Join Sai Baba Announcement List

DOWNLOAD SAMARPAN - APRIL 2016




Author Topic: मंगलवार और शनिवार को करना चाहिए ये खास उपाय  (Read 11742 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline ShAivI

  • Members
  • Member
  • *
  • Posts: 11659
  • Blessings 56
  • बाबा मुझे अपने ह्र्दय से लगा लो, अपने पास बुला लो।

ॐ साईं राम !!!


मंगलवार और शनिवार को करना चाहिए ये 1 खास उपाय
===============================



सप्ताह के दो दिन मंगलवार और शनिवार बहुत खास हैं।
क्योंकि इन दिनों में किए गए उपाय विशेष फल प्रदान करते हैं।
मंगलवार का दिन हनुमानजी और मंगल देवता की विशेष पूजा का दिन है
तो शनिवार शनि और बजरंगबली की आराधना का दिन है।
ऐसा कहा जाता है कि हमारे कर्मों से ही समय बदल सकता है।
यदि किसी व्यक्ति के जीवन में बुरा समय चल रहा है तो
वह ज्योतिष के अनुसार बताए गए कुछ उपाय अपनाकर
बुरे दिनों को अच्छे दिनों में बदल कर सकता है। मंगलवार और
शनिवार के लिए यहां एक ऐसा ही उपाय बताया जा रहा है।

जीवन से जुड़ी सभी समस्याओं को दूर करने वाला यह उपाय
मंगलवार और शनिवार के दिन किया जाना चाहिए।
शनिवार शनि देव का दिन माना गया है। इस दिन शनि के निमित्त
विशेष पूजन, दान या धार्मिक कर्म करने से कई प्रकार के
शुभ फल प्राप्त होते हैं। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि अशुभ
स्थिति में है या किसी राशि पर शनि की साढ़ेसाती या
ढय्या चल रही है तो शनिवार के दिन विशेष उपाय करने चाहिए।

शनिदेव की शुभ दृष्टि प्राप्त करने के लिए किसी भी शनिवार से
यह उपाय शुरू करें। इस उपाय के अनुसार आपको लगातार
सात शनिवार तक बिना विलंब एक-एक नारियल किसी पवित्र नदी
में प्रवाहित करना है। साथ ही नारियल प्रवाहित करते
समय ऊँ रामदूताय नम: मंत्र का जप करें।

लगातार सात शनिवार इस प्रकार करने से समस्याओं का प्रभाव
कम हो जाएगा और हनुमानजी के साथ ही शनिदेव की
कृपा भी प्राप्त होगी।

बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए पीपल के 11 पत्ते उपाय :-

हमारे धर्म शास्त्रों के अनुसार हनुमानजी की अगर कोई भक्त सच्चे मन से
आराधना करता है तो वह जल्दी ही प्रसन्न हो जाते हैं। गोस्वामी तुलसीदासजी
श्रीरामचरितमानस में लिखते हैं कि माता सीता द्वारा पवनपुत्र हनुमानजी को
अमरता का वरदान दिया गया है।

इसी वरदान के प्रभाव से इन्हें भी अष्टचिरंजीवी में शामिल किया जाता है।
हनुमानजी रुद्र अवतार भी माने गए हैं। वह कलयुग के आखिर तक रहेंगे
और भक्तों की मनोकामनाओं को हमेशा पूर्ण करते रहेंगे।

यदि कोई व्यक्ति पैसों की तंगी का सामना करना रहा है तो उसे प्रति
मंगलवार और शनिवार यह उपाय अपनाना चाहिए। निश्चित ही व्यक्ति की
सभी समस्याएं धीरे-धीरे समाप्त हो जाती हैं और व्यक्ति मालामाल हो सकता है।

सप्ताह के प्रति मंगलवार और शनिवार को ब्रह्म मुहूर्त में उठें। इसके बाद
नित्य कर्मों से निवृत्त होकर किसी पीपल के पेड़ से 11 पत्ते तोड़ लें। ध्यान रखें
पत्ते पूरे होने चाहिए, कहीं से टूटे या खंडित नहीं होने चाहिए।

इन 11 पत्तों पर स्वच्छ जल में कुमकुम या अष्टगंध या चंदन मिलाकर इससे
श्रीराम का नाम लिखें। नाम लिखते से हनुमान चालीसा का पाठ करें। इसके
बाद श्रीराम नाम लिखे हुए इन पत्तों की एक माला बनाएं। इस माला को किसी भी
हनुमानजी के मंदिर जाकर वहां मारुतिनंदन को अर्पित करें। इस प्रकार यह उपाय
करते रहें। कुछ समय में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे।

श्रीराम के अनन्य भक्त हनुमानजी की कृपा प्राप्त होते ही भक्तों के सभी दुख
दूर हो जाते हैं। पैसों से जुड़ी समस्याएं समाप्त हो जाती हैं। कोई रोग हो तो
वह भी नष्ट हो जाता है। इसके साथ ही यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में
कोई ग्रह दोष हो तो पवनपुत्र की पूजा से वह भी दूर हो जाता है।

ध्यान रखें यह उपाय करते रहें। कुछ समय में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे।
ध्यान रखें उपाय करने वाला भक्त किसी भी प्रकार के अधार्मिक कार्य न करें।
अन्यथा इस उपाय का प्रभाव निष्क्रीय हो जाएगा। उचित लाभ प्राप्त नहीं हो सकेगा।
साथ ही अपने कार्य और कर्तव्य के प्रति ईमानदार रहें।



इसके अलावा प्रति मंगलवार और शनिवार के दिन हनुमान चालीसा का
पाठ करना चाहिए। हनुमानजी के भक्तों पर शनिदेव का कुप्रभाव नहीं होता है।

मंगलवार के दिन हनुमानजी को सिंदूर और चमेली का तेल अर्पित करना चाहिए।
शास्त्रों के अनुसार हनुमानजी का जन्म मंगलवार के दिन ही हुआ है और
इसी वजह से इस दिन बजरंग बली की पूजा विशेष फल देने वाली मानी गई है।

मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करें और आपके पास पर्याप्त
समय हो तो सुंदरकांड का पाठ करें। सुंदरकांड का
पाठ करने वाले व्यक्ति पर हनुमानजी की कृपा बहुत ही जल्द बरसती है।


ॐ साईं राम, श्री साईं राम, जय जय साईं राम !!!


(sharing with you all, whatever shared by my P P GURUJI  ....)
« Last Edit: May 29, 2016, 09:10:28 AM by ShAivI »

If you are sad n in pain, Be as the ocean, and release. The ocean tides don't pause and hold in anything, they ebb...and then they flow. Only briefly holding on top of a wave for a moment. If something from your past bubbles up, simply take a deep breath, and let it go. More love!
   :-* :-* :-*

Offline ShAivI

  • Members
  • Member
  • *
  • Posts: 11659
  • Blessings 56
  • बाबा मुझे अपने ह्र्दय से लगा लो, अपने पास बुला लो।


|| ॐ साईं राम !!!
|| ॐ श्री रामचन्द्राय नम: ||
|| ॐ जय श्री राम ||
|| ॐ जय श्री सीताराम ||
|| ॐ श्री राम !!!



परेशानी दूर करने के  उपाय
=========================




हनुमान जी कलयुग में जीवित देवता के रूप में माने जाते हैं।
हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार हनुमान जी एकमात्र ऐसे देवता हैं,
जो सशरीर इस पृथ्वी पर विचरण करते हैं,
और अपने भक्तों की हर मनोकामना पूरी करते हैं।

मान्यता है कि हनुमान जी का जन्म मंगलवार को हुआ था।
इसीलिए मंगलवार के दिन उनकी पूजा का विशेष महत्व है।
इसके अतिरिक्त शनिवार को भी हनुमान पूजा का विधान है।
हनुमान जी को प्रसन्न करना बहुत सरल है।

राह चलते उनका नाम स्मरण करने मात्र से ही सारे संकट दूर हो जाते हैं।
मानव जीवन का सबसे बड़ा दुख 'भय' है और जो साधक श्री हनुमान जी का
नाम स्मरण कर लेता है वह भय से मुक्ति प्राप्त कर लेता है।
हनुमान जी की उपासना से बुद्धि, यश, शौर्य, साहस और आरोग्यता में वृद्धि होती है।
रोज हनुमान चालीसा और बजरंग बाण का पाठ करने वाले
भक्तों को सभी सुख मिलते हैं और धन की प्राप्ति होती है।
ऐसे लोगों को किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होती
और उनकी किस्मत का सितारा चमक जाता है।

सुंदरकांड श्रीरामचरितमानस का चौथा अध्याय है।
यह श्रीरामचरितमानस का सबसे अधिक पढ़ा जाने वाला भाग है
क्योंकि इसमें हनुमान जी के बल, बुद्धि, पराक्रम व शौर्य का वर्णन किया गया है।
सुंदरकांड के पढऩे व सुनने से मन में एक अद्भुत ऊर्जा का संचार होता है।
सुंदरकांड के हर दोहा, चौपाई व शब्द में गहन अध्यात्म छुपा है,
जिससे मनुष्य जीवन की हर समस्या का सामना कर सकता है।

विवाहित स्त्रियां अपने पति या स्वामी की लंबी उम्र के लिए मांग में
सिंदूर लगाती हैं, ठीक उसी प्रकार हनुमानजी भी अपने स्वामी श्रीराम के लिए
पूरे शरीर पर सिंदूर लगाते हैं। इसलिए मंगलवार को हनुमान जी के मंदिर
में जाकर उन्हें सिंदूर व चमेली का तेल अर्पित करें। आपकी मनोकामनाएं
जरूर पूरीं होगीं।

हनुमान स्तुति

हनुमानजी को बजरंगबली, पवनसुत, मारुतिनंदन, केसरीनंदन
इस तरह के कई नामों से उनकी स्तुति की जाती है।
श्री हनुमान जी की स्तुति जिसमें उनके बारह नामों का उल्लेख मिलता है।
इन नामों के जप से भक्तों को सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है।
आनंद रामायण 8/3/8-11 में उल्लेखित यह स्तुति
अगर आप मंगलवार या शनिवार को करते हैं तो
आपको इसका फल और भी जल्दी मिलने की संभावना रहती है।

दोहा
उर प्रतीति दृढ़, सरन ह्वै, पाठ करै धरि ध्यान। बाधा सब हर, करैं सब काम सफल हनुमान॥

स्तुति
हनुमान अंजनी सूत् र्वायु पुत्रो महाबलः।
रामेष्टः फाल्गुनसखा पिङ्गाक्षोऽमित विक्रमः॥
उदधिक्रमणश्चैव सीता शोकविनाशनः।
लक्ष्मणप्राणदाता च दशग्रीवस्य दर्पहा॥
एवं द्वादश नामानि कपीन्द्रस्य महात्मनः।
सायंकाले प्रबोधे च यात्राकाले च यः पठेत्॥
तस्य सर्वभयं नास्ति रणे च विजयी भवेत्।


ॐ साईं राम, श्री साईं राम, जय जय साईं राम !!!
ॐ श्री राम, जय श्री राम,  जय जय श्री राम !!!
संकट मोचन हनुमानजी की जय !!!


(sharing with you all, whatever shared by my P P GURUJI  ....)
« Last Edit: May 10, 2016, 04:04:45 AM by ShAivI »

If you are sad n in pain, Be as the ocean, and release. The ocean tides don't pause and hold in anything, they ebb...and then they flow. Only briefly holding on top of a wave for a moment. If something from your past bubbles up, simply take a deep breath, and let it go. More love!
   :-* :-* :-*

 


Facebook Comments