Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: Archana  (Read 46125 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline Ramesh Ramnani

  • Member
  • Posts: 5501
  • Blessings 60
    • Sai Baba
Re: Archana
« Reply #135 on: April 29, 2008, 04:41:11 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।
     
    हम भी उसके....वह भी हमारा....बाबा साई ही मनोरथ देता है और वही उसको साकार भी करता है....हम तो बस दाता के दरबार में अर्ज़ी लगाते रहते हैं. पूजा भी उसकी, प्रार्थना भी उसकी, प्रतिफ़ल भी उसका, प्रसाद भी उसका, आनंद भी उसका, दु:ख भी उसी के, सुख भी उसी के...हम भी उसी के.....वह भी हमारा और क्या चाहिये इसके सिवा....इस दुनियां में?

    कुदरत के नज़ारों में हैं मेरे बाबा ही बाबा....सिर्फ बाबा....बाबा ही बाबा

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #136 on: May 01, 2008, 08:29:54 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।
     
    दूर से आती रोशनी की एक किरण मन मे कही आशा की लौ जगा जाती है
    अन्धेरो से लड़ने का हौसला दे जाती है
    निराशा के मरुस्थल मे पानी की एक बूंद सी लगती है ।

    ये सफर है निराशाओ से आशाओ तक का
    ये सफर है मन के द्वंद से उबरने का
    ये सफर है अन्धेरो से उजाले तक का ।

    अन्धेरो को पीछे छोड़ मुझे आगे बढना है
    कल को भूल मुझे आज मे जीना है
    रोशनी के उस पुंज को छूना है ।

    यही मेरा आज का संकल्प और आज की अर्चना है अपने बाबा के नाम

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline SaiServant

    • Member
    • Posts: 804
    • Blessings 15
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #137 on: May 01, 2008, 09:51:35 AM »
  • Publish
  • Jai Sai Ram!

    Wah, dearest Bhai!! Bahut khubsurat likha hai aap ne.
    May Baba lead us from darkness to light, from despair to hope, and from lack to abundance!


    Om Sai Ram!
     :)

    Offline dayalvasnani

    • Member
    • Posts: 13853
    • Blessings 15
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #138 on: May 01, 2008, 09:02:08 PM »
  • Publish
  • Om Sai Namo Namah Shri Sai Namo Namah
    Jai Jai Sai Namo Namah Sadguru Sai Namo Namah
    Shri Sai Baba bless all with the best in life.

    May every devotee of Shri Sai enjoy Happy, Healthy, Wealthy, Loving Peaceful, and Successful Long Life.

    Shradha      Saburi
    Sabka Malik Sai

    Om Sai Shri Sai Jai Jai Sai

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #139 on: May 01, 2008, 11:02:11 PM »
  • Publish
  • Om Sai Ram~~~

    ये सफर है निराशाओ से आशाओ तक का
    ये सफर है मन के द्वंद से उबरने का
    ये सफर है अन्धेरो से उजाले तक का ।

    अन्धेरो को पीछे छोड़ मुझे आगे बढना है
    कल को भूल मुझे आज मे जीना है
    रोशनी के उस पुंज को छूना है ।


    Jai Sai Ram~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #140 on: May 02, 2008, 09:05:57 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।
     
    Madhu means sweet, nado means music -- sweet music, sweet sound. Existence is full of music; it is music everywhere, all over. The wind passing through the pines is music, the water descending from the mountains is music, the birds, the animals. The whole existence is a kind of great orchestra. It is a symphony.

    Only man has fallen out of step, only man is no more musical. Man is noisy and he has created so much noise in himself that he cannot even hear the music that is all around.

    He is full of his own noise, his own chattering, his constant inner talk. Awake, asleep, the talk continues, the mind continues. The mind goes on spinning and weaving, spinning and weaving; it is almost neurotic. And because of this neurotic mind you cannot hear the immensely penetrating music of existence, of the cosmos.

    To hear it is to be transformed. To hear it is to be reborn. Then life takes on a new dimension. Then life is no more ordinary; it becomes extraordinary, it becomes luminous. It throbs, it dances! It becomes a hymn to god, a prayer. Tremendous gratitude arises in one's self once the cosmic music is heard. And that cosmic music is always there; it is just that we are not available.

    Meditation helps you to become available. Meditation doesn't produce anything, it simply removes obstacles so that you can hear that which is already happening. Meditation is a negative process: it simply removes rocks so that the flow of music can be heard, so that the music can reach you.

    When you are quiet, silent, the still small voice is heard. That voice is divine. And it is absolutely miraculous, mysterious. Its splendour is immeasurable and it leaves nothing but a sweet taste in you --the taste of nectar!

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #141 on: May 04, 2008, 08:23:10 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    A small story.... It is just a story, but full of meaning and juice.

    When God created the world, he used to live in the world. But he became tired, because from the morning on, everybody would start coming with complaints: somebody has no child, somebody's child is sick, somebody's child has died; somebody has fallen in love but the parents are not allowing him to marry the woman.

    .. and millions are the problems. And just one poor God! And those who could not get him in the day would torture him in the night -- he was unable even to sleep.

    Finally, he asked his advisor, "What should I do? These people will kill me! They don't allow me rest, and they bring a thousand and one problems. They should solve those problems. I have given them every capacity, intelligence, to solve all their problems but they want to throw all responsibility on me, thinking that `Why should we bother? Why did you create us in the first place? If you created us then take care of our problems."'

    The advisor whispered in his ear, "There is a place where these people will never go."  He said, "Just show it to me."

    And he said, "You just hide inside these people themselves. They will go searching for you all over the world but they will never go inside. You can rest, relax." And he is resting and relaxing there.

    If you want to know whether the story is true or not, Just GO IN!   

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    « Last Edit: May 05, 2008, 12:19:36 AM by Ramesh Ramnani »
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #142 on: May 06, 2008, 10:33:16 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    चाभियाँ सिर्फ़ ताला खोलने के लिए नहीं होती हैं कहीं न कहीं वो उस आशा का प्रतीक होती हैं कि जीवन में कभी न कभी कहीं न कहीं कोई दरवाजा ऐसा मिलेगा जिसके ताले को खोलने की हिम्मत हमारे भीतर से कहीं उपजित होगी और उस दरवाजे के खुलते ही वो सफर शुरू होगा जिसके लिए उस दरवाजे तक का सफर तय किया गया है....

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #143 on: May 12, 2008, 11:32:10 PM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    जो केवल 'है'

    'एक सराय में एक रात एक यात्री ठहरा था। वह जब वहां पहुंचा तो कुछ यात्री विदा हो रहे थे। सुबह जब वह विदा हो रहा था, तो कुछ और यात्री आ रहे थे। सराय में अतिथि आते और चले जाते, लेकिन आतिथेय वहीं का वहीं था।' एक साधु यह कह कर पूछता था कि क्या यही घटना मनुष्य के साथ प्रतिक्षण नहीं घट रही है?

    मैं भी यही पूछता हूं और कहता हूं कि जीवन में अतिथि और आतिथेय को पहचान लेने से बड़ी और कोई बात नहीं है। शरीर-मन एक सराय है। उसमें विचार के, वासनाओं के, विकारों के अतिथि आते हैं। पर इन अतिथियों से पृथक भी वहां कुछ है। आतिथेय भी है। वह आतिथेय कौन है?

    यह 'कौन' कैसे जाना जाये? बुद्ध ने कहा है, 'रुक जाओ।' और यह रुक जाना ही उसका जानना है। बुद्ध का पूरा वचन है, 'यह पागल मन रुकता नहीं, यदि यह रुक जाए तो वही बोधि है, वही निर्वाण है।' मन के रुकते ही आतिथेय प्रकट हो जाता है। वह शुद्ध, नित्य, बुद्ध, चैतन्य है। जो न कभी जन्मा, न मरा। न जो बद्ध है, न मुक्त होता है। जो केवल 'है', और जिसका होना परमा आनंद है।

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #144 on: May 15, 2008, 08:37:35 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम़।।।

    इतनी शक्ति हमें देना दाता
    मन का विश्वास कमज़ोर हो ना
    हम चलें नेक रास्ते पे हमसे
    भूलकर भी कोई भूल हो ना...

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #145 on: May 18, 2008, 02:04:39 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम़।।।

    BABA IS LIKE SOMEONE MORE THAN SPECIAL TO ME....
     
    With each day that passes
    I find myself investing more and more
    Into this relationship with HIM;
    Faith, hope, trust,
    and even my dreams....
     
    If there were a reason to keep living,
    I've found ten thousand in HIM....
    This is what HE's done to me,
    And continue to do....
     
    Because of this and more,
    HE's Someone Special In My Life

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #146 on: May 19, 2008, 03:15:45 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम़।।।

    श्री सांईराम नाम से मिले सुख,
    श्री सांईराम नाम से मिले आराम,
    श्री सांईराम नाम से मिले शांति,
    श्री सांईराम नाम से मिटे संताप|

    श्री सांईराम का ह्र्दय शीतल,
    श्री सांईराम का ह्र्दय विशाल,
    श्री सांईराम का ह्र्दय सागर,
    श्री सांईराम का ह्र्दय आकाश|

    श्री सांईराम का ह्र्दय संवेदन,
    श्री सांईराम का ह्र्दय करूणा,
    श्री सांईराम का ह्र्दय कोमल.
    श्री सांईराम का ह्र्दय अनुराग|

    श्री सांईराम का ह्र्दय सुंदर,
    श्री सांईराम का ह्र्दय उपकार,
    श्री सांईराम का ह्र्दय मर्यादा,
    श्री सांईराम का ह्र्दय सत्कार|

    श्री सांईराम का ह्र्दय मधुर,
    श्री सांईराम का ह्र्दय प्यार,
    श्री सांईराम का ह्र्दय साह्स,
    श्री सांईराम का ह्र्दय संग्राम|

    श्री सांईराम का ह्र्दय परम लौ

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #147 on: May 23, 2008, 06:56:58 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    है सर्व शक्ति संपन्न प्रभू,
    करबद्ध विनय हम करते हैं!
    सेवा में वस्तु आप ही की,
    अर्पण कर भोजन करते हैं !
    इन्द्रियाँ चित्त इससे बन कर,
    सब परहित ही में लग जावें !
    सच्चिदानंद सदगुरू दो शक्ति हमें,
    जिससे जीवन का फल पावें!

    मेरा मुझ में कुछ नहीं, जो कुछ हे सो तेरा!
    तेरा तुझ को अर्पित, क्या लागे हे मेरा !!

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #148 on: May 27, 2008, 05:23:02 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    प्रार्थना~~~

    हे साई सदगुरु~~ भक्तों के कल्पतरु ~~ हमारी आपसे प्रार्थना है कि आपके अभय चरणों की हमें कभी विस्मृति न हो । आपके श्री चरण कभी भी हमारी दृष्टि से ओझल न हों । हम इस जन्म-मृत्यु के चक्र से संसार में अधिक दुखी है । अब दयाकर इस चक्र से हमारा शीघ्र उद्घार कर दो । हमारी इन्द्रियाँ, जो विषय-पदार्थों की ओर आकर्षित हो रही है, उनकी बाहृ प्रवृत्ति से रक्षा कर, उन्हें अंतर्मुखी बना कर हमें आत्म-दर्शन के योग्य बना दो । जब तक हमारी इन्द्रयों की बहिमुर्खी प्रवृत्ति और चंचल मन पर अंकुश नहीं है, तब तक आत्मसाक्षात्कार की हमें कोई आशा नहीं है । हमारे पुत्र और मीत्र, कोई भी अन्त में हमारे काम न आयेंगे । हे साई ~ हमारे तो एकमात्र तुम्हीं हो, जो हमें मोक्ष और आनन्द प्रदान करोगे । हे प्रभु ~ हमारी तर्कवितर्क तथा अन्य कुप्रवृत्तियों को नष्ट कर दो । हमारी जिहृ सदैव तुम्हारे नामस्मरण का स्वाद लेती रहे । हे साई ~ हमारे अच्छे बुरे सब प्रकार के विचारों को नष्ट कर दो । प्रभु ~ कुछ ऐसा कर दो कि जिससे हमें अपने शरीर और गृह में आसक्ति न रहे । हमारा अहंकार सर्वथा निर्मूल हो जाय और हमें एकमात्र तुम्हारे ही नाम की स्मृति बनी रहे तथा शेष सबका विस्मरण हो जाय । हमारे मन की अशान्ति को दूर कर, उसे स्थिर और शान्त करो । हे साई ~ यदि तुम हमारे हाथ अपने हाथ में ले लोगे तो अज्ञानरुपी रात्रि का आवरण शीघ्र दूर हो जायेगा और हम तुम्हारे ज्ञान-प्रकाश में सुखपूर्वक विचरण करने लगेंगे । यह जो तुम्हारा लीलामृत पान करने का सौभाग्य हमें प्राप्त हुआ तथा जिसने हमें अखण्ड निद्रा से जागृत कर दिया है, यह तुम्हारी ही कृपा और हमारे गत जन्मों के शुभ कर्मों का ही फल है ।

    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: Archana
    « Reply #149 on: June 01, 2008, 05:24:56 AM »
  • Publish
  • Om Sai Ram~~~

    BABA protects you;
    he holds your life in his hands~~~

    BABA has some plans for you,
    some small, some big, some grand~~~

    BABA guides you,
    with a brilliant shining light~~~

    BABA watches over you
    through morning, noon, and night~~~

    BABA is always there for you,
    to aid you in times of woe~~~

    BABA tries hard to help you
    see, and learn, and grow~~~

    BABA has much faith in you;
    there's nothing you can't achieve~~~

    BABA encourages you
    to try, to think, to believe~~~

    BABA will always love you,
    and he hopes you'll love him too~~~

    BABA lends a shoulder,
    to calm, support, and soothe~~~

    BABA will wait for you;
    he'll be there in the end~~~

    BABA will welcome you,
    because he's your friend~~~

    Jai Sai Ram~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

     


    Facebook Comments