Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: फकीर की तड़प देखकर भगवान पिघल गए  (Read 9403 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline Pratap Nr.Mishra

  • Member
  • Posts: 965
  • Blessings 4
  • राम भी तू रहीम भी तू तू ही ईशु नानक भी तू



भक्त की निष्ठापूर्ण और निस्वार्थ भक्ति  को देखकर भगवान को भी कभी-कभी  झुकना पड़ता है

स्रोत : धर्म डेस्क. उज्जैन
            और
श्रीमान गोपाल किशनजी

कहते हैं कि चाह अगर सच्ची हो तो मंजिल तक पहुंचने से कोई रोक नहीं सकता। जरूरत है उस तीव्र प्यास की जो सीधे आत्मा को परमात्मा से जोड़ देती है। ऐसे एक नहीं बल्कि सैकड़ों उदाहदण हैं, जो यह सिद्ध करते हैं कि मनुष्य जब कुछ पाने के लिये अपने जीवन की बाजी लगाने को तैयार हो जाता है तो अपने मकसद में कामयाबी अवश्य ही मिलती है। इस बात की हकीकत और गहराई को समझने के लिये आइये चलते हैं एक सच्चे घटना प्रसंग की ओर...

एक गांव में एक फकीर रहता था। गांव के बच्चों को सत्य, प्रेम और दूसरों की मदद करने की शिक्षा देना ही उसका प्रतिदिन का पसंदीदा कार्य था। खाली वक्त में वह किसी एकांत स्थान पर जाकर ईश्वर का ध्यान करता और जिंदगी में आए अनेक दुखों को भुलाकर भगवान को हमेशा धन्यवाद ही देता रहता। वह अपना पेट भरने के लिये गांव में घर-घर जाकर भिक्षा मांगता और पेट भरने के लिये पर्याप्त होने पर वापस लौट आता।

रोज की तरह ही एक दिन वह गांव में भिक्षा मांग रहा था। एक घर से दूसरे घर जाते हुए वह बिना देखे ही बस यही पुकारता कि- भगवान तेरी जय हो। एक घर से दूसरे की ओर जाने में वह भूल ही गया कि वह जहां खड़े होकर भिक्षा के लिये पुकार रहा है वह किसी का घर नहीं बल्कि गांव की एक मात्र बहुत पुरानी मस्जिद है। उसकी आदत थी कि वह हमेशा अपना सिर झुकाकर ही रखता था इसलिये उसे पता ही नहीं चला कि वह मस्जिद के सामने खड़ा होकर भीख मांग रहा है। उस रास्ते से गुजरते हुए व्यक्ति ने उसे देखा तो फकीर के पास आकर बोला- बाबा क्या आपको दिखाई नहीं देता कि यह किसी का घर नहीं बल्कि मस्जिद है यहां तुम्हें कौन भिक्षा देगा। जाओ- जाओ किसी के घर जाकर मांगों जो अवश्य कुछ खाने को मिल जाएगा।

उस राहगीर की बात सुनकर उस फकीर के दिमाग में अचानक बिजली सी कोंध गई। उसकी आंखों से आंसू बहने लगे। फकीर सोचने लगा कि यह मस्जिद तो खुद ईश्वर का ही घर है, क्या यहां आकर भी मेरी झोली खाली रह जाएगी। जब एक सामान्य सा मनुष्य इतनी दया दिखाता है कि कुछ न कुछ तो दे ही देता है तो क्या इस संसार के मालिक को मुझ पर दया नहीं आएगी। कहते हैं कि यही सोचता हुआ वह फकीर मस्जिद के सामने ही बैठ गया। उसकी आंखों से लगातार आंसू बहते जा रहे थे, सुबह से रात हो गई लेकिन वह फकीर अपनी जगह से हिला तक नहीं। यहां तक कि पूरे तीन दिन हो गए लोंगों ने उसे खूब समझाने की कोशिश कर ली लेकिन वह बगैर जवाब दिये बस मस्जिद के भीतर ही देखता रहता। उसकी आंखों में आंसू थे लेकिन चेहरे पर हंसी थी उसे लगा जैसे आज उसकी असली आंखें खुल गईं।



और कहते हैं कि चोथें दिन सुबह-सुबह वहां एक चमत्कार घटित हो गया। बिजली सी चमक गई एक तेज रोशनी हुई और उस फकीर को जाने ऐसा क्या मिल गया कि वह तो बस नाचने लगा, झूमने लगा। लोग कहते हैं कि उस दिन के बाद से उस फकीर में कई चमत्कारी शक्तियां आ गईं थी। उसके छूने मात्र से लोगों के दु:ख, दर्द और बीमारियां मिट जाती थीं।




जय श्री साईं राम  _________सब का मालिक एक _________जय श्री साईं राम 

Online Admin

  • Administrator
  • Member
  • *****
  • Posts: 8675
  • Blessings 54
  • साई राम اوم ساي رام ਓਮ ਸਾਈ ਰਾਮ OM SAI RAM
    • Sai Baba
very nice. I always love such stories. please continue to share such stories

Sai Ram

Offline tanu_12

  • Member
  • Posts: 3234
  • Blessings 19
  • "I AM HERE IN YOUR HEART"
OM SAI RAM

VERY TRUE MEANING IT HAS...

JAI SAI RAM
Man Ke Gehre Andhiyare Me "Sai" Naam Diye Jaisa

Give Light, and the darkness will disappear of itself...

Offline PiyaSoni

  • Members
  • Member
  • *
  • Posts: 7719
  • Blessings 21
  • ੴ ਸਤਿ ਨਾਮੁ
OMSAIRAM

THANKYU SO MUCH APNE AAJ MERA VISHWAS AUR PAKKA KAR DIYA ISS KAHANI SE ...SACH KAHA HAI BHAGWAN KE DAR SE KOI KHALI NAI JATI AGAR PUKAR BINA SAVARTH KE HO

SAI SAMARTH........SHRADDHA SABURI
"नानक नाम चढदी कला, तेरे पहाणे सर्वद दा भला "

Offline Pratap Nr.Mishra

  • Member
  • Posts: 965
  • Blessings 4
  • राम भी तू रहीम भी तू तू ही ईशु नानक भी तू
इस सुख का कोई अंत नहीं ..
« Reply #4 on: July 21, 2011, 04:15:38 PM »
  • Publish



  • इस सुख का कोई अंत नहीं ..


    स्रोत : धर्म डेस्क. उज्जैन
                और
    श्रीमान गोपाल किशनजी




    आम इंसान जिंदगी में अनेक तरह के सुख की कामना करता है। जिनमें स्वास्थ्य, धन, संतान, घर आदि। इन सुखों के लिए वह दिन-रात तन, मन से भरसक कोशिश करता है। इस मेहनत का फल भी उसे सुख की प्राप्ति के रूप में मिलते हैं। वहीं वह कई मौकों पर नाकाम भी होता है, जिससे दु:ख और निराशा मिलती है। किंतु जब सुख पाकर भी व्यक्ति बेचैन और परेशान दिखाई दे तो यह सवाल बनता है कि आखिर ऐसा कौन-सा सुख है, जिसको पाकर कोई व्यक्ति किसी ओर सुख की चाह ही न करे?
    इस बात का जवाब छुपा है धर्मशास्त्रों में। जिनके मुताबिक जगत के सारे सुखों से भी बड़ा सुख है - भगवत या इष्ट साधना। माना जाता है कि दुनिया के हर सुख मिल जाए और भगवान और धर्म से व्यक्ति दूर हो जाए तो सभी सुख व्यर्थ हैं। इसके विपरीत सभी सुखों से वंचित रहने पर भी भगवत प्रेम प्राप्त हो जाए तो वह व्यक्ति सबसे धनी होता है।

    धर्मशास्त्रों में अनेक ऐसे भक्तों के उदाहरण हैं, जिन्होंने भगवत कृपा की वह दौलत पाई, जिसने जगत को भौतिक सुखों से दूर ऐसी अंतहीन खुशी पाने की राह बताई, जिस पर चलना हर किसी के बस में है। इनमें श्रीकृष्ण के परम मित्र सुदामा और भगवान राम के भक्त श्री हनुमान प्रमुख है। लोक जीवन में कृष्णभक्त मीरा और चैतन्य महाप्रभु ने सारे भौतिक सुखों को भक्ति के आगे बौना साबित किया।

    धर्मग्रंथों में श्री हनुमान द्वारा माता सीता द्वारा मोती की माला देने पर उनकों चबाकर तोड़ अपने इष्ट को ढूंढने का प्रसंग है। जिसको साबित करने के लिए हनुमान के खुशी-खुशी सीने को चीरकर राम-सीता की छबि बताना भी भगवत भक्ति का बेजोड़ उदाहरण है। वहीं शास्त्रों के परम ज्ञाता सुदामा को श्रीकृष्ण के प्रति अपार प्रेम से आध्यात्मिक नजरिए से भगवत कृपा पाने वाला सबसे वैभवशाली चरित्र माना जाता है। लोक जीवन में मीरा ने बेमिसाल भक्ति से कृष्ण को पाया तो चैतन्य महाप्रभु भक्ति में ऐसे डूबे कि माना जाता है कि वह भगवान की मूर्ति में ही समा गए।

    सार यह है कि अगर वास्तविक सुख और आनंद चाहें तो व्यावहारिक जीवन में धर्म और ईश्वर से भी जुड़े। क्योंकि जब व्यक्ति भगवान को स्मरण करता है तो वह सारे दु:ख, तनावों, चिंताओं, कष्टों से परे हो गहरी मानसिक शांति और स्थिरता पाता है, जो नया आत्मविश्वास पैदा करती है। लेकिन इसकी शर्त यही है कि भगवान को आजमाने के लिए याद न करें, बल्कि श्रद्धा और विश्वास से स्मरण करें। तभी वह खुशी मिलेगी, जो हमेशा कायम रहेगी।



    जय श्री साईं राम
    __________________
    सब का मालिक एक

    जय श्री साईं राम 

    Offline Anupam

    • Member
    • Posts: 1284
    • Blessings 18
    Sairam Pratapji

    Bahut hee sundar story hai. Lekin ek Prashn hai, kya kisee kee tadap dekhkar Bhagwan pighalte bhee hain??

    Offline tanu_12

    • Member
    • Posts: 3234
    • Blessings 19
    • "I AM HERE IN YOUR HEART"
    Om sai ram

    Han bilkul agar bhakt ki tadap me pura vishwas aur apne kiye gaye bure karmo ka regret ho to kyun nai pighalenge?

    Jai sai ram
    Man Ke Gehre Andhiyare Me "Sai" Naam Diye Jaisa

    Give Light, and the darkness will disappear of itself...

    Offline Sairamsai

    • Member
    • Posts: 1124
    • Blessings 4
    SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI SAI

    Offline Sairamsai

    • Member
    • Posts: 1124
    • Blessings 4

    Sai Ram

    Sir i could not understand what you want to say . Can you elaborate your  views?

    SAIRAM

    SORRY TO INTRUDE BUT IS THIS FOR ME OR YOU ASKING SOMEONE ELSE.

    Offline Anupam

    • Member
    • Posts: 1284
    • Blessings 18
    OM SAI RAM PRATAPJI SHAIVIJI AUR TANUJI

    Aapne Sawal kaa bahut sundar Uttar diyaa lekin main aapke jawaab se sehmat nahin hoon. Shaiviji aapne Maa aur Bhagwan kaa example diyaa, to yeh Statistics Maa ke baare mein yeh statistics se aap anbhigya nahin hongee kee roz 10 bacche apnee maa ke atyacharon se dam todte hain. (Links main daal sakta hoon), yeh Kaliyug hai, kaliyugu Maa kaa to main yeh maan sakta hoon ke yeh bhee Bhagwan kaa "Terrible aspect" hai. Isliye iss aspect par to main bahut clear hoon
    Pratapji mujhe agar Bhagwan pighalte hotae to hamara Bharat 1000 saal se Nrushans Janwaron aur aaj to terrorists, videshi aadee keedon dwara kyun khaya jaata raha?? Guru Tegh Bahadur ko jab Aurangzeb ne tel ke kadahe mein dalvaya yaa Swami Shraddhanand ke upar churi chalee tab to kahin koi Bhagwan nahin pighlaa.
    Aapkaa shayad reply story mein hee antarnihit hai "Insaan pehle pighaltaa hai Bhagwan bahut baad mein"
    My apologies in advance if I say anything wrong

    Offline tanu_12

    • Member
    • Posts: 3234
    • Blessings 19
    • "I AM HERE IN YOUR HEART"
    OM SAI RAM

    I NEVER EXPECTED THIS FROM U... THIS IS CALLED BOOKISH KNOWLEDGE AND NOTHING ELSE...

    "GLASS BHI TO PIGHLA KAR HI SUNDER SHAPE LETA HAI, AUR AGAR USKI CARE NAHI KI TO TUT KAR BIKHAR JATA HAI..."

    JAI SAI RAM

    OM SAI RAM PRATAPJI SHAIVIJI AUR TANUJI

    Aapne Sawal kaa bahut sundar Uttar diyaa lekin main aapke jawaab se sehmat nahin hoon. Shaiviji aapne Maa aur Bhagwan kaa example diyaa, to yeh Statistics Maa ke baare mein yeh statistics se aap anbhigya nahin hongee kee roz 10 bacche apnee maa ke atyacharon se dam todte hain. (Links main daal sakta hoon), yeh Kaliyug hai, kaliyugu Maa kaa to main yeh maan sakta hoon ke yeh bhee Bhagwan kaa "Terrible aspect" hai. Isliye iss aspect par to main bahut clear hoon
    Pratapji mujhe agar Bhagwan pighalte hotae to hamara Bharat 1000 saal se Nrushans Janwaron aur aaj to terrorists, videshi aadee keedon dwara kyun khaya jaata raha?? Guru Tegh Bahadur ko jab Aurangzeb ne tel ke kadahe mein dalvaya yaa Swami Shraddhanand ke upar churi chalee tab to kahin koi Bhagwan nahin pighlaa.
    Aapkaa shayad reply story mein hee antarnihit hai "Insaan pehle pighaltaa hai Bhagwan bahut baad mein"
    My apologies in advance if I say anything wrong

    Man Ke Gehre Andhiyare Me "Sai" Naam Diye Jaisa

    Give Light, and the darkness will disappear of itself...

    Offline Anupam

    • Member
    • Posts: 1284
    • Blessings 18
    SAI RAM TANUJI

    This is not Bookish knowledge but bare facts of life.
     I do not see anything so offensive in Truth
    And anyway my apologies if you find it offensive

    Offline Anupam

    • Member
    • Posts: 1284
    • Blessings 18
    Pratapji Mujhe really aapkaa e-mail ID PM ke through dijiye, please.
    Yeh sahee hai kee iss forum kee direction alag hai, lekin Adhyatmic jagat koi life se Bhinn nahin hai. Iska matlab yeh hai kee jab iss bhagwan kee rachna mein itnee gadbad hai, to kya guarentee hai kee Adhyatmik jagat mein nahin hai???
    Aur yeh bhee sahee hai kee hum Hindustaniyon ne jab bhee Bhooke Nangon ko roti daali unhone peeth mein churaa maraa. Hazaron saalon se aaj tak yehi hai, isliye Bhooke ko aann do yeh baat par vishwas sehej nahin hotaa
    Doosra Law of Karma, aisaa kaun saa Punya Pratap hai jo Lakhon logon kaa murder karne waalon ko Bahut achee maze ki zindagi de raha hai??? Aur Acche Acche, Unche Unche Saints to apnee Maa ko bhee sadak par bech dene walle media, politicians se badnaam karaa raha hai??
    Yada Yada hee ......????? Kidhar hai???

    Yeh sab kahin Adyatmik Prashn hain
    Ho sakta hain Nietze hee sahee ho "God is Dead"

    Offline Anupam

    • Member
    • Posts: 1284
    • Blessings 18
    SAIRAM Shaiviji
    Aap agar statistics kee baat karein, Old age Home kee to Kitne Bacche hain jinhe apnee Maa ke vajah se sadakon pe joote Polish karne padte hain, kitnon ko chai kee dukaan par kaam karna padta hai, kitnon ko Nikaal diyaa jaata hai aur railway station par pade rehte hain, kitne bacche bheekh maaange par majboor hain. Iss sabkee bhee shayad aapke Foreign Paid NGO ke paas statistics hogee.?? I have just talked of "Deaths'
    Aur sorry naa mein enligtned hoon naa banna chahta hoon

    इतने बड़े भारत देश के भ्रष्ठाचार को आपके ज्व्लन्सील् क्रान्तिकारी विचारो के आदान-प्रदान से क्या होने वाला है, दिमाग और सेहत बिगाड़ने का अलावा. जबकि हमारी यह भारत माता के ज्यादातर सुपुत्रों विदेश में जाकर बैठे है और भारत माता की फिक्र करते है.  कैसी बेबस है हमारी भारत माता, कमान एक विदेशी के हाथ है और हमारी यह भारत माता के फिक्र करने वाले उसके सुपुत्रों विदेशी मुद्रा कमाने में तल्लीन है और अपने NRI status से खुश है.

    Videsh mein baithne se kya Bharat Mata kaa lagaav khatam ho jaata hai??? Bharat mein terrorist, Videshi, Deshdrohi sab baithe hain. Aur Maaf kijiye , Madan Lal Dhingdaa, Shaheed Udham Singh, Subhash Chandra Bose, Madam Bhikaji Cama bhee NRI "Status" jaisaa aapne kaha the?? Aur Saints ko Gaali dene waale aur Videshi kee jootae chatne waale India mein hee hain shayad, NRI nahin

    Yeh theek hai kee yeh Forum inn sab ke liye nahin hai,
    OM SAI RAM

    Offline Pratap Nr.Mishra

    • Member
    • Posts: 965
    • Blessings 4
    • राम भी तू रहीम भी तू तू ही ईशु नानक भी तू
    Anupamji Jay Sai Ram

    Aapke sampurn prashno ke uttr mai aavashy dunga per is foram me nahi. Jin sabdo ka ya bhasha ka
    aana savabhik hoga wo mai is manch me nahi kar sakta na hi karna chaunga.

    Rahi baat bhagwan ki rachna me khot hai to aap ko ek baat bata du ki itni buraiyo ko palne ke baad bhi ham agar saas bhi le rahe hain to wo sahi rachna hi hai jo jivit rakhe huye hai warna kya hota aap samajh hi sakte hai.

    Baki ka uttr anupamji mai yaha nahi dunga kyoki aapko batane ke liye mujeh bhi kajal ki kothri me jana
    hi hoga tabhi kuch la paunga.


    Pratapji Mujhe really aapkaa e-mail ID PM ke through dijiye, please.
    Yeh sahee hai kee iss forum kee direction alag hai, lekin Adhyatmic jagat koi life se Bhinn nahin hai. Iska matlab yeh hai kee jab iss bhagwan kee rachna mein itnee gadbad hai, to kya guarentee hai kee Adhyatmik jagat mein nahin hai???
    Aur yeh bhee sahee hai kee hum Hindustaniyon ne jab bhee Bhooke Nangon ko roti daali unhone peeth mein churaa maraa. Hazaron saalon se aaj tak yehi hai, isliye Bhooke ko aann do yeh baat par vishwas sehej nahin hotaa
    Doosra Law of Karma, aisaa kaun saa Punya Pratap hai jo Lakhon logon kaa murder karne waalon ko Bahut achee maze ki zindagi de raha hai??? Aur Acche Acche, Unche Unche Saints to apnee Maa ko bhee sadak par bech dene walle media, politicians se badnaam karaa raha hai??
    Yada Yada hee ......????? Kidhar hai???

    Yeh sab kahin Adyatmik Prashn hain
    Ho sakta hain Nietze hee sahee ho "God is Dead"

     


    Facebook Comments