Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.  (Read 59007 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline tana

  • Member
  • Posts: 7074
  • Blessings 139
  • ~सांई~~ੴ~~सांई~
    • Sai Baba
Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
« Reply #60 on: November 20, 2007, 10:05:07 PM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    मुझे भरोसा सांई तूं दे अपना अनमोल ,
    रहूं मस्त निश्चित मैं कभी ना जाऊं डोल~~~

    है भरोसा सांई पर उसकी रहमत बरसती है~~~
           
    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline MANAV_NEHA

    • Member
    • Posts: 11306
    • Blessings 32
    • अलहा मालिक
      • SAI BABA
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #61 on: November 28, 2007, 01:47:21 PM »
  • Publish
  • SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA
    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA
    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA
    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA
    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA
    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA
    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA
    गुरूर्ब्रह्मा,गुरूर्विष्णुः,गुरूर्देवो महेश्वरः
    गुरूर्साक्षात् परब्रह्म् तस्मै श्री गुरवे नमः॥
    अखण्डमण्डलाकांरं व्याप्तं येन चराचरम्
    तत्विदं दर्शितं येन,तस्मै श्री गुरवे नमः॥


    सबका मालिक एक

    Offline my_sai

    • Member
    • Posts: 1899
    • Blessings 9
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #62 on: January 12, 2008, 11:08:32 PM »
  • Publish
  • TU ANTER YAMI
    SAB KA SWAMI TU HI BANAYE KAAM
    SAI RAM SAI RAM
    SAI RAM SAI RAM

    श्री सद्रगुरु साईनाथ.
    मेरा मन-मधुप आपके चरण कमल और भजनों में ही लगा रहे । आपके अतिरिक्त भी अन्य कोई ईश्वर है, इसका मुझे ज्ञान नहीं । मुझ पर आप सदा दया और स्नेह करें और अपने चरणों के दीन दास की रक्षा कर उसका कल्याण करें । आपके भवभयनाशक चरणों का स्मरण करते हुये मेरा जीवन आनन्द से व्यतीत हो जाये, ऐसी मेरी आपसे विनम्र प्रार्थना है ।
     श्री सद्रगुरु साईनाथार्पणमस्तु

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1549
    • Blessings 33
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #63 on: January 14, 2008, 11:02:48 AM »
  • Publish
  • ओम साईं राम

    है भरोसा तेरी रहमत बरसेगी
    दर दर साईं तुझे ढूंढती
    ये आंखे ना तरसेंगी

    दरशन होगा प्यारा प्यारा
    छंट जाएगा घोर अंधियारा

    प्यासे मन की प्यास मिटेगी
    सब मायूसी दूर हटेगी

    साईं होंगे ठीक सामने
    श्री चरणों को पुलक थामने

    नत मस्तक यह होगी दासी
    मिट जाएगी घोर उदासी

    जय साईं राम

    Offline my_sai

    • Member
    • Posts: 1899
    • Blessings 9
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #64 on: January 15, 2008, 12:34:13 PM »
  • Publish
  • SAI  MA I HAVE FULL FAITH IN YU
    SAI MA DAYA KERO
    SAI MA DAYA KERO
    SAI MA DAYA KERO
    SAI MA DAYA KERO
    SAI MA DAY  KERO
    SAI MA DAYA KERO
    SAI  MA DAYA KERO
    SAI MA DAYA KERO
    SAI MA DAYA KERO
    SAI MA DAYA KRERO
    SAI MA DAYA  KERO
    श्री सद्रगुरु साईनाथ.
    मेरा मन-मधुप आपके चरण कमल और भजनों में ही लगा रहे । आपके अतिरिक्त भी अन्य कोई ईश्वर है, इसका मुझे ज्ञान नहीं । मुझ पर आप सदा दया और स्नेह करें और अपने चरणों के दीन दास की रक्षा कर उसका कल्याण करें । आपके भवभयनाशक चरणों का स्मरण करते हुये मेरा जीवन आनन्द से व्यतीत हो जाये, ऐसी मेरी आपसे विनम्र प्रार्थना है ।
     श्री सद्रगुरु साईनाथार्पणमस्तु

    Offline saisumiran

    • Member
    • Posts: 135
    • Blessings 1
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #65 on: January 17, 2008, 11:52:38 AM »
  • Publish
  • jai sai ram
    jai sai ram
    jai sai ram
    jai sai ram
    baba bless me with a nice life partner
    have mercy on me

    Offline saisumiran

    • Member
    • Posts: 135
    • Blessings 1
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #66 on: January 18, 2008, 12:10:56 PM »
  • Publish
  • jai sai ram
    jai sai ram
    jai sai ram
    jai sai ram
    sai ram bless me with a nice life partner
    have mercy on me

    Offline MANAV_NEHA

    • Member
    • Posts: 11306
    • Blessings 32
    • अलहा मालिक
      • SAI BABA
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #67 on: January 18, 2008, 01:13:08 PM »
  • Publish
  • SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA

    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA

    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA

    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA

    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA

    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA

    SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA SAI KRIPA
     
    गुरूर्ब्रह्मा,गुरूर्विष्णुः,गुरूर्देवो महेश्वरः
    गुरूर्साक्षात् परब्रह्म् तस्मै श्री गुरवे नमः॥
    अखण्डमण्डलाकांरं व्याप्तं येन चराचरम्
    तत्विदं दर्शितं येन,तस्मै श्री गुरवे नमः॥


    सबका मालिक एक

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #68 on: January 21, 2008, 07:40:23 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    सांई माँ…अपनी माँ जैसी माँ।।
    सांई माँ संवेदना है, भावना है अहसास है
    सांई माँ…माँ जीवन के फूलों में खुशबू का वास है,
    सांई माँ…माँ रोते हुए बच्चे का खुशनुमा पलना है,
    सांई माँ…माँ मरूथल में नदी या मीठा सा झरना है,
    सांई माँ…माँ लोरी है, गीत है, प्यारी सी थाप है,
    सांई माँ…माँ पूजा की थाली है, मंत्रों का जाप है,
    सांई माँ…माँ आँखों का सिसकता हुआ किनारा है,
    सांई माँ…माँ गालों पर पप्पी है, ममता की धारा है,
    सांई माँ…माँ झुलसते दिलों में कोयल की बोली है,
    सांई माँ…माँ मेहँदी है,  कुमकुम है,  सिंदूर है,  रोली है,
    सांई माँ…माँ कलम है, दवात है, स्याही है,
    सांई माँ…माँ परामत्मा की स्वयँ एक गवाही है,
    सांई माँ…माँ त्याग है, तपस्या है, सेवा है,
    सांई माँ…माँ फूँक से ठँडा किया हुआ कलेवा है,
    सांई माँ…माँ अनुष्ठान है, साधना है, जीवन का हवन है,
    सांई माँ…माँ जिंदगी के मोहल्ले में आत्मा का भवन है,
    सांई माँ…माँ चूडी वाले हाथों के मजबूत कंधों का नाम है,
    सांई माँ…माँ काशी है, काबा है और चारों धाम है,
    सांई माँ…माँ चिंता है, याद है, हिचकी है,
    सांई माँ…माँ बच्चे की चोट पर सिसकी है,
    सांई माँ…माँ चुल्हा-धुंआ-रोटी और हाथों का छाला है,
    सांई माँ…माँ ज़िंदगी की कड़वाहट में अमृत का प्याला है,
    सांई माँ…माँ पृथ्वी है, जगत है, धुरी है,
    सांई माँ बिना इस सृष्टी की कलप्ना अधूरी है,
    सांई माँ तो सांई माँ माँ की भी ये कथा अनादि है,
    ये अध्याय नही है…
    …और माँ का जीवन में कोई पर्याय नहीं है,
    जब तक सांई माँ है
    तो माँ का महत्व दुनिया में कम हो नहीं सकता,
    और माँ जैसा दुनिया में कुछ हो नहीं सकता,
    तो मैं कला की ये पंक्तियाँ सांई माँ के नाम करता हूँ,
    और दुनिया की सभी माताओं बहनों को मेरा नमन्

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Dipika

    • Member
    • Posts: 13574
    • Blessings 9
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #69 on: January 21, 2008, 08:38:11 AM »
  • Publish
  • Sai Baba on remebering him from heart
    This video clip is from star tv serial about Damuanna and his wife talking. Damu Anna's wife remebers the words of Sai Baba on total surrendering to him, the divine . Sai Baba : Whoever remembers me from heart, show devotion through heart, I fulfills their desires Those who ever remember me, always and praise me and my stories I am always with them. I am always looking for their welfare. Sab Ka Malik Ek ( Lord is One ).

    http://saibabashirdivideos.blogspot.com/2007/07/sai-baba-on-remebering-him-from-heart.html

    Hai barosa Sai par,uski rehmat barsegi.

    ALLAH MALIK!

    Sai baba let your holy lotus feet be our sole refuge.OMSAIRAM
    साईं बाबा अपने पवित्र चरणकमल ही हमारी एकमात्र शरण रहने दो.ॐ साईं राम


    Dipika Duggal

    Offline MANAV_NEHA

    • Member
    • Posts: 11306
    • Blessings 32
    • अलहा मालिक
      • SAI BABA
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #70 on: January 21, 2008, 01:20:51 PM »
  • Publish
  • sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai sai
    गुरूर्ब्रह्मा,गुरूर्विष्णुः,गुरूर्देवो महेश्वरः
    गुरूर्साक्षात् परब्रह्म् तस्मै श्री गुरवे नमः॥
    अखण्डमण्डलाकांरं व्याप्तं येन चराचरम्
    तत्विदं दर्शितं येन,तस्मै श्री गुरवे नमः॥


    सबका मालिक एक

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1549
    • Blessings 33
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #71 on: January 22, 2008, 11:14:44 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    सांई माँ…अपनी माँ जैसी माँ।।
    सांई माँ संवेदना है, भावना है अहसास है
    सांई माँ…माँ जीवन के फूलों में खुशबू का वास है,
    सांई माँ…माँ रोते हुए बच्चे का खुशनुमा पलना है,
    सांई माँ…माँ मरूथल में नदी या मीठा सा झरना है,
    सांई माँ…माँ लोरी है, गीत है, प्यारी सी थाप है,
    सांई माँ…माँ पूजा की थाली है, मंत्रों का जाप है,
    सांई माँ…माँ आँखों का सिसकता हुआ किनारा है,
    सांई माँ…माँ गालों पर पप्पी है, ममता की धारा है,
    सांई माँ…माँ झुलसते दिलों में कोयल की बोली है,
    सांई माँ…माँ मेहँदी है,  कुमकुम है,  सिंदूर है,  रोली है,
    सांई माँ…माँ कलम है, दवात है, स्याही है,
    सांई माँ…माँ परामत्मा की स्वयँ एक गवाही है,
    सांई माँ…माँ त्याग है, तपस्या है, सेवा है,
    सांई माँ…माँ फूँक से ठँडा किया हुआ कलेवा है,
    सांई माँ…माँ अनुष्ठान है, साधना है, जीवन का हवन है,
    सांई माँ…माँ जिंदगी के मोहल्ले में आत्मा का भवन है,
    सांई माँ…माँ चूडी वाले हाथों के मजबूत कंधों का नाम है,
    सांई माँ…माँ काशी है, काबा है और चारों धाम है,
    सांई माँ…माँ चिंता है, याद है, हिचकी है,
    सांई माँ…माँ बच्चे की चोट पर सिसकी है,
    सांई माँ…माँ चुल्हा-धुंआ-रोटी और हाथों का छाला है,
    सांई माँ…माँ ज़िंदगी की कड़वाहट में अमृत का प्याला है,
    सांई माँ…माँ पृथ्वी है, जगत है, धुरी है,
    सांई माँ बिना इस सृष्टी की कलप्ना अधूरी है,
    सांई माँ तो सांई माँ माँ की भी ये कथा अनादि है,
    ये अध्याय नही है…
    …और माँ का जीवन में कोई पर्याय नहीं है,
    जब तक सांई माँ है
    तो माँ का महत्व दुनिया में कम हो नहीं सकता,
    और माँ जैसा दुनिया में कुछ हो नहीं सकता,
    तो मैं कला की ये पंक्तियाँ सांई माँ के नाम करता हूँ,
    और दुनिया की सभी माताओं बहनों को मेरा नमन्

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।



    ओम साईं राम

    शब्दों की सोंधी मिट्टी लेकर
    भावों का डाला पानी
    फिर गूंधा अपने प्रेम भाव से
    गढने को मां की कहानी

    जो मूरत बनकर सामने आई
    वो मूरत है साईं मां की
    हर मां की भी माता है जो
    वो मां है सारे जहां की

    इससे सुंदर हो सकता नहीं
    भाव विभोर नमन
    उस अदभुत रचनाकार को
    सब मां बहनों का वंदन

    जय साईं राम

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #72 on: January 22, 2008, 10:44:10 PM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    सांई माँ…अपनी माँ जैसी माँ।।
    सांई माँ संवेदना है, भावना है अहसास है
    सांई माँ…माँ जीवन के फूलों में खुशबू का वास है,
    सांई माँ…माँ रोते हुए बच्चे का खुशनुमा पलना है,
    सांई माँ…माँ मरूथल में नदी या मीठा सा झरना है,
    सांई माँ…माँ लोरी है, गीत है, प्यारी सी थाप है,
    सांई माँ…माँ पूजा की थाली है, मंत्रों का जाप है,
    सांई माँ…माँ आँखों का सिसकता हुआ किनारा है,
    सांई माँ…माँ गालों पर पप्पी है, ममता की धारा है,
    सांई माँ…माँ झुलसते दिलों में कोयल की बोली है,
    सांई माँ…माँ मेहँदी है,  कुमकुम है,  सिंदूर है,  रोली है,
    सांई माँ…माँ कलम है, दवात है, स्याही है,
    सांई माँ…माँ परामत्मा की स्वयँ एक गवाही है,
    सांई माँ…माँ त्याग है, तपस्या है, सेवा है,
    सांई माँ…माँ फूँक से ठँडा किया हुआ कलेवा है,
    सांई माँ…माँ अनुष्ठान है, साधना है, जीवन का हवन है,
    सांई माँ…माँ जिंदगी के मोहल्ले में आत्मा का भवन है,
    सांई माँ…माँ चूडी वाले हाथों के मजबूत कंधों का नाम है,
    सांई माँ…माँ काशी है, काबा है और चारों धाम है,
    सांई माँ…माँ चिंता है, याद है, हिचकी है,
    सांई माँ…माँ बच्चे की चोट पर सिसकी है,
    सांई माँ…माँ चुल्हा-धुंआ-रोटी और हाथों का छाला है,
    सांई माँ…माँ ज़िंदगी की कड़वाहट में अमृत का प्याला है,
    सांई माँ…माँ पृथ्वी है, जगत है, धुरी है,
    सांई माँ बिना इस सृष्टी की कलप्ना अधूरी है,
    सांई माँ तो सांई माँ माँ की भी ये कथा अनादि है,
    ये अध्याय नही है…
    …और माँ का जीवन में कोई पर्याय नहीं है,
    जब तक सांई माँ है
    तो माँ का महत्व दुनिया में कम हो नहीं सकता,
    और माँ जैसा दुनिया में कुछ हो नहीं सकता,
    तो मैं कला की ये पंक्तियाँ सांई माँ के नाम करता हूँ,
    और दुनिया की सभी माताओं बहनों को मेरा नमन्

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।



    ओम साईं राम

    शब्दों की सोंधी मिट्टी लेकर
    भावों का डाला पानी
    फिर गूंधा अपने प्रेम भाव से
    गढने को मां की कहानी

    जो मूरत बनकर सामने आई
    वो मूरत है साईं मां की
    हर मां की भी माता है जो
    वो मां है सारे जहां की

    इससे सुंदर हो सकता नहीं
    भाव विभोर नमन
    उस अदभुत रचनाकार को
    सब मां बहनों का वंदन


    जय साईं राम


    ॐ साईं राम~~~

    रमेश भाई~~~अदभुत रचनाकार को  सब मां बहनों का वंदन~~~

    साईं नाम का दीपक आपने मन में दिया जलाए,
    चारों तरफ अंधकार था अब हुआ प्रकाश सब थाए~~~

    जय साईं राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline my_sai

    • Member
    • Posts: 1899
    • Blessings 9
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #73 on: January 23, 2008, 01:00:38 AM »
  • Publish
  • jai sai ram
    jai sai ram
    jai sai ram
    श्री सद्रगुरु साईनाथ.
    मेरा मन-मधुप आपके चरण कमल और भजनों में ही लगा रहे । आपके अतिरिक्त भी अन्य कोई ईश्वर है, इसका मुझे ज्ञान नहीं । मुझ पर आप सदा दया और स्नेह करें और अपने चरणों के दीन दास की रक्षा कर उसका कल्याण करें । आपके भवभयनाशक चरणों का स्मरण करते हुये मेरा जीवन आनन्द से व्यतीत हो जाये, ऐसी मेरी आपसे विनम्र प्रार्थना है ।
     श्री सद्रगुरु साईनाथार्पणमस्तु

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: Hai barosa Sai par,Uski rahmat barsegi.
    « Reply #74 on: January 23, 2008, 08:52:33 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    सही कहा आपने। सच मे उस रचनाकार का कोई जवाब नही कोई मेल नही। आईये उस महान रचियता सांई माँ जिसकी हम छोटी-छोटी कटपुतलियां है अपने मौन-नि:शब्द विचारों से अपना नमन् वंहा तक पहुंचायें और अपना जीवन सफल करें। 

    एक बार फिर सांई की महान कृति पर एक और नमन्

    "नारी", यह शब्द अपने आप में एक सम्मानसूचक शब्द है। नारी वह शक्ति है, जिस पर यह पूरी दुनिया कायम है। सोचिए यदि नारी न होती, तो नारी के बिना तो इस दुनिया का कोई अस्तित्व ही नहीं होता। तभी तो कहते है कि नारी वह शक्ति है, जो इस पूरी दुनिया को अपने अनुसार बदल सकती है।

    क्या आपने कभी सोचा है कि नारी वो है जो इस जीवन में सिर्फ दूसरों के लिए जीती है और हमेशा दूसरों के सुख में ही अपना सुख देख लेती है और दूसरों को खुशी देकर ही खुश होती है। वो कभी स्वार्थ नहीं देखती, न ही वो कभी स्वार्थी बन पाती है।

    इस धरती पर जन्म लेते ही वो एक ऐसे बंधन में बंध जाती है, जिससे वो जीवनभर मुक्त नहीं हो पाती। जन्म लेते ही वह अपने पिता की एक ऐसी बेटी के बंधन में बंध जाती है, जो अपने पिता की इज्जत के रूप में पहचानी जाती हैं।
    कितने मोड़ आते है उसकी जिंदगी में और हर मोड़ पर वह नया जन्म लेती है.....एक नए रिश्ते के साथ, एक नए वादे के साथ और एक नई खुशी के साथ।

    उसका जन्म सिर्फ एक बार नही, कई बार होता है...बेटी के रूप में, पत्नी के रूप में, माँ के रूप में और भी कई नए रिश्तों को साथ लेकर वह यह जीवन जीती हैं। जन्म लेते ही वो अपने पिता से एक अच्छी बेटी साबित होने का वादा करती है और खुशी हो या गम हो, वो हर मोड़ पर अपने परिवार के साथ होती है।

    फिर उम्र के एक पड़ाव पर वह एक पत्नी के रूप में दूसरा जन्म लेती है, फिर उसकी जिंदगी नए बंधनों से शुरू हो जाती हैं, अब वह अपने पति की इज्जत के रूप में पहचानी जाती है और एक अच्छी पत्नी साबित होती हैं।

    और तीसरा जन्म होता है उसका एक "माँ" के रूप में और वह दिलों-जान से लग जाती हैं अपने बच्चों की परवरिश में और बच्चों को इस दुनिया में जीने के काबिल बनाती हैं। और उन बच्चों के संस्कारों से वह पहचानी जाती हैं।

    तो देखा आपने नारी कितनी महान हैं, जो सिर्फ और सिर्फ दूसरों की खुशी के लिए जीती है, वह कभी भी स्वार्थी नही बनती, क्योंकि वह जानती है कि उसके बिना यह जीवन अधूरा है। अगर वह न होती तो, यह दुनिया न होती।

    वाह..नारी तेरी अजब हैं कहानी...
    दूसरों को खुशी देकर तू खुश हो जाती...
    कभी न खोई ममता तूने, कभी न देखा तूने स्वार्थ...
    ममता की एक महान मूरत हैं तू...
    इस दुनिया की एक सूरत है तू...
    दुनिया तुझको शीश नमाती...
    हर धर्म की पहचान हैं तू...
    और हर घर की जान हैं तू...
    "माँ" के इस उँचे पद पर आसीन है तू...
    नारी बड़ी महान हैं तू...
    नारी बड़ी महान हैं तू।

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।   

    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

     


    Facebook Comments