Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: बाबा की यह व्यथा  (Read 158051 times)

0 Members and 9 Guests are viewing this topic.

Offline saisewika

  • Member
  • Posts: 1548
  • Blessings 33
Re: बस इतनी सी अरज है
« Reply #150 on: October 13, 2009, 08:37:21 AM »
  • Publish
  • ॐ साईं राम

    यहाँ रहूँ या वहाँ रहूँ
    जहाँ में चाहे जहां रहूँ

    तझसे ही बस प्रेम करूँ
    तेरा ही बस ध्यान धरूँ

    तुझमें ये मन रमा रहे
    नाम मनन का समा रहे

    तेरी चर्चा में सुख पाऊँ
    हर क्षण तुझको सन्मुख पाऊँ

    नयनों में तव रूप भरा हो
    तुझमें श्रद्धा भाव खरा हो

    कोई ऐसा साँस ना आवे
    संग जो तेरा नाम ना ध्यावे

    नाम तेरा ले सोऊँ जागूँ
    तुझसे बस तुझको ही माँगूं

    तुझमें ही तल्लीन रहूँ मैं
    तेरे भाव में लीन रहूँ मैं

    चढ जाए मुझपे नाम खुमारी
    मर जाए भीतर का संसारी

    ठोको पीटो जैसे मुझको
    स्व साँचे में ढालो मुझको

    बस इतनी सी अरज है मेरी
    तुझसे जुडना गरज है मेरी

    जय साईं राम

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    Re: तव दर्शन की प्यासी अखियाँ
    « Reply #151 on: October 19, 2009, 07:40:26 AM »
  • Publish
  • ॐ साईं राम


    तव दर्शन की प्यासी अखियाँ
    तुम बिन रहे उदासी अखियाँ


    सब में ढूँढे तुझको अखियाँ
    दुख देती हैं मुझको अखियाँ


    राह तकती हैं तेरा अखियाँ
    माने कहा ना मेरा अखियाँ


    हर आहट पे चौंकें अखियाँ
    बह जाती बे मौके अखियाँ


    जागे रात रात भर अखियाँ
    भर आती हर बात पे अखियाँ


    तुझे देख मुस्काती अखियाँ
    सब बातें कह जाती अखियाँ


    तुझसे जुडी घनेरी अखियाँ
    मेरी हैं या तेरी अखियाँ


    जय साईं राम

    Offline drashta

    • Member
    • Posts: 656
    • Blessings 32
    Re: बाबा की यह व्यथा
    « Reply #152 on: October 19, 2009, 02:19:14 PM »
  • Publish
  • Om Sai Ram.

    Dear Saisewika ji, your poems are simply beautiful. Every verse shows your love and devotion for Baba. I bow down before you. Thank you for sharing such lovely poems with us.

    Om Sai Ram.

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    Re: बाबा की यह व्यथा
    « Reply #153 on: October 20, 2009, 01:12:45 PM »
  • Publish
  • OM SAI RAM

    Thank you so very much Drashtaji for your kind and inspiring words.  Its all Baba's wish.  I cannot write a word without his will and grace. He is the doer of all things.

    Thanks once again. Your words mean a lot to me.

    JAI SAI RAM

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    Re: ना सौदा ना व्यापार
    « Reply #154 on: October 23, 2009, 12:06:04 PM »
  • Publish
  • ॐ साईं राम

    ना कोई कौल किया है
    ना करार किया है
    साईं हमने तुमसे बस
    प्यार किया है

    ना कोई दावा किया है
    ना ही वादा लिया है
    साईं तुमसे जुडने का
    इरादा किया है

    ना कोई शर्त रक्खी है
    ना ही माँग रक्खी है
    तेरे पैरों तले हे नाथ
    दिल और जान रक्खी है

    ना मुराद माँगी कोई
    ना ही आस लगाई है
    बस दिल में तेरे लिए
    इक मस्जिद बनाई है

    ना कोई रसमें ही निभायी
    ना ही कसमें खाई हैं
    दिल की मस्जिद में तुझे
    बैठाया हे साईं है

    ना ही सौदा किया है
    ना व्यापार किया है
    तुझपे साईं तन मन
    ये वार दिया है

    जय साईं राम

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    ॐ साईं राम

    माधवराव देशपाँडे जी
    शिरडी धाम में रहते थे
    बहत्तर जन्मों से साईं सँग थे
    ऐसा बाबा कहते थे

    बच्चों को शिक्षा देते थे
    गुरु धरे साईं राम
    सुबह शाम बस साईं जपना
    यही प्रिय था काम

    बडे प्रेम से बाबा जी ने
    उनको श्यामा नाम दिया
    भक्ति पथ पर उन्हें बढाने
    का बाबा ने काम किया

    धर्म ग्रन्थ कभी उनको देकर
    बाबा ने कृतार्थ किया
    संकट और सुख में भी उनका
    साईं नाथ ने साथ दिया

    बाबाजी के भक्त प्रिय थे
    थोडे गुस्से वाले
    लेकिन सब कुछ कर रक्खा था
    साईं नाथ के हवाले

    बाबा जी से तनिक भी दूरी
    उन्हें नहीं भाती थी
    बिछड ना जाँए देव, सोच कर
    जान चली जाती थी

    जैसे शिव मँदिर के बाहर
    नन्दी खडे रहते हैं
    ऐसे बाबा सँग हैं श्यामा
    भक्त यही कहते हैं

    दुखियों के कष्टों को श्यामा
    बाबा तक पहुँचाते थे
    बदले में उन भक्त जनों की
    ढेर दुआँऐं पाते थे

    श्यामा जी के रोम रोम में
    साईं यूँ थे व्याप्
    उनकी निद्रा में चलता था
    साईं नाम का जाप

    धन्य जन्म था श्यामा जी का
    बाबा का सँग पाया
    गत जन्मों के शुभ कर्मों से
    जीव देव सँग आया

    युगों युगों तक दिखा ना सुना,
    था वो बँधन ऐसा
    साईं ईश और श्यामा भक्त
    के बीच बना था जैसा

    जय साईं राम
     

    Offline saib

    • Member
    • Posts: 9941
    • Blessings 166
    Re: बाबा की यह व्यथा
    « Reply #156 on: October 29, 2009, 09:27:59 PM »
  • Publish
  • Dear Saisewika,

    Thanks for sharing story of some of divine devotees of Baba and Reminding us (or atleast me) that there are billions of beloved devotees, and who can have more fortune than those who get blessings directly through Baba, Sometimes We feel that we are the most loyal and beloved devotee of Baba, Who can more love to Baba than us, But when open the eyes, everyone (including all elements of nature) are in devotion of Lord, where we stand perhaps the last end of the line, for the Darshan and blessings of Baba. (Still as for Baba all bhakats are special at par)

    Just Bow in the holy feet of all blessed and beloved devotees of Sai.

    om sri sai ram!
    om sai ram!
    Anant Koti Brahmand Nayak Raja Dhi Raj Yogi Raj, Para Brahma Shri Sachidanand Satguru Sri Sai Nath Maharaj !
    Budhihin Tanu Janike, Sumiro Pavan Kumar, Bal Budhi Vidhya Dehu Mohe, Harahu Kalesa Vikar !
    ........................  बाकी सब तो सपने है, बस साईं ही तेरे अपने है, साईं ही तेरे अपने है, साईं ही तेरे अपने है !!

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    Re: बाबा की यह व्यथा
    « Reply #157 on: October 30, 2009, 05:10:35 PM »
  • Publish
  • OM SAI RAM

    SAIRAM Saibji

    While surfing the net, I came across a beautiful article about the devotees who come down along with the Lord to help the Supreme soul to show his leelas. The article is written by Anil Antony and it was so inspiring that I started to write poems about those true devotees of Baba. The article goes like this-

    "When the Lord comes in human form, some devotees certainly recognize Him as God. However, such recognition of Krishna as God brings the concept that Krishna is omnipotent. This aspect immediately diverts even the devotees to get attracted towards solving their problems by using the omni potency of God. Thus the devotion becomes impure and the devotees are diverted to sideline of worldly affairs.

    If Krishna remains as Krishna, this problem does not arise at all. The recognition of Krishna as God spoils the mind of the devotees. After recognition, the devotees are expected to travel in the right line, which is service to Him without aspiring any fruit. If the devotees go in this right line, then only they are said to be realized souls. If they take the loop line (using the super power for personal problems) from the point of recognition, they are as good as ordinary human beings. Therefore recognition of Krishna as God is not the end of the spiritual effort. This is a junction-station. If you proceed straight, you are a realized soul. From this point if you take the sideline, you are an ordinary human being.

    In fact the ordinary human beings are always in search of God in human form for solving their problems. It is just like searching for oil wells in the ground. The search is for using the oil as a fuel for daily comforts. Therefore recognizing the human incarnation is of no use unless you proceed in the main line from that point. At this point, there are some guides to lead you to the right line. Such guides are the liberated souls who come down along with the Lord. They are scattered and mixed with the ordinary human beings. They recognize the Lord along with the other people. From this point of the recognition, the liberated souls proceed in the main line only without any deviation standing as guides for the devotees, who are with them standing at the point of recognition.

    Therefore, the liberated soul is already realized soul who comes down along with the Lord to stand as a guide from the recognition point onwards. Thus the liberated souls are the close servants of the Lord who come down to participate in the divine play for fulfilling the divine mission. Seeing them as examples, at least some devotees may follow the main line along with them and may get liberated. A liberated soul is already a realized soul doing the spiritual effort (Sadhana) from the starting point to the end point to stand as an example for the human beings.

    After recognizing the God, you can follow the path of the liberated soul who is acting as a devotee trying for success in the spiritual journey. The liberated souls will certainly succeed in their spiritual effort because they are already liberated and they try to achieve liberation only to guide others. Thus all the devotees who recognize the Lord without any proof and spontaneously participate in the service crossing over all the hurdles are the liberated souls."


    I am sure that it was Baba's will that we acknowledge and appreciate his devotees , and the result was these few poems.....

    JAI SAI RAM

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    ॐ साईं राम

    म्हालसापति जी परम भक्त थे
    बाबा जी के प्यारे
    साईं नाथ के अँग सँग रहते
    मस्जिद माई के द्वारे

    बाबा जी को साईं नाम ले
    म्हालसापति ने पुकारा था
    बाबा ने भी प्रसन्न भाव से
    प्यारा नाम स्वीकारा था

    साईं उनको बडे प्रेम से
    "भक्त" कहा करते थे
    सुख दुख साईं प्रसाद मान कर
    "भक्त" सहा करते थे

    निष्काम भक्ति के प्रतीक भक्त थे
    श्रद्धा थी भरपूर
    धन तृष्णा और लोभ मोह से
    रहते थे अति दूर

    ना ही कोई इच्छा थी उनकी
    ना ही थी अभिलाषा
    बाबा के सँग यूँ रहते थे
    ज्यों पानी सँग प्यासा

    एक बार जाब साईं नाथ ने
    महासमाधि लगाई
    तीन दिवस तक प्राण चिन्ह भी
    दिया नहीं दिखलाई

    म्हालसापति बैठे रहे
    पावन देह को गोद धरे
    अडिग रह कर साईं नाथ की
    प्रतीक्षा वो करते रहे

    उनको था विश्वास कि देव
    शीघ्र चले आऐंगे
    भक्तों को बीच भँवर में छोड
    साईं नहीं जाऐंगे

    धन्य धन्य थे म्हालसापति जी
    बाबा के रक्षक बने
    घोर विरोध सह कर भी
    साईं के सँग रहे तने

    महासमाधि पर्यन्त "भक्त"
    बाबा जी के साथ रहे
    साया बन कर साईं नाथ का
    सुख दुख उनके सँग सहे

    बाबा जी की महासमाधि के
    चार वर्ष के बाद
    साईं में जा लीन हुए वो
    मिला नाद से नाद

    जय साईं राम

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    ॐ साईं राम

    बढ भागी थे तात्या कोते
    मालिक के सँग रहते थे
    बाबा उनको बडे प्रेम से
    छोटा भाई कहते थे

    भले बुरे का ज्ञान नहीं था
    तात्या छोटे बालक थे
    पर बाबा उनके रक्षक थे
    बाबा उनके पालक थे

    कभी कभी बाबा की बातें वो
    सुनी अनसुनी कर देते थे
    तब बाबा उन के कष्टों को
    अपने ऊपर ले लेते थे

    द्वारकामाई में बाबा के सँग
    तात्या चौदह वर्ष रहे
    तीन दिशा में पैर जोडकर
    सुख दुख सारे सुने कहे

    क्या हित में है तात्या के
    ये बाबा जी बतलाते थे
    बडे प्रेम से देवा उनको
    भला बुरा समझाते थे

    तात्या भी परछाईं बन कर
    सदा रहे बाबा के साथ
    अँत समय तक फिर ना छोडा
    साईं ने भी उनका हाथ

    अन्तर्यामी साईं ने था
    देख लिया तात्या का अँत
    कृपा सिंधु करतार ने तब
    कृपा वृष्टि थी करी अनन्त

    तात्या के बदले साईं ने
    मृत्यु को स्वीकार किया
    प्राणों से बढकर बाबा ने
    तात्या को था प्यार दिया

    धन्य धन्य हे साईं देव
    भक्त प्रेम अति सुखदाई
    जीवन के पग पग पर रक्षा
    करते रहते सर्व सहाई

    जय साईॅ राम


    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    ॐ साईं राम

    भागो जी शिंदे नामक
    बाबा के इक भक्त थे
    देवा के सँग साया बन कर
    वो रहते हर वक्त थे

    बाह्य दृष्टि से देखो तो वो
    लगते थे दुर्भागी से
    तन की पीडा घोर सही थी
    कुष्ठ रोग की व्याधि से

    महारोग से पीडित थे वो
    जर्जर उनकी काया थी
    लेकिन उन पर साईं नाथ के
    वरद हस्त की छाया थी

    उनका कोई महापुण्य ही
    जीवन मे सन्मुख आया
    इसीलिेए तो भागो जी ने
    साईं का सँग था पाया

    बाबा के प्रधान सेवक थे
    हर दम साथ रहते थे
    साईं नाथ का प्रेम और क्रोध
    सम रह कर वो सहते थे

    साँयकाल में बाबा जी जब
    लेण्डी बाग को जाते थे
    भागो छाता ताने चलते
    फूले नहीं समाते थे

    एक बार जब साईं नाथ ने
    नन्हा शिशु बचाने को
    अपना हाथ आग में डाला
    परम कृपा बरसाने को

    तब सेवा का अवसर पाया
    भागो जी के जागे भाग
    तेल लगा कर पट्टी करते
    देवा का वो थामें हाथ

    अँत समय तक चली ये सेवा
    साईं ने ना मना किया
    ले कर सेवा भागो जी की
    उनको आशिर्वाद दिया

    भागो जी के पुण्य जागे
    जब साईं के साथ हुए
    पाप सब कट गए उनके
    भागो जी कृतार्थ हुए

    धन्य धन्य हे साईं देव
    भक्त की पीडा हरने वाले
    धन्य धन्य हे भक्त महान
    सब कुछ अर्पण करने वाले

    जय साईं राम
     

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    ॐ साईं राम

    नानावली बाबा का भक्त
    शिरडी में ही रहता था
    बडा दीवाना मतवाला सा
    उसे ज़माना कहता था

    बाबा के सन्मुख, अँतर ना था
    उसमें और सब भक्तों में
    ढाल बना खडा रहता था
    भले बुरे सब वक्तों में

    बाबा से कहते थे सब ही
    दीवाने को दूर हटाओ
    भक्तों को ये तँग करता है
    सबको इससे आप बचाओ

    पर बाबा तो दयामयी थे
    करूणा के अवतार
    भक्त प्रिय को करते थे वो
    हृदय से स्वीकार

    वो भी बाबा से करता था
    जान से बढकर प्यार
    बुरा जो कहता कोई, तो होता
    लडने को तैयार

    एक बार नानावली ने
    बाबा जी से बोला यूँ
    मुझे बैठना है गादी पर
    जिस गादी पर बैठे तुम

    उठ बैठे गादी से बाबा
    नानावली से कुछ नहीं कहा
    भक्तों का उन्माद और प्रेम
    बाबा जी ने सदा सहा

    ऐसा सच्चा भक्त था वो
    सब दुनिया से न्यारा
    बाबा जी के जाते ही
    दुनिया से किया किनारा

    साईं नाथ की महासमाधि के
    तेरह दिन के अँदर
    परमात्मा में विलय हो गया
    बाबा जी का बँदर

    जय साईं राम

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    ॐ साईॅ राम

    साईं सच्चरित्र रचयिता
    गोविंदराम था नाम
    जीवन गाथा लिख साईं की
    पाया योग सुनाम

    नाना साहब की प्रेरणा से
    शिरडी धाम पधारे
    बाबाजी के दर्शन पाए
    अति सुन्दर अति प्यारे

    प्रथम परिचय था इतना अनुपम
    क्षुधा तृषा सब भूले
    श्री चरणों का स्पर्श जो पाया
    सुख के पल्लव फूले

    अहम भाव सब किया समर्पण
    साईं नाथ के आगे
    हेमाडपँत की पाई उपाधि
    सुकर्म भक्त के जागे

    बाबा जी की लीला लिखी
    मधुर किया गुणगान
    भक्त जनों पर अनुग्रह करके
    पाया यश और मान

    बाबा जी ने कृपा करी
    अन्तस्थल में आन बसे
    सच्चरित्र के शब्द शब्द से
    श्रद्दा और भक्ति रसे

    समय समय पर साईं नाथ ने
    साक्षात्कार करवाया
    होलिकोत्सव के उत्सव में
    चित्र अपना भिजवाया

    बाबा जी की लीलाओं को
    हेमाडपँत निरखते रहे
    दिव्यचक्षु पा साईं नाथ से
    चरित्र चित्रण करते रहे

    साईं सँस्थान की वित्त व्यवस्था
    करी कुशलता सँग
    कार्य संभाल कर सँस्थान के
    किया सभी को दँग

    बने मील के स्तम्भ हेमाड जी
    सब को राह दिखाने वाले
    प्रत्येक भक्त के हृदय पटल में
    अनुपम प्रेम जगाने वाले

    सूरज चँदा तारे जब तक
    इस दुनिया में चमकेंगे
    भक्तों के तारागण में हेमाड
    ध्रुव तारे सम दमकेंगे

    जय साईं राम

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    Re: किंकर मुझे बना ले
    « Reply #163 on: December 03, 2009, 10:31:35 AM »
  • Publish
  • ॐ साईं राम

    श्री चरणों के दास की
    इतनी है अरदास
    जैसे चाहे रखना साईं
    पर रखना तुम पास

    तुम्हें थमा दी है अब मैंने
    इस जीवन की डोर
    सब कुछ छोडा तुम पर साईं
    ले जाओ जिस ओर

    तू ही मेरा सगा सँबंधी
    तू ही मेरा प्यारा
    तू ही पालक तू ही दाता
    तू ही है रखवाला

    तेरे मन में है जो दाता
    वो है मुझको करना
    तेरी मरजी से जीना है
    तेरी मरजी मरना

    तेरे इशारे पर मैं जागूँ
    अपनी आँखे खोलूँ
    तेरी लीला सुनूँ सुनाऊँ
    तेरी बानी बोलूँ

    तुझको तुझसे माँगूं दाता
    तेरी भक्ति पाऊँ
    तेरी चर्चा में दिन बीते
    तेरी महिमा गाऊँ

    साईं साईं करके दाता
    जीवन अपना काटूँ
    तेरा नाम इक्ट्ठा कर लूँ
    तेरा नाम ही बाँटूं

    तेरी करनी में सुख पाऊँ
    सब कुछ तुझ पे छोडूँ
    दुनिया के सब तोड के बँधन
    तुझसे नाता जोडूँ

    अपने द्वारे रख ले साईं
    किंकर मुझे बना ले
    सेवादार बना ले, मेरी
    सेवा को अपना ले

    जय साईं राम

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1548
    • Blessings 33
    ॐ साईं राम

    तात्याकोते की जननी थी
    बायजा बाई नाम था
    साईं साईं रटती रहती
    उनका यही तो काम था

    नैवेद्य अर्पण नित्त करती थी
    बाबा को अति भाव से
    साईं भी स्वीकार करते
    अर्पण को अति चाव से

    कभी कभी तो बाबा प्यारे
    जँगल में चले जाते थे
    भूखे प्यासे तप करते थे
    द्वारकामाई ना आते थे

    तब बायजा माँ, रोटी साग
    भर कर एक भगोने में
    खोजा करती थी साईं को
    वन के कोने कोने में

    जब तक साईं ना मिल जाते
    बायजा ना वापिस आती
    स्वँय हाथ से उन्हें खिलाकर
    माता फिर तृप्ति पाती

    साईं नाथ भी बडे प्रेम से
    उनको माता कहते थे
    प्रेम भरा आशिष और डाँट
    दोनो बाबा सहते थे

    महाभाग थे बायजा माँ के
    ईश्वर का था साथ मिला
    उनके जीवन के आँगन में
    साईं भक्ति का फूल खिला

    अँत समय तक बाबा जी ने
    सेवा उनकी रक्खी याद
    माता पुत्र के जीवन में
    कृपा वृष्टियाँ करी अगाध

    जय साईं राम

     


    Facebook Comments