्य करता है, जब चारों ओर से व्यक्ति हैरान, परेशान तथा अपने आपको मुसीबतों से घिरा पाता है।

अध्यात्म की तरफ लौटना दु:ख को समाप्त करना नहीं अपितु यह हमें ऐसी अंतदर्ृष्टि प्रदान करता है हम जान सकें कि प्रत्येक वह वस्तु जो सुखात्मकअनुभूति की परिचायक है, हमारे पास है, उसके खो जाने की चिंता एवं भय ही दु:ख का मूल है। सुख और दुख तो जीवन का चक्र है। हर सुख के बाद दु:ख का और हर दु:ख के बाद सुख विशेष आमंत्रण है। अध्यात्म हमें सक्षम बनाता है जिससे हममें सुख एवं दु:ख के प्रति समभाव उत्पन्न होने लगता है। इस स्थिति में मनुष्य राग,भय और क्रोध से मुक्त हो जाता है, तब वह मनुष्य स्थिरबुद्धि मुनि कहलाता है।



ॐ साईं राम
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Puja A. on September 19, 2011, 11:26:43 PM
I just joined the Sai Baba forum.  I after reading a few stories have so much hope to connect with God and to get to know Sai Baba's other followers. Om Sai Sai Ram.
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: Pratap Nr.Mishra on September 20, 2011, 12:48:34 AM

ॐ साईं राम

पूजाजी जय साईं राम ,

सर्वप्रथम इस द्वारकामाई में आपका हार्दिक अभिनन्दन . पूजाजी आपपे बाबा ने खुद ही रहम की वर्षा की है जिसकी वजह से ही आप उनके करीब आने में सफल हुई . बस बाबा के दरबार में आ गई है तो अब केवल उनके चरणों को ही स्वर्मान्य समझते हुए हर समय पकड्ये रहिएगा . बाबा अपने पास बुलाते भी है ,प्यार भी करते है और समय-समय पर हमलोगों की परीक्षा भी लेते रहते है . परीक्षा के समय केवल साईं पर विश्वास और द्रढ़ आस्था ही पास होने की एकमात्र कुंजी है.

और रही बात बाबा को जानने की तो बाबा ने जब आपको अपने चरणों में शरण दी है तो ज्ञान भी वही देंगे. हां एक बात अवश्य कहना चाहूँगा की बहन बाबा को जानने की जगह बाबा की जानने पे ही अपना ध्यान लगाएंगी तो आनंद के सागर में ही सदा गोते लगते रहेंगी ये मेरा द्रढ़ विस्वास है .

आप सबसे प्रथम श्री साईं सत्चरित को अध्यन करना प्रारंभ कीजिये . शायद प्रथम बार आपको ये वो एहसास न हो पर लगातार अध्यन से आप फिर जिस आनंद की अनुभूति का अनुभव करेंगी उसको वर्णन करना संभव नहीं है. श्री साईं सत्चरित ही आपको सही बाबा के वचनों और विचारो को कहने और समझाने में सक्षम है और कोई नहीं . हम मनुष्य कही न कही किसी न किसी भावना से ग्रषित होके  बाबा के सही वचनों को न ही समझ पते है न ही सही तरीके से ही समझा सकते है.
बहन ये आपकी बाबा के साथ प्यार की शुरुवात है इसलिए मैंने इतना कुछ कहना उचित समझा . मेरा उदेश्य केवल आपको बाबा की और ही ले जाना है नाकि बाबा को  जानने की ओर.

इस माँ के आँचल में आपको वो सुख की प्राप्ति होगी जिसकी आपने कल्पना भी नहीं की होगी . बाबा की लीलाओं का अब आनंद उठाना शुरू कर दीजिये .

साईं राम 

I just joined the Sai Baba forum.  I after reading a few stories have so much hope to connect with God and to get to know Sai Baba's other followers. Om Sai Sai Ram.
Title: Re: SMALL STORIES - Two Frogs
Post by: PiyaSoni on September 20, 2011, 01:29:06 AM
Two frogs accidentally fell into a huge, tall bowl of cream that was kept in the floor of a restaurant. For a long time, the frogs tried helplessly jumping out of the bowl, however it was impossible for them to jump that high while swimming in the viscous, slippery cream.

Finally, the first frog said "I have tried enough. I have thought about the situation - there is no way out. We are going to d...ie. I am going to stop struggling as it of no use. I suggest you give up too.” It gave up the struggle, became fully submerged in the cream, and soon died.

The second frog said "I cannot see a way out of this this moment. I am however going to attempt getting out until I exhaust the last ounce of energy in my body". The second frog kept on paddling and trying to jump out of the bowl of cream.

After a couple of hours, the cream started to solidify, and it became easier and easier for the frog to swim in it. The frog's continuos paddling was starting to churn the cream into butter!! With little more effort, the frog was able to jump out, while sitting on the butter that had now completely solidified!

Moral of the story:

1) Your future may not appear bright today. You may not be able to see the light in the end of your tunnel yet. Don't lose hope too soon. Things will change for the better.

2) Give up your anxiety, fear and worry, and stay positive. Put your 100% attention to the tasks that you have currently undertaken. Things will work itself out.

3) Do not listen to the people who ask you to give up on your dreams. Listen to your inner voice instead.

4) You may be very close to success and yet not know it. Don't give up.

5) Nothing is lost until you say it is.


( Found on Net, Sharing )
Title: Keep your dream..
Post by: PiyaSoni on September 21, 2011, 03:16:57 AM
I have a friend named Monty Roberts who owns a horse ranch in San Ysidro. He has let me use his house to put on fund-raising events to raise money for youth at risk programs.

The last time I was there he introduced me by saying, “I want to tell you why I let Jack use my horse. It all goes back to a story about a young man who was the son of an itinerant horse trainer who would go from stable to stable, race track to race track, farm to farm and ranch to ranch, training horses. As a result, the boy’s high school career was continually interrupted. When he was a senior, he was asked to write a paper about what he wanted to be and do when he grew up.

“That night he wrote a seven-page paper describing his goal of someday owning a horse ranch. He wrote about his dream in great detail and he even drew a diagram of a 200-acre ranch, showing the location of all the buildings, the stables and the track. Then he drew a detailed floor plan for a 4,000-square-foot house that would sit on a 200-acre dream ranch.

“He put a great deal of his heart into the project and the next day he handed it in to his teacher. Two days later he received his paper back. On the front page was a large red F with a note that read, `See me after class.’

“The boy with the dream went to see the teacher after class and asked, `Why did I receive an F?’

“The teacher said, `This is an unrealistic dream for a young boy like you. You have no money. You come from an itinerant family. You have no resources. Owning a horse ranch requires a lot of money. You have to buy the land. You have to pay for the original breeding stock and later you’ll have to pay large stud fees. There’s no way you could ever do it.’ Then the teacher added, `If you will rewrite this paper with a more realistic goal, I will reconsider your grade.’

“The boy went home and thought about it long and hard. He asked his father what he should do. His father said, `Look, son, you have to make up your own mind on this. However, I think it is a very important decision for you.’ “Finally, after sitting with it for a week, the boy turned in the same paper, making no changes at all.

He stated, “You can keep the F and I’ll keep my dream.”

Monty then turned to the assembled group and said, “I tell you this story because you are sitting in my 4,000-square-foot house in the middle of my 200-acre horse ranch. I still have that school paper framed over the fireplace.” He added, “The best part of the story is that two summers ago that same schoolteacher brought 30 kids to camp out on my ranch for a week.” When the teacher was leaving, he said, “Look, Monty, I can tell you this now. When I was your teacher, I was something of a dream stealer. During those years I stole a lot of kids’ dreams. Fortunately you had enough gumption not to give up on yours.”

“Don’t let anyone steal your dreams. Follow your heart, no matter what.”


Author Unknown
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: sateesh on September 22, 2011, 02:40:25 AM
Little Things To Remember

   I find what I look for in people. If I look for God, I find God. If I look for bad qualities, I find them. I, in a sense, select what I expect, and I receive it. A life without challenges would be like going to school without lessons to learn. Challenges come not to depress or get me down, but to master and to grow and to unfold thereby.

In the Father's wise and loving plan for me, no burden can fall upon me, no emergency can arise, no grief can overtake me, before I am given the grace and strength to meet them.

A rich, full life is not determined by outer circumstances and relationships. These can be contributory to it, but cannot be the source. I am happy or unhappy because of what I think and feel.

I can never lose anything that belongs to me, nor can I posses what is not really mine.
     
 To never run from a problem: either it will chase me or I will run into another just like it, although it may have a different face or name.

To have no concern for tomorrow. Today is the yesterday over which I had concern.

To never bang on a closed door: Wait for it to open and then go through it.

A person who has come into my life has come either to teach me something, or to learn something from me    
          

Sooo I think now u guys got it what to do.. :)
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: ShAivI on May 08, 2012, 01:02:29 AM


ॐ साईं राम !!!


रघुकुल में एक प्रतापी राजा हुए लेकिन उनके शरीर में कोढ़ हो गया। बड़े पीड़ित हो रहे थे।
गुरु वशिष्ठजी के चरणों में पड़ेः "गुरु महाराज ! यह पीड़ा....?"

गुरु महाराज ने उनकी आँखों पर हाथ रख दिया। फिर बोलेः "अब दूर देख। क्या दिखता है?"

"एक बड़ा चमकता हुआ सुनहरा पहाड़। दूसरा कोयले जैसा काला पहाड़ दिख रहा है।"

"एक है तेरे पुण्यों का पहाड़ जिससे तुझे राज्य, धन, सत्ता, वैभव और यश मिला है।
दूसरा है तेरे पापों का पहाड़ जिसके कारण यह रोग है, चिन्ता है, परेशानी है।"

"गुरुदेव ! इसे मिटाने का उपाय?"

"यह तो मेरे बस की बात नहीं है प्रभो !"

"तो महल के पीछे जो कचरा पड़ा है वह सब खा लो।"

"हे मुनिश्वर ! वह भी नहीं खा सकता हूँ। कोई सरल उपाय बताओ नाथ !"

वशिष्ठजी ने क्षणभर अपना चित्त शांत किया, उपाय खोज लिया। बोलेः "अपनी विधवा भाभी के महल के
प्रांगण में शाम को छः बजे बिस्तर लगाकर सो जा।"

रघुवंशी राजा के पद पर.... विधवा भाभी के महल में....? लोग क्या कहेंगे? लेकिन दूसरा कोई उपाय था नहीं।
 राजा शाम को जाकर प्रांगण में लेट गये। वहाँ से गुजरते लोग कहने लगेः "ये देखो। बूढ़े की बुद्धि बिगड़ी है।"
जिसको जैसा सूझा ऐसा बकने लगे। रात को दस बज गये। राजा चुपचाप अपने महल में लौट आये। दूसरे दिन
देखा तो शरीर के सातवें भाग का कोढ़ गायब हो गया। ऐसे प्रतिदिन प्रांगण में जाते और एक-एक हिस्सा
कोढ़ खत्म होता जाता। चौथे दिन रोग का काफी हिस्सा गायब हो गया। अशांति भी कम हो गयी। फिर
वशिष्ठजी ने राजा की आँखों के ऊपर हाथ रखकर देखने को कहा तो राजा को दिखायी दिया कि पुण्यों का
पहाड़ वैसे ही चमक रहा है और पापों का काला पहाड़ बिल्कुल छोटा-सा रह गया है।

वशिष्ठजी बोलेः "जिन्होंने तुम पर दोष का आरोप लगाया, तुम्हारी निन्दा की, तुमको दुश्चरित्र माना वे
लोग तुम्हारे प्रारब्ध का हिस्सा अपने प्रारब्ध में लेते गये। तुम शुद्ध होते गये।"

दो दिन और बीते। वह काला पहाड़ बिलकुल छोटे-से कंकड़ जैसा रह गया। राजा के शरीर पर से कोढ़ गायब
हो गया, केवल चेहरे पर छोटा सा चिह्न रह गया। उसमें कोई जन्तु हलचल कर रहा था।

"गुरुजी ! वह पूरा पहाड़ चला गया और कंकड़ मात्र रह गया है। चेहरे पर भी छोटा-सा निशान बचा है
कोढ़ का और चित्त में थोड़ी-सी उदासी है।"

"वह मेरे हिस्से का है लेकिन तू सदाचारी, पवित्र आदमी है और तुझ पर लांछन लगाकर तेरी निन्दा
करूँ और पाप अपने सिर पर लूँ? यह अब तू ही भोग ले।"

जब-जब महापुरुष पृथ्वी पर आये हैं – चाहे वे वशिष्ठजी हों चाहे रामकृष्ण हों, रमण महर्षि हों चाहे
रामतीर्थ हों, बुद्ध हों, चाहे महावीर हों, कबीर जी हों चाहे नानकदेव हों, सुकरात हों चाहे वे क्राइस्ट हों –
उनके निन्दक खड़े हो ही गये हैं। उन महापुरुषों के संचित कर्म तो ज्ञान से जल जाते हैं और उनके क्रियमाण
कर्म उनकी प्रशंसा और निन्दा करने वाले लोग जाते हैं।

जो तां की सेवा करे संचित सुकृत सो देत।

दोषदृष्टि पुनि तामें पाप फल वहि लेत।।

बाकी बचे हुए प्रारब्ध कर्म ज्ञानी हँसते-हँसते भोगते हैं। वे समझते हैं कि प्रतिकूलता-अनुकूलता आती है
और वह जाती भी है। आने जाने वाली चीज मुझ अचल को क्या करेगी? ऐसा समझकर ज्ञानी हर हाल में
ज्यों-के-त्यों रहते हैं। अज्ञानी अनुकूलता-प्रतिकूलता में उलझ जाते हैं।

संचित कर्मों का संग्रह ज्ञानाग्नि से भस्म हो जाता है। क्रियमाण कर्म में कर्तृत्वबुद्धि नहीं रहती। इसलिए
क्रियमाण कर्मों का फल लोग ले जाते हैं।

दो आदमी कहीं जा रहे हैं। रास्ते में थके हैं। दोनों को धूप ने, भूख-प्यास ने, कंकड़-पत्थर ने तंग किया है।
एक आदमी को पता नहीं है इसलिए दुःखी हो रहा है किः "हाय रे ! थक गये, मर गये। अभी कितना दूर है,
 क्या पता।" ऐसा करके वह दुःख को ज्यादा बढ़ाता है। दूसरे को पता है कि अब एक ही किलोमीटर जाना है।
वह कहता हैः

"इतना जब चल लिया तो एक किलोमीटर क्या है? चल लेंगे, क्या हर्ज है?" एक चिन्तित है दूसरा निश्चिन्त है।"

ऐसे ही जिनको बोध हो गया है वे ज्ञानी भी संसाररूपी मार्ग में चलते हैं और हम लोग भी चलते हैं। हम लोगों
को पता नहीं लेकिन ज्ञानी के लिए सब रहस्य प्रकट होते हैं।

....तो कृपानाथ ! जब आपके जीवन में प्रतिकूलता आ जाये तो कृपा करना आप पर। अनुकूलता-प्रतिकूलता
को इतना महत्त्व नहीं देना कि आप उन्हीं में खो जायें। अगर इस विषय में आप एकाग्रता लगायेंगे तो जैसे
कड़ी सुपारी बादाम के मेल से पिघल जाती है ऐसे ही आपके कड़े कर्म ज्ञान के बादाम से पिघल जायेंगे।

जिन महापुरुषों को योग की युक्ति आ गयी उनकी कृपा का प्रसाद आपके जीवन में उतर जायेगा तो आपके
लिए मोक्षमार्ग आसान हो जायेगा।



ॐ साईं राम, श्री साईं राम, जय जय साईं राम!!!

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: ShAivI on May 08, 2012, 01:11:11 AM


ॐ साईं राम !!!

एक गांव मे एक मंदिर मे एक पुजारी था और बो बड़े नियम से भगवान की पूजा
करता था और उसको या गांव वालो को कोई भी परेशानी होती थी तो बो कहता था धैर्य
रखो भगवान सब ठीक कर देगा और सचमुच परेशानिया ठीक हो जाती थी .......

एक बार गांव मे बहुत जोर की बाढ़ आ गयी और सब डूबने लगा तो लोग पुजारी के पास गए तो उसने
कहा की धैर्य रखो सब ठीक हो जायेगा मैं भगवान की इतनी पूजा करता हूँ सब ठीक हो जायेगा ,
लेकिन पानी बढ़ने लगा और गांव वाले भागने लगे और पुजारी से बोले की अब तो पानी मंदिर
मे भी आने लगा हें आप भी निकल चलो यहाँ से लेकिन पुजारी ने फिर बही कहा की मैं इतनी
पूजा करता हूँ तो मेरा कुछ नहीं बिगड़ेगा तुम लोग जाओ मैं नहीं जाऊँगा.....

फिर कुछ दिनोंमे पानी और बढ़ा और मंदिर मे घुस गया तो पुजारी मंदिर पर चढ गया ...
फिर उधर से एक नाव आई और उसमे कुछ बुजुर्ग लोगो ने पुजारी से कहा की सब लोग भाग गए हें
और यह आखिरी नाव हें आप भी आ जाओ इसमें क्योकि पानी और बढ़ेगा ऐसा सरकार का कहना हें
 नहीं तो आप डूब जाओगे तो पुजारी ने फिर कहा की मेरा कुछ नहीं होगा क्योकि मैने इतनी
पूजा करी हें जिंदगी भर तो भगवान मेरी मदद करेगे और फिर बो नाव भी चली गयी ......

कुछ दिनों मे और पानी और बढ़ा तो पुजारी मंदिर मे सबसे ऊपर लटक गया और पानी जब
उसकी नाक तक आ गया तो बो त्रिशूल पर लटक गया और भगवान की प्रार्थना करने लगा
की भगवान बचाओ मैने आपकी बहुत पूजा की हें तो कुछ देर मे एक सेना का हेलिकॉप्टर
आ गया और उसमे से सैनिको ने लटक कर हाथ बढ़ाया और कहा की हाथ पकड़ लो किन्तु
फिर बो पुजारी उनसे बोला की मैने जिंदगी भर भगवान की पूजा करी हें मेरा कुछ नहीं होगा
और उसने किसी तरह हाथ नहीं पकड़ा और परेशान होकर सैनिक चले गए ...

फिर थोड़ी देर मे पानी और बढ़ा और उसकी नाक मे घुस गया और पुजारी मर गया......

मरने के बाद पुजारी स्वर्ग मे गया और जैसे ही उसे भगवान जी दिखे तो बो चिल्लाने लगा
की जिंदगी भर मैने इतनी इमानदारी से आप लोगो की पूजा करी फिर भी आप लोगो ने मेरी
मदद नहीं की ...

तो भगवान जी बोले की अरे पुजारी जी जब पहली बार जो लोग आप से चलने को कह रहे थे तो
बो कौन था अरे बो मैं ही तो था ...फिर नाव मे जो बुजुर्ग आप से चलने को कह रहे थे बो कौन था
बो मैं ही तो था और फिर बाद मे हेलिकॉप्टर मे जो सैनिक आप को हाथ दे कर कह रहा था बो कौन
 था बो मैं ही तो था किन्तु आप मुंझे उस रूप मे पहचान ही नहीं पाए तो मैं क्या करू ..... अरे मैं
जब किसी मनुष्य की मदद करूँगा तो मनुष्य के रूप मे ही तो करूँगा चाहे बो रूप डॉक्टर का हो या
गुरु का हो या किसी अच्छे इंसान का या माँ , बाप भाई या बहन का या दोस्त का लेकिन उस रूप मे
आप लोग मुंझे पहचान ही नहीं पाते हो तो मैं क्या करू ..... मेरी बाणी को पहचानने के लिए ध्यान
बहुत जरूरी हें और योग भी तभी इंसान मेरी बाणी को इंसान मे भी पहचान जायेगा क्योकि सच्चे
आदमियो मे मेरी ही बाणी होती हें.

ॐ साईं राम, श्री साईं राम, जय जय साईं राम!!!

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: ShAivI on May 08, 2012, 01:15:19 AM


ॐ साईं राम !!!

एक बार एक भला आदमी नदी किनारे बैठा था। तभी उसने देखा एक
बिच्छू पानी में गिर गया है। भले आदमी ने जल्दी से बिच्छू को हाथ में उठा लिया।
बिच्छू ने उस भले आदमी को डंक मार दिया। बेचारे भले आदमी का हाथ काँपा और बिच्छू
पानी में गिर गया।
 
भले आदमी ने बिच्छू को डूबने से बचाने के लिए दुबारा उठा लिया। बिच्छू ने दुबारा
उस भले आदमी को डंक मार दिया। भले आदमी का हाथ दुबारा काँपा और बिच्छू पानी
 में गिर गया।
 
भले आदमी ने बिच्छू को डूबने से बचाने के लिए एक बार फिर उठा लिया। वहाँ
एक लड़का उस आदमी का बार-बार बिच्छू को पानी से निकालना और बार-बार
बिच्छू का डंक मारना देख रहा था। उसने आदमी से कहा, "आपको यह बिच्छू
बार-बार डंक मार रहा है फिर भी आप उसे डूबने से क्यों बचाना चाहते हैं?"

भले आदमी ने कहा, "बात यह है बेटा कि बिच्छू का स्वभाव है डंक मारना और
मेरा स्वभाव है बचाना। जब बिच्छू एक कीड़ा होते हुए भी अपना स्वभाव नहीं
छोड़ता तो मैं मनुष्य होकर अपना स्वभाव क्यों छोड़ूँ?"
 
मनुष्य को कभी भी अपना अच्छा स्वभाव नहीं भूलना चाहिए।

ॐ साईं राम, श्री साईं राम, जय जय साईं राम!!!

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: ShAivI on May 08, 2012, 03:02:19 AM



OM SAI RAM !!!

A man was walking on the shaking bridge .

He prayed for help .....

He saw GOD on the other side of the bridge
& asked GOD to come near.........

but GOD didn't come, man got angry..... Started shouting & abusing,

With great difficulty he crossed half of the bridge
& asked GOD again to come near but GOD didn't come .

Man got more angry & kept shouting & abusing !!!

He crossed the bridge & reached to other side
& saw GOD holding the broken bridge...

Trust him .....His ways are amazing........

GOD is Great !!!

HIS  ways may be different but HE always shows the way !!!!!!!!!!!!!


OM SAI RAM, SRI SAI RAM, JAI JAI SAI RAM!!!

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: ShAivI on May 08, 2012, 03:09:01 AM


OM SAI RAM !!!

The Tailor's Needle..

A tailor was at work. He took a piece of cloth and with a pair of shining,
costly, scissors, he cut the cloth into various bits.

Then he put the pair of scissors at his feet. Then he took a small needle
and thread and started to sew the bits of cloth, into a fine shirt. When the
spell of sewing was over, he stuck the needle on to his turban.

The tailor's son who was watching it asked him: "Father, the scissors
are costly and look so beautiful. But you throw them down at your feet.
This needle is worth almost nothing; you can get a dozen for an Anna.
Yet, you place it carefully on your head itself. Is there any reason for
this illogical behaviour?"

"Yes, my son. The scissors have their function, no doubt; but they only
cut the cloth into bits. The needle, on the contrary, unites the bits and
enhances the value of the cloth. Therefore, the needle to me is more
precious and valuable. The value of a thing depends on its utility, son,
not on its cost-price or appearance."

Similarly, there are two classes of people in the world-those who create
dissensions and disharmony, who separate man from man; and those
who bring about peace and harmony, who unite people.

The former are generally powerful politicians, kings and unethical business
men; and the latter are usually the poor devotees of God, the penniless
wandering monks, and mendicants. It is true that the Lord make use of
 both to carry on his function of providing the field for the evolution of
individual souls, but He throws down on the dust the former, who create
wars and disharmony; and keeps the poor, pious devotee over
His own head….!

OM SAI RAM, SRI SAI RAM, JAI JAI SAI RAM!!!

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: ShAivI on May 08, 2012, 03:14:03 AM


OM SAI RAM !!!

Old story with new moral. .

There were once 2 brothers who lived on the 80th level. On coming home
one day, they realized to their dismay that the lifts were not working
and that they have to climb the stairs home. After struggling to the
20th level, panting and tired, they decided to abandon their bags and
come back for them the next day. They left their bags then and climbed on.

When they have struggled to the 40th level, the younger brother started
to grumble and both of them began to quarrel. They continued to climb the
flights of steps, quarreling all the way to the 60th floor. They then realized
that they have only 20 levels more to climb and decided to stop quarreling
and continue climbing in peace. They silently climbed on and reached their
home at long last. Each stood calmly before the door and waited for the
other to open the door. And they realized that the key was in their bags
which was left on the 20th floor

This story is reflecting on our life...many of us live under the expectations
of our parents, teachers and friends when young. We seldom get to do
the things that we really like and love and are under so much pressure
and stress so that by the age of 20, we get tired and decided to dump
this load. Being free of the stress and pressure, we work enthusiastically
and dream ambitious wishes. But by the time we reach 40 years old,
we start to lose our vision and dreams. We began to feel unsatisfied
and start to complain and criticize.

We live life as a misery as we are never satisfied. Reaching 60, we realize
that we have little left for complaining anymore, and we began to walk
the final episode in peace and calmness. We think that there is nothing
left to disappoint us, only to realize that we could not rest in peace
because we have an unfulfilled dream ...... a dream we abandoned
60 years ago.

So what is your dream?
Follow your dreams, so that you will not live with regrets.

OM SAI RAM, SRI SAI RAM, JAI JAI SAI RAM!!!

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: ShAivI on May 08, 2012, 03:17:29 AM


OM SAI RAM !!!

NEVER JUDGE ANYONE WITH OUT KNOWING

A doctor entered the hospital in hurry after being called in for an
urgent surgery. He answered the call asap, changed his clothes
and went directly to the surgery block. He found the boy’s father
going and coming in the hall waiting for the doctor. Once seeing him,
the dad yelled:

“Why did you take all this time to come? Don’t you know that my son’s life is in danger?
Don’t you have the sense of responsibility?”

The doctor smiled and said:

“I am sorry, I wasn’t in the hospital and I came the fastest I could after
receiving the call…… And now, I wish you’d calm down so that I can do my work”

“Calm down?! What if your son was in this room right now, would you
calm down? If your own son dies now what will you do??”
said the father angrily

The doctor smiled again and replied: “I will say what Job said in the
Holy Book “From dust we came and to dust we return, blessed be the
name of God”. Doctors cannot prolong lives. Go and intercede for your son,
we will do our best by God’s grace”

“Giving advice when we’re not concerned is so easy” Murmured the father.

The surgery took some hours after which the doctor went out happy,

“Thank goodness!, your son is saved!” And without waiting for the father’s
reply he carried on his way running. “If you have any question,
ask the nurse!!”

“Why is he so arrogant? He couldn’t wait some minutes so that I ask about
my son’s state” Commented the father when seeing the nurse minutes
after the doctor left.

The nurse answered, tears coming down her face: “His son died yesterday
in a road accident, he was in the burial when we called him for your son’s
surgery. And now that he saved your son’s life, he left running to finish
his son’s burial.”

Moral:- NEVER JUDGE ANYONE BECAUSE You never know how their life is
& as to what is happining or what they’re going through.
Just think ABOUT this moment.

OM SAI RAM, SRI SAI RAM, JAI JAI SAI RAM!!!

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: ShAivI on May 08, 2012, 03:24:09 AM


OM SAI RAM !!!

THE TEA SHOP........

A tale reflecting the character & high values of the brave men guarding the nation...

They were on their way to the post where they would be deployed for
next three months. The batch being relieved, was waiting anxiously for
their arrival so that they could fall back to safer confines of their parent unit.
Some would proceed on leave and meet their families. They were happy
that they were to relieve a set of comrades who had done their job.

It was a treacherous climb and the journey was to last till the next evening.
Cold winter month with intermittent snowfall added to the torture.

If only some one could offer a cup of tea, the Major thought, knowing
completely well that it was a futile wish.

They continued for another hour before they came across a dilapidated
structure which looked like a small shop. It was locked.

It was 2 o'clock in the night and there was no house close to the shop
where the owner could be located. In any case it was not advisable to
knock any doors in the night for security reasons.

It was a stalemate. No tea boys, bad luck.

The Major told the men to take some rest since they had been walking
for more than three hours now.

Sir, this is a tea shop indeed and we can make tea. We will have to break
the lock though. The officer was in doubt about the proposed action but a
steaming cup of tea was not a bad idea. He thought for a while and permitted
for the lock to be broken. The lock was broken.

They were in luck.

The place was a shop indeed and had everything required to make tea,
and also a few packets of biscuits.

The tea was prepared and it brought great relief to all in the cold night.
They were now ready for the long and treacherous walk ahead of them
and started to get ready to move.

The officer was in thoughts. They had broken open the lock and prepared t
ea and consumed biscuits without the permission of the owner. The payment
was due but there was no one in sight.

The Major was not however moving out without doing what was to be done.
He took out a Rs 1000/- note from his wallet and kept it on the counter,
pressed under the sugar container, so that the owner sees it first thing
when he arrives in the morning.

He was now relieved of the guilt and ordered the move.

Days, weeks and months passed. They continued to do gallantly what they
were required to do and were lucky not to loose any one from the original
group in the intense insurgency situation.

And then one day, it was time to be replaced by another brave lot.

Soon they were on their way back and stopped at the same shop, which was
today open with the owner in place. He was an old man with very meager
resources and was happy to see eight of them with the prospect of selling
at least eight cups of tea that day.

All of them had their tea and spoke to the old man about his life and experiences
in general, selling tea at such remote a location.

The poor, old man had many stories to tell all of them, replete with his faith in God.

"Kya Baba, yadi Allah hota to kyaa aap ke jaisa 'Allah kaa bandaa' is haal main
hota
, said one of them"; moved by his poverty and faith in God.

"Nahin Sahib, aise mat kaho, God actually exists.

I got the proof a few months back.

I was going through very tough times because my only son had been
severely beaten by the terrorists who wanted some information from him
which he did not have. I had closed the shop early that day and had taken
my son to the hospital. There were medicines to be purchased and I had no
money. No one would give me a loan from fear of the terrorists. There was
no hope, Sahib.

And that day Sahib, I had prayed to Allah for help.

And that day Sahib, Allah walked into my shop.

When I returned to my shop that day and saw the lock broken, I thought
someone had broken in and had taken away whatever little I had. But then
I saw that 'Allah' had left Rs 1000/-under the sugar pot. Sahib, I can't tell you
what that money was worth that day.

Allah exists Sahib, he does.

I know people are dying every day here but all of you will soon meet your near
and dear ones, your children, and you must thank your God Sahib, he is watching
all of us. He does exist. He walked in my shop that day. I know he did."

The faith in his eyes was unflinching.

It was unnerving.

Seven set of eyes looked at their officer and read the order in his eyes clear
and unambiguous, 'Keep quiet.'

The officer got up and paid the bill and hugged the old man.

"Yes Baba, I know,God does exist - and yes the tea was wonderful.

Seven set of eyes did not miss the moisture building in the eyes of the Major, a rare sight.

OM SAI RAM, SRI SAI RAM, JAI JAI SAI RAM!!!

 
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: PiyaSoni on May 09, 2012, 05:10:01 AM
OmSaiRam!!

रबर का सुख

मेज पर कुछ कागज, पेंसिल व रबर वगैरह रखे हुए थे। पेंसिल और रबर एक ही कागज पर रखे थे। आधे कागज पर कुछ लिखा था..। रबर की आंखों में चमक थी, जबकि पेंसिल की आंखों में नमी झलक रही थी। पेंसिल रबर की ओर देखकर बोली- मुझे माफ कीजिए..मेरी गलतियों के लिए। आपका बहुत-बहुत धन्यवाद जो आप मेरी हर गलती को सुधार देती हैं..। लेकिन तुम माफी क्यों मांग रही हो? रबर ने पेंसिल से पूछा। वह इसलिए क्योंकि मेरी हर गलती को सुधारने की कोशिश में आपका शरीर घटता जाता है। सिर्फ मेरी गलतियों की वजह से..। पेंसिल दुखी होते हुए बोली।

इस पर रबर बोली - दुखी क्यों होती हो। घटना तो सभी को है। तुम भी तो लिखने से घटती जाती हो, लेकिन जिस तरह लिखना तुम्हारा काम है, उसी तरह तुम्हारी गलतियां सुधारना मेरा काम है। देखो न, धीरे-धीरे तुम गलतियां कम कर रही हो..। सच, इस काम में मुझे बेहद सुकून मिलता है। मैं रहूं या न रहूं, इसकी मुझे चिंता नहीं है, मेरी चिंता तुम्हारी गलतियों को ठीक करना है..।


कथा मर्म : अपने लिए तो सभी जीते हैं। जीने का सच्चा आनंद तो दूसरों के लिए जीने में ही है!

Title: Re: SMALL STORIES
Post by: PiyaSoni on May 16, 2012, 05:18:58 AM
OmSaiRam!!

बोझ

दर्शन शास्त्र के एक प्रोफेसर ट्रेन में यात्रा कर रहे थे। उनका सहयात्री बड़ा परेशान लग रहा था। वह अपनी तमाम समस्याएं गिनाने लगा- घरेलू समस्या.. आर्थिक समस्या.. और भी जाने क्या-क्या..। प्रोफेसर कुछ नहीं बोले। जब उसकी समस्याओं की चर्चा खत्म हो गई, तो प्रोफेसर बोले - मुझे प्यास लगी है। पानी है क्या? उस व्यक्ति ने तुरंत एक गिलास में पानी दिया। पानी पीने के बाद प्रोफेसर ने कहा- अगर मैं पंद्रह मिनट इस गिलास को हाथ में ही पकड़े रहूं, तो क्या होगा? वह व्यक्ति बोला- पकड़े रहिए, कुछ नहीं होगा। उन्होंने कहा- अगर मैं दो घंटे गिलास को पकड़े रहूं तो..? आपके हाथ में दर्द शुरू हो जाएगा - वह व्यक्ति बोला। क्या इससे गिलास का वजन कम हो जाएगा? नहीं। कैसी बात कर रहे हैं आप?

उस व्यक्ति को प्रोफेसर के दिमाग पर शक होने लगा। अच्छा..अगर मैं पूरे सात घंटे की यात्रा में गिलास को यूं ही उठाए रहूं तो..? आपके हाथ का रक्त प्रवाह रुक जाएगा और दर्द बहुत बढ़ जाएगा..। वह झल्लाकर बोला। दर्द दूर करने के लिए मैं क्या करूं? गिलास को रख दीजिए- वह व्यक्ति बोला। अब प्रोफेसर बोले - आप अपनी समस्याओं का बोझ उठाए क्यों घूम रहे हैं, आप भी रख दीजिए।


कथा मर्म : समस्याएं सब के पास होती हैं। यह आप पर निर्भर करता है कि उन्हें उठाए घूमते हैं या उनका समाधान निकालते हैं!!


OM SAI RAM, SRI SAI RAM, JAI JAI SAI RAM!!
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: vanshi on May 17, 2012, 02:01:52 AM
It's really nice..I can't have word to express my feeling when I read this story.just love it.Thanks
Title: Re: SMALL STORIES
Post by: PiyaSoni on August 29, 2012, 01:33:01 AM
OmSaiRam!!

निष्पाप जीवन

एक सज्जन ने एकनाथ से पूछा, “महाराज, आपका जीवन कितना सीधा-साधा और निष्पाप है! हमारा