Join Sai Baba Announcement List


DOWNLOAD SAMARPAN - Nov 2018





Author Topic: My dream kaash agar kaheen aisa hota  (Read 23928 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline saisewika

  • Member
  • Posts: 1549
  • Blessings 33
Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
« Reply #30 on: November 30, 2007, 08:48:42 AM »
  • Publish

  • OM SAI RAM

    शुक्रिया दुआ में उठे हाथ के लिये
    शुक्रिया साईं के सफ़र मे साथ के लिये
    शुक्रिया बाबा से की गई फरियाद के लिये
    शुक्रिया तुकबंदियों की दाद के लिये

    शुक्रिया इस नाचीज़ की बडाई के लिये
    शुक्रिया इस होसला अफ़ज़ाई के लिये
    पर सबसे पहले शुक्रिया उस साईंनाथ का
    मालिक है जो इस तमाम कायनात का
    जब जी चाहे वो आकर लिखवाता है मुझसे
    और जैसे चाहे तारीफ़ करवाता है तुझसे

    जय साईं राम

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #31 on: December 01, 2007, 08:11:19 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    एक बार फिर इस नाचीज़ भाई की वाह बहन सुरेखा के लिये। उसके ऊपर एक और वाह बाबा को शुक्रिया अदा करने के अंदाज़ का।

    बाबा सभी बहनों की मांगें पूर्ण करे और सबके परिवार मे सुख-शांति और खुशहाली प्रदान करें।

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline rajiv uppal

    • Member
    • Posts: 892
    • Blessings 37
    • ~*साईं चरणों में मेरा नमन*~
      • Sai-Ka-Aangan
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #32 on: December 04, 2007, 09:20:36 AM »
  • Publish
  • करूं मैं तेरा शुक्रिया किस ज़ुबां से
    मैं तो हर पल तेरी मर्ज़ी का बन्दा
    कहां से गिराया कहां से उभारा
    ज़माना अगर छोड दे बेसहारा
    मुझे फ़िक्र क्या मेरे साईं तो हैं.....
    ..तन है तेरा मन है तेरा प्राण हैं तेरे जीवन तेरा,सब हैं तेरे सब है तेरा मैं हूं तेरा तू है मेरा..

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1549
    • Blessings 33
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #33 on: December 06, 2007, 11:46:44 AM »
  • Publish
  • ओम साईं राम

    आज सुबह सवेरे
    मेरी खिडकी के परदे को सरकाकर
    अन्दर आ गई वो यूं ही बल खाकर

    उसकी झिलमिल रोशनी में
    मेरी आखें चौंधियांयी 
    वो मुझे देख मुस्कुराई
    लहर सी लहराई
    मेरे गालों को छुआ
    और ज़ोर से खिलखिलाई

    मैं अधमिची उनींदी
    आधी सोई आधी जागी
    बिस्तर से उठी और
    उसके पीछे भागी

    वो नटखट सी छोटी
    बाला सी इतराती
    बाहर लान की हरी
    घास पर छितराती

    बर्ड बाथ के ठंडे
    पानी पर जा बैठी
    पानी में इन्द्रधनुष सा
    बना कर वो ऐंठी

    टुकुर टुकुर उसे ताकती
    थी मैं हैरां
    सोचती थी कहां से आई
    है ये शैतां

    यूं तो वो रोज़ सुबह
    चली आती थी
    पर ऐसे तो इतना
    कभी ना इतराती थी

    ना जाने आज इसको
    क्या ऐसा हुआ है
    जिसने यूं इसके
    दिल के तारों को छुआ है

    "सुनो" कहकर मैने
    उसको जो रोका
    "सूर्यकिरण" कहकर
    उसे मैंने टोका

    रुकी वो, थमी वो
    फिर से मुस्कुराई
    अपनी खुशी की उसने
    वजह जो बताई

    उसे सुनकर मैं भी
    दिवानी हुई हूं
    खुद से ही मैं खुद
    बेगानी हुई हूं

    वो बोली सुनो
    आज सुबह सबसे पहले
    साईं के दरस मैंने
    पाए रुपहले

    सबसे पहले शिरडी में
    उतरी थी जाकर
    धन्य हुई बाबा की
    अनुकम्पा पाकर

    समाधी मन्दिर की खिडकी पे
    जाकर पडी मैं
    बाबा के चरणों मे
    जाकर गिरी मैं

    कैसा अद्भुत सा सुंदर
    अनुभव मैने पाया
    पहली किरण का
    आज नशा मुझपे छाया

    बाबा के भक्तों को
    बतला रही हूं
    इसीलिए आज इतना
    मैं इतरा रही हूं

    जय साईं राम

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #34 on: December 08, 2007, 12:34:02 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    चाहत हो तेरे दीदार की बस,
    कोई और मुझे अब चाह न हो,
    कुछ ऐसा करिश्मा कर दो सांई,
    मुझे अपनी भी परवाह न हो,
    भिखारिन हूँ तेरे दर की,
    सांई खाली हाथ न जाऊँ गी,
    बैठी हूँ तेरे दर पे सांई,
    अब तो ले के कुछ उठूँ गी,
    चाहे पत्थर बना ले अपने दर का,
    चरण धूली मैं पा लूँगी,
    चाहे फूल बना ले सांई मुझ्को,
    तेरे आँचल की सांई मैं हवा लूँगी,
    बनी रहे ये चाहत यही चाहती हूँ मैं,
    तेरे दर की भिखारिन बनना चाहती हूँ मैं~~~~

    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #35 on: December 10, 2007, 04:30:54 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    तेरी कृपा का हे सांई पारावार न अंत,
    ओ मेरे प्रियतम प्यारे ओ मेरे बेअंत,
    चरण परवारे सुदामा के असुअन नैन भिगोय,
    विप्र सुदामा के गिरधर ने जिस पल चरण थे धोए,
    टप टप टपके आँख से आँसू,जी भर के प्रभु रोए,
    कितनी करूणा छिपी थी मन में कितना मीठा स्पदंन,
    ये है प्रेम का बंधन,ये नहीं कोई वंदन,
    तभी तो उस बेअंत के चरणों में मेरा बार बार है वंदन~~~

    काश मेरे सांई~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


    जय सांई राम~~~     
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1549
    • Blessings 33
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #36 on: December 10, 2007, 08:44:40 AM »
  • Publish
  • om sai ram Annu ji

    तेरी कृपा का हे सांई पारावार न अंत,
    ओ मेरे प्रियतम प्यारे ओ मेरे बेअंत,

    Well said . Sai is param dayaalu, param kripalu. He is Omnipotent, Omnipresent and Omniscient.

    Jai Sai Ram

    Offline abhinav

    • Member
    • Posts: 850
    • Blessings 5
    • सबका मालिक एक।
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #37 on: December 10, 2007, 11:44:12 AM »
  • Publish
  • sai sevika ji,

    kya kahu..........kya likhu kuch samajh nahi aa raha hai.

    bas yahi keh sakta hun...............aapki poem dil ko choo gayi........................ultimate........the best..............

    may sai bless you alwaysssssssssssssss.

    om sai ram.
    मी पापी-पतित धीमंद । 
    तारणें मला गुरुनाथा, झडकरी ।।
    मुझसा कोई पापी तेरे दर पे ना आया होगा।
    और जो आया होगा, खाली लौटाया ना होगा॥
    ॐ साई राम          اوم ساي رام          ਓਮ ਸਾਈ ਰਾਮ          OM SAI RAM          ॐ साई राम          اوم ساي رام          ਓਮ ਸਾਈ ਰਾਮ          OM SAI RAM          ॐ साई राम          اوم ساي رام          ਓਮ ਸਾਈ ਰਾਮ          OM SAI RAM          ॐ साई राम          اوم ساي رام          ਓਮ ਸਾਈ ਰਾਮ          OM SAI RAM

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #38 on: December 10, 2007, 09:30:47 PM »
  • Publish
  • om sai ram Annu ji

    तेरी कृपा का हे सांई पारावार न अंत,
    ओ मेरे प्रियतम प्यारे ओ मेरे बेअंत,

    Well said . Sai is param dayaalu, param kripalu. He is Omnipotent, Omnipresent and Omniscient.

    Jai Sai Ram

    ॐ सांई राम~~~

    शुक्रिया सुरेखा जी....

    जिसे सांई ही कृपा का अनुभव हुआ है,
    वही जीव दुनिया में उज्जवल हुआ है~~~

    और सांई की कृपा का तो कोई अंत ही नहीं है.....

    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline Ramesh Ramnani

    • Member
    • Posts: 5501
    • Blessings 60
      • Sai Baba
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #39 on: December 11, 2007, 02:42:40 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    काश! अगर कभी ऐसा होता....और जब भी वो हो तो सांई....

    हे सांई!
    बस तो, मात्र ये कामना मेरे मन की पूरी करना,
    जब भस्म बन जाने का समय हो मेरा
    मेरे मस्तक पर शिर्डी की 'भस्म'  लगाने वाला,
    हर हाल ही में, यही वरद् हस्त तो तेरा

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।
    अपना साँई प्यारा साँई सबसे न्यारा अपना साँई - रमेश रमनानी

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #40 on: December 11, 2007, 05:39:24 AM »
  • Publish
  • जय सांई राम।।।

    काश! अगर कभी ऐसा होता....और जब भी वो हो तो सांई....

    हे सांई!
    बस तो, मात्र ये कामना मेरे मन की पूरी करना,
    जब भस्म बन जाने का समय हो मेरा
    मेरे मस्तक पर शिर्डी की 'भस्म'  लगाने वाला,
    हर हाल ही में, यही वरद् हस्त तो तेरा

    अपना सांई प्यारा सांई सबसे न्यारा अपना सांई

    ॐ सांई राम।।।

    ॐ सांई राम~~~

    क्या लगन लगी दिल मगन हुआ,
    उम्मीद लगी है चौखट पर,
    पुर्न जन्म हो यदि मेरा,
    तो हो सांई बस तेरे ही दर पर~~~

    काश मेरे सांई~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1549
    • Blessings 33
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #41 on: December 11, 2007, 10:07:02 AM »
  • Publish


  • sai sevika ji,

    kya kahu..........kya likhu kuch samajh nahi aa raha hai.

    bas yahi keh sakta hun...............aapki poem dil ko choo gayi........................ultimate........the best..............

    may sai bless you alwaysssssssssssssss.

    om sai ram.

    Thanks Abhinav ji
    Ramesh Bhai ji ne kyaa khoob kahaa hai. Aur yahi har Sai bhakt ke dil ki awaaj hai ki-

    हे सांई!
    बस तो, मात्र ये कामना मेरे मन की पूरी करना,
    जब भस्म बन जाने का समय हो मेरा
    मेरे मस्तक पर शिर्डी की 'भस्म'  लगाने वाला,
    हर हाल ही में, यही वरद् हस्त तो तेरा

    JAI SAI RAM

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #42 on: December 13, 2007, 11:43:38 PM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम...

    सिर्फ़ तुम...मेरे बाबा~~~

    मेरी सोच की उङान है जहां तक,
    वहां तुम ही तुम हो,
    मेरी नज़र की हद है जहां तक,
    वहां तुम ही तुम हो,
    मेरी सेहर है जहां तक,
    वहां तुम ही तुम हो,
    मेरी बरसात है जहां तक,
    घाट तुम ही तुम हो,
    मेरी ख्वाबों का महल है जहां तक,
    हर कदम पे तुम ही तुम हो,
    मेरी दिल की वादी है जहां तक,
    हर चेहरा तुम ही तुम हो,
    मेरे चेहरे पे मुस्कराहट है जब तक,
    मुस्कराहट तुम ही तुम हो,
    मेरी आंखों की शरारत है जब तक,
    वो शरारत तुम ही तुम हो,
    मेरे प्यार की सेहर है जहां तक ,
    उस् सेहर में तुम ही तुम हो,
    मेरे प्यार का जादू है जहां तक,
    वहां तुम ही तुम हो,
    मेरी आरज़ू बिखरी है जहां तक,
    वो उम्मीद तुम ही तुम हो,
    मुझे सहारा है जहां तक,
    वो साहेबान् तुम ही तुम हो,
    मेरे दिल की खुशियाँ है जहां तक,
    वो सपने तुम ही तुम हो,
    मेरी नज़र में चाँदनी है जहां तक,
    वो रोशनी तुम ही तुम हो,
    मेरी उम्मीद की किरने है जहां तक,
    वो सब रोशनियाँ तुम ही तुम हो....

    ~~~~~~~~~~~~~सांई राम...........तुम ही तुम हो ~~~~~~~~~~~~~~~


    जय सांई राम....

    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

    Offline saisewika

    • Member
    • Posts: 1549
    • Blessings 33
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #43 on: December 15, 2007, 01:15:43 PM »
  • Publish
  • ओम साईं राम

    वाह अनु जी
    आपकी दिवानगी ने दिल को छू लिया



    दिखता है तेरे दिल में
    बाबा का वास है
    जीवन में हर कदम पर
    तुझे उसकी आस है

    साईं नाथ देव
    तेरा निगहबान है
    तुम जैसे भक्तों से ही
    उसकी शान है

    जय साईं राम

    Offline tana

    • Member
    • Posts: 7074
    • Blessings 139
    • ~सांई~~ੴ~~सांई~
      • Sai Baba
    Re: My dream kaash agar kaheen aisa hota
    « Reply #44 on: December 18, 2007, 12:29:32 AM »
  • Publish
  • ॐ सांई राम~~~

    सुरेखा जी.......................शुक्रियां......


    मोह की अति काली निशा,
    नहीं सूझती कोई दिशा,
    जब भी आँखों को चाहा खोलना,
    देख अंदेरा दिल घबराया,
    फिर से आँखों को बंद किया,
    धोखे की चादर ओढ़ी,
    फिर से मैं सो गई,
    नींद में मुझे इक सपना आया,
    मेरे सांई ने मुझे थप्पङ लगाया,
    मुझे झंझोरा और उठाया,
    कहां- पगली ये जन्म यूँ ही गंवाया,
    यहाँ आ कर सो-खा गंवाया,
    बोले सांई प्यारे-उठ पगली,
    ये हीरा यूँ ना कर जाया,
    कर सौदा कुछ ले कमा,
    मैं आया हूँ तेरे लिए देख ज़रा,
    फिर ना कहियों कि,
    तुझे किसी ने नहीं समझाया~~~

    जय सांई राम~~~
    "लोका समस्ता सुखिनो भवन्तुः
    ॐ शन्तिः शन्तिः शन्तिः"

    " Loka Samasta Sukino Bhavantu
    Aum ShantiH ShantiH ShantiH"~~~

    May all the worlds be happy. May all the beings be happy.
    May none suffer from grief or sorrow. May peace be to all~~~

     


    Facebook Comments