Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!  (Read 29082 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline Radha

  • Member
  • Posts: 647
  • Blessings 1
  • Ek tu hee sahara, ek tu hee bharosa...
Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
« Reply #15 on: May 16, 2007, 11:29:34 PM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम...

    जो आँसू ना होते आँखों में ...
    तो आँखे इतनी खूबसूरत ना होती ।

    जो दर्द ना होता दिल में ...
    तो खुशी की कीमत पता ना होती ।

    जो बेवफ़ाई ना की होती वक्त ने...
    तो वफ़ा की कभी चाहत ना होती ।

    अगर बिना मागें पूरी हो जाती मुरादें...
    तो उस खुदा की कभी ज़रूरत ना होती ।

    जय सांई राम...

       


    Jai Sai Ram!!!
    Tana ji, this is so beautiful. Everything in life has to balanced for stability...we have countless gifts given to us by our dear BABA, but humko un sab ka value hee nahi rehta, we take everything for granted.All it takes is a small thank you in our own way to every soul we meet on our way...but itna bhi hum nahi kar paate.
    Om Sai Ram!!
    Radha.

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #16 on: May 18, 2007, 04:17:32 AM »
  • Publish
  • Everything You Wanted To Know About Love

    What is love? The dictionary describes love as “a deep, tender, ineffable feeling of affection and solicitude towards a person, such as that arising from kinship, recognition of attractive qualities, or a sense of underlying oneness”, or perhaps “a feeling of intense desire and attraction towards a person with whom one is disposed to make a pair; the emotion of sex and romance”.
       
    In truth this is only a part of what love is. Sometimes when we take time to ponder such questions we use the term meditation to describe it. However, just listen to your heart to know the answer. You can do this anywhere, anytime. However, be sure that you truly do desire an answer to your question, as the universe will answer you. The answer lives within us, for we are Love.
       
    Love is all around and within us, for the entire universe and beyond is Love. You are a co-creator of this entire energy field. When we know our power and realise we are co-creating our lives with love, then we will start to see profound changes in our thoughts, actions, patterns, beliefs and more. We were born with this power. Love is the creator, and will create anything we desire.
       
    Free will is the ego part of ourselves. No one will ever take that away from us, for this is part of Creation. So use your ego positively to create a love-filled world. Start truly manifesting this world filled with so much love that nothing else can live in it, we will not allow anything that isn’t Love. Think of your life, think of the love that you have right now. Even in the situations you may not see as loving, remember that love is all there is. Think of the place where you live. See the love in all of creation. Now expand the vision completely outward to all areas of the universe and see Love in everything.
       
    Remember, we are Love and Love is All, we are all One, from the stars and the moon to the trees and the earth, and all things in between. Let’s now use this loving energy that we have created to send out forgiveness to ourselves taking responsibility for what have created in this world. If there is anyone in your life that you have ever fought with, judged, said or done that wasn’t in Love, take a moment to send forgiveness out to them. Forgive to be free of the pain and fear that was part of this relationship with ourselves.
       
    Take a moment each day to do something that brings forth Love to those around you. It can be as simple as sending out loving thoughts to them, or show a loving action to someone who feels unloved. Often we experience emotions that we think are Love. We will see that it’s not truly love, it’s a fragment of love that has been “watered down”. Love is all encompassing and compassionate without any judgments or attachments to the emotion. Start to look at your life from a new perspective to see where you can show the true meaning of love once again. Allow the truth of who we are, the God that has been individualised in each of us, and allow it to bring forth that true self to the world, that Unconditional Love and live the life you were meant to have.
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #17 on: May 18, 2007, 09:25:54 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    हर वक्त गुल बनकर मुसकराना ज़िन्दगी है,
    मुसकराकर ग़म भुलाना ज़िन्दगी है,
    जीत कर मुसकराये तो क्या मुसकराये,
    हार कर मुसकराना ज़िन्दगी है।

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई
    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #18 on: June 01, 2007, 09:46:08 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    'उसकी भला क्या कहें 'वो' तो 'वो' है। वाह मेरे सांई वाह।

    किसने दस्तक दी,  दिल पे,  ये कौन है
    आप तो खुद अन्दर हैं, बाहर भला फिर कौन है?

    मैं 'उसकी' आँखों से छलकी शराब पीता हूँ!
    गरीब होकर भी महँगी शराब पीता हूँ!

    'उसकी' याद आई, साँसों जरा आहिस्ता चलो!
    धड़कनों से भी इबादत में खलल पड़ता है!

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Radha

    • Member
    • Posts: 647
    • Blessings 1
    • Ek tu hee sahara, ek tu hee bharosa...
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #19 on: June 01, 2007, 09:17:41 PM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।

    ज़िदगी जब भि तेरी बज़्म् मे लाती है हमे,
    यह ज़मीन चान्द् से बेहेतर् नज़र् आती है हमे!

    सुर्ख फूलो से मेहेक उटति है दिल् की राहे,
    दिन ढले यू तेरी आवाज़ बुलाती है हमे,
    यह ज़मीन चान्द् से बेहेतर् नज़र् आती है हमे!

    हर मुलाकात का अन्जाम जुदाइ क्यो है,
    अब तो हर बात य़हि बात सताती है हमे,
    यह ज़मीन चान्द् से बेहेतर् नज़र् आती है हमे!

    ज़िदगी जब भि तेरी बज़्म मे लाती है हमे,
    यह ज़मीन चान्द् से बेहेतर् नज़र् आती है हमे!

    ॐ सांई राम।।
    Courtesy: Umarao Jaan

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #20 on: June 18, 2007, 08:27:49 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    चेहरा जब देखा था मैने बाबा का पहली बार
    लगा था 'वो' अजनबी सा....पर अपना सा....
    जब नज़रे ठहरी उस पर
    कुछ शर्मा सा गया था मैं ना जाने क्यों...
    कैसे भूल सकता हू उस हसीन चेहरे को मैं
    क्योंकि अब मेरी मोहब्बत के दामन
    से बंध गया है 'वो'

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline tipsykool

    • Member
    • Posts: 178
    • Blessings 1
      • Sai Baba
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #21 on: June 19, 2007, 03:15:23 AM »
  • Publish
  • sai ram
    mohobat kro agr kisi say to is hadh tak kro ki vo chaa kar bhi aap say dhur  na jaa sakey.
    Apne dilki bat unse keh nahi sakte,Bin kahe bhi ji nahi sakte'Ae Khuda aisi takdir bana,
    wo humse khud akar kahe'HUM' Apk bina Reh nahi sakte.

    bhakti karo sai ki to is hadh tak ki vo dur ho kar bhi aap say dur na reh sakey
    sai ram
    anil
    anil

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #22 on: June 21, 2007, 04:56:22 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    आंखों में रहने वाले को याद नही करते,
    दिल मे रहने वाले की बात नही करते,
    बाबा तो हमारी रूह में बस गये है
    तभी तो हम 'उनसे' मिलने की फरियाद नही करते।

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #23 on: August 18, 2007, 11:40:23 PM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    रात भर ये मोगरे की
    खुशबू कैसी थी
    अच्छा!  तो 'तुम' आये थे
    नींदों में मेरे?

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई
    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline saikrupakaro

    • Member
    • Posts: 1293
    • Blessings 3
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #24 on: August 23, 2007, 03:24:04 AM »
  • Publish
  • :-* :-* :-* :-* :-*Dear Sai Bhagat, :-* :-* :-* :-* :-* :-*

    when you see this Messge " Close your eyes and see SAI BABA  , breath inhale saying BABA BE WITH ME ALWAYS " open your eyes.

    Thanks baba is happy with you.

     :-* :-* :-* :-* :-* :-*Bolo shri Sat Guru Sainath maharaj ki JAI :-* :-* :-* :-* :-* :-*

    Sai Anamika :-* :-* :-* :-* :-* :-* :-*
    SHRI SAI BABA SAB PAR KRUPA KARO PLZZ

    Offline MANAV_NEHA

    • Member
    • Posts: 11306
    • Blessings 32
    • अलहा मालिक
      • SAI BABA
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #25 on: September 13, 2007, 09:07:32 AM »
  • Publish
  • OM SAI RAMI LUV U SAII LUV U SAII LUV U SAII LUV U SAI I LUV U SAISABKA MALIK EK :-* :-* :-* :-* :-*
    गुरूर्ब्रह्मा,गुरूर्विष्णुः,गुरूर्देवो महेश्वरः
    गुरूर्साक्षात् परब्रह्म् तस्मै श्री गुरवे नमः॥
    अखण्डमण्डलाकांरं व्याप्तं येन चराचरम्
    तत्विदं दर्शितं येन,तस्मै श्री गुरवे नमः॥


    सबका मालिक एक

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #26 on: October 04, 2007, 06:54:00 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    मेरा विचार है कि अपना परिचय देना सबसे कठिन काम होता है, क्योंकि मानव-मन , मानव-प्रकृति मानव स्वयं ही नहीं समझ पाता। अपनी इच्छाओं, कामनाओं और कल्पनाओं के चक्रव्यूह में घिरा मन कुछ तलाशने के लिए भटकता रहता है । इसी भटकाव की राह में कहीं काँटे तो कहीं खिले फूल दिख जाते हैं। काँटों से तन-मन घायल हो भी जाए तो बुरा नहीं लगता क्योंकि फूलों की महक आगे बढ़ने को प्रेरित करती है। फूल और काँटे दोनो ही राह के साथी हैं,  दोनो से ही प्रेम और लगाव होना स्वाभाविक है क्योंकि "प्रेम ही सत्य है" ।

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #27 on: October 06, 2007, 08:45:41 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    दिल की आवाज़ को इज़हार कहते है,
    झुकी निगाहों को इकरार कहते है,
    सिर्फ जताने का नाम इश्क नही,
    बाबा की यादों में जीने को भी
    प्यार कहते है। है ना?

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई
    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #28 on: October 14, 2007, 06:57:56 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    बाबा एक ऐसा स्पर्श दे दो मुझे
    संवेदना की आख़िरी परत तक
    जिसकी पहुँच हो

    बाबा ऐसा स्पर्श दे दो मुझे
    जिसकी निर्मल चेतना
    घेरे मन और मगज़ को

    बाबा ऐसा स्पर्श दे दो मुझे
    जिसकी मीठी वेदना
    अंतर्मन की समझ हो

    बाबा ऐसा स्पर्श दे दो मुझे
    जिसके पार तुम्हें देखना
    मेरे लिए सहज हो

    बाबा ऐसा स्पर्श दे दो मुझे
    जिसकी अनुभूती के लिए
    उम्र भी एक महज हो

    बाबा ऐसा स्पर्श दे दो मुझे
    जिसमें सूर्य सी उष्मा हो
    जिसमें चांद सी शीतलता
    जिसमें ध्यान की आभा हो
    जिसमें प्रेम की कोमलता
    जिसमें लोच हो डाली सी
    जिसमें रेत हो खाली सी
    जिसमें धूप हो धुंधली सी
    जिसमें छाँव हो उजली सी
    जो तन मन को दे उमंग नयी
    जो यौवन को दे तरंग नयी
    जो उत्सव बना दे जीवन को
    जो श्रद्घा, सबूरी और करूणा से भर दे इस मन को

    ऐसा स्पर्श दे दो मुझे बाबा बस मैं, मै ना रहूँ।

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई
    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: PYAAR ,MOHABBAT,ISHQ !!
    « Reply #29 on: October 19, 2007, 08:28:30 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    फूलों से कह दो महकना बंद कर दे,  कि उनकी महक की कोई जरूरत नही....

    सितारों से कह दो चमकना बंद कर दे,  कि उनकी चमक की कोई जरूरत नही....

    भंवरों से कह दो अब ना गुनगुनाये,  कि  उनकी गुंजन की कोई जरुरत नही....

    सागर की लहरें चाहे तो थम जाये,  कि उनकी भी कोई जरुरत नही....

    सूरज चाहे तो ना आये बाहर, कि उसकी किरणो की भी जरुरत नही....

    चाँद चाहे तो ना चमके रात भर,  कि उसके आने की भी जरुरत नही....

    क्योंकि मेरे बाबा ने जब से बसा दी है मेरे मन की शिरडी,  तो मुझे दुनिया में किसी और खूबसूरती की जरुरत ही नही़।

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

     


    Facebook Comments