Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: राम राज्य  (Read 2259 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline Apoorva

  • Member
  • Posts: 1325
  • Blessings 10
राम राज्य
« on: January 14, 2008, 04:39:09 PM »
  • Publish

  • दैन्य और निराशा के सागर में डूबी मानवता का करुण विलाप,
    हे अधम, हे पापी, मानव के ही हाथो मानव का विनाश ,
    पहले था दशानन, दस सिर किंतु सहस्त्रों पाप...............
    आखिरकार राम के हाथो विनाश ...................................
    परन्तु अब यह दशानन दस नही एक सिर में, हर मानव के भीतर
    चारो तरफ़ अराजकता का राज, भयभीत - त्रस्त राम, हावी शैतान
    उठो - चेतो, हमे अपने अन्दर के राम को जगाना है,
    जिलाना है उस मानवता को जो हमारे अन्दर के रावन ने मार दी है
    तभी होगा रावन का विनाश और देश में राम-राज्य का निर्माण

    ॐ साईं राम
    गुरुर्ब्रम्हा गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वराः |
    गुरुः साक्षात्परब्रम्ह तस्मै श्रीगुरवे नमः ||

    Offline MANAV_NEHA

    • Member
    • Posts: 11306
    • Blessings 32
    • अलहा मालिक
      • SAI BABA
    Re: राम राज्य
    « Reply #1 on: January 21, 2008, 01:22:44 PM »
  • Publish
  • VERY NICE APOORVA JI :)
    गुरूर्ब्रह्मा,गुरूर्विष्णुः,गुरूर्देवो महेश्वरः
    गुरूर्साक्षात् परब्रह्म् तस्मै श्री गुरवे नमः॥
    अखण्डमण्डलाकांरं व्याप्तं येन चराचरम्
    तत्विदं दर्शितं येन,तस्मै श्री गुरवे नमः॥


    सबका मालिक एक

    Offline Apoorva

    • Member
    • Posts: 1325
    • Blessings 10
    Re: राम राज्य
    « Reply #2 on: January 22, 2008, 09:55:19 AM »
  • Publish
  • Thanks man! I wrote it long back, in 1996 i guess,......but it's still relevant.

    Om Sai Ram
    गुरुर्ब्रम्हा गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वराः |
    गुरुः साक्षात्परब्रम्ह तस्मै श्रीगुरवे नमः ||

     


    Facebook Comments