Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: You are my inspiration  (Read 135092 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline tana

  • Member
  • Posts: 7074
  • Blessings 139
  • ~सांई~~ੴ~~सांई~
    • Sai Baba
Re: You are my inspiration
« Reply #285 on: May 19, 2007, 03:42:37 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम

    तुम मुझको पहचान न पाए.....

    मैं राधा हूं,  मैं सीता हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए,
    मैं मुक्ता हूं,  मैं मीरा हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए.
    मैं झांसी हूं,  मैं शक्ति हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए,
    मैं देवी हूं,  मैं भक्ति हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए.
    मैं माता हूं,  मैं बीवी हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए,
    मैं बहना हूं,  मैं बेटी हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए.
    मेरी कोख से,  तुम जनमे हो,  तुम मुझको पहचान न पाए,
    मेरे प्यार से,  तुम महके हो,  तुम मुझको पहचान न पाए.
    मैं सुंदरता,  की सूरत हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए,
    मैं ममता की,  इक मूरत हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए.
    मैं चाहूं तो,  तुझे बना दूं,  तुम मुझको पहचान न पाए,
    मैं चाहूं तो,  तुझे मिटा दूं,  तुम मुझको पहचान न पाए.
    मैं चाहूं तो,  घर सुंदर है,  तुम मुझको पहचान न पाए,
    मैं चाहूं तो,  घर मंदिर है,  तुम मुझको पहचान न पाए.
    मुझसे ही ये, जग उन्नत है,  तुम मुझको पहचान न पाए,
    मुझसे ही ये, जग जन्नत है,  तुम मुझको पहचान न पाए.
    मैं रहमत हूं,  मैं उल्फत हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए,
    मैं कुदरत की,  इक नेहमत हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए.
    मुझको ऋषियों ने पूजा है,  तुम मुझको पहचान न पाए,
    मुझको मुनियों ने पूजा है, तुम मुझको पहचान न पाए.
    मैं ही प्रभुका,  आधा अंग हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए,
    मैं तो प्रभुके, सदा संग हूं,  तुम मुझको पहचान न पाए.
    मैं श्रध्दा में, सबूरी में, तुम मुझको पहचान न पाए,
    मै द्वारकामाई में, मै चावड़ी में, तुम मुझको पहचान न पाए,
    सदा संग हूँ तेरे तेरी अपनी शिरडी की गलियों में,
    इतना संग रहते रहते फिर भी तुम मुझको पहचान न पाए!

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।



    Om Sai Ram....

    Ramesh bhaiya...........no words...its simple amazing...beautiful.....

    BABA....toh hamesha se saath he hai hamare....bas hum......................
    SAI ...toh hum sab main he hai.......aaj aap ka yeh post pad kar mujhe mere kai baaton ka jawab mil gya............sach main Ramesh bhiya...tusi bhi ab hum sab k dil ki baat jaan jaate ho....hamare kai baaton ka jawab toh aap k he reply main BABA hame khud he de dete hai.......

    TUSI GR8 HO BHA JI............

    Jai Sai Ram....

    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #286 on: May 20, 2007, 01:30:56 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    प्यारी सुर्ख उन आंखों से जब 'वो' देखते है
    हम घबराकर आंखें झुका लेते है,
    कौन मिलाये उन आंखों से आंखें,
    सुना है 'वो' सिर्फ उन आंखों से ही अपना बना लेते हैं

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई
    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #287 on: May 21, 2007, 06:48:51 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम...

    सिर्फ़ तुम...मेरे बाबा~~~

    मेरी सोच की उङान है जहां तक,
    वहां तुम ही तुम हो,
    मेरी नज़र की हद है जहां तक,
    वहां तुम ही तुम हो,
    मेरी सेहर है जहां तक,
    वहां तुम ही तुम हो,
    मेरी बरसात है जहां तक,
    घाट तुम ही तुम हो,
    मेरी ख्वाबों का महल है जहां तक,
    हर कदम पे तुम ही तुम हो,
    मेरी दिल की वादी है जहां तक,
    हर चेहरा तुम ही तुम हो,
    मेरे चेहरे पे मुस्कराहट है जब तक,
    मुस्कराहट तुम ही तुम हो,
    मेरी आंखों की शरारत है जब तक,
    वो शरारत तुम ही तुम हो,
    मेरे प्यार की सेहर है जहां तक ,
    उस् सेहर में तुम ही तुम हो,
    मेरे प्यार का जादू है जहां तक,
    वहां तुम ही तुम हो,
    मेरी आरज़ू बिखरी है जहां तक,
    वो उम्मीद तुम ही तुम हो,
    मुझे सहारा है जहां तक,
    वो साहेबान् तुम ही तुम हो,
    मेरे दिल की खुशियाँ है जहां तक,
    वो सपने तुम ही तुम हो,
    मेरी नज़र में चाँदनी है जहां तक,
    वो रोशनी तुम ही तुम हो,
    मेरी उम्मीद की किरने है जहां तक,
    वो सब रोशनियाँ तुम ही तुम हो....

    ~~~~~~~~~~~~~सांई राम...........तुम ही तुम हो ~~~~~~~~~~~~~~~


    जय सांई राम....
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #288 on: May 21, 2007, 08:47:45 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    प्रार्थना तेरे से मिलने की।

    एक भीनी सी खुशबू उठी,
    और मेरे पूरे बदन मे समा गई ।
    एक रोशनी बरसी
    और मैं भीग गया ।
    रात, जमी पलकों पर ओस की बूंदें,
    हीरे सी चमकने लगी ।
    नीली चादर ओढे,
    वो उदित हुआ आकाश मे ।

    मैने सर झुकाया,
    की प्रार्थना,
    सम्पूर्ण इयत्ता से,
    "मुझे भी अपने मे मिला लो"
    और मैं आकाश की गहराईयों मे खो गया
    वो मानो अपने सांई का आगोश हो।

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई
    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #289 on: May 23, 2007, 09:31:02 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    गायक कलाकार स्वर्गीय मुकेश का गाया फिल्म 'देवर' का वो गीत...अगर सुनने का मौका मिले तो ज़रुर सुनियेगा...

    आया है मुझे फिर याद वो ज़ालिम
    गुज़रा ज़माना बचपन का
    हाय रे अकेले छोड़ के जाना
    और ना आना बचपन का
    आया है मुझे....

    वो खेल, वो साथी, वो झुले
    वो दौड़ के कहना आ छूलें
    हम आज तलक भी ना भूले
    वो ख्वाब सुहाना बचपन का
    आया है मुझे....

    इसकी सबको पहचान नही
    ये दो दिन का मेहमान नही
    मुश्किल है बहुत आसान नही
    ये प्यार भुलाना बचपन का
    आया है मुझे....

    मिलकर रोये, फरियाद करे
    उन बीते दिनो की याद करें
    ऐ काश कंही मिल जाये कोई
    वो मीत पुराना बचपन का
    आया है मुझे....

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #290 on: May 25, 2007, 12:46:21 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    हाथों मे अपने जिस्म उठाये हुऐ है लोग,
    चेहरों पर कितने चेहरे लगाये हुऐ हैं लोग!

    आंखों में बेबसी है, है मुस्कान होठों पर,
    सीने में दर्दो गम को छुपाऐ हुऐ है लोग!

    लोगों के हक की बात यंहा कौन क्यों करे,
    कहने को आसमान उठाये हुए है लोग!

    सहमा हुआ है शहर परिन्दे डरे हुऐ,
    हालात से निगाहें चुराये हुए है लोग!

    हर गांव शहर खून में डूबी हुई नदी,
    तलवार अपने हाथों उठाये हुऐ है लोग!

    कुछ तो करो बाबा कि हो रोशनी यंहा,
    भीड़ों से भीड़ में तो समाये हुऐ है लोग!

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Radha

    • Member
    • Posts: 647
    • Blessings 1
    • Ek tu hee sahara, ek tu hee bharosa...
    Re: You are my inspiration for Subhasrini ji and Kavita ji
    « Reply #291 on: May 25, 2007, 10:26:37 PM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    प्रार्थना तेरे से मिलने की।

    एक भीनी सी खुशबू उठी,
    और मेरे पूरे बदन मे समा गई ।
    एक रोशनी बरसी
    और मैं भीग गया ।
    रात, जमी पलकों पर ओस की बूंदें,
    हीरे सी चमकने लगी ।
    नीली चादर ओढे,
    वो उदित हुआ आकाश मे ।

    मैने सर झुकाया,
    की प्रार्थना,
    सम्पूर्ण इयत्ता से,
    "मुझे भी अपने मे मिला लो"
    और मैं आकाश की गहराईयों मे खो गया
    वो मानो अपने सांई का आगोश हो।

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई
    ॐ सांई राम।।।
    Jai Sai Ram!!

    A sweet fragrance reminded me of HIM,
    As it slowly spread in my body,
    Suddenly everything was lightened by a bright light,
    And I was encaptured by them.
    As the night settled, delicate dew drops bedewed my eye lashes,
    Which glitterd like diamonds,
    At break of day, wearing the blue skies, HE AROSE,
    I bowed down to HIM, and prayed to HIM to absorb me and make me ONE,
    And I found myself lost, in the DIVINE EMBRACE OF MY DEAR BABA SAI.
    Om Sai Ram!!


    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #292 on: May 26, 2007, 11:30:36 PM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    हँसी के रास्ते पर चला करो...खुशियों की महक लिया करो...प्यार से दिलों को छूआ करो...जंहा तुम्हें ग़म नज़र आये...अपने 'उस' दोस्त को याद कर लिया करो...

    उनकी चाहत को अपनी मोहब्बत बना के देखो..
    उनकी हंसी को अपने होंठों से मुसकराकर देखो...
    'उनके' अश्कों को अपनी आंखों से गिराकर देखो...
    'उनकी' बैचेनियों को अपने दिल में बसाकर देखो...
    'उनकी' मोहब्बत एक हसीन तौहफा है ए-दोस्त,
    कभी मोहब्बत को इस तरह भी निभाकर तो देखो...

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई
    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #293 on: May 27, 2007, 08:46:00 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    दोस्तो आज मै आप सब के लिये आज एक भजन पेश कर रहा हूँ, इस गीत का लिन्क नीचे है कृप्या किल्क करें और आनन्द ले इस खूबसूरत गीत का। इस गीत की गीतकारी, गायकी और धुन तीनों में बांगला स्‍पर्श है । अपनी विनम्र भावनाओं और विकलता में ये काफी ऊंचा भजन है । खासकर मुझे ये पंक्तियां पसंद हैं जिनमें कहा गया है कि हे कान्‍हा मैं तो तुम्‍हारी बांसुरी बनना चाहता था,  ताकि प्रेम की धुन पर सौ तरह से नाचता । ये पंक्तियां हैं ‘मैं तो किस्‍मत बांसुरी की बांचता,  एक धुन से सौ तरह से नाचता’  लेकिन मेरी किस्‍मत ऐसी कहां,  इसलिये ‘आंख से जमुना का पानी ढल रहा। ‘ पंकज मलिक की आवाज़ में किसी साधु की वाणी जैसी शीतलता है,  जैसे मंदिर में धूप-अगरबत्‍ती की गंध फैली हो और घंटियों के दिव्‍य स्‍वर गूंज कर माहौल को भक्तिमय बना रहे हों। तो आनन्द लीजिये इस इस गीत का।

    तेरे मंदिर का हूं दीपक, जल रहा
    आग जीवन में मैं भर कर जल रहा
    क्‍या तू मेरे दर्द से अनजान है
    तेरी मेरी क्‍या नई पहचान है
    जो बिना पानी बताशा डल रहा
    आग जीवन में मैं भरकर जल रहा
    इक झलक मुझ को दिखा दे सांवरे, सांवरे
    मुझ को ले चल तू कदम्‍ब की छांह रे, सांवरे
    ओ रे छलिया क्‍यों मुझे तू छल रहा
    आग जीवन में मैं भरकर जल रहा
    मैं तो किस्‍मत बांसुरी की बांचता
    एक धुन से सौ तरह से नाचता
    आंख से जमुना का पानी ढल रहा ।।

    http://www.musicindiaonline.com/p/x/h429AQqXjS.As1NMvHdW/

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।

    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #294 on: May 28, 2007, 01:22:02 AM »
  • Publish
  • Om Sai Ram...


    ONCE WE EXPERIENCE SAI , THERE IS NO NEED TO LOOK ANYONE BETTER.....



    बाबा..........तुम ही तुम हो...मेरे सांई....बस तुम ही तुम...
           
    मेरी सुबह भी तुम...मेरी शाम भी तुम...
    मेरी नज़र जहां तक बस तुम ही तुम...
    मेरा प्यार , मेरी मुस्कराहट , मेरी उम्मीद, मेरी आरज़ू , मेरे सपने , मेरी रोशनी ...बस तुम ही तुम.....

    Jai Sai Ram....

    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #295 on: May 28, 2007, 08:11:11 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    हर खुशी है लोगों के दामन में,
    पर इक हंसी के लिये वक्त नही,
    दिन रात दौड़ती दुनियाँ में,
    ज़िन्दगी के लिये वक्त नही....

    माँ की लोरी का अहसास तो है,
    पर माँ को माँ कहने का वक्त नही,
    सारे रिश्तों को तो हम मार चुके,
    अब उन्हे दफनाने का भी वक्त नही....

    सारे नाम मोबाइल में हैं,
    पर दोस्ती के लिये वक्त नही,
    गैरों की क्या बात करें,
    जब अपनों के लिये ही वक्त नहीं....
     
    आंखों में है नीन्द बड़ी,
    पर सोने का वक्त नही,
    दिल है ग़मों से भरा हुआ,
    पर रोने का भी वक्त नही....

    पैसों की दौड़ में ऐसे दौड़े,
    कि थकने का भी वक्त नही,
    पराये अहसानों की क्या कद्र करें,
    जब अपने सपनों के लिये ही वक्त नही....
     
    तू ही बता ए ज़िन्दगी,
    इस ज़िन्दगी का क्या होगा,
    कि हर पल मरने वालों को,
    जीने के लिये भी वक्त नही....

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #296 on: May 31, 2007, 01:04:04 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    तब याद 'तुम्हारी' आती है...

    जब यूंही कभी बैठे बैठे, कुछ याद अचानक आ जाये,
    हर बात से दिल बेज़ार सा हो, हर चीज़ से दिल घबरा जाये!

    करना मुझे कुछ और ही हो, कुछ और ही मुझ से हो जाये,
    कुछ और ही सोचूं मैं दिल मे, कुछ और ही होंठों पर आये!

    ऐसे ही किसी एक लम्हें में, चुपके से कभी खामोशी में,
    कुछ फूल अचानक खिल जायें, कुछ बीते लम्हें याद आयें!

    तब याद 'तुम्हारी' आती है...

    जब चान्दनी दिल के आंगन में, कुछ कहने मुझ से आ जाये,
    इक ख्वाब आधा सा छोटा कोई, अहसास पे मेरे छा जाये!

    जब जुल्फ परेशान चेहरे पर, कुछ और परेशान हो जाये,
    कुछ दर्द भी दिल में होने लगे, और सांस भी बोझिल हो जाये!

    ऐसे ही किसी एक लम्हें में, चुपके से कभी खामोशी में,
    कुछ फूल अचानक खिल जायें, कुछ बीते लम्हें याद आयें!

    तब याद 'तुम्हारी' आती है....

    जब शाम ढले चलते चलते, मन्ज़िल का ना कोई नाम मिले,
    इक हंसता हुआ आगाज़ मिले, इक रोता हुआ अन्जाम मिले!

    पलकों के लरज़ते अश्कों से, इस दिल को कोई पैगाम मिले,
    और सारी वफ़ाओं के बदले, मुझ को ही कोई इल्ज़ाम मिले!

    ऐसे ही किसी एक लम्हें में, चुपके से कभी खामोशी में,
    कुछ फूल अचानक खिल जायें,  कुछ बीते लम्हें याद आयें!

    तब याद 'तुम्हारी' आती है....

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #297 on: June 06, 2007, 03:01:25 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    वक्त की रफतार के साथ तू चलना सीख ले,
    दर्द सह कर इस जहां में मुसकराना सीख ले....

    दूसरों से शिकवा करना,  और शिकायत छोड़ दे,
    हर किसी से प्यार करना, दिल लगाना सीख ले.....

    कांच के टुकड़े पड़े हैं, ज़िन्दगी की राह पे,
    कांच के टुकड़ों पे चल के, तू भी जीना सीख ले.....

    गम़ उठा के मुसकराना,  काम ये वलियों का है,
    औलिया के नश्क-ए-कदम पर, तू भी चलना सीख ले....

    किस कदर इन्सान अज़ीज़ है ज़माने में,
    बाबा सांई से प्यार कर ओर, खुद से मोहब्बत करना सीख ले....

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #298 on: June 13, 2007, 01:11:43 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम...

    हे सांई क्या कभी एसा होगा ??
    सिर्फ़ आप हो और मैं होऊं...
    आप सामने हो मैं कुछ ना कहूं...
    बस जी भर कर दर्शन करूं...
    कुछ कहूं ना और सब कह जाऊं...
    सारी बातें दिल की मैं आंसूओं मैं कह जाऊं...
    मन का हाल सुना डालूं , कुछ भी ना छुपाऊं...
    कोई ना रोके मुझको , मैं जी भर कर आंसू बहाऊं...

    देख कर इन आंसूओं को , जब आप मुझे समझाएं ,
    आप की उस प्यार के अम्रत में , मैं जी भर डुबकी लगाऊं...
    मैं जो एसा हो तो उस पल पर , मैं अपना सब कुछ वार जाऊं...

    पर वारूं भी क्या , सब कुछ तो है उधार ...
    ये तन उधार , ये मन उधार...
    यदि है कुछ  मेरा अपना , तेरे लिए बस मेरा प्यार....मेरा प्यार....मेरा प्यार....

    जय सांई राम....
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: You are my inspiration
    « Reply #299 on: June 16, 2007, 03:36:07 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम....

    रब्बा मेरे हाल दा मेहरम तू रहीओ ,
    अन्दर तू है बाहर तू है ,
    रोम रोम विच तू ,
    तू है ताना , तू है बाना ,
    सब कुछ मेरा तू...
    कहे हुसैन फ़कीर निमाणा ...
    मैं नही सब तू...

    मेरे बाबा मेरे सांई मेरे मालिक मेरे मौला....

    {मेहरम} Mehram means those people who are very near to you with...

    जय सांई राम....
           
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

     


    Facebook Comments