Join Sai Baba Announcement List

DOWNLOAD SAMARPAN - APRIL 2016




Author Topic: THE FAST OF RAMADAN BEGINS~~~  (Read 4649 times)

0 Members and 2 Guests are viewing this topic.

Offline tana

  • Member
  • Posts: 7074
  • Blessings 139
  • ~सांई~~ੴ~~सांई~
    • Sai Baba
THE FAST OF RAMADAN BEGINS~~~
« on: August 28, 2008, 10:01:15 PM »
  • Publish
  • Om Sai Ram~~~

    RAMADAN BEGINS~~~
     
    Welcome to a celebration of the Muslim holiday of Ramadan. Observed by more than one billion Muslims around the world, Ramadan is a time for spiritual purification achieved through fasting, self-sacrifice and prayers.
    Celebrated during the ninth month of Islamic calendar, the fast is observed each day from sunrise to sunset. Fasting during Ramadan is one of the five Pillars of Islam. The Islamic belief that requires that Muslims perform five central duties in order to strengthen their faith. While Islam has two major sects, the Sunnis and the Shiites, all Muslims aim to realize these five pillars in their lifetime.
    Ramadan concludes with a 3-day festival known as "Eid" or "Eid ul-Fitr," which literally means "the feast of the breaking/to break the fast." The holiday marks the end of Ramadan, the holy month of fasting and is a culmination of the month-long struggle towards a higher spiritual state.


    ~~Ramadan 2008~~~ The first day of Ramadan (fasting) in North America according to sighting, is expected to be September 02. However, according to Saudi Ummul-Qura calendar, Fiqh Council of North America, and European Council for Fatwa and Research, the first day of Ramadan is on Monday, September 01, 2008.


    According to a new Fatawa from Deoband, India, the first day of Ramadan in UK will be September 02, because the moon should be easily seen by naked eye. In Pakistan also, sighting will be easy on September 01, and first day of Ramadan will also be September 02.
     
    Jai Sai Ram~~~
    « Last Edit: August 28, 2008, 10:06:32 PM by tana »
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: The Fast of Ramadan~~~
    « Reply #1 on: August 28, 2008, 10:05:16 PM »
  • Publish
  • Om Sai Ram~~~


    The Fast of Ramadan~~~

    Ramadan is the ninth month of the Muslim calendar. The Month of Ramadan is also when it is believed the Holy Quran "was sent down from heaven, a guidance unto men, a declaration of direction, and a means of Salvation".


    It is during this month that Muslims fast. It is called the Fast of Ramadan and lasts the entire month. Ramadan is a time when Muslims concentrate on their faith and spend less time on the concerns of their everyday lives. It is a time of worship and contemplation.


    During the Fast of Ramadan strict restraints are placed on the daily lives of Muslims. They are not allowed to eat or drink during the daylight hours. Smoking and sexual relations are also forbidden during fasting. At the end of the day the fast is broken with prayer and a meal called the iftar. In the evening following the iftar it is customary for Muslims to go out visiting family and friends. The fast is resumed the next morning.



    According to the Holy Quran~~~


    One may eat and drink at any time during the night "until you can plainly distinguish a white thread from a black thread by the daylight: then keep the fast until night"

    The good that is acquired through the fast can be destroyed by five things -


    the telling of a lie
    slander
    denouncing someone behind his back
    a false oath
    greed or covetousness


    These are considered offensive at all times, but are most offensive during the Fast of Ramadan.


     During Ramadan, it is common for Muslims to go to the Masjid (Mosque) and spend several hours praying and studying the Quran. In addition to the five daily prayers, during Ramadan Muslims recite a special prayer called the Taraweeh prayer (Night Prayer). The length of this prayer is usually 2-3 times as long as the daily prayers. Some Muslims spend the entire night in prayer.


    On the evening of the 27th day of the month, Muslims celebrate the Laylat-al-Qadr (the Night of Power). It is believed that on this night Muhammad first received the revelation of the Holy Quran. And according to the Quran, this is when God determines the course of the world for the following year.


    When the fast ends (the first day of the month of Shawwal) it is celebrated for three days in a holiday called Id-al-Fitr (the Feast of Fast Breaking). Gifts are exchanged. Friends and family gather to pray in congregation and for large meals. In some cities fairs are held to celebrate the end of the Fast of Ramadan.

    JaiSaiRam~~~
    « Last Edit: August 28, 2008, 10:10:53 PM by tana »
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: THE FAST OF RAMADAN BEGINS~~~
    « Reply #2 on: August 31, 2008, 08:47:16 PM »
  • Publish
  • Om Sai Ram~~~

    इंसानियत का पैगाम माह-ए-रमजान~~~
    ~ शकील खान


    रमजानुल मुबारक का मुकद्दस माह इस्लामी कैलेंडर का नवाँ महीना है। हर साल इस माह में रोजे रखना मुसलमानों पर नाजिल फर्जों में से एक अहम फर्ज है।

    आज से पूरे माह हर बालिग और सेहतमंद मुसलमान पर रमजानुल मुबारक के रोजे रखना फर्ज करार दिया गया है। हदीस के मुताबिक इस मुबारक माह में जन्नात के दरवाजे खुल जाते हैं और शैतान कैद हो जाता है।

    अर्श से फर्श तक नेकियों और रहमतों की बारिश का ऐसा पुरजोर सिलसिला शुरू होता है जिसका हर मुसलमान को बेसब्री और बेकरारी से इंतजार रहता है।

    हदीस शरीफ में फर्माया गया है कि रमजान हजरत मोहम्मद सल्लल्लाह अलैहवसल्लम की उम्मत का महीना है। इस माह रोजे रखने वालों को बेइंतहा सवाब (पुण्य) मिलता है और इन दिनों में जो मुसलमान शिद्दत के साथ खुदा तआला की इबादत और कलामपाक की तिलावत करेगा उसके गुनाह ऐसे धुल जाएँगे जैसे साफ पानी में गंदा कपड़ा धुल जाता है।

    यह रिवायत है कि रोजे रखने वाले मुसलमान कयामत के दिन अल्लाह के नेक बंदों की शक्ल में पहचाने जाएँगे। रमजानुल मुबारक का यह माह इंसानी शैतानियत को काबू में करने का सबसे बेहतरीन वक्त होता है।

    पूरे साल भर गुनाह करने वाले इंसान के मन में भी रमजान के मुकद्दस दिनों में यही खयाल बना रहता है कि उसे अपने किए कामों का खुदा को जवाब देना है। यानी रमजानुल मुबारक गुनाहों को न करने की नसीहत देकर इंसान को अपने आमाल अखलाक (सदाचार) पर गौरकरने का मौका देता है।

    रमजान का यह पाक और नेकियों भरा माह इंसानी नफ्स (मानवेंद्रियों) को काबू करने की तालीम देता है। साथ ही भूखे की भूख व प्यासे की प्यास को जानने समझने की नसीहत देकर इंसानी फर्ज की याद दिलाता है।

    दरअसल रोजेदार मुसलमान के जहन पर खुदा की खुदाबंदी और अपनी बंदगी का एहसास होना ही रमजान का असल मकसद है। इन दिनों में रोजेदार बंदा खुदा की बंदगी में अपने आपको इतना मसरूफ और मारूफ कर ले कि उसकी तमाम बुराइयाँ और शैतानी खयालात हमेशा के लिए उसकी जिंदगी से निकल जाएँ, यही मकसद है।

    इस प्रकार यह माह इंसान को इंसानियत का पैगाम देकर प्यार-मोहब्बत, भाई-चारे, आपसी खलूसी और इंसान को इंसान के लिए मददगार बनने की राह दिखाता है, जिसकी आज सख्त जरूरत है।

    रमजान माह में अल सुबह (सादिक के वक्त) सूरज निकलने के पहले से लेकर शाम को मगरिब की अजान (सूर्यास्त) होने तक कुछ भी खाने-पीने की हसरत करना तक हराम करार दिया गया है।

    रोजा अफ्तार करने के बाद ही खाना-पीना जायज है। इसमें गौरतलब बात यह है कि सिर्फ खाना-पीना छोड़ देना अर्थात भूखा रहने का नाम रोजा नहीं और खुदा भी 'सिर्फ भूखे' से खुश नहीं।

    खुदा तो उन रोजेदारों से खुश रहता है जो रोजे के अरकानों को पूरी अकीदत और ईमान के साथ अदा करते हैं। रोजे की हालत में यह जरूरी है कि रोजेदार हर बुराई से अपने को दूर रखकर रोजे की नफासत और पाकीजगी को पुख्ता करे।

    सच्चाई की राह पर चलते हुए गिड़गिड़ाकर खुदा से अपने गुनाहों की माफी माँगे और साथ ही खुदा को हाजिर-नाजिर मानकर यह भी अहद करे कि आइंदा गुनाह में शुमार होने वाले काम हम कभी नहीं करेंगे। रोजेदार पाँचों वक्त की पाबंदी के साथ नमाज अदा करें।

    रमजान के दिनों में पाँचों वक्त (फजर, जोहर, असर, मगरिब और इशा) की नमाजों के अलावा इशा की नमाज के साथ बीस रकाअत नमाज तराबीह के तौर पर अदा करना लाजिम है।

    यह नमाज जहाँ तक मुमकिन हो हाफिजे कुरआन की इमामत में पढ़ना सबसे अफजल होती है जिसमें हाफिज कुरआन को बिना देखे ही पढ़कर सत्ताईस रमजान की शब में एक कुरान मुकम्मल सुनाते हैं।

    रमजान के दिनों में एक ओर जहाँ बुराइयों से परहेज किया जाता है वहीं दूसरी ओर इंसानी नेकियों को अमल में लाना भी हर मुसलमान के लिए बेहद जरूरी है। इसलिए हर इंसान को चाहिए कि वह इंसानियत के रिश्ते को मजबूत करते हुए रमजानुल मुबारक की नेकियों और रहमतों से पूरी दुुनिया की इंसानी कौम को सराबोर करे जिससे इंसानियत का सर शिद्दत और खानी के साथ सदा बुलंद रहे, जिससे अमन की फिजा हमारे मुल्क को नई ताजगी से खुशगवार बना सके। 
     
    Jai Sai Ram~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: THE FAST OF RAMADAN BEGINS~~~
    « Reply #3 on: September 01, 2008, 04:27:43 AM »
  • Publish
  • Om Sai Ram~~~

    ~~~"Ramadan Mubarak" which means "Blessed Ramadan" ~~~

    In the name of God, the Compassionate, the Merciful
     ~~~RAMADAN~~~


    Ramadan is the  month on the Islamic lunar calendar during which Muslims  abstain from food, drink and other sensual pleasures from  break of dawn to sunset. The fast is performed to learn  discipline, self-restraint and generosity, while obeying  God's commandments. Fasting (along with the declaration of  faith, daily prayers, charity, and pilgrimage to Mecca) is  one of the "five pillars" of Islam. Because Ramadan is a  lunar month, it begins about eleven days earlier each year.

     WHO MUST FAST?
    Fasting is compulsory for those who are mentally and physically fit, past the age of puberty, in a settled  situation (not traveling), and are sure fasting is unlikely  to cause real physical or mental injury.

     EXEMPTIONS FROM FASTING (some exemptions are optional)~~

     ~ Children under the age of puberty (Young children are  encouraged to fast as much as they are able.)
     ~ People who are mentally incapacitated or not responsible  for their actions
     ~ Those who are too old to fast
     ~ The sick
     ~ Travelers who are on journeys of more than about fifty miles
     ~ Pregnant women and nursing mothers
     ~ Women who are menstruating
     ~ Those who are temporarily unable to fast must make up the  missed days at another time.

     SPECIAL EVENTS~~

      Special prayers, called taraweeh, are performed after the daily nighttime prayer.
      Lailat ul-Qadr ("Night of Power" or "Night of Destiny")

    marks the anniversary of the night on which the Prophet  Muhammad first began receiving revelations from God, through the angel Gabriel. Muslims believe Lailat ul-Qadr is one of  the last odd-numbered nights of Ramadan.

    TRADITIONAL PRACTICES~~
     ~ Breaking the daily fast with a drink of water and dates
     ~ Reading the entire Quran during Ramadan (For this purpose,  the Quran is divided into 30 units.)
     ~Social visits are encouraged.

    EID UL-FITR ("Festival of Fast-Breaking") ~~
    Prayers at the End of Ramadan
     ~ Eid begins with special morning prayers on the first day  of Shawwal, the month following Ramadan  on the Islamic lunar  calendar, and lasts for three days.
     ~ It is forbidden to perform an optional fast during Eid  because it is a time for relaxation.
     ~ During Eid Muslims greet each other with the phrase "Eid  Mubarak" (eed-moo-bar-ak), meaning blessed Eid" and  "taqabballah ta'atakum," or "may God accept your deeds."
     

    Demographers say Islam is one of the fastest growing  religions in this country and around the world. There are an  estimated 6 million Muslims in America and some 1.2 billion  worldwide.
     

     ~ Because the beginning of Islamic lunar months depends on  the actual sighting of the new moon, the start and end dates for Ramadan may vary.

     Ques~Why does Ramadan begin on a different day each year?

     A~ Because Ramadan is a lunar month, it begins about eleven  days earlier each year. Throughout a Muslim's lifetime,  Ramadan will fall both during winter months, when the days  are short, and summer months, when the days are long and the  fast is more difficult. In this way, the difficulty of the  fast is evenly distributed between Muslims living in the  northern and southern hemispheres.

    Ques~ How did the fast during Ramadan become obligatory for  Muslims?
     
     A~ The revelations from God to the Prophet Muhammad that  would eventually be compiled as the Quran began during  Ramadan in the year 610, but the fast of Ramadan did not  become a religious obligation for Muslims until the  year 624. The obligation to fast is explained in the second  chapter of the Quran:

    "O ye who believe! Fasting is prescribed to you as it was  prescribed to those before you, that ye may (learn)  self-restraint...Ramadan is the (month) in which was sent  down the Quran, as a guide to mankind, also clear (Signs)  for guidance and judgment (between right and wrong). So  every one of you who is present (at his home) during that  month should spend it in fasting..." (Chapter 2, verses 183  and 185)


    ~~~"Ramadan Mubarak" which means "Blessed Ramadan" ~~~


    Jai Sai Ram~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: THE FAST OF RAMADAN BEGINS~~~
    « Reply #4 on: September 01, 2008, 08:30:01 PM »
  • Publish
  • Om Sai Ram~~~

    आ गया रहमतों और नेकियों का महीना~~ 
    ~मुईन अख्‍तर खान


    रमजान का महीना रहमतों, बरकतों, नेकियों और नियामतों का है। इसकी आमद पर दुनियाभर में मुसलमान खुशी महसूस करते हैं। अरबी भाषा में गरमी की शिद्दत को रम्ज और धूप से तपती हुई जमीन को रमजा कहा जाता है। इस दौर में चूँकि- रमजान-उल-मुबारक का महीना सख्तगर्मी में आता था, इसलिए इसे रमजान कहा जाने लगा।

    एक रिवायत के मुताबिक रमजान अल्लाह के निन्यानवे नामों में से एक है। इसलिए लोग इसे एहतराम के साथ शहरे-रमजान अर्थात माह-ए-रमजान भी कहते हैं। सभी लोग रूहानी उम्मीदों के साथ इस महीने का इस्तकबाल करते हैं। रमजान सब्र का महीना है और सब्र का फल जन्नत है।

    इसका मतलब यह है कि रोजेदार जब इस महीने में सिर्फ अल्लाह के लिए अल्लाह के हुक्म से और अल्लाह की खुशी के लिए अपनी पसंद की तमाम चीजें छोड़कर अपनी ख्वाहिशात को रोककर सब्र करता है, तो अल्लाहपाक ऐसी कुरबानी देने वाले बंदों को जन्नत की राहतें और लज्जतें अता फरमाएगा। यह महीना हमदर्दी का है।

    इस महीने में हर रोजेदार को भूखे की भूख और प्यासे की प्यास का एहसास होता है। उसे पता चलता है कि दुनिया के जिन लोगों को गरीबी की वजह से फाके होते हैं, उन पर क्या बीतती होगी। रोजे से आदमी में इंसानियत के प्रति हमदर्दी और गम ख्वारी का जज्बा पैदा होता है।

    माहे रमजानुल मुबारक में जन्नत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं और जहन्नुम के दरवाजे बंद कर दिए जाते हैं। इस मुबारक माह को साल के तमाम महीनों का सरदार कहा जाता है। पैगंबर हजरत मोहम्मद ने फरमाया कि रमजान महीने का शुरू हिस्सा रहमत, दूसरा हिस्सा मगफिरत और तीसरा हिस्सा जहन्नुम की आग से आजादी का सबब है।

    जो शख्स अपने सेवक से इस महीने में काम हल्का लेगा, अल्लाह तआला उसके गुनाह बख्श देगा और जहन्नुम की आग से आजाद कर देगा। रमजानुल मुबारक में एक अहम अम्ल-नमाज-ए-तरावीह भी है। उस रात की तरावीह (नमाज) को सवाब (पुण्य) की चीज बताया गया है। रोजा शरीर को अंदर और बाहर दोनों तरह से पाक और साफ करता है।

    इस महीने में एक रात है (शबे कद्र), जो हजारों महीनों से बढ़कर है। अल्लाह तआला ने उसके रोजे को फर्ज फरमाया है। जो शख्स इस महीने में किसी नेकी के साथ अल्लाह का कुर्ब्र (निकटता) हासिल करे, वह ऐसा है, जैसा कि गैर रमजान में फर्ज अदा किया और जो शख्स इस महीने में किसी फर्ज को अदा करे वह ऐसा है, जैसा कि गैर रमजान में सत्तर फर्ज अदा करे।

    इस महीने में जो शख्स किसी रोजेदार का रोजा इफ्तार कराए, उसके लिए गुनाहों के माफ होने और आग से खलासी का सबब होगा और रोजेदार के सवाब की मानिंद उसको सवाब मिलेगा। मगर इस रोजेदार के सवाब से कुछ कम नहीं किया जाएगा।

    सहाबा ने अर्ज किया, 'या रसुलल्लाह! हममें से हर शख्स तो इतनी हैसियत नहीं रखता कि रोजेदार को इफ्तार करा सके।' इस पर आप सल्ल. ने फरमाया कि पेट भर खिलाना अनिवार्य नहीं है। एक खजूर से कोई इफ्तार करा दे या एक घूँट पानी पिला दे या एक घूँट लस्सी पिला दे,उस पर अल्लाह मर्हमत (कृपा) फरमा देते हैं।

    जो शख्स किसी रोजेदार को पानी पिलाए, हक तआला (कयामत के दिन) मेरी हौज से उसको ऐसा पानी पिलाएँगे जिसके बाद जन्नत में दाखिल होने तक प्यास नहीं लगेगी।

    मुसलमान हर साल पूरे एक महीने तक नफ्स और जिस्म की तरबीयत हासिल करते हैं और जब्त व बर्दाश्त की आदत डालते हैं। रमजान के मुबारक महीने में वक्त की पाबंदी की बेमिसाल तरबीयत हासिल होती है। इस महीने में नेकी, हमदर्दी, सहयोग और भाईचारे का एहसास अता होता है। गरीब और अमीर को एक-दूसरे के एहसासात और जज्बात को समझने का मौका मिलता है।

    इंसानी सेहत को बरकरार रखने मे जो चीजें कारामद हैं वे तमाम चीजें इस महीने में हासिल होती हैं। रोजेदार के लिए पैगंबर सा. (सल्ल.) का फरमान है कि जब रोजा हो तो रोजेदार को चाहिए कि वे न तो ख्वाहिश-ए-नफस की बात करें और न ही शोर-गुल करें। 
     
    Jai Sai Ram~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline Dipika

    • Member
    • Posts: 13574
    • Blessings 9
    Re: THE FAST OF RAMADAN BEGINS~~~
    « Reply #5 on: September 03, 2008, 06:35:28 AM »
  • Publish
  • OMSAIRAM!रमजान का महीना रहमतों, बरकतों, नेकियों और नियामतों का है।

    ALLAH MALIK!


    Sai baba let your holy lotus feet be our sole refuge.OMSAIRAM
    साईं बाबा अपने पवित्र चरणकमल ही हमारी एकमात्र शरण रहने दो.ॐ साईं राम


    Dipika Duggal

    Offline rajiv uppal

    • Member
    • Posts: 892
    • Blessings 37
    • ~*साईं चरणों में मेरा नमन*~
      • Sai-Ka-Aangan
    Re: THE FAST OF RAMADAN BEGINS~~~
    « Reply #6 on: September 08, 2008, 03:50:00 AM »
  • Publish
  • पवित्र रमजान माह शबाब पर हैं। बाजारों में चहल-पहल शुरू हो गई है। इस माह की खास नमाज 'तरावीह' के लिए मस्जिदों में तैयारी की गई है। घड़ी की सुइयाँ जैसे ही तड़के 3.45 बजे के वक्त को छूती हैं शहर में अस्सलाम अलैकुम... गूँज उठता है। नींद के आगोश में डूबे रोजदारों को इसी तरह सलाम करके मस्जिद के खिदमतगार सहरी के लिए जगाते हैं।

    माइक से हर दस से पंद्रह मिनट के बीच ऐलान किया जाता है... अस्सलाम अलैकुम ... मोहतरम उठ जाइए... सहरी का वक्त हो चुका है। सहरी के लिए 15 मिनट बचे हैं। वक्त खत्म होते ही फजर की अजान होती है और रोजदार घरों से निकल पड़ते हैं मस्जिदों की तरफ और शुरू हो जाता है रमजान के नए दिन की इबादत का सिलसिला।

    रमजान के पाक महीने में सुबह सहरी से शुरू होने वाली इबादत का सिलसिला देर रात तरावीह की नमाज तक जारी रहता है। मौजूदा हाल ये हैं कि मुस्लिम बहुल इलाकों में क्या बच्चे, क्या औरतें और क्या बुजुर्ग तकरीबन सभी इबादत में डूबे हैं। मस्जिद में पाँच वक्त की नमाज अदा करने वालों की तादाद में पाँच गुना तक इजाफा होना इस बात की गवाही दे रहा है।

    मस्जिदों के ताले आम दिनों में सुबह फजर की नमाज के वक्त से कुछ पहले (सुबह करीब 5 बजे) ही खुलते हैं, लेकिन इन दिनों हर हाल में सुबह 3.30 बजे ताले खुल जाते हैं। मस्जिद की साफ-सफाई, जा-नमाज बिछाने और सहरी के लिए ऐलान किया जाता है।

    धीरे-धीरे लोग भी आने लगते हैं और मस्जिदों में मेला-सा लग जाता है।

    रोजे का मकसद भूखा रहना नहीं बल्कि बुराइयों से बचना व नेकियों पर चलना है। यह एक माह की ट्रेनिंग है कि बाकी जिंदगी भी ऐसे ही नेकियों पर चलते हुए गुजारी जाए।
    ..तन है तेरा मन है तेरा प्राण हैं तेरे जीवन तेरा,सब हैं तेरे सब है तेरा मैं हूं तेरा तू है मेरा..

     


    Facebook Comments